There was an error in this gadget

Sunday, November 11, 2012

NAKHANIYA PRAYOG KA EK AUR ADBHUT VIDHAAN



Ayito Soomaay Para Nibaddh Srijo , Tara Tarparo Samanvit Jagatoh |

Samanvit Srijyuktoh Tatparo Shri Prachur Aishwaryam Roopam ||

Certainly, this whole universe is expansion of the imagination of that Para Mahapara Shakti which blesses her heirs with combined blessing of immortality, health and immense wealth. That’s why Aishwarya has also been called Soundarya (beauty).

This festival of Mahakaalraatri is not only full of joy but for a sadhak, it also contains the pinnacle of experiences. Have you ever thought that as compared to darkness, there are more chances of illusion and getting deviated in light because in light concentration level of mind is diffused/scattered but in darkness, our all senses (related to karma, Gyan and soul) are all focused on their aim with full concentration. Therefore chances of getting deviated are less. Experience is subject of state which keeps on increasing with attainment of knowledge but Anubhuti (spiritual experience) is state of soul, not the physical body. This Anubhuti is carried by soul from one body to other and this journey goes on until it reaches supreme aim.
Out of four Purshaarths of life, three comes under Anubhuti
Dharma
Artha
Kaam

These three definitely can be obtained by undergoing Anubhutis but Moksha (salvation) cannot be counted among Anubhuti. Moksha is completeness which can be obtained only after entirety of Anubhutis. Probably we will not be able to understand the depth of this subject and we will understand it only when our soul encounters such Anubhutis.


Mahakaalraatri is that part of Mahakaal in which protective cover/shield of energy-centre of every substance become feeble at particular moment. And if with full mental power, that energy-centre is struck by words (in other words mantra) then that energy definitely accomplishes your work and desires. Reason for it is that as words strikes it, energy emitted from energy-centre rather than getting diffused return to sadhak being bounded in ether and it materialises the work of sadhak by combination of mental power and resolution power (Sankalp Shakti), may it be attainment of Vashikaran ability or beauty or desire of getting desired life-partner. In reality Nakhaniya Prayog is one such prayog which can only provide wealth and prosperity by strongly attracting Lakshmi but this prayog also fulfils any one desire of sadhak relating to Aishwarya (pleasure/delight).

In sloka above this prayog has been described in Koot Language (in encoded form). What is needed is to understand it.Remember that Sadgurudev used to say that the one who started behaving and doing procedures after understanding time, his progress cannot be stopped by anyone. Here we are not talking about only attainment of wealth but side by side we are talking about complete attainment of one flavour out of various flavours of life. Actually Nakhaniya Tantra is collection of various vidhis which have been collected only in this Tantra and by which you can fulfil your desire through Tantra. If we are able to meditate peacefully then we can call it as Anubhuti of Dharma. After it, Anubhuti of Artha is also very important because only after it we can cross the stage of Kaam and attain Moksha. Therefore attainment of level of Artha is also very important and this rare prayog fulfils this desire of sadhak.

It has also been said above that the relation which Para Shakti has with any normal substance and as a result of which one special energy-centre is created in that substance and substance attains that special capability or quality, by making a contact with that relation or connection sadhak can definitely obtain immense wealth.

In this amazing prayog, one Jata Yukt coconut (which has been called Jagat or Brahmand in above sloka) and silver pencil or fine silver wire is needed. And writing special mantra through Srijras or Kumkum and chanting mantra in front of coconut, bhedan of energy-centre takes place and whole procedure is completed by tying it up in red cloth through which rare event of accomplishment of work and attainment of wealth occurs. Brahmand energy Bhedan i.e. bhedan of energy centre of coconut is possible only on Maharaatri of Deepawali. This is because of the fact that bhedan of energy centres of all substance present in universe can be done at different times and by it, impossible works can be made possible. But that is one separate Tantra Vigyan. And when time comes, I will describe it with the blessing of Sadgurudev. But now we are talking about this prayog and understanding the hidden meaning of this sloka.

This prayog is done on Deepawali night precisely at the time when Mithuna Lagna starts. Sadhak should not sleep in the daytime on this day. Sadhna is done in night by wearing only red dress. Red aasan, til oil lamp, Rakt pushp or marigold flower, Naivedya of Kheer, Moonga or Kamalgatta rosary are required.
Before starting of Mithuna Lagna do the Guru Poojan, Ganpati poojan etc. And take the Sankalp, permission for doing such amazing prayog and pray for success.

All these procedures have to be done while facing east. After that, as soon as the Mithuna Lagna starts, the floor which has been already cleaned and has red cloth spread on it, write SHREEM with ring-finger of right hand by kumkum and Til oil and place Bhoj patra or piece of paper on it on which you have already written your desire. Now establish the coconut on that paper. Form one downward-facing triangle on coconut and make the yantra shown in above picture by kumkum (which has been made wet with Til oil) using silver wire/pencil. Do its poojan considering it as the form of Mahalakshmi. Til oil lamp should be used, Kheer should be offered as Naivedya; use rose Dhoop and if possible offer some coins and flowers. After that, sit in Siddhaasan or Sukhaasan and with peaceful mind, chant 11 rounds of below mantra by Kamalgatta or Moonga rosary while seeing yantra written on that coconut.

OM HREENG SHREEM LAKSHMI MAHALAKSHMI SARVKAAMPRADE SARV SOUBHAAGYDAAYINI ABHIMART PRAYACHCHH SARVE SARVGAT SURUPE SARV DURJAY VIMOCHINI HREENG SAH SWAHA.
 
After mantra Jap, pray to that coconut and tie it up with red cloth along with coin and silver wire and keep in in Pooja room for whole night. Lamp should remain enlightened for the whole night. Take the Bhoga yourself and on the next day establish that coconut tied up in cloth in your safe or cupboard or worship-place. Show dhoop and lamp to it daily and if possible offer 2-5 rupees. Whenever you are going out of house for any financial related tasks then recite the mantra 24 times and blow on your hand and touch your entire body with that hand. You will yourself witness the miracle and day-to-day progress.

Such Vidhaans are not to be kept rather they should be done as to remove ill-fortune and become fortunate. Then only, lays the fruitfulness of our life and of one more successful step progressing towards fulfilment of dream of Sadgurudev.

=====================================================
अयितो सोमाय परा निबद्ध सृजो,तरा तरपरो समन्वित जगतो:|

समन्वित सृजयुक्तो: तत्परो श्री प्रचुर ऐशवर्य रूपम् ||   

निश्चय ही यह सम्पूर्ण सृष्टि उस परा महापरा शक्ति का कल्पना विस्तार ही तो है जो अपने अंश भूतो को अमृतत्व, आरोग्य, प्रचुर ऐश्वर्य के संयुक्त वरदान से सृजित करती है तभी तो ऐश्वर्य को भी सौन्दर्य कहा गया है.

 महाकाल रात्रि का पर्व अपने आप में उत्साह जन्य तो है ही परन्तु एक साधक के लिए अनुभूति की चरम पराकाष्ठा को भी स्वयं में समेटे हुए है. क्या कभी सोचा है की अन्धकार की तुलना में प्रकाश में विचलन और भ्रम कहीं अधिक तीव्रता से होने की सम्भावना रहती है, क्योंकि प्रकाश में चित की एकाग्रता का स्तर विखंडित सा होता है परन्तु अन्धकार में समूर्ण कर्मेंद्रियों, ज्ञानेन्द्रियाँ और आत्म इंद्रियां पूर्ण एकाग्रता के साथ लक्ष्य की ओर गतिशील होती हैं. इसीलिए विचलन की सम्भावना कम होती है. अनुभव विषय है अवस्था का जो ज्ञान प्राप्ति के पश्चात बढ़ता जाता है किन्तु अनुभूति आत्मा की अवस्था है, भौतिक नहीं और अनुभूति को अपने साथ लिए आत्मा एक देह से दूसरी देह तक की यात्रा करते चली जाती है तब तक, जब तक की वह अपने परम लक्ष्य तक ना पहुंच जाए.
 जीवन के चार पुरुषार्थो में से तीन अनुभूति के अंतर्गत आते हैं-
धर्म
अर्थ
काम

ये तीन तो निश्चय ही अनुभूतियों की प्रशस्ता से ही प्राप्त होते हैं किन्तु मोक्ष की गणना अनुभूतियों में नहीं हो सकती, मोक्ष तो पूर्णता है जिसे अनुभूतियों की समग्रता के पश्चात ही प्राप्त किया जा सकता है.  शायद हम इस विषय की गंभीरता को ऐसे नहीं समझ पाएंगे,और समझेंगे भी तब जब हमारी आत्मा का सामना स्वयं ऐसी ही अनुभूतियों से हो जायेगा.

 महाकालरात्रि महाकाल का वो हिस्सा है जिसमें सभी पदार्थों के ऊर्जा केंद्र का आवरण क्षण विशेष के लिए  शिथिल होता ही है. और यदि पूर्ण मानसिक बल से उस उर्जाकेंद्र पर यदि शब्दघात किया जाए तो वो ऊर्जा आपके कार्यों और मनोरथ को निश्चय ही सिद्ध करती ही है. कारण मात्र इतना ही है की जैसे ही शब्दाघात होता है,उर्जाकेंद्र से निःसृत ऊर्जा बिखरने के बजाय उस शब्द ईथर में बंधी हुयी साधक के पास वापस आ जाती है.और मनःशक्ति और संकल्पशक्ति के योग से साधक के कार्य को फलीभूत कर देती है.चाहे वो वशीकरण क्षमता की प्राप्ति हो या सौंदर्य की,या फिर मनोवांछित जीवनसाथी की प्राप्ति की कामना.  नखनिया प्रयोग वास्तव में ऐसा ही एक प्रयोग है जो लक्ष्मी का प्रबल आकर्षण कर ना केवल ऐश्वर्य प्रदान करता है अपितु ये प्रयोग साधक की ऐश्वर्य विषयक किसी एक कामना को भी पूरी करता है.   

  ऊपर के श्लोक में उसी प्रयोग का कूट भाषा में वर्णन किया गया है. आवश्यकता मात्र उसे समझने की है.याद रखिये सदगुरुदेव हमेशा कहते थे की जिसने काल की गति को समझकर तदनुरूप व्यवहार और क्रिया करना सीख लिया,उसकी उन्नति को कोई नहीं रोक सकता है. यहाँ बात मात्र धन प्राप्ति की नहीं है अपितु साथ ही साथ जीवन के विविध रसों में से किसी एक रस को पूर्ण प्राप्ति की भी हो रही है.वास्तव में नखनिया तंत्र विविध विधियों का संग्रह ही तो है,जो मात्र इसी एक तंत्र में संग्रह की गयी हैं और जिनके द्वारा आप अपना अभीष्ट तंत्रयोग से प्राप्त कर सकते हैं. यदि हम शांत अवस्था में ध्यानस्थ हो पाते हैं तो इसे हम धर्म की अनुभूति ही कहेंगे तदुपरांत अर्थ की अनुभूति भी अत्यंत आवश्यक है,क्यूंकि इसके पश्चात ही काम रुपी सोपान को पार करके आप मोक्ष की प्राप्ति कर पाते हैं.इसलिए अर्थ के सोपान की प्राप्ति भी अत्यंत आवश्यक है और ये दुर्लभ प्रयोग साधक के उसी अभीष्ट को पूर्ण करता है.

ऊपर कहा भी गया है की पराशक्ति का वही सम्बन्ध जो एक सामान्य पदार्थ से होता है,और जिसके फलस्वरूप उस पदार्थ में एक विशिष्ट उर्जाकेंद्र का निर्माण होता है और होती है उसे एक विशिष्ट क्षमता या गुण की प्राप्ति. उस सम्बन्ध या तार का स्वयं से संपर्क बनाकर निश्चय ही साधक प्रचुर ऐश्वर्य की प्राप्ति की जा सकती है.

इस अद्भुत प्रयोग में एक जटायुक्त नारियल(जिसे उपरोक्त श्लोक में जगत या ब्रह्माण्ड कहा गया है) और चांदी की कलम या बारिक तार की आवशकता होती है.तथा सृजरस या कुमकुम के द्वारा मंत्र विशेष का अंकन कर के उस नारियल के सामने मंत्र का जप करने से ऊर्जा केंद्र का भेदन हो जाता है और प्रक्रिया की सम्पूर्णता उसे लाल वस्त्र में बाँध देने से होती है.जिसके द्वारा कार्य सिद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति की दुर्लभ घटना घटित होती ही है. ब्रह्माण्ड ऊर्जा भेदन अर्थात नारियल रुपी जगत के ऊर्जाकेन्द्र का भेदन मात्र दीपावली की महारात्रि को ही संभव है.क्यूंकि ब्रह्माण्ड में प्राप्त सभी पदार्थों का उर्जाकेंद्र भिन्न भिन्न समय पर ही भेदित किया जा सकता है.और इसके द्वारा असंभव कार्य को संभव किया जा सकता है.किन्तु वो एक प्रथक तंत्रविज्ञान है.और समय आने पर मैं उनका विवेचन सदगुरुदेव के आशीर्वाद से अवश्य करूँगा.पर बात फिलहाल इस प्रयोग की और श्लोक के कूटार्थ को समझने की हो रही है.

   इस प्रयोग को दीपावली की रात्रि में ठीक मिथुन लग्न के प्रारंभ के साथ किया जाता है.इस दिन साधक दिन में ना सोये.रात्रि में साधना मात्र लाल वस्त्र धारण कर संपन्न की जाती है.लाल आसन,तिल के तेल का दीपक,रक्तपुष्प या गेंदे का पुष्प,खीर का नैवेद्य. मूंगा या कमलगट्टे की माला.

   मिथुन लग्न के प्रारंभ होने के पूर्व ही गुरु पूजन,गणपति पूजन आदि संपन्न कर लें. और इस अद्भुत प्रयोग को संपन्न करने का संकल्प,अनुमति और सफलता का आशीर्वाद की प्रार्थना करें.

    ये सभी क्रम पूर्व दिशा की ओर मुख करके करना है.तत्पश्चात मिथुन लग्न प्रारंभ होते ही सामने भूमि पर जो पहले से स्वच्छ की हुयी हो तथा उस पर एक लाल वस्त्र बिछा हुआ हो.उस वस्त्र पर कुमकुम और तिल के तेल के द्वारा सीधे हाथ की अनामिका ऊँगली से “श्रीं” अंकित कर दें और उसके ऊपर आपकी मनोकामना लिखा हुआ भोजपत्र या कागत का टुकड़ा रख दें तथा उस कागज़ पर नारियल स्थापित कर दें,उस नारियल के ऊपर कुमकुम के द्वारा (जो की तिल के तेल से गीला किया हुआ हो) चांदी के तार या कलम से एक अधोमुखी त्रिकोण बनाकर उपरोक्त चित्र में दर्शित यन्त्र का निर्माण करें और इसके बाद उसका महालक्ष्मी स्वरुप मानकर पूजन किया जाये.तथा दीपक तिल तेल का हो,खीर का नैवेद्य हो,गुलाब की धूप प्रज्वलित कर लें और हो सके तो कुछ सिक्के अर्पित करें तथा पुष्प अर्पित करें.इसके बाद सिद्धासन,सुखासन आदि में स्थिर चित्त होकर उस नारियल पर अंकित यन्त्र को देखते हुए निम्न मंत्र की ११ माला मंत्र जप कमलगट्टे या मूंगे की माला से करें.  

ओं ह्रीं श्रीं लक्ष्मी महालक्ष्मी सर्वकाम प्रदे सर्व सौभाग्य दायिनी अभिमर्त प्रयच्छ सर्वे सर्वगत सुरुपे सर्व दुर्जय विमोचिनी ह्रीं स:स्वाहा ||  

OM HREENG SHREEM LAKSHMI MAHALAKSHMI SARVKAAMPRADE SARV SOUBHAAGYDAAYINI ABHIMART PRAYACHCHH SARVE SARVGAT SURUPE SARV DURJAY VIMOCHINI HREENG SAH SWAHA.
  
 जप के पश्चात उस नारियल को प्रणाम कर उसी लाल कपडे में सिक्के तथा चांदी के तार के साथ बाँध कर उस पूरी रात पूजा कक्ष में ही रख दें.दीपक पूरी रात जलते रहना चाहिए.भोग आप स्वयं ग्रहण करें और दुसरे दिन सुबह उस कपडे में लिपटे नारियल को अपने कोषागार या अलमारी के लाकर अथवा पूजन स्थल पर ही स्थापित कर दें.नित्य धूप दीप दिखाएँ और हो सके तो २-५ रुपये नित्य रखते जाएँ.घर से किसी भी आर्थिक मसले से सम्बंधित कार्य के लिए जाते समय इस मंत्र का २४ बार उच्चारण कर हाथ पर फूँक लें और उस हाथ को पूरे शरीर पर फेर कर जाएँ.चमत्कार और दिनोदिन हो रही उन्नति को आप स्वयं देखेंगे.

  ऐसे विधानों को मात्र संजोकर नहीं रखना चाहिए,अपितु इसका प्रयोग स्वयं संपन्न कर दुर्भाग्य को दूर कर स्वयं को भाग्यशाली बनाना चाहिए.तभी सार्थकता है हमारे जीवन की और सदगुरुदेव के स्वप्न को साकार करने के लिए बढते हुए आपके एक और सफल कदम की.

****NPRU****

3 comments:

Rohitraaj jagtap said...

Respected Bhaiji, finally my wait is complete for this nakhania prayog....
My quetion is that can i use sphatik mala or rudraksh mala in this great sadhana if kamalgatta mala is not available...? plz ans my query..

Alakh v.karma said...

Aarif bhaiya.... jay gurudev..!

iss nakhniya pryog ko ham gurubhaiyo ke liye post karne ke liye dhanywaad waakai me bahut chota shabd he....
sajal netro se bhare kanth se haardik haardik pranaam....
ye sirf shabd nahi mere rhiday ke ashruo se sikt udgaar he .... bhaiya... aap ko sachmuch harday se naman karta hu...... happy DIPAAWALI to you...

manish said...

bhai is nakhania prayog me nariyal sookha lena he ya pani wala ?