There was an error in this gadget

Tuesday, July 17, 2012

YAKSHINI,APSARA SADHNA KI KUNJI - YAKSHINI APSARA SAAYUJYA SHASHTH MANDAL





Saundaryavataam saa urdhvorvataam purna tantramev sindhum |

Divyorvataam saa saahcharya praaptum ||

Yakshini apsaraavai sahchari sadaam saa |

Rudrormandal sthiraam ch bhavati vashyavaa ||

It’snext to impossible to describe the wonders of Tantra Field. Therefore by pseudolanguage of suggestive method in the composed “Saundarya Kalpalataa Sindhum” it has been said that in the ocean of Tantra, the saudrya and upwardrace is not easily achievable, rather for achieving one has to do churning process in oceanictantra field, which at least in today’s date is not at all easy. Because, purity of character and toughpersonality are the essential key factors of measuring depth in Tantra field and a prime quality as well.And the one who has these qualities can speedily go high and achieve the beauty of it.And a sadhakwho got control on Beauty and sharpness, can achieve divinity very easily. And for this Yakshini and Apsarasadhnaas are chief, continuously introducing the new facts and secret mysteries of Tantra field, guiding and supporting like best friend and giving right suggestions are main aspects.There are no lackings in methods of Shastraas, Mantra Maharnav, mantra, saundaryaanavpaddhati,tantraratnakar, bhutdamartantraetc are filled with such sadhnaas only. Still after taking help but why is it like that we didn’t get support of these Saundaryaas..?

Is the method is wrong?

Is there any fault in Mantra?

Is the method incomplete?

Nope… it is not like that. Rather we may have forgotten that every sadhna contains some secretive facts, after following and using it, if we do authentic provision then for sure the percentage of success becomes multiple. As per our Personnel speed we may get late in achievement of success, but after making right hardship didn’t get success is just impossible.

For Sadhnaa different type of material is required, Time, space, in creation of positive environment which always provokes your conscious towards sadhna. You can’t deny the necessity of these sadhna material. Every sadhna contains a specific liquid and yantra whose absence gives bad results. For achievement in Sadhna Field mantra, yanta and tantra all three are required. Then only success is possible. And this is not just happens with MahavidyaSadhnas but also applied on each sadhna procedure.

Conversation forum which is organise on YakshiniApsarasadhna at Jabalpur on 12th August, in which we are going to discuss about the base facts of these sadhnas and the material as well and which will be provided only to the participants our guru brothers and sister of this seminar.And which i.e. YakshiniApsarasaayujyashashthmandal.And the speciality of this Mandal is I am explain below.. Studiously we have decided that only for those participating brothers and sisters we will provide this only o them. By which they can treasure the rare and important material for their whole life and take maximum benefit. The whole procedure of Yantra is going to be explained in seminar only.
Whosoever brothers and sisters had participated in Sadgurudev’sshivir, they very well know the significance of Yantras and sadhna material. If you have to MahavidyaSadhna then also you need to form three Mandal, then only their physical establishment, self-establishment, collaboration, attraction, success and their complete association can be achieved. If any MaaValgamukhiSadhnak had not done the base primordium process, the whole activation of Atharva sutra process and the purifaication process, then he cannot get the complete association of Mahavidhya. May he gets compatibility in his work is different thing. Because it is for sure that you definitely get Sadhna effects. As this is mere impossible that we do actions and less result is achieved.

And for this if we understands the above shloka then it is clearly mentioned that –

Yakshini Apsara vai sachari sadaam saa

Rudrormandal sthiraam ch bhavati vashyavaa

We can get forever association of Yakshini and Apsaras but for this some freezing and establishment has to be done in Rudra Mandal.

literally we need to understand as to what is the meaning of Mandal???

For getting success in Apsara and YakshiniSadhnas the formation of three Mandals and the coincidence of Purna Yakshini Apsara Saayujya Shashth Mandal is essential. The formation process is that tough that a normal sadhak cannot do it. The whole mandals are divided into 3 parts.

     1.    RudraMandal

2.    ApsaraYakshiniMandal

3.    Yakshini Siddhi Mandal

And each three Mandals have 2-2 sub mandals on combining which a whole mandal is formed. And this is how 3 complete mandal forms a complete mandal. And which joining of 6 yantras forms a complete Siddhimandal, then only complete success becomes possible for Sadhak. If we try to understands this sequence –

In theRudra Mandal first Mandal or the Yantra is Siddhi Shiv KuberMandal , in which the Lord Mahakaal who is the owner of Sharpness and Beauty and on kindness of his sadhak gets whole KaamBhav and gets a boon to establish complete control over it. In the success of these saundaryaSadhnas, his establishment is done in complete Tantrokt Form, which consists some special kriyaas, on using this, the component establishment, worship, geometrical notation, cosmic consciousness etcis achieved. And the PaurushBhav or the AdhipatyaBhaav which is must in Sadhna is given by him. Due to which at the time of Sadhna complete control is there and doesn’t get affected by sexual excitement. Nor he needs to face problems like night fall and neither erotic thought breaches his sadhna. Along with that Lord Mahakaal and his disciple Yakshraj kuberand notation of his Shakti is added in same yantra, because we all are aware about this fact that Kuber is lord of Yakshinis and without his kindness the association of Yakshini is far away, no glimpse of experience is achieved.

The second Yantra of this RudraMandal is Kamakshi Bramhaand Aakarshan Yantra in which the Bhagvati kaam Kala Kaali’s kalaas are established via which the connection between the sadhak and Apsara and Yakashini is formed. And they easily contact the sadhak, and along with their Art forms and knowledge they give their association to sadhak and sets free from obstacles. The both yantraas of Rudra Mandalgives success in Yakshini and Apsara .Now in any classified forms of this sadhna, you the need this mandals at any cost..

Now turns come of second mandal which is Apsara Siddhi Mandal. In this mandal two other mandals are there.

1.ApsaraMandal– which makes sadhak capable of doing this sadhna and keeps away his negativity from him in sadhna duration, doing the purification of sadhak and preparing him to become capable enough for imbibing the beauty, is the main work area of this Mandal. The whole Apasaras are presented in their geometrical form. Due to which it becomes easy to do notation process of them later which becomes their universal residence. In 1993 Sadgurudevtold, that this Yantra is must in Apsara and TantraSadhnas and maximum sadhak had achieved complete success in it.

The sub mandal of the same one or yantra is Saundarya Bhaagya Lekhen mandal, by its support whichever powers sadhak achieved in saundaryasadhna becomes capable to treasure is properly, and this beauty is not just external but also see the effects in every aspect of life. When sadhak do complete self-activation then, all these Saundarya Balas are bound to come close to him. 

Now the Third Mandal is Yakshini  Siddhi  Mandal. In this 2 other sub mandals are there. 1. Shodashi Mandal its main work is to provide the invisible association of those 16 main Yakshinis who consists 4-4 yakshinis under them. This is how each yakshini hold 4 Vidyaas, of which achievement is bowed in form of success. By the way in shastras, every Yakshini is said to be a holder of one Art form and one Vidya, but being the owner of 4-4 yakshinis indirectly they become the holder of 4 Vidyaas. Now this how 16*4 = 64, they becomes the holder of 64 Tantras and Vidyaas. The formation which tatva of sadhak is needed or which class is fructifying him, such indication is given to sadhak in his sadhna duration via dreams. Then after what type of miniature efforts is needed by sadhak is also indicated by them. The same mandal’s sub mandal is Purna sammohan Vashikaran Mandal – in sadhna duration the only attraction is not important but also they get under control of sadhak and provide complete reconcilability, is also a must knowing fact.Whole personality of sadhak becomes magnetic and with the help of such powers he should get continously upgrade towards Devvarg. Not only just other persons contact him personally but also the other Vargclass also get eager to do that so. And providing such capabilities is the main area of this mandal

In this way the combination of these three mandals forms a Yakshini Apsara Sayujjya Shashth Mandal . In this one yantra this 6 yantraas are inclusive which are noted in the same sequential manner as explained above. Every sub mandalPraanpratishtha, Abhishek (pious ritual), Chaitanyikaran (activation) and diptikaranpracess is done by different types of material, herbs and mantras. Some of them pranpratishtha is done via Vajramarg, some by Shakti marg, some in mid night or some in early morning in brahma muhurt. And when all process is done on 6 yantras then they are summon up and collaborated then only they are fruitful. Well, it is not easy to activate any yantra. Tons of soul force is required..  Because sadhak should know that the whole notation process is done in order of nature, say which type of methods and all is required… etc..

After getting this yantra, more you need is some essential materials like AbheeshtYakshiniApsara basic Yantra, rosary and process. Rest secret methods are done after attempting the combination in the yantra. Thereafter which Mudras are need to be done... which facts should be adhere, what type of routine is required are must to know. |

 On this one Yantra the desired cost is too much, whosoever wants to make it on his own or wants to understand the process of formation need to spend 14 days and 7-7 hours, they themselves will come to know the authenticity of this Yantra. You can understand the method of Praanpratishtha, Mantras and Mudraas and what material should be collected, which is not related to us because you only are involved in creation process. |

Well we are fortunate that we got financial support from many our brothers and sisters, and due to that support only this plan is executed. Their selflessness always inspired us to step forward. Therefore in togetherly in making of these yantras it made large difference and became cost effective. Due their support I dared to putforth this infront of you. Fortunately when we will meet in Jabalpur I would explain the whole process and all as how to use it.Sadgurudev told the usage of above Yantras are at different time spans. And this is got by that grand tradition. These individual yantras are used in various types of sadhnas and every experiment was successful.  He clearly mentioned that amongst Siddhas these yantras are famous with their different names.

I have expressed my heart feeling…. Whether they have reached to you or not…. Is depending up on your thoughts and time span…..
===========================================================
 सौंदर्यवतां सा उर्ध्वोर्वतां पूर्ण तंत्रमेव सिन्धुं |

दिव्योर्वतां सा साहचर्य प्राप्तुम ||

यक्षिणी अप्सरा वै सहचरी सदां सा |

रुद्रोर्मंडल स्थिरां च भवति वश्य वा ||

   तंत्र जगत की अद्भुतता का वर्णन कर पाना असंभव ही है....तभी तो व्यंजना पद्धति के कूट भाष में रचित “सौंदर्य कल्पलता सिंधु” में ये कहा गया है की तंत्र के सागर में सौंदर्य और उर्ध्वरेतस गति की प्राप्ति सहज संभव नहीं हो पाती है,अपितु उसके लिए तंत्र रुपी सागर का मंथन करना अनिवार्य होता है,जो की इतना सहज कम से कम आज तो नहीं है,क्यूंकि चरित्र की शुद्धता और व्यक्तित्व की सुदृढता तंत्र सागर की गहराई को मापने का अनिवार्य गुण होना चाहिए साधक में | और जिस साधक में ये गुण होता है वो सहज ही तीव्रता और सौंदर्य दोनों को ही हस्तगत कर लेता है | और जिसने सौंदर्य और तीव्रता को अपने वश में कर लिया,उसे दिव्यत्व तो सहज ही प्राप्त हो जाता है  | और इस हेतु यक्षिणी और अप्सरा की साधना ही सर्वोपरि होती हैं, नवीन तथ्यों और गूढ़ रहस्यों से साधक को सतत परिचित करवाना, उसका मार्गदर्शन करना और सच्चे मित्र की भाँति उसे साहचर्य और अपनी सलाह प्रदान करना ही इनका गुण होता है | शास्त्रों में विधियों की कमी नहीं है , मंत्र महार्णव,मंत्र सागरी,मंत्र सिंधु, सौन्दर्याणव पद्धति, तंत्र रत्नाकर,भूत डामर तंत्र आदि ग्रन्थ इन साधनाओं से भरे हुए हैं | किन्तु इनका सहयोग लेने पर भी इन सौंदर्य कृतियों का साहचर्य क्यूँ नहीं प्राप्त हो पाता है ?

क्या विधान गलत है ?


क्या मंत्र में त्रुटि है ?


क्या पद्धति अधूरी है ?

नहीं .... ऐसा कदापि नहीं है | अपितु हम शायद ये भूल गए हैं की किसी भी साधना की कुछ गुप्त कुंजियाँ होती हैं,जिनका अनुसरण और प्रयोग करते हुए यदि प्रामाणिक विधान किया जाए तो सफलता का प्रतिशत कई गुना बढ़ जाता है |  हमारी कार्मिक गति के आधार पर भले ही सफलता मिलने में विलम्ब हो,किन्तु परिश्रम करने पर सफलता ना मिले ऐसा संभव नहीं है |

   साधना के लिए विभिन्न सामग्रियों की अनिवार्यता होती ही है, काल, स्थान,वातावरण को अनुकूल करते हुए जो आपके चित्त को लगातार साधनोंमुख करते रहें | और इन सामग्रियों की अनिवार्यता को आप नकार भी नहीं सकते | प्रत्येक साधना में किसी खास द्रव्य या यन्त्र की अनिवार्यता तो बनी ही रहती है,जिसके अभाव में साधना से परिणाम की प्राप्ति दुष्कर ही होती है | साधना जगत में परिणाम प्राप्ति के लिए मंत्र,यन्त्र और तंत्र इन तीनों का ही सहयोग अनिवार्य होता है,तदुपरांत ही परिणाम संभव हो पाता है | और ऐसा मात्र महाविद्या साधनाओं में ही नहीं होता है अपितु प्रत्येक साधना के लिए ऐसा ही विधान है |


जबलपुर में १२ अगस्त को जो यक्षिणी अप्सरा साधना पर हम गोष्ठी आयोजित कर रहे हैं, उसमे इन साधनाओं की आधारभूत सामग्री के रूप में जिस सामग्री को हम गोष्ठी में भाग लेने वाले भाई-बहनों को प्रदान करने वाले हैं वो है,यक्षिणी अप्सरा सायुज्य षष्ठ मंडल | और इस मंडल की विशेषता क्या है,इसका वर्णन मैं नीचे की पंक्तियों में कर रहा हूँ | हमने पूर्ण मनोयोग से मात्र गोष्ठी में सहभागी होने वाले भाइयों और बहनों को ही इसे देने का निश्चय किया है,ताकि उपरोक्त साधनाओं से सम्बंधित सर्वाधिक महत्वपूर्ण सामग्री सम्पूर्ण जीवन के लिए उनके पास हो और वे उसका प्रयोग कर पूर्ण लाभ उठा सके | यन्त्र के प्रयोग का पूर्ण विधान गोष्ठी में ही बताया जायेगा |

  जिन भी भाइयों और बहनों ने सदगुरुदेव के सानिध्य में साधना शिविरों में भाग लिया है वे ये तथ्य भली भांति जानते हैं की यंत्रों और सामग्रियों की अनिवार्यता का क्या महत्त्व होता है | यदि आपको महाविद्या साधना करनी हो तब भी उस हेतु आपको तीन मंडलों का निर्माण करना ही होता है, तभी उनका शरीर स्थापन,आत्म स्थापन,सायुज्यीकरण, आकर्षण,सफलता प्राप्ति और पूर्ण साहचर्य प्राप्त किया जा सकता है | यदि माँ वल्गामुखी का कोई साधक हो और उसने मूल उत्स जागरण और अपने अथर्वासूत्र का पूर्ण जागरण और  निर्मलीकरण ना किया हो तो उसे इस महाविद्या का पूर्ण साहचर्य नहीं मिल पाता है हाँ उसके कार्यों को अनुकूलता मिल जाये ये एक अलग बात है |  क्यूंकि साधना का प्रभाव तो आपको प्राप्त होता ही है....ऐसा हो ही नहीं सकता है की हम कर्म करें और उसका अल्प परिणाम भी प्राप्त ना हो |

   और इस हेतु यदि हम ऊपर लिखी हुयी श्लोक की पंक्तियों के भावार्थ को समझे तो उसमे स्पष्ट लिखा हुआ है की -

यक्षिणी अप्सरा वै सहचरी सदां सा |

रुद्रोर्मंडल स्थिरां च भवति वश्य वा ||

 यक्षिणी और अप्सरा का साहचर्य तो सदैव प्राप्त हो सकता है किन्तु इस हेतु उसका कीलन और स्थापन रूद्र मंडल में करना होता है |

वस्तुतः ये समझना अति आवश्यक है की ये मंडल क्या है ???

अप्सरा और यक्षिणी साधना में पूर्ण सफलता प्राप्ति हेतु तीन मंडलों का संयोग कर पूर्ण यक्षिणी अप्सरा सायुज्य षष्ठ मंडल का निर्माण आवश्यक कर्म होता है | इस मंडल की निर्माण प्रक्रिया ही इतनी जटिल है की इसे सामान्य साधक नहीं कर सकता है, सम्पूर्ण मंडलों को ३ भागों में विभक्त किया गया है |

१. रूद्र मंडल

२.अप्सरा सिद्धि मंडल

३.यक्षिणी सिद्धि मंडल

 और इन तीनों मंडल में से प्रत्येक मंडल में २-२ उपमंडल होते हैं जिनके योग से एक पूर्ण मंडल का निर्माण होता  है |और इस प्रकार ३ पूर्ण मंडलों के मिलने से १ परिपूर्ण मंडल का निर्माण होता है | और इस प्रकार इस पूर्ण सिद्धि मंडल में एक साथ ६ यंत्रों का योग होता है,तभी पूर्ण सफलता के दर्शन साधक को संभव हो पाते हैं | यदि हम इसे समझे तो क्रम इस प्रकार होगा -

रूद्र मंडल में प्रथम मंडल या यन्त्र सिद्ध शिव कुबेर मंडल होता है, जिसमे भगवान महाकाल का जो तीव्रता और सौंदर्य के अधिपति हैं और जिनकी कृपा से साधक को पूर्ण काम भाव,और काम भाव पर विजय प्राप्ति का वरदान मिलता है,इन सौंदर्य साधना में सफलता के लिए इनका स्थापन पूर्ण तांत्रोक्त रूप से किया जाता है जिसकी कुछ विशिष्ट क्रियाएँ हैं जिनके प्रयोग से अंग स्थापन,पूजन,ज्यामितीय अंकन,ब्रह्माण्ड चेतना प्राप्ति आदि संभव हो पाती है और साधना में जो पौरुष भाव और अधिपत्य का भाव अनिवार्य है ये उसे ही प्रदान करने वाले हैं जिससे साधना के समय संयम भाव के वो पूर्ण नियंत्रण में होता है,जिससे कामोद्वेग से वो पीड़ित नहीं होगा |ना ही उसे स्वप्नदोष जैसी बाधा का सामना करना पड़ेगा और ना ही कामुकता की तीव्र लहर उसकी साधना को ही भंग कर पायेगी | साथ ही भगवान महाकाल के साथ उनके ही शिष्य यक्षराज कुबेर और उनकी शक्ति का अंकन भी इस एक यन्त्र में ही संयुक्त रूप से होता है,क्यूंकि इस तथ्य से हम सभी अवगत हैं ही की कुबेर यक्षिणियों के स्वामी हैं और इनकी कृपा के बगैर यक्षिणी का साहचर्य तो दूर साधक को अनुभूति का अनुभव भी दूर दूर तक नहीं हो सकता है |

इस रूद्र मंडल का दूसरा यन्त्र कामाक्षी ब्रह्माण्ड आकर्षण यन्त्र होता है,जिसमे भगवती काम कला काली की कलाओं का स्थापन किया जाता है और जिसके द्वारा साधक और अप्सरा तथा यक्षिणी के बीच एक सूत्र का निर्माण होता है | और वे सुगमता से साधक से संपर्क स्थापित कर सकती हैं,अपनी सम्पूर्ण कलाओं और विद्याओं के साथ वे साधक को अपना साहचर्य प्रदान करती हैं और उसे प्रतिकूलता से मुक्त रखती हैं | रूद्र मंडल के दोनों यन्त्र साधक को यक्षिणी और अप्सरा दोनों ही साधनाओं में सफलता प्रदायक होते हैं, अब चाहे आप किसी भी एक वर्ग की साधना करें तब भी ये एक मंडल तो आपको चाहिए ही |

अब बारी आती है द्वितीय मंडल की जो की अप्सरा सिद्धि मंडल होता है | इस मंडल में भी दो मंडल होते हैं १.अप्सरा मंडल –जो साधक को अप्सरा साधन के योग्य बनाता है और उसकी नकारात्मक उर्जा को साधना काल में दूर रखता है,साधक का शोधन कर उसे साधना के योग्य बनाना तथा सौंदर्य को आत्मसात करने की क्षमता देना,इस मंडल का प्रमुख कार्य है | सम्पूर्ण अप्सराओं की इस मंडल में सांकेतिक उपस्थिति होती है | जिसके कारण उनका अंकन इसमें सहज हो जाता है और इस प्रकार ये उनका ब्रह्मांडीय आवास ही हो जाता है | सदगुरुदेव ने १९९३ में इस यन्त्र को अप्सरा साधना और तंत्र साधना के लिए अनिवार्य ही बताया था,और बहुतेरे साधकों ने उस समय इसका प्रयोग कर सफलता पायी थी |

इसी मंडल का दूसरा उपमंडल या यन्त्र सौंदर्य भाग्य लेखन मंडल होता है,इसके सहयोग से साधक सौंदर्य साधनाओं के द्वारा जिन शक्तियों की प्राप्ति करता है,उसे सहेज कर  रखता है और ये सौंदर्य सिर्फ बाह्यागत नहीं होता है अपितु,जीवन के प्रत्येक पक्ष और साधनाओं में इसका प्रभाव वो स्वयं देख सकता है,जब साधक से इस मंडल का पूर्ण आत्म चैतन्यीकरण हो जाता है तो बरबस ही इन सौंदर्य बालाओं को अपने लोक से इसके पास तक आना पड़ता है |

अब तीसरा मंडल यक्षिणी सिद्धि मंडल होता है,इसमें भी २ उपमंडल या यन्त्र होते हैं १. षोडशी मंडल इस मंडल का मुख्य कार्य साधक को उन १६ मुख्य यक्षिणियों का अगोचर साहचर्य प्रदान करना होता है जिनके अधिकार में ४-४ यक्षिणी होती है | इस प्रकार प्रत्येक यक्षिणी के अधिकार में ४ विद्याएं होती है,जिसकी प्राप्ति वो साधक को साधना के परिणामस्वरूप करावा सकती है |वैसे शास्त्रों में प्रत्येक यक्षिणी को एक विद्या या कला प्रदान करने वाला कहा गया है,किन्तु चार चार के समूह की एक स्वामिनी होती हैं तो अपरोक्ष रूप से ४ विद्याओं पर उनका अधिपत्य सहज होता है | इस प्रकार १६ गुणित ४=६४ तंत्र या विद्याओं की ये अधिस्वामिनी होती हैं | साधक के निर्माण तत्व के आधार पर कौन सा वर्ग उसे फलीभूत होगा,इसका संकेत ये १६ यक्षिणी साधना काल में ही साधक को स्वप्न के माध्यम से दे देती हैं| तथा साधक को और क्या प्रयत्न करना चाहिए इसके सूक्ष्म संकेत भी साधक को वे प्रदान करती हैं | इसी मंडल का दूसरा उपमंडल या यन्त्र होता है पूर्ण सम्मोहन वशीकरण मंडल – साधना काल में बात मात्र आकर्षण की ही नहीं होती है अपितु वे पूरी तरह  साधक के वशीभूत होकर पूर्ण अनुकूलता भी प्रदान करे,ये भी अनिवार्य तथ्य होते हैं | साधक का व्यक्तित्व पूर्ण चुम्बकीय हो और वो इन शक्तियों के साहचर्य से स्वयं भी देव वर्ग की और अग्रसर हो,मात्र मानव वर्ग ही नहीं अपितु उसकी सम्मोहन शक्ति से अन्य वर्ग भी उससे संपर्क करने के लिए आतुर हो,ये क्षमता प्रदान करना इसी मंडल के अंतर्गत आता है |

   इस प्रकार इन तीन मंडलों का योग करने से यक्षिणी अप्सरा सायुज्य षष्ट मंडल का निर्माण होता है| इस एक यन्त्र में ६ यंत्रों का समावेश होता है,जो इन्ही क्रमों से इस महामंडल में अंकित होते हैं| प्रत्येक उपमंडल की प्राणप्रतिष्ठा,अभिषेक,चैतन्यीकरण और दिप्तिकरण अलग अलग सामग्री,वनस्पतियों और मंत्र से होती हैं,किसी की प्राण-प्रतिष्ठा वज्रमार्ग से होती है,तो किसी की शाक्त पद्धति से,किसी की मध्य रात्रि में तो किसी के लिए ब्रह्ममुहूर्त का विधान है | और जब छहों यन्त्र पर क्रिया पूर्ण हो जाती है तब इनका योग करवाकर सायुज्यीकरण करवाया जाता है,तभी ये फलदायक होते हैं | किसी भी यन्त्र को चेतना देना इतना सहज नहीं होता है,क्यूंकि साधक को ये भली भांति ज्ञात होना चाहिए की इस यन्त्र का अंकन सृष्टि क्रम से हो रहा है या संहार क्रम से,किस पद्धति से इसका आवरण पूजन इत्यादि होगा आदि आदि |

    इस मंडल की प्राप्ति के बाद साधना काल में आवश्यक सामग्रियों में आपको आपकी अभीष्ट यक्षिणी अप्सरा का मूल यन्त्र,माला और विधान ही लगता है,बाकी की गोपनीय क्रियाएँ तो उसका संयोग इस यन्त्र से करने से ही संपन्न होती है... तदुपरांत किन मुद्राओं का प्रदर्शन होना चाहिए...किन बातों का ध्यान आवश्यक है...क्या दिनचर्या होनी चाहिए आदि बाते ही आवश्यक होती हैं |

  इस एक यन्त्र के निर्माण पर लागत मूल्य ही बहुत आ जाता है,और जो भी भाई बहन इसका निर्माण विधान समझना चाहे और स्वयं इसकी निर्माण विधि को प्रमाणिकता से आत्मसात करना चाहे वो अपने बहुमूल्य समय में से मात्र १४ दिन और उन दिनों के ७-७ घंटे देकर स्वयं ही इस यन्त्र का निर्माण कर सकते हैं...इस की प्राण प्रतिष्ठा विधि और मन्त्रों तथा मुद्राओं को समझ सकते हैं तथा हेतु इसकी जो भी सामग्री लगेगी,वो आपको ही जुटानी है,उससे हमारा कोई लेना देना नहीं है,क्यूंकि निर्माण काल में आप स्वयं ही इस कार्य को सम्पादित करेंगे |

  हम इस कार्य में सौभाग्यशाली रहे हैं की हमें अपने कई भाई बहनों का आर्थिक सहयोग मिला है और उस सहयोग की वजह से हमारी कई योजनाओं को गति भी मिली है,उनकी निस्वार्थता हमें निरंतर कर करने की और प्रेरित करती है और इसी कारण एक साथ इनकी प्राण प्रतिष्ठा आदि करने के कारण इनके निर्माण मूल्य में बहुत अंतर आ गया है| उन सभी सहयोगियों के कारण ही आज पुनः इस कल कवलित विधान को मैं सबके सामने रखने का साहस कर रहा हूँ| जब आप सभी से जबलपुर में मिलने का सौभाग्य मिलेगा तो इस महा मंडल का कैसे प्रयोग किया जाता है,उस हेतु हम विधान भी स्पष्ठ करेंगे | उपरोक्त यंत्रों का अलग अलग समय पर सदगुरुदेव ने प्रयोग कराया है,और ये उसी महान परंपरा से प्राप्त हुए हैं,इनमे से प्रत्येक यन्त्र को भिन्न भिन्न साधनाओं में भी प्रयोग किया गया है,और प्रत्येक प्रयोग प्रभावी रहे है | उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा था की सिद्धों के मध्य ये यन्त्र अलग अलग नामों से भी प्रचलित रहे हैं |

  मैंने तो अपने दिल की बात कह दी..... अब वो आप तक पहुँचती है या नहीं......ये तो आपके भावों और कालगति पर ही निर्भर है.....

“निखिल प्रणाम”

“जय सदगुरुदेव”

****ARIF****
****NPRU****
 

       

3 comments:

சுமனன் said...

Please post it English too...

Alok Gupta said...

very nice, I am also waiting very eagerly to attend the seminar to enhance my knowledge in the field of sadhna..

MUKESH SAXENA said...

adbhut ! ! ,sach mein ,hum gurubhai dhanya ho gaye ,aise varishth gurubhaiyon ka sahcharya paa kar,jo bina kisi swarth ke ye adwitiy /adbhut yantra itni mehnat se tayyar kar rahe hain.hum iss seminar mein pahunch rahe hain,asha hai ,wahaan par in sadhnaaon ke sambandhit kuchh anya mahatvapoorn rahasya bhi jaan ne ko milenge.jai sadgurudev .