There was an error in this gadget

Tuesday, July 24, 2012

TRUTH HIDDEN IN DARKNESS (अंधकार में छुपा सत्य ........)


 
Divyagyaanam Yato Ddhatkuryatpaapkshyam Tatah Tasmaadiksheti Sa Prokta Sarv Tantrasay Samtah
Knowledge is one such word that provides human beings consciousness about their path, their life journey and their existence. It is this word which distinguishes between one ordinary creature and authority controlling th entire universe, Bramha. If one has knowledge, then he is like Bramha,infact he is Bramha. And for this reason there can be difference of only two things between entire creatures of world whether static or dynamic. Those two things are one who possess knowledge and one without it. One who provide knowledge is Knowledgeable i.e. Guru and the other one who is receives it is ignorant i.e. disciple. Relation between these two is created by the best activity of universe ‘Diksha’.
Above lines have been taken from the great Tantra scripture of Vishwasaar which means that whole Tantra world recognize the significance of the fact that Diksha not only provides the divine knowledge but besides it, it finishes the evil of your karmas.However,we have merely considered such Vidhaan as appreciation but it is not like this. It is warning and challenge to us that if we are taking Diksha from somewhere then what are its parameters? Which thing is called Diksha? Is the person who is providing it is competent enough to do that procedure himself or not. For this, in Tantra scriptures, our various great men who had imbibed tantra inside them, they gave us the insight to recognize them, but we never paid attention.
In today’s era person either is fearful about the tantra Diksha or is victim of fraud committed in name of Tantra Diksha. There are two main reasons behind it.
Ignorance about or not paying attention to Tantra by human beings .If we will not know about tantra then  if someone says this is tantra, we will accept it and if someone says that is tantra we will accept that too. But we never tried hard, never shown courage to move forward and know what is right and what is wrong. In this manner, Tantra has only become subject of tea time discussions among those people who do not even know about ‘T’ of Tantra. And second fact is that, advantage of this kind of tendencies was taken by those people who are neither bothered about our culture nor about the great pride of our country. To keep Tantra safe, so many Maharishis put their life under danger and kept on acquiring knowledge, faced lot of troubles in their life and with brave heart faced all the challenges so that they can keep this system alive for society and coming generation and for us. Are we not indebted to them for each and every moment of them? Or significance of our ignorance is so deep that we ourselves live to finish the Guru-Shishya tradition. Is it not our responsibility that right knowledge should be put forward in right manner and is it not our responsibility that we full oppose the sanctimoniousness .Does our responsibility end with attaching to someone and just appreciating him?
Just think once about the life of Sadgurudev. Taking the body of a human, what he intended to do? Why he spent golden day of his youth, which he could have spent in luxury, barefooted in Himalayas? Why he did not liked life full of comforts, why in spite of bearing all the blows and counterblows, he still did work each and every moment. No person has seen one moment of him when he has not worked. He never rested even for one moment. And we appreciate that our Guru is great, but for one moment, we should think that after all why he did so? He had one aim in his mind. His aim was you and me and similar lakhs of children who were his own. Fear and agitation about Tantra which is prevalent among this generation has to be removed and forming one such generation in which every person connected to him should be like that if he stand like a rock then nobody have the courage to cross him, those who have got fire in their eyes that Tantra is present and it is right. What are wrong are these sanctimonious who are committing fraud. There is no fault of any tantra. At fault are the persons who misuse the name of tantra and name of Guru for selfishness. He was capable himself and if he wanted that entire work would have been finished in one day but he never did like that. He gave this responsibility to his disciples so that we can become savior of our civilization and can become indispensable part of Guru System. We can stand in front of world with head held high and say that yes Tantra is truth, Diksha is truth and nobody can deceive us. When he was capable himself then why he put the responsibility on disciple’s shoulders. Answer to it is that he has got one more aim in mind that the system which is in root of it, it also lives…Guru-Shishya System. Duty of Guru Work always remains in mental framework of shishya every time and it is good fortune for shishya to provide assistance in Guru Work .May such opportunity is provided by Guru. And examples from Shankracharya to Naagarjun are in front of us that how this tradition has deteriorated, how selfishness and meanness has crept into mind of people that the one whom they addressed with the divine name of Guru, with them………But Sadgurudev redeemed this system as well, gave new dimension to it and put forward novel aspect of it.And the system move forward, for this he made us lamp so that we can provide the light given by him and remove the darkness of this dis-semblance.
As a tribute to his endeavor, we started this blog 6 years back and there is no need to tell how much opposition we faced. It may be regarding questioning our writings or thoughts or the incidents happening in workshop or some other. You all know about this.at last we have to declare that we are Guru-traitors. Sorrow behind it can be understood by only those who understand the meaning of word Guru but we have always provided more momentum and intensity to our own works since our aim has always been same as before. If we stop even for a moment then this thought shakes our mind and heart that what will happen if Sadgurudev will come in front of us and ask what you have done? At that time will our eyes have happiness in them or will we feel ashamed? Will we have the deceit of flattery and logic or the pride of truth? And this thing keeps us going each moment and we all started getting cooperation from you all and we are getting it every moment. We were accused so many time that we have become Guru or aspire to be. Declaring such crimes as Guru Work, some person gave it the name of strong Guru Bhakti. But you all provided momentum, strength and courage and cooperation to our works and you all have seen from years and known that what our aim is.
But do we have to content ourselves with this work only? What about those people who give encouragement to hypocrite and where are those persons who claimed to give the name of these hypocrites in public.
Sadgurudev has given authority only to Trimurti Gurudev to provide Diksha in his shishya tradition. But in his time and also after it ,by his name whole crowd of Guru came who claimed that they are great Gurus and I have been told by Sadgurudev to provide Diksha. Number of such sanctimonious have grown to 1800 ,this was said by Sadgurudev himself and this sequence is still going on. Taking the assistance of name Nikhil, so many persons have become sanctimonious Gurus and declare them as the one who have attained completeness and provide high-order dikshas.If they have got completeness in real sense then why using the name Nikhil? Because this name is used to call everyone that come and take Diksha for solving problem etc.? Have we not give significance to the words of Sadgurudev that we do not have to entangle ourselves in sanctimoniousness rather we have to stay away from it.He has not given right to provided Diksha by his name to anyone except three persons (Guru Trimurti).
It is quite astonishing that some persons overnight become Maha Siddh and start giving Diksha to others. In some days someone certainly become such Maha siddh and appears in front of everyone who by attaching name of any Guru at the back of their own name to meet their selfish end resort to such kind of frauds. I will give the example of Poornabhishek Diksha. Here I would like to tell about the discussion which took place few days back about Rahul Adhikari (Sadhak Shri Nirmalanand/Swamy Shri Nirmalanand Ji Saraswati) who have now become capable to provide Diksha (www.siddhagunj.in/services)( http://siddhagunj.blogspot.in/2012/07/aishwarya-mahalaxmi-diksha-aur-uska-phal.html) That brother said that he attained Poornabhishek from one mahatma (who has attained Brahma) whereas that Mahayogi has passed away  many years back. Having attained the Diksha himself, he himself is troubled with so many problems and such type of mails and messages are with so many persons in which being troubled with problem, he wants to end his life. Now the person who has attained Poornabhishek is suffering from money-related problems or disease or some obstacle, it is point worthy to be understood. When I discussed about Abhishek Vidhaan with One Aghori, I asked that nowadays there are so many Abhishek happening in the name of different types of Guru Authority, what are these? Then he said that “What is in it, only one cup of water is needed, throw it on anybody and say that your Poornabhishek is done, but what is the end of this hypocrisy, nothing is thought about it”
Because it has been said in Kaularchan that Paramhans Guruna Poornabhishekam Samaachret. Only the Guru who has attained the state of Paramhans, that divine person can do the Poornabhishek. The basic procedure of Diksha is like this. This procedure is related to Kaula maarg which is best in Sarv Tantra Path.
In this Diksha, first of all Vindryaaj poojan and sthapan takes place by which any type of tantra prayog cannot be done on sadhak and he spontaneously gets the powers of all Tantras. He gets rid of all problem and obstacles.
After that Sadhak is made to do one special Kaanchan procedure whereby all of his previous karmas and evils are destroyed. After that successively Brahma, Vishnu, shiv and entire Maatrika are established within sadhak body by which he can attain success in any type of sadhna and mantra. After that, with the help of mantras, Asht Lakshmi is established by the Kaula Way in body of sadhak so that his willpower become strongest and he can take care of himself and all other persons related to him. After construction and worship of some hidden Mandals, all the parts of body of sadhak is worshipped by sadhak himself because all god and goddess start residing in his body.
After that complete worship of Abhishek container is done in four stages and after doing the Sthapan sanskar, Poornabhishek mantra are pronounced in it and Abhishek of sadhak is done by the liquid present in that container. After that sadhak is given a name and worship and sthapan of Kaulgan is done so that person can become Kaulachari and can achieve his all aims as soon as possible.
Even Great tantriks are desperate to attain such Diksha after which nothing remains to attain. And nowadays just sprinkling one vessel of water is considered as Poornabhishek. How much meanness has crept in mind of persons? Because the one who has attained Poornabhishek can do impossible tasks but here this brother himself is making appeal to others that someone do this for me, that for me .What is this logic? And some days before who was appealing like this to other persons has now started giving Diksha in the Nikhil Name .Where are the persons who some days before were appreciating his work? And when we talk about it, we were being opposed. Do they have answer to this fraud?
Is he given right by Sadgurudev to provide Diksha?
Is Poornabhishek attained person has to become such lowly that he has to beg anything in front of anyone?
Have his supporters forget the fact that this overnight-made Siddh some days before was imploring for solution to his problems?
Do they have any answer to quote by Sadgurudev in relation to attaining Diksha, which is being violated? Does his words do not have significance for them?
And is it not necessary to oppose this type of sanctimoniousness? Is this not our responsibility that we should criticize these mean acts and get rid of the sanctimoniousness spread in society?
Sadgurudev always used to say that may I get some shishyas then I can transform the whole society and up till the last moment of his life, he remained perturbed by this thought. Today he is not among us in the form he used to be but he is there somewhere and is seeing what we all are doing. And this is experienced by every shishyas. So now also, will we not value the trust which he has shown in us. His every moment was for us. Can we not take some moments of our moments for him, for his dreams, for our responsibility?
It is responsibility and duty of each one of us that we give momentum to his dreams instead of just appreciating him and enjoying our life. His dream was to redeem Guru-Shishya tradition, he has done work of Sadguru part but the work of Shishya aspect has to be done by us. Isn’t? Then only he can say with pride that these are my shishyas and smile on his lips will be only and only for us.
=======================================================
दिव्यज्ञानं यतो दधात्कुर्यात्पापक्षयं ततः तस्मादिक्षेति स प्रोक्ता सर्व तन्त्रस्य समत्त:
ज्ञान, एक ऐसा शब्द है जो की मनुष्य को बोध देता है अपने पथ का अपनी जीवन यात्रा का और अपने अस्तित्व का यही वह शब्द है जो की एक सामान्य जिव और ब्रम्हांड नियंत्रण करने वाली सत्ता ब्रम्ह में भेद कर देती है. अगर ज्ञान है तो वह ब्रम्ह स्वरुप है, ब्रम्ह ही है. और इसी लिए संसार के समस्त जिव और जड़ तथा चेतन में सिर्फ दो चीजों का भेद हो सकता है. ज्ञानी तथा अज्ञानी. जो ज्ञान को देता है वह ज्ञानी अर्थात गुरु है और जो ज्ञान लेता है वह अज्ञानी अर्थात शिष्य है. और इस प्रक्रिया इस सबंध का माध्यम बनती है ब्रम्हांड की सर्वश्रेष्ठ प्रक्रिया ‘दीक्षा’.
उपरोक्त पंक्तियाँ विश्वसार जेसे महान तंत्र ग्रन्थ की है जिसका अर्थ है की पूर्ण तंत्र जगत इस बात की महत्ता को स्वीकार करता है की दीक्षा न सिर्फ दिव्यज्ञान को प्रदान करती है वरन इसके साथ कर्मोगत पापों का भी क्षय करती रहती है. लेकिन हमने ऐसे कई विधानों को मात्र प्रसंशा मान लिया जबकी ऐसा नहीं है. यह हमें चेतावनी है और चुनोती है की अगर हम कही से दीक्षा प्राप्त कर रहे है तो उसका मापदंड क्या है? किस चीज़ को दीक्षा कहा जाता है? क्या जो व्यक्ति दे रहा है वह खुद एसी प्रक्रिया कर सकता है या नहीं कर सकता. इसी लिए तंत्र ग्रंथो में हमारे विविध आदिपुरुषों ने जिन्होंने तंत्र को अपने अंदर उतरा था उन्होंने हमें पहेचानाने की क्षमता दी. लेकिन हमने ध्यान नहीं दिया.
आज के युग में व्यक्ति तंत्र दीक्षा के नाम पर या तो भय खाता है या तो फिर उसे छल की प्राप्ति होती है. इसके पीछे दो तथ्य मुख्य रूप से कारणभूत है
मनुष्यों की तंत्र के प्रति उपेक्षा या ध्यान न देना. अगर हम तंत्र के बारे में जानेंगे ही नहीं किसी ने ये कह दिया उसे भी तंत्र मान लिया किसी ने वो कह दिया उसे भी तंत्र मान लिया लेकिन हमने खुद कोशिश नहीं की किसी भी प्रकार से एक बार साहस का संचार नहीं किया की खुद आगे बढे और जाने की सही क्या है और गलत क्या है. इसी प्रकार तंत्र सिर्फ कोरी गप्पो का विषय बन गया उन कुछ लोगो में मध्य जिन्हें तंत्र का त भी नहीं पता है. और दूसरा तथ्य हमारी इन्ही वृत्तियो का फायदा उठाया ऐसे लोगो ने जिनको न ही अपनी संस्कृति की पड़ी थी, नहीं अपने देश की इस महान थाती की. तंत्र सुरक्षित रहे इस लिए न जाने हमारे कितने महर्षियो ने अपने पूरे जीवन को हमेशा खतरे में डाल कर भी ज्ञान को अर्जित करते रहे, जीवन में कष्टों का सामना करते रहे, चुनोतियो के सामने सीना चौड़ा कर जीते रहे ताकि उनके सामने एक लक्ष्य था की इन प्रणाली को वो समाज के लिए और आने वाली पीढियों के लिए ज़िंदा रख सके. हमारे लिए रख सके. उन के जिए हुवे उन एक एक क्षण का ऋण क्या हमारे ऊपर नहीं है? या फिर हमारी उपेक्षा की महत्ता उतनी गहन है की खुद ही गुरु शिष्य प्रणाली को खतम करने के लिए जीते है. क्या हमारा यह कर्तव्य नहीं है की जो सही ज्ञान है उसको सही रूप से सब के सामने रखा जाए. और क्या यह हमारा कर्तव्य नहीं है की जो पाखण्ड होता है उसका पूर्ण रूप से विरोध किया जाए. किसी के साथ जुड जाने से उनकी जय जय कार करने से क्या हमारा कर्तव्य खतम हो जाता है?
एक बार सोचिये सदगुरुदेव के जीवन के बारे में. एक मनुष्य देह धारण कर के कौनसा कार्य करना चाहते थे वे? क्यों अपने जवानी के सुवर्ण दिन जो वो सुख और आनंद में व्यतीत कर सकते थे, क्यों वो उन्होंने नंगेपाँव हिमालय में काट दिए. क्यों आराम का जीवन उन्हें रास नहीं आया. क्यों घात प्रतिघात को सहन करते हुवेभी वे हर पल में कार्य करते रहे. कोई भी व्यक्ति ने उनका एक क्षण ऐसा नहीं देखा है जब उन्होंने कार्य नहीं किया हो. एक क्षण उनका आराम से नहीं गया. और हम जय जय कार मचा देते हे की वाह! हमारे गुरु तो महान है, लेकिन एक क्षण के लिए रुक कर हमें ये सोचना ज़रूर चाहिए की आखिर क्यों किया था उन्होंने ये सब. उनके सामने लक्ष्य था. लक्ष्य था में आप और हम जेसे कई लाख बच्चे जो उनके अपने थे. जो पीढ़ी हो उनमे तंत्र का भय और क्षोभ है उसे दूर करना और एक एसी पीढ़ी का निर्माण करना जिसमे उनसे जुदा हर एक इंसान ऐसा हो की चट्टान की तरह कही खड़ा हो जाए तो उसके आगे जाने की किसी की हिम्मत ही ना हो पाए. जिसकी आँखों में चिंगारी हो की तंत्र है और सही है गलत है तो वो पाखंडी जो की ढोंग कर रहे है. तंत्र का कोई दोष नहीं है दोष है तो ऐसे व्यक्तियो का जिन्होंने अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए तंत्र का और गुरुनाम का आशारा लिया है. वे खुद सक्षम थे ही और और वो चाहते तो एक दिन में सारा कार्य हो जाता लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. उन्होंने यह कार्य अपने शिष्यों के कंधो पर सोंप दिया की हमारी संस्कृति के हम रक्षक बन सके और हमारी गुरु प्रणाली के एक अभिन्न अंग बन सके. दुनिया के सामने गर्व से हम अपना सर खड़ा कर सके और कह सके की हाँ तंत्र सत्य है दीक्षा सत्य है और छल हमारे आगे नहीं चल सकता. जब वो खुद सक्षम थे तो उन्होंने यह कार्य अपने शिष्यों के कंधो पर क्यों डाला इसका उत्तर है की उनके सामने एक और लक्ष्य था की जो प्रणाली इन सब के मूल में है, वह भी जीवित रहे. गुरु-शिष्य प्रणाली. गुरु कार्य का उत्तरदायित्व शिष्यों के मानस में हर वक्त रहता है और शिष्य के लिए यह सौभाग्य होता है गुरु के कार्य में सहयोग दे ऐसा मौका उसे गुरु से प्रदान हो. और शंकराचार्य से ले कर नागार्जुन तक के उदहारण हमारे सामने है की किस प्रकार इस परंपरा का क्षय हुआ, कितनी नीचता और स्वार्थ व्यक्तियो में गर्त हो गया की जिन्हें वे गुरु जेसे पवित्र नाम से संबोधित करते थे उनको ही... लेकिन सदगुरुदेव ने इस प्रणाली का भी उद्धार किया, उसके नए आयाम दिए और इसका नया ही पक्ष दुनिया के सामने रखा. और यह प्रणाली और आगे बढती रहे इसी लिए उन्होंने हमें दीपक बनाया ताकि हम उनकी दी हुई रोशनी को हमेशा प्रदान करते रहे और ढोंग का जो अंधकार फेला हुआ है उसे दूर कर सके.
उनके इसी प्रयास को भावांजलि देते हुवे हमने ६ साल पहले ब्लॉग को शुरू किया था, और हमारा इतना विरोध हुआ यह बताने की बात नहीं है. चाहे वह हमारी लेखनी को ले कर हो या सोच को लेकर, या फिर वर्कशॉप में हुई घटनाये हो या चाहे कुछ भी हो. इन सबके बारे में आप जानते ही है. अंततः हमें यह घोषित करना पड़ा था की हम खुद ही गुरुद्रोही है. सायद इसका दुःख वही समज सकता है जो की गुरु शब्द का अर्थ समजता हो लेकिन हमने अपने कार्यों को हमेशा और गति और वेग प्रदान किया है क्यों की हमारे सामने अभी भी वही लक्ष्य है जो की पहले था. एक पल को थम भी जाए तो ये विचार मन को दिल को हिला कर रख देता है की क्या होगा जब सदगुरुदेव हमारे सामने आयेंगे और पूछेंगे की तुमने क्या किया? तब हमारी आँखों में खुशी होगी या शर्म? चापलूसी या तर्क का छल होगा या सच्चाई का गर्व. और यही बात हमें हर क्षण गतिशील रखती है. और आप सभी भाइयो का सहयोग हमें प्राप्त होता गया और हर पल मिलता रहता है. हम पर न जाने कितनी बार यह आरोप लगा की हम गुरु बन गए है या बनाना चाहते है. ऐसे घिनोने अपराधों को गुरु कार्य करार दे कर कई लोगो ने इसे अपनी प्रबल गुरु भक्ति का नाम दिया. लेकिन हमारे कार्यों को आप सब लोगो ने वेग दिया हिम्मत दी सहयोग प्रदान किया और इतने सालो से अपने देखा और जाना है की हमारा लक्ष्य क्या है.
लेकिन क्या हम सब को इतने कार्य मात्र से ही संतोष प्राप्त कर लेना है? क्या हुआ उन लोगो का जो ढोंगियो को बढ़ावा देते है और कहा गए वो लोग भी जो ढोंगियों को सब के सामने लाने का दावा करते रहे.
सदगुरुदेव ने अपने शिष्य प्रणाली में दीक्षा देने का अधिकार मात्र त्रिमूर्ति गुरुदेव को दिया था. लेकिन उनके रहते रहते और बाद में भी जिस कदर उनके नाम से गुरु का जेसे एक मेला ही लग गया था की में महान गुरु हू और मुझे सदगुरुदेव ने दीक्षा देने के लिए कहा है ऐसे ढोंगी गुरुओ की संख्या बढते बढते १८०० तक पहोच गई ऐसे स्वयं सदगुरुदेव ने कहा था. और ये सिलसिला आज भी ज़ारी है. निखिल नाम का सहारा ले कर न जाने कितने लोग ढोंगी गुरु बन बैठे है और अपने आप को पूर्णता प्राप्त व्यक्ति बोल कर उच्च से उच्चतम दीक्षाए प्रदान करते रहते है. अगर सही में पूर्णता मिल गई है तो फिर निखिल नाम का सहारा क्यों? क्यों इस नाम से ही सब का आवाहन किया जाता है आओ और दीक्षा ले लो अपनी तकलीफों का समाधान ले लो इत्यादि? क्या हमें सदगुरुदेव के उन शब्दों पर किसी भी प्रकार का कोई महत्त्व नहीं दिया है की आपको पाखण्ड में उलजना नहीं है उसे दूर करना है. उनके निदर्शित तीन ही व्यक्ति (गुरु त्रिमूर्ति) के अलावा किसी भी और व्यक्ति से उनके नाम पर दीक्षा देने का कोई अधिकार नहीं दिया है.
आश्चर्य की बात यह है की कई व्यक्ति रातो रात महासिद्ध बन जाते और दूसरों को दीक्षा देने का कार्य शुरू कर देते है. कुछ न कुछ दिनों में कोई ऐसे एक महासिद्ध बन ही जाते है और सामने आ ही जाते है जो की किसी भी गुरुसत्ता का नाम अपने पीछे जोड़ कर अपना कार्य पूर्ति हेतु इस प्रकार के छल का सहारा लेने लग ही जाते है. उदाहरण देना चाहूँगा यहाँ पर पूर्णाभिषेक दीक्षा का. यहाँ पर में बात करूँगा कुछ दिन पूर्व हुई चर्चा के बारे में जो की राहुल अधिकारी (साधक श्री निर्मलानंद / स्वामी श्री निर्मलानंदजी सरस्वती) जो की आज दीक्षा देने में भी समर्थ हो गए है. (www.siddhagunj.in/services)( http://siddhagunj.blogspot.in/2012/07/aishwarya-mahalaxmi-diksha-aur-uska-phal.html) भाईश्री का कथन था की उनको कुछ महीने पहले ही ब्रम्हलिन महात्मा से पूर्णाभिषेक प्राप्त है जब की वे महायोगी बहुत वर्षों पहले ही निजधाम को पधार चुके हैं . स्वयम्भू दीक्षा प्राप्त मान्यवर खुद कई समस्याओ से ग्रस्त है और कई प्रकार के मेल तथा मेसेज उनके कई व्यक्तियो को प्राप्त है जिनमे वे समस्याओ से ग्रस्त हो कर खुद को खतम कर देने की बाते करते रहते है. अब पूर्णाभिषेक प्राप्त व्यक्ति को धन से सबंधित समस्या ग्रसित हो जाए या बिमारी हो जाए या बाधा हो जाए तो यह सोचने वाली सी बात है. अभिषेक विधान के बारे में जब मेने एक अघोरी से चर्चा की थी मेने कहा की आज कल इतने अभिषेक होते रहते है कई प्रकार की गुरुसत्ता के नाम पर तो क्या है ये सब? तब उन्होंने कहा था की “इसमें क्या है, एक लोटा जल ही तो चाहिए, डाल दो किसी पर और बोल दो की हो गया पूर्णाभिषेक. लेकिन इस पाखण्ड का अंत क्या है इस पर कभी नहीं सोचा जाता.”  
क्यों की कौलार्चन में कहा गया है की परमहंस गुरुणा पुर्णाभिषेकं समाचरेत जो गुरु परमहंस अवस्था को प्राप्त कर चूका है वही दिव्य व्यक्ति पूर्णाभिषेक कर सकता है. दीक्षा की मूल प्रक्रिया इस प्रकार है. यह प्रक्रिया कौल मार्ग से सबंधित है जो की सर्व तंत्र मार्ग में श्रेष्ठ है.
इस दीक्षा में सर्व प्रथम विन्ध्य्राज पूजन और स्थापन होता है जिससे साधक पर किसी भी प्रकार का कोई तंत्र प्रयोग नहीं होता तथा सर्व तन्त्रो की शक्ति उसे अनायास ही प्राप्त होती रहती है. उसे सर्व विघ्न तथा बाधाओ से मुक्ति मिलती है.
इसके बाद साधक को एक विशेष कांचन प्रक्रिया करवाई जाती है जिससे उसके सारे पूर्व कर्म तथा पापों का नाश हो जाता है. इसके बाद साधक के शरीर में क्रमशः ब्रम्हा विष्णु शिव के साथ समस्त मातृका का स्थापन होता है. जिससे उसे किसी भी प्रकार की साधना तथा मंत्र में निश्चित सफलता मिल ही जाए, इसके बाद मंत्रो के द्वारा कौल  पद्धति से अष्टलक्ष्मी का स्थापन साधक के शरीर में किया जाता है जिससे की उसकी इच्छा शक्ति प्रबलतम हो जाए तथा वह अपना तथा अपने सबंधित सभी व्यक्तियो का पालन पूर्ण रूप से कर सके. इसके बाद कई गुप्त मंडलों की रचना तथा पूजन के पश्च्यात साधक के सभी अंगों का स्व पूजन होता है क्यों की उसके शरीर में सभी देवी देवताओं का वास होने लगता है.
इसके बाद अभिषेक पात्र की पूर्ण पूजा चार चरणों में पूरी की जाती है तथा स्थापन संस्कार कर उसमे पूर्णाभिषेक मंत्रो का उच्चारण किया जाता है तथा साधक का अभिषेक स्वतः ही उस पात्र द्रव्य से कराया  जाता है.  इसके बाद साधक का नामकरण  होता है और कौलगण  की पूजा और स्थापन सम्प्पन होता है जिससे की व्यक्ति कौलाचारी बन कर अपने सर्व अभीष्ट की प्राप्ति निश्चित रूप से शीघ्र से शीघ्र कर सकता है.
महान से महान तांत्रिक भी एसी दीक्षा को प्राप्त करने के लिए तरसता रहता है जिसके बाद कुछ बचता ही नहीं. और आज कल एक लोटा जल उदक देने को पूर्णाभिषेक मान लिया जाता है. कितना घटिया और ओछापन आगया है व्यक्तियो में. क्यों की जिनको पूर्णाभिषेक प्राप्त हो गया है वे असंभव से असंभव कार्य को कर सकते है लेकिन यहाँ तो ये भाई खुद ही लोगो से क्या क्या अपील कर रहे थे की कोई ये करदो मेरे लिए कोई वो करदो ये क्या तर्क है. और कुछ दिनों पहले जो एसी अपील लोगो को कर रहे थे वे आज निखिल नाम से दीक्षा देने लगे है. जो व्यक्ति कुछ दिन पूर्व उनके कार्यों की प्रशंशा कर रहे थे वे लोग अब कहा है? और जब इस बारे में बोलने पर हमारा विरोध किया जा रहा था क्या उनके पास इस छल का कोई उत्तर है?

क्या उनको अधिकार दिया है सदगुरुदेव ने की वे दीक्षा दे?

क्या पूर्णाभिषेक प्राप्त व्यक्ति को इतना दीन होना पड़ता है की वह किसी से भी कोई भी याचना करे?
क्या उनके समर्थक आज इस बात को भूल गए है की रातोरात सिद्ध बन बैठे व्यक्ति कुछ दिन पूर्व ही अपनी समस्याओ के समाधान के लिए गिडगिडा रहे थे?

क्या उनके पास इस कथन का जवाब है की जो सदगुरुदेव ने आज्ञा दी थी दीक्षा प्राप्ति के सबंध में उसका उल्लंघन हो रहा है? उनकी कथनी पर कोई महत्त्व है ही नहीं?

और क्या इस प्रकार के पाखण्ड का विरोध होना आवश्यक नहीं है? क्या ये हमारा उत्तरदायित्व नहीं है की इस प्रकार के हिन् कार्यों की निंदा की जाए और समाज में फ़ैल रहे पाखण्ड को हटाया जाए?

सदगुरुदेव हमेशा कहते थे की काश मुझे कुछ शिष्य मिल जाए तो में पुरे समाज में परिवतन ला सकता हू और उनके जीवन के आखरी क्षण तक वे इसी विचार से व्यग्र रहे. आज वे हमारे बिच में उस तरह नहीं है जेसे पहले थे लेकिन वो है और कही तो है और वो देख रहे है हम सब की और की हम क्या कर रहे है और इस बात का अनुभव हर शिष्य करता ही है. तो फिर क्या आज भी हम उनके हमारे ऊपर किये गए विश्वाश का मोल नहीं रख पायेंगे. उनके एक एक क्षण हमारे लिए था, क्या हम हमारे क्षणों में से कुछ क्षण उनके लिए नहीं निकाल सकते, उनके सपनो के लिए नहीं निकाल सकते, हमारे कर्तव्य के लिए नहीं निकाल सकते?
ये ज़िम्मेदारी और ये उत्तरदायित्व हम सब का है की हम उनके सपनो को गति दे, ना की सिर्फ जय जय कार कर अपनी दुनिया में मौज करते रहे. उनका सपना गुरु शिष्य प्रणाली को वापस से जीवित करने का था, सदगुरु पद का कार्य उन्होंने कर दिया लेकिन शिष्य पक्ष का कार्य तो हमें ही करना होगा न, तभी तो वो भी कभी गर्व से कह पायेंगे की हाँ ये मेरे शिष्य है. और उनके अधरों पे आई हुई मुस्कान सिर्फ और सिर्फ हमारे लिए होगी.
****RAGHUNATH NIKHIL****

****NPRU****

1 comment:

Dinesh Paliwal said...

नमस्कार भाई जी,

ऐसे जो भी व्यक्ति होते हैं वे कुंठित होते हैं | अप्सरा न मिली तो कुंठा, लक्ष्मी ना मिली तो कुंठा, पारद सिद्धि न हुई तो कुंठा, जीवन में कर्मक्षेत्र में अच्छी स्तिथि न मिली तो कुंठा, और घरवाली छोड़कर चली गई तो कुंठा, अवसाद और विक्षिप्तता | और फिर इन्ही चीजों से घिर कर इस तरह कि गतिविधिया कर बैठते हैं | और यह सब जो हैं, इसी का एक परिणाम हमारे सामने हैं | और इन्टरनेट पर ऐसे व्यक्तियो के लिए कोई पाबन्दी तो हैं नहीं, उसका कोई भी उपयोग कर सकता हैं |
अब पता नहीं आप खुद ही 25 id बनालो और ग्रुप ज्वाइन कर लो तो किसी को क्या पता लगेगा | और एक id से nikhil alchemy में घुस जाओ कोई रोक नहीं सकता |

इश्वर इनके चित्त को ठंडक देवें, इस कुंठा, अवसाद और विक्षिप्तता से ये उबर जाएं बस यही प्रार्थना हैं |

जय सदगुरुदेव