There was an error in this gadget

Friday, November 9, 2012

PAARAD SHRI YANTRA EVAM CHAKRESHVARI VIDHAAN



“Rasvidya Paravidya Trilokyaiapi Sudurlabhah “

In reality, field of Tantra is very amazing. Tantra field contains various types of secrets in every aspect, every fact or procedure. Various Tantras come in to existence as result of mutual conversation between various forms of Lord Aadi Shiva and various forms of Aadi Shakti. In the same manner, along with best procedures of Tantra knowledge, 64 types of tantra came into existence out of which Ras Vidya, Ras Tantra or Parad Tantra is called last Tantra. Our ancient Ras Acharyas and Tantra Acharyas appreciated and accepted the fruitfulness of this thinking and provided various types of Ras procedures (full of secrets) to common public. This Vidya for supreme welfare of all and hidden subject related to Parad is called Ras Vidya. After Binding Parad through various special procedures and through blessing of Shiva, its benefits have been attained by humans.
There are three prime vidyas in universe which is present in combined form as RaajRajeshwari, universal form of Bhagwati Tripur Sundari.
Apara Vidya
Parapara Vidya
Para Vidya
According to Gandharv Tantra, these three are three stages of one sadhna; Apara is attainment of inner knowledge, Parapara is bridge of combined form of inner and outer knowledge in which Apara Vidya is included and Para Vidya is attainment of universal knowledge which included within itself Apara and Parapara. Therefore, basically Para Vidya is capable of providing all materialistic aspects (Bhoga) and salvation. As it has been told above that in reality, expanded form of this brief Para Shakti is Shree Bhagwati RaajRajeshwari Tripur Sundari. And if her various types of shaktis are established in one universal centre, then the geometry/shape so formed is called Shri Yantra. Actually Para Shakti is very vast topic about which it is not possible to give description in one article. Here it was necessary to mention it because above-said line uttered from mouth of Bhairav form of Shree Aadi Shiva is not a normal sentence rather it contains innumerable secrets within it by which Ras Vidya has been connected to Para Vidya. This line means that attainment of combined form of Ras Vidya and Para Vidya is even rare in three loks and its elucidation is that Ras Vidya i.e. para Vidya of Parad and physical universal centre of Bhagwati Tripur Sundari Shree Yantra i.e. Parad Shri Yantra’s attainment is definitely rare in three loks.
Generally we consider Shree Yantra as yantra of Lakshmi, which is only a misconception. Shree yantra is copy of vast form/universal form of Bhagwati Tripur Sundari which has also been called RaajRajeshwari. Definitely such idol can fulfil all types of wishes and can provide every progress to sadhak along with materialistic growth (Bhog) and Moksha (salvation).That’s why this yantra was made so much popular but with the passage of time, it has remained just a geometrical shape and related Vidhaans became obsolete. Because when we talk about Shree yantra, it means procedure of gathering all universal powers at one place and establishing them. How this act is possible without capable and complete Vidhaan? No. Such impure and conscious-less yantra are just one geometrical picture or idol rather than being a yantra and establishing them and hoping them that they will provide benefits is useless. And when we talk about Parad Shri Yantra then how difficult can be the Shakti sthapan and Praan-Pratishtha procedure, only one sadhak can understand it.If only name of procedures related to complete Vidhaan are given, one book can be made.

Basic purification of Parad happens upon doing 8 sanskaars.Only such parad is used in making of this idol. After it, this type of parad is purified subtly. And yantra is written by the means of various Ras chemicals and Tantric procedures. Those who do the upasana of Shri Vidya and sadhak fraternity know the difficulty-level and hard-work involved in making such yantra. Any minor variation in shape stops it from becoming power-centre, due to which Shakti established on that particular base and its related shaktis do not get the place on yantra and yantra does not get consciousness. After it, Lord Ganesh is established in expanded form. Very few people know that there are 51 expanded form of Lord Ganesh which destroys all types of problems/hurdles from person life and stops his/her downward progression. Side by side, establishing 51 peeth shaktis, Asht Yogini sthapan and establishment of shodash (16) Maatrika Shaktis is done by which person can get blessings of all shaktis connected to happiness of person life and he can progress in all aspects and fields of life. Procedures after it are very abstruse in which all 10 basic Mahavidyas and 6 swaroop Mahavidyas are established with their Bhairav. On one hand this procedures enables sadhak to quickly attain wealth, fame, respect, power and progress. On the other hand, it also informs sadhak about the secrets of spiritual subjects related to various sadhnas. Besides it, sthapan (establishment) of Trividya i.e. Mahasaraswati, Mahalakshmi and Mahakaali, responsible for activating Sat, Raj and Tam qualities or Gyan, Ichha and Kriya Shakti inside sadhak is done. In this hidden procedure, special sthapan procedure of various forms of Lakshmi is done. In last, after doing sthapan of Bhagwati Kamakhya Lalitaamba and RaajRajeshwari, its abhisinchitikaran is done with various Tantric Mantras and mudras and archan Kriya is done.
There is nothing which Shri Yantra formed in this manner cannot provide to sadhak. Actually, rare prayogs are done on such Poorn Vishudh Chaitanya Praan Pratishtith Parad Shri Yantra. One of the misconceptions among many is that this yantra is only related to money; however it is not like this. On such yantra, on one hand Para-Lokik (other-worldly) sadhna can be done and on the other, tantric shatkarmas can also be done through it.On of the hidden procedures among Pratishtha Kram of Parad Shri Yantra is Kankavati Sthapan. By this procedure, even gold formation can be done by the means of Pratishtith Parad Shri Yantra. On the other hand, it is quite natural for chances of success to increase when yog-tantric sadhnas or Para Jagat sadhnas are done in front of it.
In this series, some rare prayogs related to Parad Shri Yantras are being put forward through which sadhak can take benefits. First prayog is related to Chakreshwari form of Bhagwati Tripur Sundari. This rare prayog is easy but is capable of providing various types of accomplishments to sadhak, through which sadhak can beautify both aspects of his life, Bhoga and Moksha.
Chakreshwari Vidhaan:-
Sadhak can do this prayog on any Sunday night. It should be done after 10:00 P.M.
Sadhak should take bath, wear red dress and sit on red aasan facing north.
.Sadhak should establish Parad Shri Yantra on white cloth on any Baajot in front of him. After that, sadhak should mentally express his resolution or desire such as attainment of wealth, promotion or some special desire.
After it, sadhak should chant the mantra. Moonga rosary should be used.
First of all sadhak should chant 1 round of below mantra
OM AING HREEM SHREEM SAUH
After it, sadhak should chant 21 round of below mantra.
OM AING HREEM SHREEM TRIPURESHI CHAKRESHWARI NAMAH

After completing 21 rounds, sadhak should do jap Samarpan by Yoni Mudra and pray to Devi. After doing this one-day prayog, sadhak can improve his life in various ways , financial problems are resolved, sadhak gets respect in his field of work, sadhak’s voice become sweet and flexible by which sadhak becomes capable to impress anyone. Sadhak should not immerse rosary. This rosary can be used multiple number of times.
Such types of rare prayogs which can be done on Poorn Vishudh Chaitanya Praan Pratishtith Parad Shri Yantra will be given in future articles. 

================================================
रसविद्या पराविद्या त्रैलोक्यैऽपी सुदुर्लभाः
वास्तव में तंत्र क्षेत्र अद्भुत है , तंत्र क्षेत्र हर एक पक्ष तथा हर एक तथ्य या क्रिया में कई कई प्रकार के रहस्यों को अपने आप में समेटे हुवे होता है. भगवान आदिशिव के विविध स्वरुप तथा आदि शक्ति के विविध स्वरुप के संवाद के रूप में विविध तंत्र प्रचलन में आये, इसी प्रकार तंत्रज्ञान की सर्वश्रेष्ठ प्रक्रियाओ के साथ ६४ प्रकार के तंत्र प्रचलन में आया जिसमे रसविद्या, रसतंत्र या पारद तंत्र अंतिम तंत्र कहा गया और इसी चिंतन की सार्थकता पर हमारे आदि रसचार्यो तथा तंत्राचार्यो ने प्रशंशा भर स्वीकार किया तथा विविध रहस्य से युक्त कई प्रकार की रसक्रियाओं को जनमानस को प्रदान किया. परमकल्याण स्वरुप यह विद्या तथा पारद से सबंधित गोपनीय विषय को ही रसविद्या कहा जाता है. और पारद को विविध तथा विशेष प्रक्रियाओ के माध्यम से बद्ध कर शिव वरदान के माध्यम से उसका लाभ मनुष्यों को प्राप्त होता आया है. 
ब्रहमांड में ३ प्रमुख विद्याएँ है जो की सम्मिलित रूप में भगवती त्रिपुर सुंदरी का ब्रह्मांडीय रूप राजराजेश्वरी ही है.
अपराविद्या
परापरा विद्या
पराविद्या

गन्धर्व तंत्र के अनुसार यह तीनों एक ही साधना के तीन क्रम है; अपरा आतंरिक ज्ञान प्राप्ति है, परापरा आतंरिक तथा बाह्य ज्ञान के सम्मिलित स्वरुप का सेतु है जिसमे अपराविद्या सम्मिलित हो जाती है तथा पराविद्या ब्रह्मांडीय ज्ञान प्राप्ति का स्वरुप है जिसमे अपरा तथा परापरा भी सम्मिलित हो जाते है. इस लिए मूल रूप से पराविद्या सृष्टि के समस्त भोग तथा मोक्ष सर्व प्राप्त कराने के लिए समर्थ है. जेसे की ऊपर कहा गया है की वास्तव में इस संक्षिप्त पराशक्ति का विस्तृत रूप श्रीभगवती राजराजेश्वरी त्रिपुरसुंदरी है. तथा उन्ही की विविध प्रकार की शक्तियों को एक ब्रह्मांडीय केन्द्र में स्थापित होने पर जो आकृति का निर्माण होता है वह श्रीयंत्र है. पराशक्ति वास्तव में वृहद विषय है जिस पर एक लेख में विविरण देना किसी भी प्रकार से संभव नहीं है. यहाँ पर इसका उल्लेख करना आवश्यक इस लिए है क्यों की श्रीआदि शिव के भैरव स्वरुप के श्रीमुख से उच्चारित उपरोक्त पंक्ति एक सामान्य पंक्ति न हो कर अनगिनत रहस्यों को अपने अंदर समेटे हुवे है जिसमे रसविद्या को पराविद्या के साथ जोड़ा गया है. पंक्ति का अर्थ है की रसविद्या तथा पराविद्या सम्मिलित रूप में तीनों लोको में भी प्राप्त करना अति दुर्लभ है तथा इसका विवेचन इस प्रकार से है की रसविद्या अर्थात पारद का पराविद्या अर्थात भगवती त्रिपुरसुंदरी का ब्रह्मांडीय स्वरुप स्थूल केन्द्र श्रीयंत्र को प्राप्त करना अर्थात पारद श्रीयंत्र  त्रिलोक में भी निश्चय ही दुर्लभ है. 
वस्तुतः हम श्रीयंत्र को लक्ष्मी का यंत्र मानते है जब की यह एक मात्र मिथ्या धारणा है, श्रीयंत्र भगवती त्रिपुर सुंदरी के भी वृहद स्वरुप या ब्रह्माण्ड व्यापी शक्ति के स्वरुप जिसे राजराजेश्वरी भी कहा गया है, उनकी ही प्रतिकृति है. निश्चय ही ऐसा विग्रह समस्त प्रकार की मनोकामना की पूर्ति कर सकता है तथा भोग एवं मोक्ष के साथ साथ साधक को सर्वोनती की प्राप्ति करा सकता है, इसी लिए इस यंत्र का इतना अधिक प्रचार तथा प्रसार हुआ है लेकिन काल क्रम में इसकी आकृति मात्र रह गई है लेकिन सबंधित विधान लुप्तप्राय होने लगा है. क्यों की जब बात श्रीयंत्र की हो तब बात समस्त ब्रह्माण्ड की शक्तियों को एक जगह पर एकत्रित कर के स्थापन करने की क्रिया है. वस्तुतः बिना योग्य और पूर्ण विधान के यह कार्य किसी भी प्रकार से संभव है? नहीं. और ऐसे अशुद्ध और अचेतन यंत्र, यंत्र न हो कर मात्र एक आकृति चित्र या मूर्ति ही है जिसे स्थापित कर लाभ प्राप्त करने की आशा रखना व्यर्थ ही है और फिर जब बात पारद श्री यंत्र की आती है तो निश्चय ही उसके शक्तिस्थापन तथा प्राण प्रतिष्ठा का क्रम कितना दुर्लभ हो सकता है यह एक साधक ही समज सकता है. पूर्ण विधान सबंधित प्रक्रियाओ के मात्र नाम भी दिए जाए तो भी एक पुस्तक बन सकती है
पारद के अष्ट संस्कार करने पर पारद की मूल शुद्धि होती है मात्र ऐसे ही पारद का प्रयोग इस विग्रह के निर्माण में किया जाता है. इसके बाद इस प्रकार के पारद को मंत्रो के माध्यम से सूक्ष्म शोधित किया जाता है. तथा उसे विविध रसरसायन तथा तंत्रोक्त प्रक्रियाओ के माध्यम से यंत्रांकन किया जाता है. यह यंत्रांकन भी कितना दुर्लभ तथा श्रमसाध्य होता है, श्रीविद्या उपासक तथा साधकगण इसके बारे में जानते है. आकृति में किसी भी प्रकार का थोडा सा भी अंतर आने पर वह शक्ति केन्द्र नहीं बन पाता, जिसके कारण उस आधार पर स्थापित शक्ति तथा दूसरी आधारित शक्तियों को स्थान प्राप्त नहीं होता और यंत्र को चेतना प्राप्त ही नहीं हो पाती. इस अंकन के बाद इसमें वृहद रूप से भगवान गणेश का स्थापन किया जाता है, बहोत कम लोग जानते है की भगवान गणेश के ५१ वृहद स्वरुप है जो की व्यक्ति के जीवन के समस्त प्रकार के विघ्नों का नाश कर सभी दुर्गति का स्तम्भन करते है. साथ ही साथ ५१ पीठ शक्तियों का स्थापन, अष्ट योगिनी स्थापन षोडश मात्रिका शक्तियों का स्थापन किया जाता है. जिसके माध्यम से व्यक्ति जीवन सुख से जुडी हुई सभी शक्तियों का आशीष प्राप्त कर जीवन के सभी क्षेत्र तथा सभी पक्षों में उन्नति प्राप्त कर सकता है इस क्रिया के बाद का क्रम अत्यधिक गुढ़ है जिसमे समस्त दस मूल महाविद्या तथा ६ स्वरुप महाविद्याओ का भैरव सह स्थापन किया जाता है. निश्चय ही साधक को यह क्रम साधक को एक तरफ जहां धन, यश, सन्मान पद प्रतिष्ठा उन्नति शीघ्र प्रदान करता सकता है उसी प्रकार विविध साधनाओ से सबंधित आध्यात्म विषय के रहस्यों से भी साधक को अवगत करा देता है. साथ ही साथ साधक के अंदर की सत् रज तथा तम या ज्ञान इच्छा तथा क्रिया शक्तियों के जागरण को प्राप्त कराने वाली त्रिविद्या अर्थात महासरस्वती, महालक्ष्मी तथा महाकाली का स्थापन किया जाता है इस गोपनीय क्रम में लक्ष्मी के विविध स्वरुप का विशेष स्थापन प्रयोग सम्प्पन होता है. अंत में विविध प्रक्रियाओ से भगवती कामाख्या ललिताम्बा तथा राजराजेश्वरी का स्थापन करने के बाद विविध तांत्रिक मंत्रो तथा मुद्राओ से इसे अभीसिंचित किया जाता है तथा अर्चन क्रिया की जाती है.
इस प्रकार से निर्मित पारदश्रीयंत्र साधक को भला क्या कुछ प्राप्त कराने की सामर्थ्य नहीं रखता. वस्तुतः ऐसे विशुद्ध पूर्ण चैतन्य प्राण प्रतिष्ठित पारद श्री यंत्र पर दुर्लभ प्रयोग सम्प्पन होते है. कई प्रकार की मिथ्या धारणाओ में यह एक धारणा गर्त की गई है की यह यंत्र मात्र धन सबंधित यंत्र है, जब की निश्चय ही ऐसा नहीं है. ऐसे यंत्र पर एक तरफ जहां परालौकिक साधना सम्प्पन की जाती है वहीँ दूसरी तरफ तांत्रिक षट्कर्म भी ऐसे विग्रह के माध्यम से किये जा सकते है. पारदश्री यंत्र के प्रतिष्ठा क्रम में एक गोपनीय क्रम कनकावती स्थापन भी है. इस प्रकार की क्रिया के माध्यम से प्रतिष्ठित हुवे पारदश्रीयंत्र के माध्यम से स्वर्ण निर्माण की प्रक्रिया भी सम्प्पन की जा सकती है. वहीँ दूसरी और योग तांत्रिक साधना या पराजगत साधना करते समय इस प्रकार के विग्रह को सामने रखने पर सफलताओ को सम्भावना कई गुना बढ़ जाना स्वाभाविक ही है.
इस क्रम में पारद श्रीयंत्र से सबंधित कुछ दुर्लभ प्रयोग आपके सामने रखे जा रहे है जिसके माध्यम से समस्त साधक गण इसका लाभ प्राप्त कर सके. सर्व प्रथम प्रयोग भगवती त्रिपुरसुंदरी के चक्रेश्वरी स्वरुप से सबंधित प्रयोग है. यह दुर्लभ प्रयोग विधान सहज है लेकिन साधक को यह विविध प्रकार की उपलब्धियों की प्राप्ति शीघ्र ही करवाने में समर्थ है जिसके माध्यम से साधक अपने जीवन के दोनों पक्ष भोग तथा मोक्ष का पूर्ण श्रृंगार कर सकता है.
चक्रेश्वरी विधान :-  
इस प्रयोग को साधक किसी भी रविवार की रात्रि को कर सकता है. समय १० बजे के बाद का रहे.
साधक स्नान आदि से निवृत हो कर लाल वस्त्र को धारण करे तथा लाल आसान पर उत्तर दिशा की तरफ मुख कर बैठ जाए.
अपने सामने साधक किसी बाजोट पर सफ़ेद वस्त्र पर पारदश्रीयंत्र को स्थापित करे तथा उसके बाद साधक मन ही मन अपना संकल्प या इच्छा व्यक्त करे, जेसे की धन प्राप्ति, पदोन्नति या कोई विशेष इच्छा.
 इसके बाद साधक मंत्र का जाप करे . यह जाप मूंगा माला से करे.
साधक प्रथम निम्न मन्त्र की एक माला जाप करे
ॐ ऐं ह्रीं श्रीं सौः
(OM AING HREEM SHREEM SAUH)
एक माला हो जाने पर साधक निम्न मंत्र का २१ माला जाप करे
ॐ ऐं ह्रीं श्रीं त्रिपुरेशी चक्रेश्वरी नमः
 (OM AING HREEM SHREEM TRIPURESHI CHAKRESHWARI NAMAH)
२१ माला मंत्र जाप हो जाने पर साधक योनी मुद्रा द्वारा जाप समर्पण करे तथा देवी को नमस्कार करे. यह एक दिवसीय प्रयोग करने पर साधक कई प्रकार से अपने जीवन को संवार सकता है, धन सबंधित समस्याओ का समाधान होता है, साधक के कार्य क्षेत्र में साधक को मान सन्मान की प्राप्ति होती है, साधक की वाणी में एक मिठास तथा लोच आजाती है जिसके माध्यम से साधक किसी भी व्यक्ति को प्रभावित करने में समर्थ हो जाता है. साधक को माला का विसर्जन नहीं करना है इस माला का प्रयोग साधक कई बार कर सकता है.
इस प्रकार के कई और दुर्लभ प्रयोग भी जो की पूर्ण विशुद्ध चैतन्य प्राण प्रतिष्ठित पारद श्री यंत्र पर किये जाते है, जिसे आने वाले लेखो में दिया जायेगा.

****NPRU****

1 comment:

MUKESH SAXENA said...

parad shri yantra ka ye prayog praan pratishthit shree yantra par hi falibhut honge na?mere paas gurudhaam se mangaya hua parad shri yantra hai .kya uss par ye sadhna sampann ki ja asakti hai?
mukesh saxena