There was an error in this gadget

Saturday, November 3, 2012

PARAM DULABH BHAGWATI PARADESHWARI SAHASTRANVEETA TARA (परम दुर्लभ भगवती पारदेश्वरी सहत्रान्विता तारा )


You all pretty well know the amazing-ness and utility of parad idol not only in spiritual life but also in materialistic life. And you all also very well understand that  if really one has to touch un-paralleled heights in life then it is not possible without parad……..if you have to just remain as Vaidya then it is altogether a different thing……but when we talk about the disciple of Paramhans Swami Nikhileshwaranand …..Then how can one be satisfied with second place.
But every time one new idol…???
It is because firstly it is not doing business , may be this thought come in minds of many people……understand it like this…….Sadgurudev gave Guru Mantra first. Once we attained some sort of level then he gave second mantra and when we progressed then…some siddh Vidya….then he gave Mahavidya sadhna…….then moving forward he gave sadhna like Kritya sadhna and after that sadhna like Brahmand Bhedan…then sadhnas higher than this…so are these sadhnas making business…?? Thinking such thought only indicate our immaturity……as one reached the higher level, gates for high-order knowledge opened for him……earlier persons were not eligible so they were not told otherwise all would have done the highest sadhna first…And secondly if you do not move progressively in ladder ……. then you do not attain height may be you can get higher order sadhna then your current level……..but you will not be able to attain success or imbibe it.
If you all remember then you will find that Sadgurudev Ji told about one un-paralleled Parad Idol….and he gave only one article regarding it.After seeing our non-interest, he became silent…….but so called business-minded people filled market with such idols…..that idol was very high-level “Paradeey Mahakaali” about which he told two types also…..Shamshaan Kaali and Baijanteey Kaali. And one more interesting fact in its construction is that if there is any error in procedure especially in Praan Pratishtha, Siddhi Daatri and its activation then when Lalita Sahastranaam is done in the construction time…this idol automatically breaks. But there are thousands of Parad idols in market…does it mean that all their makers are very high-order Tantriks….???
But this is fraud………..an absurd level joke in the name of Parad Sanskar and meeting their selfish ends…

Maa Bhagwati Kaali………is revered the most among Mahavidya and she is Aadya. But due to it we cannot ignore the other forms. Nor their importance become less……….Because in its basic form Maa is one only. As it has been said that Bhagwati Kaali and Bhagwati Tara are basically one only and there is only difference in colour…….But it is only one way to hide the secret fact that nobody knows the authentic form of Bhagwati Tara….
One name of Bhagwati Tara is “Taarini” also so what is the thing that she provides salvation from is the subject of this question.
Is Death the only means of salvation???  No, it is not like this………If you are worried by any obstacle or if there are any obstacles in spiritual path , then Mahashakti which can enable you to overcome them is one and only Tara, nobody else.
·        Only Bhagwati Tara can transform a low-knowledge sadhak and make him very highly-intelligible person by enabling him to overcome all shortcomings.
·        Bhagwati Tara can enable one person to overcome financial poverty in life and provide new heights.
·        Competence in poetry power, getting accolades from high-order scholars and spread of your knowledge all around is possible only through means of Bhagwati Tara.
·        Complete victory over Kaam Bhaav…….which is an essential state.Untill and unless person raises above this state….it is not possible for him to enter into Tantra world. May be one has attained various siddhis……and this can be possible through many ways by Yog Maarg….by Tantra Maarg…and also by Yog-Tantrik Maarg….There are many types of sadhna of various sects…but in all of them until Bhagwati Tara’s sadhna….Bhagwati Tara is the only one to overcome this Bhaav which cannot be done by any Mahavidya.
·        If we see Neel Saraswati form then what possibilities are left? Because Vidya is not only limited to only poetry power or writing well….because if you do not remember the scriptures read by you then what is its use. It is very important that you can read or write it on any subject …express it.We may understand it or not but the fact is that in the sadhna of amazing Medha Shakti , basic form is Bhagwati Tara only.
·        Is Bhagwati Tara only and only….one Mahavidya…Does considering this is right? It is not like this……basic power of entire Boudh Tantra…on which it stands is Bhagwati Tara only…..21 forms of Bhagwati Tara have been considered there….writing about each form is like uncovering one entire Tantra Scripture.
...
And nobody wants to say about the idol of Parad Tara….generally, nobody will even mention it and no capable Guru will talk about it to anyone except highest capable disciples or he will change the topic since it is not common to overcome all shortcomings and enable you to rise like sun…..Our entire life is dependent on sun and this entire world too….it has also been said that entire world works under time and Lord Shri Krishna says that even this time works under sun…..and the root power of Lord sun, representing soul of each creature is nobody else but Bhagwati Tara only.
And this idol of Bhagwati is very unique in itself….Only in this idol Lord Shiva is present in form of Akshobhy Bhairav (which is Bhairav of this form of Bhagwati) in Jata (hairs) of Maa
And …..One more amazing fact is that the way person does meditation; he should have the same type of idol. …If one does the upasana of Shamshaan Kaali in front of Baijanteey Kaali then how can he get success? May be their root power is same……
The same thing applies in the meaning of Aaleed and Pratyaleed words.
Today also , the picture of Bhagwati Tara we gets , very few sadhak pay attention to the fact that which feet of Maa is forward…Sadhak are pronouncing Pratyaleed word in their dhayan but the picture in front of them is of Aaleed state then how one can get success?? This fact is not known to sadhak who are doing this sadhna for such a long time…..It is different fact altogether that they have get results of their hard-work from sadgurudev’s grace…….Because Tantra world does not run on anybody’s expectation, it is  only an accurate procedure. If someone does it as told and using authentic articles then how one cannot attain success….And keep one thing in mind that if any fact is not fulfilled then it is natural to have doubts in attainment of success. And one cannot get it…But Sadgurudev’s grace is foremost. It can do anything. But here I am talking about only procedure.
And when we talk about Paradeey Sahatraanivata Tara then probably there is no one who can say that they have idol of Paradeey Sahatraanivata Tara.
But I do not need this Idol. I have been successful in this sadhna..??
All these are baseless talks……But attaining success in sadhna of part of even very simple Shakti of any special form of Bhagwati Tara (who is Aadya Shakti herself) does not make any person Siddh…..maybe he keep on boosting about himself….because Bhagwati has infinite forms and how is to do possible to do sadhna of her infinite forms and let us suppose this is done also….then you only attained siddhi in that sadhna…..were you able to imbibe that state …..Which is highest order state???
And one such idol which contains the power of Sahatraanivata i.e. thousand forms…..then its importance and influence cannot be scripted. But attaining such idol…..it cannot be even called good-fortune.Beacuse this will be very small word to describe it….some novel word will have to be devised since Gyan, Vigyan, poetry power, riddance from human shortcomings, attaining heights in life and  getting riddance from deformities of mind is easily possible.
One more special fact which has been mentioned once before by us that….Very few sadhaks will know that those who do the sadhna of Bhagwati Baglamukhi, Maa provides Bhog to them also. This cannot be thought even in dreams since rules of Bhagwati Balgamukhi are very strict.
In the same way. Bhagwati Tara provides pure affection and love to her sashaks.And we all pretty well know that Sadgurudev has taught us many times that writing on Brahma is easy but one cannot write on love and affection. The state prevailing today is regarding physical state…..physical attraction has been considered as love but….in reality the spiritual love and affection is possible only through the blessing of Bhagwati and such thing happens with the sadhak doing the sadhna of this form of Bhagwati. Maa Bhagwati provides it to them because without experiencing pure love, how is the accomplishment possible in high-order sadhna. May be only through means of lovers, love has been taught but it is like dividing the love. In reality true love can happen between Sadgurudev and disciples, father and daughter, father and son, between friends, it can happen with any one because purity cannot be bounded in any relation. And this pure love is filled by Bhagwati Tara in life of sadhak.
Some name of Maa Bhagwati Tara themselves introduces her importance. Like…
Parameshwari…….which is state beyond God (as Par Brahma is state beyond Brahma)
Mahalakshmi….Aadi Shakti by which entire world is operational.
Punya……Supreme deity of all sacred karmas.
Bhav Taarini…….means which provides the riddance from entire worldly illusions….capable of providing purity.
Maha Maaya………….The Aadya which keeps Maaya under her Maaya i.e. which put illusion under her illusion
Bhairavi………base of entire female category, supreme form
Shri Vidya……..basis of whole tantra.
Kala……Not only 16 kalas rather base of all 64 kalas
Kriya….. Sadhna is not possible without any Kriya…..Without her, No Kriya is possible….so it is base of entire Kriya.
....
The one doing the sadhna of Bhagwati Tara….especially those who do sadhna in front of idol of such rare Parad Sahatraanivata Tara, that person start progressing from the Pashu Bhaav to Veer Bhaav and from Veer Bhaav to Divya Bhaav…Pashu Bhaav means those who are entangled in eight paash like shame, hatred , shock etc…..to Divya Bhaav ..Where one not only feels divinity in entire world….rather it is manifested directly…and even gods feels blessed to meet such level sadhaks.
Sadhna of Bhagwati Tara is possible only through Chinachaar padhati. And this state is very rare….In its name many ill-minded people do procedures in name of tantra. On one side,by divine blessings of Sadgurudev this is one idol which is not only Bhagwati Tara idol but Sahatraanivata Tara idol which has remain hidden among high-level acharyas of Boudh Tantra.Getting it is even rare for devs and it can automatically take sadhak to not only Veer Bhaav but rather he can gradually attain Divya Bhaav. It becomes easy to obtain heights in tantra or sadhna world after getting this.
We discussed about necessity of female companion in Bindu sadhna in extreme detail…….seeing the sad and deplorable condition of tantra in society which has been made due to Pashu Bhaav and people who are working under the control of their senses…..Sadgurudev sympathetically introduced us to bindu Retas gutika that purpose can be achieved very easy by Parad as compared to relying on outer things. There is no need for female companion and its sadhna can be done in home in peaceful Satvik manner……..so that the hateful activities, fraud and society-harmful activities are not done. You all very enthusiastically attained this gutika…it is very much appreciable.
If you have read Himalaya Ke Yogiyon Ki Gupt Siddhiyon then it is clarified that ideal entry into Tantra world is possible for a person who has done Shyama sadhna….it means Tantra is at very high level than what we have thought.
But are these procedures very easy…?? It is not possible.
Today both males and females mental, physical and emotional patience is getting degraded. May be one can get away with it by attributing it to demand of time , prevailing circumstance in nation etc…..but in state of patience-lessness and character degradation it is not possible to enter stage of high-order tantra. You can boost of anything…but you know your mental state.
Coming of Sadgurudev physically on this earth…doing lot of hard-work….who has recognised it….who values it…..who has cared to understand his work. He not only told but has done it too. He knows that how in today circumstances one sadhak can make a journey from Pashu Bhaav to Divya Bhaav. This Paradeey Sahatraanivata Tara idol is result of his intense hard-work and strong sadhna….which is made by various procedures which are even rare in Siddhashram
Sadgurudev has always been a rebel. He has told so many times that…..at many times Mahayogis of Siddhashram has prayed that ….the knowledge, high-order idols which even we cannot get it, you are very easily making available you your householder disciple. They are neither eligible, nor they are capable enough for imbibing this knowledge nor they value it …then why they take benefit of your affection. Sadgurudev smiles and say that it is right that you all ascetic disciples are very dear to me but these householders are bound by so many difficulties and for getting smile on their face , any amount of hard-work I have to do, I will do  because they are my part, my Praan and my soul….If they cannot live without me then how can I……therefore as compared to previous life I have hold their hand in this life and I have to give completeness to them in this life.
Friends you might have read many times that Sadgurudev has written about this sadhna in Mantra Tantra Yantra Vigyan that king of golden state Lanka Raavan and treasurer of Devtas, Kuber got this prosperity and luxury due to grace of Bhagwati Tara only.
Those who can attain this type of idol and does the anushthan of Swarna Pradayak Tara Mantra following all rules then with the grace of Sadgurudev he can daily get gold coins because she is goddess of success and prosperity in life.
Besides this, those who have interest in Parad Vigyan, they should get it because person can become successful in inner alchemy only when he is successful in outer alchemy i.e. through Parad he is successful in making Gol…..If one can’t do metallic transformation then how far it is right to use it directly on human body. Therefore, Parad scientists do the upasana of Bhagwati Tara in one form or the other. This fact is known to very few and due to which its neglect leads to failure of many in parad Tantra Vigyan.
And Friends now this rare Paradeey Sahatraanivata Tara idol is going to be available now. And doing so has taken a lot of hard-work and spiritual effort of our ascetic brothers and sisters which cannot be described in words.
And just you to establish it and any sadhna of Bhagwati Tara which you know it or any mantra of Bhagwati Tara which seems nice to you…or just who can see Maa’s form with feeling…his state automatically become that of Divya Bhaav. And those who will do sadhna…what can be said about their fate and fortune.
Sadgurudev says that those who does the sadhna of Bhagwati Tara and he gets this idol then if any Tara sadhna is done in front of it….definitely person attains the power to impress others. His speech becomes so much effective that he can make the whole world spellbound by it. He starts getting successful in court-case, lottery and horse-race etc. So much of money come that he starts living luxurious life. Every enemy of him comes under his control like servant. Family debt is cleared and peace is established in home.
Lakhmi stably resides in his home amd by attaining siddhis of whole type, he starts getting success in attaining fame,money,power etc.
Now what more can be written about this divine and rare idol…those who are intellectual…those who understand the importance of time, only hint is enough for them.
So those who want to attain this idol…..they can contact us on nikhilalchemy2@yahoo.com

=========================================================
पारद  विग्रहों की अद्भुतता  उनकी उपयोगिता  न केबल  आधाय्त्मिक रूप से  बल्कि भौतिक  जीवन मे भी   अब हम सभी बखूबी जानते हैं . और यह भी अच्छी तरहसे  समझते हैं की अगर सच मे जीवन की उस  अद्वतीय उचाईया की  स्पर्श करना हैं तो  बिना पारद के यह संभव  ही नही ..अगर सिर्फ सूंठ रख कर वैद्य  बने रहना  हैं तो  कोई बात नही ..पर जब बात  परम हँस  स्वामी निखिलेश्वरानंद   जी के  शिष्य की हो  तो   ...तब  कैसे हम सभी  दूसरे नम्बर पर संतुष्ठ  हो जाये .
पर हर बार   एक नया विग्रह ...???
 ऐसा  इसलिए  की पहली बात तो यह  हैं की  यह कोई  व्यवासयिकता  वाली बात नही भले की  कई कई  के  दिमाग मे यह  बात  आये.. इसे  ऐसे समझे ...सदगुरुदेव जी ने  पहले गुरू मंत्र  दिया  फिर जब हमारा एक स्तर आया तो हमें  कोई इसके साथ दूसरा मंत्र  दिया   और  इसके बाद जब हमारी कुछ ओर प्रगति हो गयी  तब ..कोई सिद्ध  विद्या  ..फिर    महाविद्या  साधनाए  दी ..फिर  इनसे भी आगे  कृत्या साधना  जैसी   साधना   और फिर  इससे भी आगे  ब्रम्हांड भेदन  जैसी ..फिर  इससे भी आगे ... की साधनाए   तो  क्या यह व्यावसायिकता   हैं ..??ऐसा  विचार लाना  अपनी अल्प बुद्धि का  ही परिचायक हैं ..ज्यो ज्यों  स्तर बढ़ता गया   त्यों त्यों     उच्च स्तरीय ज्ञान के  दरवाजे  हमारे लिए खुलते  गए ...पहले पात्रता  थी  ही नही इसलिए बताया  गया  ही नही अन्यथा सभी  सर्वोच्च साधना   ही पहले   करते ..और दूसरी बात यह भी हैं की अगर क्रम से आप  आगे नही बढते तो ......आप मे  वह उच्चता  आती भी  नही की आप  एक अपने  तातकालिक स्तर से  उच्चता  वाली साधना  भले  ही पा ले  पर......  उसे  सफलता पूर्वक  कर पाए ..और न आत्मसात   कर   ही पायें .
अगर हम याद करें  तो पायेंगे की सदगुरुदेव जी ने  एक अद्वितीय  पारद विग्रह की बात कहीं ..और उस बारे मे  सिर्फ एक लेख  दिया  था .बाद मे  उन्होंने  हमारी  उत्साह हीनता  देख कर उन्होंने मौन साध लिया ..पर बाजार के  तथाकथितो ने   उससे बाजार भर दिया ..वह  था      अत्यंत  उच्च कोटिस्थ   “पारदीय महाकाली “ जिसके  उन्होंने  दो भेद भी बताये  ..शमशान काली और बैजन्तीय काली .और इनके निर्माण मे आने वाली   एक अद्भुत तथ्य  की अगर थोडा  सा भी   प्रक्रिया मे  खासकर  प्राण प्रतिष्ठा  ,सिद्धि दात्री और  चैतन्यीकरण मे  तो  जब  ललिता सह्त्रनाम का पाठ किया जा रहा हो  उस  समय मतलब निर्माण काल मे .......  यह  विग्रह  स्वयं ही टूट  टूट  जाता हैं . पर आप बाजार मे  देखें  हजारो की तादाद मे पारदीय  काली विग्रह  हैं ..मतलब सभी  उनके बनाने   वाले  कितने  उच्च कोटि के .....??
 पर यह तो छल हैं .....  पारद संस्कार के नाम पर  एक निम्न   कोटि का मजाक  और  अपना  सिर्फ स्वार्थ   सिद्धि ..
माँ  भगवती काली ..महाविद्या मे प्रथम पूज्य ..और आद्या हैं ....  पर इस कारण अन्य सभी स्वरूपों की उपेक्षा नही की जा सकती हैं .न  ही उनका महत्ब कम ..  क्योंकि  मूल  रूपमे  माँ  तो एक ही हैं .यूँ कहा जाता हैं की भगवती काली  और भगवती  तारा  मूल रूप से एक हैं और  बस उनमे  उनके रंग का  ही अंतर हैं ..पर यह   तो गोपनीय बाते  छुपाने का   एक  रूप हुआ की कोई भगवती तारा  के  सत्य स्वरुप  के बारे मे  उतना न जाने ..
  भगवती तारा  का एक नाम “ तारिणी “ भी हैं   तो किस बात से तारने  वाली यह प्रश्न का  विषय हैं ??.
क्या  म्रत्यु   ही तारने का  एक माध्यम हैं   ??? या  ..पर ऐसा नही हैं ..जीवन की जिस भी वाधा  से आप  परेशां हैं या जो भी आपके  आध्यत्मिक मार्ग  मे वाधा  हैं,   उन सब से आपको पार कराने वाली  अगर कोई महाशक्ति हैं वह  केबल  और केबल  भगवती तारा ही  हैं अन्य कोई भी नही ...
·       अल्पज्ञानी साधक को  ज्ञान विज्ञानं  की न्यूनता   से पार करा कर ..उच्च कोटि का  प्रज्ञा पुरुष ..केबल भगवती तारा  ही करा सकती हैं .
·       जीवन मे आर्थिक  दरिद्रता ,घर परिवार मे धन की न्यूनता ...को भगवती  तारा   ही  तार कर   उच्चता  दे सकती हैं
·       काव्य शक्ति मे निपुणता ,उच्च कोटि के विद्वानो  द्वारा ह्रदय से  आपका सम्मान और  आपके  ज्ञान के सूर्य का  चहूं  ओर   प्रकाश ..भगवती तारा के माध्यम से ..
·       काम भाव पर पूर्ण  विजय ...जो की एक अनिवार्य स्थति हैं ,जब तक इस अवस्था से व्यक्ति  ऊपर नही उठ सकता ..तंत्र जगत मे  उसका   प्रवेश  संभव ही नही हैं .भले  ही उसने  कई कई  सिद्धियाँ  अर्जित कर रखी  ही ..और  यह  कई कई तरीके  से संभव हो  सकता  हैं योग मार्ग से  ..तंत्र मार्ग  से ..और योग तांत्रिक मार्ग से भी ..वही   अनेको  सम्प्रदाय  मे  कई कई  साधनाए  हैं पर  ..मूल  सभी मे  जब तक भगवती  तारा  की .........उस  भाव से  तारने  वाली  भगवती  तारा   ही हैं .जो कोई अन्य महाविद्या नही कर सकती है .
·       अगर नील सरस्स्वती  रूप देखें  तो   भला  अब क्या  और संभावनाए  शेष  रहती हैं .क्योंकि  विद्या को सिर्फ काव्य शक्ति या   बहुत अच्छा  लिखने  तक  ही नही ..क्योंकि  अगर  आपको आप द्वारा पढ़े गए  ग्रन्थ   हमेशा याद नही  हैं तो   क्या अर्थ हैं जीवन मे  बात तो यह हैं की  आप जब चाहे  जिस  विषय  पर चाहे ..बोल या लिख सकें उसका उद्धरण लगातार   धाराप्रवाह दे सकें ......अद्भुत मेधा  शक्ति  की साधना मे मूल रूप मे भगवती  तारा   ही हैं भले  ही   हम समझे  या   न समझे .
·       क्या भगवती  तारा   सिर्फ  और सिर्फ  ...एक महाविद्या  हैं ..क्या उन्हें  ऐसा मानना  उचित हैं? बल्कि ऐसा नही हैं ...सारा बौद्ध  तंत्र  की मूल शक्ति  ..मूल आराध्या  शक्ति  ..या ऐसे कहें  की जिस पर टिका  हैं वह भगवती तारा   ही हो हैं .. उनके  वहां पर  भगवती तारा   के  २१  स्वरुप माने  गए हैं और ... हर रूप के बारे मे लिखना  मानो   एक पूरा  तंत्र शास्त्र   को  ही अनावृत करना हैं ...
और  पारद तारा के विग्रह के बारे मे   तो कोई कहना भी नही चाहता ...सामान्य रूप से  कोई उल्लेख भी नही करेगा  और कोई भी सक्षम   गुरू इस बारे मे   सिर्फ अपने सर्वाधिक योग्य  शिष्य  शिष्याओ  को छोडकर  अन्य किसी ..से इस बारे मे  बात  ही नही करेगा  या बात ही  बदल देगा ..क्योंकि ..जो सारी नुन्ताओ  को तार   कर आपको सूर्यवत बना सकने मे  सक्षम   हो वह कोई ..साधारण बात तो नही हैं ..   हमारा  सारा  जीवन सूर्य पर आधारित  हैं और यह सारा विश्व भी ....यह का गया हैं की  सारा विस्व काल के आधीन हैं ...भगवान श्री कृष्ण कहते हैं की ...यह काल भी  सूर्य के आधीन  हैं .उसके वशीभूत हैं ..और  इतने परम तेजस्वी और   सभी प्राणियों के आत्मा  के प्रतीक  भगवान सूर्य की  आधार भूता कोई  शक्ति  और कोई नही बल्कि   यही भगवती तारा  ही हैं.
और भगवती के इस विग्रह की बात ही कुछ ओर हैं ..सिर्फ इसी विग्रह मे भगवान शिव  जो  भगवती   के इस स्वरुप के  भैरव हैं ..जिन्हें  अक्षोभ्य   कहा  जाता  हैं  स्वयं माँ  की जटाओ  मे विराजमान  हैं ..
और ..एक बहुत ही अद्भुत बात  की  व्यक्ति जिस प्रकार का  ध्यान करता हैं  उसके सामने   उसी प्रकार का विग्रह  होना  चाहिये ..आप श्मशान काली की उपासना   करते हो और आपके  पास  वैजन्तीय काली का विग्रह  हो  तो भला  सफलता कैसे  मिलेगी  भले ही मूल रूप मे  आशार शक्ति एक ही   हो ...
ठीक इसी  तरह  आलीढ़ और प्रत्यालीढ़   शब्द के  अर्थ मे  हैं  .
आज जो भी हमें  भगवती तारा की जो चित्र मिलता हैं अगर उसमे .उनका  उनका  कौन सा पैर आगे निकला हैं इस  पर ..शायद ही साधक  ध्यान देते हैं ..साधक उच्चारण   तो प्रत्यालीढ़  शब्द का  ध्यान  मे कर रहे हैं और उनके सामने  आलीढ़  स्थिति   वाला चित्र हैं तो भला सफलता कैसे ??  यह तथ्य इस  साधना के  बहुत लंबे समय  से लगे  साधक भी नही जानते  हैं ..अनिभिग्य हैं ...यह अलग बात हैं  की  उनके श्रम  को देख कर सदगुरुदेव  की कृपा से ....उन्हें परिणाम  भी मिले  पर ......क्योंकि तंत्र जगत कोई माने या न माने  की बात नही करता  हैं वह तो  एक सटीक प्रक्रिया हैं की अगर आपने  सही ढंग से जैसा कहा गया हैं  अगर उसी मनोभाव  से  साधना  की  सारे  प्रमाणिक उपकरणों के द्वारा   तो सफलता  कैसे नही मिलेगी ...हाँ यह  बात अवश्य ध्यान मे रखे  की ..अगर एक भी तथ्य  रह जाता  हैं तो सफलता प्राप्ति ओर संदेह  होना  स्वाभाविक हैं ?  और मिल भी नही सकती ..हाँ   सदगुरुदेव कृपा की बात   तो सर्वोपरि हैं  .वह  क्या नही संभव  कर सकती  पर मैं अभी बात सिर्फ प्रक्रिया   की कर रहा  हूँ .
और जब बात आये  पारदीय सह्त्रान्विता तारा  की  तो .....शायद  की कोई  जो इस विषय के जान कर  और अति योग्य साधक हैं .... यह कह सके  की हाँ मेरे पास यह पारदीय सहत्र्न्विता  भगवती तारा  विग्रह हैं .
पर मुझे  इस विग्रह की कोई आवश्यकता ही नही .मैंने  तो इस साधना  मे   सिद्धि पायी  हैं ..??
 ये सब तथ्य हीन बाते हैं ...पर   साक्षात्  आद्या  शक्ति स्वरूपा   भगवती तारा  के किसी  एक विशेष स्वरुप के किसी  एक अत्यंत  सामान्य से  शक्ति के अंश की साधना कर उसमे  सफल होने से .... व्यक्ति  सिद्ध नही हो जाता  हैं ..वह भले ही हवा मे उड़ता फिरे  ..क्योंकि भगवती  अनत स्वरूपा हैं और  उनके अनन्त स्वरूपों  की साधना कहाँ   संभव  हैं  और चलिए मान  भी लीजिए की यह  हो भी गया ..तो आपने  सिर्फ साधना  की उसमे  सिद्धि पायी ......भला  कभी ..उस अवस्था को आत्मसात कर पाए    जो ..की सर्वोच्च  अवस्था हैं ???.
और एक ऐसा  विग्रह जो सहत्रन्विता  मतलब हजार स्वरुप की शक्ति रखे ..तो उसे  तो  उसकी महिमा और उसके  प्रभाव को लेखनी बद्ध  किया  ही नही जा सकता हैं . पर ऐसा विग्रह  प्राप्त  होना ..इसे सिर्फ भाग्य  ही नही कहा जा सकता हैं .क्योंकि यह  तो बहुत छोटा सा  शब्द  हो जायेगा .इसके लिए ..कोई नया शब्द  ही गढना पड़ेगा ..क्योंकि .ज्ञान  ..विज्ञानं , काव्य शक्ति ,मानवीय कमियों  से मुक्ति ,  जीवन की उच्चता  ,और अनेको मनो विकारों से मुक्तता ..  तो  सहजता से संभव हैं .
एक और  बहुत ही विशेष  तथ्य हैं जिसका  उल्लेख एक बार पहले भी हमने किया हैं  की ..बहुत कम साधको   को यह ज्ञात  होगा की भगवती बल्गामुखी  की साधना करने वाले  को माँ  भोग भी प्रदान करती हैं .यह  तो   स्वपन मे  सोचा  भी नही जा सकता हैं .क्योंकि भगवती बल्गामुखी की साधना मे  इतने  कड़े नियम जो हैं .
ठीक इसी तरह भगवती   तारा  अपने साधको को ..निश्छल स्नेह  या प्रेम  भी प्रदान करती हैं .और  हम सभी आज यह भली भांति  जानते हैं कि  सदगुरुदेव  जी ने  कई कई बार यह समझाया  की  ब्रह्म   पर लिखना  आसान हैं पर  प्रेम/स्नेह  पर   तो लिखा  ही नही जा सकता हैं .आज  जो भी स्तिथि  हैं वह देहिक  स्थिति के  बारे मे..हैं   ..देहिक आकर्षण को ही प्रेम मान लिया जाता हैं  पर ..सच मे  जो आत्मिक प्रेम हैं..स्नेह हैं    वह तो भगवती की कृपा से  ही संभव हैं और ऐसा भगवती के  इस स्वरुप की साधना के  साधक के साथ होता हैं.उन्हें  यह  भगवती  प्रदान करती हैं .क्योंकि बिना निश्छल  प्रेम का अनुभव  किये  बिना उच्चस्थ  साधना मे  सिद्धि कहाँ संभव  हैं और भले  ही प्रेमी प्रेमिका के माध्यम से ही अधिकतर  प्रेम को समझया  गया हैं पर .यह तो एक प्रकार   हो गया .प्रेम को बांटना   सा हो गया ..वास्तव मे निश्छल  प्रेम ..सदगुरुदेव शिष्य शिष्याओ  के मध्य  , पिता पुत्री , पिता पुत्र के मध्य,  मित्रो के मध्य  , किसी के भी  मध्य  हो सकता हैं .क्योंकि निश्छलता  को को किसी बंधन मे बांधना कहाँ संभव हैं.और इस निश्छल स्नेह को भगवती तारा साधक एक जीवन   मे भर देती हैं .
भगवती तारा  माँ के नाम मे  से कुछ  नाम  स्वत ही उनकी महत्वता  का  परिचय देते  हैं ..जैसे ..
परमेश्वरी ...जो इश्वर से भी  आगे की स्थति  हैं .(जैसे  ब्रहम से आगे की स्थति पार ब्रहम हैं )
महालक्ष्मी ..आदि शक्ति  जिनसे सम्पूर्ण विश्व  गतिमान हैं
पुण्या ..समस्त पुण्य की अधिस्ठार्थी
भव तारिणी..भव सागर मतलब  समस्त संसारिक मायाजाल से मुक्त करने वाली ..निर्मलात्व  प्रदान करने वाली  
महामाया ....माया को भी जो अपनी माया मे  रखती हैं वह आद्या ..
भैरवी ....समस्त नारी जाती की आधार भूता  परमोच्च स्वरूपा
श्री विद्या ..समस्त  तंत्रों के  सिरमौर की आधार भूता
कला ..१६ कला  ही नही बल्कि समस्त   ६४ कलाओ कीआधार भूता
क्रिया ...बिना  क्रिया के कोई भी साधना  कहाँ संभव  हैं ...इनके बिना कोई भी क्रिया संभव नही ..तो  समस्त क्रियाओं की आधारभूता  हैं ..
....
भगवती तारा की साधना करने वाला ..खासकर ऐसे  परम दुर्लभ  पारदी य   सह्त्रान्विता तारा  के विग्रह के सामने  साधना करते  रहने से  स्वत  ही व्यक्ति की उन्नति ...  पशुभाव से उठकर  वीर भाव  और वीर भाव  से उठकर   दिव्य भाव  मे बनने लगती हैं ..पशु  भाव  मतलब  जो हम अष्ट  पाश मे लज्जा ,घृणा , शोक ..आदि  मे  फसें हुये हैं ..से   अगर दिव्य भाव  मतलब ..जहाँ सारा  विस्व मे  दिव्यता  ही..... न केबल अनुभव बल्कि  साक्षात  होती हैं..और ऐसी अवस्था के साधक के  दर्शन करने मे  देवता भी अपने को धन्य अनुभव करते  हैं .
क्योंकि भगवती तारा की साधना   तो ..चिनाचार माध्यम से ही संभव हैं .और यह अवस्था ..परम दुर्लभ हैं ..इसके नाम  पर जो भी कुत्सिक लोगों  की क्रियाए ..तंत्र के नाम पर  होती हैं ..उनका क्या कहें पर ....एक ओर जहाँ सदगुरुदेव की  परम आशीर्वाद स्वरुप यह  विग्रह   जो की सिर्फ  भगवती तारा  विग्रह  ही नही  बल्कि सह्त्रन्विता  तारा  विग्रह हैं  और जहाँ   सदगुरुदेव  के  परम आशीर्वाद स्वरुप .. इस विग्रह  ..जो की  बौद्ध तंत्र के  अति उच्च  आचार्यों के भी मध्य गोपनीय रहा  हैं  उसका प्राप्त हो जाना ..और जिससे  स्वत ही यह अवस्था  आ जाना  की  साधक वीर भाव   ही नही  बल्कि दिव्य भाव मे  स्वत  ही धीरे धीरे आ जाए ....भला यह सौभाग्य तो  देवताओं को भी दुर्लभ  हैं ..और इसससे जो भी  तंत्र जगत या साधना   जगत मे इतनी उच्चता प्राप्त करना ..सहज हो जाए .
हमने  बिंदु  साधना मे  स्त्री  सहयोगी की अनिवार्यता पर अत्यंत  विस्तार से  चर्चा की पर ......पशु भाव  और अनेको इन्द्रिय लोलुप लोगों के कारण ..जो तंत्र जगतकी समाज मे   जो निंदनीय  अवस्था  बनी ..इसको देख कर ही सदगुरुदेव ..ने  अत्यंत करूणा वश ...बिंदु रेतस  गुटिका  के बारे मे  हमको अवगत कराया  की किस  तरह ..बाह्य उपादानो से  भी कई कई गुणा  जयादा  सरल तम तरीका  पारद के माध्यम से  हो सकता हैं  जिसमे कोई भी स्त्री सहयोगी की किसी भी प्रकार से आवश्यकता नही होती और सौम्य सात्विक रूप से  घर पर ही यह साधना की जा सकती हैं ...और   इस तरह ..तंत्र के नाम  पर जो व्यभिचार मचा हुआ हैं ..जो घृणास्पद क्रियाए  जो .सामाजिक  नैतिक नियमों का मखोल उड़ा   गया  हैं वह ..अब नही हो .और आप सभी ने  कितने उत्साह से  उस गुटिका  को प्राप्त किया ...यह तो  बेहद प्रशंनीय हैं .
अगर आपने .हिमालय  के योगियों की  गुप्त सिद्धियों का अध्धयन  किया हैं तो उसमे  स्पस्ट लिखा  हैं की जो व्यक्ति श्यामा  साधना को उत्तीर्ण कर लेता हैं उसके  बाद  ही सही तरीके   से तंत्र जगत मे उसका  प्रवेश होता हैं ..मतलब  हमने जो सोचा हैं उससे  तो तंत्र कहीं कहीं और उच्चता  पर हैं ..
पर क्या यह क्रियाए  इतनी आसान हैं ..???संभव नही हैं .
आज  स्त्री पुरुष  दोनों  के मानसिक, शारीरिक ,और भावनात्मक  संयम  का  जो भयंकर  पराभव  या  अवनिती  हो रही हैं ,,उसे  भले ही देश काल और परिस्थितयां का परिणाम कह कर बच जाए ..पर ..इस संयम  हीनता, ..चारित्रिक पतन ...की अवस्था मे ..उच्च तंत्र मे प्रवेश  सभव ही नही  हैं ..चाहे आप ..कितने भी नारे लगाते  रहे ..आप स्वयं अपनी मानसिक अवस्था  जानते  हैं .
सदगुरुदेव का इस धारा पर भौतिक रूप से  आकर .इतना श्रम करना ..को भला  आज तक कौन पहचान सका हैं ..कौन उसका मूल्य आंक सका हैं .किसे आज परवाह हैं कि ..उनके कार्यों को समझ कर ...कार्य कर सकें..पर उन्होंने सिर्फ कहा ही नही  कर दिखाया  भी हैं .वह जानते हैं की   आज की परिस्थिति मे कैसे  एक साधक ..पशु भाव से ..दिव्य भाव  तक की यात्रा  कर सकें ...और उनके गहन परिश्रम और .प्रबलतम साधनात्मक  परिश्रम का फल  हैं यह  पारदीय सह्त्रन्विता  भगवती तारा  विग्रह ..जो की  अनेको  उन प्रक्रियाओं   द्वारा  गुंफित है. जो सिद्धाश्रम  मे भी दुर्लभ हैं .
सदगुरुदेव सदैव से  विद्रोही  रहे हैं उन्होंने कई कई बार   यह कहा भी ....  की अनेको बार  सिद्धाश्रम के   महयोगियों ने भी उनसे प्रार्थना  की प्रभु  जो ज्ञान ..जो इतने उच्चतम  विग्रह हैं जो हमें भी नही प्राप्त हो पाते  वह आप  इतने सहजता से  सरलता से इन गृहस्थ  शिष्य शिष्याओ को   क्यों दे देते हैं .जबकि ये  ना पात्रता   रखते हैं  न  ही इस ज्ञान के लायक हैं .न ही मूल्य समझते हैं ..तब ये क्यों ....और ये ही क्यों आपकी इतने  स्नेह का लाभ उठाते हैं ..और सदगुरुदेव मुस्कुराते हुये कहते हैं की यह सही हैं की  तुम सभी सन्याशी शिष्य  मेरे सर्व प्रिय हो पर   ये  गृहस्थ ..इतने कठिनाई से बंधे  हुये हैं और  इनके चेहरे पर एक मुस्कान लाने के लिए भी ..मुझे चाहे कितना भी अथक श्रम करना पड़े मैं करूँगा   क्योंकि ये मेरे ही अंश हैं, मेरे  प्राण हैं,मेरी आत्मा हैं ..अगर ये मेरे बिना  नही रह सकते   तो भला  मैं इनके  बिना कैसे ...इसलिए विगत जीवनोंकी अपेक्षा  इस जीवन मे  मैंने इनका हाथ पकड़ा  हैं और इस जीवन मे ही  इनको पूर्णता देनी हैं ,
मित्रो आपने कई कई बार  स्वत ही पड़ा  होगा  की सदगुरुदेव मंत्र  तंत्र यन्त्र विज्ञानं  पत्रिका मे  इस साधना के बारे लिखा  की स्वर्ण नगरी लंका के अधिपति  रावण और   देवताओं के  कोषाध्यक्ष कुबेर को यह सम्पन्नता  भगवती तारा  की कृपा से   ही प्राप्त हुयी  हैं .
जो भी इस प्रकार के  विग्रह प्राप्त कर उसके  सामने  यदि पूरे विधि विधान के साथ  स्वर्ण प्रदायक तारा  मंत्र का  पूरा अनुष्ठान करे   तो सदगुरुदेव जी की कृपा से   रोज उसे स्वर्ण  मुद्र्याए   प्राप्त भी   हो सकती हैं .क्योंकि यह  जीवन  मे  सफलता  और सम्पन्नता  की देवी हैं .
साथ ही साथ  पारद विज्ञानं मे  जिनकी रूचि हैं उन्हें  तो यह प्राप्त करना ही चहिये ..क्योंकि देह वाद   तो  तभी  व्यक्ति सफल हो सकता  हैं जबकि वह   लोह वाद अर्थात  पारे के  माध्यम से ...स्व.....निर्माण मे सफल हो ...अगर धातु मे परिवर्तन  नही कर सकते हैं तो भला अमूल्य  मानव देह मे सीधे प्रयोग करना  कितना उचित हैं .इसलिए .पारद  विज्ञानी  भगवती तारा की उपासना किसी न किसी  रूप मे  करते ही हैं ,यह तथ्य  बहुत कम को ज्ञाता हैं इस कारण  इस  की उपेक्षा  करने के करण भी अनेको को  पारद तंत्र विज्ञानं मे  असफलता मिलती हैं .
और मित्रो अब हमें  इतना  दुर्लभ  पारदीय  सहत्रविता भगवती तारा  विग्रह  आज हमें  सहज होने जा रहा हैं .और ऐसा करने मे कितना  श्रम और साधनात्मक तपस्या  हमारे सन्याशी भाई बहिनों की लग रही हैं .वह शब्दों मे लिखा नही जा सकता .
और बस स्थापित करना हैं .और कोई भी साधना .जो भगवती तारा की आपको मालूम हो ..या कोई भी मंत्र  जोभगवती तारा का हो  आपको अच्छा लगता हो ..या  बस ..माँ के  स्वरुप को जो पूरे मनोभाव  से   निहार भी सके ..उनकी अवस्था .स्वत ही दिव्यभाव  की बन् ने लगती हैं .और जो साधना करेंगे  ..उनके  तो भाग्य  और सौभाग्य की क्या  कहें ..     
सदगुरुदेव कहते हैं की भगवती तारा  की साधनाऔर किसी को  ऐसा  विग्रह प्राप्त हो जाए   तो .. कोई भी तारा साधना इस विग्रह के सामने की जाए ....निश्चय ही व्यक्ति दूसरों की प्रभावित करने वाली शक्ति व्यक्ति प्राप्त करता  हैं ही ,उनकी वाणी मे ऐसा  प्रभाव हो जाता हैं की वह   पूरी दुनिया को वश मे करने की सामर्थ्य रखता हैं .मुक़दमे  जुए  घुड  दौड़ सभी मे  वह विजय प्राप्त  करने लगता हैं .पुत्र पौत्र होते हैं ,घर मे इतना धन आने  हैं की व्यक्ति विलासी जीवन  सम्पन्न होने लगता हैं  सारे  शत्रु दास  उसके नौकर  की भांती  वश मे हो जाते हैं .पारिवारिक ऋण   दूर  हो कर  घर मे  सुख शांती  हो जाति हैं .
घर मे स्थायी  लक्ष्मी  निवास करने लगती हैं .और समस्त प्रकार की सिद्धियों की प्राप्ति   होने  से  वह पूर्ण यश  धन मान  पद  प्रतिष्ठा  प्राप्त करने मे सफल हो जाता हैं .
अब और कितना इस परम दुर्लभ विग्रह के बारे मे लिख जाए ...जो बुद्धि सम्पन्न   हैं  ..जो काल  और समय की उपयोगिता समझते  हैं   उनके लिए   इशारा भी बहुत   हैं ..
तो जो भी इस विग्रह को प्राप्त करना चाहे ..वह nikhilalchemy2@yahoo.com  पर संपर्क कर सकता  हैं .
****NPRU****

5 comments:

bhanukamal choubisa said...

ARIF BHAISAHAB MUJE BHAGAWATI TARA KA VIGRAH CHAHIYE bhanuhind@gmail.com

bhanukamal choubisa said...

आरिफ भाई साहब मुझे आपकी पारद विद्या में रूचि हे मुझे भगवती तारा का विग्रह चाहिए

MUKESH SAXENA said...

ati durlabh sadhna hai,hamara saubhagya hai ke humko hamaare varishth gurubhai ,iss durlabh gyan ko saath hi ,chaitanya bhagvati tara ka pare ke vigrah ko uplabdh karwa rahe hain.iske liye dhnyawad shabd bahut kam hai,bas itna hi kahenge hum.jai sadgurudev.

pirtul kumar said...

GURUBHAI AAP MUJHE BHAGWATI TARA KA PARAD VIGRAH OR SANSKARIT PARAD SREE YANTRA CHAHIYE(DONO KI PUJAN OR STHAPNA DETAIL BHI CHAHIYE)........kumarpirtul1983@gmail.com

rajthakare369 said...

"जय सदगुरुदेव"
आरिफ भाई मैने आपको इस विषयमे पहलेभी पोस्ट कर चुका हुं,मैनेभी आपसे इस विग्रह प्राप्त करणेकी इछा व्यक्त की हे,परंतु मै ऐसा चाहता हु कि जब आपको गुरुदेव आज्ञा दे तभी आप इसे उपलब्ध कराये हमारेलिये क्युकी हमाराभी स्तर उचा उठना चाइये साधनाओमे तबतक के लिये "जय गुरुदेव"
(Email ID:rajthakare0605@gmail.com)