There was an error in this gadget

Monday, July 23, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 2 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -2 )




My Friends,
Brahmrishi Viswamitra, one such name in front of which entire world bow down in reverence, who was the live indicator of Tantra in right sense. One such personality who did what he aspired…..neither he cared about the narrow mentality prevalent in society nor did he implore in front of anyone. If it was not possible in the normal way then he created even a novel set of sadhnas and put them in front of us and compelled entire Dev category to appear in front of him …..It may be any of the dev.
And the one who has got intense desire….want to move forward, has got the courage to change the circumstances, who can stay in his own path without deviation has got the ingredients to be sadhak in Tantra sadhna and he will definitely succeed in future.
Because tantra is the field of challenges, those who can accept the challenge…….this field is meant for them.
And one thing has to be clearly understood regarding the Yakshini Apsara sadhna that it can be accomplished only by those who possess the valour.Please understand that word vigor or manhood….. Do not indicate male or female rather they indicate one feeling. And may it be any female but who can walk on this path without trouble then she will be called to possess vigor.
But for this physical firmness and strong will power is very important and today our GEN NEXT generation has got lot of will but there is scarcity of willpower.
Then how will it be possible???
And similar is the case with physical aspects………we have forgotten the real beauty of men and women…..that how personality used to be ….
Sadgurudev has told us how personality of sadhak should be at various places and also highlighted our drawbacks and shortcomings……but who want to care about them.
So does tantra sadhna about which it is said that it is directly connected to all aspects of our life, not have any Vidhaan regarding it…..why not….
Any ordinary piece of iron if rubbed with magnet again and again attains the qualities of magnetism. So can it not happen with human beings? Here magnet refers to sadhna that too which carries so much of intensity that after doing it, our life becomes full of energy, enthusiasm, honor of sadhak, strength, courage and intensity.
Such sadhna has been given by Brahmrishi Viswamitra. It is not sadhna ………rather we should touch our lives with his direct energy and his power. When his intensity comes in our life then what is apsara and what is yakshini……..every sadhna of life will start waiting for us every moment.it may be Mahavidya or Vaitaal or some other sadhna…..this thing has to be borne in mind.
But without such intense sadhna, how it is possible??? That your personality becomes so much full of intensity and energy. Today one girl or boy or our sons or family member do not listen to us then thinking that just chanting mantra for one night will give siddhi is like living in dream. And assuming that someone has done like it then it cannot be understood in any way that whose birth’s sadhna or sacred acts have yielded results for him.
So this amazing Vidhaan is also waiting for you in this seminar where it will be discussed that how it is or it can be possible.
And do not confine this to Yakshini Apsara alone rather when the blessings of Maha Rishi Viswamitra will be on us then we will be able to accomplish other sadhnas also……because if blessings of Agni form Brahmrishi………..symbolizer of tantra…..is with us then which obstacle can stand in front of us.
After doing this prayog you yourself can understand that the person who made Menaka his wife cannot have a weak character…..rather he offered a new dimension to sadhna world. After imbibing the energy of that intense person inside us we will be able to get success in any sadhna, whatever sadhna it may be. Let us wait for this prayog to be revealed there.
Now we all know that water can be mixed only in water and oil in oil …………………mixing of water and oil is not possible.
It means that Apsara Yakshini are composed of four elements and we human are made up of five elements then how is this meeting possible?
…For this reason, we are not able to see them, hear them. Then what should we do? We cannot increase the number of elements in Apsara or Yakshini to 5 from 4 but it is possible that we vanish one of the elements which is not present inside them.
Is it possible?
If yes then we have started winning over the nature.
Because sadhna of these 5 elements cannot be any ordinary sadhna
Accomplishing one -2 element…….can take entire life because the one who has accomplished these five elements, then which sadhna he needs to do. Everything will be subsumed inside these five elements.
But how to do such giant Vidhaan. It seems next to impossible. Is there any answer to it
?
We will get its answer only at one place. That is in Parad Tantra Vigyaan.Sadgurudev himself has clarified that if one special mantra is chanted in front of Parad Shivling (made up from parad of 8 sanskars) in fixed period then this hard work procedure will become easy like picking flower.
But what is that procedure, which has two benefits on one hand sadhna of origin of tantra Lord shiva and on other hand to vanish one element.
And what will be that element. This we will know in this seminar…..because the element which will be talked about, it vanishes or is reduced in someone then that person become master of so many siddhis. Besides Apsara and yakshini sadhna many sadhna he can…….and for it he does not have to do any sadhna separately.
So easiest Vidhaan for this procedure, which you can do it easily in your home and attain the eligibility to achieve success not only in Yakshini Apsara but in every sadhna…..which had remained only a dream for you.
Vidhaan of this process and its related mantra has been given by Aatm form of Sadgurudev, our elder Sanyasi brothers and sisters. This Vidhaan is waiting for you all.
We will talk relating to it more in future also.
So for today, I can only write this….
You will want to know that what next……so friends………you would have seen one Vidhaan of Apsara Keelan.But in how many ways that keelan is possible and what are various necessities….after which we can get success in these sadhnas. We will try to understand things connected to it.
Yes it is definite that the brothers and sisters who will come in this seminar they will really be full of amazement that this and this facts were also necessary……for attaining success in such sadhnas.
But all these things we will see later because you still have got the time that you do not waste this opportunity because the times which goes, never comes back.
And what can be said more rather, one of your brothers will introduce you to all the secrets at definite time….
Still….you have to think….????
To be continued
Nikhil Pranaam
Smile

=======================================
मेरे मित्रो ,

ब्रह्मर्षि विश्वामित्र  एक ऐसा नाम जिसके आगे सारी दुनिया नतमस्तक हैं जो सही अर्थो मे तंत्र के जीवित जाग्रत प्रतीक हैं.एक ऐसा व्यक्तित्व जिसने जो ठाना कर दिखाया ......न तो समाज की प्रचलित संक्रीनता की परवाह की ना किसी के सामने गिडगिडाया . अगर सामान्य तरीके से संभव नही हुआ तो पूरी की पूरी साधना विधि ही नयी रच कर सामने रख दी और समस्त देव वर्ग को अपने सामने उपस्थित होने को बाध्य कर दिया ..फिर चाहे वह कोई भी देव रहा हो .

और जिसमे कुछ ललक हैं ..आगे बढ़ने की बात हैं . परिस्थितियों को बदल डालने का हौसला हो. जो अडिग अविचिलित रूप से अपने मार्ग मे रहे वही तो तंत्र साधना मे एक साधक के गुण रखता हैं जो आगे सफल हो गा ही .

क्योंकि तंत्र तो चुनौतियों का नाम हैं जिन्हें चुनौतिया स्वीकार करना आता हो ..उनके लिए हैं यह क्षेत्र

और यक्षिणी अप्सरा साधना मे एक बात अच्छे से समझ लेना चाहिए की जिनमे पौरुषता होगी उन्ही को सिद्ध हो सकती हैं , यह ध्यान दे की पौरुषता या पुरुष ....शब्द ....यह नर या नारी के प्रतीक नही हैं बल्कि एक भाव के प्रतीक हैं और भले ही नारी देह हो पर अविचल रूप से इस पथ पर चल सके .तो वह भी पौरुषवान कहलायेगी .

पर इसके लिए शारीरिक दृढता और प्रबल इच्छा शक्ति का होना बहुत जरुरी हैं , और आज हमारी इस GEN NEXT पीढ़ी के पास .इच्छा तो बहुत हैं पर इच्छा शक्ति का अभाव सा हैं.
तब कैसे संभव हो पायेगा ???,

और कुछ ऐसी स्थिति शारीरिक रूप से हैं .,पुरिषोचित सौंदर्य और नारियोचित सौदर्य की परिभाषा हम भूल गए ...........की .ऐसे होते थे व्यक्तित्व ....

सदगुरुदेव जी ने कई कई जगह और कई कई स्थान पर कैसे होना चाहिए एक साधक का व्यक्तित्व बताया और हमारी कमिया और न्युन्ताये भी हम सबके सामने रखी ..पर उस पर कौन ध्यान रखना चाहता हैं .

तो क्या तंत्र साधना जिसके बारे मे कहा जाता हैं की वह जीवन के सारे पक्ष से सीधे जुडी हैं की इस बारे मे कोई विधान ..क्यों नही ..

एक सामान्य सा लोहे का टुकड़ा भी यदि बार बार चुम्बक से रगडा जाए तो उसमे भी चुम्बकत्व के गुण आ जाते हैं . तो क्या ऐसा मनुष्य के साथ हो सकता हैं यहाँ पर चुम्बक मतलब साधना और वह भी कोई इतनी तेजस्वी इतनी तीव्रता लिए हुये जिससे या जिसको संपन्न करने पर हमारे जीवन मे भी एक ऊर्जा एक उत्साह और एक साधकोचित गरिमा, बल, साहस, तीव्रता आ जाये

ऐसी साधना हैं ब्रह्मर्षि विश्वामित्र  प्रणित कोई साधना नही ....बल्कि सीधे उनकी ही शक्ति उनकी ही ऊर्जा ......से ही अपने जीवन को संस्स्पर्षित करा लिया जाए तब जब उनकी ..तेज .. ओज हमारे जीवन मे आ जाये गा तब भला अप्सरा क्या यक्षिणी क्या ......... जीवन की हर साधना मे सफलता मानो हमारा हर पल इंतज़ार करने लगेगी .फिर चाहे महा विद्या हो या वेताल हो या कोई और अन्य साधना ....यह ध्यान रखने योग्य बात हैं .

पर बिना इतनी तीव्र साधना के .सभव कहा ???? की आपका व्यक्तित्व इतना तेजस्वी और ऊर्जा वान बन जाए .आज एक लड़की या लड़का या हमाँरे पुत्र या घर के सदस्य भी हमारा कहना नही मानते तब यह सोचना की एक रात कुछ मंत्र जप कर लिया तो सीधे सिद्ध हो जाए गी यह एक ..मृग मरीचिका हैं और मानलो किसी ने यह कर भी लिया हो तो उसके किस जीवन के पुण्य और साधना सफल हुयी यह किसी भी तरीके से समझया नही जा सकता हैं.
तो यह अद्वितीयता लिए हुआ विधान भी आपकी प्रतीक्षा मे सेमीनार मे होगा जहाँ यह कैसे संभव किया जा सके या संभव हो सके इसके बारे मे भी विचार विमर्श होगा .

और इस बात को आप सिर्फ यक्षिणी अप्सरा तक ही सीमित न मान ले बल्कि जब महा ऋषि विश्वामित्र  का वरद हस्त हमारे ऊपर ..हमारे साथ होगा तब भला अन्य कोई भी साधना भी हमें सिद्ध होने लगेगी .. क्योंकि साक्षात् अग्नि स्वरुप ब्रह्मर्षि का ......साक्षात् तंत्र के प्रतीक...ब्रम्ह ऋषि का आशीर्वाद हमारे साथ हो तब और कौन सी वाधा हमारे सामने ठहर सकती हैं .

इस प्रयोग को करने से आप स्वय ही समझ सकते हैं की की जिस व्यक्तित्व ने मेनका को अपनी पत्नी के रूप मे वरण का कोई कमजोर चरित्र का नही रहा होगा ...बल्कि उसे साधनामय ता को एक नया आयाम दिलाया उस साक्षात् तीव्र तेजस्वी व्यक्ति की उर्जा का आप एक अंदर समावेश होने के बाद आपको हर साधना फिर वह चाहे कोई भी हो सफलता तो मिलने ही लगेगी .इस प्रयोग का भी वहीँ पर इंतज़ार ..

अब इसके बाद बात उठती हैं की .पानी मे पानी मिल सकता हैं और तेल मे तेल और ..........पानी और तेल का मिलन तो संभव नही ,,

इसका मतलब अप्सरा यक्षिणी तो चतुर्भुतात्मक हैं और हम मानव पञ्च भूतात्मक तब आपस मे मेल कैसे संभव हो पायेगा

...इसी कारण हम उन्हें देख नही पाते .सुन नही पाते .तो किया क्या किया जाए अब अप्सरा या यक्षिणी के तत्व को चार से पांच तो हम कर नही सकते हैं या यह जरुर हो सकता हैं की हम अपने एक तत्व जो उनमे नही हैं का लोप कर दे .

की ऐसा हो सकता हैं .??

अगर हाँ तो मानो हमने प्रकृति पर विजय पाना शुरू कर दिया .

क्योंकि इन पाचो तत्वों की साधना कोई मामूली साधना नहि हो सकती हैं .

एक एक तत्व को साधते साधते ..सारा जीवन जा सकता हैं क्योंकि जिसने भी इन पाचो तत्वों को साध लिया फिर उसे और कौन सी साधना करनी हैं सभी कुछ तो इन पाच तत्व मे आ जायेगा .

पर क्या इतना बड़ा विधान कैसे करे .यह तो सभव सा नही दिखायी नही देता हैं क्या कोई उत्तर हैं .

तो इसका उत्तर मिलेगा सिर्फ एक जगह वह हैं पारद तंत्र विज्ञानं मे ....सदगुरुदेव जी ने स्वयं ही स्पस्ट किया हैंकि यदि एक अष्ट संस्कारित पारद शिवलिंग के सामने ..एक विशेष मन्त्र का एक निश्चित अवधि मे जप किया जाए तो यही अत्यन्त श्रम साध्य प्रक्रिया मानो फूल उठाने जैसे सहज हो जाती हैं .

पर क्या हैं यह प्रक्रिया ,जिसके दो लाभ हैं एक ओर तंत्र के प्रवर्तक भगवान शिव की साधना .और दूसरी ओर एक तत्व लोप करने की साधना .

और कौन सा वह तत्व होगा .यह तो हम सभी इस सेमीनार मे जानेगे ..क्योंकि जिस तत्व की बात आएगी.वह तत्व यदि किसी का भी लोप या कम हो जाए तो वह अनेको सिद्धियों का तो स्वयं ही स्वामी हो जाता हैं .अप्सरा यक्षिणी साधना के अलावा भी कई कई साधना उसे तो यूँही ...और इस हेतु उसे कोई अलग से साधना भी नही करना पडती हैं .

तो उस प्रक्रिया का सरलतम विधान ,जो आप बहुत ही आसानी से अपने घर पर सम्पन्न कर .ना केबल यक्षिणी अप्सरा बल्कि हर एक साधना मे सफल होने की पात्रता खुद ही बना लोगे..जो की आपका एक सपना रही हो ...

.तो उस प्रक्रिया का विधान और उससे सबंधित मन्त्र जो सदगुरुदेव के ही आत्म स्वरुप हमारे ही वरिष्ठ सन्याशी भाई बहिनों द्वरा दिया गया हैं .वह विधान आप सभी का इंतज़ार कर रहा हैं .

चलिए इस सन्दर्भ मे कुछ ओर बाते भी आगे हम करेंगे .

तो आज के लिए बस इतना ही लिख दूं..

आप जानना चाहोगे की आगे क्या ..तो मित्रो ..अप्सरा कीलन का एक विधान तो आप देख ही चुके हैं .पर यह कीलन कितने प्रकार से संभव हैं औरक्या क्या आवश्यकता होती हैं..तभी इन साधनाओ मे सफलता मिल पाती हैं .इससे जुडी हुयी कुछ बातें समझने का प्रयास करेंगे .

हाँ यह जरुर हैं की जो भी भाई बहिन इस सेमीनार मे आयेंगे वह सच मे अद्भुत ता से सरा बोर हो जायेंगे की यह और यह भी आवश्यक तथ्य रहे हैं .... इन साधनाओ मे मे सफलता पाने के लिए ..

पर यह सारी बातें और कुछ ओर भी बाते हम आगे देखेंगे .क्योंकि आप मे से अभी भी समय हैं की इस अति महत्वपूर्ण अवसर को हाथ से न जाने दें .क्योंकि गया समय हाथ कभी नही आता

.और क्या कहा जा सकता हैं जबकि ,एक निश्चित समय पर सारे रहस्यों से आपका ही एक भाई यह आपको परिचित करा येगा ....

क्या ..अभी भी सोचना हैं ...???


क्रमशः .

निखिल प्रणाम

Smile
****ANU NIKHIL****

****NPRU****

No comments: