There was an error in this gadget

Thursday, July 26, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 5 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -5 )



This very rare article for you all along with the title………You all will understand through this article that in reality, doing Yakshini Sadhna and getting success is not easy and is not the thing to be taken lightly. Through this very rare article, you will be able to understand that even creating rosary and yantra is so much cumbersome…..and the list which I put forward in front of you yesterday…..Now after reading this article, you can understand how many important facts will be revealed.
Because few people can make a joke out of this thing that all these procedure are fictitious and is a novel way for earning money……You all should read this article and experience it yourself that how many procedure are…….essential in one Yakshini Sadhna……and it is now up to you that still you make joke out of it and waste this opportunity….
Please note that this article was published in Mantra Tantra Yantra Magazine of 1985 when Sadgurudev was there in his world form….After this only Sadgurudev organized Yakshini Sadhna Shivir…
You all brothers and sisters who are participating in this seminar or those who are making up their mind to participate or those who are trying to make joke out of it…..those all….understand the importance of coming seminar. For all of those….now this rare article which came in that magazine…
------------------------------------------------------------------------------
Now This Rare Article for You
-----------------------------------------------------------------------------------
Kaun Kehta Hain Ki Yakshini Siddh Nahin Hoti……………………Ramouli Baba
Devta, Gandharv and Kinnar are of higher—order category than human beings, in the similar manner Yaksha category is also parallel to Devta. Our Puraans and religious scriptures are full of heir respect, their reverential praise and their prayer. Though there are hundreds of Yakshini sadhnas in Indian Mantra scriptures but Dhanda Yakshini sadhna is prominent among them.
“This is Saumya (peaceful), easy and virtuous sadhna (Satvik in Hindi).Those sadhak who do the upasana of Gayatri, whose life has plenty of righteousness and morality, they should do Yakshini Sadhna definitely in their life”. When these lines were said by Gurudev to me then all my hesitation vanished and in spite of being the Gayatri sadhak, I got prepared to do the sadhna of Dhanda Yakshini with full ability.
There is no doubt that Yakshini sadhna are difficult and complex. Without capable and suitable Guru, this sadhna cannot be done. Because on one hand this complete sadhna is mantric then on the other hand this sadhna is practical too. Therefore in this sadhna there is mutual strong relation between Mantra and Procedure.
Sadhna Vidhi of Dhanda Yakshini is published in so many scriptures. The description and yantra of Dhanda Yakshini which has been given in third part of Mantra Maharnav does not prove to be authentic because its base is taken as Shunya (Vacuum) but the base of Dhanda Yakshini should be taken from Bindu. It has been clearly written on fourth layer of scripture named “Rahasaya Sadhan”, uttered by Lord Shiva that outer portion of Dhanda Yakshini yantra should be of 10 layers, and then only Dhanda Yakshini yantra is formed.
Revered Gurudev after describing the Dhanda Yakshini Sadhna mentioned in nearly 8-10 scriptures told that all these descriptions are incomplete and not authentic. From practical point of view, doing sadhna in such way does not yield success. After telling this, he made me do the Dhanda Yakshini Sadhna in completely Novel Vidhi by which I got complete success in my first attempt.
Sadhna Time::
This sadhna can be done only once in a year. The time is eight days before the Holi i.e. it should be done in Holi Ashtak.In this Prayog, starting from Ashtmi Yakshini yantra having both downward-facing triangle and upward-facing triangle is created in the night of Deepawali. And this yantra having 88 Aavritis is created only on Deepawali’s night by Dhanda Panch Dashi Mantra. Please bear in mind that central point of Yantra should be formed on midnight of Deepawali i.e. Amavasya. And it should be energized by using Dhanda Panch Dashi mantra in lom and vilom sequence. After that Yantra should be energized by doing 88 Aavriti Yukt Sanjeevini Mantra Prayog on it using a silk thread so that relation can be formed between Anang Bindu and Rati Yoni and Dhanda Yakshini form can be formed. And on such an accomplished yantra, prayog is done on the occasion of Holi.
On the first day yantra is energized along with Guru Poojan Vidhi. Side by side, coordination is established with sadhak’s mind. For this assistance is taken of Kuber Yakshini based beej. As it happens, full coordination of sadhak is established with Dhanda Yakshini.
In this, aasan Vidhaan is worth paying attention. The day which falls on eighth day of Shukl paksha of Phalgun month, aasan of that planet should be spread by sadhak. On Sunday pink, Monday white, Tuesday Red, Wednesday green, Thursday Yellow, Friday white and on Saturday black colored aasan are spread and sadhna is done.
In this Hakik rosary is used. But there is special way for it.On midnight of Deepawali Night, make a thread by giving 88 rounds to silky or cotton thread and make a knot after threading Sumeru.At the time of making knot, it should be formed using mutual Lom Vilom of Maha Kaali, Mahalakshmi, Mahasaraswati, Dhwani and Adhwani ,Bindu and Yoni.On the midnight of second day, do the similar procedure on second Hakik stone. In this way daily one bead is threaded and above it one joint is formed. In this way, one rosary is prepared up till Holi. Then only Mantra becomes amazing and full of Praan. This rosary can be prepared by sadhak or Guru Brother.
Then on the night of eighth day of Shukl Paksha of Phalgun Month, I gained consciousness of Praan from this prepared Rosary and established three Maha Shaktis in three Aavritis of body. I inculcated Dhanda in my voice, done Pratishtha of Anang and Rati in body, sat on aasan, ignited lamp and started chanting the mantra using the way told by Gurudev.
In it, every day separate-2 procedure is carried out. On first day, Guru Poojan and yantra sthapan is done on body then on second day Swarnakarshak Bhairav Mantra is blossomed. On third day, Dhanda Panch Dashi Mantra is activated. On fourth day, Dhanda Yakshini Mantra is energized and done mantra samputit. On fifth day Bhairav Mantra Jap on Bhairav Gutika and on sixth day, Bhairavi Dhanda is accomplished on Bhairavi Gutika. On seventh day related Jap and Poorn Aahuti is done.
All these mantras have remained hidden and have been attained only by mouth of Guru. After doing this, the experience which an ignorant sadhak like me has had, is altogether a different story. I have experienced that if any sadhna is done with full authenticity then definitely one gets the results.
I have got hundreds of scriptures related to Mantra and Yantra and nearly all the scriptures have included within it Dhanda Yakshini Sadhna but the type of Prayogs given in all these scriptures are incomplete. I have not experienced authenticity. Compared to this, the type of mantra Jap which was told by Revered Gurudev, doing like that made me accomplish sadhna and I can prove this fact with challenge that if any sadhna is done with full authenticity then definitely one gets the results.
This sadhna ends on the day of Holi.88 lotus seeds are put in the ignited holi one by one while chanting beej mantra of Dhanda Yakshini and in this way Mantra Jap is finished.
And after doing like this, on that night Yakshini manifested in very Saumya and sweet way. After that the speed at which I have progressed in Materialistic and Spiritual and sadhna field is mainly due to this sadhna.
I was told to write few lines on Dhanda Yakshini sadhna in Mantra Tantra Yantra Magazine but this subject is hidden and can only be told by Guru. Therefore, I have explained the sadhna Vidhi to the extent I Could have done. I feel the need that all the scriptures published which are related to Mantra and sadhna should be edited again by very capable scholar. I challenge that anyone can see Dhanda accomplished by me.For amazing success in money, financial gains, Prosperity and all sadhnas of future, this sadhna is basic and important sadhna.
                                                                                                 With Thanks…..Mantra Tantra Yantra Vigyan …April 1985
So my friends, you all can understand by this amazing article that …..Yakshini sadhna is a very deep subject…..and now it is up to you that you understand this opportunity….
Smile

==========================================
यह  अति दुर्लभ लेख  आपके लिए शीर्षक सहित  .....आप सभी इस लेख के  माध्यम से समझ सकेंगे की सच मे  यक्षिणी साधना करना और उसमे सफल होना आसान या मजाक नही  हैं. इस अति दुर्लभ लेख के  माध्यम से आप समझ सकेंगे .की यहाँ तक यन्त्र,माला का निर्माण भी कितना कठिन हैं ....और जो मैंने  कल  आपको एक लिस्ट आपके सामने रखी ...अब आप इस लेख  के पढ़ने के बाद  आप समझ सकते हैं की कितने महत्वपूर्ण ..तथ्य आपके सामने आयेंगे .
क्योंकि कतिपय लोग इस बात  का माखौल  भी उड़ा सकते हैं  की यह सारी क्रियाए  तो  मन गढंत हैं और धन कमाने के लिए ..एक नया तरिका  हैं तो आप सभी इस लेख को पढ़े  और स्वयम अनुभव करे की कितनी क्रियाए  ...आवशयक  होती हैं  एक यक्षिणी  साधना मे ...और अब आप पर हैं की अभी भी माखौल  उडाये  और इस अवसर को हाथ से जाने दे ..
ध्यान रखे यह  लेख जब सद्गुरु भौतिक लीला काल मे रहे  तब  अप्रेल १९८५ मे मंत्र तंत्र यन्त्र पत्रिका मे प्रकाशित हुआ .... इसके बाद हीसदगुरुदेव   जी के द्वारा ... यक्षिणी साधना शिविर का  आयोजन हुआ ...
आप सभी भाई बहिन जो सेमीनार मे भाग ले रहे  हैं या   जो भाग लेने का मन बना रहे हैं  वह..या वहभी जो माखौल उड़ने की कोशिश मे हैं ..वह सभी .आने वाली सेमीनार का  अर्थ समझे .उन सभी के सामने .अब यह दुर्लभ  लेख .जो उस पत्रिका मे  आया  रहा ......
====================================
अब यह दुर्लभ लेख आपके लिए
======================================
कौन कहता  हैं की  यक्षिणी सिद्ध नही होती ...........रमौली बाबा 

देवता गन्धर्व  किनार  मनुष्य  से ऊँचे  स्तर के वर्ग   हैं , इसी प्रकार  यक्ष भी  देवताओं के समकक्ष  वर्ग के  हैं , जिनका सम्मान  जिनकी स्तुति  और जिनकी अभ्यर्थना  हमारे पुराणों  एवं धार्मिक ग्रंथो मे  भरी हुयी हैं .  यूँ तो भारतीय मंत्र ग्रंथो मे  सैकडो   यक्षिणी   साधनाए   हैं ,परन्तु  धनदा  यक्षिणी  साधना  इससमे महत्वपूर्ण  एवं प्रमुख हैं .
“यह सौम्य और सरल सात्विक साधना   हैं  जो साधक गायत्री का उपासक हैं ,जिसके जीवन मे  सदाचार  और नैतिकता का बाहुल्य हैं   उसे अपने जीबन मे यक्षिणी साधना  अवश्य करना चहिये “ ये पंक्तिया  जब   गुरू देव ने  मुझसे कहीं   तो मेरी सारी हिचकिचाहट  दूर  हो गयी  और गायत्री का उपासक  होते हुये भी.मैं पूरी क्षमता के साथ धनदा यक्षिणी की साधना करने के लिए  तैयार  हो गया .
इसमें  कोइ दो राय नही  की यक्षिणी साधना  जटिल और पेचीदा  होती हैं  बिना समर्थ और योग्य गुरू के यह साधना  सम्पन्न नही हो सकती हैं . क्योंकि एक तरफ यह सारी साधना  जहाँ एक तरफ मंत्रात्मक हैं  वही दूसरी  ओर क्रियात्मक भी  इसलिए इस साधना  मे मंत्र और क्रिया का  परस्पर घनिष्ठ सबंध हैं .
यो तो धनदा  यक्षिणी की साधना  विधि कई ग्रंथो मे  प्रकाशित  हैं . मंत्र महार्णव  के तीसरे खंड मे जो  धनदा  यक्षिणी का विबरण और यन्त्र दिया हैं  वह प्रामाणिक नही ठहरता  हैं  क्योंकि उसका  आधार  शून्य से हैं . जबकि धनदा यक्षिणी का आधार  बिंदु से  होना चहिये . शिव् प्रोक्त ‘रहस्य साधन “ नामक ग्रन्थ के  चौथे पटल मे  स्पस्ट लिखा हैं की  धनदा यक्षिणी  यन्त्र के बाहिर्बाग  दस पत्रात्मक  होना चाहिए , तभी धनदा यक्षिणी   यन्त्र निर्मित होता हैं .
पूज्य गुरुदेव जी ने लगभग  आठ दस ग्रंथो मे उल्लेखित  धनदा  यक्षिणी  साधना  का विवरण देने के बाद  बताया की  ये सारे  वर्णन विवरण  अधूरे और अप्रामाणिक हैं .व्यवहारिक दृष्टी से  इस प्रकार साधना  करने  से सफलता  मिल नही पाती हैं . ऐसा बताकर उन्होंने  सर्वथा  नवीन विधि केद्वारा  धनदा यक्षिणी साधना  सम्पन्न करवाई  जिससे मुझे पहली बार मे ही पूर्ण सफलता  मिल गयी .
साधना  समय ::
वर्ष मे  केबल एक  ही बार इस साधना को समपन्न  किया जा सकता हैं. यह समय होली सेआठ   दिन पहले  मतलब  होलाष्टक मे  ही यह साधना समपन्न   होना चहिये . अष्टमी से प्रारंभ होने  वाले इस प्रयोग मे  अधोमुखी और उर्ध्व मुक्षी त्रिकोण से युक्त  यक्षिणी यन्त्र  का निर्माण  दीपावली की रात्रि को किया  जाता  हैं . और दीपावली की रात को ही  धनदा पञ्च दशी मंत्र से ८८  आवृति युक्त  इस यन्त्र  का निर्माण किया जाता  हैं  इस बात का ध्यान रहे की यंत्र का  मध्य बिंदु  दीपावली  की रात्रि  अर्थात अमम्व्स्य की अर्ध रात्रि की निर्मित होना चहिये . और धनदा पंचदशी  से लोम बिलोम  मंत्रा से सम्पुटित   हो कर प्राण प्रतिष्ठा  युक्त होना चाहिए . तत्पश्चात रेशम के धागे  से  ८८ आवृति युक्त  संजीवनी मंत्र  प्रयोग  यंत्र पर  करते हुये  करते हुये  उसे प्राण चैतन्य   करना चहिये  जिस् से की  की अनग  बिंदु और रति  योनी का सबंध  बन सके  और धनद यक्षिणी का   रूप निर्मित हो सके . और ऐसे ही सिद्ध यन्त्र पर होली के अवसर पर प्रयोग किया जा सकता  हैं .
प्रथम  दिन गुरू पूजन विधि के साथ कर   यंत्र को प्राण चैतन्य  किया जाता हैं . साथ ही साधक मे मनस   से  सामंजस्य  स्थापित किया जाता हैं . इसमें कुबेर यक्षिणी आधार बीज  का सहारा लिया जाता हैं . ऐसा होने   पर धनदा यक्षिणी का साधक से पूर्ण  तादाम्य    स्थापित  हो जाता  हैं .
इसमें  आसन का विधान ध्यान देने  योग्य हैं .फाल्गुल शुक्ल अष्टमी को  जो वार  हो उसी ग्रह का आसन साधक को विछाना  चाहिए . रवि को गुलाबी , सोमवार को सफ़ेद , मगंवार को  लाल ,बुध को हरा ,बृहस्पति की पीला , शुक्र  की स्वेत तथा  शनिवार को काले रंग  का  आसन  विछा कर  साधना समपन्न की जाती  हैं ..
इसमें हकिक माला का प्रयोग किया जाता हैं .परन्तु इसका भी एक विशेष तरीका  हैं  दीपावली की मध्य रात्रि को रेशम या सूती धागे की  ८८ आवृति लेकर उसका धागा बनाये  और सुमेरु पिरोकर  गाँठ लगाये ,गाठ लगते समय महाकाली महालक्ष्मी  महासरस्वती का परस्पर  लोम विलोम,ध्वनि अध्वानी, बिंदु  और्  योनी के शब्द सामंजस्य करते हुये गाठ लगा दें, फिर  दूसरे दिन् मध्य  रात्रि को दूसरा  हकिक पत्थर इसी प्रकार कि क्रिया करते हुये ,इसतरह नित्य एक मनका पिरोया जाता  हैं औरउसके  ऊपर एक गाठ लगाई जाती हैं . इस तरह यह माला   होली तक जा कर तैयार  हो  पाती हैं .तभी इस माला मे आश्चर्य जनकता  और प्राणवत्ता आ जाती हैं . यह माला साधक या गुरू भाई तैयार् कर सकते हैं .
  फिर फाल्गुन  शुक्ल अष्टमी  के दिन मैंने  रात्रि को इसी प्रकार  तैयार की हुयी  माला से प्राण चैतन्यता प्राप्त की और शारीर की  तीनोआवृतियों  मे तीनो महाशाक्तियों की स्थापना  की .वाणी मे धनदा  का समावेश किया .शारीर मे अनंग  और रति की प्रतिष्ठा करते   हुये आसन पर  बैठ कर  दीपक प्रज्ज्वलित कर  गुरुदेव  के बताए  हुये तरीके  से मंत्र जप प्रारंभ किया .
इसमें प्रत्येक दिन  अलग अलग विधान  संपादित किया  जाता हैं .प्रथम   दिन शरीर मे  गुरू पूजन और यंत्र स्थापन किया  जाता हैं  तो दूसरेदिन  स्वर्णा कर्षणभैरव मंत्र को प्रस्फुटित किया  जाता  हैं .तीसरे दिन धनदा पंचदशी मंत्र की जागृति की जाती  हैं .चौथे दिन धनदा  यक्षिणी यन्त्र चैतन्य  और मंत्र सम्पुटित किया जाता   हैं .पाचवे दिन भैरब  गुटिका पर  भैरव  मंत्र जप  तथा  छठे दिन भैरवी  गुटिका  पर   भैरवी  धनदा  को सिद्ध किया  जाता हैं .सातवे दिन  सबंधित  जप और पुर्णाहुति  समपन्न की जाती   हैं .
ये सारेमंत्र गोपनीय और गुरू मुख से  ही  प्राप्त  रहे हैं .ऐसा करने पर मुझ जैसे  अनाडी  साधक को  जो अनुभव  हुये हैं .वे अपने आप मे  एक अलग   ही कहानी हैं .मै अनुभव  करता हूँ की यदि कोई भी साधना  पूर्ण प्रमाणिकता  के साथ  संपन्न की जाए   तो निश्चय की अनुकूलता  प्राप्त होती हैं .
मेरे पास तंत्र और् मंत्र से सबंधित सैकडो ग्रन्थ  हैं ,और लगभग सभी ग्रंथो मे धनदा  यक्षिणी  साधना  का समावेश  किया  हैं परन्तु  इन सारे ग्रंथो मे जिस  प्रकार का  प्रयोग   दिया   हैं.वे अपूर्ण हैं . उनमे प्रमाणिकता अनुभव नही हुयी . इसकी अपेक्षा  पूज्य गुरू देव ने मुझे  जो   विधि मंत्र जप बताया  उस प्रकार से  करने पर प्रत्यक्ष साधना   सिद्ध हुयी .और मैं चैलेंज  के साथ   आज इस बात को सिद्ध  करसकता  हूँ.यदि पूर्ण प्रामाणिकता के साथ साधना की जाए  तो  निश्चय  ही सफलता प्राप्त होती हैं .
इस साधना की समाप्ति  होली के दिन होती हैं .धनदा यक्षिणी के बीज मन्त्र जप से ८८ कमल बीजो को जहाँ होली प्रज्जलित   होती हैं  उसी होली मे उन कमल बीजो  को एक एक करके डाला जाता  हैं  और मंत्र जप समपन्न होता   होता  हैं .
और ऐसा करने  पर उसी  रात मे अत्यंत  हो सौम्य  और मधुर रूप मे  यक्षिणी प्रत्यक्ष   हुयी इसके बाद आज तक मैं  भौतिक और आध्यात्मिक   योग एवं साधना  क्षेत्रमे  जिस गति से आगे बढ़ा हूँ . और सफलता पायी हैं . वह सब कुछ इस  साधना की बदौलत   ही सम्पन्न   हुयी हैं .

 मुझे मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं पत्रिका ने धनदा यक्षिणी साधना  पर कुछ पंक्तिया लिखने को कहा  था  परन्तु यह विषय  गोपनीय  और   गुरू मुख गम्य  हैं अतः जितना भी स्पस्ट कर सकता   था  मैंने इस लेख मे साधना विधि को स्पस्ट किया ,मैं ऐसा  आवश्यकता अनुभव करता हूँ के मंत्र और साधनाओ से सबंधित जितने भी ग्रथ प्रकाशित हैं उनका अत्यन्त  ही योग्य विद्वान से  पुनः संपादन होना चहिये ,मैं चेलेंज के  साथ स्पस्ट करता हूँ की कोई भी   मेरे द्वारा  संपादित धनदा को स्पस्ट देख सकता  हैं . आर्थिक वैभव  धन यश प्रतिष्ठा एवं आगे की समस्त साधनाओ मे अद्वितीय सफलता के लिए यह आधरभूत और महत्वपूर्ण साधना   हैं .
                                                            साभार सहित ..मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं ..अप्रेल 1985
तो मेरे मित्रो  इस अद्भुत लेख  से आप समझ सकते  हैं की ..यक्षिणी   अप्सरा  साधना  बहुत गभीरता  का विषय   हैं ..और   अब आप पर  हैं की  आप  इस अवसर   को समझे ...
Smile
निखिल प्रणाम
अनु निखिल
****NPRU****

2 comments:

tirupatikumargupta said...

mene aapke diye hue mail address par semnar me bhag lene ki anumati ki request bheji hai par koi responce nahi aaya hai
Tirupati Kumar Gupta
Additional Chief Judicial Magistrate
House No. J/II/10, New Nyaya Shikaha Appartments, Gandhi Nagar,
Behind Neharu Park,
JAIPUR (RAJASTHAN)
tirupati_gupta67@yahoo.com
cell 09982329326
09414386248

tirupatikumargupta said...

mene aapke diye hue mail address par semnar me bhag lene ki anumati ki request bheji hai par koi responce nahi aaya hai
Tirupati Kumar Gupta
Additional Chief Judicial Magistrate
House No. J/II/10, New Nyaya Shikaha Appartments, Gandhi Nagar,
Behind Neharu Park,
JAIPUR (RAJASTHAN)
tirupati_gupta67@yahoo.com
cell 09982329326
09414386248