There was an error in this gadget

Wednesday, July 18, 2012

UTILITY OF YAKSHINI SADHNA…… (यक्षिणी साधना की उपयोगिता ...)




In previous post, we discussed about the various facts related to apsara sadhnas. All these we know, purpose of writing them at one place was that once again we develop a positive attitude towards them…..
In the same sequence Yakshini, Kinnari and Vashyankari category of sadhnas emerged. Probably the question arises that when Sadgurudev has put forward all the things then what is the need of this seminar now…???
We have already discussed the answer to one part of this question that  without knowing the hidden facts……understanding the necessary activities…..attaining success in these sadhna is distant dream…..for an ordinary sadhak, it is not possible……This is similar to fighting battle without weapons and winning it …..It may be possible in stories but in Sadhna world….
But besides it, there is one more aspect also. Some categories of sadhna….Sadgurudev has only mentioned it like Asht Yakshini Sadhna ………in which one sadhak went to Ujjain and Kamakhya…how he did it…..but only the mere mention of that sadhna…Brothers and sisters who  asked for these sadhna packets, only some of them were sent that sadhna and its Vidhi. But where is the Vidhaan of that rare sadhna now…..
In the similar manner, Vidhaan to accomplish many apsara at one time, the person among you all who would have read the literature of Sadgurudev would know the amazing Vidhaan by Brahm Rishi Vishwamitra by which not one rather many Apsara can be accomplished in one sadhna. Where it is available now…??? Because in that special sadhna, it is necessary to wear the dhoti washed in the juice of Youvan Bhranga and aasan filled with Shrgaatika herb and other herbs….where it is available now….??
In the similar manner Tilottama Apsara sadhna in which one rare herb Chandraprabha….the one who possess it…..Sadgurudev says that not only apsara but all the females of Dev category are eager to go to sadhak. But now…..??
This means that these sadhnas would definitely have some special meaning. Because sadhna of these category can give us the completeness from materialistic point of view. From every angle….which is not possible from any other sadhna. And the spiritual heights it can give us, probably we have not tried to understand…..
Today entire world is crazy about how to stop the influence of increasing age on body and face .But Tantra acharyas while devising these sadhnas keep this thing in mind among other things so that it is possible.
Many of you would have definitely read about the that apsara sadhna in which on the first day one has to eat one morsel of almond halwa, on second two two, on third day three and it also contains description of various sadhaks…..who did this sadhna and upon getting success they saw influence in their lives, on their age….on their face.
Friends, there are some differences between Yakshini and Apsara sadhna like Sadgurudev says that one may have to do Apsara sadhna multiple times …..Because they are very proud of themselves and their beauty. On the other hand, Yakshini sadhna is or can be accomplished easily because they themselves are eager to help human.

But why we should their sadhna at all??

I have got interest in high-order Tantra sadhnas ……..I have no interest in Soundarya sadhnas. So why should I know about them???
Admitted your opinion…that you have interest in high-order Tantra sadhnas….and have no interest in Soundarya sadhnas especially Apsara and Yakshini sadhnas……But do you know the fact that…one of many aspects of Yakshini sadhna is that mainly there are 64 yakshinis and Divine Vidyaas are also 64 in number. It means that every yakshini has relation with oneDivine Vidyaa. In other words, if any sadhak wants to learn one or other Divine Vidyaa, then they can prove to be beneficial to him.Beacuse they are the owner of any one Vidyaa  then all the hidden facts of that Divine Vidyaas…….and the extent of that Divine Vidyaas…where are its competent sadhaks and how they can be contacted, all this can be known only by this sadhna.
In today’s era too, the various high-order accomplished Tantriks which I have mentioned in series related to Arif bhai and some of the articles of blog, they have mentioned in their writings that how yakshini helped them to learn the tantra belonging to their path. This means that speed of sadhak to learn tantra can increase multiple times and his progress also.
But friends even the sadhna is very easy. But if its secrets are not known then it is most difficult….
(However it is also correct that after knowing secrets few may say that are these…..because as the secret is revealed and our interest also…..Whereas if they do not know it then….But who are the real traveler of this path they know that ….
Sheesh Uttare Bhu Dhare ….Guru Mile to  Bhi Sasta Jaan
(Even after beheading ourselves, we get Guru it is still worthy)
What is the meaning of word Guru……knowledge only……what is the difference between knowledge and Sadgurudev…
There are various sadhnas that as we read them, we become anxious to do that sadhna immediately…But when we sit for sadhna then very strong Kaam feeling develops in mind. We do not understand the reason behind it and what is its solution..???
And such obstacle come during sadhna duration that even after their manifestation, sadhak develops such a strong Kaam feeling that they are not able to complete their last rosary.
So there are various sadhnas told by Sadgurudev by which sadhak is saved from these problems at the time of success. But there are so many Vidhaans. So we have to know which Vidhaan is more correct. Otherwise, success will come and go and we will stay where we were.
Some sadhak’s energy of Praan is very intense and due to their mantra chanting and sadhna place or someday, they get preliminary success but not the complete success then (may be you do these sadhnas multiple times….but what is that solution so that no obstacle comes in between us and success. We should also know it.
Then after getting success , only some special sentence are spoken for getting desired boon ……Then what are these remedies…..
Do these Yakshini sadhna have some role to play in high order tantra like Parad Vigyan ??


Why not if we consider the fact…..which Sadgurudev has taught us that Parad is last tantra, then why in this last tantra yakshini or this sadhna will not have a role to play?? Just think once…..you are thinking correctly. Greatest Ras Siddh Acharya Naagarjun did Vat Yakshini sadhna for 12 years then only he could become successful. Why it took so much time….for him…..what was his sadhna process…it’s a different thing….

But the point is why he did it……and till today we take his name with respect because through this Vat Yakshini sadhna, he attained amazing success in parad Tantra world. So behind it, Yakshini sadhna only played the part and who knows how many sadhna of this category he would have done (And the formulas of amazing Ras Vigyan and Parad Tantra Vigyan which were told by Vat Yakshini to him….which were not mentioned anywhere…..is witness to the fact that these sadhnas cannot be neglected.). So who have interest in parad Tantra and they stay away from Vat Yakshini sadhna then they themselves can know… that……without success in these sadhnas how complete success in Parad Tantra is possible????...
So friends, in some coming articles……importance of these sadhnas and why it is important to learn few Vidhaans will come in front of you……Definitely they are for the fact that we understand the importance of these sadhnas and the one day seminar which is going to take place, participate in it and understand the secrets of these sadhnas as much as possible and pacify our curiosities….and how to attain success in these sadhnas. Friends, this opportunity is coming in front of you , one should not miss him.Beacuse seminar again on these sadhnas ……..such opportunity…..it is not possible today and there is no planning that seminar on these sadhnas will be possible in future.
It is my responsibility that as your friend/brother I put my things in front of you…..so that probably some questions like that whether we have to participate in this seminar or not……what will happen in mutual conversation of one day…..these things I have to keep in front of you so that you can take decision easily.
We all should understand the depth of this thing that it is not any seminar which happens every day….We should make use of this opportunity….

======================================
विगत  पोस्ट मे हमने अप्सरा  साधनाओ के बारे  मे कुछ  बातों /तथ्यों  पर विचार विमर्श किया . जो हम मे से सभी जानते ही हैं ,उनको  एक जगह  लिखने का यही अर्थ था की एक बार  फिर से उन साधनाओ के बारे  मे  हम अपना  मानस  धनात्मक  बनाए ..

 इसी क्रम  मे .यक्षिणी , किन्नरी  और वश्यंकरी वर्ग  की साधनाए सामने आई . शायद  एक प्रश्न उठता  हैंकि जब सदगुरुदेव जी ने सारी बाते सामने  रखी तो  फिर अब  यह सेमीनार का  अर्थ क्या ..???

 इस प्रश्न  के एक भाग के उत्तर पर हम सभी विचार कर ही चुके हैं की ...बिना  गोपनीय तथ्य  जाने ..आवश्यक  क्रियाए  समझे ...इन साधनाओ मे सफलता  पाना??? ..एक मृग मरीचिका   ही हैं ....एक सामान्य साधक के लिए  संभव  सा  नही  हैं ....यह ठीक ऐसे  की   बिना   अस्त्र के युद्ध  लड़ना ..और  जीत जाना ..कहानियो मे  तो शायद संभव  हो पर साधना जगत मे .....

 पर इसके साथ एक दूसरा पहलु भी हैं .कुछ वर्ग  की साधनाए..सदगुरुदेव   जी ने केबल  उल्लेख  ही किया जैसे  अष्ट यक्षिणी साधना ...जिसमे एक साधक जो उज्जैन और कामाख्या  मे जा कर .....उन्होंने   कैसे की ..पर उन साधना का केबल उल्लेख ..जिन भी भाई बहिनों  ने वह साधना पेकेट्स मगवाया उनमे से कुछ को  ही वह साधना  और उसकी विधि  भेजी गयी .पर उस दुर्लभ साधना का विधान अब ...

 ठीक इसी तरह  एक साथ अनेको  अप्सरा एक साथ  सिद्ध करने का विधान   आप मे से जिन्होंने सदगुरुदेव रचित साहित्य पढ़ा  होगा   तो जानते  होगे की ब्रम्ह ऋषि  विस्वामित्र द्वारा  रचित  वह अद्भुत विधान जिसके माध्यम से  एक नही बल्कि  अनेको अप्सराये एक साथ एक ही साधना मे  सिद्ध  की जा सकती हैं   अब कहाँ  उपलब्ध  हैं ..???क्योंकि उस  विशेष साधना मे  यौवन भ्रंगा के रस मे धूली  हुयी धोती जिसे साधना काल मे पहना जाना अनिवार्य हैं    और   श्रगाटीका नाम की जड़ी बूटी  से भरा  हुआ  आसन और अन्य  कुछ ओर  जड़ी बुटिया ....अब कहाँ  उपलब्ध ..??



 ठीक इसी तरह तिलोत्त्मा अप्सरा  साधना   जिसमे  एक दुर्लभ जड़ी .चंद्रप्रभा ....जिसकेपास होती हैं ....उनके  बारे मे सदगुरुदेव लिखते हैं की अप्सरा  ही नही बल्कि समस्त देव वर्ग की स्त्रिया  ऐसे  साधक के पास  आने के  लिए उतावली   हो जाती   हैं .अब कहाँ ... ??

इसका मतलब सच मुच इन साधनाओ  का कोई विशेष अर्थ  होगा  ही .क्योंकि साधना वर्ग की ये साधनाए आपको भौतिक  दृष्टी से तो पूर्णता देने मे समर्थ हैं .हर दृष्टी से भी ..... जो किसी अन्य  साधना  के माध्यम से  भी संभव नही .और  आध्यात्मिक  क्या उचाई दे सकती हैं  .शायद हमने कभी जानने की कोशिश  ही नही की ....

 आज पूरा विश्व  इस बात  के लिए पागल सा हैं की की तरह बढती आयु का प्रभाव शरीर या चेहरे पर  रोका जा सके .पर  तंत्र आचार्यों   ने इन साधनाओ का निर्माण करते समय जो भी भाव  उनके मानस मे  थे उनमे से एक सिर्फ इसी लिए किया .की यह भी संभव  हो सके .
आप मेसे  निश्चय ही अनेको  ने   उस अप्सरा साधना  के बारे मे पढ़ा ही  होगा  जिसमे पहले दिन  एक कौर बादाम का हलवा , दूसरे दिन दो  तीसरे दिन तीन इस तरह खाने का विधान  हैं और उन अनेको साधको के विवरण  भी ..... जिन्होंने यह साधना  की और सफलता  पाते   ही रातो रात   अपने  जीवन और आयु मे..चेहरे मे ... यह असर   देखा .

 मित्रो ,यक्षिणी साधना  और अप्सरा  साधना मे  कुछ बातों मे फर्क हैं .जैसा की सदगुरुदेव  जी कहते हैं की  अप्सरा  साधना कई कई बार करना पड़ जाती हैं या सकती   हैं ...क्योंकि उन्हें अपने पर गर्व होता हैं और वह बहुत यौवन गर्विता   होती हैं वहीँ यक्षिणी साधना   तो बहुत आसानी से सिद्ध  हो जाती हैं या हो सकती हैं क्योंकि ये स्वयं मानव मात्र की सहायता करने के लिए व्यग्र होती हैं .

 पर हम इनकी साधना करे  ही क्यों ??

 मुझे  तो उच्च तंत्र साधनाओ मेरूचि   हैं  ... सौदर्य साधनाओ  मे  कोई रूचि नही  हैं,तो क्यों मैं इसके बारे  मे जानू  ???

..आप की बात मान ली ..की आपको और हमको उच्च  तंत्र  साधनाओ मे  रूचि हैं ..और यह सोंदर्य साधनाओ खासकर  यक्षिणी  साधना ..मे कोई रूचि नही .....पर क्या हम यह बात  जानते हैं  की  .......यक्षिणी साधना के अनेको पहलुओ मे से एक यह भी हैं की  मुख्यतः  ६४ यक्षिणी  हैं  और दिव्य विद्याएं और विज्ञान भी  ६४   ही हैं मतलब हर दिव्य विद्या से एक यक्षिणी का संबंध हैं .मतलब इसका यह हुआ की कोई साधक किसी एक या अन्य तंत्रविधान  को सीखना  चाहे  तो यह  उनके लिए ये  अत्यंत मददगार   हो सकती हैं .क्योंकि यह किसी दिव्य विद्या की अधिस्ठार्थी  होती हैं तो उस विद्या या विज्ञानं  की सारे गोपनीयता और क्या क्या गोपनीय सूत्र   हैं उस विज्ञान के ....और कहाँ कहाँ   तक उस विज्ञान के रहस्यों का विस्तार हैं ..कहाँ कहाँ  उसके  निष्णात साधक हैं  , और कैसे उनसे सपर्क किया  जा सकता हैं यह सब तो इन साधनाओ  के माध्यम से ही संभव हैं .

 आज के युग मे भी हाल तक हमारे  सामने  रहे कुछ अति उच्च कोटि के सिद्ध  तांत्रिक जिनका उल्लेख मैंने  आरिफ भाई के साथ वाली श्रंखला मे  और ब्लॉग के कुछ लेखो मे किया .उन सभी  ने  अपनी कृतियों  मे  इस बात का  उल्लेख किया हैं की किस तरह यक्षिणी ने उनके मार्ग को तंत्र  सीखने मे कितना  योगदान  किया .इसका मतलब एक साधक की यात्रा तंत्र सीखने की कई कई  गुणा  तीव्र  हो सकती हैं और   उसकी उन्नति भी .

 पर मित्रो चाहे साधना कितनी भी न सरल  हो .पर जब तक उसके रहस्य नही मालूम वही  सबसे कठिन ..

(हालाकि की ये बात भी सही हैं की रहस्य जानते ही कतिपय  यह भी कह सकते हैं की ये  हैं ..क्योंकि जैसे  ही रहस्य का अनावृतिकरण  हुआ और हमारा रूचि भी ..जबकि अगर वह नही जानते   तो ......तो जो भी  इस मार्ग के  सच्चे  पथिक हैं वह जानते हैं की ....
शीश उतारे भू धरे  ..गुरू मिले  तो भी सस्ता जान ..

 गुरू शब्द का क्या अर्थ हैं ......ज्ञान  ही न .....सदगुरुदेव और ज्ञान मे  भेद कैसा ..

अनेको साधनाए  हैं ऐसी  हैं की जैसे  ही हमने  उस साधना के बारे मे पढ़ा  तो तत्काल   व्यग्र हो उठे  की करना ही हैं यह साधना  .....पर जब साधना करने  बैठे तो  अत्याधिक  काम भाव  मन मे  प्रबल  हो गया .समझ मे  ही नही आ पाता  की ऐसा  क्यों हो रहा हैं  और इसके निराकरण के लिए  क्या करें ..???

 और एक ओर साधना  काल  मे बाधा   आती  हैं  कि जब किसी साधक  को इनका प्रत्यक्षी करण   हुआ भी   तो वह इतने ज्यदा  काम भाव मे  आ जाते हैं की ..अतिम माला  भी सम्पन्न नही कर पाए .

 तो ऐसे कुछ विधान सदगुरुदेव जी ने बताये हैंकि जिसके माध्यम से  साधक इन सफलता के दौरान  .इस तरह  की समस्या से  बचा  रहता  हैं पर ऐसे अनेको विधान हैं   तो कौन सा विधान  जयादा  उचित  हैं .यह भी  तो जानना  हैं .अन्यथा सफलता आ के भी .टा ..टा ..करके चली गयी .और हम वहीँ के वहीँ रह गए ..

 किन्ही किन्ही साधक की प्राण ऊर्जा बहुत तीव्र होती हैं .और उनके द्वरा  किये गए मंत्र जप  और साधना स्थान  और कतिपय दिवस के करण उन्हें प्रारंभिक सफलता   तो मिल जाती हैं  पर पूर्ण सफलता  नही  मिलती हैं  तो (भले  ही आप  कई कई बार इन साधनाओ को करते  चलो .....तो  क्या हैं वह उपाय .की हमारी सफलता  मे  कोई वाधा  ही नही रहे .यह भी तो हमें  ज्ञात  होना  चहिये .

 तो किसी  किसी साधना मे सफलता के  उपरान्त  कुछ विशेष वाक्य ही बोलना पड़ते हैं  उसने  मनो  वांछित  वरदान पाने मे ...तो क्या हैं ऐसे  उपाय ...



क्या पारद  विज्ञानं जैसे  अति उच्च  तंत्र मे भी  इन यक्षिणी साधना  का कोई योगदान हैं ??



क्यों नही अगर हम सभी इस बात का ... जो की सदगुरुदेव ने हमें  सिखाई हैं की पारद  तो अंतिम तंत्र   हैं , तो भला  इस अंतिम तंत्र मे यक्षिणी  का योग दान या इन साधना  का योग दान  नही होगा ?? एक बार सोचे ..आप सही सोच रहे हैं .महान तम रस  सिद्ध  आचार्य नागार्जुन ने  १२ वर्ष तक वट यक्षिणी साधना  समपन्न   की तब कहीं जा कर वह इस  साधना मे सफल  हो  पाए .उन्हें क्यों  .....इतना समय लगा ..... क्या थी उनकी साधना  विधि  यह एक अलग  बात हैं   ....



पर अर्थ तो हैं की उन्होंने क्यों की .......और आज भी उनका नाम हम अत्यंत आदर से लेते हैं क्योंकि उन्होंने  इस वट यक्षिणी साधना के माध्यम से  अद्भुत सफलता  पारद तंत्र जगत मे प्राप्त की .तो इसके पीछे  वट यक्षिणी साधना  का ही  तो  योग दान  रहा .और न मालुम   किन किन साधनाओ  को इस वर्ग की उन्होंने किया   होगा (और जो भी गोपनीय अद्भुत रस विज्ञानं .....पारद तंत्र  विज्ञानं के  सूत्र  उन्हें वट  यक्षिणी ने समझाए ..जो की कहीं भी उल्लेखित  नही थे ..यह इस बात का  प्रत्यक्ष प्रमाण हैंकि इन साधनाओ को नकारा नही जा सकता   हैं .).तो जिन्हें भी पारद तंत्र मे रूचि हैं और वह यक्षिणी  साधना से  दूर  रहे हैं तो वह स्वयम ही जान सकते हैं ..की ....बिना इन साधनाओ  की सफलता के  कैसे संभव हैं और पारद   तंत्र मे  पूर्ण सफलता???? ...

तो मित्रो अगले कुछ  ओर लेखो मे .....इन साधनाओ की उपयोगिता  और क्यों जरुरी हैं कुछ  विधान  सीखना .आपके सामने आयेगे ..निश्चय  ही  इस बात के लिए  यह  हैंकि   हम सभी  इन साधनाओ की  उपयोगिता समझे  और  जो  एक दिवसीय सेमीनार  होने  जा रहा हैं उसमे भाग लेकर  इन साधनाओ के  जितने भी रहस्य  संभव हैं वह जाने समझे  और  अपनी  जिज्ञासाए  भी शांत  करें.और कैसे इन साधनाओ मे सफलता प्राप्त करें .अब यह अवसर हमारे सामने आ  रहा हैं तो मित्रो इसको चूकना नही  हैं..क्योंकि इन साधनाओ  पर आधारित फिर से कोईसेमीनार ... ऐसा अवसर आये ..सभव  कम से कम  आज तो नही हैं   और  न ही कोई योजना की इन साधनाओ  पर आधारित ऐसा  सेमीनार   फिर  संभव हो .

मेरा  यह कर्तव्य हैं की मैं एक आपके भाई/मित्र /सहयोगी  होने जितना समझता हूँ  उसके आधार  पर अपनी बात आपके सामने  रखूं ..जिससे  शायद कुछ प्रश्न  की इस सेमीनार मे भाग लेना हैं या नही ..या क्या हो जायेगा  इस एक   दिन की आपस  मे वार्तालाप   मे .....मुझे आपके सामने  कुछ बातें रखना   हैं .ताकि आप निर्णय आसानी से ले  सके ...



हम सभी इस बात की गंभीरता समझे की यह कोई रोज रोज होने वाली सेमीनार इस्  विषय  पर  नही हैं ..हम सब इस अवसर का लाभ उठाये ..

============================================================



अति  महत्वपूर्ण बात की ...मेरे स्नेहियों .अच्छी तरह से ..इस बात को मन मे बिठा  ले की यह सिर्फ एक सेमीनार  हैं .मतलब एक गोष्ठी .......यहाँ कोई ****साधना  नही होने*** जा रही हैं ,  तो कोई भी साधना सामग्री  यहाँ लाने की आवश्यकता  नही  हैं . और ऐसा कुछ नही  की बस आप जब लौटोगे  तो एक सफल साधक  ....न  न



इस बात  को समझे ...



सफलता  आपके  प्रयास और सदगुरुदेव की आप पर आशीर्वाद  पर निर्भर हैं ..हम सिर्फ   गोपनीय तथ्य /सूत्र /तत्रात्मक मंत्रात्मक विधान /आवश्यक मुद्राये    जो सदगुरुदेव जी से  और उनके  सन्याशी शिष्य शिष्याओ   से  हमे प्राप्त हुये हैं  आपके सामने रखने  जा रहे हैं .

===========================================================

तो जो भी इस एक दिवसीय सेमीनार  मे भाग लेगा  निश्चय   ही वह ..सफलता के  और भी करीब ..होता जायेगा ..क्योंकि साधक  तो हमेशा  सीखने वाले  का नाम हैं और जो भी सीखता जाता  हैं  जो  भी इस क्षेत्र   के ज्ञान को आत्मसात करता जाता  हैं वह सदगुरुदेव को किन्ही अर्थी मे  और भी  अपने  अंदर समाहित करते जाता  हैं क्योंकि  सदगुरुदेव के लिए  ही  तो कहा गया हैं  की .

केबलम् ज्ञान मूर्ति ...तस्मै श्री सद्गुरुदेव  नमः ||

कह कर ही उनका परिचय  दिया  जा गया  हैं .

आप सभी जो इस सेमीनार मे भाग लेने की अनुमति प्राप्त करेंगे .. .....उनका   ह्रदय से  स्वागत हैं.. क्योंकि  इस  एक दिवसीय सेमीनार मे  भाग लेने के लिए पूर्व अनुमति अनिवार्य    हैं

**** NPRU****

4 comments:

Dinesh Paliwal said...

जय सदगुरुदेव

आरिफ भाई जी,

आपने बहुत अच्छी और गुढ़ जानकारी दी हैं |
और गुरु तत्त्व को भी आपने विस्तार दिया हैं जो की बहुत महत्वपूर्ण है | सही हैं असीम को सीमा में बांधना या किसी नियम में बांधना उचित नहीं हैं |सभी लोगो को अपने मष्तिक को खोलना चाहिए | क्योंकि गुरुदेव ने खुद ही कहाँ हैं की हंसा उड़हूँ गगन की ओर |

धन्यवाद

raj said...

Poorvanumati kis address ya phone par leni hai
Tirupati Gupta Jaipur
09982329326

raj said...

Poorvanumati kis address ya phone se le
Tirupati Gupta
Jaipur Rajasthan
09982329326

tirupatikumargupta said...

aapne phone nahi kiya na yaha likha ki poorvanumati kisse kaha leni hai