There was an error in this gadget

Tuesday, July 17, 2012

EASY SADHNAS OF TANTRA WORLD FOR SOLVING YOUR PROBLEM………THEN WHY TO WORRY ??? - आपकी समस्या के निराकरण के लिए तंत्र जगत की सरल साधनाए.....तो अब क्यों परेशां होना ??






He Ree Main ToKhojat Khojat Haari…..
Peer Tabhi Mitegi Jab Vaidya Sawaliya Hoye…
(I have searched ,searched and searched and failed. Problems will be solved only when Vaidya is my lover)
Is there only one pain……or problem then…….But no, if we look at our today’s life then we see only pain and pain. Otherwise if someone is healthy in true respect….if someone is happy then why he will need someone………but for today’s human even if the Vaidya (Ancient Indian doctors) become your lover , then also how farthey will be capable of solving the problem…….
Sadgurudev has said multiple times during the moments of happiness that problem will definitely come .One will go then other will come ….. If we are Purush (competent men) ….because challenges only come in purush’s life. But if we have the power of sadhna, then why should weworry.
And such is the amazing mathematics of life that today not only a common man, but if we see high-class person also, then it seems that leaving apart some of his achievements,problems , pain. Betrayal and loss are the only earnings of his life.
And this is the truth of today’s life. We can’t run away from this fact.
Today, even after doing so much of hard-work in our life, we are not able to progress in our profession.
Husband or wife has chosen the wrong path and the one who are trying to bring back his/her life partner on right path, other person is not willing to understand.
Code of conduct presented by many among the today’s generation as a result of their directionlessness, decline in moral values and nearly perished life –values is the main reason for the stress in the whole family.
Worst results of our children in sphere of knowledge.
No child in some family despite the fact that both husband and wife are completely healthy.
Either we are suffering from various diseases or some of our loved ones from our family.
Even after trying very hard, our highly educated sons/daughters are not able to do business or job.
Instead of getting cooperation from our brothers/sisters or our high-level officials, we are only getting animosity.
The capable person/ son/daughter/brother/sister of our family who are in their age of marriage, we are not able to find the suitable candidate for him/her as life partner.
We are not able to attain the person whom we see as our desired life-partner. Sometimes our family member or sometimes other reasons come between us and our desired life-partner.
Coming of such obstacles in our home or family or business which are more or less impossible to comprehend…..which we can say as curse
 If someone has done some tantra prayog on our family, then what can we do now.
Continuous occurrence of disastrous incidents in our family one after the other
Continuous ill-fortune/ failure in every field….
Not getting success in job-interview
Either not able to choose the desired profession or not getting success in it.
Due to planet-obstacles or other evil, fights in our life or occurrence of other incidents.
And these are such problems which today every person has to struggle against but for how long he can bear it.But he does not have any other solution also……and in such a condition …..Whether the person believes in sadhna world or not…….runs in all directions
And to take benefit from such attitude/mentality, there is market full of persons who fulfill their own aims in the name of Tantra. Some of them might be right also but there is no shortage of the adulterer and the person having contemptible mentality who commits fraud in the name of Tantra.
And they suggest solutions like….
Either they suggest such big anushthan that all the earnings of common person is finished in it and in case of person not getting the benefit, any arbitrary reason is cited.
Or he is advised to wear such precious gems that he has to loose so much of money for acquiring it.
Or
Suggesting purchase of costly yantra and rosary
But in spite of doing all these, if no appropriate solution is found to the problem, then it is quite natural for person to feel depressed.
And if we, with full concentration, find the cause of all this then it is *********we ourselves*****.We have become such that we want to accomplish our work by giving money for doing anushthan or some other reason. We will not do hard-work. Just we directly get the solution…everything should automatically become fine….We should not do anything. Just we have given the money….in such hope we sit idle. One would hardly be amazed to find his own story among the various fraud-stories coming in newspapers.
Sadgurudev has taught us the path of sadhna. He has put forward this divine path in front of us….and trust it that it is as precise as we find it while reading. But if we make laziness as our life then what one can say.
Inclination of you all towards sadhna and you all doing June month sadhnas or other sadhnas and the results which you have told on Facebook or personally certainly increases our enthusiasm multiple times.
So we all have thought a lot on this matter that why not……We should do something so that our brothers and sisters are saved from frauds occurring in the name of doing repeated anushthan , are saved from cheating , saved from frauds in the name of Tantra…..
Sadgurudev has made us all self-dependent……..has told us to be so…….then why not we do it ourselves…..because in the name of anushthan …….or by citing other reasons, for how long one can purchase sadhna articles…..how much one can spend …..Because in this costly era, how common person lives the life, everyone knows it.
For this, one chamber (Prakoshth in Hindi) has been made under NPRU by which your problems will be solved.
But for getting benefits out of it, you have to either provide us the authentic birth time and horoscope or authentic photo of your palm in which lines are clearly visible. Also write in detail about the one or two problem whose solution you want.
And before sending the e-mail, clearly make up your mind to do the sadhna.Beacuse we are not sending any anushthan or sadhna arbitrarily for solving your problem rather your authentic horoscope or palm photo will be studied, your problem will be understood and then only you all will be sent sadhna process which will be beneficial for you .But Only when you will do the sadhna with full dedication.Therfore you all will have to do sadhna with full devotion.
And in this sadhna, no costly yantra, rosary or sadhna article will be used rather the things which you can find easily in your home or nearby, are used. And if any yantra has to be used then you can make it yourselves.
Because keep in mind that If there are cumbersome sadhnas in tantra then for getting desired results, there are easy process too. And our aim is that the easiness of Tantra should reach all.
Therefore, for it, No costly procedure or difficult procedure should be told like so many lakhs of mantra Jap is necessary. Nothing of such kind….
Meaning of it is crystal clear that …..if you want to become active…if truly you want to solve your problem by doing sadhna yourselves, getting rid of erstwhile laziness…….to become self-dependent…and do not want to look for solution by bowing in front of others…
If you are ready to do sadhna……with full dedication then we are also with you. We will tell you the complete sadhna process which has been tested multiple times from ancient times and when you will do it with full trust …..Then definitely by the blessings of Sadgurudev, you can take your life to higher pedestal by getting rid of your problems.
Now it is for you to understand whether you want to sadhna which does not have any big anushthan, which does not need any costly sadhna articles….no cumbersome process and get the solution
Or..
Keep on wasting precious time and money and keep on finding someone who will do everything for you……
But keep one thing in mind …….Disciple of Sadgurudev will neither be poor nor inferior. Ifanyone considered himself to be so, then it’s all together a different thing. In Reality, disciple of Sadgurudev, whatever the condition may be, will do karmas and take his life to higher pedestal.
 And when today we, your brothers and sisters….we are ready to do maximum we can, we are in front of you. One complete chamber has been created …….will you still think or will do sadhna yourself and find the solution …..
So whatever may be your problem, please send it to nikhilalchemy2@yahoo.com.We will send the suitable sadhna to you as early as possible and keep in mind that this whole arrangement is totally free of cost for you all.
No known or unknown charges will be charged in this respect……
Now you yourself have to choose the sadhna-path for solving your problem. And that too when your own brothers and sisters are doing this work of assisting you solve the problem free of cost.
We do not say that your problem will be uprooted or it will do something which is not in your fate. Becausefate is made only by Sadgurudev .But One thing is definite that if even one percent of benefit is in your fate, then sadhna can increase that one percent multiple times. And is there is case of complete loss, and then it can minimize the possible loss to negligible proportions.
Is this not auspicious information, so make up your mind to do sadhna …..And we all NPRU TEAM MEMBERSare with you……..==============================================
हे री मैं तो खोजत खोजत हारी ..
पीर तभी मिटेगी जब वैद  सबलियाहोय ....
पर कोई एक पीर मतलब पीड़ा  ..या  वेदना हो तो  तब न ...आज के जीवन मे  ध्यान से देखें   तो सिर्फ पीड़ा ही पीड़ा  कहीं ज्यदा  दिखती हैं .अन्यथा अगर कोई सही अर्थो मे स्वस्थ   हैं ...कोई प्रसन्न हैं तो उसे कहाँ कोई याकिसी  की जरुरत ...पर आज के मानव केलिए   तो बैद सवालिया हो भी जाए  तो वे भी कहाँ   तक  और कितनी  समस्या दूर करेंगे ....
सदगुरुदेव ने बहुत बार प्रसन्नता के क्षण मे कहा की समस्याए तोआयेगी  ही .एक जायेगी तो दूसरी आएगी ....अगर हम पुरुष हैं तो ,.क्योंकि   पुरुष के पास ही तो चुनौतिया  आएगी  ही .पर अगर हम मे  या हमारे पास साधना का बल हैं  तो इसने क्या घबराना .
औरजीवन का अद्भूत गणित की आज का सामान्य सा ही व्यक्ति नही बल्कि उच्चस्थ व्यक्ति के पास भी कई कई बार ऐसा  लगता हैं की उसकी  कुछ उपलब्धियां   की बात छोड़ दे  तो केबल परेशानी ..तकलीफ..समस्या ..धोखा ..हानि ही इस जीवन मे उसने कमाई हैं .
और  यही आज की सच्चाई  हैं भी .हम इससे अपना मुख नही मोड सकते   हैं .
आज     हमारे  जीवन मे कितनी मेहनत करने के     बाद भी हमारी अपने व्यवसाय मे उन्नति      नही हो रही   हैं .
पत्नी  या पति कुमार्गी   हो रहे हैं और  जो अपने जीवन साथी को  सही मार्ग पर लाना  चाहते       हैं ,वे उनकी बात ही नही मानते .
आज  की पीढ़ी  मे से अनेको ने  दिशा हीनता   और संस्कार हीनता  और लगभग समाप्त से     होते जीवन मूल्यों के कारण  जो आचरण प्रस्तुत  किया   हैं / कर रहे हैं पुरे परिवार के तनाब का  कारण हैं .
हमारे  अपने बच्चो का शिक्षा मे निम्न से निम्न   परिणाम लाना .
किसी  परिवार मे कोई भी संतान का न होना जबकि पति पत्नी दोनों पूरी तरह से स्वस्थ  हैं .
अनेको बीमारियों से या तो  हम खुद ग्रस्त हैं या हमारे परिवार का कोई भी हमारा प्रिय .
कोशिश करके भी उच्च शिक्षा प्राप्त हमारे  पुत्र पुत्री अपना व्यवसाय या नौकरी नही पा  रहे  हैं .
हमारे अपने भाई बहिनों से हम  या उच्चधिकारियों से हम कोई सहयोग  नही वरन शत्रुता   ही  पा रहे   हैं .
हमारे परिवार के योग्य व्यक्ति /पुत्र/ पुत्री /भाई /बहिन को  जो विवाह की आयु प्राप्त हैं  कोई भी उनके जीवन साथी हेतु योग्य पात्र     नही मिल पा रहा  हैं .
हम  अपने मनो वांछित  जीवन साथी के  रूप मे जिसे  देखते हैं .उसे नही पा रहे हैं .कभी परिवार     वाले  तो कभी अन्य कारण सामने आकर खड़े     हो जाते   हैं .
हमारे  घर या परिवार या व्यवसाय मे कुछ ऐसी वाधाए आना. जिनको समझना लगभग असंभव सा ..जिन्हे  हम अभिशाप्त्तता  भी कह सकते हैं .
परिवार मे अन्य जगह  किसी तंत्र प्रयोग किसी   मे हम पर किया हो. पर अब क्या करें.
परिवार मे लगतार विघटनकारी या दुखदायी घटनाओ का एक के बाद एक  होते जाना .
लगातार     भाग्यहीनता /हर क्षेत्र मे असफलता  का     बने रहना ..
नौकरी  हेतु साक्षात्कार मे सफलता न पाना .
मनोवांछित  व्यवसाय का न चुन पाना या उसमे सफल  हो पाना
ग्रह वाधा या अन्य दोष के कारण  हमारा जीवन मे कलह या अन्य घटनाये     होते जाना .
औरये  तो ऐसी समस्याये   हैं जिनसे आज हर व्यक्ति को जूझना   ही पड़ता   हैं पर कब तक वह सिर्फ सहन कर सकता  हैंपर उसके पास कोई उपाय भी  तो नही .औरऐसी   ही .अवस्था मे वह ....फिर चाहे  व्यक्ति साधना  जगत पर विश्वास करता हो या नही भी हो ...चारों तरफ दौड़  लगाता  हैं .
और उसकी इसी मानसिकता का फायदा उठाने के लिए  चारो ओर  तंत्र  के नाम पर अपना मकसद पूरा करने के लिए लोगों सेमानो आज  पूरा बाजार भरा पड़ा   हैं .इनमे से कुछ सही  हो भी सकते हैं पर  तंत्र के नाम पर ठगी, धोखा करने वाले.व्यभिचारियों.और कुत्सिक मानसिकता वाले  तो आज कहाँ  कहाँ  नही  हैं.
और सलाहे भी ऐसी की ....
या तो इतना  बड़ा अनुष्ठान बतादिया जाता   हैं कि सामान्य व्यक्ति की पूरी जमापूंजी  उसी मे  समाप्त.और  फायदा  न होने पर कोई भी  कारण  गिना दिया जाता हैं .
या फिर  ऐसे  महंगे रत्न  पहिनने के लिए कहा  जाता  हैं  जिसको खरीद् पाने के लिए  उस सामान्य को न मालूम कितना धन से हाथ धोना  पड़े .
या
इतने महंगे यन्त्र माला  खरीदने के लिए कहा  जाना .

पर  जब इन सब के बाबजूद  हल न मिले समस्या का समुचित समाधान  न मिले तो  व्यक्ति का निराश हो जाना  स्वाभाविक सा हैं .
और इसका अगर बहुत ध्यान से  कोई कारण खोजा जाए  तो वह हैं**** हम स्वयम****हमकुछ ऐसे बन गए हैं की  किसी को भी अनुष्ठान के नाम पर या किसी अन्य कारण से धन  देकर कार्य करवाना ही है,हम मेहनत नहीं करेंगे बस  सीधे हमें  हल मिल जाए .सब कुछ स्वयं   ही हमारे मनोकुल  हो जाए ..हमें कुछ न करना पड़े. बस धन राशि  दे दी ..इस लाल च मे  बैठे  रहते हैं और अखबारों मे आने  वालोंअनेको धोखा धडी  की कहानी मे  से कभी हमारी भी एक कहानी आ जाये  तो .क्या आश्चर्य .
सदगुरुदेवजी ने हम सब को साधना  का रास्ता  बताया .यह दिव्य मार्ग हमारे सामने  रखा ..और सच माने आज भी यह  सब उतना  ही सटीक  हैं जितना पढ़ने मे  लगता   हैं .पर अगर हमने आलस्य को ही जीवन बना रखनाहैं तब क्या कहें.

आप सभी का साधना के प्रति रुझान और जून मास के लिए दी गयी साधनाओ को और अन्य साधनाओ को आपने किया और आपके परिणाम जो आपने हमें फेसबुक  या व्यक्तिगत रूप से बताये. वह तो हमारे उत्साह  को कई कई गुणा बढ़ाते हैं .
तो हम सभी ने इस बात पर बहुत सोच विचार किया  की क्यों न ..हम कुछ ऐसा करें की हमारे अपने ही भाई  बहिन बार बार अनुष्ठान करवानेके नाम पर होने  वाले कई धोखों  से बचे,धोखा धड़ी  से बचे ,तंत्र के नाम पर ठ गी करने वालो से बचे  .....
सदगुरुदेव जी ने  तो हमें आत्म निर्भरबनाया   हैं ...बनने   को कहा हैं ....तो क्यों न वह स्वयम  ही  यह सब हम करें...क्योंकि अनुष्ठान के नाम पर या ..किसी ओर कारण गिना गिना कर  आखिर कितने बार कोई साधना सामग्री खरीद सकता  हैं ..कितना खर्च कर सकता   हैं..क्योंकि आज के  इस महगाई के युग मे .कैसे किसी सामान्य व्यक्ति का जीवन चलता   हैं वह हर कोई जानता   ही हैं .
इस हेतु हमने  NPRU  के अंतर्गत एक प्रकोष्ठ बनायाहैं ,जिसके   माध्यम से  आपकी समस्याए का  समाधान किया जायेगा .
पर इसका लाभ उठाने हेतु  आपको या तो अपना  प्रामाणिक जन्म समय और जन्म  चक्र या अपने हाथ का प्रामाणिक  फोटो जिसमे रेखाए स्पष्टता  से दिख  रही  हो. और जिस समस्या  का आप अभी समाधान चाहते  हैं उस एक या दो समस्या के बारे मे  विस्तार से लिखे.
और    अपने इ मेल भेजने से पहले  अपना मानस     साधना करने का अच्छी तरह से बना ले. क्योंकि हम कोई भी  अनुष्ठान या साधना आपकी समस्या निवारण हेतु नही करने जा रहे हैं. बल्कि आपकी समस्या .जान कर /समझ  कर आपके द्वारा  भेजे गए प्रामाणिक जन्म कुंडली या हस्त रेखा चित्र  से..अध्ययन करके .आपको एक साधना का  विधान भेज दिया जाएगा. जो आपकेलिए अनुकुल  सिद्ध होगी / लाभदायक सिद्ध   होगी .पर तब जब आप यह  साधना पुरे मनोयोग से करोगे.तो आपको मन लगाकर पूरी निष्ठा के साथ साधना  करना ही पड़ेगी.
और इस साधना मे कोई भी महंगा यंत्र माला  या साधना सामग्री नही लगना हैं बल्कि घर मे आसानी से उपलब्ध होने  वाली चीजे या जो आसानी से आस पास मिल जाए ऐसी सामग्री का ही उपयोग हैं या कहीं पर कोइ  यंत्र की बात आती हैं  तो आप स्वयं ही उसका निर्माण कर सकते हैं .
क्यूंकि याद रखिये तंत्र में यदि कठिनतम साधनाएं है तो अभीष्ट प्राप्ति के सरलतम विधान भी है और हमारा उद्देश्य ही तंत्र की सुगमता सभी तक पंहुचाना है |
अतः इस हेतु न ही कोई महंगा प्रक्रिया या कठिन प्रक्रिया बताई  जाये की इतने लाख मंत्र जप अनिवार्य हैं.ऐसा कुछ भी नही .
इसका मतलब एक दम साफ़  हैं ..की अगर आप कर्म शीलबनाना चाहते  हैं .अगर सच मे आलस्य हटाकर खुद ही साधना करके  सफलता पाकर अपनी समस्या का निराकरण  करना चाहते हैं ..आत्म निर्भर होना चाहते हैं....और न  ही किसी के भी चक्करलगाकर...रोकर गिड  गिडा कर...समाधान मागना चाहते हैं ...
अगर आप साधना करने के लिए तैयार हैं ..पूरी निष्ठा के साथ   तो हम भी आपके साथ हैं .हम साधना विधान पूर्णतया के साथ आपको बताएँगे. जिन्हें सनातन काल से बहुतेरे बार परखा गया है और जब आप उनको पूरी श्रद्धा ,विश्वास के साथ संपन्न करेंगे ..तो निश्चय ही सदगुरुदेव जी के आशीर्वाद से हम अपने जीवन  को इन समयायाए  से मुक्त करके ....उच्च पथ पे ले जा सकते   हैं.
अब सोचना आपको हैं कि ..आपको साधना करके ,जिसमे कोई बड़ा अनुष्ठान नही .कोई भी महंगी साधना सामग्री नही ..न ही कोई कठिन क्लिष्ट ताम झाम रहेगा की उसे करके समाधान या हल प्राप्त  करें..
या..
करते रहे अपने बहुमूल्य समय ..धन की बर्बादी .और् खोजते  रहे ऐसी किसी को  जो आपके लिए ...सब कुछ करदे ....
पर इस बात का ध्यान रहे ..सदगुरुदेव का शिष्य न तो दीन  होगा  न ही हीन होगा. अगर उसने  खुद  को मान लिया हो वो बात अलग हैं. वास्तव मे सदगुरुदेव का शिष्य  तो हर हाल मे कर्म शील बन कर अपने जीवन को उच्चता  की ओर ले जायेगा .
और जब आज हम आपके  ही भाई बहिन ...हमसे जितना भी बन पड़े ,इसके लिए आपके  सामने हैं. एक पूरा प्रकोष्ठ  बनाया हैं तब ...क्या आप अभी भी सोचंगे .या कमर कस  कर साधना कर स्वयं ही हल प्राप्त करने के लिए और समस्या का निवारण करने के लिए तैयार...

तो जो भी आप की समस्या  हैं उसेnikhilalchemy2@yahoo.com पर भेज दे .हम जितनी जल्दी संभव होगा आपके लिए उपयुक्त साधना विधान भेजेगे .और यह ध्यान मे  रहे .यह सारी व्यवस्था आपके लिए पूर्णतया निशुल्क हैं .
कोई भी ज्ञात या अज्ञात शुल्क नही लिया जायेगा इस सन्दर्भ मे ...

अब आपको अपनी समस्या का समाधान  के लिए यह साधना का  रास्ता खुद चुनना   हैं .वह भी जब आपके  भाई बहिन आपकी सहायता के लिए यह समस्या समाधान का सारा कार्य निशुल्क कररहे हैं  
 हम यह तो नही कहते की आपकी समस्या पूरी जड़ से ही समाप्त हो जायेगी या आपके लिए जो आपके भाग्य मे न हो वह यहकर देगी .क्योंकि भाग्य निर्माण  तो सदगुरुदेव के हाथों मे हैं .पर यह जरुर हैं की लाभ का यदि एक भी प्रतिशत  यदि आपके भाग्य में है तो साधना उस एक प्रतिशत  को कई गुणा बढ़ा सकती हैं  .और यदि कहीं पूरी हानि की बात उठ रही हैं तो  उस संभावित हानिको बहुत  ही कम ना के बराबर कर सकती  हैं.
क्या  यह शुभ सूचना नही हैं, तो आप साधना करने का मन बनाये ..और हम सभी NPRU TEAM MEMBERS  यहाँ पर आपके  साथ हैं ही .

****NPRU****

1 comment:

MUKESH SAXENA said...

bahut achchha prayaas hai,bhaiyya.aur agar itni facility milne kebaad bhi hum khud kuchh na karna chahein,to phir humko apne aapko sadgurudev ka shishya hi nahin kehna chahiye,kyonke hamaare sadgurudev ji ne apne sabhi shishyon ko hamaesha karmsheel bane rehna sikhaya hai.

iss yug mein ,jab tantra ke naam par jyadatar log janta ko thag rahe hain,us ghanghor andhkaar ke beech aapka ye prayaas ek prakash ki kiran ki tarah hai.
hamara saubhagye hai jo hamein aap jaise varishth gurubhai/behno ka saath aur ashirvaad bhi hai.sadgurudev ke ashirvaad ke saath .
kehne ko hamaare paas shabd nahin hain,aap log jo pyaas kar rahe hain,aisa koi nahin karta.dhanya hain aap aur dhanya haipoori NPRU TEAM,jo sadgurudev ke sapne ko poora karne mein praan-pan se juti hui hai,hum bhi iss mission mein aapke saath hain bhaiyya.poori nishtha ke saath.jai sadgurudev.