There was an error in this gadget

Thursday, January 31, 2013

IMPORTENT INFORMATION



 
Friends, Sadgurudev has always said that battle in any particular era can be won by using weapons of that particular era only. In modern era, attaining success in sadhna is nothing less than any battle in which there is fight between various mental tendencies of sadhak. In Today’s world neither environment conducive for sadhna is available nor our food-habits, mental thought process and physical purity is conducive for sadhna. Therefore, divine idols are needed much more than before. And whenever “Divine” word comes to our mind, we automatically get reminded of Parad. Sadgurudev put a lot of hard work and made these rare idols available for common public and introduce us to such rarest articles whose presence is sufficient to induce attitude/ emotional base needed for divinity and attaining spiritual heights which are even rare for high-level yogis in so many aspects. Some people may feel that Parad Sahatraanivata Deh Tara and other idols are brought in front of you all for business purpose but those who have participated in shivirs conducted by Sadgurudev in 1980s; they know that all these were brought to light by Sadgurudev only.
Parad Vigyan had become obsolete. If anything was left, it was its medicinal form….and that too with few selected ones…..What to talk about Parad and Tantra, people even did not know about it. But Sadgurudev revived and brought forward this science again in front of all and whatever he can do in capacity of Sadgurudev, he did it all and made sadhaks carry out construction work of these divine articles in various shivirs. Along with it, he revealed amazing secrets of Parad Tantra in every shivir. But it was our weakness that we could not understand his efforts in real sense. Now situation is that even new sadhak does not know that such things happened in past. It is highly unfortunate that instead of conserving such higher-order knowledge and encouraging it……all became silent.

The science about which Sadgurudev introduced us to its rare scripture and techniques;it is highly unfortunate that getting a high-order parad idol today, meeting prescribed standards, has become so much difficult.It is illogical to think that any Parad idol made in any manner can yield the same results as written by Sadgurudev regarding that Parad idol. Sadgurudev made amazing cassettes like Parad Vigyan, Parad Shivling Poojan and Raseshwari Diksha available upon hearing which one can understand that with how much importance and dignity, he put forward these subjects in front of us.How can a tantra Vigyan which is called highest and final tantra be possible by any adulterated Parad idol? Parad Tantra is highest-order tantra and it has been told by Sadgurudev so will we still doubt Parad idols which are formed in accordance with parameters of this Vigyan? Trust and Dedication are important but we cannot measure that dignity with blind-faith. Sadgurudev has provided us vision and knowledge otherwise what would have been need that he introduced his disciples to even subtlest information about each idol. And if you see old editions of Mantra Tantra Yantra Vigyan then you will find that nearly every edition contained some information about Parad Vigyan.
Friends, today’s situation has become so much ironical. Now we are able to comprehend that Sadgurudev Ji had seen present day situation in that time itself and thus gave the knowledge about construction of these parad idols because today we do not witness the physical, mental, moral and character strength as desired, then how will sadhna be possible? And that’s why Sadgurudev put forward the amazing form of Parad Idol (part of Lord Shiva, Aadi Acharya of Tantra) in front of us all. Will we still remain entangled in our ego……Will we still not understand meaning of these divine articles, and the divine articles which are available today, it is not necessary that they will be available in future too. In the same series….
1. Param Divyatam Parad Sadgurudev Idol
Friends, Sadgurudev has told in Guru Pratyaksh Siddhi cassette that those who have accomplished Guru completely, they do not need to do any sadhna. But he has also said that
Why Guru should be manifested? When Guru is sitting in front of you, then what is need of Pratyaksh Siddhi (manifesting him in visible form)?
Sadgurudev himself has told the answer to this question in his divine voice that you all have considered only physical body as Guru. But Guru is not the name of any physical body rather he is embodiment of infinite knowledge of universe .You all have to imbibe the knowledge (Sadgurudev element) present inside this physical body. This knowledge is your Guru. If it takes you towards your aim, pave your way towards it then it is your Guru.
Friends, it is true that the physical body through which this enormous and divine treasure of knowledge has appeared in front of us all, it is highly revered by us. But if we confine ourselves only to physical body then…..who will introduce us to real Sadgurudev element? Because we have considered only physical body as Guru. Then what is need of any Pratyaksh Siddhi? Sadgurudev divine grace is so amazing that his spiritual ascetic disciples after thinking a lot have given the permission for construction of Parad idol of Sadgurudev Ji. And it is supreme fortune of all of us that such thing has become possible. What can be written about Parad idol of Sadgurudev, made in accordance with procedures laid down in shastras with eight sanskars done on it.
Sadgurudev has said himself that If Sadgurudev becomes established in anyone’s heart in real sense then for him all sadhnas whether it is Shamshaan or Dev-related or Sabar or Intense or related to any tantra, becomes a child play. Then he does not need to chant 1 lakh or 1.25 lakh mantra jap because when Sadgurudev element is present in sadhak in its complete form, then how can any sadhna remain unaccomplished. Then he will have knowledge of all subjects and why it would not be, when Sadgurudev, epitome of knowledge, is established inside him then it is but natural for divinity and knowledge to be exhibited by him. They themselves will be an example of purity. And every disciple has to be like this, but it all depends on our speed to travel on this path and capability to imbibe the knowledge.
But just by saying….by chanting slogans…or chanting some rounds of mantra Jap will not make it possible. Whereas what are our mental tendencies, it is known to all.
So there is always a need for such supreme and rare idol and when Sadgurudev will be present inside our sadhna room along with divinity of Parad then how will we not attain success? We can do any poojan from Panchoopchar poojan to mental poojan. When there is grace of Parad Dev on one hand and Sadgurudev on the other, how can obstacle remain on the path. It applies not only to sadhna but to all the aspects of life. Where there is Sadgurudev, there is perfection, there is success, there is dignity, there is divinity, and there is bliss. This opportunity does not come again and again. It should also not be linked with business rather one should make use of this golden and rare opportunity.
Those who want more information regarding this subject, they can contact us on nikhilalchemy2@yahoo.com


2.Tantrotsaundaryam Tribhuvanmohankarakah

Real definition of beauty can be told only by the person who has seen universal beauty not only in outer form but also in internal form, experienced it and by seeing it through his eyes has imbibed it inside him. The moment which is filled with complete pleasure, the pleasure which weakens all other feelings put sorrow, anxiety and worries in dormant state. There is no place of all these feelings in the moments when beauty is being experienced. At that time, there is only bliss element which is imbibed inside person through his eyes by nature. And this feeling is experienced by senses of karma and knowledge of fortunate sadhak. One which is present in basic form is beautiful. Where there is not present any type of deformity, which is completely capable, universal, present in that natural form in which universal basic power has imagined so, all these is beauty. And how one can define it when all definitions vanish.
It is beauty which gives birth to art. How can art be possible without beauty because art is medium to exhibit any beauty, express it?  Terming Lord Shri Krishna as Jagat Guru (Guru of world), personality having competence in all arts is result of his inner and outer beauty. This situation is also referred to be complete in 16 arts. Those who have attained beauty, there is no art whose knowledge they cannot possess. Certainly base of life is beauty only. That’s why Saundarya sadhna have an important place in Tantra, may be they are pertaining to Yakshini, Apsara or Kinnari. Ancient tantra and proponents of tantra have unarguably accepted the significance of Saundarya sadhnas.
When momentary beauty can teach a person art of diving within it, can change vision/attitude of person, can introduce him to his inner self, can express his inner feelings outside, then one can imagine what will happen when person imbibes this beauty permanently. That’s why there is no chance of sadhak to face any shortcoming after success in Apsara and Yakshini sadhna. Sadhak attains luxury, prosperity and fame through these sadhnas. Along with it, every moment of sadhak’s life is filled with happiness and joy. Sadhak enjoy each moment of his life with supreme delight. These facts were put forward by Sadgurudev among sadhak many a times, got rid of misconceptions related to Saundarya sadhnas and compelled sadhaks to think about significance of these sadhnas. It is also a fact that there has always been a thrill among sadhak category regarding Apsara and Yakshini sadhnas. Many a times, sadhak has a desire in mind that they can manifest that beautiful princess, embodiment of beauty, attain her company and transform their from ill-fortune of life to good fortune.
For fulfilling such desires of sadhak, Sadgurudev from time to time put forward these prayogs in front of sadhak and made them do it too. Along with it, he provided abstruse and secretive facts many a time for benefits of all. In this context, he cited two herbs and told hidden points regarding it. In fact, in field of tantra there are many facts famous among sadhaks regarding herbs and miraculous results from their tantric prayogs. It has been the experience of sadhaks that if at a particular time, related procedure is done upon particular herb and it is made energized in various ways then chances of sadhak attaining success increases multiple times. And in some tantra sadhnas, there are present Vidhaans related to herbs without which attaining success is impossible. This fact pertains to accomplished herbs. But attaining Dev herbs is very rare. If they are searched without suitable sadhna or chanting of mantra, they are not visible or they do not exhibit their quality if no tantric procedure is done upon them. But if any person attains the complete procedure and do related Tantric procedure, then herb, like gods, is capable of fulfilling any desire of sadhak.
In this context he provided the description of two special herbs
Yauvanbhringa
Shrangaatika
Yauvanbhringa means capable of providing/activating youth. In accordance with its qualities, this rare herb is used in few selected Aushadhi Kalps capable of doing Kayakalp. But from Tantra point of view, this herb is extremely important. If seen from tantric point of view, when juice of this herb is energized and cloth soaked with this juice is worn then it gives birth to intense beauty and attraction. As a result, Itar Yonis like Yakshini and Apsara starts roaming around sadhak invisibly. Due to connection of this herb with Dev category, sadhak can attain quick results. In context of apsara and yakshini sadhnas, Sadgurudev has said regarding this herb that if person does sadhna after wearing the dhoti soaked in juice of Yauvanbhringa then Apsara and Yakshini feel intense attraction and sadhak feels easiness in sadhna. Along with it, sadhak is saved from many obstacles which may arise during sadhna duration.
Second herb relating to Saundarya sadhna which Sadgurudev told was Shrangaatika. Qualities of this herb are in accordance with its name. Basic meaning of Shrangaatika is to amplify and expand beauty. This herb can also be called amazing in tantra world due to its miraculous qualities. There are many medicinal qualities of this herb too but from Tantra point of view, it is very important because through this herb, person establish a contact with particular Lok. There is strong connection of this herb with Yaksha or Dev Lok. Sadhak in order to accomplish his Isht or fulfill his desire has to pay special attention to consciousness in Mantra Jap and it is indisputable truth that More concentration sadhak puts in his reciting of mantras, more quickly he is able to connect internally with related Lok and get results. This connection sometimes is not established which can be due to many reasons. But this herb is called to be expanding because after doing tantric procedure on this herb, sadhak connecting cord is connected very quickly. Therefore sadhak keeps this herb as basic/underlying power. Sadgurudev has said regarding it that if Aasan having qualities of Shrangaatika herb is made and Apsara/ Yakshini or Saundarya sadhna is done while sitting on it, then sadhak moves one more step forward towards ascertained success since sadhak’s inner connection is established directly with Dev Lok or Lok of related Itar Yoni.

In this manner

      Yauvanbhringa Dhoti
      And Shrangaatika Aasan

Can simplify success in Apsara, Yakshini or any Saundarya sadhnas and can ascertain complete success of sadhak. On one hand, this special aasan enables sadhak to contact Itar Yoni and on the other hand, due to special dhoti/cloth, Itar Yoni of Saundarya category i.e. Apsara, Yakshini or Kinnari etc. is attracted towards sadhak.

3.APSARA YAKSHINI SADHNA RAHASYA SOOTRA RAHASYA KHANDThose brothers and sisters who wish to get book published in this seminar and “ DURLABH POORN YAKSHINI APSARA SHASHT MANDAL YANTRA”, they should also contact above-mentioned e-mail.
Now is the time to take decision. It is request to you that if you are sending email for this purpose, please write subject clearly in SUBJECT of mail. We will provide you the desired information.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मित्रो, सदगुरुदेव ने हमेशा कहा हैं की जिस युग मे आप हो,उस  युग के अस्त्रों से ही, उस युग के  युद्ध  को जीता   जा सकता हैं,और आज के युग मे साधना मे सफलता पाना भी किसी युद्ध से कम नही हैं.जिसमे साधक की बिभिन्न मनोवृतियों का संग्राम जो  होता हैं.आज जब साधना करने के लिए जैसा वातावरण चाहिये,वैसा उपलब्ध हो नही पाता हैं, न ही आज हमारा खानपान और अन्य मानसिक,शारीरिक चिंतन भी ऐसा हैं, तब दिव्य उपकरणों की आवश्यकता पहले से भी कहीं आधिक आज हैं.और जब भी दिव्य शब्द का उल्लेख आता  हैं तो कहीं न  कहीं पारद का उल्लेख या स्मरण भी हो जाता हैं.सदगुरुदेव ने अथक श्रम करके इन दुर्लभतम विधानयुक्त विग्रहों  को जन सामान्य के लिए उपलब्ध कराया और एक से एक दिव्यतम वस्तुओ का परिचय कराया,जिनकी उपस्थिति मात्र से उन उच्चता और दिव्यता की भाव भूमि स्वत ही बनने लगती हैं. जो की कई कई अर्थो मे  उच्च योगियों के लिए भी दुर्लभ हैं.आज भले ही हमें लगे की पारद सहत्रन्विता देह तारा और अन्य विग्रह शायद कहीं व्यवसायिकता के लिए ही.... आप सभी के सामने लाये गए हैं  पर जिन्होंने  भी  ८० के दशक मे सदगुरुदेव द्वारा आयोजित शिविरों मे भाग लिया हैं, वह जानते  हैं. यह सब सदगुरुदेव द्वारा  ही पहले प्रकाश मे लाया  गया हैं.
पारद विज्ञानं तो लुप्त प्राय ही हो गया था जो कुछ यदि शेष रहा तो उसका कुछ औषिधि स्वरुप बस.. वह भी  गिने चुने कुछ के पास ..पर पारद और तंत्र की तो कोई बात करने तो बहुत दूर, यह तो लोगों को पता भी नही था  पर सदगुरुदेव जी द्वारा  इस विज्ञानं को पुनः सामने लाया गया और जो संस्कार और इन के माध्यम से  जिन दिव्यतम वस्तुओ का निर्माण हो सकता हैं तो उन्होंने एक सदगुरुदेव तत्व की मर्यादानुसार अपने सामने इनका निर्माण कार्य अनेको शिविरों मे कराया.और हर शिविर मे  वह पारद तंत्र के  अद्भुत रहस्य उद्घाटित करते  ही रहे.पर यह हमारी कमजोरी रही की हम उनके इस प्रयास को  सही अर्थो मे समझ ही नही पाए,और समझना की बात भी हटा दी जाए  अब तो नए साधको  को यह भी नही मालूम की ऐसा  भी कुछ  होता रहा.यह भाग्य  या समय या परिस्तिथियाँ कहें की उस उच्चतम ज्ञान का संरक्षण और उसका प्रोत्साहन देने के जगह  .... सभी मौन  हो गए ..
और यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्वक स्थिति हैं की जिस विज्ञानं को सदगुरुदेव जी ने अथक श्रम करके ,उसके कितने न दुर्लभ ग्रंथो और प्रविधियों का परिचय उन्होंने हम सभी को कराया. आज उसकी यह अवस्था की, एक उच्च कोटि का पारद विग्रह प्राप्त होना ..कितना  कठिन हैं आप सभी जानते हैं.और यह तो एक बेकार का तर्क हैं की मानलो की कोई भी, किसी भी तरह का बना हुआ पारद विग्रह वहीँ परिणाम भी देगा, जो सदगुरुदेव ने उस  पारद विग्रह के बारे मे लिखा हैं.सदगुरुदेव जी ने पारद विज्ञानं ,पारद शिवलिंग पूजन  और रसेश्वरी दीक्षा जैसे  अद्भुत केसेट्स का निर्माण कराया जिनमे आप स्वयम सुन सकते हैं की उन्होंने कितना महत्त्व  और गरिमा के  साथ इन विषयों को हम सबके सामने रखा  और यह क्यों न हो क्या जो तंत्र विज्ञानं का  सर्वोच्चतम अंतिम तंत्र  कहा जाता हैं.वह क्या किसी भी तरह के मिलावट से बने पारद विग्रह से संभव हो जायेगा?और पारद तंत्र   तो सर्वोच्चतम तंत्र हैं और यह  तो सदगुरुदेव ने ही बताया हैं तब अब भी हमें इस विज्ञानं और इस विज्ञानं के पूर्ण मापदंडो पर  निर्माणित पारद विग्रहों पर हमें संदेह हैं या होगा?.  श्रद्धा विश्वास का अपना ही एक अर्थ हैं पर उसी गरिमा को अंधश्रद्धा से नही माप सकते हैं.सदगुरुदेवजी ने तो हमें आखें दी हैं  और वह ज्ञान भी अन्यथा उन्हें क्या आवश्यकता रही की एक एक विग्रह के बारे मे उन्होंने  सूक्ष्मता से अपने शिष्यों का परिचय कराया,और आप मंत्र तन्त्र यन्त्र विज्ञानं के पुराने अंक देखें तो पायेंगे की लगभग हर अंक मे पारद विज्ञानं का  कुछ न कुछ परिचय सदगुरुदेव देते  ही रहे .
मित्रो, आज स्थिति इस युग मे बहुत ही बिडम्बनाकारक  हो गयी हैं.अब समझ मे आता हैं  की सदगुरुदेव जी ने  उस काल मे ही आने  वाले, इस युग की अवस्था को देख लिया था और आज के युग के लिए ही उन्होंने इन पारद विग्रहों का निर्माण का ज्ञान दिया था क्योंकी आज  न तो शारीरिक,  न चारित्रिक, न मानसिक,  न ही नैतिक बल की वह स्थिति हैं जो  होना चाहिए,तब साधना कैसे संभव   हो?और इसलिए  सदगुरुदेव  ने  तंत्र के आदि आचार्य भगवान शिव  के साथ अंश रूपी पारद विग्रह का यह अद्भुत विस्मयकारी अचरज से भरा स्वरुप हम सबके सामने रखा.क्या हम अब भी अपने अहम मे अटके  रहेंगे ..क्या  अभी भी हम इन दिव्यतम वस्तुओ का अर्थ नही समझेंगे ,और  जो दिव्यतम वस्तुएं आज प्राप्त   हो रही हैं वह कल भी हो ऐसा  तो कुछ भी निश्चित  नही हैं.आज इसी श्रंखला मे ...
1.परम दिव्यतम पारद सदगुरुदेव विग्रह
मित्रो ,सदगुरुदेव ने गुरू प्रत्यक्ष सिद्धि केसेट्स मे  यह बताया  हैं की जिन्हें गुरू पूर्णता के  साथ  सिद्ध हो गए हैं उन्हें  कोई भी साधना करने की आवश्यकता नही हैं.पर यह भी उन्होंने कहा हैं की
 गुरू प्रत्यक्ष क्यों ? जबकि गुरू  तो सामने बैठे हैं,तब यह प्रत्यक्ष सिद्धि की क्या  आवश्यकता ?
 इस प्रश्न को स्वयम ही सदगुरुदेव अत्यंत मनोहारी स्वर मे समझाते हैं की तुम लोगों ने  शरीर को गुरू माना हैं  पर गुरू किसी शरीर का नाम नही बल्कि ज्ञान की अगाध  ब्रम्हांडवत राशि का एक पुंजीभूत स्वरुप होता हैं .और तुम्हे इस शरीर के अंदर जो ज्ञान हैं  जो सदगुरुदेव तत्व हैं उसे आत्मसात करना हैं.वह ज्ञान ही तुम्हारा गुरू हैं. अगर वह तुम्हे  तुम्हारे लक्ष्य तक ले जाए ,गतिशील करें तो वही तुम्हारा गुरू हैं.
मित्रो,यह सत्य हैं की जिस  शरीर का  आधार लेकर यह विशाल दिव्यतम ज्ञान राशि  हमारे सामने उपस्थित हुयी हैं वह भी हमारे लिए परम पूजनीय हैं पर अगर हम शरीर पर ही अटके  रह गए  तो ..वास्तविक सदगुरुदेव तत्व से कौन हमें परिचय कराएगा?.क्योंकी हम ने शरीर को ही गुरू मान लिया. तब अब कौन सी प्रत्यक्ष सिद्धि की आवश्यकता हैं?.
सदगुरुदेव की दिव्यतम लीला का यह अद्भुत रूप हैं की उनके आत्मवत सन्यासी शिष्य शिष्याओ ने बहुत सोच विचार कर सदगुरुदेव जी के पारद विग्रह निर्माण के लिए सहमति प्रदान कर दी  हैं.और यह तो हम सभी का परम सौभाग्य हैं की ऐसा संभव हो पाया हैं,अष्ट संस्कार से  युक्त पूर्णतः शास्त्रीय प्रक्रिया से निर्माणित सदगुरुदेव के पारद विग्रह के  बारे मे क्या लिखा जाए .
सदगुरुदेव स्वयं कहते हैं की जिसके  ह्रदय मे  सदगुरुदेव अगर  सत्य अर्थो मे स्थापित हो जाए  तो उसके लिए तो सभी साधनाए फिर वह चाहे  शमशान हो या दैविक या साबर हो या उग्र या किसी भी तंत्र से  सबंधित हैं वह तो मात्र बच्चो का खेल ही हो जाती हैं.फिर उसे कोई लाख या सवा लाख मंत्र जप की आवश्यकता नही होती क्योंकी उस साधक एक अंदर जब पूर्णता के साथ सदगुरुदेव तत्व हैं तब कैसे न कोई भी साधना सिद्ध  होगी,तब उसे हर विषय का ज्ञान होगा हैं.और क्यों न होगा सदगुरुदेव जब पूर्ण ज्ञान के  स्वरुप हैं तो वह जिनके  अंदर स्थापित होंगे उनमे उनकी उच्चता दिव्यता और ज्ञान की विशालता  दिखाई देगी हैं,वह स्वत ही निर्मलत्व का एक उदाहरण होंगे.और ऐसा  तो हर शिष्य और शिष्याओ को होना ही  होगा, पर अब यह हम पर हैं की हम कितनी तीव्रता से  इस पथ पर चले  और ज्ञान को आत्मसात करें.
पर कहने मात्र से ..जयकारा लगाने मात्र से ..या कुछ माला मंत्र जप से  तो यह संभव नही हैं ,जबकि आज हमारी मनोवृतियाँ कैसी हैं  यह तो स्वयं ही ....
तब एक ऐसे परम दुर्लभ विग्रह की आवश्यकता तो हैं ही,और जब सदगुरुदेव स्वयं पारद की दिव्यता के साथ हमारे पूजन साधना कक्ष मे  होंगे  तो भला कैसे हमें सफलता नही मिलेगी,हम उनका पंचोपचार पूजन से लेकर अपने मनोभाव युक्त पूजन क्रम कर सकते हैं.एक तरफ पारद देव की कृपा और दूसरी ओर सदगुरुदेव.अब भला मार्ग मे कैसे बाधाएं रह पायेगी और यह केबल साधना मे ही नही बल्कि जीवन के  समस्त पक्ष  के लिए हैं.क्योंकी जहाँ सदगुरुदेव हैं, वही पूर्णता  हैं, वहीँ सफलता हैं, वहीँ गरिमा हैं ,वही उच्चता हैं, वही आनंद तत्व हैं.यह अवसर बार बार नही आते  हैं न ही इन्हें  व्यवसायिकता से जोड़ना चाहिये,बल्कि इस दुर्लभ अवसर को पहचानना और उसके अनुरूप कार्य करना ही चाहिये.आप मे से  जो भी इस विषय पर और भी जानकारी चाहते  हैं वह nikhilalchemy2@yahoo.com  पर संपर्क  कर सकते हैं.

2.तन्त्रोत्सौन्दर्यं त्रिभुवन्मोहनकारकः

सौंदर्य की सही अर्थो में क्या परिभाषा हो सकती है यह तो वही व्यक्ति बता सकता है जिसने ब्रह्मांडीय सौंदर्य को न सिर्फ बाह्य रूप में वरन आतंरिक रूप से भी देखा हो, अनुभव किया हो तथा द्रश्य के रूप में आँखों से उतार कर हमेशा हमेशा के लिए अपने अंदर समाहित कर लिया हो वो क्षण जिसमे सिर्फ पूर्ण रूप से रस भरा हुआ है. वह रस, जो की सभी भाव भंगिमा को क्षीण कर देता है, गौण कर देता है चाहे वह दुःख हो, विषाद हो या चिंता हो. सौंदर्य की अनुभूति के क्षणों में इन सब भावो का स्थान ही कहाँ. वहाँ तो सिर्फ आनंद तत्व होता है जो की सिर्फ द्रष्टा की आँखों से उतरता है प्रकृति द्वारा. और उस अनुभव की अनुभूति करती है भाग्यवान साधक की ज्ञानेन्द्रियाँ और कर्मेन्द्रियाँ. जो कुछ मूल है, वही सौंदर्य है. जहां पर किसी भी प्रकार का कोई विकार नहीं है, जो पूर्ण रूप से योग्य है, ब्रह्मांडीय है, उसके मूल रूप में है जिस रूप में कभी उसकी रचना के लिए ब्रह्मांडीय मूल शक्ति ने कल्पना की थी वही तो है सौंदर्य. और क्या परिभाषा भी हो सकती है जहां पर समस्त परिभाषाओ की ही समाप्ति कर देता है.
सौंदर्य ही तो जन्म देता है सभी कलाओं को. जहां सौंदर्य नहीं वहाँ पर कला कैसे संभव है. क्योंकि कला भी तो किसी न किसी सौंदर्य को ही प्रदर्शित करने का माध्यम है, अभिव्यक्ति का सिंचन है. फिर कैसे न याद आये कलाओ से परिपूर्ण व्यतित्व भी, श्रीकृष्ण को जगतगुरु की संज्ञा उनके आतंरिक और बाह्य सौंदर्य का परिणाम भी तो है. और इसी को तो कहा गया है १६ कलाओ से पूर्ण होना फिर सौंदर्य जिसने प्राप्त कर लिया क्या उसको जीवनमें कौन सी कला का ज्ञान नहीं हो सकता? निश्चय ही जीवन का आधार सौंदर्य ही तो है. और इसी लिए तंत्र में भी तो सौंदर्य साधनाओ का इतना महत्त्व है, चाहे वह यक्षिणी अप्सरा या किन्नरियो से सबंधित साधनाएं हो. आदि तन्त्रो तथा तंत्राचायों ने हमेशा ही सौंदर्य साधनाओ की महत्ता का निर्विवादित रूप से स्वीकार किया है.
जब क्षणिक सौंदर्य व्यक्ति को अपने अंदर डूब जाने की कला सिखा देता है, उसकी द्रष्टि को ही बदल सकता है, उसका स्व से परिचय करा सकता है उसके अंदर के भावो को बाहर  ला सकता है तो फिर क्या असंभव होगा अगर स्थायी रूप से इस सौंदर्य को व्यक्ति आत्मसात  कर ले. और इसी लिए तो अप्सरा और यक्षिणी साधनाओ में सफलता के बाद साधक के जीवन में अभाव रहना संभव कैसे. साधक को ऐश्वर्य, वैभव तथा यश की प्राप्ति इन साधनाओ के माध्यम से हो ही जाती है, साथ ही साथ साधक के जीवन में सुख तथा आनंद का अनुभव हर क्षण में बस जाता है. यूँ साधक अपने जीवन के हर एक क्षण को चरम आनंद के साथ जीता है. यही बात सदगुरुदेव ने कई कई बार साधको के मध्य रख कर सौंदर्य साधनाओ से सबंधित भ्रान्तियो को दूर किया था तथा इन साधनाओ की महत्ता के बारे में साधको के मानस को आड़ोलित किया था. यूँ भी, अप्सरा और यक्षिणी साधनाओ के सबंध में तो साधक वर्ग में हमेशा ही एक रोमांच रहा ही है. कई कई साधक अपने मन में यह अभिलाषा लिए हुये होते है की वह जीवन में एक बार इन पूर्ण सौंदर्य को धारण करने वाली सौंदर्य सम्राज्ञीओ को प्रत्यक्ष करे तथा उनका साहचर्य प्राप्त कर जीवन के दुर्भाग्य को सौभाग्य में परावर्तित कर सके.
साधको की इसी अभिलाषाओ की पूर्ति के लिए सदगुरुदेव ने समय समय पर इन प्रयोगों को साधको के मध्य रखा तथा सम्पन्न  भी करवाए. साथ ही साथ, इन साधनाओ से सबंधित गुढ़ तथा रहस्यपूर्ण गुप्त सूत्रों को कई बार सदगुरुदेव ने सभी के लाभार्थ प्रदान किया है. इसी क्रम में कभी उन्होंने दो वनस्पति तंत्र से सबंधित विवरण भी कई बार दिया तथा उसके गोपनीय सूत्रों को बताया है. वस्तुतः,तंत्र के क्षेत्र में साधको के मध्य वनस्पति तथा उनके तांत्रिक प्रयोगों के चमत्कारी परिणाम के बारे में कई प्रचलित तथ्य है. साधको का अनुभव रहा है की विशेष वनस्पतियों को विशेष समय में उनसे सबंधित प्रक्रियाओ के द्वारा  लिया जाए तथा उनमे विविध प्रकार से प्राणप्रतिष्ठा तथा चैतन्यीकरण कर दिया जाए तो साधक की सफलता प्राप्ति की संभावना कई कई गुना बढ़ जाती है. तथा कई तंत्र साधनाओ में तो वनस्पतियों का विधान होता ही है जिसके बिना सफलता प्राप्त करना असंभव है. यह तथ्य तो सिद्ध वनस्पतियों के सबंध में है. लेकिन देव वनस्पतियों की प्राप्ति अति दुर्लभ है बिना योग्य साधना या मंत्रजप इनको खोजा जाए तो यह द्रश्यमान नहीं होती है या बिना पूर्ण तंत्रोक्त प्रक्रिया के इसे निकाला जाए तब ये अपना कोई भी गुण प्रदर्शित नहीं करती है. लेकिन अगर कोई व्यक्ति इसको पूर्ण प्रक्रिया के साथ प्राप्त कर उससे सबंधित तंत्रोक्त प्रयोग को कर ले तो यह निश्चय ही देवताओं की तरह ही साधक की कोई भी अभिलाषा को पूर्ण करने में समर्थ होती है.
इसी क्रम में उन्होंने दो विशेष वनस्पतियों के बारे में विवरण प्रदान किया था.
यौवनभृंगा
श्रंगाटिका
यौवनभृंगा का अर्थ है यौवन को प्रदान करने वाली या यौवन को जागृत करने वाली. अपने गुण के अनुसार यह दुर्लभ वनस्पति का प्रयोग कुछ चुनिन्दा सिद्ध कायाकल्प प्रदाता विशेष औषधि कल्पों में होता है. लेकिन तंत्र की द्रष्टि से यह वनस्पति अत्यधिक महत्वपूर्ण है. तांत्रिक द्रष्टि से देखा जाए तो इस वनस्पति के रस या स्वरस को अभिमंत्रित कर उस रस से आच्छादित वस्त्र को धारण करने से यह तीव्र सौंदर्य आकर्षक को जन्म देता है. फल स्वरुप यक्षिणी तथा अप्सरा जैसी  इतरयोनी साधक के आस पास अप्रत्यक्ष रूप में विचरण करने लगती है. इस वनस्पति का सबंध देव वर्ग से होने के कारण निश्चय ही साधक इसका लाभ तीव्र रूप से प्राप्त करता है. अप्सरा तथा यक्षिणी साधनाओ के सन्दर्भ में सदगुरुदेव ने इस वनस्पति के बारे में कहा है की व्यक्ति अगर यौवनभृंगा के रस में भिगोई हुई या इसके रस से आच्छादित की हुई धोती को धारण कर साधना करे तो अप्सरा तथा यक्षिणियो का तीव्र आकर्षण होता है तथा साधक को साधना में सहजता की प्राप्ति होती है. साथ ही साथ साधक साधना में आने वाले कई विघ्नों से भी बच सकता है.
सौंदर्य साधनाओ के सन्दर्भ में जो द्वितीय वनस्पति के बारे में सदगुरुदेव ने बताया था वह है श्रंगाटिका. यह वनस्पति के गुण भी उसके नाम के अनुसार है. श्रंगाटिका का मूल अर्थ है श्रृंगार को बढ़ाना, विस्तार देना. अर्थात सौंदर्य का जितना भी संभव हो निखार करना. यह वनस्पति भी तंत्र जगत में उसके चमत्कारिक गुणों के कारण एक आश्चर्य ही कही जा सकती है. इस वनस्पति के भी कई चिकित्सक गुण भी है लेकिन तांत्रिक द्रष्टि से यह अधिक महत्वपूर्ण है क्यों की इस वनस्पति के माध्यम से व्यक्ति का संपर्क सूत्र विशेष लोक लोकांतर से जुड जाता है. यक्ष लोक या देव लोक से इस वनस्पति का घनिष्ठ जुड़ाव है. साधक को अपने इष्ट या मनोकामना की पूर्ति के लिए मन्त्र जप में चेतना का विशेष ध्यान रखना पड़ता है और यह एक निर्विवादित सत्य है की साधक जितना स्थिर चित्त एवं एकाग्र हो कर मन्त्र जाप करता है उतना ही तीव्र रूप से उसका सबंधित लोक लोकांतर से आतंरिक संपर्क सूत्र जुड़ पता है तथा उसको परिणाम की प्राप्ति होती है. यह संपर्क सूत्र कई बार बन नहीं पाता जिसके पीछे कई कारण होते है. परन्तु इस वनस्पति को विस्तार का नाम इस लिए भी दिया गया है क्यों की इस वनस्पति पर विशेष तांत्रिक प्रक्रिया करने पर साधक का संपर्क सूत्र अति तीव्र रूप से जुड जाता है. इस लिए इस वनस्पति को साधक अपने साथ ही आधार शक्ति पर रखता है. सदगुरुदेव ने इस सबंध में कहा है की श्रंगाटिका वनस्पति युक्त आसन का निर्माण अगर किया जाए और उस पर बैठ कर अप्सरा, यक्षिणी या सौंदर्य साधनाओ को किया जाए तो साधक इस प्रक्रिया से अपनी सुनिश्चित सफलता की तरफ एक और कदम बढ़ा देता है क्यों की साधक का आतंरिक संपर्क सीधे देव लोक से तथा सबंधित इतरयोनी के लोक लोकांतर से हो जाता है.

·      इस प्रकार यौवनभृंगा के रस युक्त धोती
·      तथा श्रंगाटिका युक्त आसन,

अप्सरा यक्षिणी या किसी भी सौंदर्य साधनाओ में सफलता प्राप्ति को सहज कर सकते है तथा साधक का पूर्ण सफलता की तरफ कदम को और भी दृढ तथा सुनिश्चित कर सकते है. जहां यह विशेष आसन साधक का संपर्क इतरयोनी से करता है वहीँ विशेष वस्त्र या धोती के माध्यम से सौंदर्य श्रेणी की इतरयोनी अर्थात अपसरा यक्षिणी किन्नरी आदि का साधक के तरफ आकर्षण होता है.

3.अप्सरा यक्षिणी साधना रहस्य सूत्र रहस्य खण्ड इस सेमीनार मे प्रकाशित किताब  और “दुर्लभ पूर्ण यक्षिणी अप्सरा षष्ठ मंडल यन्त्र”  को जो भी भाई बहिन अपने लिए पाना चाहते हैं. वह भी  उपरोक्त इ मेल पर संपर्क कर लें.
अब समय  हैं आपको निर्णय लेने  का.वहीँ आपसे अनुरोध हैं की इस हेतु जो भी  इ मेल आप भेजेंगे उसके SUBJECT  मे  स्पस्ट रूप से आप लिख दें की आप विषय की जानकारी  चाहते हैं.हम आपको इच्छित जानकारी प्रदान कर देंगे.


****NPRU****

    

No comments: