There was an error in this gadget

Thursday, July 26, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 4 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -4 )..भाग -4


 
My Friends,
You all are learning about some of the subjects that will be told in seminar and this will be very important from multiple angles. Because our mentality towards Isht category of these sadhnas is little bit strange. Frankly speaking, only the thoughts of strong Kaama feeling are amplified….and on the other hand, how to do these sadhnas. We have just considered them as one or two or four day sadhna.
Both the facts are right in their own way.
The state which you expect, for attaining it, you have to work hard too. This is right that sadhna Vidhaan are not big but it is quite similar to the case that IAS examination is only of few hours and only on some days you have to give the paper but you all pretty well know that its preparation starts well in advance. And doing like this is necessary and you also not feel surprised because you know that after passing this exam, an ordinary person who was not respected anywhere, was very less fortunate, as he passes this exam, whole world turns upside down for him. Only one exam and the one who was losing in life…….comes in category of winners
Same thing happens in these sadhnas, if we get one success for which we are crazy about…….getting success in these sadhna is like conquering the world. A trustworthy friend, a true friend throughout life, one such friend who always stand by you in every life situation……and  provides all type of happiness and prosperity and side by side, capable of taking you to spiritual heights…..who will not want such friend.
And one such friend, you can get by this sadhna who has a pure heart in true sense, whose aim will be only to make us progress ahead. If she can be attained by these sadhnas then some hard work needs to be done. Isn’t it? It is not possible simply as such.(without hard work).You all will come across some people who would have done this sadhna  but…..with completeness, how many would have done it and is there anyone to reveal the secret of such sadhna….where is he/she? People say that particular person has done it…..but they know the truth. Nobody will reveal the truth in front of you.
Do these sadhnas really have these much Vidhi-Vidhaan? My answer is yes……completely.
But some people say that they did the sadhna merely..
So reason behind this could be that he would have done this sadhna up to very high level that’s why they attained the success.
Because Tantra never recognized any coincidence rather it is definite arrangement.
In my next post, I will try to give some portion of Vidhaan of one Yakshini Sadhna after reading which new facts will be uncovered in front of you that it was like this……and what we were thinking.
Normally, one such situation is also formed whereby their qualities come in your life partner then they will become more attractive and favorable to you from all angles.
Today I am introducing you to some special procedures. After seeing this, you can understand if one really wants to accomplish Apsara Yakshini then he/she has to do these procedures and those fortunate people who have shown prayogs in the shivir conducted by Sadgurudev on this subject pretty well know the significance of these procedures.
And if today also one has aim that he/she gets Poorn siddhi in one day or in one attempt, he/she should do these procedures well in advance. So that when you sit for basic sadhna…then you get the success. Then only all these have some meaning.
But how we will know about these procedures? Today who is the one having this knowledge and also want to share it with you.
The subjects who will be told in seminar or the subject you will be aware of when you will be returning from seminar are :
Deh Uthapan Kriya
Dev Shakti Sthapan
Naabhi Mantra Sanskaar
Maala Sanskar Dev Samavesh
Sumeru Poojan
Aasan Sanskar
Veer Sthapan Kriya
Bhairav Sthapan Kriya
Bhairav Uthapan Kriya
Muladhaar Isht Sthapan
Isht Vyaapkta
Asudh Uccharan Sanskar
Uthapan Nyaas
Yantra Ankan
Yantra Uthapan
Yantra Deepan
Trilohi Mudra
Kaam Mudra
Siddh Prayog
Ratikaam Soundarya Bandhan Mantra
Indra Mandal Siddhi
Summukhikaran
Urvashi Mantra
Divya Pratyakshikaran
And it is also possible that something other is also revealed…….because nobody knows that looking at enthusiasm of you and us , our elders make up mind to give us something special considering us as suitable candidate for these procedures……You all can understand that how important this seminar will be ,it can’t be described in words. Everything will remain same, us and you all…..but the stream of knowledge which we have got, we as brother will distribute to other brothers and sisters in this gathering.
And this is no less important.
Beginning has to be made from some point or the other and some time or the other, moment of transformation comes in life and if you are seeing this also as one such moment, you will find that this seminar will be invaluable from sadhna knowledge point of view.
Definitely you will experience this fact.
But those who know only to criticize, they can start their work form now and in fact it has begun…..and when this seminar is completed, then with more enthusiasm start criticizing. But  those who can distinguish between right and wrong, who understand the stream of life, who use their own brain to make decisions, who don’t look at life from right or wrong perspective rather see that what is importance of this moment……for them ,these will be most valuable moments.
Because for success, it is not like there are 100 or 1000 secrets.
Friends, here no aarti, no worship ,no garland ceremony, no  mantra jap…..nothing of such kind….no pump and show….because we have to take steps very cautiously , everywhere few people are waiting .
Just see our compulsion that we do not use Sadgurudev picture in spite of our wish because people are there who will say these people also in name of Sadgurudev….
How amazing it is whose knowledge it is……who has provided it…..we have not created it in our house….the pearls and gems from infinite storehouse of knowledge from our own spiritual father…we have to give without using his name…
Because some brother and sister are there who raise objection…
Now if anyone say that this is knowledge of Sadgurudev then how can…….brother….whose knowledge we have got…..it’s all his….
He only….and our motive has always been to distribute it as brother only and it will always remain as such.
There has been no difference between our saying and actions.
Because neither we are in race for any post …..Nor we will be in future.
This is definite. If we live up to word Shishya, then we will feel ourselves to be fortunate.
Yes, but want that this knowledge should reach you all too.
But it can’t be just thrown away. Isn’t? Therefore we have put forward certain rules and condition which need to be fulfilled by those who want to participate in this seminar…..Now those who consider it as subject of criticism ……then do it.After all, they have to do their work too.
Forget it.Let’s talk about one procedure mentioned in this post. We all would have read that for success in Yakshini sadhna, Kuber Poojan is essential. Why is it so….this I will discuss in coming post.
But tell me the truth that how you ever listened or read that for getting success in Apsara Sadhna, worship of Indra is done.
You have not listened…
Then which mantra and way will be used for worship…
No No……this you will know in Seminar only…
This means that name of special procedure which I have given above, they have some meaning.
Isn’t it?
So those who are coming they are welcome….and those who are making up their mind…..for them only this….
Ab Sovan Ki Ber Kahan….
=========================================
मेरे मित्रो ,
आप इस  सेमीनार मे  होने  वाली  कुछ विषयों के बारे   मे  जानते   जा रहे   हैं  और  यह अनेक दृष्टी से  बहुत  ही महत्वपूर्ण होगा .क्योंकि इन साधनाओ के   इष्ट वर्ग  के प्रति जहाँ हमारे विचार कुछ   अजीब सी   मानसिकता  से भरे  हैं सीधे  और स्पस्ट   रूप से कहूँ तो सिर्फ काम भाव की प्रबलता वाले  विचार   ही प्रबल   हो जाते   हैं  ..तो वहीँ दूसरी  ओर इन साधनाओ    को कैसे करना  हैं .हमने  इन्हें वस्  एक या  दो  दिन   या  चार दिन की साधनाए मान लिया    हैं .

दोनों  ही बात   अपने   आप मे सही नही  हैं.
आप  जिस अवस्था की  आशा करते हैं वहप्राप्त करने के लिए आपको  मेहनत भी करनी पड़ेगी .यह सही   हैं   की  यह साधना   विधान बड़े नही  होते  पर इसको ऐसे  देखें की  IAS   की परीक्षा  मात्र कुछ घंटे   की वह भी  कुछ दिन ही पेपर  ही आपको देने   पड़ते हैं पर उसकी तैयारी  आप को कहाँ से  शुरू करनी पड़ती  हैं यह आप  कहीं जायदा  अच्छे  तरह से जानते  हो .और ऐसा करना अनिवार्य हैं और आप को कोई आश्चर्य   भी नही होता  क्योंकि यह तो आप जानते हो की इस परीक्षा को पास करते ही एक साधारण  सा व्यक्ति जिसका  कहीं कोई सम्मान  नही करता  हो मानलो बहुत  ही कम भाग्यशाली  परिस्थितयों  का  हो ,जैसे  ही उसने  यह परीक्षा पास   की उसका  सारा  संसार  बदल जाता   हैं .बस एक परीक्षा   और जो  जिंदगी मे  हार रहा  हो वह ..विजेता की श्रेणी मे  आ जाता   हैं

.ठीक कुछ ऐसा  ही इन साधनाओ मे  होता हैं , हम  जो लगतार एक सफलता मिल जाए उसके पीछे  पागल हैं ...उनको   इन साधनाओ मे  सफलता मिल जाना  मानलो सारा  संसार जीत लेने  के  सामान  हैं एक  विस्बस्त  मित्र ,एक जीवन  भर का सच्चा  दोस्त ,  एक ऐसा  दोस्त  जो  जीवन की हर परिस्थितिओ  मे आपके साथ .और  हर तरह  के  सुख और समृद्धि देने  वाला   और साथ ही साथ   आध्यात्मिक मार्ग मे  आपको उच्चता   तक ले  जाने  वाला ...कौन नही चाहेगा  एक ऐसा  दोस्त .
और  एक ऐसा साथी आपको इन साधना  से मिल सकता  हैं  जो सच मे निश्च्छल  होगा .जिसका  उदेश्य केबल आपको आगे बढ़ाना  होगा .वह अगर इन साधनाओ से मिल सकता  हैं  तब कुछ तो मेहनत करनी होगी   न . वह ऐसे  तो संभव नही .आज आप  को हजार  लोग   मिल जायेगे  जिन्होंने यह साधना  की होगी  पर पूर्णता के  साथ   ऐसी साधना  के रहस्य बताने   वाला ...कहाँ हैं .???.लोग कहते  तो हैं  की उन्होंने की   हैं ... पर सच्चाई   भी वही  जानते हैं .कोई भी आपके सामने   यह रहस्य नही  खोलेगा .
क्या सचमुच  ये साधनाए  इतनी ज्यादा   अन्य विधि विधान लिए होती  हैं .
मेरा उत्तर हैं  हाँ ....पूर्ण  रूप से .
पर  कई तो कहते हैं की उन्हें   यह साधना   तो मात्र ..
तो इसका कारण    यह रहा होगा की  अपने  किसी  विगत जीवन मे या अतीत  मे  इन साधनाओ को एक  अच्छे  स्तर तक उन्होंने किया   होगा   इसी कारण  यह सफलता  उन्हें  मिली ..
 क्योंकि तंत्र  किसी संयोग  को नही मानता    बल्की एक सुचारू  निश्चित व्यवस्था   हैं .
मैं आपके सामने   अगली पोस्ट मे  एक  यक्षिणी साधना  का विधान के कुछ अंश रखने का प्रयत्न करूँगा  जिसको  पढ़ कर  ही आपके सामने कुछ नए  तथ्य  खुल जायेगे  की यह हैं..और हम क्या समझे  रहे .
साधारणत  रूप से  एक यह भी अवस्था बनती हैं  कि इनका समहिती करण  आपके  जीवन साथी मे  हो  जाए  तब  वे और भी आकर्षक  और सर्व दृष्टी से आपके अनुकूल  हो जायेगी,
आज आपको मैं कुछ विशिष्ट  क्रियाओं के नाम  से परिचित कर रहा हूँ ,आप जिनको देख कर यह समझ जायेगे की सच मे  अगर किसी को   अप्सरा  यक्षिणी  सिद्ध करना हैं तो इन क्रियायो को करना ही पड़ेगा   और जिन सौभाग्शालियों ने   सदगुरुदेव  द्वारा आयोजित   इस विषय के शिविर मे प्रयोग  देखें हैं  वह भली भांती  भांति जानते हैं की इन क्रियाओं का महत्त्व  क्या हैं .
और  अगर  आज भी यही लक्ष्य  हैं की   एक दिन मे या एक बार मे  ही पूर्ण सिद्धि मिल जाए  तो इन्  क्रियाओं  को पहले से कर के रख ले .ताकि जब आप   मूल क्रम मे  बैठे  तो ..सफलता मिल ही जाए  ऐसा   हो .तब तो इन सारी बात का अर्थ  हैं .
पर हमें इन क्रियाओं का  पता कैसे चलेगा  आज कौन हैं  जिसके पास  ज्ञान तो  हैं  पर वह   हमारे साथ बाटना  चाहता   हैं .
इस सेमीनार  मे आपके सामने  जो विषय होंगे या इस सेमीनार से  जब आप  वापिस आ रहे  होंगे ... जिनका आपके  पास  ज्ञान  होगा वह होगे .

·        देह उत्थापन  क्रिया
·        देव शक्ति स्थापन
·        नाभि मंत्र संस्कार
·        माला संस्कारदेव समावेश
·        सुमेरु    पूजन
·        आसन संस्कार
·        वीर  स्थापन क्रिया
·        भैरव  स्थापन क्रिया
·        भैरव   उत्थापन   क्रिया
·        मूलाधार इष्ट स्थापन
·        इष्ट व्यापकता
·        अशुद्ध   उच्चारण  संस्कार
·        उत्थापन न्यास
·        यन्त्र  अंकन
·        यन्त्र उत्थापन
·        यन्त्र  दीपन
·        त्रिलोही  मुद्रा
·        काम मुद्रा
·        सिद्ध प्रयोग
·        रतिकाम  सौदर्य   बंधन मंत्र
·        इन्द्र मंडल सिद्धि
·        सम्मुखिकरण 
·        उर्वशी मंत्र
·        दिव्य प्रत्यक्षीकरण
और हो सकता  हैंकि कुछ ओर भी ..........क्योंकि एक  आपका  और हमारा उत्साह देख कर हमारे वरिष्ठ   ना मालूम किन ओर क्रियाओं के लिए ..हमें  पात्र मान कर   और भी  कुछ विशेष  देने का मन  बना ले .......आप समझ सकते हैं की यह सेमीनार  कितना महत्वपूर्ण होगा .जिसका का वर्णन  ही नही किया जा सकता   हैं .होंगे आप  और हम ही .सब कुछ वैसा  ही ..पर ज्ञान  की  जो धारा  हमें  प्राप्त हुयी  हैं  एक भाई  के माध्यम  मे  अपने  अन्य भाई बहिनों के साथ  , वही  आपस मे बाटने  को हम सब इकठ्ठा   होंगे .
और यह भी कम महत्वपूर्ण बात नही  हैं .
कहि न कहीं से शुरू आत  तो होती  हैं  और कभी न कभी  जिंदगी मे कोई परिवर्तन का क्षण   आता हैं और   अगर इस भी  आप वेसे  ही देख सको  तो आप पाओगे की  यह सेमीनार  ..साधनात्मक ज्ञान की दृष्टी से  बहुमूल्य  होगा ...
निश्चय ही   की आप सभी इस बात का अनुभव  भी करेंगे .
पर जिनका काम सिर्फ  आलोचना  करना  हैं  उन्हें तो अभी से  यह कार्य चालू कर देना चहिये    और वेसे  हो भी गया  हैं  ......और जब यह सेमीनार  हो जाए  तो और भी जमकर  वे अपने  कार्य मे लग जाए ..पर जिन्हें सही या गलत  की परख हैं , जो जानते हैं  तो  जीवन की धारा समझते हैं  जो अपने   स्व विवेक से  निर्णय  लेते हैं  जो जीवन को सही या गलत की तराजू से नही बल्कि .यह देखते  हैं की आज इस क्षण का क्या  महत्त्व हैं  ..उनके  लिए  यह  बहुत मूल्य वान क्षण  होंगे .
 क्योंकि सफलता  के लिए  कोई हजार दस  हज़ार सीक्रेट   थोड़ी न होते हैं .
जैसे   मैं आपके सामने  कुछ कुछ  तथ्य तो रखता  जाऊँगा ही ,ताकि आप  इस सेमीनार के महत्त्व को समझ सके .
मित्रो यहाँ कोई आरती न कोई पूजन .न कोई फूल माला  अर्पण .न हीकोई मंत्र जप .....ऐसा कुछ   भी  नही ..न ही  कोई अन्य ताम झाम होने जा रहा हैं .. क्योंकि हम सभी को बहुत फूंक फूंक कर कदम चलना   पड़ता हैं . चारो तरफ कतिपय  लोग  इंतज़ार मे   रहते हैं .
हमारी विवशता देखिये की हम  चाह  कर भी सदगुरुदेव का  चित्र तक नही  लगाते  क्योंकि   लोग बैठे हैं उधार  की देखिये  ये लोग भी सदगुरुदेव के नाम पर .... 
हैं न आश्चर्य  की जिनका  ज्ञान  हैं ....जिनके  द्वारा दिया  गया हैं ..कोई हमने  अपने   घर मे   तो निर्माणित किया नही .की यह  सब हमारा  खुद का  बनाया गया   हो ..अपने  ही आध्यात्मिक पिता के अनन्त ज्ञान के भण्डार  मे से  जो कुछ थोड़े  हीरे मोती मिले  हैं ...उसे भी बिना  उनका नाम लिए ....
क्योंकि कुछ अपने भाई बहिन हैं जिन्हें  यह भी आपत्ति ....
अब कोई यह कह दे की .यह तो सदगुरुदेव का ज्ञान   हैं तो ..भाई .और किसका  ज्ञान हमें  मिला हैं ..उन्ही का  ही हैं  यह सब .....
वह ही .........और एक भाई  के नाते   ही  बाटने  का मंतव्य  रहा   हैं .और  यह ही हमेशा रहेगा .
हमारी कथनी और करनी मे कोई फर्क नही रहा हैं .
क्योंकि न  हम लोग  किसी  पद की दौड़   हैं ..न कभी भी भविष्य  मे होंगे .
यह निश्चित   हैं .हम सदैव शिष्य  शब्द के लायक भी बन जाए  यही हमारा  परम सौभाग्य होगा .
हाँ यहचाह    जरुर हैं की  यह  ज्ञान आपके   पास  तक भी पहुँचाना  चहिये
 पर ..यह यूँ  ही रास्ते मे  तो नही फेका  जा सकता  न .अतः  कुछ  नियम कुछ शर्ते हमने रखी   हैं जिनका पालन हर व्यक्ति जो इस सेमीनार  मे भाग लेने चाहता  हो उसे पहले  पूरी करना पड़ेगी . ..अब जिन्हें  वह आलोचना  के  योग्य  लगती  हो  ..तो जी भर कर करें भी  आखिर   उन्हें भी  तो अपना  कार्य करना हैं ...
खेर
अब बात करूँ .इस पोस्ट मे आई   एक क्रिया  की हम सब ने यह तो पढ़ा होगा .की यक्षिणी साधना  मे  सफलता के लिए ..कुबेर पूजन  अनिवार्य हैं ..क्यों हैं..इस पर मैं अगली पोस्ट पर बात करूँगा .
पर सच सच बताओ की क्या कभी  किसी ने  सुना  है  या पढ़ा  हैं  की अप्सरा साधना मे  सफलताके लिए ..इन्द्र का पूजन किया जाता  हैं .
नही सुना  न .
  तो पूजन किस  विशेष मंत्र और तरीके   से ..
न   न  .....यह तो सेमीनार  मे  ही आप जानोगे ...
इसका मतलब यह हुआ की ऊपर जो विशिट क्रियाए का नाम मैंने  दिए हैं उनका अर्थ तो  हैं ..
हैं न
तो .जो आने वाले हैं उनका स्वागत हैं ही .औरजो  मानस बना रहे हैं .उनके लिए  इतना ही ..की .
अव सोवन की बेर कहाँ ..
****ANU NIKHIL****
****NPRU ****

1 comment:

tirupatikumargupta said...

mene aapke diye hue mail address par semnar me bhag lene ki anumati ki request bheji hai par koi responce nahi aaya hai
Tirupati Kumar Gupta
Additional Chief Judicial Magistrate
House No. J/II/10, New Nyaya Shikaha Appartments, Gandhi Nagar,
Behind Neharu Park,
JAIPUR (RAJASTHAN)
tirupati_gupta67@yahoo.com
cell 09982329326
09414386248