There was an error in this gadget

Wednesday, July 18, 2012

APSARA YAKSHIN SADHNA FROM ONE OF THE PRESPECTIVE (अप्सरा यक्षिणी साधना एक परिपेक्ष मे .....)


 
Friends,
Sadhna is a necessary part of life. It can be said that it is as important as taking breath. Because , through this we can know what is the aim of life, Why we have taken birth. Is our existence just a matter of chance or is there special reason behind it.
And there are so many aspects of all of us which we are concerned about but they may be meaningless for others…..but life has got a meaning……and if we give consideration to this fact then we can say that life is not merely passing the time.
But what we can do…..truth of life is like this. But our sages, tantra Acharyas and saints had understood the upcoming problems very much earlier and also put forward the solution in front of us. And they put forward the fact that if life has got some meaning then it is in living the life with pleasure and happiness……no weeping…..no crawling…..
Sadgurudev has said that if you want happiness, then you would have to accept sorrow as well. Life has got two aspects. You can’t simply accept one aspect. But if Anand (bliss) comes in your life then only anand can come after anand .Sorrow cannot come after it.But we are not introduced to happiness rather only to sorrow. We have never known the fact that there is some element like Anand. If I say there is bliss in sadhna then it may be right but Anand is very easy and difficult thing at the same time which is very hard to comprehend.
Therefore, Sadgurudev says that some special sadhnas, known by the name of Apsara Yakshini Sadhnas, have been created to experience that Anand element. Only these sadhnas can introduce you to art of making life blissful. Willingly or unwillingly, we have divided our God and Goddess into some specialities.In other words, our Tantra Acharyas say that we have not tried to understand that the god or goddess or others which we worship, can give us some other thing……We have even divided Dev Category that they have only this much purpose.
For example if I say for attaining Bhoga , Baglamukhi sadhna is the best , then who will accept it.We have always read or heard that this sadhnas has very rigid rules and and and…..
But truth has got various aspects. Truth is not only what we know but it can have many dimensions. In the similar manner, we have confined Sadgurudev element to just worship / few Mantra Jap and Jai Sadgurudev….but it is not like this…..
We have considered ten Mahavidyas to be everything or end but Friends, it is not like this. When Sadgurudev gave Kritya sadhna then in special edition of that year, he told that this sadhna is even superior to Jagdamba sadhna……is of higher level than ten Mahavidyas…..so definitely it would be something special.
In the similar manner, he put forward beauty-centric sadhnas of various categories like Apsara, Yakshini, Kinnari and Vanshykari etc. Just think that Sadgurudev has clearly said that No ordinary Guru will even talk about Apsara and Yakshini because what his disciples or flowers will think. But Sadgurudev has taught us the life that how we can be joyful all the times and we do not run away from opposite circumstances rather we have to make situations favorable on our own terms and live the life with joy and happiness.
We should not understand these sadhnas as Kaam-magnification sadhnas……..In Reality, we have to understand the difference between lust and Kaam. Sadgurudev has taught us this so many times but it is not that much easy…..
Understanding any word and imbibing its essence in right meaning in our lives are altogether different things.
We may say that we understand but……..actually we are miles away from the truth.
These sadhnas are the purpose of life. Sadgurudev has given his own example in one cassette that he himself refused to learn this sadhnas thinking that he is householder and it will be against the decorum. Then his Guru said that I am seeing that in future you would have to face difficult situations. At that time, it will be needed…….He said further that Narayan, you are gold but this sadhna will infuse fragrance inside you….
But Sadgurudev says further that as Apsara manifested after doing sadhna……Sadgurudev has said it in a very charming way. It will be more joyful if you all listen yourselves.
When our Sadgurudev has highlighted the necessity of these sadhnas then still some doubts….??
But still??
Doubt is in bloods of our generation, only few are there who are free from it.Rest whether we trust something or not but we will doubt definitely.
Sadgurudev says that it is not your fault because it has crept into our bloods due to slavery from many generations.
Sadgurudev has given us so many examples and made us understand that this sadhna is not obstacle in householder’s life in any way. It does not take away any right of your wife in any manner; she is only your female fiend, just in the form of lover.
It is right that it is accomplished very much easily in this form but it can also be accomplished in form of sister or mother. And for sadhika, she appears as their best friend. And
Their arrival puts an end to stress, anxiety, problems and depression of life because they teach us the love and affection in our life, not by words but by their sincere love….
And base of life is love……………………..Indelible part of life is affection….. Which can be with friend, with husband, with wife, with brother…….with father…..with daughter …..With son….with mother…with anyone where there is no fraud…..only there is affection….there is god and in this sincerity, our Sadgurudev exists.
Now we do not have any relation to sincerity and honesty then??
These sadhnas only introduce us to what is affection element?? What is sincerity??
And friends, criticizing Kaam feeling is also not right because it is also one of the base ……….All the joy, happiness and enthusiasm in life is due to kaam feeling only………If we destroy the Kaam feeling itself , then what will be left …..
Yes…….but how we can understand the difference between lust and high-order affection…..therefore, for this reason Sadgurudev put forward such divine hidden sadhnas despite of so many criticisms.
And we all are attracted towards these sadhnas…….and most of us have done them repeatedly…..But why it was that most of us were unsuccessful.
After all where we committed error??
What were the reasons behind our repeated failures??
We followed all the rules but still no results…..Why it was that???
Sadgurudev has said in Naabhi Darshana Apsara Cassette that when Guru don’t have any knowledge and if you go and say I am not getting success then he will give any reasons ……..like lamp was not correct or your sitting posture was wrong. It is similar to the case that whenever you go to any of doctors, he will find out some disease. But this is not right.
But we all would have done this sadhna at least once ………but success..???
Why this?
If we start counting the reasons then may be the list will grow but now what we should do. Either we should consider failure as everything or else. We all sit for sadhna enthusiastically but in any of the corners of mind we feel that probably we do not know some secret and just from here, failure starts.
But thinking like this is also not wrong.
One day I talked about some particular sadhna with Bhai……Sadhna is easy but has anybody done it? Bhai said I have done it. I said how, whereas this sadhna involve merely one or two rounds of mantra jap.
He told me that Bhaiya, same thing came in my mind when Sadgurudev told in shivir that for this sadhna only 1 round of mantra jap has to be done ….and you all can do it easily in 2 hours.
We all were surprised that such small mantra and two hours….whereas it can be done in merely 10 minutes.
But nobody went to ask. I went and asked Sadgurudev why it is so ….why so much of time???
Sadgurudev said happily that I just put forward this fact so that someone will come and ask. Then I would tell the Vidhaan and other facts to him personally. But nobody came.
And Bhai says that Anu Bhaiya, in reality Vidhaan is of 2-3 hours may be only 1 mala mantra jap has to be done. Sadgurudev himself clarified some necessary Vidhaan, mudras and tantra facts about that sadhna.
So were Vidhaan not given completely in magazine???
Bhai said that it is not like this but Sadgurudev himself has said that some most important facts are not revealed just because you have taken magazine or have come in shivir …..Rather how much you have will to learn and do you really have the passion to accomplish that sadhna….If yes then….you will definitely know that Vidhaan.
Friends, Paramhans Swami Nigmanand Maharaaj got one beej mantra in his dreams. But no procedure was given…..and to know the procedure, he roamed all over India by foot. If you read about his sufferings……then your eye will be full of tears. This is desperation …..This is what we call a sadhak…..that I have to learn at any cost….
Because Sadhak is the one who is always prepared to attain knowledge, to imbibe it
Because sitting in the home can make most of things possible but everything is not possible.
Mail of one brother came that he has tried this sadhna 500 times in last 7 years but did not get success. Now I can’t comment on the veracity of his statement. I cannot say regarding it. But you all know that in various forums and groups, it is often discussed that may someone teach the rare secrets related to this sadhna, its mudra and tantric and mantric Vidhaans. But…..
But after all, why there is need to learn these Vidhaans?
Answer to it is that one success in field of sadhna can increase the progress of person multiple times because he now knows how to succeed. He now comes in the category of successful sadhaks from the ordinary sadhaks. And you all know the benefits of these sadhnas.
But this is also a very-2 rigid fact that till the time we do not do the sadhna with full trust and keeping in mind the various facts, how we will get success?
Person may give many examples that …….even after chanting the reversed name, great saint Valmiki became successful. But there is difference between this era and that era.
Such things are quite difficult now.
But why it is difficult ??
We all understand about the today’s prevailing circumstances. But when Sadgurudev has said that tell the universe that we don’t need bhakti rather we want sadhna. So it would have some meaning. Definitely, he would not have meant that we do sadhna and remain unsuccessful throughout the life. It is not possible at all.
At one place, Sadgurudev said that if we are unsuccessful then again repeat the sadhna. If we are unsuccessful again then do it again but third time none of my ascetic disciples have been unsuccessful. When you all are unsuccessful despite various attempts then I am forced to think that probably you do not trust either me or sadhna.
Friends, we all admit that the place which Sadgurudev element deserves, it is not there. Side by side .feeling to imbibe any sadhna is not of same magnitude as it should be. We should know all the facts related to that sadhna .then only we can do that sadhna with full confidence otherwise our mind will think that probably there are some other facts due to which we are not getting success.
When we know all the facts then we become sure that now distance between success and me is hardly effort away. Now there is no place of excuses since on one hand Sadgurudev is with us and on the other we know all facts related to that sadhna, all mudras ,necessary activities . Now how can success remain far from us .Just we have to pounce on it and attain success in sadhna.
But merely this will solve the purpose???
No friends, beside this, some special sadhna articles, special yantra are needed by which success is possible….
What is that special article??.......What is that special yantra which will put you on the doorsteps of success……what is that invaluable sadhna article…….which Sadgurudev has told so many times….
This information is going to come in front of you all…..
And on the coming 12th August in one-day seminar we will learn such things….understand them and attain these articles ourselves.
Arif Bhai is working day and night to make available this rare article and yantra to you all……(Because Sadgurudev has himself said and taught us giving the example of Devyoupnashid that success in sadhna is not possible without authentic sadhna articles…..)
It is endeavor of Arif Bhai that …..We all brothers and sisters can attain success. And just our effort will remain between success and us. And with the blessings of Sadgurudev we all will be successful…
So whosoever wants to take benefit if this opportunity….he can
============================================
मित्रों ,
साधना जीवन का एक आवश्यक भाग   हैं ,यूँ कहूँ तो इतना जरुरी भाग है जितना   की हम स्वास लेते हैं . क्योंकि इसकी के माध्यम से हम जान सकते हैंकि  हमारे जीवन का हेतु क्या  हैं, हम क्यों आये हैं क्या  हमारा  यहाँ होना  सिर्फ एक चांस की बात हैं या कुछ विशेष  तथ्य भी हैं .
और  हम मे से  सभी के  जीवन के ना मालूम कितने पक्ष ....पहलु ऐसे हैं जिनसे हमें तो मतलब हैं पर किसी दूसरे के लिए शायद महत्वहीन ..पर जीवन का अर्थ   तो हैं .और अगर हम यह मानते हैं तो  जीवन बस किसी  तरह काट लेने का नाम तो  नही  हैं .
पर हम करें क्या ..जीवन की सच्चाई ऐसी ही  हैं .पर हमारे  ऋषि ,तंत्र आचार्यों  और मनस्वियो ने आने वाली समस्याओ को  बहुत पहले समझ लिया  था  और उनके निराकरण की विधिया भी हमारे सामने रखी  हैं .और उन्होंने  यह तथ्य रखा  की जीवन का  कोई  अगर अर्थ हैं तो  वह हैं पूर्ण आनद युक्त  होकर जीवन जीना ...... न की  रोते पीटते ...घिसट घिसट कर  काटना .
सदगुरुदेव कहते हैं की  सुख चाहिए   तो  दुःख को भी स्वीकार करना ही पड़ेगा  जीवन अनेक जगह से  द्वि पक्षीय  हैं आप केबल एक ही पक्ष  को स्वीकार नही  कर  सकते हैं . पर  यदि आनद  आपके  जीवन मे आता  हैं तो आनंद के बाद आनंद   ही आ सकता  हैं .उसके बाद  दुःख नही .पर हमारा  परिचय   तो  सुख से नही बल्कि दुःख से  ही हैं . हमने  तो  यह जाना   ही नही की  आनंद  नाम का कोई तत्व भी  हैं.अगर यह कहूँ की साधना मे आनंद हैं तो  यह सही हो सकता हैं पर  आनंद  एक बहुत कठिन सरल चीज हैं  जिसे समझ पाना  शायद सबसे कठिन  हैं .
इसलिए सदगुरुदेव कहते  हैं की कुछ विशेष साधनाए  जिन्हें हम अप्सरा  यक्षिणी साधना  के नाम से जानते हैं  इसी आनंद तथ्य  का अनुभव  करने के लिए निर्मित हुयी हैं .केबल यही  ही आपको जीवन को कैसे आनदमय   किया जा सकता  हैं  उसका परिचय दे सकती हैं .चाहे या न चाहे हमने अपने  देवी देवताओ को कुछ विशेषताओ मे बाट  दिया हैं .या यूँ कहूँ की तंत्र आचार्य कहते हैंकि  हमने कभी जानने की कोशिश  ही नही की  जिन देव या देवियों की या अन्य  की उपासना करते हैं  वह कुछ अन्य भी दे सकती हैं ......... हमने  देव वर्ग को भी बाँट  दिया हैं .की इनका वश इतना ही काम हैं
उदाहरण के लिए मैं अगर ये कहूँ की भोग प्राप्ति के लिए बगलामुखी साधना सर्वश्रेष्ठ हैं   तो भला कौन मानेगा .हमने  तो यही पढ़ा  या सुना हैं की इस साधना मे  तो बहुत कठिन नियम   हैं और और और ...
पर सत्य के अनेको  पहलु होते हैं सत्य सिर्फ उतना ही नही जितना हम जानते हैंबल्कि अनेको आयाम लिए   हो सकता  हैं.ठीक इसी तरह हमने  सदगुरुदेव तत्वको सिर्फ  पूजा /कुछ माला मंत्र जप और जय सदगुरुदेव ..पर ऐसा नही हैं ..
हमने दस महाविद्या  को ही सब कुछ या अंत सा मान  लिया हैं पर मित्रो ऐसा नही  हैं, सदगुरुदेव ने  तो जब उन्होंने कृत्या साधना  दी  तो उस वर्ष के महाविशेषांक मे उन्होने  कहा की यह साधना तो जगदम्बा साधना  से भी श्रेष्ठ हैं ..दस महाविद्याओ  से भी उचे स्तर  की हैं  .....तो निश्चय ही कुछ बात होगी .
ठीक इसी तरह  उन्होंने सौदर्य प्रधान  साधनाए जिन्हें हम अप्सरा यक्षिणी  ,किन्नरी ,वन्श्यकरी आदि अनेको वर्गों की साधना सामने रखी .आप ही   सोचिए  सदगुरुदेव जी ने  तो स्पस्ट कहा की कोई साधारण गुरू  तो अप्सरा या यक्षिणी की बात भी नही करेगा क्योंकि उसके शिष्य  या भगत क्या सोचेगे  .पर हमारे सदगुरुदेव ने  हमें जीवन जीना  सिखाया .की किस तरह आनंद्युक्त हम  हर पल रहे और विपरीत परिस्थितयों से भागना नही बल्कि  उन्हें अपनी शर्तों  पर अनुकूल बनाते हुये पूर्ण उल्लास मयता आनद मयता  के  साथ जीवन जीना  हैं.
इन साधनाओ  को काम भाव प्रवर्धन की साधना समझने की भूल नही करना चाहिए ..वास्तव मे वासना  और काम मे अंतर समझना  होगा .सदगुरुदेव जी ने  बहुत बहुत बार   हमें यह समझाया   पर यह इतना कहा आसान हैं ...
किसी शब्द  को समझ लेना और सही अर्थो मे उसका भावार्थ अपने जीवन मे उतार लेना  बिलकुल  दो अलग बातें हैं .
हम कितना  भी कहें की हम  समझते हैं पर .....वास्तविकता सत्य से कोसों दूर हैं.
ये साधनाए जीवन  का हेतु हैं .सदगुरुदेव जी ने स्वयं अपना  उदहारण सामने रखा एक केसेट्स मे  वह कहते हैं की उन्होंने भी पहले यह साधना  सीखने को मना कर दिया की वह  गृहस्थ हैं और यह तो  मर्यादा के अनुकूल नही  तब उनके  गुरूजी  ने  कहा की मैं देख रहा हूँ की आगे तुम्हेकितनी विकट परिस्थियों का सामना  करना पड़ेगा .उस समय यह अनिवार्य  होगी  ...उन्होंने आगे कहा  की नारा यण  तुम   स्वर्ण हो  पर उसमे  सुगंध भरने का काम यह साधना करेगी ..
पर सदगुरुदेव आगे कहते  हैंकि इस साधना को करने के बाद  जैसी  ही वह अप्सरा प्रगट हुयी ..सदगुरुदेव ने बहुत ही मन को हरने वाले स्वर मे  वह बात कहीं हैं आप स्वयं सुने  तो कहीं जायदा  आनन्द आएगा ..
जब हमारे  सदगुरुदेव ने हमारे लिए इन साधनाओ की अनिवार्यता बताई हैं  तो  भला अब कोई और संदेह ...??
पर ऐसा कहाँ  ??
सन्देह  तो हमारे पीढ़ी के खून मे  हैं,बस कुछ  गिने चुने  हैं जो इससे मुक्त हैं बाकी हम सभी को विश्वास हो या  न हो पर  संदेह जरुर  हो जायेगा .
सदगुरुदेव कहते हैं की यह तुम्हारा दोष नही क्योंकि कई कई पीढ़ियों की गुलामी के कारण  से यह हमारे खून मे ही समां गया हैं .
सदगुरुदेव जी ने अनेको उदहारण सामने रखे  और समझाया  और यह भी कहा की  यह साधना  गृहस्थ जीवन मे किसी भी तरह से बाधक नही  हैं .यह किसी भी तरह से  आपकी पत्नी के कोई भी अधिकार को छिनती नही  हैं , यह सिर्फ आपके लिए आपकी महिला  मित्र  हैं .बस प्रेयसी के  रूप मे हैं .
यह सही हैं  की यह इस रूप मे कहीं जयादा आसानी से  सिद्ध हो जाति हैं  पर इन्हें   बहिन या माँ के रूप मे भी सिद्ध किया  जा सकता  हैं और साधिकाओ के लिए  यह उनकी परम मित्र के  रूप मे आती हैं. और
इनके आगमन से आपके जीवन का तनाब  और परेशानी  उदासी  तकलीफ  अवसाद सब समाप्त सा  हो जाता  हैं क्योंकि यह  जीवन मे  स्नेह और प्रेम  क्या होता  हैं समझाती हैं शब्दों से नही बल्कि अपने निश्छल स्नेह  से ...
और जीवन का आधार हैं  प्रेम ..... जीवन  का  एक अमिट  हिस्सा हैं.. स्नेह .......जो की मित्र से . पति से पत्नी से, भाई  से .... पिता से.... बेटी से ...बेटे  से ....माँ  से .... किसी  से भी हो सकता हैं जहाँ निश्छलता हैं.... वहां हैं यह स्नेह ..वहीँ हैं इश्वर और...... इसी निश्छलता मे  ही सदगुरुदेव रहते हैं .
अब हमारा   तो निश्छलता से  कोई सबंध हैं  नही तब ??
..यह साधनाए  ही हमारा परिचय कराती हैं की  स्नेह तत्व हैं क्या ??.यह निश्छलता  हैं क्या ??
और  मित्रो काम भाव की आलोचना  भी  उचित नही क्योंकि यह भी एक आधार हैं .......जीवन मे  जो भी प्रसन्नता  उमंगता .आलाह्द्ता  और  उत्साह हैं वह काम भाव के कारण ही हैं  ..अगर काम भाव नष्ट कर दे  तो फिर   शेष बचेगा क्या ..
हाँ .......पर हम कैसे वासना और  उच्च स्नेह मे  अंतर समझ पाए ..इसी के लिए  तो सदगुरुदेव  जी ने कितनी न आलोचना सहन करते  हुये  यह परम  गोपनीय साधनाए  हम सब के  सामने रखी .
और हम सभी  इन साधनाओ के प्रति आकर्षित भी हैं ......और हम मे से कितनो  ने  बार बार की  भी ......पर ऐसा  क्यों   हममे  से आधिकांश   के  हाथ असफलता  से  ही  टकराए.
आखिर गलती कहा  हुयी .??
क्या कारण रहे ही हम असफल लगातार  होते रहे .??
हमने  सारी नियम माने फिर भी  हमारे हाथ खाली.....  ऐसा क्यों हैं .???
सदगुरुदेव नाभि दर्शना अप्सरा केसेट्स मे कहते   हैं  की  जब  गुरू  को ज्ञान नही  होता  और आप जाओ की मुझे सफलता नही मिल रही हैं तो वह कोई न कोई कारण   देगा की....... दिये  की ......लौं ठीक नही थी  या तुम ऐसे  बैठे  थे .वेसे जैसे किसी भी डॉक्टर के पास जाओ तोकोई न कोई बिमारी निकाल  ही देगा, यह ठीक नही हैं ..
पर  हम सभी ने कम से कम  एक बार   यह साधना की  ही होगी .... पर सफ्लता ..???
ऐसा क्यों.???
यूँ  तो कारण गिनने  पर आ जाए तो  शायद लिस्ट  बढती ही जायेगी   पर .अब क्या करें या  तो असफलता को ही सब कुछ मान  कर बैठे रहे ..या फिर.हम सभी कितने  उत्साह से  साधना  करने  बैठते हैं पर मन के किसी न किसी  कोने मे  यह रहता हैं की शायद हमें कुछ सेक्रेट नही मालूम   और  बस यही से असफलता की शुरुआत हो गयी .
पर यह सोचना  गलत भी तो नही .
एक बार   मैंने भाई से  कहा की किसी साधना विशेष के बारे मे .... साधना   तो सरल हैं  पर किसी ने करी हैं  क्या.भाई बोले मैंने की हैं .मैंने कहा कैसे ,जबकि यह तो मात्र  एक या  दो माला मंत्रा जप की साधना   हैं .
उन्होंने मुझसे कहा की भैया   ठीक  यही बात हमारे  मन मे  भी आई  जब सदगुरुदेव जी ने  शिविर मे कहा की इस साधना  की बस १ माला  जप करना हैं .और  आप  आसानी से  दो घंटे  मे कर लोगे.
हम सभी आश्चय मे  पड़ गए की  इतना सा मंत्र और दो घंटे   ..जबकि मात्र  दस मिनिट मे  ही   जप हो जायेगा .
पर  कोई उनसे पूंछने  नही गया .मैं गया और कहा की सदगुरुदेव  ऐसा  क्यों ..इतना  समय क्यों.???
सदगुरुदेव  ने  बहुत  ही प्रसन्नता से कहा की मैंने  तो बात बस  रखी की कोई तो आ के  पुन्छेगा   तो उसके  विधान  और अन्य तथ्य   मैं उसे व्यक्तिगत रूप से बताऊंगा .पर कोई आया  ही नही .
और भाई कहते हैं की अनु भैया सच मे  दो /तीन घंटे का विधान हैं भले ही माला  एक  ही करना  थी .कई आवश्यक विधान और मुद्राये  और तंत्रात्मक तथ्य सदगुरुदेव जी ने उन्हें उस साधना के स्वयं  ही   स्पस्ट किये .
तो क्या पत्रिका मे  विधान पुरे नही  होते थे ???
भाई बोलते हैं कि  नही ऐसा नही  हैं  पर स्वयं सदगुरुदेव जी ने कहा की कुछ अति महत्वपूर्ण तथ्यों को सिर्फ इसलिए नही सामने  रखा  जा सकता की आपने पत्रिका ली हैं या  शिविर मे आये हैं ....बल्कि आपकी स्वयं की ......कितना  सीखने की इच्छा हैं और  क्या आप सच मे  उस  साधना को सिद्ध करें के लिए बेताब हैं  इतना  जनून हैं  तब ..अगर हैं तो ......आप  उन विधानों को जानेगे  ही ..
मित्रो , परमहंस स्वामी निग्मानद   जी महाराज  को स्वपन मे  एक बीज् मंत्र  मिला था .पर विधि नही  .......और उन्होंने उसकी विधि जान ने के लिए  सारा भारत पैदल छान मरा   था ,कभी आप उनके  बारे   पढ़े  किक्या क्या नही सहा उन्होंने .........तो आखों मे आसूं आ जायेंगे की  यह  होती  हैं तड़प ..यह होता हैं एक साधक ......किमुझे सीखना  हैं  हीं हर हाल मे ..
क्योंकि साधक नाम ही  हैं जो ज्ञान को प्राप्त करने के  लिए  उसे आत्मसात करने केलिए   सदैव तैयार   हो ..
क्योंकि अगर घर बैठे  बैठे   तो बहुत  कुछ संभव  हो जाए  पर....... सब कुछ....  तो नही  संभव  हैं.
एक भाई की मेल आई की उन्होंने पिछले  सात  साल मे  ५०० बार लगभग  यह साधना  की पर सफलता नही मिली .अब मैं यह नही कह सकता हैं  वे सही कह रहे हैं या नही .इस पर मैं कुछ नही  कह सकता  हूँ पर आप सभी जानते हो की  अनेको  फोरम और ग्रुप मे यही बात होती हीं की  काश कोई  तो इन साधनाओ के  सबंधित दुर्लभ सूत्र  .क्रियाए समझा दे .मुद्राये   तःन्त्रत्मक और मंत्रात्मक विधान समझ दे.पर कहाँ ..
पर  एक बात  उठती हैं  की आखिर हमें इन  विधानों को सिख ने की आवश्यकता  हैं ही क्यों.?
इसका उत्तर  यही  की एक सफलता जैसी ही साधना क्षेत्र मे मिलती हैं .... व्यक्ति की उन्नति कई कई  गुणा   बढ़ जाति हैं क्योंकि वह अब सफलता पाना   हैं यह जानता   हैं   वह एक सामान्य साधक से   सफल साधक की श्रेणी मे  आ जाता   हैं . और इन साधनाओ  के लाभ तो आप सभी जानते हैं ही .
पर यह भी बहुत बहुत कठोर तथ्य हैं की जब तक पुरे बिस्वास और सभी तथ्यों के साथ  साधना  न की जाये  तो सफलता   कैसे मिलेगी .??
उअदहरण भले  हो लोग दे  दे की ......उलटा नाम जप कर भी महा ऋषि  वाल्किमी सफल  हो अगये  पर वह युग  और आज का  युग बहुत अतर हैं .
ऐसा अब बहुत मुश्किल हैं .
पर क्यों मुश्किल हैं.??
इस बात को तो हम सभी समझते हैं .की आज क्या परिस्थितियाँ   हैं .पर जब सदगुरुदेव जी ने कहा की कह  दो ब्रम्हांड से  हमें  भक्ति नही  बल्कि साधना  चहिये .  तो कोई  तो अर्थ रहा  होगा ,,उनका यह तो अर्थ नही रहा  होगा की  हम्  साधना   करे  और बस  जीवन भर असफल बने  रहे  यह तो संभव  ही नही
एक स्थान पर सदगुरुदेव कहते हैं की  हम एक बार असफल  हो तो दुबारा उसी साधना को करें  .फिर भी असफल  हो तो पुनः करें पर  तीसरी बार मेरा कोई सन्याशी शिष्य असफल   हुआ  हो यह तो हुआ ही नही और तुम लोग बार बार करके भी असफल  होते हो  तो मैं भी सोच मे पड जाता हूँ की शायद  मुझ पर या  साधना  पर तुम्हारा भरोषा  ही नही होगा .
मित्रो हम सभी हम  या जयादा इस बात को  तोमानते  हैं ही की जितना सदगुरुदेव तत्व का स्थान हमारे जीवन मे होना चाहिए  वह कहीं नही  हैं साथ ही साथ  हम सब मे किसी भी साधना कोआत्मसात  करने का भाव   जितना होना चाहिए  वह भी कहीं  कुछ तो कम हैं . साथ ही साथ उस  साधना  से सबंधित सारी तथ्य सारी बात जान लेना चाहिए   तभी उस साधना को हम पुरे बिस्वास से कर पायेंगे अन्यथा कहीं न कहीं मन मे  लगा रहेगा की शायद कुछ ओर  तथ्य हैं इसलिए  हम सफल नही  हो पाए  या पा  रहे हैं
जब .हम सारे तथ्य  जान जाते हैं तो हम निश्चिंत हो जाते हैं  की   अब सफलता और मुझमे  सिर्फ प्रयास की दुरी है ,अब कोई भी बहाना  नही क्योंकि एक ओर सद्गुरु देव साथ हैं और उस साधना  से बंधित सारे तथ्य ,सारी मुद्राये , आवश्यक क्रियाए    तो अब सफलता कैसे  दूर रह सकती हीं  बस अब मुझे झपट्टा मार कर साधना  मे  सफलता हासिल कर  ही लेना  हैं .
पर क्या इतने मात्र  से हो जायेगा ???
नही मित्रो इसके साथ कुछ विशेष  सामग्री कुछ विशेष   यंत्रो  का होना आवश्यक हैं ,जिनके माध्यम से ही सफलता संभव  हो पातीहैं  ..
क्या हैं वह विशेष  सामग्री?? ...क्या  हैं वह  विशेष यन्त्र .जो की आपको सफलता के द्वार पर ला कर खड़ा  ही कर दें ....यह बहुमूल्य साधनात्मक सामग्री हैं क्या .....जिनको बारे मे सदगुरुदेव ने कई कई बार बताया ....
वह जानकारी आपके सामने ..आने  ही वाली  हैं ...
और आने वाली १२  अगस्त के एक दिवसीय  सेमीनार मे ऐसी  ही अनेको बातों को हम सभी सिख्नेगे .....साथ मे समझेंगे और उन सामग्री को स्वयं प्राप्त करेंगे ......
आरिफ भाई   दिन रात  परिश्रम मे लगे हैं कि  .ये  दुर्लभ   सामग्री  और दुर्लभ यन्त्र ..कैसे आपको उपलब्ध करा  सके ......(क्योंकि  सदगुरुदेव जी ने स्वयं कहा और देव्योपनिषद से  उदहारण देते हुये समझाया  की बिना  प्रामाणिक सामग्री के साधना मे सफलता संभव ही नही हैं ....)
आरिफ भाई की पूरी कोशिश  हैं .........जिससे की हम सभी और भाई  बहिन  सफलता के पास  पहुँच सके. और बस  फिर सफलता और हमारे मध्य सिर्फ प्रयास की आवश्यकता होगी .और सदगुरुदेव कीकृपा कटाक्ष  से हमसब भी सफल होंगे ही ....
तो जो भी इस अवसर का लाभ उठाना चाहे ...वह
**** NPRU****

No comments: