There was an error in this gadget

Monday, November 5, 2012

SARV MANOKAAMNA POORTI - BHAGVATI VINDHYAVAASINI PRAYOG



Tantra- one such Kriya Shakti which contains within it infinite possibilities to do any work……..There is no place of words like impossible in this field because impossible means there is guarantee that any work will not be possible. But when we talk about Tantra, if you have the authentic procedure and sadhna articles then there is nothing which you cannot do. Tantra in itself is combination of those 64 universal powers whose blessing can transform your both worldly and other-worldly life………Keep in mind this fact that here I am talking about their grace not their manifestation because manifesting them takes a lot of patience…..right now it is not our subject……Today we will talk about that sadhna of Maa Vindhyavaasini which I promised to give on the birthday of Bengali Maa….

Before getting the Vidhaan of that sadhna it is necessary to understand some basic facts of Tantra because without base destruction of building is decided at the time of construction itself. Every Tantric sects has divided Tantra into various schools (opinions) according to their rules or sequence followed which are going on till today…..But if we start from Lord Shiva because Tantra is given by him to this world, then there are only two schools of thought in Tantra from very beginning ----Shaiva Sect and Shaakt Sect. And the three bhaavs which we talk about while doing sadhna-
Pashu Bhaav 2) Veer Bhaav  3) Divya Bhaav , they are related to Shaakt school…….if seen in this way whole sadhna of Shaakt school depends on these three bhaavs.

Remaining under the control of nature is Pashu Bhaav; establishing victory over it is called Veer Bhaav. But setting up coordination with nature and freeing from it is called Divya Bhaav…..And every sadhak should rise at least above Pashu Bhaav in his life. Living a miserable life and every time deploring in the feet of Devi Shaktis is biggest indicator of Pashu Bhaav…because such person without any precise knowledge does useless procedures to fulfil useless desires. As a result, their situation goes from bad to worse since directionless arrows never strike the target…..

If we see all around us then out of every 100 persons 95 person are those whose life has not attained any fruitfulness. Because we desire to get everything in our life but as we come empty-handed in this world, most of us go empty-handed too because for fulfilling dreams, putting hard-work in right direction is the first condition for fruitfulness of that dream. Truth is that in today’s era life has been filled with sorrow and animosity that entire human fraternity should commit suicide but this is not the solution……..Manhood is in living luxurious life which is complete in all respects, which does not even have shortcoming of small dust particle. And such thing can happen only when we have got all resource at our disposal which makes this possible and if we are not destined to live luxurious life then we should be able to change destiny by our own hands….

Sadhna of Maa Vindhyavaasini is one such tantrik sadhna which can make those impossible things possible which are beyond the human imagination…..There will be only few among you which would have listened or read something about Maa Vindhyavaasini. But where you will find the most incredible example of her powers and miracles that Bengali Maa has established Maa Vindhyavaasini in her eyes…She is one such supreme sadhika that there is no difference between her and Maa….In the field of sadhna, she is at such a level where Saadhy (deity which is worshipped by sadhak) and sadhak has become one and same…so from here one can guess about the grace of Maa Vindhyavaasini.

This is very simple Vidhaan out of the innumerable Vidhaans of attaining grace of Maa Vindhyavaasini. For this you would have to understand the description or outlay of Tantra. Tantra literally means only this to accomplish the work by accurately following the plan. In reality, every object attained from nature is full of Tantric energy. But that energy cannot accomplish our work until and unless special sequence of alphabets do not strike energy centres present in that substance. Right combination of time, place, surrounding, direction and Mantra does the bhedan of that energy-centre and Mantra Shakti helps establish sadhak’s control over that energy as a result of which that energy help sadhak to get desired results. Master told me that Sadgurudev described those procedures in very easy form and taught them to disciples by which bhedan of energy centre of any substance can be done. It is altogether a spate hidden Vidhaan. Here our subject is fulfilment of our desire through grace of Bhagwati Aadi Shakti Vindhyavaasini For this, on any Tuesday night after 9:00 P.M enter sadhna room after taking bath. Wear red dress and sit on red aasan facing north. After doing poojan of Guru and Lord Ganpati, form three triangles one inside the other (picture is given above) on floor (which has been washed with water). On the top of lowermost triangle given in picture establish one Til oil lamp, on next triangle put 7 cloves and on the centremost triangle top put 3 cardamoms. On the centre point of centremost triangle, make one heap of vermillion and do the poojan of that heap with Rakt Pushp (Jawa Pushp, Jason Pushp), vermillion-mixed rice, lamp, incensed sticks and Kheer.
A
fter that, pray for the accomplishment of your work and chant 7 rounds of below mantra by Moonga rosary.

Mantra:-
OM HREEM HREEM VINDHYAVAASINI KAARYA SIDDHIM HREEM HREEM NAMAH 

This procedure has to be done for 5 days i.e. uptil Saturday. Keep in mind that setting up of triangle and sadhna article has to be done on the first day only. The lamp by which you have done the poojan, each day you have to set up the same lamp on the top of first triangle. Only Kheer, Pushp and rice have to be taken fresh each day. On Sunday morning, offer clove, cardamom, that lamp and heap of kumkum along with some dakshina in temple of Mahakaali or Maa Durga. Give Kheer to some girl. If you do not find any girl, you can eat it yourself. Respect the girl, give something to girl according to her wish and fulfil her wishes. In this way, this amazing prayog ends. You will see it yourself that if this small prayog provides you success in your works.


=============================
तंत्र – एक ऐसी क्रिया शक्ति जिसमें किसी भी काम को करने की असीम संभावनाएं हैं.....असंभव जैसे शब्दों का इस क्षेत्र में कोई स्थान नहीं, क्योंकि असंभव का अर्थ होता है किसी भी काम के कभी भी संभव ना हो सकने की ग्यारंटी पर जहाँ तंत्र की बात आती है वहां यदि आपके पास प्रमाणिक विधि और सही उपकरण है तो कुछ भी ऐसा नहीं जो आप ना कर सकें. तंत्र अपने आप में उन ६४ ब्रह्मांडीय शक्तियों का समावेश है जिसमें से यदि किसी एक की भी कृपा दृष्टि आप पर पड़ जाए तो लोक-परलोक संवर जाता है......ध्यान दें यहाँ मैं उन शक्तियों की कृपा दृष्टि की बात कर रही हूँ प्रत्यक्षीकरण की नहीं क्यूंकि उसके लिए बहुत धैर्य धरना पड़ता है.....खैर फिलहाल ये हमारा विषय नहीं है......हम आज बात करेंगे माँ विंध्यवासिनी  की उस साधना की जिसे बंगाली माँ के जन्मदिन के उपहार स्वरुप मैंने देने का वचन दिया था......
 उस साधना के विधान को प्राप्त करने से पहले आपको तंत्र के कुछ मूल तथ्यों को समझना पड़ेगा क्योंकि बिना नीव की ईमारत का नष्ट होना उसके निर्माण के साथ ही निश्चित हो जाता है. हर तांत्रिक सम्प्रदाय ने तंत्र को अपनी नियमावली या यूँ कहें की अपने क्रम के अनुसार विभिन्न-विभिन्न मतों में विभाजित कर दिया जो आज तक चले आ रहे हैं.....पर भगवान शिव से प्रारम्भ करें , क्योंकि तंत्र विश्व को उन्ही की देन है, तो तंत्र में केवल दो ही मत है जो अनादि काल से चले आ रहे हैं- शैवमत और शाक्त्मत......और साधना करते समय हम जिन तीन भावों-
१-पशु भाव, २- वीर भाव, और ३- दिव्य भाव की बात करते हैं वो शाक्त्म्त से सम्बंधित है.... देखा जाए तो शाक्त्म्त की सम्पूर्ण साधना का आधार ये तीनो भाव ही हैं.
 प्रकृति के आधीन रहना पशु भाव है, उस पर विजय प्राप्त कर लेना वीर भाव कहलाता है पर प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करते हुए उससे मुक्त हो जाना दिव्य भाव है.....और हर साधक को अपने जीवन काल में कम से कम पशु भाव से तो ऊपर उठना ही चाहिए. अभावग्रस्त जीवन यापन करते हुए, हर समय दैवी शक्तियों के आगे गिड़गिड़ाते रहना पशु भाव की सबसे बड़ी निशानी है....क्योंकि ऐसे लोग बिना किसी सटीक ज्ञान के व्यर्थ की आशाओं को पूरा करने हेतु व्यर्थ के क्रम करते है नतीजन हालात बद से बद्दतर होने लगते हैं क्योंकि दिशाहीन तीर कभी किसी निशाने पर नहीं लगता.......
 यदि आज हम अपने चारों तरफ नज़र उठा कर देखे तो १०० के पीछे ९५ लोग ऐसे हैं जिन्होंने अपने जीवन में कोई सार्थकता नहीं पायी. क्योंकि आशा तो हम सब सब कुछ पाने की करते हैं पर जैसे खाली हाथ लिए हम इस दुनिया में आये थे, हम में से बहुतेरे ऐसे ही खाली हाथ लिए चले जाते हैं क्योंकि सपने साकार करने के लिए सही दिशा में परिश्रम करना उस सपने की सार्थकता की पहली शर्त होती है. सच बात तो यह है की आज जीवन में इतना दुःख और क्लेश भर चुका है की समस्त मानव जाति को आत्महत्या कर लेनी चाहिए पर ये कोई समाधान नहीं है.....पौरुषता तो वैभवपूर्ण जीवन जीने में है जो हर दृष्टि से सम्पूर्ण हो, जिसमें रेत के कण जितनी भी कमी ना हो और ऐसा तभी हो सकता है जब हमारे पास वो समस्त संसाधन उपलब्ध हो जिनसे यह स्थिति बनाई जा सके और यदि हमारे भाग्य में वैभवशाली जीवन यापन करना नहीं लिखा है तो अपने हाथों से उस लिखे को बदला जा सके......
 माँ विंध्यवासिनी की साधना एक ऐसी ही तांत्रिक साधना है जिससे हर उस असंभव को संभव किया जा सकता है जो सामान्य दृष्टि से मानव सोच के भी परे हो.....आप में से शायद बहुत कम होंगे जिन्होंने तंत्र के क्षेत्र में माँ विंध्यवासिनी  के बारे में ज्यादा कुछ पढ़ा या सुना होगा पर इनकी शक्तियों और चमत्कारों की इससे जयादा रोमांचित औए अविश्वसनीय उदहारण कहाँ मिलेगी की बंगाली माँ ने माँ विंध्यवासिनी  को अपने नेत्रों में स्थापित किया हुआ है.....वो उनकी एक ऐसी परम साधिका हैं की उनमें और माँ में आज कोई भेद ही नहीं....साधना के धरा पर माँ आज उस स्तर पर हैं जहाँ साध्य और साधक एक हो गए हैं.....तो इसी से आप माँ विंध्यवासिनी  की कृपा दृष्टि का अनुमान लगा सकते है....

माँ विंध्यवासिनी की कृपा प्राप्ति के असंख्य विधानों में से ये अत्यंत सरल विधान है,इस हेतु आपको तंत्र की व्याख्या या प्रारूप को समझना होगा,तंत्र का शाब्दिक अर्थ ही होता है योजना का उचित पालन करते हुए कार्य को सिद्ध करना. वास्तव में प्रकृति में प्राप्त सभी पदार्थ तांत्रिक ऊर्जा से युक्त हैं. किन्तु उस ऊर्जा से कार्य सिद्धि तब तक नहीं प्राप्त होती है जब तक वर्णों के विशेष क्रम का आघात उस सामग्री में व्याप्त ऊर्जा केन्द्रों पर ना किया जाए. काल,स्थान,परिवेश,दिशा और मंत्र का उचित संयोग उस उर्जाकेंद्र का भेदन कर देता है,और मंत्र शक्ति उस ऊर्जा पर साधक का नियंत्रण स्थापित करवा देती है,जिसके फलस्वरूप वो ऊर्जा साधक को मनोनुकूल परिणाम प्राप्त करवा देती है.मुझे मास्टर ने बताया था की सदगुरुदेव ने उन क्रियाओं और युक्तियों का विवेचन इतने सरल रूप से विवेचित कर  अपने शिष्यों को आत्मस्थ करवाया था,जिसके द्वारा ब्रहमांड में व्याप्त किसी भी पदार्थ के ऊर्जा केन्द्र का भेदन किया जा सकता है.खैर वो एक अलग ही गोपनीय विधान है. यहाँ हमारा विषय मात्र भगवती आदिशक्ति विंध्यवासिनी की कृपा से मनोकामना सिद्धि का है.
   इस हेतु किसी भी मंगलवार की रात्री के दूसरे प्रहर अर्थात ९.३० के बाद साधना कक्ष में स्नान कर प्रवेश करें और लाल वस्त्र धारण कर लाल आसन पर उत्तराभिमुख होकर बैठ जाएँ.गुरु और भगवान गणपति के पूजन अर्चन के बाद. सामने जमीन पर (जो पहले से ही जल से शुद्ध की हुयी हो) एक के अंदर एक तीन त्रिकोण कुमकुम से बनायें(चित्र ऊपर दिया हुआ है) और उसमे चित्र अनुसार दिए हुए क्रम से सबसे नीचे के त्रिकोण शीर्ष पर तिल के तेल का दीपक,उसके अगले त्रिकोण पर ७ लौंग और सबसे मध्य वाले त्रिकोण शीर्ष अर्थात नोंक पर ३ इलायची को रख दें.मध्य वाले त्रिकोण के मध्य बिंदु पर कुमकुम की ढेरी बनाकर उस ढेरी का पूजन,रक्तपुष्प(जासौन पुष्प,जवा पुष्प),कुमकुम से रंजित अक्षत,दीपक,अगरबत्ती और खीर से करें.
   तत्पश्चात अपने कार्य की सिद्धि की प्रार्थना करें.और निम्न मंत्र की मूंगा माला से ७ माला मंत्र जप करें.
मंत्र-
  ॐ ह्रीं ह्रीं विंध्यवासिनी कार्य सिद्धिं ह्रीं ह्रीं नमः 

OM HREEM HREEM VINDHYAVAASINI KAARYA SIDDHIM HREEM HREEM NAMAH 

 ये क्रम ५ दिन तक अर्थात शनिवार तक करना है और ध्यान रखे त्रिकोण और सामग्री का स्थापन मात्र प्रथम दिवस ही करना है जिस दीपक से आपने पूजन किया था उस ढेरी का उसी दीपक को प्रतिदिन पहले वाले त्रिकोण शीर्ष पर स्थापित करना है. मात्र खीर,पुष्प,अक्षत आदि ही नवीन बनेंगे. रविवार की सुबह लौंग,इलायची,उसी दीपक तथा कुमकुम की ढेरी को कुछ दक्षिणा के साथ,महाकाली या माँ दुर्गा के मंदिर में अर्पित कर दें. खीर को किसी बच्ची को खिला दें,कोई बच्ची ना मिले तो स्वयं ही ग्रहण करे.कन्या का सम्मान करें और किसी छोटे बच्चे को इच्छानुसार कुछ भेंट देकर तृप्त करें.इस प्रकार ये अद्भुत प्रयोग संपन्न होता है,आप स्वयं ही देखेंगे की ये लघु प्रयोग आपके कार्यों को कैसे सफलता प्रदान करता है.
निखिल प्रणाम
****ROZY NIKHIL****
****NPRU****

No comments: