There was an error in this gadget

Tuesday, January 1, 2013

ITAR YONI RAHASYA AUR KARN PISHACHINI VARG SADHNA RAHASYA SEMANAAR - 4



There are so many dimensions of Tantra Shastra. Some are secretive, some are known, and some have fractionally come in light. Completing any sadhna or any sadhna of Dev category does not mean that you have made that Dev Shakti your servant. Some people live their lives in this illusion that if they have accomplished any small prayog of any Dev or Apdev (sub-god) Category then they have become best tantrik. It is not like this rather that sadhna could be done in so many ways through various schools of Tantra.Similarily, in any one school, sadhna can have many dimensions. Here one thing that is needed is the capability to continuously attain the flow of knowledge and upon accomplishing it, imbibing it well and still remain normal.
And Sadgurudev Ji‘s whole life is example of the above fact. If you are capable of doing some procedure then it does not mean that you start ignoring the rules of Nature. Whenever anybody has done like this then he/she has to bear the consequences, that too when his/her immunity power is very much degraded. Then what is left is to bear the consequences and leading a lamented life. On the other hand, those who have accomplished these procedures and consider it to be one power among infinite collection of Sadgurudev Ji which they have known and use it after putting lot of thoughts and that too in hidden manner , his life has moved towards divinity.
Most of the people give example of sloka from Bhagwat Gita that those who do the upasana of Bhoot Pret they enter their yoni after their death. Those who give such examples, they forget that if Sadgurudev is in fate of someone and Sadgurudev resides in heart of sadhak and if it is done with his orders then what is the point of being fearful of ?? And Sadhak will always be worshipper of lotus feet of Sadgurudev; will have feeling to merge with him rather than focusing on something else. This is the point to be understood and we have to do the sadhnas one by one and progress ahead. We do not have to stop at any one sadhna. Then how far is it right to apply meaning of slokas on these sadhnas??
It all depends upon those people that whose orders they will follow. Therefore we should not become narrow-minded. Because if we go logically then some people can even say that every person is equal and is son of god then how can we make anyone Guru? And so on….? Remember that words can be used in any manner by capable person or argumentative person in order to prove their point right but we should understand the thing which our heart says. To add to it, the one who with open heart considers it as base of their culture, one of the essences of life and progress ahead in field of tantra and sadhna can attain all the things in life which is his aim. All these things cannot be taught by book. It cannot be taught be anyone who deliver discourse rather those who have done sadhna themselves, they can only tell the truth…..not the one which people say. 
Keeping these things in mind, those who have done Karn Matangi or any similar sadhna know and understand that it is not any ordinary accomplishment. If any lawyer does this sadhna …, if any police officer does this sadhna…, if any person deployed in higher secretive agency does it then how much work he can do for welfare of society.
But here one more thing can arise that if instead of doing right thing, he does exactly opposite then? And doing wrong has become habit of degraded nature of human, then what…? So it is certain that those who have such mentality, Sadgurudev authority will never allow them to attain accomplishment and if anyone commits a misdeed then he himself will have to face adverse circumstances. Sadgurudev Ji has made such an arrangement that such prayog will not work on any innocent person.
And if sadhak carefully read the writing of some Tantra Acharyas then he will know how helpful these sadhnas are in taking their spiritual life to high pedestal. And this can happen with any sadhak. For example, through Karn Pishaachini or Karn Bhairavi sadhna one can know the deep inside of the person who is looking ordinary or whose behavior seems ordinary and learn from it too. Not only Itar yonis can provide this information rather they can also provide information about Itar and other Loks. If you have desire to progress ahead in field of Para Science then it is opportunity to know about rare secrets…which are yet unheard and seems impossible.
But for all this to happen we have to cleanse our thought process that I have to imbibe this science , I have to politely learn this divine knowledge of Sadgurudev from seniors , do sadhna and become witness ourselves to the fact that how are sadhnas done in reality and we can become witness to those unparalleled dimensions which nobody knows. And not only toward our life but we have responsibility to help others in society and to help others in hidden manner………or we can simply chant slogans that one day everything will happen…many people are still sitting trusting it and nobody knows how long they will sit…
Some sadhaks still are fool to think that they have taken Diksha and consider that just chant Guru Mantra 10/11 times or if anyone says sweet story, they just clap….
But have we seen Sadgurudev’s life, have we felt even the millionth fraction of his depth of sadhna. We boost of being part of his soul? But what it means to be part of his soul, how we ever tried to understand it. Will it always be Sadgurudev who will keep reminding of this fact but we will never think our self that are we worthy of being called so. So why should not we try to bring that eligibility inside us.
Disciple is the one who in order to attain knowledge and completeness does introspection continuously….. A Guru can bind you by saying that you should not go to particular person because he is fraud or….But Sadgurudev always says that go anywhere where you find knowledge because there can be no alternative besides me . If you are part of my Praan, part of my soul and not only my energy, but my blood is flowing in your veins then you will have consciousness to think that “Why Sadgurudev’s prayer is done by saying him as embodiment of knowledge”. One who gives discourse can become Guru but Sadgurudev can be only one who is from so many births. If you have to imbibe that embodiment of knowledge then we will have to indulge in sadhnas, there is no other alternative……
Through this seminar, we (only as brother) are making an attempt to put forward such knowledge in front of our brothers and sisters so that they can imbibe it
To be continued…..

=====================================================
तंत्र शास्त्र के अनेको पहलु हैं,कुछ रहस्यमय से तो, कुछ जाने पहचाने से ,कुछ अभी भी अज्ञात मे तो, कुछ कुछ कुछ प्रकाश मे आये हुये और किसी भी साधना को या किसी भी देव वर्ग की साधना सम्पन्न करने का  यह अर्थ तो नही की आपने  उस देव शक्ति को मानो  अपना अनुचर ही बना लिया हैं.कुछ इसी भ्रम मे जीवन काट देते  हैं की यदि उन्होंने कुछ छोटा सा कोई प्रयोग किसी देव या अपदेववर्ग का भी सिद्ध कर लिया  तो मानो वे सर्वश्रेष्ठ  तांत्रिक हो गए,  ऐसा नही हैं बल्कि उसी साधना के यदि अनेको मार्गों मे  अलग अलग प्रकार से सम्पन्न  किया जा सकता हैं  तो  यह भी सत्य हैं की किसी एक ही प्रकार मे उस साधना के अनेको आयाम हो सकते हैं,यहाँ एक ही तथ्य की आवश्यकता हैं, वह हैं की ज्ञान के उस प्रवाह को सतत ग्रहण करने की सामर्थ्य और सिद्धिता पा जाने पर उसे अच्छी तरह से आत्मसात कर एक सामान्य सा व्यक्ति बने रहना .
और सदगुरुदेव जी ने अपने जीवन मे कई कई बार ही क्या, पूरा जीवन इस बात को ..इसी तथ्य को हम सबके सामने जीविंत किया,अपना ही स्वयं  उदाहरण रखा. आपसे कोई प्रक्रिया बनती हैं तो इसका यह मतलब नही की आप प्रकृति के नियमों की उपेक्षा करने  लगे.जब भी किसी ने ऐसा किया हैं तो उसे उसके परिणाम तो उसे सहन करने ही पड़े हैं वह भी जीवन के उस काल मे जहाँ या जब  आपके लड़ने की शक्ति कम पड़ जाए  तब सिर्फ सहन करना  और एक विलापित जीवन  ही शेष रह सकताहै,वह भी कितना लंबा कौन जाने .वहीँ दूसरी ओर जिन्होंने इन प्रक्रियाओं को सिद्ध किया और यह माना की यह तो सदगुरुदेव जी के अनंत भण्डार मे से एक शक्ति हैं जिसका उन्होंने परिचय पाया  हैं और बहुत  ही सोच विचार कर उसका उपयोग किया  वह भी पूरे गोपनीय तरीके से  तो उसका जीवन और भी  दिव्यत्व की ओर बढ़ चला .
बहुधा लोग भगवद गीता के इस श्लोक  का बहुत उदाहरण देते रहते  की भूत प्रेत आदि की उपासना करें वाले  मृत्यु  उपरान्त उन्ही की योनी मे चले  जाते हैं ,वह उदहारण देने वाले यह बात भूल  जाते हैं की यदि सचमुच किसी के भाग्य मे सदगुरुदेव हैं ,और उस साधक के  ह्रदय मे  सदगुरुदेव स्थापित हैं.और यदि उनकी आज्ञा से यह किया जाता हैं तो फिर कैसा भय या समस्या??  और साधक  तो हमेशा से अपने  सदगुरुदेव के  श्री चरणों का उपासक होगा उसमे विलीन होने की भावना रखेगा  न की कोई और कृत्य .यह तो सोचने वाली बात हैं ,और हमें  तो एक एक करके  साधना  हस्तगत करना हैं और आगे बढते जाना हैं, हम कोई किसी एक ही साधना पर रुकने वाले थोड़ी न हैं. तब यह श्लोक का अर्थ इन साधनाओ पर लगाए जाना कहाँ तक उचित हैं??
यह तो उनके ऊपर हैं जो किस तरह का और किसकी आज्ञा का पालन करते  हैं .अतः किसी को भी यह संकोच अपने मन मे नही लाना चाहिए .क्योंकि  अगर तर्क पर चले  तो लोग तो यह भी कह देंगे की सभी व्यक्ति एक समान हैं और इश्वर की संतान हैं तब फिर किसी को कोई क्यों गुरू बनाए ? और पता नही क्या क्या ..?याद रखे शब्द  तो किसी भी कुशल मे हाथों मे या किसी भी कुतर्की  के हाथों मे अपने बात को सही ठहराने के लिए  कैसे भी कहे जा सकते हैं पर जो ह्रदय कहे, उसी बात को समझना चाहिए और साथ ही साथ एक खुले मन से अपनी संस्कृति का आधार समझते हुये, जीवन का एक अर्थ समझते हुये जो इस तंत्र ज्ञान, साधना ज्ञान के क्षेत्र मे  आगे जाता  हैं वह अपने  जीवन का वह सब कुछ पा सकता हैं  जो की उसके  जीवन का हेतु  होगा और यह कोई किताब नही सीखा सकती हैं यह कोई प्रवचनकार नही सीखा सकता हैं  बल्कि जिन्होंने  स्वयम साधना की हो वही बता सकते हैं की सच मे यह सत्य हैं.. न की वह जो लोग कहते हैं .
इसी बात को साक्षी मानते हुये जिन्होंने भी यह  कर्ण  मातंगी या इसके जैसे कोई भी  साधना की  हैं वह जानते हैं समझते हैं कि  यह भी कोई सामान्य उपलब्धि नही हैं ,अगर कोई वकील इस साधना  को कर ले  तो..,यदि कोई पुलिस ऑफिसर इस साधना को कर ले  तो ..,यदि कोई उच्चस्थ  गोपनीय विभाग मे पदस्थ व्यक्ति इसको कर ले  तो वह न लेबल अपने भौतिक जीवन बल्कि समाज के लिए कितनी  सहायता कर सकता हैं .
पर यहाँ  एक बात उठी की अगर उस्सने ऐसा न किया बल्कि कोई विपरीत कर्म  किया तो?
और विपरीत कार्य करना  तो मानव के अधोमुखी स्वाभाव की एक आदत हैं ,तब क्या ..?
तो निश्चय हैं की एक तो ऐसी मानसिकता वाले  को सदगुरुदेव सत्ता  कभी सिद्धिता  होने नही देगी और किसी ने कुछ  विपरीत कर्म किया  तो परिणाम भी  उसे विपरीत भुगतना होगा ही,सदगुरुदेव जी ने  पहले से यह व्यवस्था कर रखी हैं की कोई भी प्रयोग  किसी भी निपराध पर कार्यरत हो ही नही  सकेगा .
और साधक यदि ध्यान से कुछ तंत्र आचार्यों की कृति पढ़े  तो वह जान पायेगा की, यह साधनाए  उनके  आध्यात्मिक जीवन को ऊपर उठाने मे कितना सहयोगी हुयी और यही तो  एक साधक एक साथ भी  हो सकता हैं  ,उदाहरण के लिए कर्ण  पिशाचिनी या कर्ण भैरवी जैसी  साधना से या इसके माध्यम से आप सामने  वाले  व्यक्ति को जो बिलकुल ही सामान्य  सा लग रहा हैं और आचरण भी उसका सामान्य सा हैं उसके इस आचरण के पीछे  छुपे  गहन व्यक्तित्व को जान सकते हैं  और उससे  कुछ  सीख भी सकते हैं.वहीँ इतर योनियाँ  न केबल आपको सामने जानकारी बल्कि इतर लोको और अन्य लोकों  की जानकारी भी दे सकती हैं अगर आपका परा विज्ञानं क्षेत्र मे आगे  बढ़ने की इच्छा  हैं तो एक से एक दुर्लभ रहस्य और उनसे साक्षात्  करने के अवसर जो ..सुने ही नही और संभव से लगते भी नही हैं .
पर इन सबके लिए  तो पहले अपनी मानसिकता को परिमार्जित करना ही होगा की मुझे इस विज्ञानं को आत्मसात करना हैं, मुझे सदगुरुदेव के  इस दिव्य ज्ञान को पूरी तरह नम्रतापूर्वक अपने वरिस्ठो  से सीखना हैं और साधनारत होकर इन बातों का स्वयम ही प्रमाण बनना हैं, की किस तरह साधनाए  सच मे होती हैं और हम भी उन अद्वितीय आयामो के साक्षी बन् सकते हैं जिनसे शायद  ही कोई  परिचित  हो .और न केबल अपने  जीबन  बल्कि समाज  के लिए किसी को मदद पहुचाने के  लिए  और अज्ञात रूप से अनेको की सहायता के लिए भी तो हमारा कुछ  दायित्व हैं ..या फिर  सिर्फ जयकारा लगाते रहे की एक दिन सब कुछ हो जायेगा ..इसी भरोसे पर अभी भी कई बैठे हैं और शायद कब तक बैठे रहे..
कई कई साधक अभी भी इसी मूढता को प्रश्रय दे रहे हैं कि .उन्होनी  दीक्षा ले ली हैं और माने बैठे  हैं की  बस १० /११ बार गुरू मंत्र दिन मे कर लो या किसी ने कोई मीठी सी कहानी सुना दी  और उन्होने  लगादी तालियोंकी गडगड़ाहट  ..
पर कभी सदगुरुदेव के जीवन को देखा हैं उनकी साधना की गंभीरता  और निष्ठा के अंश के करोड़वे   हिस्से  को हमने महसूस भी किया हैं .कम से कम हम सभी उनके  आत्मांश होने का दंभ  जो भरते हैं ? कभी क्या मतलब होता हैं आत्मांश का यह समझना चाहा हैं की बस  सदगुरुदेव आपको हम याद दिलाते रहेंगे पर हम कभी खुद भी यह  न सोचेंगे की क्या हम हैं इस योग्य .  तो क्यों नही वह पात्रता हम लाने का  एक प्रयास करते ..
शिष्य वहीँ जो ज्ञान और अपनी पूर्णता  के लिए  सदैव  आत्म मंथन करता रहे ..एक गुरू बाँध सकता हैंकि तुम उस, उस के पास नही जाओ .क्योंकि वह फ्राड हैं या ...पर  जो सदगुरुदेव होते हैं वह कहते हैं की जाओ जहाँ  ज्ञान  हैं जाओ क्योंकि मेरे अतिरिक्त कोई ओर विकल्प हो ही नही सकता हैं .अगर मेरे प्राण अंश  हो, यदि मेरे आत्मांश  हो और मेरी ऊर्जा  ही नही, मेरा ही रक्त प्रवाह तुम्हारे अंदर हैं तो तुममे  वह चेतना भी होगी की तुम समझ सकोगे  की “क्यों सदगुरुदेव की स्तुति केवलं  ज्ञान मूर्ति कह कर की जाती  हैं “  एक प्रवचनकार गुरू  तो बन सकता हैं पर सदगुरुदेव तो एक ही होता हैं जो जन्मो जन्मातर से एक ही हैं उसी केबल ज्ञानमूर्ति को अपने अंदर उतरना हैं तो साधनामय   होना ही पड़ेगा  तपना ही पड़ेगा और कोई  रास्ता नही ..   
इसी ज्ञान को अपने  अंदर उतारने का या इसे आज अपने भाइयों  और बहिनों के समक्ष रखने का एक प्रयास  सेमीनार के माध्यम से हम कर रहे हैं .सिर्फ और सिर्फ एक भाई के रूप मे ...
क्रमशः
****NPRU****

No comments: