There was an error in this gadget

Monday, July 23, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 1 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -1)



 
My friends,
Sometime earlier I was talking with Bhai, generally except the work, we get very few moments where we can talk on some other aspect. I was saying to him
Bhai we all do lot of sadhnas but the results we desire it in totality, we remain miles away from them………very far away from them .Just some experiences or some change in our life and we feel happy but……….the results which were talked about in sadhna, we never get them….why this?
Bhaiya, you have to understand that every sadhna has some basic points without which it is not possible to attain success, you can do under guidance of anyone. But do not include the order of Sadgurudev in it……because those are the orders of Sadgurudev…….his orders are directive to entire world and this means that one attains the siddhi at that moment only whom he has given order…
But Bhai we all do in the same manner as prescribed to us ,as much as we can and nobody tells us what are other facts…then from where we can know…….people only say chant, chant and chant….but somebody should come up and tell us the process whereby we can attain complete success.
Bhaiya you please understand that the one who is thirsty will not sit idle. He will try every possible thing he can.Will you sit idle?
But Bhai you all have learnt directly from Sadgurudev it.You put yourself in place of us and then tell…..now that time is not possible.
No it is not like that……Is this impossible for Sadgurudev to make any knowledge reach you.
Ok. Let us leave this matter…..please tell us how we can attain success
Bhaiya basic activities have to be definitely understood.
Bhai, its seems that we will remain doing these basic procedures…….whereas nowhere it is written that first you do these procedures then do the basic sadhna. But whenever we talk to you people (elder Guru Brothers), you tell us so many facts that out enthusiasm vanishes.
Anu Bhaiya, Please understand that complete success in any one sadhna carries a deep meaning. You should not consider everything to be being said for Mahavidya sadhna, rather Apsara Yakshini Sadhna is of that level also……and getting success in it …that too complete…..this means that now the person has known all the hidden secrets required for success, then what is left to learn…..therefore ne has to put in hard work. Isn’t?
(I said nothing because……we all want success first and hard work later and only in English dictionary, success come earlier than work, nowhere else……alas it would have happened in field of sadhna then…..smile)
And we are fortunate that one of the student of bhai Rozy Nikhil ji have started putting forward these basic procedures on one hand like aasan siddhi, procedure to stabilize consciousness of mind, introduction of one with his own self which are the basis of every sadhna …..Which if done prior to sadhna then there will be no delays in attaining success…..on other hand high-order procedures like Maha Ghor Rava also. And you enthusiasm doing them infuse more hope in us also.
The same thing Rozy Nikhil says that May I get 1 like instead of 40 like but it should be from the person…..who is making up mind to do them…..that too it can come later but from the one who has actually done it…..If he would have done it, my hard-work would be fruitful otherwise merely liking it does not provide anyone concrete success…)
It was some other time when I was discussing with Bhai. I said to him that when we know the complete Vidhaan then why we do not get success whereas we have done as was possible. Now we are not Mahayogis….and if we would have been then we would have been able to do them.
Bhai laughed and said that let us take the example of Bhagwati Baglamukhi Sadhna…..Sadgurudev has said and it has also come in magazine that………Up till the time we do not know Mool Uts Jaagran, Naabhi chakra Sfotikaran, Atharwa Sootra Jaagran, Baglamukhi Saparya,Baglamukhi sadhak Shareersth Sthapan, Bhagwati Baglamukhi Nischit Siddhi,Bhagwati Balgamukhi Poorn Siddhi Safalta Prayog, direct relation of Baglamukhi Yantra with sadhak, contact of yantra with praan of sadhak, necessary procedures i.e. mudras,Aavahanikaran, how to do jap Samarpan each day, but before this vasarjan of that Dev category, worship of the god –goddess of her basic power, how to do atonement for mantra jap or any other error committed  that day, to finish the fault due to physical or mental shortcomings and knowing how to establish Bhairav of Bhagwati Baglamukhi, from the assistance of Shiv and Shakti only……siddhi will be created, Just by chanting mantra…..How can siddhi be attained??
Bhai after listening to all these it seem that we will not be able to reach even the basic mantra and you please tell the truth that whether you all have done them??? Or are these meant for us only…..you tell us……one of our brother whose Baglamukhi sadhna experience, I read in Mantra Tantra Yantra Magazine didi not do these….he has given his total experience.
Bhai laughed and said that bhaiya….I have not told a lie. You have not participated in the 7-10 day amazing shivirs focused on only one sadhna….otherwise you would have known that Sadgurudev himself used to make us do these procedures and very easily, Sadgurudev was able to make us do. The reason was that every evening when he made us complete the Jap of that day then the one who was not able to do it, for them he did this jap and these procedure himself by his power. And what is impossible for Sadgurudev. And Anu Bhaiya, what will happen in the shivir of that time, details of it along with the sadhna articles hour wise was given in advance in magazine. Sadgurudev was very careful about the time……what he has to do, he ensured it in advance. Other procedure can also happen but whatever he has written will be done first….You yourself would have read these…then why you say like this.
Yes Bhai I have read it …but I used to think that probably these will be some other procedures which were done along with basic sadhna…..i did not know that these were essential procedures….which Sadgurudev were doing. But I was not able to think that the things which are being done so easily, in future one has to pay a huge price for missing those moments.
To be frank, today…..when I think that Sadgurudev is standing in front of us with affection….with that love…..with smile…our Sadgurudev tried so hard to make us understand….took whole burden on himself and made us do….now there is nobody like him….in reality, we could not understand the significance of those valuable moments which were passing by….
Oh that’s why that sadhak only told what he has done…..the procedures done by Sadgurudev himself……which he did for the entire group…..that sadhak did not tell them.
And friends, you accept it or not……path of success is very easy if someone himself come forward and tell us about the subject ……and other necessary things…..not upon our asking. Will it not be blessing of our Sadgurudev…..otherwise who is there….and the one who is successful in sadhna does not need your appreciation and money……not your certificate.
Friends there are very few people who have attained success and are trying to put forward the knowledge in correct manner.
(People forget that if Sadgurudev would not have shown such kindness then whether these people would have been successful…..?? who would have had the competence…to pass the examination of Sadgurudev…but the person who succeeded…they have probably forgotten somewhere the love, affection and amazing kindness of Sadgurudev…)
So in coming parts …..I will try to tell you that……
To be continued….
May be let me tell you something that without the blessing and favor of Maha Rishi Viswamitra, success in Apsara Yakshini Sadhna…..?? Tomorrow we will discuss on it and some other things.
And this only so that you and we can understand the significance of this seminar…do not miss this opportunity .Because may be you can consider my post as advertisement but I am standing with your feeling in your state of mind and wherever I feel correct, I have put my views forward…so that probably my words can provide some help to any one among you….
And if that person by that reason participate in it…..do sadhna later and succeeds than his siddhi…success, his enthusiasm will be the salary for my hard work. Nothing else….
To be continued….
Smile
Nikhil Pranaam
========================================================

मेरे मित्रो ,

कुछ समय पहले मैं भाई के साथ बात कर रहा था , सामान्यतः काम की बात के अतिरिक्त बहुत कम क्षण ही ऐसे मिलते हैं जहाँ हम कुछ अन्य पक्षों पर भी बात कर सके . मैं उनसे कह रहा था

भाई आखिर हम सभी इतनी साधनाए करते हैं पर जिस परिणाम को हम पूरा पाना चाहते हैं उससे तो मीलो दूर .... कोसो दूर रहते हैं वश कुछ अनुभूति या हमारे जीवन मे कुछ परिवर्तन आता हैं और हम खुश पर ......जिस परिणाम की बात उस साधना मे कहीं गयी होती हैं वह तो होती नही ..ऐसा क्यों .

भैया , आप को समझना होगा की हर साधना के कुछ मूल बिंदु होते हैं उसके बिना संभव ही नही सफलता पाना ,चाहे आप जैसे या किसी के निर्देशन मे कर लो ,हाँ सिर्फ सदगुरुदेव आज्ञा की बात को इसमें न शामिल करें ..क्योंकि वह तो सदगुरुदेव आज्ञा हैं ...उनकी आज्ञा सारे विश्व के लिए एक आदेश हैं और मतलब सिद्धि तो उसी पल ही मिल गयी होती हैं .जिन्हें वह आज्ञा दें . .

पर भाई हम लोग जैसा दिया जाता हैं वैसा करते तो हैं जितना बनता हैं वह भी .और हमें तो कोई बताता भी नही की और क्या क्या तथ्य हैं ..तो कहाँ से .हम लोग जाने .... लोग तो वस कहते जाते हैं जपते जाओ जपते जाओ .....पर तो कोई तो खड़े हो कर समझाए नं..बताये ..न किक्या करना चाहिये ..की उससे ही पूर्ण सफलता मिलेगी ..

भैया आप समझो जिसको प्यास लगी होगी वह बैठा तो नही रहेगा वह हर संभव कोशिश करेगा .कीक्या आप बैठे रहोगे ..

पर भाई आप लोग तो सदगुरुदेव जी के समय सीधे उनसे ही सीखे हो .आप अपने को हम लोग की जगह रख कर बोलो की....... अब वैसा तो समय आये संभव सा नही ..

क्योंकि नही...... क्या सदगुरुदेव के लिए कोई भी ज्ञान आपके तक पहुचा पाना कोई असंभव बात हैं .

अच्छा जाने दीजिए इन बात को .....ये बताए की कैसे करें सफलता से सामना .

भैया मूल भूत क्रियाओं को समझना ही पड़ेगा

भाई अब तो लगता हैं की मूल भूत क्रियाए ही करते रह जायंगे .लगता तो यही हैं ..जबकि लिखा तो कहीं नही जाता की पहले ये ये क्रिया करो तब ही यह साधना करना .पर जब भी आप लोगों से बात करो तो आप लोग इतने तथ्य गिना देते हो की मन मे उत्साह सा समाप्त हो जाता हैं .

अनु भैया समझो किसी एक साधना मे पूर्ण सफलता का एक बहुत गहन अर्थ हैंआप हर बात को महाविद्या साधना पर न समझ लेना ,बल्कि अप्सरा यक्षिणी साधना भी उतने ही स्तर की हैं ....और इसमें भी सफलता मिलना ..वहभी पूर्ण ..... इसका मतलब अब उसने वो सारी कुंजी जान ली जो की सफलता के लिए जरुरी थी तब और क्या जानना शेष रह गया ..इसलिए मेहनत तो करना ही पडेगा न .

(मैं कुछ नही बोला .क्योंकि ..हम सब को सफलता पहले चाहिये होती हैं मेहनत बाद मे और सिर्फ अंग्रजी शब्दकोश मे work से पहले success आती हैं अफ़सोस अन्य जगह नही ….काश साधना मे ऐसा होता तो .....smile )

और यह हमारा सौभाग्य हैं की भाई की एक student रोजी निखिल जी ने इस बात को हम सब के सामने लाना प्रारंभ किया किया एक ओर तो मूल भूत क्रियाए जैसे आसन सिद्धि , मनस चेतना स्थरीकरण ,स्वयं का स्वयं के साथ परिचय ......जैसी बहुत ही आवश्यक क्रियाए सरल क्रियाए ..को की हर साधनाओ का एक आवश्यक आधार हैं ..जिनको यदि पहले किया जाए तो सफलता के लिए और विलम्ब .नही होगा तो........ महा घोर रावा जैसी उच्च कोटि की क्रियाए भी .और आप सभी के द्वारा इन को किये जाने का उत्साह हमें भी और आशा दिखाता हैं ..

यह तो रोजी निखिल कहती हैं की भले ही ४० लाईक की जगह सिर्फ एक ही आये पर उसकी .....जो करने का मन बना रहा हो ....वह भी .भले ही बाद मे आये पर उसकी जिसने की हो .......उसने की हो तो भी सारा यह श्रम सार्थक होगा .अन्यथा लाईक करने मात्र से कोई को ठोस उपलब्धि तो किसी को नही मिल सकती ...)

एक अन्य समय की बात हैं मैं भाई से विचार विमर्श कर रहा था .मैंने उनसे कहा की जब हम पूरा विधान जानते हैं तब सफलता क्यों नही जबकि जितना संभव हो उतना तो करते हैं अब कोई महा योगी तो हम हैं नही ..और अगर होते तो फिर सब हम से बनता ही .

भाई हसने लगे बोले चलो भगवती बगलामुखी साधना का उदहारण ले लो ..यह तो सदगुरुदेव जी ने कहा हैं किऔर पत्रिका मे भी आया की .. जब तक मूल उत्स जागरण,,नाभि चक्र स्फोटी करण , अथर्वा सूत्र जागरण ,बगलामुखी सपर्या , बगलामुखी साधक शरीरस्थ स्थापन ,भगवती बगलामुखी निश्चित सिद्धि , और भगवती बल्गामुखी पूर्ण सिद्धि सफलता प्रयोग ,बगलामुखी यन्त्र का साधक से सीधासबंध ,यन्त्र का साधक के प्राण से संपर्क , आवश्यक क्रियाये मतलब मुद्राये , आह्वानी करण , हर दिन का कैसे जप समर्पण किया जाये ,पर उससे पहले उस देव वर्ग का विसर्जन , उनकी आधार शक्ति के देव देवी का पूजन आदी ,उस दिन की मंत्र जप या अन्य गलती का प्रायश्चित्त कैसे हो ,की शारीरिक नुन्य्ताये या मानसिक न्युन्ताये का दोष समाप्ति करण हो ,और भैया ,भगवती बगलामुखी के भैरव् का स्थापन तो जानना ही पड़ेगा सिर्फ शक्ति उपासना से कैसे काम चलेगा भगवान शिव की भी तो आवश्यकता होगी ,शिव और शक्ति दोनों के सहयोग से ही तो ..... तभी तो सिद्धि रूपी सृजन होगा ,एकांगी ..वस् मंत्र जप से ..तो ...सफलता सिद्धि कहाँ ??

भाई ये सुन कर तो लगता हैं की कभी हम मूल मंत्र तक आ पायेगे या नही .और आप मुझे थोडा सा सच सच बताओ की आप लोगों ने यह सब किया हैं क्या??? ..या सिर्फ़ हम सब के लिए ही ये सब..आप बता देते हो .... .एक अपने ही भाई का मैंने मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं पत्रिका मे बगलामुखी साधना का अनुभव पढ़ा था उनलोगों ने तो ये सब कुछनही किया ..उन्होंने तो अपने पुरे अनुभव दिए थे .

भाई हसने लगे बोले की ..अरे भैया ..मैंने कब आपसे झूठ कहा .आपने सदगुरुदेव जी द्वारा आयोजित सात से लेकर दस दिवसीय सिर्फ एक ही साधना पर केंद्रित उन अद्भुत शिविरों मे भाग नही लिया ..अन्यथा आप जानते की ये सारी क्रियाए सदगुरुदेव स्वयं करवाते थे और सदगुरुदेव कितनी आसानी से यह करवा देते थे उसका कारण यह था की हर संध्या को वो जब उस दिन के जप का समापन करवाते तो जो नही कर पाए हैं उनकी ओर से वह अपनी शक्ति से पूरा जप या वह सारी क्रियाए स्वयं ही कर देते थे .और .सदगुरुदेव जी के लिए .भला क्या असंभव रहा . और अनु भैय्या उस समय के शिविर मे क्या क्या होता था उसकी तो पहले से ही हर घंटे की डिटेल की क्या क्या होना हैं या होगा ,साथ ही साथ किस सामग्री पर ..यह पत्रिका मे पहले से आ जाती थी .सदगुरुदेव समय के बहुत ध्यान रखते थे .....उन्हें क्या क्या क्रिया करवाना हैं वह सब पहले से ही वह निश्चित रखते थे..अन्य क्रियाए तो और भी हो सकती हैं पर जो उन्होंने लिखा हैं वह तो सबसे पहले पूरी होगीं ..आप ने तो खुद पढ़ी होगी वह सारी बाते .तो फिर ये क्यों ..कहते हो आप .

हाँ भाई पढ़ी तो थी ..पर सोचता था की ये शायद अन्य क्रियाये होगी मूल साधना के अतिरिक्त करवायो जा रही होंगी ..... मैं कहाँ जानता था की ये सारी ही सारी आवश्यक क्रियाये थी ..जो सदगुरुदेव करवा रहे थे .पर उतना कहाँ समझ पा रहा था की जो कार्य आज इतने आसानी से हो रहा हैं भविष्य मे उसके एक एक ,,पल गवांने की कीमत कितनी न उठानी पड़ेगी .

.सच कहूँ तो आज ..जब मैं सोचता हूँ की सदगुरुदेव जी सामने खड़े होकर उस स्नेह से ....उस प्यार से ..... दुलार से ..मुस्कुराते हुये ..हमारे सदगुरुदेव हम सबको कितना न समझते रहे ...सारा भार अपने पे लेकर यह सब करवाते ........अब कहाँ हैं कोई ओर ...सच मे हम सब ने अनमोल क्षण जो हमारे सामने से जा रहे थे ......नही समझे उन क्षणों की महत्वता ..

.ओह तभी उन साधक ने .सिर्फ उन्होंने क्या क्या किया यह बताया ..वे सदगुरुदेव ने अपनी ओर से अन्य अन्य कौन सी क्रियाए करवाई ... सभी को सामूहिक कर दी ..वह तो नही बताई न ...

और मित्रो ...आप माने न माने ..सफलता का रास्ता बहुत आसान हैं अगर कोई हमारी उस विषय की उलझने ..और अन्य आवश्यक बाते ..हमारे पूंछने पर नही ........बल्कि स्वयं ही आगे आकर बता ये तब भला क्या ये भी सदगुरुदेव की अनत क्रिया का एक कृपा कटाक्ष क्रिया नही होगी ..नही तो आज कौन हैं ...और जो सफल हैं साधनात्मक रूप से उसे न तो हमारे जय कार की जरुरत हैं न ही हमारे आपके पैसे की ....न हमारे इसी प्रमाण पत्र की ...

मित्रो बहुत कम हैं जो आज सफल हो कर ....... इस ज्ञान को सही रूप मे सामने लाने का प्रयत्न कर रहे हैं .

(लोग भूल गए की अगर सदगुरुदेव जी ने भी इतनी उदारता न दिखाई होती तो क्या वे भी आज सफल हो पाते ...??..किसकी सामर्थ्य होती की .....सदगुरुदेव की परीक्षा पर खरा उतर पाता ..पर लोग जो सफल हो गए ...उन्होंने सदगुरुदेव की उस करूणा और स्नेह और उस अद्भुत उदारता ...को भी शायद कहीं भुला .........)

तो आगे आने वाले सिर्फ कुछ ओर भाग मे ..मैं आपके सामने यह कहना और बताना चाहूँगा .की .....

क्रमशः .

चलिए थोडा सा बता दूं..की क्या महा ऋषि विस्वामित्र का आशीर्वाद या उनकी अनुकूलता पाये बिना अप्सरा यक्षिणी साधना मे सफलता ....??? कल इसी बात पर और भी अन्य पर चर्चा करेंगे .

और यह सिर्फ इसलिए की आप और हम इस सेमीनार के महत्त्व को समझ सके ...इस अवसर को न गवाए .क्योंकि .भले ही आप मेरी पोस्ट को एक प्रचार सा मान ले .पर मैं तो आपके साथ .आपकी भावनाओ के साथ आपकी मनस्थिति के साथ खड़ा हूँ .और जहाँ उचित समझता हूँ वहां अपनी बात रखते आया हूँ ... जाता हूँ ..की शायद आप मे से कोई एक के लिए मेरे शब्द कुछ सहायता कर दें .. .


और वह इनके कारण यदि इस मे भाग ले कर ..बाद मे स्वयं साधना कर सफल होता हैं तो उसकी सिद्धि ..सफलता उसका उत्साह ही मेरे इस श्रम का पारिश्रमिक हैं और क्या ...

क्रमशः .


Smile

निखिल प्रणाम

****ANU NIKHIL****

****NPRU ****

No comments: