There was an error in this gadget

Tuesday, July 24, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 3 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -3 )



 
My Friends,
Apsara or Yakshini Keelan Vidhaan has remain hidden up till now (In this context, first time Rozy Nikhil put forward one sadhna sequence in front of us which is available in our blog).Without it, how many time we have done sadhna in this context .But we were unaware of this fact that Keelan procedure is also one essential procedure and without it expecting success…??
Keelan means to bind it……..this word carries a normal meaning…..so that Apsara or Yakshini enters our life definitely and not only enter rather they remain in our life permanently as our friend. For this purpose, this procedure carries significance. As we have heard about sadhna of other yonis that in them promise is taken that they will stay with us for 1 year or 5 year or some more time. Is it similar with these sadhnas too….??
Definitely
Sometimes for one year, sometimes for years or sometimes for the whole life…..
But how will it be possible…??
For it, what will be the changes in Vidhaan.. We have to know this also.
Friends, the Vidhaan which I am talking about…….it does not mean that this Vidhaan will consume so many years and you will not reach basic sadhna. Nothing like this will happen.
It is not like this….rather learning necessary procedures and after learning doing them will put you on the doorsteps to success.
Because to be the disciple of capable Guru is achievement in itself. But far big achievement is that we establish knowledge, intensity and power of sadhna of Guru in ourselves as his blessing. Then only one normal sadhak can come in category of successful sadhak and Siddh.
Shishya should also be capable then only it is pride of being Shishya also…….and happiness of Guru that one of my son or daughter has imbibed my knowledge in right manner……and has not spent his energy in mere appreciation ….rather in become living scripture…..
And happening this this is good fortune……..otherwise anyone is free to appreciate…..
But getting Diksha from Sadgurudev and after that , successively rising in the four ladders of curious….sadhak…siddh…shishya and to imbibe one of infinite kalas of Sadgurudev’s infinite kalas completely and setting up an example in front of entire world……….this will be the test of our ability
This can be only attained by learning, not by…..sitting in home….thinking.
Now back to the amazing Vidhaan of this keelan .Is it possible that they can become life-partner in our life also..??
Why not…..this is also possible..
Meaning not our assistant in invisible form rather….
Yes bhai yes…..If you want them to be part of your life every time in human form then it is also possible…
But definitely Vidhaan will be something different for it…
Definitely,
So all those who have got interest in that Vidhaan, they can also get knowledge regarding that Vidhaan there.
Let me share one amazing thing with you after hearing which…..you….
When I was in office, all of my colleagues were very astonished seeing me wear one ring….at that time they were curious to know why I wore that ring.
And that was Asht Naagini Mudrika.I found it nice wearing it…because whenever someone saw that ring …..Become curious to know…and I answered all their questions in my smile that…..i don’t know why…
However I do not wear it now…SMILE
Reason is that when I was not getting success in big-2 sadhnas then I thought that let’s try easy-2 sadhnas and the easiest sadhna I found was Asht Naagini Sadhna.
I thought that first I should take permission from Sadgurudev.
He listened and said that if you wish to do….you have interest in these type of sadhnas….then go and do it.
I did it two times but success…?? (Because I did not know Vidhaan…then how could I have got success…)
I came in contact with bhai and we all were in first parad workshop. The moments of evening and night which we spent in discussion are invaluable.
Then one day Bhai discussed about Apsara Yakshini sadhna as one brother expressed desire that he definitely want to do it.
I told Bhai…..I also tried doing Asht Naagini sadhna…but was not able to do it
Bhai said it is not that easy Bhaiya
I told ….No bhai, it is very easy sadhna…
Bhai told Anu Bhaiya, when one Naag (snake) comes in room then how much scared we are? When she will come in sadhna time, then what will happen?? Tell
I told bhai listen, it does not happen like this…she will come in human form….then no problem
Bhai said who told you this that …….in human forms…..Bhaiya first she will come in that original form, after complete siddhi, thing is altogether different…
I thought for a while….said that Bhai….it is not written anywhere…..
Bhai said,, ask first those who have done this sadhna
And
Told all of us that one disciple of Sadgurudev said to Sadgurudev that can he get the suitable one among the yonis of para world as his life-partner. Sadgurudev for one moment saw his eye…
And provided him the special procedure of Naag Kanya.
(Friends, please understand that we have considered Naag and Sarp (Snake) as one and same thing. This is not correct. Various queens of Mahabharata fighter Arjuna and Lord Shri Krishna were from Naag Lok…then it means that it will be some other yoni.Isn’t?
In the similar manner we have considered Jaamvant as bear….and Lord Shri Krishna got married to daughter of Jaamvant Jaamvanti then it means that is there something wrong in our understanding…)
And that brother went on bank of river in night time and what happened there….how and what…
Let’s leave these things…..why will you want to know ….??
I don’t think that your interest…….
Let us come back to our topic
So in this sadhnas, there is amazing Vidhaan of Apsara Yakshini Sadhna.
And friends, when keelan of this sadhna is done in our life….then how success can remain far from us…
What is this Vidhaan and we all will understand its keys….
Now do not think that unknown secrets will be told to you in thousands of numbers. Rather secret is only secret because we have not known it and as we know it, then how can it still remain secret….
So do not consider this seminar……..merely as the medium of advertisement……because tomorrow somebody else will stand up and say that we are doing seminar in this much….then what..
Because everything is possible ….nothing is impossible in this world…
Regarding the talks of today I will only say that this seminar is not a medium to earn money. But it is also correct that whatever is being done for you, to make it happen needs some money. Isn’t ….whether it is special yantra……or something else….
It is not like that ten thousand people are coming…….few person become worried calculating returns…
Rather…the one who are fortunate…..who have intense desire…..who have got desire to live sadhnas…….Can siddhi be attained in reality, have mentality to experience that…..it is for those fortunate persons. Now how many can come, how many can’t, we never think about it…….The thing that always remains in our mind is that Sadgurudev has said some time that whenever he conducted any shivir, it was meant for only one or two sadhak, but the others who came it became their fortune.
In the similar manner, there are drops of nectar attained from the lotus feet of Sadgurudev whose one part can transform our sadhna life failure to success.
Now about money, then this fact has not remain hidden from you all that the Parad Shivling which Bhai make, is multiple times costlier than Parad Shivling available in market due to sanskars,gems,metals,quality and procedures…..Entire fees collected from the persons who are coming can be arranged by selling few of such Shivlings……
If only earning money has been the aim of us then………why these seminars should be organized. We have also said that if any sadhak wants to do Praan Pratishtha of Mandal Yantra himself then he can come in advance and do the Vidhaan himself at his own expenditure, and when you are doing Praan Pratishtha and Vidhaan yourself and that too by your own expenditure then nobody can accuse us……Besides it, scripture introducing hidden secrets of this subject could have also been published spending our own money….what about that…..
Just we and you all can meet and can learn knowledge with dignity from one of our brother and after attaining success if we get your company in completing our works (however, this is not a condition) then it will be our fortune.
So you have to think or as always time pass away and we are still busy preparing our mind….
To Be Continued….

==================================================
मेरे मित्रो ,
अप्सरा  या यक्षिणी कीलन विधान  तो अभी तक  गोपनीय रहा हैं .(इस सन्दर्भ  मे पहली बार   रोज़ी निखिल जी ने  एक साधना क्रम  हमारे सामने   रखा  हैं  वह  हमारे ब्लॉग मे  भी उपलब्ध हैं ) उसके बिना हम सभी  कितनी कितनी बार साधना कर  चुके  इस सन्दर्भ मे .पर हमें मालूम ही नही था .की यह कीलन प्रक्रिया  भी एक आवश्यक क्रिया हैं और बिना  इसके  सफलता  की  आशा  करना ....??
कीलन का मतलब कील देना ..सामान्य सा यही अर्थ निकलता हैं इस  शब्द  का ...तो   अप्सरा या यक्षिणी  का हमारे   जीवन मे  निश्चित रूप से प्रवेश  हो और   न केबल प्रवेश हो बल्कि उसे   हमारे जीवन मे  स्थायित्व  भी एक मित्र  एक दोस्त  के रूप मे मिले   इस हेतु इस प्रक्रिया का  महत्त्व   तो  हैं  .जिस तरह   हमने  अनेक योनियों  की साधना मे पढ़ा हैं की उन्हें  एक वर्ष या  पांच वर्ष  या  कुछ और समय के लिए ही   अपने  साथ  रहने के  वचन लिया   जाता   हैं तो क्या  इन साधनाओ मे  भी कुछ ऐसा हैं .???
 निश्चय  ही रूप  से ,
कई बार  एक वर्ष  या पांच वर्ष या   जीवन पर्यंत   भर के लिए   भी ..
पर कैसे  हो यह संभव ..??
.इसके लिए इसी विधान मे क्या क्या परिवर्तन करना  पड़ेगा .वह भी तो जानना  हैं .
मित्रो यहाँ पर  जो भी प्रक्रियाओं की मैं बात कर रहा हूँ ..तो इसका मतलब यह नही की ये प्रक्रिया   कई कई सालों  तक चलती रहेगी और  आप मूल साधना   तक कभी भी न आ पाओ .ऐसा कुछ नही हैं .
यह  बात  नही  हैं ..बल्कि आवश्यक क्रियाए  सीखना  और  सीख कर भली भांति करने  पर मानो .सफलता आपके समक्ष   होगी .
क्योंकि  समर्थ गुरू  का शिष्य  होना    तो अपने  आप मे  उपलब्धि  हैं   ही  .पर उससे भी बड़ी यह उपलब्धि  हैं की अपने  गुरू का ज्ञान तेज  ओज  साधनाबल   हम अपने   आप मे ..जीवन  मे  पूरी तरह से उनके आशीर्वाद  रूप मे  .....उन्हें  पहले   ह्रदय मे स्थापित कर   पाए  तभी तो  एक सामन्य  साधक ...सफल साधक और सिद्ध  तक बनने की श्रेणी मे  आ जाता   हैं .
शिष्य को भी समर्थ होना  ही चहिये  तभी  तो  शिष्य का भी गौरव हैं .और उसके  गुरू की प्रसन्नता  की मेरा एक पुत्र पुत्री ने मेरे ज्ञान को सही ढंग से आत्मसात  किया   हैं .सिर्फ जय कार लगा ने मे  ऊर्जा लगायी नही  .बल्कि एक जीवित जाग्रत ग्रन्थ बनने  मे ....
और  ऐसा होना  एक सौभाग्य  हैं ..नही  तो जय कार लगाने  तो ..कोई भी स्वतंत्र   हैं ही .
पर सदगुरुदेव जी से दीक्षा प्राप्त करना   और  उसके  बाद  जिज्ञासु ,,,साधक ..सिद्ध...शिष्य  क्रमशः  इन चारो  सीढयों  पर  चढते  जाना .और सदगुरुदेव जी  की अनन्त कलालो मे से किसी  एक भी कला को पूर्णता से धारण कर सम्पूर्ण विश्व के सामने .एक उदाहरण  उपस्थित करना ...यह होगा  हमारी  योग्यता का परिचय

यह तो ज्ञान सीखने मे  होगा  न ..के  घर बैठे   ..सिर्फ सोचते   रहे .अब इसी कीलन का  एक अद्भुत विधान की क्या यह सम्भव हैं की ये हमारे जीवन मे  हमारी जीवन साथी  भी बन सके ..??
क्यों नही .यह भी समभव हैं ..
मतलब एक सहयोगी नही की अदृश्य रूपसे ही .बल्कि ..
 हाँ भाई   हाँ .....आप उन्हें एक मनुष्य  के  रूप मे  हरकाल मे  अपने जीवन के सहयोगी बनाना  चाहते   हो न    तो ये भी संभव हैं ...
पर निश्चित  रूप से इसका भी विधान   तो कुछ  अलग सा  होगा ..
बिलकुल होगा ,
तो जिनकी उस विधान मे रूचि हैं   तो वह भी यहाँ पर उस विधान के बारे मे  ज्ञानप्राप्त करसकते हैं .
चलिए आज एक आपको  अद्भुत आश्चर्य जनक बात भी बताता  हूँ जिसको सुन कर ..आपको ..
मैं ऑफिस मे रहा  तो मेरे साथ कार्यरत  रहे मित्रो को बहुत  ही आश्चर्य  रहता की मैं एक अंगूठी पहने करता . उस काल मे  सभी  को बहुत उत्सुकता  होती की किसलिए मैंवह पहना   करता  था .
अरे वह थी अष्ट नागिनी मुद्रिका .मुझे  तो पहनने मे  बहुत अच्छी  लगती ..क्योंकि जो भी उस  अनूठी को देखता ..वह ..सोच मे पड़ जाता .और मैं उसके सारे प्रशनो का  उत्तरमे   मुस्कान से  की..पता नही  क्यों...
हालांकि  आज नही पहिनता   हूँ ..SMILE
 कारण  ये हैं की जब बड़ी बड़ी साधनाओ मे सफलता नही मिल पा रही थी  तो सोचा की  सरल सरल साधनाओ मे भी  देख लिया  जाए  और जो सबसे  सरल साधना  लगी  वह  थी अष्ट नागिनी साधना .
मैंने सोचा की सदगुरुदेव जी के  पहले  परमिशन ले लूँ .
उन्होंने सुनकर  कहा की  तु करना चाहता  हैं..तेरी रूचि हैं इन साधनाओ मे ...तो  जा  कर कर ले ..
की दो बार की भी पर सफलता ...??(क्योंकि मुझे कोई भी  विधान आदि तो पता नही थे .तो कहा से सफलता मिलती ...)
 भाई से संपर्क  हुआ  और हम सभी   प्रथम पारद कार्यशाला मे  थे  शाम और  रात   के वह  क्षण   जो चर्चा मे  हम लोगों के  जो क्षण   गुजरे हैं वह अनमोल हैं ,
तभी एक दिन  भाई  ने अप्सरा यक्षिणी की चर्चा चलने  पर क्योंकि एक भाई ने  इच्छा जाहिर कर दी की उन्हें  करना ही करना हैं .
मैं ने कहा भाई ..मैंने भी अष्ट नागिनी साधना  करने की कोशिश की ..पर हुयी नही .
भाई बोले   वह इतनी आसान नही  हैं  भैया .
मैंने कहा .अरे छोडिये  वह  बहुत ही सरल साधना  हैं ..
भाई बोले  अरे अनुभैया .एक नाग कमरे मे आ जाता हैं तो सभी की जान  निकल जाती   हैं   जब वह साधना  काल मे आएगी  तब  क्या होगा ??बोलो .
मैंने कहा भाई  सुनिए  ऐसा कुछ  नही  होता ..वह् मानव रूप  मे आएगी .तो कोई प्रॉब्लम नही .
भाई  बोले ये कौन  ने ....कह दिया  की मानव रूप मे ...भैया पहले  वह अपने  उसि  रूप  मे आएगी ,पूर्ण
सिद्धि के बाद  बात अलग हैं ..
थोडा सा मैं भी  सोच मे पड़ा ..बोला भाई....  ये  तो कहीं लिखा  नही ..
भाई  बोले ,,जिन्होंने की  हैं  यह साधना ..पहले  उनसे पूंछो ..
और
मुझे मतलब शाम सभी को   यह बताया की सदगुरुदेव जी के एक शिष्य मे  सदगुरुदेव जीके सामने जा कर  कह दिया की  उसे  कोई परा जगत की योनी मे से  जो उनके योग्य   हो क्या  वह उन्हें जीवन साथी के रूपमे मिल सकती  हैं  .सदगुरुदेव जी ने  सीधे  एक पल के लिए  उसकी आखों मे  ताका ..

और  नागकन्या की  विशिष्ट विधि प्रदान कर दी .
(मित्रो यहाँ इस  बात समझ ले  हमने  नाग और सर्प को एक  ही मान लिया  हैं यह सही नही  हैं .महाभारत कालीन योद्धा अर्जुन और भगवान श्री कृष्ण  की अनेक रानिया  तो नाग  लोक   की थी .तब इसका  मतलब कोई  अन्य  योनी होगा  न.
ठीक इसीतरह हमने   रिक्ष राज  जामवंत  को भालू समझ लिया ..और जामवंत की पुत्री जामवंती  से भगवान  श्रीकृष्ण  का विवाह  हुआ   तो इसका मतलब कहीं हमारे  समझने मे ...)  
और  वह भाई .रात को चल पड़े .नदी किनारे   और् वहां  क्या हुआ ....कैसे .और  क्या ..
चलिए  इन बातों को छोडिये .आप कहाँ जानना चाहोगे ...???
मुझे नही लगता  की  आपकी कोई रूचि ..
वापिस अपनी बात  .
तो इन् साधनाओ  मे  मतलब अप्सरा  यक्षिणी साधना  का यह  अद्भुत   विधान  भी  हैं .
और मित्रो  जब यह  साधना  पूर्ण  रूप मे आपके जीबन मे  कीलन  कर दी जाए .तब भला सफलता  कैसे  दूर  हो सकती  हैं ..
यह विधान क्या हैं और इसकी कुंजिया भी जाने समझेंगे   हम सभी ..
अब इसका यह मतलब न निकाल ले  की  हज़ारो की संख्यामे   आपको  गुढ़ रहस्य बताये जायेगे .बल्कि रहस्य  तो सिर्फ इसलिए रहस्य हैं क्योंकि अभी तक  हमने जाना  नही   हैं   और जैसे ही  जाना   फिर वह कहा   रहस्य ...
तो इस सेमीनार   को ..सिर्फ प्रचार  का माध्यम  ना समझ लेना ...क्योंकि कल कोई और  खड़ा  हो जायेगा की हम  तो  बस इतने मे ही ...सेमीनार करवा रहे  हैं ...तब क्या ..
क्योंकि सब कुछ्संभव हैं ..संसार   मे  कुछ भी असंभव नही ...
आज दिन भर  जो बात रही  तो मैं भी इतना कहना चाहूँगा की यह सेमीनार कोई पैसे कमाने का माध्यम नही  हैं .पर   यह भी सही हैं की   जो कुछ भी आपके लिए किया जा रहा हैं  उसको संभव करने  मे  धन की आवश्यकता   तो  पड़ती हैं न .चाहे वह विशिष्ट  यन्त्र   हो ..औरकुछ अन्य भी ... .
यह कोई ऐसा  तो हैं नही की  दस हज़ार  लोग आ रहे  हो  तो ..कतिपय  लोग  गुणा भाग कर  परेशां  हो जाए की   ..
बल्कि ..जिनके भाग्य हैं ..जिनमे  ललक हैं ...जिनमे सच मे  साधना जीने की  इच्छा   हैं ..सिद्धि   क्या  सचमुच प्राप्त की जा सकती  हैं वह अनुभव करने का मानस   हो ....उन सौभाग्यशालियों  के लिए .. ही  हैं अब कितने आ  पाते हैं कितने    नही  यह हम नही सोचते ..हमारे मानस मे   तो सदैव  यही रहता हैं  जैसा की किसी काल मे सदगुरुदेव ने कहा  था की  जब भी  वह शिविर  करवाते   तो  कोई  न कोई एक  या दो साधक  ही  ऐसे  होते  जिनके लिए  सदगुरुदेव   जी ने  यह  शिविर आयोजित करा  पर जो अन्य आये  वह उनका भी भाग्य  बन जाता  .
ठीक  इसी तरह सदगुरुदेव के  चरण कमलों से प्राप्त कुछ  अमृत  बुँदे हैं जिनके  एक भी अंश हमारे  जीवन कि  सधानात्मक असफलता  को सफलता मे   बदल  दे सकता    है.

 अब रही बात  धन की  तो ये बात आपसे  छुपी नही हीं  हैं की भाई  जो भी पारद शिवलिंग बनाते हैं  वह संस्कारों,रत्नों,धातुओं और गुणवत्ता तथा क्रिया के आधार पर बाज़ार  मे  उपलब्ध  पारद  शिवलिंग से  कई कई कई गुणा ज्यादा महंगा   होता  हैं ..और ऐसे कुछ  शिवलिंग मे ही सारा लोग  जो आने वाले  हैं  उनसे प्राप्त राशि  आ  जायेगी ..

अगर्  सिर्फ  धन कमाना   ही हम सभी का लक्ष्य  होता   तो ......तब  फिर क्यों .ये  सब सेमीनार आयोजित किये जाए.हमने ये भी तो कहा है की यदि साधक मंडल यन्त्र की प्राण प्रतिष्ठा स्वयं करना चाहे तो वो आकर पहले से ही उस विधान को स्वयं के व्यय पर कर सकता है,और जब आप स्वयं ही प्राण प्रतिष्ठा और विधान कर रहे हो तथा आपने अपने हाथ से ही व्यय किया हो तब उसका दोष रोपण हम पर तो नहीं आएगा...साथ ही इस विषय के गुप्त रहस्यों से परिचय करवाता सूत्र ग्रन्थ भी अपनी लागत लगाने पर प्रकाशित हो सकता था...उसका क्या........
बस हम और आप आपस मे  मिल सके .ज्ञान को गरिमाँ के साथ अपने  ही एक भाई  से  सीख सकें और  सफल  हो कर अगर आपका साथ हमें ..अपने कार्योंमे पूर्णता  के साथ अगर मिलता हैं  (हालाकि   यह भी कोई शर्त   नही  हैं  .) तो यह हमारा भाग्य  होगा .
तो आपको सोचना   हैं या हमेशा की तरह  पल निकलते   जाए   औत  हम मानस बना ही नही पाए ...

क्रमशः .
****ANU NIKHIL****
****NPRU ****

2 comments:

MUKESH SAXENA said...

hum jaante hain arif bhaiyya,dhan kamana aapkki NPRU TEAM ka aim nahin hai,aur aap to apne chhhote bhaiyon aur behno ko sirf guide kar rahe hain ke kaise kisi sadhna mein safalta hasil ki ja sakti hai.ab uss sadhna se sambandhit vishisht yatron / mudrika/parad gutika and anya samagri nirmaan karne mein kharch to aiyega hi.woh bhi to poora karna hi padega kahin na kahin se,agar iske liye hum apna kuchh chhota sa yogdaan kar bhi diya to yebhi to hum apne bhavishya ke liye hi to kar rahe hain.koi kuchh bhi kahe,lekin har ek ka dil jaanta hai ke aap aur poori NPRU TEAM ne jo apne anya gurubhaiyon/behno ke liye jo prayaas kar rahe hain,uski koi misaal hi nahin hai.hatts of you,my all big brothers.jai sadgurudev , jai nikhileshwar.

MUKESH SAXENA said...

thanksfor this important blog,bhaiyya.
JAI SADGURUDEV.