There was an error in this gadget

Wednesday, November 7, 2012

MAHAKAAL BHAIARAV YUKT BHAGVATI DHOOMAVATI PRAYOG-(सर्व तीव्र शमसानिक शक्ति प्राप्ति) महाकाल भैरव युक्त भगवती धूम्रवर्णा साधना



Avyaktadyaktyah Sarvaah Prabhavantayhraagme |
Raatryaagme Pralleyante Tatraivaavyaktsangyke ||

“Entire world gets created from the basic nature every morning and gets diffused and with the night, it disappears in that unexpressed basic nature”

This is the secret of origin of creature and their destruction after knowing which nothing is left to understand. Because between birth and destruction there is hidden activity of development or maintenance and the one who knows it, its progress is almost certain.  This is the basic feeling of Aagam i.e. Tantra – after saying this Bhairavi Maa looked towards me and stopped her talks.

But Maa is it this much easy to understand this secret??

Answer is both yes and no……because if sadhak takes assistance from capable Guru and relies on Vihangam path of Tantra then he certainly attains success by grace of Guru and due to his hard-work. Sadhak should always keep one fact in mind that following orders and directions given by Guru is emulation of Guru and besides it; this activity is one more step towards dedication. When disciple follows Guru Direction with all his senses then at that particular time he is only and only filled with dedication feeling. He does not any thought-process of his own, nothing is left. He just has to fulfil his own desire in best possible manner and dedicate himself to feet of Guru

And when Guru experiences this quality of disciple, he un-hesitantly provides hidden keys of Tantra to his disciple. Development of disciple, his success and making him self-dependent is the aim of Guru. He only wants that sadhak should reach that level where he is in position to pretty well understand the fact that there is no difference between him and supreme Guru. He is within me and I am inside him.

Maa, then what is the Vidhaan to understand the secret of this destruction and creation???

Though Tantra scripture is ocean of various procedures and in that too, Bhairav sadhna and Mahavidya sadhna are at the top. But when we talk about understanding the secrets of creation and destruction then place of Dhoomavati sadhna is very important.

Sadhaks of this mahavidya are successful in attaining siddhi after understanding her form and secret of her shape (picture) and doing procedures. Dirty white clothes indicate the great combination of Sat and Tam …….secret to understand the intensity of Tantra and placidity of salvation. Have you ever thought that even in the deep darkness and height of mass destruction, white clothes exhibits motherhood. Chariot is the indicator of winning everything. Crow indicates Tantra and rule over Ittar Yonis and besides it, it also indicate subtle vision of time and attainment of immortality. Winnowing basket represents attainment of every best possible thing. Entangled hairs represent complete control of sadhak over energy of Sahastrar. Other name of seeing most dreadful states of life like aghor and winning them is Dhoomavati sadhna.

Out of all energy, place of Praan energy is most important and foremost. And density and spread of Praan energy is maximum in shamshaan (obituary).Therefore when we talk about attainment of Praan energy, may it be in living state or after death, person has to go to shamshaan. Sadhak gets knowledge of various secrets of shamshaan sadhnas as well as ability to completely control Ittar yonis by Dhoomavati sadhna. Another way of destroying ill-fortune completely is by doing her sadhna. Most important fact is that week sadhak cannot do her sadhna in proper manner and he should not do it also. Sadhna of Bhagwati Dhoomavati is possible only after strong willpower, intense hard-work and complete dedication towards Guru and Isht.

It is seventh Mahavidya and Bhagwati Kaalraatri is her form Its combination with Mahakaal Bhairav not only provides base to sadhak for a future in shamshaan sadhnas but it also provides knowledge to sadhak when and how to give impetus to these intense sadhnas.


What is its procedure?

Sadhak can start this sadhna from night of Dhan Triyodashi (2 days before Deepawali) and this procedure is completed on day of Bhai Dooj (2 days after Deepawali)

Necessary articles include Chita Bhasm (ashes), black Til, Rudraksh mala for chanting, three earthen lamps( which should have been placed one day before in shamshaan or on the same day), boiled horse-bean (udad) , bade made up of horse-bean (horse-bean formed into small round cakes and fried) , curd, papad (crisp cakes) , ginger juice mixed with honey. Dress and aasan will be black. One iron nail and yellow mustard (even black mustard will do if you cannot find yellow one).Water container made up of iron or clay is also needed.

Take bath in night (it will be much better to take bath in shamshaan itself).Wear black dress, spread ashes beneath your aasan and then spread your aasan. Make one circle on your four sides by iron nail and bind the aasan and it is better to chant Guru Mantra 108 times before forming circle. And then while chanting Guru Mantra or Aghor Mantra, circle should be made. Do the aavahan of Ganpati on your right side and of Guru on your left side and give space to them. Do the dhayan of Ganpati on right side and while doing dhayan on left side, only Guru should be thought of. There is no special procedure for it; just you have to do dhayan on both sides.

Now make one eight-petal lotus and within it form one downward-facing triangle in its centre with ashes as shown above in the picture. And in accordance with picture, establish one heap of ashes in centre for establishing aghor Rudra and one lamp. Do the poojan of this Mandal with ashes, rice and Naivedya. After doing the poojan of Guru, Ganpati and lord Bhairav, chant 16 rounds of Guru Mantra and take permission for doing sadhna and pray for its success. You should keep one very important fact in mind that lamp should not extinguish during the sadhna duration at any cost. You can cover it with glass cover used in lantern. This means you will need 3 glass cover.

Now with complete dedication do the dhayan of Aghor Rudra.

Tripaad hast Nayanam Neelanjan Chayopamam |
Shoolasi Soochi Hastam Ch Ghor Danstraatt Haasinam ||

After this, chant 3 rounds of below mantra by Rudraksh rosary.

Hreem Sfur Sfur Prasfur Prasfur Tar Tar Prtar Prtar Prad Prad Prachat Prachat Kah Kah Mah Mah Bandh Bandh Ghaatay Ghaatay Hum Hum ||

After this, take water in hand and do the below viniyog.
Asay Bhagwati Dhoomavati Mantrasay Naarsingh Rishi, Panktih Chhand,Dhoomavati Jyeshtha Devta, Dhoom Beejam, Swaha Shaktih,Poorn Tvam Aashirwad Praptyerthe Mam Manokaamna Siddhyerthe Jape Viniyogah

Kar Nyas
Dhaam Angushthabhyaam Namah
Dheem Tarjanibhyaam Namah
Dhoom Madhyamabhyaam Namah
Dhaim Anamikabhyaam Namah
Dhoum Kanishthakabhyaam Namah
Dhah Kartalkarprashtibhyaam Namah

Hridyaadi Nyas
Dhaam Hridyaay Namah
Dheem Shirse Swaha
Dhoom Shikhayai Vashat
Dhaim Kavachaay Hum
Dhoum Netrayaay Voushat
Dhah Astray Phat

After this, do the dhayan of Bhagwati with full concentration.

Dhyayet Kaalabhr Neelaam Viklit Vadnaam Kaak Naasaam Vikarnaam |
Sammarjanyulk Shurpaiyut Moosal Karaam Vakr Dantaam Vishaasyaam ||
Jayeshthaam Nirvaan Veshaam Brikutit Nayanaam Mukt Kesheemudaaraam ||
Shushkotangaati Tiryak Stan Bhar Yuglaam Nishkripaam Shatru Hantreem ||


After this, offer ashes on the centre point of Mandal where Bhairav sthapan has taken place and chant below mantras while offering it.
Om Kshudhyai Namah
Om Trishnyai Namah
Om Ratyai Namah
Om Nidryai Namah
Om Nirityai Namah
Om Durgtyai Namah
Om Rushayai Namah
Om Akshmayai Namah

After this, chant 70 rounds of below basic mantra 

Dhoom Dhoomavati Swaha ||

After this, chant 3 rounds of below mantra 
Om Dhoom Dhoom Shamshaansiddhisanhrishta Dhoom Dhoom Swaha ||

After this procedure, do hawan with one round of basic mantra by Til. It will be best if pyre fire is used for igniting fire. Important fact is that timber used for oblation should be kept in shamshaan in advance. This whole procedure has to be done for 5 days.
Everyday Naivedya should be left there only. Before entering home, take bath, change your clothes and then enter home.

From the first day itself, shamshaan jagran procedure starts and environment starts becoming dreadful. But sadhak should remain fearless, do dhayan of Isht and Sadgurudev and complete the Jap, sadhak should daily pray to Maa for complete success after Jap Samarpan. Remember that lamp should keep on lighting after the process in the night i.e. you should leave it in lighting state. Important fact is that if you are doing sadhna in the front of burning pyre then there is no need to make any Mandal. Definitely on the last day, sadhak gets darshan of Aghor Rudra and Maa and get the hints by which you know that your sadhna is successful. Sadhak with weak heart should not try these sadhnas and it is also not right to do it without appropriate guidance. I have just tried to put forward the procedure. This Vidhaan has been revealed due to grace of Maa Bhairavi.

Please do not do any activity which violates any social or moral law.

============================================
अव्यक्ताद्व्यक्तय: सर्वा:प्रभवन्त्यहरागमे |
रात्र्यागमे प्रलीयन्ते तत्रैवाव्यक्तसंज्ञके ||

सम्पूर्ण विश्वमात्र  भूतगण दिन के साथ ही मूल प्रकृति से सृजित होकर चहुँ ओर व्याप्त होते हैं और रात्रि के प्रारम्भ के साथ ही उस अव्यक्त मूल प्रकृति में ही लीन हो जाते हैं.”

  यही तो रहस्य हैं प्राणिमात्र की उत्पत्ति और उसके संहार का.जिसे जान लेने के बाद कुछ और जानना आवश्यक भी नहीं होता है.क्यूंकि जन्म और विनाश के मध्य ही तो कहीं अपने विकास या ये कहूँ की पालन का भाव और क्रिया छुपी रहती है और जो इसे जान लेता है फिर उसका विकास निश्चित है ही है.यही आगम अर्थात तंत्र का मूल भाव है – और ये कहते हुए भैरवी माँ ने मेरी ओर देखकर अपनी बात को विराम दिया.

किन्तु माँ क्या इस रहस्य को समझना इतना सहज है ??

हाँ भी और नहीं भी....क्यूंकि यदि साधक समर्थ गुरु का आश्रय लेकर तंत्र के विहंगम मार्ग का आश्रय लेता है तो उसे गुरु कृपा और स्वपरिश्रम से सफलता मिलती ही है.क्यूंकि एक बात साधक को हमेशा ध्यान रखना चाहिए की गुरु प्रदत्त आज्ञा और निर्देश का पालन करना ही उनका अनुसरण करना है और साथ ही ये क्रिया भी है समर्पण की ओर एक और कदम.जब शिष्य गुरु निर्देश का पूर्ण ऐन्द्रियक पालन करता है तो उस काल विशेष में वो मात्र और मात्र समर्पण भाव से युक्त ही होता है,स्वयं की कोई विचारधारा,कोई भाव शेष नहीं रहता है.मात्र स्वयं की अभिलाषा की श्रेष्टतम रूप से प्राप्ति कर अपने आपको गुरु चरणों में विलीन कर देना ही होता है.

  और जब शिष्य के इस गुण को गुरु अनुभव कर लेता है तो तंत्र की गोपनीय कुंजियाँ वो निसंकोच उसे दे सकते हैं.क्यूंकि शिष्य का विकास,उसकी सफलता और आत्मनिर्भरता ही तो गुरु का लक्ष्य होती है.वे मात्र यही चाहते हैं की शिष्य उस धरातल पर पहुच सके जहाँ उसे भली भाँती ज्ञात हो जाए की गुरु की विराटता और स्वयं में अब कोई अंतर है ही नहीं,मैं उनमें हूँ और वो सदैव सदैव से मुझमें हैं.

माँ,तब इस विनाश और निर्माण के रहस्य को समझने का विधान क्या है ???

वैसे तो तंत्र शास्त्र विभिन्न क्रियाओं का सागर है.और उनमें भी भैरव साधना और महाविद्या साधनाएं सभी साधनाओं की सिरमौर हैं.किन्तु जब बात सृजन और विनाश के रहस्य को समझने की है तो धूमावती साधना का स्थान अत्यधिक महत्वपूर्ण है.

   जो इनके साधक होतें हैं वे इनके रूप और आकृति रहस्य को समझकर अपनी क्रिया के द्वारा सिद्धि प्राप्त करने में सफल होते हैं. श्वेत मलिन वस्त्र जो परिचायक हैं....सत और तम के महायोग का...एक साथ तंत्र की तीव्रता और जीवन मुक्ति की सौम्यता को समझने का रहस्य. क्या कभी सोचा है की घोर अन्धकार में श्वेत वस्त्र महाविनाश की पराकाष्ठा में भी ममत्व का दिग्दर्शन कराता है. रथ दिग्विजय अर्थात सब्कुसब कुछ जीत लेने का प्रतीक है. कौवा प्रतीक है तंत्र और इतरयोनियों पर आधिपत्य का और साथ ही वो प्रतीक है सूक्ष्म काल दृष्टि और अमृत्व प्राप्ति की क्रिया का. सूर्प प्रतीक है सबकुछ श्रेष्ट की प्राप्ति का.उलझे हुए केश प्रतीक है सहस्त्रार ऊर्जा पर साधक के पूर्ण नियंत्रण का.जीवन की घोरतम अवस्थाओं को अघोर के सामान देखने और जीत लेने की क्रिया का दूसरा नाम ही धूमावती साधना है.

  किसी भी ऊर्जा में प्राणऊर्जा का स्थान सबसे महत्वपूर्ण और सर्वोपरि है. और प्राण ऊर्जा का घनत्व और विस्तार सबसे अधिक शमसान में ही होता है.अतः जब बात प्राण ऊर्जा की प्राप्ति की हो तो चाहे जीवित अवस्था में अथवा मृत अवस्था में व्यक्ति को शमसान जाना ही पड़ता है. शमसान साधनाओं के विभिन्न रहस्यों का ज्ञान और इतर योनियों पर पूर्ण नियंत्रण की क्षमता साधक को धूमावती साधना से ही एक साथ प्राप्त हो जाती है.प्रकारांतर से दुर्भाग्यनाश की क्रिया की पूर्णता भी इन्ही की साधना से होती है.हाँ सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की कमजोर साधक इनकी साधनाओं को सही तरीके से संपन्न नहीं कर सकता है,और उसे करना भी नहीं चाहिए. भगवती धूमावती की साधना पूर्ण आत्मबल,कठोर परिश्रम और गुरु और इष्ट के प्रति पूर्ण समर्पण के बाद ही संभव हो पाती है.

    ये सप्तमी महाविद्या है और भगवती कालरात्रि इन्ही का रूप है.महाकाल भैरव के साथ इनका योग ना सिर्फ शमशान साधना में भविष्यगत साधक को आधार प्रदान करता है अपितु कब कैसे इन तीव्र साधनाओं को गति देना है,इसका ज्ञान भी साधक को होते जाता है.

इसकी विधि क्या है ??

धन त्रयोदशी की रात्रि से साधक इसका प्रारंभ करता है और भाईदूज के दिन ये विधान पूर्णता प्राप्त करता है.

आवश्यक सामग्री में चिता भस्म,शमसान की मिटटी,काले तिल,जप हेतु रुद्राक्ष माला,तीन मिटटी के दीपक(जिन्हें एक दिन पहले ही शमसान में रख दिया गया हो,या फिर उसी दिन शमसान में रख दिया गया हो. उबाली हुयी उडद,उडद के बड़े,दही,पापड,अदरक का रस जिसमे मधु मिला हो,वस्त्र व आसन काले होना चाहिए.एक लोहे की कील,और पीली सरसों अभाव में काली सरसों भी चलेगी.साथ ही लोहे का या मिटटी का जालपात्र होना भी अनिवार्य है.

  रात्रि में स्नान कर (अधिक बेहतर है की शमसान में ही स्नान कर लिया जाए) काले वस्त्र धारण कर अपने आसन के नीचे चिता की भस्म बिछाकर फिर आसन बिछाया जाये.लोहेकी कील से अपने चारों ओर एक गोला बनाकर आसान बाँध लिया जाना चाहिए और गोला बनाने के पहले कील पर गुरु मंत्र का १०८ बार जप कर लेना उचित है. और फिर गुरु मंत्र या अघोर मंत्र का उच्चारण करते हुए ही गोला बनाना चाहिए. अपने दाहिनी ओर गणपति का आवाहन और बायीं ओर गुरु का आवाहन करना चाहिए.और स्थान देना चाहिए.ध्यान देने के लिए दक्षिण दाहिनी तरफ गणपति का ध्यान और बायीं तरफ धन करते हुए गुरु का चिंतन करना चाहिए.इसकी कोई खास विधि नहीं है,मात्र आपको दोनों तरह अपने द्वारा चिन्हित ध्यान करना चाहिए.

अब सामने एक अष्टदल कमल बनाकर उसके मध्य में एक अधोमुखी त्रिकोण का निर्माण चिताभस्म से ऊपर दर्शित चित्र के अनुसार करना चाहिए.और चित्र अनुसार ही उसमे चिताभस्म से केन्द्र में अघोर रूद्र स्थापन हेतु ढेरी तथा दीपक की स्थापना करना चाहिए और उस मंडल का पूजन चिताभस्म,अक्षत,नैवेद्य से करना चाहिए. गुरु,गणपति और भगवान भैरव का पूजन कर १६ माला गुरु मंत्र जप कर साधना संपन्न करने की अनुमति और सफलता के लिए आशीर्वाद की प्रार्थना करें. एक महत्वपूर्ण तथ्य का आप सभी अवश्य ध्यान रखियेगा की दीपक किसी भी हालत में साधनाकाल में बुझना नहीं चाहिए. आप उसे लालटेन वाले कांच की बरनी से ढांक सकते हैं,मतलब आपको तीन बरनी की आवशयकता होगी.

अब पूर्णरूपेण एकाग्रभाव से होकर अघोर रूद्र का ध्यान करें-

त्रिपाद हस्त नयनं नीलांजन चयोपमं |
शूलासि सूची हस्तं च घोर दंस्ट्राट्ट हासिनम् ||

 तत्पश्चात निम्न मंत्र का रुद्राक्ष माला से ३ माला जप करें-

ह्रीं स्फुर स्फुर प्रस्फुर प्रस्फुर तर तर प्रतर प्रतर प्रद प्रद प्रचट प्रचट कह कह मह मह बंध बंध घातय घातय हुं हुं ||

इसके बाद हाथ में जल लेकर निम्न विनियोग को संपन्न करें –

अस्य भगवती धूमावती मन्त्रस्य नारसिंह ऋषि,पंक्ति: छंद,धूमावती ज्येष्ठा देवता,धूं बीजं,स्वाहा शक्तिः,पूर्ण त्वं आशीर्वाद प्राप्त्यर्थे मम मनोकामना सिद्धयर्थे जपे विनियोग: |

करन्यास-
धां अंगुष्ठाभ्यां नमः
धीं तर्जनीभ्यां नमः
धूं मध्यमाभ्यां नमः
धैं अनामिकाभ्यां नमः
धौं कनिष्ठकाभ्यां नमः
धः करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः

ह्रदयादिन्यास-
 धां हृदयाय नमः
धीं शिरसे स्वाहा
धूं शिखायै वषट्
धैं कवचाय हुं
धौं नेत्रत्रयाय वौषट
धः अस्त्राय फट्

   इसके बाद पूर्ण चिंतन और एकाग्रता के साथ भगवती का ध्यान करें –

ध्यायेत कालाभ्र नीलां विकलित वदनां काक नासां विकर्णाम्  |
सम्मार्जन्युल्क शूर्पैयुत मूसल करां वक्र दंतां विशास्याम् ||
ज्येष्ठां निर्वाण वेषां भ्रकुटित नयनां मुक्त केशीमुदाराम् |
शुष्कोत्तंगाति तिर्यक स्तन भर युगलां निष्कृपां शत्रु हन्त्रीम् ||

इसके बाद मंडल के मध्य बिंदु जहाँ भैरव स्थापन हुआ है वहाँ पर चिताभस्म अर्पित करते हुए निम्न मन्त्रों का उच्चारण करते जाएँ-
ॐ क्षुधायै नमः
ॐ तृष्णायै नमः
ॐ रत्यै नमः
ॐ निद्रायै नमः
ॐ निर्ऋत्यै नमः
ॐ दुर्गत्यै नमः
ॐ रुषायै नमः
ॐ अक्षमायै नमः  

 इसके बाद निम्न मूल मंत्र की ७० माला जप करें-

धूं धूमावती स्वाहा ||

 जप के बाद ३ माला मंत्र जप निम्न मंत्र का करें-

ॐ धूं धूं श्मसानसिद्धिसंहृष्टा धूं धूं स्वाहा ||

इस क्रिया के पश्चात मूल मंत्र से १ माला हवन तिल के द्वारा करें.यदि अग्नि प्रज्वलन के लिए  चिता अग्नि का प्रयोग किया जाए तो अति उत्तम,हाँ महत्वपूर्ण तथ्य ये है की हवन के लिए लकड़ी भी शमसान में पहले ही रख आयें.ये सम्पूर्ण क्रम ५ दिनों तक करना है. प्रतिदिन नैवेद्य को वही छोड़कर आना है. घर में प्रवेश करने के पहले स्नान कर वस्त्र बदल लें और फिर घर में प्रवेश करें.

  पहले दिन से ही शमसान जागरण की क्रिया और वातावरण में भयावहता और तीव्रता प्रारंभ हो जाती है. किन्तु साधक निर्भय होकर इष्ट चरणों और सदगुरुदेव का ध्यान करके जप पूर्ण करे ही,और नित्य ही जप समर्पण के बाद माँ से पूर्ण सफलता की प्रार्थना करें.याद रखिये दीपक उस रात्रि की क्रिया केर बाद तक जलना चाहिए अर्थात आपको जलते हुए दीपक छोड़कर आना है. हाँ महत्वपूर्ण तथ्य ये है की यदि आप जलती हुयी चिता के सामने साधना कर रहे हैं तो मंडल बनाने की आवशयकता नहीं है.निश्चय ही अंतिम दिवस अघोररूद्र और माँ के दर्शन साधक को होते ही हैं और उन संकेतों की प्राप्ति होती है जिससे उसे ज्ञात होता है की उसकी साधना पूर्ण सफल हुयी है. कमजोर ह्रदय के साधक इसे ना करें और ना ही उचित मार्गदर्शन के बगैर इसे करना उचित ही है.मैंने मात्र इस क्रिया को सामने लाने का प्रयास मात्र किया है. कंठ से कंठ तक से बाहर निकल कर पहली बार ये विधान माँ भैरवी की कृपा से आप सबके सामने आया है.

सामाजिक नैतिक दृष्टि से ऐसा कोई कृत्य या क्रिया ना करें जिससे सामाजिक,नैतिक क़ानून का उलंघन होता हो.

****NPRU****

No comments: