There was an error in this gadget

Saturday, January 5, 2013

ITAR YONI RAHASYA AUR KARN PISHACHINI VARG SADHNA RAHASYA SEMANAAR - 6


 
There are many dimensions and genres in sadhna field out of which best one is Tantra Sadhna. Today in this Kalyuga where person neither has time nor physical, mental and emotional purity then how will success be possible? Shall person feel dejected and sit idle? That’s why Lord Shankar gave emphasis on Tantra Sadhna in this Kalyuga for welfare of human and made clear that following any path except it is like playing with your time, money, age and fate. And it is our auspiciousness that due to affection of Sadgurudev Ji, divine Tantra Sadhna has become so much easily available to us, which had earlier, became symbol of fear, hatred and deplorable acts among people. Today society and even highly-educated category has started seeing it with respect and living example of this fact is many of our highly-educated brothers and sisters who hail from various section of society. Following these sadhnas, genres they have not only attained success but are also leading an organized life.
This is true that at various high-level dimensions, due to contingencies of time, a misconception is created or even it has been created. Person can not only imbibe its correct aspects by analyzing it through healthy view and positive thinking but also can become one example for society too. And such type of an effort is going to be made in this seminar. Where practical form of knowledge comes up directly in workshops but with it, there is always a danger that it can be passed directly to person having wrong mentality. On the other hand in seminar, we can very well feel and see keenness of person, his enthusiasm and his mentality many times and can choose him for practical knowledge or for workshops which will be organized in future. And such thing has also been happening. Reason is that now we do not have to show something to all publically, but only few capable one are required , even if they are one or two , but these few prove to be more powerful than those many  having weak mentality and in today’s circumstances , it is also essential.
Sadgurudev gave so many sadhna belonging to Tantra path on these Itar Yonis or superior Para Shakti or most superior Apara Shaktis in Mantra Tantra Yantra Magazine or in his discourses or in shivirs and taught sadhak about their various types and dimensions , gave his own example and all this happened with very high intensity in early years. But when Magazine became available to everyone, with its arrival in market, a category of mean mentality people arrived on scene that were not having shortage of money but definitely they were facing shortage of higher sentiments and were lacking politeness. Therefore Sadgurudev gave sadhnas but did not publish those facts which can only be given to eligible person by Guru himself. Person first of all wants to gratify his own ego. He did not want to see that higher-pedestal life rather he wants to see them as their servant.
After materialistic life of Sadgurudev Ji , tody such situation has emerged in front of us……that nobody is unaware of this situation , if new generation has desire to learn these facts or advanced facts which are basis of certain success , are necessity then how is it ;possible today? Who has got the time today to teach anybody those facts with so much of affection and be always with you in sadhna…?
Tantra is one such procedure where there is predominance of Shakti element and attaining success require a resolute mind.Getting sadhna of Itar Yoni by Tantra Path is so much fortunate.If all these facts and techniques are told by any capable and experienced person then it is like a boon because Tantra is like naked electrical wire of 440 volt where carrying out procedure in right manner leads to instatntaneous results.
And in today’s era where are sadhak having vitality and mentality to do sadhna of them and Para world???
And if there are any, they neither have control over their own nature nor over their words due to which they do not get chances which they could have got. Tantra sadhna is the way to expand oneself to infinity, experiencing and understanding own limitlessness. To add to that it is that golden path to complete dedicate one’s own self in lotus feet of Sadgurudev Ji leaving which and following other path is just a waste of time.
The path which has never been so much easy , but today with the infinite efforts of Sadgurudev Ji and spending his own life for this gigantic task , today we are fortunate to have such path made very easy. What is needed is that we should do these sadhna and attain success as soon as possible and progress ahead rather than wasting our time pondering over the fact that sadhna is like this or that……From where we are getting knowledge is not that much important as is that knowledge.
Has it originated from experience?
Is it authentic?
Is it capable of providing success?
It is very important that the Knowledgeable persons who have vision to verify, understand and feel that subtle things which any critic cannot understand, they should come forward to understand knowledge of these sadhnas of Tantra path. This sadhna of Itar Yoni , that too through Tantra path is amazing way to known about aim of life , getting introduced to it and making it beneficial not only for self but also for society and nation. And when such nice opportunity is so easily available then what is the use of wasting it and entangling yourself in useless logics.
May it be sadhna of Karn Pishaachini category or sadhna connected to Mahavidya category……all of them can be so much easy if person strongly makes up his mind that I have to attain success, I will not accept failure any more.And if he move ahead in accepting knowledge politely then he get the blessings of entire Guru authority from that moment, which always remains with him, if he experience it…. 
Do we need to still think that how much this seminar is/ could be important?? Those who are looking from money point of view, they will not know its importance…but who are seeing in terms of knowledge, for them it is golden opportunity…
Now it is your decision…..it is up to you….
We are politely waiting to welcome those strong and superior mentality brothers and sisters who want to imbibe this dignified knowledge given by Sadgurudev and fulfill the trust of Sadgurudev.
Only for those dear ones….
To Be Continued….

****************************************************
साधना क्षेत्र मे अनेको आयाम और विधाये हैं जिनमे से  एक सर्वोत्तम हैं, जिसे तंत्र साधना भी कहा गया हैं,आज इस कलयुग मे जहाँ व्यक्ति के पास न तो समय हैं, न ही उतनी शारीरिक,मानसिक,और भावनात्मक शुद्धता तब कैसे सफलता संभव हो ?.क्या व्यक्ति सिर्फ सफलता के लिए मन मार कर बैठ जाए और इसीलिए भगवान शंकर ने इस कलयुग मे मानव हितार्थ तंत्र साधना पर जोर दिया और स्पस्ट किया की इसे छोड़कर किसी अन्य मार्ग का अबलंबन  मानो अपने समय,धन,आयु और भाग्य से स्वयम खिलवाड़ करना हैं.और हमारा यह सौभाग्य हैं कि हमें सदगुरुदेव जी की करूणा के कारण हमें यह दिव्यता युक्त तंत्र साधना हमारे  लिए इतनी सुलभ हो सकी हैं,जो कभी लोगों मे भय और घृणा  और व्यभिचार प्रतीक सी बन् गयी थी, उसे आज समाज  और उच्च शिक्षित वर्ग भी अब सम्मान की दृष्टी से देखने लगा हैं और इसका एक जीता जागता उदहारण  हैं कि समाज के  अनेक उच्च शिक्षित, हमारे अपने भाई बहिन जो की हर वर्ग से हैं. इन साधनाओ को, इन विद्याओ को अपनाकर  आज न केबल सफल हो रहे हैं बल्कि  सुव्यवस्थित जीवन शैली को अपना भी रहे हैं .
यह एक सच हैं कि अनेको उच्च स्तरीय आयामों पर, एक कालगत दशा  के कारण, जो एक गलत धारणा   सी बन् जाती  हैं या बन् भी गयी हैं. उसे व्यक्ति एक सुलझी हुयी स्वस्थ दृष्टी  से समझ कर एक सकारात्मक चिंतन के माध्यम से  उसका सही पहलु  न केबल आत्मसात  कर सकता हैं ,बल्कि समाज के लिए एक उदाहरण भी बन् सकता हैं ,और कुछ ऐसा ही प्रयास  हमारे द्वारा, इन सेमीनार को आयोजित करने  मे किया जा  रहा हैं ,जहां कार्यशाला मे  सीधे ही ज्ञान का प्रायोगिक स्वरुप सामने आता हैं और एक खतरा भी सामने होता हैं कि गलत मानसिकता वाले व्यक्तित्व के हाथ मे  सीधे उसका चला जाना,वहीँ सेमीनार के माध्यम से हम बार बार एक व्यक्ति की ललक,  उसका उत्साह और उसकी मानसिकता को कहीं ज्यादा अच्छी तरह से महसूस कर सकते हैं,देख सकते हैं और उसे प्रायोगिक ज्ञान के लिए या भविष्य मे आयोजित होने वालें कार्यशालाओ के लिए भी चुन सकते हैं.और ऐसा हो भी रहा हैं,कारण यह हैं की अब हमें कोई सार्वजनिक रूप से सभी को दिखाना नही हैं,केबल कुछ योग्य वो भले ही  एक या दो हों,पर वे, उन सभी हलकी मानसिकता वाले  कई कई पर जायदा भारी पड़ते हैं और आज की परिस्थिती  मे यह अनिवार्य भी हैं .
सदगुरुदेव ने इन इतर योनी या इसका उच्च स्वरुप कहा जाए  तो परा शक्ति  और भी अगर उच्च स्वरुप को ध्यानमे रहा जाए तो अपरा शक्तियों  की  कई कई साधना तंत्र मार्ग से मंत्र तन्त्र यंत्र विज्ञान पत्रिका या अपने प्रवचनों मे, शिविर मे दी और साधको को उसके सभी आयाम और प्रकार से समझाया भी, अपना भी उदाहरण  भी सामने रखा और यह सब कुछ ज्यादा ही तीव्रता से प्रारम्भ  के वर्षों मे हुआ  फिर जब पत्रिका का सभी के लिए  उपलब्ध होना हुआ. उसका मार्केट मे आने से कुछ हलकी मानसिकता  वाले वर्ग का भी आगमन हुआ  जिसके पास  धन की  तो कोई कमी  नही थी पर ह्रदय और उच्च भाव की जरुर कमी रही, जिसमे नम्रता का सर्वथाअभाव रहा तो इस कारण सदगुरुदेव जीने यह साधनाए तो दी पर बहुत कुछ सूत्र उन्होंने गुरू मुख से प्राप्त होने की पात्रता  रखने वालों के लिए सोच कर.... उसे प्रकाशित नही किया.क्योंकि व्यक्ति सबसे पहले अपने अहम की संतुष्ठ  पहले होना चाहता  हैं वह उस उच्च धरातल  को जीना  नही बल्कि उसे, अपने अनुचर के रूप मे  ही देखता हैं .
सदगुरुदेव जी की सदेह लीला काल के समापन होने के बाद जो अवस्था आज सामने  आ गयी ....की उस अवस्था से कौन नही  परिचित हैं और नयी पीढ़ी अब चाह कर भी वह सूत्र या उससे भी आगे के सूत्र,  जो निश्चित सफलता के लिए एक आधार हैं,एक अनिवार्यता  हैं अगर  पाना  चाहे भी  तो आज कहाँ संभव हैं? किसके पास समय हैं की उन  तथ्यों को कोई आज उतने स्नेह से ....उतने समय देकर समझाए  और साधना मे स्वयं सदेह  साथ मे लगातार खड़ा रहे ..?
तंत्र तो एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे शक्ति ही शक्ति  तत्व  हैं.जहाँ सफलता के लिए एक दृढ मनो मस्तिष्क चाहिए.इतर योनी की साधना तंत्र मार्ग से  मिलना तो एक सौभाग्य हैं  यदि उसके सारे सूत्र और प्रविधि आपको कोई योग्य अनुभवी बताये तो यह वरदान जैसा हैं,क्योंकि तंत्र तो सीधे  एक ४४० वोल्ट के करेंट से युक्त बिजली का नग्न तार हैं जहाँ आपने  ठीक ढंग से प्रक्रिया की और आपको तत्काल परिणाम भी  मिला.
और आज के युग मे इन पर और परा जगत की साधना करने की मानसिकता रखने वाले  और ऐसे  जीवटता वाले साधक हैं कहाँ  ???
और कहीं हैं भी तो उन्हें न तो अपने स्वाभाव पर, न अपने शब्दों पर न कोई नियंत्रण है जिससे की उन्हें मिलने  वाले अवसर भी उन्हें न मिल पाते हैं .तंत्र साधना तो अपने आप को अनन्त तक विस्तार देने का, अपनी असीमता को समझने का और अनुभव करने का.  साथ ही साथ अपने सदगुरुदेव जी के श्री चरणों मे पूर्णतया समर्पित होने का वह राज मार्ग हैं की उसे छोड़कर कोई अन्य मार्ग अपनाने वाले को क्या कहा  जाए .
जो मार्ग कभी भी इतना आसान नही रहा ,पर आज सदगुरुदेव जीके अनथक प्रयासों और उनके अपने  सारे जीवन की आहुति इस विराट कार्य  को करने मे, दे देने के कारण हम को यह वरदान इतना  सुलभ हैं.हमें चाहिये की हम इन साधनाओ को  करें  और जल्द से जल्द इनमे सफलता पा कर ,आगे  बढे ....न की ये साधना  ऐसी हैं  या वैसी हैं  यह सोचकर अपना समय नष्ट करें..ज्ञान कहाँ से  मिल रहा  हैं यह महत्वपूर्ण  उतना नही हैं,जितना की वह ज्ञान  
क्या अनुभव की भट्टी से निकला हैं?
 क्या वह प्रमाणित हैं ?
क्या वह सफलता देने  मे सामर्थ्य  हैं?
 यह महत्वपूर्ण हैं, जो ज्ञानवान हैं, जिनकी दृष्टी  उस सूक्ष्मता को भी परख लेती हैं, समझ लेती हैं अनुभव कर लेती है. जिसे  कोई  आलोचक नही समझ सकता तो उन्हें इन प्रक्रियाओं  को जो तंत्र मार्ग की हैं, आगे  बढ़कर इन साधनाओ  के ज्ञान को समझने मे आगे आना  ही चाहिए .यह इतर योनी की साधना, वह भी तंत्र मार्ग से हमें हमारे जीवन के हेतु से,हमें  परिचित कराने के लिए  और  उसे न केबल अपने  बल्कि समाज के लिए देश केलिए  हित कारक  बंनाने के लिए, एक अद्वितीय  उपाय हैं,और आज जब यह सुअवसर  इतनी आसानी से  उपलब्ध हो रहा हैं तब इस को चूकना  और व्यर्थ के तर्कों मे अब फसने  का क्या अर्थ हैं .
फिर वह चाहे कर्ण पिशाचिनी वर्ग की साधना हो या महाविद्या वर्ग से जुडी हुयी यही साधनाए ..सभी कितनी  सहज  हो सकती हैं अगर व्यक्ति सच मे  दृढ़ता पूर्वक अपना मानस बना ले की मुझे सफल  होना ही हैं,की अब मुझे असफलता स्वीकार नही,और यदि वह  नम्रता पूर्वक ज्ञान  को स्वीकार करने  मे आगे बढे  तो सारी गुरू सत्ता का आशीर्वाद उस पल से उसे मिलता ही,  जो की सदैव से उसके साथ होता ही हैं.अगर वह अनुभव कर सकें तो ..
क्या अब भी कोई सोचने  की कोई बात हैं कि यह सेमीनार कितना  महत्वपूर्ण हैं ..या हो सकता हैं ?? जो सिर्फ धन की दृष्टी से देखते हैं उन्हें  तो शायद नही.....  पर जो ज्ञान की दृष्टी से देखते हैं उनके लिए   तो मानो ..स्वर्णिम अवसर ..
अब आपका क्या  निर्णय  हैं ..यह तो आप पर  ही हैं ....
क्रमश:
हम तो विन्रमता पूर्वक ,उन दृढ उच्च मनो भाव  युक्त अपने ही भाई बहिन का स्वागत करने के लिए  आतुर हैं जिन्हें सदगुरुदेव प्रदत्त यह गौरवमयी धरोहर को आत्मसात कर अपने जीवन और सदगुरुदेव के विश्वास को एक एक साकारता देनी ही हैं ..
केबल उन्ही अपनों के लिए  
क्रमशः

****NPRU****

No comments: