There was an error in this gadget

Tuesday, January 15, 2013

SARVDOSHNIVAARAK -ANUPARIVARTAN AADITYA BHADRAKAALI PRAYOG


 
SURYA AATMA JAGATAH TASTHUSHSCH||
Person gets entangled in complications of life and gets deviated from basic aim of life. And such thing happened with our family.
It had been some years we came to Bhopal…..we had capability…………We had also acquired the knowledge to make circumstances favourable by Sadgurudev’s grace……..But whenever we tried to implement it………it seemed that entire nature is opposing our efforts………circumstances were turning from bad to worse…..Earlier, we used to face financial problems and mental complications in the period from May to July but now it had become case for the whole year………Whenever I say to my husband that please study horoscope of both of us…..after all when we will overcome this situation….Is there no way to get out of it?? 
I have studied our horoscope so many times……And Sadgurudev have also told Vidhaan to make this situation favourable……But biggest problem is that whenever I start preparing to do this Vidhaan…….nature creates such an environment so that I could not do this prayog……..I am trying from last 6 years to do it but every time I could not stay at my residence on these 3 days and I have to pay a heavy price for it……Our life has become so cumbersome……debt, unemployment and scarcity have become our fate due to previous life karmas….And I have strong belief that all Lakshmi attainment prayog done by us will yield result when we do this Vidhaan- Saying this, he answered my question
So will we have to suffer throughout our life….
No it is not like this……But for it to happen, I do not have to let this year go unutilised…….Makar Sakranti is just around the corner and this prayog can be done on any one Thursday out of three Thursday subsequent to Sakranti. And you are aware that in last 6 years, I was not able to stay at home in January month on Thursday due to indispensible reasons…..Have you thought….why it happen like this…..
Why??
Because when January comes, I become alert that I do not have to waste my life and sadhnas…..There were some such decisions too as a result of which there was impact on sadhna power of previous life and consequences of those errors are present day shortcomings……But when I asked Sadgurudev about its solution then he told that Sun represents soul and it is also an indicator of auspiciousness of life. But when impurity comes in it then fate which was progressive till yesterday, suddenly starts behaving in opposite manner. And it is remedied only when sadhak do combined prayog of most peaceful but very sharp form of Bhagwati Aadya Shakti, Bhadrakaali and Sun. And this prayog is exceptional in so many respects…..Firstly as sun enter northern hemisphere….it is the time when sadhak can write his fate……it is the time when Sun propels sadhak on the path of divinity and in such a case, doing sadhnas and attaining success in it becomes very easy… Relationship of sun with Pret Lok established in Southern hemisphere has ended……and this transformation does not merely happen in external universe rather this transformation i.e. movement from hellish quality to divine quality, towards supreme consciousness happens in each atom…..it is carried out in each and every part of body….and Bhagwati Bhadrakaali provides stability to this activity. To add to it, Yog of Thursday adds Guru Element to this prayog which helps sadhak to attain auspiciousness and divinity.
Then why are you not doing it….
  Do you think that I deliberately want to live such a life….it is not like it…..rather I had committed one blunder in sadhna in previous life…..but due to continuous reliance on Guru, I was saved from its impact…..But I did not resolve the problem at that time and as a result of which, I have to bear such a situation…..and have to face these shortcomings. I thought that I will be able to do this Vidhaan very easily or the Lakshmi sadhna which I have done….as a result of them, I will not have to face financial or physical scarcity….But it was lapse on my part…..And when sun becomes feeble then how can this sadhna manifest their complete results. Fate is continuously keeping me away from sadhna place on particular Thursday of this one month.
So can we both not do this prayog together….
Why not…..rather it will be more appropriate and if every family member does it then he can get rid of scarcities of his life ….because every person has to bear results of his own Karmas. Therefore, doing sadhna by person himself carries a special significance and if all family members are not present then this prayog can be done by taking Sankalp for whole family ( Here only sadhak’s brother-sister , Mother, Father, Children, wife are included)
After it, we faced lot of difficulty but we did this prayog and we continuously witnessed its impact….Now it has become one of our annual Vidhaans……
When Luck is not favouring us…..
When it seems that sadhna is not benefitting us…
When once is facing difficulty in focusing on sadhna….
All chances of attainment of wealth have become feeble…..
Decisions are proving to be unfavourable to one’s own self….
Respect is in danger….
Fluctuation of mind has increased a lot….
In all these circumstances, this one-day prayog yields complete benefits.
On the Thursday subsequent to Makar Sakranti, take bath before sunrise, wear white dress, offer divine offering to sun and fold your hands and recite below mantra 108 times while doing dhayan of sun.
   HAN KHAH KHAH KHOLKAAY NAMAH
After it, sit on white aasan in sadhna room and do brief poojan of Sadgurudev and Lord Ganpati. Chant 4 rounds of Guru Mantra. After it, if sadhak is doing this Vidhaan for himself then he should take Sankalp by his own name and seek blessing for getting rid of evils and fulfilment of desire. And if he is doing it for entire family, then he should write name of members on white paper, fold it and keep it in front of Guru Picture. What is so special about this prayog is that in it, sadhak does poojan of Guru Picture considering it as form of Bhagwati Bhadrakaali.
Light one Til-oil lamp in front of picture and do its brief poojan. After it chant one mantra and apply mark of vermillion of saffron on Guru Picture and if possible on his divine lotus feet. If you have Paaduka, you can apply mark on it otherwise you can also apply it on Guru Yantra. In other words, recite one mantra and apply one mark by ring-finger.
OM JAYAAYAI NAMAH
OM VIJYAAYAI NAMAH
OM AJITAAYAI NAMAH
OM APRAAJITAAYAI NAMAH
OM NITYAAYAI NAMAH
OM VILAASINYAI NAMAH
OM DOGDHRYAI NAMAH
OM AGHORAAYAI NAMAH
OM MANGALAAYAI NAMAH
After it, offer saffron-mixed rice Kheer as Naivedya and do its Aachman. Thereafter, chant 11 rounds of below Maha Mantra by Guru rosary, Shakti Rosary, Moonga Rosary, Rudraksh Rosary, Red Hakik Rosary or Turmeric rosary.
Mantra:
OM RAAM HUM KREEM BHADRAYAI BHADRAKAALI SARVMANORATHAAN SADHAY KREEM NAMAH
These numbers of chanting are for person himself. If you are doing it for other members too then it is compulsory to chant 2 rounds per member for each member after chanting your 11 rounds.
After Jap, offer 24 oblations of ghee by Guru Mantra and do Guru Aarti. Then accept the Kheer yourself or with your family members. On the same day, offer some dakshina in any Mahakaali or Shakti temple and offer food to any hungry person.
I have seen the impact of this Vidhaan in my life and our family does this prayog every year. This can be done on Sakranti or on any one Thursday out of three subsequent Thursday of that month. I have taken benefits from it and seen my life progress. I can only request my brothers and sisters…..Rest, Nikhil Desire is supreme….
   “Nikhil Pranaam”
===============================================
सूर्य आत्मा जगतः तस्थुषश्च ||
    जीवन की विसंगतियों में उलझ कर मानव अपने जीवन के मूल लक्ष्य से मानों भटक ही जाता है. और ऐसा ही हमारे परिवार के साथ होता चला गया.
    भोपाल में आये हमें कई साल हो गए थे....योग्यता थी...परिस्थितियों को अनुकूल करने का ज्ञान भी सदगुरुदेव की कृपा से हमें मिला था...किन्तु जब भी उसका प्रयोग करने का प्रयास करते...मानों सम्पूर्ण प्रकृति ही हमारा विरोध करने लगती...स्थिति पल प्रतिपल विकट से भी विकटतर होते जा रही थी...
 पहले जब भी मई से जुलाई का समय आता था,मात्र तब आर्थिक समस्याओं और मानसिक उलझनों का सामना करते थे किन्तु अब तो ये क्रम पूरे वर्ष भर का हो गया था... मैं जब भी अपने पति से कहती की आप हम दोनों की कुंडली का अध्यन करके देखिये ना...आखिर हम कब इस स्थिति को पार कर पायेंगे...क्या इससे जीतने का कोई उपाय नहीं है ??
मैंने हमारी कुंडली का अध्यन कई बार किया है...और सदगुरुदेव ने इस परिस्थिति को अपने अनुकूल कर लेने का विधान भी बताया है...किन्तु सबसे बड़ी दिक्कत ही यही है की जब भी मैं इस विधान को संपन्न करने की तैयारी करता हूँ..प्रकृति पूरी तरह से मुझे इस प्रयोग को ना संपन्न कर पाऊं ऐसा वातावरण बना देती है...मैं पिछले ६ साल से इसे करने का प्रयास कर रहा हूँ पर हर बार मैं इन तीन दिनों में अपने निवास पर रह ही नहीं पाया और उसका खामियाजा ये भुगतना पड़ा की..हमारे लिए जीवन जीना भी दूभर हो गया...ऋण,बेरोजगारी और अभाव प्रारब्ध कर्म परिणामवश हमारा भाग्य ही बन गए हैं...और मुझे ये विश्वास है की हमारे द्वारा संपन्न किये वे सभी लक्ष्मी प्राप्ति प्रयोग तभी फलीभूत हो पायेंगे जब हम इस विधान को कर लेंगे – ये कहकर उन्होंने मेरे प्रश्न का उत्तर दिया.
तब क्या पूरे जीवन भर ऐसे ही भोगना पड़ेगा.....
नहीं ऐसा नहीं है....किन्तु मुझे इसके लिए इस वर्ष को ऐसे ही नहीं बीतने देना है...क्यूंकि बस मकर संक्रांति आने वाली ही है और उसके बाद के तीन गुरुवारों में से किसी भी एक गुरूवार को ये प्रयोग किया जा सकता है. और तुम जानती ही हो की जनवरी माह में मैं पिछले ६ वर्षों से गुरूवार को अपरिहार्य कारणों से घर पर नहीं रह पाया है...क्या तुमने कभी सोचा है की...क्यूँ ऐसा होता है...
क्यूँ भला ???
क्यूंकि मैं जनवरी आते ही सजग हो जाता हूँ की मुझे अब अपने जीवन को और साधनाओं को व्यर्थ नहीं करना है..हाँ कुछेक ऐसे भी निर्णय थे जिनकी वजह से विगत जीवन की साधना शक्ति पर प्रभाव पड़ा था और उन्ही गलतियों का परिणाम ये वर्तमान के अभाव हैं...किन्तु जब मैंने सदगुरुदेव से इसका निराकरण पूछा था तो उन्होंने बताया था की सूर्य आत्मा का प्रतीक है और प्रतीक है जीवन के सौभाग्य का किन्तु जब जब उसमें मलिनता आ जाती है तो भाग्य जो कल तक उन्नत था अचानक विपरीत व्यवहार करने लगता है और इसका निवारण तभी हो पाता है जब साधक भगवती आद्याशक्ति के सर्वाधिक सौम्य किन्तु प्रखर रूप भद्रकाली के साथ सूर्य का संयुक्त प्रयोग करता है. और ये प्रयोग कई मायनों में विशेषता से युक्त होता है...पहला तो ये की सूर्य जैसे ही उत्तरायण होता है...तब ये वही समय होता है जब साधक अपने भाग्य का लेखन कर सकता है...ये वो समय होता है जब सूर्य देवत्व की और साधक को अग्रसर करता है और ऐसे में साधना करना और उसमें सफलता प्राप्त करना कहीं ज्यादा सहज होता है....दक्षिणायण में सूर्य का प्रेत लोक से जो सम्बन्ध बना होता है वो समाप्त हो चूका होता है...और ये परिवर्तन मात्र बाह्यागत ब्रह्माण्ड में ही नहीं होता है अपितु ये परिवर्तन अर्थात प्रेतत्व से देवत्व की और,उच्चता की ओर गमन की क्रिया अणु अणु में होती है..रोम प्रतिरोम में इस क्रिया का संपादन होता है....और भगवती भद्रकाली इस क्रिया को स्थायित्व प्रदान कर देती हैं साथ ही गुरूवार का योग इस प्रयोग में गुरुतत्व का योग कर देता है,जिससे शुभ्रता और दिव्यता साधक को प्राप्त होती ही है...
   तब आप इसे संपन्न क्यूँ नहीं कर रहे हैं...
क्या तुम्हे ऐसा लगता है की मैं जानबूझ कर ऐसा जीवन जीना चाहता हूँ...नहीं ऐसा नहीं है...अपितु मुझसे विगत जीवन में बहुत बड़ी साधनात्मक त्रुटी हुयी थी...किन्तु तब निरंतर गुरु आश्रय के कारण उसके प्रभाव से मैं बचा रहा..किन्तु उसका निराकरण तब नहीं किया और उसी का परिणाम है की मुझे इस जीवन में ये सब झेलना पड़ रहा है...और इन अभावों का सामना करना पड़ रहा है. मुझे लगा था की मैं सहजता से इस विधान को कर लूँगा या जिन लक्ष्मी साधनाओं को मैंने किया हुआ है...उनके कारण मुझे आर्थिक या भौतिक अभावों का सामना नहीं करना पड़ेगा....किन्तु ये मेरी मात्र भूल थी...अरे जब सूर्य ही मलिन हो जाए तब भला इन साधनाओं का पूर्ण लाभ भला कैसे दृष्टिगोचर होगा.और नियति बारम्बार मुझे इस एक महीने के विशिष्ट गुरूवार को साधना स्थल से दूर ही कर देती है..
तब क्या हम दोनों मिलकर इस प्रयोग को नहीं कर सकते....
क्यूँ नहीं...बल्कि ये तो ज्यादा उचित होगा और यदि परिवार का प्रत्येक सदस्य इसे संपन्न कर सके तब वो अपने जीवन के अभावो को ठोकर मारकर दूर कर सकता है.. क्यूंकि प्रत्येक व्यक्ति स्वकर्मों के परिणाम को भोगता ही है. अतः स्वयं इस साधना को संपन्न करना विशेष महत्त्व रखता है और यदि सभी सदस्य ना हो तो सम्पूर्ण परिवार (इसमें मात्र स्वयं के भाई-बहन,माँ पिता,बच्चे,पत्नी ही सम्मिलित हैं) के नाम का संकल्प लेकर भी इस प्रयोग को किया जा सकता है.
उसके बाद बहुत कठिन प्रयास से ही सही किन्तु हमनें इस प्रयोग को किया और उसका प्रभाव भी हमें लगातार दीखता गया...अब तो ये प्रत्येक वर्ष किये जाने वाले विधान में शामिल है.
जब भाग्य प्रतिकूल हो...
साधनाओं का लाभ दिखाई ना दे रहा हो....
साधनाओं से मन उचाट हो रहा हो...
अचानक धन प्राप्ति की सभी संभावनाएं क्षीण हो गयी हो...
निर्णय स्वयं के लिए ही प्रतिकूल हो रहे हों...
सम्मान खतरे में हो....
मन की चंचलता अत्यधिक बढ़ गयी हो....
   आदि कई स्थितियों में इस एक दिवसीय प्रयोग को करना पूर्ण लाभ देता है.
   मकरसंक्रांति के अगले गुरूवार की प्रातः सूर्योदय के पूर्व ही स्नान कर सफ़ेद वस्त्र धारण करके सूर्य को जल से अर्घ्य प्रदान करें और निम्न मंत्र का हाथ जोड़कर सूर्य का ध्यान करते हुए १०८ बार उच्चारण करे -
 हं खः खः खोल्काय नमः
(HAN KHAH KHAH KHOLKAAY NAMAH)
   इसके बाद साधनाकक्ष में सफ़ेद आसन पर बैठ जाएँ तथा सदगुरुदेव और भगवान् गणपति का संक्षिप्त पूजन करें तथा गुरुमंत्र का ४ माला जप करें,इसके बाद साधक यदि अकेले जप कर रहा है तो स्वयं के नाम का संकल्प ले और दोष निवारण तथा मनोकामना पूर्ती का आशीर्वाद मांगे.और यदि पूरे परिवार के लिए ये विधान कर रहा हो तो सदस्यों का नाम सफ़ेद कागज में लिखकर और मोड़कर गुरु चित्र के सामने रख दें .इस प्रयोग की सबसे बड़ी विशेषता ये है की साधक इसमें गुरु चित्र को ही भगवती भद्रकाली का स्वरुप मानकर पूजन करता है.
   चित्र के सामने तिल के तेल का दीपक प्रज्वलित करे और उस दीपक का संक्षिप्त पूजन करे.इसके बाद कुमकुम या केसर से एक एक मंत्र बोलते हुए गुरु चित्र और संभव हो तो उनके श्री चरणों में बिंदी लगायें,यदि पादुका हो तो उस पर अन्यथा गुरु यन्त्र पर भी आप बिंदी लगा सकते हैं. अर्थात एक मंत्र बोले और एक बिंदी अनामिका ऊँगली से लगाये –
ॐ जयायै नमः
ॐ विजयायै नमः
ॐ अजितायै नमः
ॐ अपराजितायै नमः  
ॐ नित्यायै नमः  
ॐ विलासिन्यै नमः  
ॐ दोग्ध्रयैनमः  
ॐ अघोरायै नमः  
ॐ मंगलायै नमः
   इसके बाद केसर मिश्रित चावल की खीर नैवेद्य में अर्पित कर दें और आचमन  करा दें.तत्पश्चात निम्न महामंत्र की ११ माला जप,गुरुमाला,शक्तिमाला,मूंगा माला,रुद्राक्ष माला,लाल हकीकमाला अथवा हल्दी माला से करें.  
   मंत्र -
   ॐ रां हुं क्रीं भद्रायै भद्रकाली सर्व मनोरथान साधय क्रीं नमः ||
(OM RAAM HUM KREEM BHADRAYAI BHADRAKAALI SARVMANORATHAAN SADHAY KREEM NAMAH)
   ये जपसंख्या स्वयं के लिए निर्धारित है,यदि आप अन्य सदस्यों के लिए भी कर रहे हैं तो सदस्य संख्य के अनुसार प्रत्येक सदस्य के लिए अपनी जपसंख्या के बाद २-२ माला जप प्रति सदस्य करना अनिवार्य है.
   जप के बाद गुरुमंत्र से २४ आहुति घी के द्वारा डालें.और गुरु आरती संपन्न कर उस खीर को स्वयं या परिवार वालों के साथ ग्रहण करें. तथा उसी दिन किसी भी महाकाली या शक्ति मंदिर में कुछ दक्षिणा अर्पित कर दें और किसी भूखे व्यक्ति को भोजन करवा दें.
   मैंने अपने जीवन में इस विधान के प्रभाव को देखा है और हमारा परिवार इसे प्रतिवर्ष संपन्न करता ही है.ये संक्रांति या उसके बाद के उसी माह के किसी भी तीन गुरूवार में से एक गुरूवार को किया जा सकता है. मैंने इसका लाभ उठाया है.और हमारे जीवन को उन्नति की और गतिशील होते देखा है.आप भाई बहन से भी मैं मात्र निवेदन ही कर सकती हूँ..... आगे निखिल इच्छा सर्वोपरि...
“निखिल प्रणाम”
****RAJNI NIKHIL****
****npru****


No comments: