There was an error in this gadget

Wednesday, January 2, 2013

FOR ME SEMINAR IS........


 
Friends, we are getting your letter for getting entry in to one day seminar (27 January 2013 in Jabalpur (Madhya Pradesh)) based on “Itar Yoni Rahasya and Karn Pishaachini Varg Sadhna Sootra” .And those brothers and sisters who will get permission, their entry number will be sent between 15 January and 20 January. There are limited places only and those who have seriously made up their mind to participate in this seminar , those who have desire to learn , only those “few” will be provided permission. For this purpose, sending scan copy of any of your “ID” along with application e-mail is a necessary condition. Without it, it will not be possible for us to give you permission at any cost.
If you have made up your mind to take part in this seminar and you get prior permission along with entry number then it will simply mean that you agree with rules given below, you have very well read these rules and you agree with these rules in totality. It is our sincere request that you should for once read these rules carefully.
Workshop and seminar are two different things altogether. Both are carried out in different manner.
Whenever workshop was organized, practical aspects were given primacy and wherever it was necessary, I or through medium of particpants translated those related facts into practical form and exhibited it.Witness to this fact are 60-70 candidates who participated in two Parad workshops. But one day seminar has focus on principle aspect (theoretical aspect) of knowledge. In it neither practical knowledge is shown nor I am /will be bound to do so. It is the plateform for discussion on the theoretical aspect and the subject and mutual exchange of information. There is no pre-condition for me to show  practical application of any principle at that time by instigating me.Definitely when the workshops will be organized on the subjects on which seminars have been organized , then whenever it will be required , I will show practical demonstration myself or through some participant and I have done it too.
But keep in mind that organizing workshop and deciding participants will always be my decision. For it, I am not bound to accept conditions imposed by any other person.
This fact has been iterated so many times and it has to be said always that we do not have any relation with Ashrams of Jodhpur and Delhi. Neither do we have responsibility of thousands of disciples nor have we been given. Therefore those who have some attachment toward “them”, it will be better for them to request them to manifest any sadhna whether it is Mahavidya sadhna or Apsara sadhna or any Veer Vaitaal Sadhna, see the results and then trust them. There is no point in expecting from me in this respect.
I affirm that neither I am Guru nor I give Initiation to anyone. I have never claimed that I am the creator of these mantras. Therefore it should be clear to you all that I have not created these mantras and sadhnas. I only try to put forward sadhna and practical knowledge which I have got directly from Sadgurudev Ji and his dear ascetic disciples and the one which I have experienced it myself. In this respect, you can consider me as compiler because creator of mantra is only Sadgurudev, he is connoisseur of mantra and he is the only base who can provide accomplishment to anyone in any sadhna. Therefore useless things like doing prayog or accomplishing it or manifesting it in front of everyone, I am not bound to do so.
Those who are having such type of games playing in their head or those who are having misconceptions or those who are making up their mind to come to seminar upon instigation by someone else or having expectation in their mind , I would like to request all of these not to waste their time and money. There is no point to unnecessarily create a dispute. To add to that, the one who can do such things in front of them or on their indications, they should go to that person and get answer to their curiosities. People having such type of mental framework should consider this seminar as any gossip.
I have made entry into this seminar free of cost but it does not mean that I am bound to give permission to each and every one. If only one or two person come here, it does not matter to me at all. Though one thing which matters a lot is that they should come with right and clear attitude to really learn sadhna knowledge related to this subject and such “Few” carry much more importance to me as compared to those who will unnecessarily add to crowd. This may seem little bit bitter but now is the time to take harsh decisions from my side towards them, who are willing to take part in this seminar and also from their side toward me who wants to participate in it. Both the sides should be satisfied. Therefore, I am putting forward the rules in front of you so that you can use your own intelligence. There should remain no ambiguity of any kind.
Yantra and book will be available to participants of seminar only when they have got the permission and have deposited the necessary fee for same.
Articles, Mantra, sadhna or other facts which are published in book are based on three things, which I have put forward in front of you earlier also.
·      All the articles, mantra, sadhna procedure and its description and related experience will be the one which was given by Sadgurudev. May be he has given them personally or given at some other place in front of all or obtained by us from his ascetic disciples (I am not bound to give proof of this fact to any argumentative person.)
·      Along with it, those experienced portion of authentic scriptures which may have not come in light or which are obsolete among common masses but are authentic are also included.
·    Besides this , if any accomplished sadhak has provided us his own self-experienced facts / sadhna / description /experience to us and given us the permission to use it , those article come in seminar/workshop/Tantra Kaumadi/Nikhil Alchemy Blog/ Nikhil Alchemy Group of Facebook.
·      Here one fact has to be understood that I am not bound to give proof of origin of any mantra/sadhna/prayog/experience. If you have doubt on any article or information then you are free to get or not to get article and to consider or not to consider the information.
·    There is no guarantee of article being made available in this seminar to be effective or not and it is not necessary that its use will provide you success in any sadhna because sadhna is very complex and serious subject and to attain success in any sadhna hard-work , Sadgurudev’s grace , your self-confidence , dedication is an essential element . In absence of any of these, getting success is doubtful. 
This one day-seminar does not give guarantee that all particpants will be provided complete knowledge at all cost. Because time and subject has got their limits and if any subject is given more time due to any reason then it is but natural that other subjects which are to be taken in this seminar will be allocated lesser time.
In this seminar there is hard-work put from both my side and your side. So it is necessary that both sides should be satisfied first and then only one should make up mind to participate in it. Any failure in not taking it seriously will not fulfill aim of you and us. Therefore you should satisfy yourself after reading the rules and we will also provide entry only after satisfying ourselves.
And your entry means that you completely agree with above-written rules.
Please carefully read these rules , think upon it and if you have craving to learn this subject with health mentality then you can contact us via email(nikhilalchemy2@yahoo.com) with any of your id.. This is compulsory process.
And after getting prior permission and entry number only, you should come .This is necessary so that both you and we will not face any inconvenience otherwise you will be disappointed not to get entry.
Here, wherever I have used the word “I”, it also represents our NPRU besides representing me.

=========================================
मित्रो ,आप सभी के पत्र इस इतर योनी रहस्य और कर्ण पिशाचिनी वर्ग साधना सूत्र पर आधारित एक दिवसीय  सेमीनार (27 जनवरी 2013 को जबलपुर (मध्य प्रदेश) )  मे प्रवेश के लिए प्राप्त हो रहे हैं ,और जिन भी भाई बहिनों को इसमें प्रवेश के लिये अनुमति दी जायेगी, उन्हें उनके प्रवेश  क्रमांक  15 जनवरी से 20 जनवरी के मध्य भेज दिए जायेंगे .स्थान बहुत सीमित हैं और जिनका गंभीरता  पूर्वक इस  सेमीनार मे भाग लेने का मानस हैं,एक सीखने का अभिलाषा हैं, केबल उन्ही “कुछ “को ही अनुमति प्रदान की जायेगी. इस हेतु आपके अनुरोध वाली इ मेल पर आपकी एक आई डी की  scan copy  भेजना एक अति आवश्यक शर्त हैं, इसके बिना  हमारे लिए आपको अनुमति देना,किसी भी हाल या परिस्थिति मे  कतई  संभव नही होगा .
इस सेमीनार मे यदि आप भाग लेने का मानस रखते हैं और आपको पूर्व अनुमति के साथ प्रवेश क्रमांक मिल जाता  हैं  तो इसका सीधा  सा अर्थ  यह होगा की  आप निम्नाकित नियमो  से सहमत हैं,आपने  इन नियमों को अच्छी तरह से पढ़ लिया  हैं  और अपनी पूर्ण सहमति सभी दृष्टीसे  इन नियमो  से आप रखते हैं .आप से अनुरोध हैं कि आप एक बार इन नियमों को ध्यान से अध्ययन  कर लें .
कार्यशाला  और सेमीनार दोनों  आयोजनों मे अंतर हैं दोनों एक ही आयोजन नही हैं.
जब  भी कार्यशाला आयोजित की गयी,उसमे प्रायोगिक तत्व की पूर्ण प्रधानता रही और जहाँ जहाँ पर आवश्यक रहा. वहां पर मैंने उन तथ्यों को स्वयं भी या उनमे भाग लेने वाले व्यक्तियों के माध्यम से प्रायोगिक रूप से क्रियान्वित किया और प्रत्यक्ष किया. इस बात का साक्ष्य दोनों पारद कार्यशाला मे भाग लेने वाले लगभग ६० /७० व्यक्तित्व स्वयम हैं .पर एक दिवसीय सेमीनार ज्ञान के सिद्धांतिक स्वरुप की प्रधानता लिए हुये है.इनमे  किसी प्रकार का कोई प्रायोगिक ज्ञान    तो दिखाया जाता हैं, न ही ऐसा करने के लिए मुझ पर कोई बाध्यता हैं या होगी.क्योंकि यह सिद्धांतिक स्वरुप और इस विषय पर विचार विमर्श  और आपसी ज्ञान आदान प्रदान की जगह हैं, न की किसी के द्वारा उकसाए जाने  पर कोई अभद्रता या किसी भी तथ्य को प्रयोग रूप मे उसी स्थान पर,उसी समय कर दिखाने की कोई पूर्व शर्त मुझ पर आधारित हैं.निश्चय ही जब कभी यदि इन विषय पर,जिन पर सेमीनार आयोजित हुये हैं, उन पर कभी कार्यशाला अगर आयोजित होगी तो विषय सन्दर्भ मे आवश्यकता पड़ने  पर इसका प्रायोगिक रूप भी मैं स्वयं या किसी भी भाग लेने वाले के माध्यम से प्रस्तुत करूँगा ही,और किया भी हैं.
पर यह ध्यान रहे की कार्यशाला आयोजित करना और उनमे कौन कौन भाग लेंगे यह हमेशा मेरे निर्णयाधीन होगा,इस हेतु मैं, किसी भी व्यक्ति द्वारा आरोपित शर्तें मानने को बाध्य नही हूँ .
यह तथ्य कई कई बार कहा जा चुका हैं और हमेशा कहना भी  पड़ता हैं की हमारा जोधपुर या दिल्ली स्थित आश्रमो से किसी भी प्रकार का कोई सबंध नही हैं. ना ही हमारे ऊपर किसी भी प्रकार की कोई उत्तरदायित्व या जिम्मेदारी सैकड़ों हज़ारो शिष्यों की हैं,न ही किसी ने हमें दी  हैं. अतः जो भी  या जिनका भी “वहां पर” अपना कुछ लगाव  हैं, वे किसी भी प्रक्रिया  को चाहे  वह महाविद्या साधना  हो या अप्सरा साधना  हो या कोई भी वीर वैताल साधना या महाविद्या  साधना ही हो  तो वहां पर ही उनसे निवेदन कर सभी के सामने प्रत्यक्षीकरण करवा कर पहले देख ले फिर विश्वास करें तो यह कहीं ज्यदा उचित होगा.मुझसे इस बारे मे अपेक्षा रखने का कोई अर्थ नही हैं .
क्योंकि, मैं न  तो कोई गुरू  हूँ , न ही किसी को दीक्षा देता हूँ  और इस बात की पुष्टि भी करता  हूँ. न ही कोई मेरा  ऐसी कहीं कोई दावा हैं की मैं इस मंत्रो  का  कोई निर्माता  हूँ अतः यह स्पस्ट रहे की मैं साधनाओ और मंत्रो का निर्माता भी नही हूँ ,जो साधनात्मक और प्रायोगिक ज्ञान सदगुरुदेव जी से / और उनके आत्मवत सन्यासी शिष्यों से सीधे मुझे  मिला और इसके अलावा  जो भी मैंने स्व अनुभव भी किया उनको ही मैं सामने रखने का प्रयास करता हूँ, इन कुछ अर्थो मे आप मुझे संकलन कर्ता भी मान सकते हैं,क्योंकि मंत्र सृष्टा तो सदगुरुदेव हैं ,वह ही मंत्र मर्मग्य हैं  और एक मात्र आधार हैं जो किसी को, किसी भी साधना मे सिद्धिता प्रदान कर सकते हैं .अतः व्यर्थ की बातें की, मैं इसी सेमीनार मे यह  या वह प्रयोग करके या सिद्ध करके या प्रत्यक्ष करके किसी भी के सामने या सबके सामने दिखाऊं, इसके लिए मैं बाध्य नही हूँ .
जिनके मन मे इस तरह का खेल या कौतुहल हैं या  एक भ्रामक सी अवधारणा हैं या किसी के बहकावे मे आ कर  या किसी तरह की अपेक्षा मे, इन सेमीनार या इस सेमीनार मे आने का मानस भी बना रहे हैं तो उन सभी से मेरा अनुरोध हैं की कृपया अपना समय और धन दोनों नष्ट न करें ,और व्यर्थ का विवाद उठाने का कोई अर्थ नही  साथ  ही  साथ जो भी उनके सामने ऐसा, उनके इशारे पर ऐसा कर सकने मे समर्थ हो वह वहां ,जा कर अपना कौतुहल शांत करें अपनी जिज्ञासा शांत करें,और ऐसी मानसिकता वाले व्यक्ति इन सेमीनार को मात्र एक गप्पबाजी का आयोजन मान कर चलें .
मैंने इस सेमीनार हेतु प्रवेश निशुल्क रखा  हैं तो इसका कतई अर्थ न लिया जाए की इस हेतु मैं हर किसी को अनुमति देने के लिए बाध्य हूँ ही,  यहाँ पर भले ही  एक या दो व्यक्ति ही आये, उससे मुझे कोई अंतर नही पड़ता.  हाँ इस बात से जरुर फर्क पड़ता हैं कि वे सच मे इन विषय से संबधित साधनात्मक ज्ञान को सीखने का  एक साफ़ स्वच्छ मानस और चिंतन रख कर आये हैं और ऐसे “कुछ”  ही मेरे लिए उन सभी से, जो  बिना मतलब जो आकर भीड़ बढ़ाएं, उन से कई कई गुना ज्यादा अर्थ रखते हैं .यह बात कुछ कड़वी लग सकती हैं पर अब समय हैं कुछ कठोर निर्णय लेने का. मेरे उनके प्रति, जो इस सेमीनार मे भाग लेने  की इच्छा रखते हैं और उन सभी का भी मेरे प्रति, जो इनमे भाग लेना चाहते हैं. दोनी पक्ष संतुष्ठ होना चाहिए ,इस लिए यह नियम पहले ही आपके सामने रख रहा हूँ .ताकि आप अपने स्व विवेक का पूरा इस्तेमाल कर सकें.किसी को किसी भी प्रकार कि कोई भी गलत फहमी या मानसिकता इस ओर रहे .
यन्त्र और किताब इस सेमीनार मे भाग लेने वालों को उनके अनुरोध पर यदि उन्होंने पहले से अनुमति मिलने पर  आवश्यक शुल्क इनके लिए जमा करवा दिया होगा  तभी उपलब्ध होगी.
किताब मे प्रकाशित सामग्री  और मंत्र,साधना या जो भी तथ्य होंगे या होते हैं, वह तीन बातों पर आधारित होते हैं जिनको मैने आपके सामने  पहले भी रखा  हैं .
·      यह सामग्री जिसमे मंत्र, साधना विधि और विवरण साथ ही साथ  इससे सबंधित अनुभव,जो भी हो वह  सदगुरुदेव द्वारा प्रदत्त होंगे.फिर चाहे वह उन्होंने व्यक्तिगत  रूप से दिया हो  या किसी अन्य  स्थान पर सभी को समझाया हुआ हैं .या उनके सन्यासी शिष्य, शिष्याओ के द्वारा हमें प्राप्त हुये हैं .(किसी भी कुतर्की को इस का प्रमाण,मैं देने के लिए बाध्य नही हूँ )
·      इसके साथ हम प्रामाणिक ग्रन्थ  फिर भले  ही  वह प्रकाश  मे न आये  हो  या आज जन  सामान्य के  बीच वे लुप्तप्राय हो, उनके अनुभूत अंश जो कि प्रामाणिक हैं उनका समावेश करते हैं .
·      साथ ही साथ किसी भी सिद्ध साधक ने यदि अपनी स्वअनुभूत तथ्य /साधना /विवरण /अनुभव  हमें प्रदान किये  हैं और हमें  अनुमति दी  हैं कि उसका उपयोग कर सकते हैं . वह  सामग्री सेमीनार / कार्यशाला /तंत्र कौमुदी /निखिल अल्केमी ब्लॉग /फेसबुक के निखिल अल्कमी ग्रुप  मे सामने आती हैं . 
·      यहाँ पर यह तथ्य समझ लिया जाए की कौन सा मंत्र /साधना /प्रयोग /अनुभव  किस स्त्रोत से लिया गया हैं, और इसका मैं प्रमाण भी सामने रखूं ,यह बाध्यता मेरे ऊपर नही हैं .अगर आपको लगता हैं या  संदेह हैं किसी भी सामग्री या विवरण पर.  तो  आप उसे न लेने या न लेने के लिए  और उन तथ्यों को  न मानने या न मानने के लिए मुक्त हैं.
·      इस सेमीनार मे उपलब्ध कराई जाने वाली किसी भी सामग्री के प्रभावयुक्त होने या न होने की और उसके प्रयोग से आप किसी भी साधना मे सफल हो ही जाए  यह कोई गारंटी नही हैं क्योंकि साधना  एक बहुत ही जटिल  और गंभीर विषय  हैं और किसी भी साधना मे  सिद्धता पाने के लिए कठोर श्रम  और सदगुरुदेव की कृपा दृष्टी, आपका आत्मविश्वास,निष्ठा,श्रद्धा एक अनिवार्य अंग  हैं ,इसमें से किसी के भी कम होने पर सफलता संदिग्ध ही रहती हैं.  
यह एक दिवसीय सेमीनार कोई  इस बात की गारंटी  नही लेते हैं की  इसमें भाग लेने हर व्यक्ति को हर हालत मे पूरा तरह से इसका ज्ञान कराया ही जायेगा .क्योंकि समय की/और विषय की भी  एक सीमा  हैं और किसी एक विषय पर ज्यादा किसी कारण वश तथ्य  देने पर स्वाभाविक हैं कि उस समय सीमा  पर अन्य विषय जो उसी सेमीनार मे लिए जाने हो पर न चाहने पर उन्हें कम समय दिया जाए यह  स्वाभाविक सी बात  हैं .
इस सेमीनार मे अगर मेरा श्रम /अर्थ लग रहा हैं और साथ मे आपका भी,  तो दोनो पक्ष पूरी तरह से पहले संतुष्ठ  होजाए तभी इसमें भाग लेने के लिए अपना मानस बनाए .किसी भी रूप मे इसे गंभीरता पूर्वक न लेने  पर आप  और हमारा  दोनों का उदेश्य  पूरा नही होगा और इस हेतु आप अपनी ओर से इन नियमों को पढकर संतुष्ठ  हो जाए ,वहीँ हम भी संतुष्ठ होने  पर ही इसमें प्रवेश की अनुमति प्रदान करेंगे .
और आपका प्रवेश लेने का मतलब होगा की आप ऊपर लिखित सभी नियमों से पूर्ण सहमति रखते  हैं .
कृपया भली भांती इन नियमों को पढ़ लें ,विचार कर लें,फिर एक स्वस्थ मानस के साथ अगर सच मे इन विषय पर कुछ सीखने की  ललक  हैं तो आप किसी भी एक आई डी के साथ इ मेल पर संपर्क करें .(nikhilalchemy2@yahoo.com). यह एक अनिवार्य प्रक्रिया हैं .
और पूर्व अनुमति के साथ प्रवेश क्रमांक मिलने पर ही आप यहाँ आये, यह आवश्यक होगा,उससे  आप और हम दोनों  ही कई असुविधा से बच सकेंगे .अन्यथा आपको प्रवेश पाने मे निराशा ही होगी
यहाँ जहाँ परभी मैंने “मैं “शब्द का प्रयोग किया  हैं वह मेरे साथ हमारे NPRU  का भी  प्रतीक हैं .

****NPRU****

No comments: