There was an error in this gadget

Tuesday, July 10, 2012

FOR MEETING ONE’S OWN SELF – KAAL BHAIRAV SADHNA(खुद से खुद के मिलन हेतु – काल भैरव साधना)


                   


        
  
 
“Nature is one such stage on which if we  thought of doing something in our thoughts only, then you doing it or not doing it will affect only at materialistic level because this thing would have already happened in universe just as result of your thinking….”

कशमकश का एक अंतहीन सिलसिला- हमारा मन 

You all have read this fact in the article related to mind but this fact is not written merely for the sake of writing rather it has got a very deep meaning. I have repeated one thing told by my master in all my articles that Shunya (vacuum) or universe is one such kingdom where there is no place for words like impossible……..There all such things are possible which may be beyond our understanding in normal life.
Word “Possible” can possibly have thousands or millions of meaning because how one describe this word with which mentality, it all depends on how wide if the difference of opinion between one person and the other. However in Tantra this word has got only one meaning…….”Be capable so that wheel of time runs as per your desire”………..And this fact, Master teaches me always that Tantra does not run as per the expectation of foolish persons and the one who has won Kaal (Time) , nothing is left for him to conquer. We all know that Dashanan Raavan was timeless because he had tied his Kaal with the stake of his bed…….But we have never tried to understand that how he did it……..He was able to make it possible because he was one of the best Tantrik….and he conquered the Kaal Purush present inside him.
We all have one Kaal Purush inside us which is known among us as the copy of Shiva in Kaal Bhairav form. Bhairavs are 52 in number but best among them is Kaal Bhairav. There is no doubt in the fact that every Bhairav is ruler of one special Shakti .However Kaal Bhairav is respected as the master of all these bhairavs .So it is evident that if he is the master then he will be capable of bestowing maximum pleasure and fruit to sadhak in every circumstances. Therefore, this sadhna has been called the best sadhna of life. Every sadhna has got its special place in life but Kuber Sadhna, Durga Sadhna and Kaal Bhairav Sadhna are considered to be the pledge of life.
Now the most important thing that upon listening the name Bhairav, a strange wave of fear starts circulating in our mind, dreadful to dreadful shape starts appearing in front of our eyes, red eyes full of anger, black colour, strongly built body structure and so much more ??.There is one truth contrasting to it that where there is fear, even sadhna cannot be done there, then face to face Darshan is a distant dream.
But where lie a problem, there lays a solution too…..So to get rid of the fear related to the sadhna of Kaal Bhairav we have to understand him. As coin has got two sides, Kaal and Bhairav are two sides of same coin. Kaal means time and Bhairav means that person who has got the capability to win over time. Here Kaal does not mean only death rather all such things which are capable of reducing our mental pleasures. Now this problem can be related to physical, inner, mental or related to money.
Now the one, who is Kaal Purush, will never have fear from such problems because problem can’t stay in front of him. One of the most important differences between Devta and human beings is that Devtas have got limitations like Agni Dev (Fire God) can do works related only to the fire. He does not have anything to do with Varun Dev.In the similar manner Kaam Dev has nothing to do with these two and other gods. However, just opposite to it, human beings are only creatures who have got the whole universe embedded in them, who do not have any limits of doing work. What is needed is to activate the Purush present inside him and this is possible only when we have conquered the universe present inside us (Kaal).
Such one sadhna process, I am giving here which is very simple to do but the results obtained after this sadhna will surprise you. After doing this sadhna, not only your self-confidence will increase but the difficult to difficult sadhnas, you will be able to do without any fear and problem. After doing this sadhna, doing Kaal Sadhna becomes very easy which is capable of making you Kaal Gyaata i.e. you become capable of seeing past, future and present. So much of intensity comes in the eyes that even most arrogant person bows in front of you.
For this, you have to do one small process .On any Sunday, in midnight take bath, wear yellow dress and sit on the yellow aasan in worship-room. Just you have to Chant 11 rounds of below mantra.

Mantra:
OM KREEM BHRAM KLEEM BHRAM AING BHRAM BHAIRAVAAY BHRAM AING BHRAM KLEEM  BHRAM  KREEM  PHAT  

For doing this sadhna, direction will be west and lamp will be of til-oil.For success in any sadhna, blessings of Sadgurudev and Lord Ganpati is compulsory therefore start the sadhna only after worshipping Lord Ganpati. Before doing basic mantra, do at least 11 rounds necessarily of Guru Mantra. If you have accomplished any rosary using the process given by Master then use that rosary otherwise you can use the Guru Rosary which you use it daily. While doing sadhna, your chest should not be covered and if any Guru-Sister is doing this sadhna, this rule does not apply on him. After doing sadhna, dedicate the Mantra Jap to Sadgurudev. It may happen while doing sadhna, your body becomes too much hot, then do not panic. When energy blossoms insides you, such things are quite natural. Concentrate on your sadhna. After some time, situation will become normal.
Do this amazing process yourself and enjoy the change in your normal life. But keep one thing in mind that in any sadhna, it does not happen that today you did sadhna and tomorrow results are in front of you. For this, one has to keep a very close eye on his/her daily life because big transformation begins with small-small changes.
(Note: Please after doing sadhna, every day or in gap of few days, chant minimum one round or maximum as per your capability so that this mantra remains always accomplished for you)

========================================================
  प्रकृति एक ऐसा मंच है जिसपर यदि आपके चिंतन में भी किसी कार्य

            को करने का विचार आया तो फिर आपके द्वारा उस कार्य को करने या

           ना करने से सिर्फ भौतिक स्तर पर अंतर आएगा, क्योंकि ब्रह्मांड में वो

           घटना तो मात्र आपके चिंतन से ही घटित हो चुकी है......”

                                         कशमकश का एक अंतहीन सिलसिला- हमारा मन 

आपने यह तथ्य मन से संबंधित लेख में पढ़ा है किन्तु यह तथ्य मात्र पढ़ने के लिए नहीं लिखा गया था, अपितु इसके बहुत गहन अर्थ हैं. मैंने अपने हर लेख में मेरे मास्टर द्वारा समझाई गयी एक बात को हमेशा और बार – बार दोहराया है कि शून्य या ब्रह्मांड एक ऐसे साम्राज्य का नाम है जिसमें असंभव जैसे शब्दों का कोई स्थान नहीं है.....वहाँ हर वो चीज सम्भव है जो सामान्य बातों में सोच के भी परे हो.

 “ संभव “  शब्द के संभवतः हाजारों करोड़ों अर्थ हो सकते हैं क्योंकि कौन कैसी मानसिकता के साथ इस शब्द की व्याख्या करता है यह निर्भर करता है इस बात पर कि हर एक से दूसरे इंसान के बीच विचारों का मतभेद कितना गहरा है. किन्तु तंत्र में इस शब्द का एक ही अर्थ है......” सक्षम बनो तांकि काल का पहिया भी तुम्हारे हिसाब से चले “..... और यही बात मुझे मेरे मास्टर हमेशा समझाते हैं कि तंत्र मूर्खों की अपेक्षाओं पर नहीं चलता और जिसने काल का वरण कर लिया उसके लिए करने को कुछ और शेष नहीं रह जाता. हम सब जानते हैं कि दशानन रावण कालजयी थे क्योंकि उन्होंने अपने काल को अपने पलंग के खूंटे से बाँध रखा था....पर हमने कभी यह जानने की चेष्टा नहीं की कि उन्होंने ऐसा किया कैसे था....वो यह सब इसलिए संभव कर पाए थे क्योंकि वो एक श्रेष्ठ तांत्रिक थे....और उन्होंने अपने अंदर के काल पुरुष पर विजय प्राप्त कर ली थी.

हम सब के अंदर एक काल पुरुष होता है जिससे हम शिव के प्रतिरूप काल भैरव के रूप में परिचित हैं. भैरव कुल ५२ होते हैं पर इनमें से सबसे श्रेष्ठ काल भैरव हैं. इसमें कोई दो-राय नहीं है कि हर भैरव एक विशेष शक्ति के अधिपति हैं पर काल भैरव को इन सब भैरवों के स्वामित्व का सम्मान प्राप्त है और ज़ाहिर है यदि यह स्वामी है तो हर परिस्थिति में अपने साधक को अधिक से अधिकतम सुख और फल प्रदान करने वाले होंगे, इसीलिए इनकी साधना को जीवन की श्रेष्टतम साधना कहा गया है. वैसे तो हर साधना का हमारे जीवन में विशेष स्थान है पर कुबेर साधना, दुर्गा साधना और काल भैरव साधना को जीवन की धरोहर माना गया है.

 अब सबसे बड़ी बात यह है कि भैरव नाम सुनते ही मन में एक अजीब से भय का संचार होने लगता है, भयंकर से भयंकर आकृति आँखों के सामने उभरने लगती है, गुस्से से भरी लाल सुर्ख आँखें, सियाह काला रंग, लंबा – चौड़ा डील डोल और ना-जाने क्या, क्या??? इसके विपरीत एक सच यह भी है जहाँ भय हो वहाँ साधना नहीं हो सकती और साक्षत्कार तो दूर की बात है.

 किन्तु जहाँ समस्या वहाँ समाधान....तो काल भैरव की साधना से सम्बंधित डर से मुक्ति पाने के लिए हमें इनको समझना पड़ेगा. जैसे सिक्के के दो पहलु होते हैं वैसे ही काल और भैरव एक सिक्के के दो पक्ष हैं. काल का अर्थ है समय और भैरव का अर्थ है वो पुरुष जिसमें काल पर विजय प्राप्त करने की क्षमता हो. अब यहाँ काल का अर्थ सिर्फ मृत्यु नहीं है अपितु हर उस वस्तु से है जो हमारे मानसिक सुखों को क्षीण करने में सक्षम हो. अब यह समस्या शारीरिक, आंतरिक, मानसिक, और रुपये पैसे से संबंधित कैसी भी हो सकती है.

अब जो काल पुरुष होगा उसे इनमें से किसी समस्या का भय नहीं होगा क्योंकि समस्या उसके सामने ठहर ही नहीं सकती. देवता और मनुष्यों में सबसे बड़ा अंतर यही है कि देवताओं की सीमाएं होती है जैसे अग्नि देव मात्र अग्नि से संबंधित कार्य कर सकते हैं उनका वरुण देव से कोई लेना देना नहीं, इसी प्रकार काम देव का इन दोने और अन्य देवताओं से कोई सरोकार नहीं, जबकि इसके विपरीत केवल मनुष्य ही एक ऐसा प्राणी हैं जिसके अंदर पूरा ब्रह्मांड समाहित है, जिसकी किसी भी कार्य को करने की कोई सीमा नहीं बस जरूरत है तो उसे अपने अंदर के पुरुष को जगाने की और यह तभी संभव है जब हमने हमारे ही अंदर के ब्रह्मांड को अर्थात काल को जीत लिया हो.

ऐसा ही एक साधना विधान यहाँ दे रही हूँ जो करने में बेहद सरल तो है ही पर इस विधान को करने के बाद के नतीजे आपको आश्चर्यचकित कर देंगे. इस साधना को करने के बाद ना केवल आपमें आत्म विश्वास बढ़ेगा बल्कि जटिल से जटिल साधनाएं भी आप बिना किसी भय और समस्या के कर पायेंगे. इस साधना को करने के पश्चात काल साधना करना सहज हो जाता है जो आपको काल ज्ञाता बनाने में सक्षम है अर्थात आप भूत, भविष्य, वर्तमान सब देखने में सामर्थ्यवान हो जाते हैं. आँखों में एक ऐसी तीव्रता आ जाती है कि हठी से हठी मनुष्य भी आपके समक्ष घुटने टेक देता है.

इसके लिए आपको बस यह एक छोटा सा विधान करना है. किसी भी रविवार मध्यरात्रि काल में नहा धोकर अपने पूजा के स्थान में पीले वस्त्र पहन कर पीले आसान पर बैठ कर आपको निम्न मंत्र का मात्र ११ माला मंत्र जाप करना है.

मंत्र -

   || ओम क्रीं भ्रं क्लीं भ्रं ऐं भ्रं भैरवाय भ्रं ऐं भ्रं क्लीं भ्रं क्रीं फट ||

OM KREEM BHRAM KLEEM BHRAM AING BHRAM BHAIRAVAAY BHRAM AING BHRAM KLEEM  BHRAM  KREEM  PHAT     



साधना को करते समय आपकी दिशा पश्चिम होगी और दीपक तिल के तेल का जलाना है. किसी भी साधना में सफलता हेतु सदगुरुदेव का और विघ्नहर्ता भगवान गणपति का आशीर्वाद अति अनिवार्य है इसलिए भागवान गणपति की अर्चना करने के पश्चात ही साधना प्रारंभ करें और मूल मंत्र की माला शुरू करने से पहले कम से कम गुरुमंत्र की ११ माला का जाप जरूर कर लें. मास्टर द्वारा दिए गए विधान में यदि आपने कोई माला सिद्ध की हो तो आप उसका उपयोग करें अन्यथा गुरु माला जिससे आप अपनी नित्य साधना करते हैं उसी का उपयोग कर सकते हैं. साधना करते समय आपका वक्षस्थल अनावर्त होना चाहिए और यदि कोई गुरु बहन इस विधान को सम्पन्न कर रही है तो उन पर यह नियम लागू नहीं होता. साधना के पश्चात अपना पूरा मंत्र जाप सदगुरुदेव को समर्पित कर दें और एक जरूरी बात हो सकता है की साधना के दौरान आपका शरीर बहुत जादा गर्म हो जाए या ऐसा लगे जैसे गर्मी के कारण मितली आ रही है तो घबरायें नहीं, जब आपके अंदर उर्जा का प्रस्फुटन होता है तो ऐसा होना स्वाभाविक है. अपनी साधना पर केंद्रित रहें थोड़ी देर बाद स्थिति अपने आप सामान्य हो जायेगी.

खुद इस अद्भुत विधान को करके देखें और अपने सामान्य जीवन में बदलाव का आनंद लें, पर एक बात का ध्यान जरूर रखें किसी भी साधना में ऐसा कभी नहीं होता है की आज साधना की और कल नतीजा आपके सामने आ जायेगा, इसके लिए आपको अपने दैनिक जीवन पर बड़ी बारीकी से नज़र रखनी पड़ती है क्योकि बड़े बदलाव की शुरुआत छोटे छोटे परिवर्तनों से होती है.

(नोट – कृपा साधना करने के पश्चात हर दिन या कुछ दिनों के अंतराल से की गयी साधना की न्यूनतम एक माला या अधिकतम अपनी क्षमता के अनुसार जितनी चाहें उतनी माला मंत्र जाप कर लें जिससे की यह मंत्र सदा सर्वदा आपको सिद्ध रहे.)

निखिल प्रणाम

****ROZY NIKHIL***

****NPRU****  


3 comments:

Amit Nikhil said...

lots of thanks dee..
itni badi aur sreshthha sadhana ko apne itne
chhote se viddhan me de diya,
aisi kriyaen ya to Gurudev NIKHIL hi
kar sakte h ya sirf unke Atmansh.

MUKESH SAXENA said...

bahut adbhut sadhna di hai aapne,rozy bahan ,aapko koti koti danyawaad iske liye.

anil - for u anytime,any where said...

Thanks for introducing such a wonderful Sadhana.
I have some doubt about further repeatation by regular intervals. Whether it is done with same manner like in the mid-night with yellow cloths & a lamp of Til-oil OR can be done at any time during 24 hours with regular cloths with a lamp of regular usage in daily prayer. Please clarify, again thanks for meeting own-self, thanks a lot- Anil, Pune