There was an error in this gadget

Saturday, November 24, 2012

PAARAD SAHASTRAANVIT DEH TARA RAHASYA -2





Shraddhya Ashraddhya Vaapi Pathentaraarahasykam
Sochirenaiv Kaalen Jeevenmukt Shivoh Bhavet ||

The one who does upasana/ sadhna of this Mahadevi Tara with faith or faithlessness while knowing her secrets, he very quickly free himself form Jeev Bhaav and become akin to Lord Shiva.
One of the most important base among foundation stones of whole tantra or sadhna field is Sadgurudev element and another one is trust…..sadhak can try millions of times but without trust he cannot attain success in sadhna field. This fact will become more important and serious subject as sadhak successively moves into higher-order sadhna. But there is one amazing fact about sadhna of Bhagwati Tara that when her sadhna is done, sadhak definitely get the results irrespective of whether he has done it with faith or faithlessness. This is a very high-order blessing in itself. Reason behind it is that if sadhak has a lot of faith then he will attain his desired objective but how a preliminary sadhak can be successful. He tries hard to attain that trust element but each time he fails because in accordance with “Shradhha Vaan Labhte Gyaanam”, how can knowledge be attained without faith? How is it possible?
The form of Bhagwati Tara and her affection is extra-ordinary. Biggest enemy of sadhak is none but his ego and this ego traps sadhak so minutely that he himself does not know when he has trespassed self-pride and enter the state of ego .And consequences of this poison of ego are disastrous. Sadhak starts maintaining distance from his friends and colleagues, he starts feeling haughty and high-minded which he was not earlier and in some time, he loses everything. Bhagwati Tara is only Mahashakti which removes false ego of sadhak and makes him pure. She is Kharv Garv Haarini (one who removes ego).
The things which high order tantrik acharyas generally mention in secret Pooja sadhna procedure is beyond the understanding of normal sadhak. The thing is that out of four Purshaarths of human life, Dharma is said to possess 10 kalas, Artha 12 kalas. Going in this manner Kaama should possess 14 kalas but  normal sadhak will be astonished to know that it has been considered to possess 16 kalas. It simply means how difficult it is to get liberation from Kaam bhaav, one of the paash out of asth paash. Here we are not taking about complete liberation from Kaam element. In such a state sadhak life will become dull. Entire zeal, enthusiasm and vigour come under Kaam element only. The form of Kaam bhaav which normal sadhak faces the most is physical pleasure or lust and there is no such Shakti which can free sadhak from it. Here again importance of Bhagwati Tara becomes evident because she is the liberator and she knows the thing from which sadhak has to be liberated. She knows it better than sadhak.
But why is it so?
When we have a close look on weapons of Bhagwati Tara then we can see scissor in one of her hands. If there is sword, then what is the need of scissor? This is because she is the liberator. Because among ten Mahavidyas, some Mahashakti provides knowledge, some provides money, some provides fearlessness, some provides complete pleasure but Bhagwati Tara is liberator. The one, who is liberator, will liberate sadhak from all bondages one by one. In this aspect, there is no difference between Bhagwati Tara and Sadgurudev element. Scissors is necessary because to cut very minute and subtle bondages, scissors are required not the sword.
Bhagwati Aadya Maa Mahakaali and Tara are one and the same. It will be much more appropriate to say that blue-coloured Bhagwati Kaali is Maa Tara and black-coloured Tara is Kaali. There are many differences between these two forms .Though Tantra scriptures considers both the forms as one and same and say that there is no difference between them and the one who distinguish between them goes to hell. If seen from elemental point of view then entire world is playing ground of that supreme Aadya Shakti. It has been rightly said that “Aham Ekoham Dwityonaasti…” In this form, all are one but if seen minutely then we find that Bhagwati Kaali represents form of Nishkal Brahm and Tara represents form of Sakal Brahm. In the form of Bhagwati Kaali, entire Aakash (Sky) element disappears in Pralay Kaal (Annihilation time). Then what is left behind, it cannot be even thought of. For this reason her sadhna is not easy, it is very difficult even though sadhak and others have entered her sadhna. Her form is at the peak of secretiveness…… that has no ends. On other hand, Bhagwati Tara is providing completeness to sadhak from the nectar of knowledge flowing from her nutrition-providing breasts. And when affectionate mother is ready to provide pure nectar of knowledge through breast-feeding then what is left for sadhak to do and see. What is left is only Jai Maa Tara …Jai Jai Tara…..which emerges from emotional throat. It was Bhagwati Tara Who breastfed Lord Shiva and saved him when he drank Halaahal poison and was not in condition to bear its heat. Who can doubt her powers now?
Sadhna of Bhagwati Kaali is cumbersome and it is also true that Bhagwati Kaali is Digambara (on who does not wear clothes).For sadhak to go towards Digambara, it is necessary for him to first attain supreme Yogi State or he has to become as innocent as child. But Bhagwati Tara on her own makes sadhak just like child by giving him motherly affection. How can one mother see her son doing sadhna…and due to this feeling, she removes ignorance from sadhak on its own and provide purity. Is it not easy, simple and emotional touch which only mother can give it to her child, that too with completeness.
There are so many instances when sadhaks have attained amazing poetry capability or knowledge just by doing one night sadhna or reciting some verses. In reality, Rosary of 50 heads, looking graceful in her throat represents entire Maatrika Shakti (all alphabets).Then such sadhaks do not need any other sadhna because it is only the Shakti of Maatrika which is present behind creation of all mantras. Three forms of fever have been told in life viz. physical, godly and spiritual and how is it possible to get liberation from them. But there is only one Maha Shakti which can provide liberation from them. There can be no comparison of this form and when it is in Parad form and that in Sahastra (thousand) form then nothing is left more to say. Bhagwati Tara is wealth provider and here wealth means everything. It may be wealth of education or materialistic wealth or spiritual wealth or wealth of beauty, fame. All the highest states of life are ultimately one or the other form of wealth only. Everything is included within its definition…..Any types of wealth one needs, Maa Tara provides it to him on her own. There is no other form which can provide so much motherly affection though in all these forms Maa is the same.For example, one female plays the role of mother , sister, wife at same time and in all her forms, her affection id different from other. But the sweetness, affection which mother form has for her child, it cannot be seen anywhere. In her angry form, She does not care about anyone even about her husband at the time of securing her child……..such is dignity nd affection of this form….that’s why she is Aadya Maa, Paramba.
Witness to this fact is that whenever you have the opportunity to go to Tara peeth situated in Veerbhum district of Bengal then you will find that you can embrace your mother, who is the mother of entire world, just like a small kid. Where and in which other forms, this is possible…..and it is like this because mother is mother. She destroys ignorance and ego of sadhak and sadhak is not even aware of it.And if there is any idol which depicts complete activation of entire Kundalini power than it is Tara form only, snake situated on her forehead represents this fact. From where the purity will come, it is not the thing to be imposed from outside. Manifestation of Bhagwati Tara too is connected with mind, soul and heart of sadhak because she destroys all those things which are somewhere connected to ignorance. You have done sadhna or not. If you have such idol then this situation is automatically created because only by seeing parad, Parad Dev removes poison, dirt, evils and shortcomings present inside you and makes you capable to move forward on this divine path. But when Parad itself has imbibed this form of Bhagwati and becomes ready to give everything then how can any shortcoming is possibleThat’s why Sadgurudev Ji introduced us all to the Parad Kaali idol but he was silent about Parad Tara because then nothing is left…….but when it is about one step more …about Sahastra form of Bhagwati then it is only indicator of supreme fortune of sadhak.
And definitely such idols cannot be found in streets, it is neither an ordinary idol nor it is the one which can be made in advance. Construction of such high-level idol is not done till the time it is not ordered by Guru Mandal. It is because this idol is created keeping in mind the sadhak. And such idol in front of which nothing is done …..There is nothing like faith or faithlessness, which is only established and just doing it advances sadhak on path to making everything possible , it is not ordinary thing , it represents supreme fortune…..and how many sadhak are today who have this Sahastra Swaroopa Parad Tara idol…
And when we take about level state superior to faith and faithlessness….that whether sadhak is pure or impure he can do its pooja and sadhna at any place and at any time because Shakti of Lord Aaditya who controls time is none but Maa Tara. There is no other Dev/devi who can give such relaxation to sadhak. It may be true that sadhak’s state of mind is not like this but when idol is in front of him then ultimately that state comes. Attaining that state is like attaining Avdhoot state….where everything is divine.
Eligibility for doing sadhna of this form of Bhagwati can be only attained by Divya Bhaav sadhak who not only sees that supreme element Sadgurudev in all but also experience it each moment. This is not an ordinary thing but how this state is possible….that too for amateur sadhaks whereas for high-level sadhaks there are many hurdles. It can be ego of their knowledge, ego of accomplishments, ego of decorum in which they have confined themselves. On the other hand there is affection of Bhagwati which herself removes all ego and ignorance with love and affection. All this is possible by just having such idol, that too in gradual manner so that no problem arises in materialistic life of sadhak. His life achieve heights in the manner like Maa has taken him in her lap for all time , where there is nothing like purity or impurity, there is nothing like faith and faithlessness , there is nothing like conduct etc. Where mother is giving purity …..Then here only feeling of mother giving everything to child is evident but she also keeps in mind that child should not face any problem.
And all cannot have such fortune.
This state, for which even Devtas are anxious to take human form, is only possible through Tara sadhna. This is because sadhak may do sadhna of any other form but for complete purity, knowledge and for liberation from entire evil and bondages, he has to rely on some form of Bhagwati Tara.
Generally sadhak does the sadhna within bondages of many faults.They may be physical , like nightfall or any other form of physical or mental deformity…but in this form Maa not only provides riddance from them but brings sadhak on that emotional pedestal which is dream for even high-level yogis…where there is only Maa and her sadhak child.
And today if with blessings of Sadgurudev, it has become possible that this type of idol is available then it should be established. Because those who have given orders, it is not necessary that it will remain same in future. There is no past and future in Tantra….if there is something then it is only and only present and the one who improves his present, saves himself from curses of past and possible degradations of the future and attains heights. This cannot be done by any ordinary idol. Even Parad idol is not enough rather Sahastra swaroopa Bhagwati Tara, made from doing complete procedure on parad of 8 sanskars is amazing in itself. And all this has become possible due to good-fortune of those few, those who will be getting such type of idol with grace of Sadgurudev. This is not an ordinary incident if evaluation of this fact and all the feeling expressed above is done otherwise…
Now only those whose good deeds and fortune have risen…..
Who tries to understand the subtle play of time….
Who are seeing the leela of Bhagwati, they will only attain Parad idol of Sahatraanivata Tara. The thing which is possible today, may be it is not possible tomorrow. ….because in field of Gyan and Vigyan what is important is “this moment”. What is desire of Maa Bhagwati next moment, it is known by only Bhagwati or Sadgurudev.
But today is that moment. Now why to delay
Or still…….thinking….
Though there is entire left for thinking but time and opportunity never comes back.

=======================================================

श्रद्धया अश्रद्धया  वापि पठेन्तारारहस्यकम,
सोsचिरेनैव  कालेन्  जीवन्मुक्त  शिवो: भवेत ||
जो श्रद्धा या अश्रद्धा से इस महादेवी तारा के रहस्य को जानते हुये इनकी की उपासना /साधना करता हैं,वह शीघ्र  ही जीवन्मुक्त होकर शिव स्वरुप हो जाता  हैं . 
सम्पूर्ण तंत्र  की आधार शिला मे  ....या  यूँ कहा  जाए  की साधना क्षेत्र की आधार शिला मे  एक मुख्य  आधार सदगुरुदेव तत्व हैं तो साथ ही साथ एक ओर तत्व हैं वह हैं श्रद्धा  ..बिना  श्रद्धा के साधक लाख कोशिश कर ले  वह  इस साधना क्षेत्र मे सफल हो ही नही सकता और यह तथ्य  तो साधक जितना उच्च स्तरीय  साधना क्रम मे  प्रवेश पाते जायेंगे  उतना ही गंभीर विषय होते जाता हैं   पर भगवती तारा की साधना मे  एक बहुत ही अद्भुत तथ्य  हैं की उनकी साधना  या उपासना  या  कुछ भी साधना  प्रक्रिया  किया जाये  वह फिर चाहे  श्रद्धा से  की जाए  या अश्रद्धा से  सही, साधक को फल   प्राप्त होता ही हैं ,और यह तो अपने आप मे बहुत उच्च कोटि के वरदान स्वरुप  जैसा हैं ही. कारण यह हैं की   अगर साधक  सच मे श्रद्धा  युक्तता   हुआ  तो वह प्राप्त कर ही लेगा पर प्रारंभिक  साधक इस श्रेणी का कैसे  हो सफल हो सकता हैं, वह कोशिश तो करता हैं इस श्रद्धा तत्व को पाने की, पर हर वार असफल ही होता  हैं क्योंकि  “श्रद्धा वान लभते ज्ञानम”   के अनुसार  बिना श्रद्धा के  ज्ञान कैसा ?कैसे संभव हैं ?
भगवती तारा के स्वरूप और उनके वात्सल्य की बात ही निराली हैं, साधक का सबसे  बड़ा शत्रु अगर  कुछ हैं तो वह हैं  उसका  अहंकार और यह इतनी सूक्षमता से  साधक को अपने  जाल मे आबधित  कर लेता हैं की साधक स्वाभिमान से कब अहंकार की अवस्था मे प्रविष्ठ कर जाता  हैं, उसका उसे पता ही नही चलता हैं ,और इस अहंकार रूपी  विष का परिणाम बहुत ही भयंकर  होता हैं सामान्य  रूप मे  साधक के सहयोगी से वह साधक स्वयं दुरी कर लेता हैं उसे अचानक अभिमान होने लगता हैं, जो की कल तक न था की वह बहुत कुछ हैं और कुछ समय मे तो उसका  सब कुछ नष्ट हो ही जाता  हैं.भगवती तारा  ही एक मात्र महाशक्ति हैं,  जो साधक के अहंकार का हरण कर उसे निर्मलत्व  से परिपूर्ण कर देती हैं, वे खर्व गर्व हारिणी  हैं.
उच्च कोटीस्थ तांत्रिक आचार्य गुह्यतम पूजा साधना प्रक्रिया मे जिस बात का  अक्सर उल्लेख करते हैं वह सामान्य साधक के समझ से परे हैं.वह यह की मानव जीवन के  चार पुरुषार्थ मे धर्म को लगभग १० कला से  युक्त बताया जाता हैं और अर्थ को १२ कला  से युक्त  पर एक सामान्य साधक जान कर आश्चर्य चकित हो जायेगा की इस प्रकार   तो काम  को १४ कला युक्त  होना चहिये  पर उसे  १६ कला से जोड़ा  जाता  हैं ,इसका  साधारण मतलब यह हुआ  की अष्ट पाश मे से काम भाव रूपी पाश से  मुक्त होना कितना कठिन हैं .क्योंकि काम तत्व से पूर्ण मुक्ति की बात नही हैं, ऐसी अवस्था मे  साधक का जीवन ही निस्तेज हो जायेगा, सारा उमंग, उत्साह, ओज सब कुछ एक काम तत्व के अंतर्गत ही तो हैं.काम के जिस भाव से एक  सामान्य साधक का ज्यादा परिचय होता  हैं, वह हैं देहिक सुख रूपी वासनात्मक भाव और इस भाव से,  ऐसी कोई शक्ति नही हैं जो मुक्तता  दिला सके .और यही पर एक बार पुनः भगवती  तारा  का प्राकट्य होता हैं क्योंकि वह ही तो तारने  वाली हैं  और उनके लिए क्या तारना हैं? क्या  नही? वह साधक की अपेक्षा  कहीं जायदा जानती हैं .
 पर यह कैसे माना जाए ?.
तो भगवती तारा द्वारा लिए गए आयुधो को ध्यान से देखने  पर  उनके  एक हस्त मे  कैची दृष्टिगत होती हैं .आखिर जब खड्ग हैं तब कैची की क्या आवश्यकता ?? वह इसलिए  की भगवती तारा ही तारने  वाली हैं.क्योंकि दस महाविद्या मे कोई महाशक्ति मे ज्ञान प्रदायिनी हैं,  तो कोई धन प्रदायिनी हैं,  तो कोई अभय प्रदायिनी  हैं,  तो कोई समस्त सुख प्रदायिनी हैं, पर भगवती  तारा   तो तारने वाली हैं  और जो तारने वाला  होगा,  वह साधक के एक-  एक बंधन को काटते  जायेगा, इस दृष्टी से  भगवती तारा  और सदगुरुदेव तत्व मे कोई अंतर कहाँ हैं  .और कैची  इसलिए  हैं की अति सूक्ष्म  बंधन को काटने  मे  खडग नही, कैची की ही आवश्यकता होती हैं .
भगवती  आद्या माँ  महाकाली और तारा  वास्तव मे  एक ही स्वरुप हैं या ऐसा कहा जाये की भगवती  काली  ही नीलवर्णा होकर   तारा  रूप मे हैं या तारा   ही कृष्ण  वर्ण  होकर काली के  रूप मे हैं  तो कहीं जायदा  उचित होगा .यूँ तो दोनों स्वरूपों मे  अनेको भेद हैं भले  ही तंत्र ग्रंथो दोनों स्वरूपों को एक ही कहते  हैं और यह भी तथ्य सामने रखते हैं की दोनों मे कोई अंतर  नही हैं और इनमे  अंतर रखने  वाला नर्क का गामी होता हैं .अगर तात्विक दृष्टी से  देकह जाए  तो सम्पूर्ण  विश्व  वही एक आद्या शक्ति का ही लीला विलास  हैं .वही तो कहती हैं “ अहम एकोहम द्वितीयोनास्ति ...” इस रूप से सभी एक हैं पर जब  सूक्षमता से  देखा जाये  तो पता  चलता हैं की भगवती काली  तो निष्कल ब्रहम के स्वरुप को प्रदर्शित करती हैं और वही तारा  सकल ब्रह्म के  स्वरुप को ..भगवती काली के स्वरुप मे  सम्पूर्ण आकाश तत्व  भी प्रलय काल मे विलीन हो जाता  हैं तब क्या शेष  रहता होगा, यह सोचा भी नही जा सकता हैं,  इस कारण उनकी साधना सरल नही हैं अत्याधिक कठिन हैं, भले  ही साधक या अन्य सामान्य जन उनकी साधना  मे  कितने  मन से प्रविष्ठ हुये हैं क्योंकि उनका स्वरुप  तो ..अपने आप मे  रहस्यमयता की चरम हैं...पर जहाँ अंत नही.वही भगवती तारा अपने  वात्सल्यमयता से साधक को ज्ञान रूपी अमृत से  जो उनके पुष्ठी प्रदाता स्तनों से प्रवाहित  हैं साधक को परिपूर्णता   दे  ही  देती हैं और वात्सल्यमयी माँ  जब स्वयम  ही, साधक को विशुद्ध ज्ञानमय अमृत को  स्वयं ही स्तनपान के माध्यम से कराने को तैयार  हो तो साधक को अब और क्या कुछ करना   देखना..शेष  हैं.बस जय माँ तारा ..जय जय तारा   ही शेष रह जाता हैं  ...यही भावमय कंठो से  निकल सकता हैं .भगवती तारा ने ही जब भगवान शिव  द्वारा  हलाहल विष का पान किये जाने  पर जब उन्हें  द्वारा उस विष की ज्वाला को सहन  न कर पाने की हालत मे  ,  स्वयम अपना  स्तनपान करा कर  उसी कष्ट से बचाया  था  तब किसे  उनकी शक्ति मे कोई शक  होगा..
भगवती काली की साधना कठिन हैं और यह भी एक सत्य हैं की भगवती काली दिगम्बरा  हैं और उनके पास  साधक को जा सकने की अवस्था मे  या तो परम योगित्व अवस्था लाना पड़ेगी या स्वयं शिशुवत  हो जाये तभी तो साधक अपनी दिगम्बरा  माँ  के पास जा सकता हैं .पर भगवती तारा तो स्वयम ही साधक को अपने वात्सल्यमयता से शिशुवत कर देती हैं.भला कौन सी माँ अपने नन्हे से शिशु  को साधना करते देख पायेगी ..माँ  तो माँ हैं ...और इसी भाव के कारण , वे  उसके  अज्ञान का स्वयं ही हरण कर लेती हैं उसे निर्मलत्व  दे देती हैं .हैं  न् कितना आसान,सरल,सहज  और कितना भाव भरा स्पर्श जो केबल एक माँ  ही अपने  बच्चे को दे सकती हैं , वह भी सम्पूर्णता के  साथ .
अनेको इसे  उदाहरण  हैं  जब साधको ने  सिर्फ एक रात की साधना  करके  या  सिर्फ कुछ स्त्रोत पाठ करके  अद्वितीय  कवित्व शक्ति या  ज्ञान  पाया हैं   और कौन सा स्वरुप इतना  दयालु होगा .उनके  गले  मे सुशोभित   ५० मुंडो की माला वास्तव मे  सम्पूर्ण मातृका शक्ति का  परिचायक हैं और ऐसे   साधक  को फिर कोई अन्य साधना की  कहाँ  आवश्यकता क्योंकि सारे मंत्रो की रचना मे  इन्ही मातृकाओ की  ही शक्ति जो हैं.जीवन मे तीन प्रकार के ताप बताये गए हैं. दैहिक, दैविक और आध्यात्मिक  और इनसे मुक्ति या  इनसे तरना  या ..कैसे संभव हैं .पर इन सबसे  भी तारने वाली एक ही महाशक्ति हैं, इस स्वरुप की तुलना ही नही  और जब यह अपने पारदीय स्वरुप मे  वह भी सहस्त्र  स्वरुप मे साधक  के सामने  हो,  तब और क्या कहना/करना   शेष रह  जाता हैं .भगवती तारा  धन प्रदायिनी हैं  और यहाँ धन का मतलब सब कुछ से हैं ..वह चाहे  विद्या धन  हो या भौतिक धन  हो या आध्यात्मिक धन  हो,रूप सौंदर्य धन हो, यश धन से लेकर जीवन  की सारी उच्चतम अवस्था कहीं न् कहीं धन का  ही कोई न् कोई स्वरुप ही  हैं, सभी कुछ आ जाता हैं इस  परिभाषा मे ..जिसे  जिस प्रकार का धन  चाहिये  उसके बिना  मांगे  ही  माँ तारा सब कुछ उसे  स्वत दे देती हैं इतनी वात्सल्यमयता  अन्य किसी भी स्वरुप मे कहाँ ..भले  ही उन सारे स्वरूपों के मूल  मे  माँ एक ही हो .जैसे  एक  स्त्री  माँ, बहिन, पत्नी आदि अनेक रूप एक साथ धारण किये  रहती हो और सभी मे बिभिन्न रूप मे उसका स्नेह ही अलग अलग होता हो  पर जो मधुरता, स्नेहमयता,वात्सल्य, माँ के स्वरुप मे अपने  शिशु के लिए हैं वह भला अन्यत्र कहाँ दर्शनीय.अपनी संतान  की रक्षा के समय  क्रोधावस्था मे  वह किसी की भी परवाह नही करती यहाँ तक अपने स्वामी का भी ...यही  तो उनकी गरिमा हैं ...उनका स्नेह हैं तभी  तो वे आद्य माँ  हैं ,पराम्बा  हैं .
इस बात का एक प्रमाण की जब भी किसी का भी बंगाल के वीरभूमि जिले स्थित  तारा पीठ  जाना  हो  तो आप पाएंगे की वहां आप बिलकुल एक एक छोटे बच्चे की तरह अपनी माँ ,जो  सारे जगत की माँ हैं उससे बिलकुल एक बच्चे की तरह लिपट सकते हैं और ऐसा कहाँ  और किस स्वरुप मे संभव हैं ..और ऐसा इसलिए हैं की माँ  तो माँ  हैं .अज्ञान, अहंकार  नष्ट करती जाती हैं, साधक को उसका भान  भी नही  होता हैं,और सम्पूर्ण कुंडलिनी शक्ति के सम्पूर्णता के साथ जाग्रत  होने का कोई विग्रह अगर चित्रण करता हैं तो वह तारा स्वरुप हैं उनके माथे  पर अवस्थित सर्प इसी बात का प्रतीक हैं .क्योंकि निर्मल्त्वता   कहाँ से आयगी.यह कोई बाहर से थोपी जाने वाली चीज तो हैं नही .और भगवती तारा का प्रगटीकरण  भी तो साधक के मन ..आत्म और ह्रदय  सभी से जुड़ा हुआ हैं क्योंकि जिन तथ्यों  को वह नष्ट करती हैं वह कहीं न कहीं अज्ञानता से जुड़े हुये हैं  .चाहे आपने साधना  की हो या नही .आपके पास  अगर ऐसा विग्रह हैं तो यह अवस्था स्वत बनने  लगती हैं  क्योंकि पारद दर्शन से  स्वत: पारद देव आपके अंदर का विष, मैल,  पाप  और अन्य कमियाँ  दूर कर आपको दिव्य पथ पर  चलने का योग्य बनाते   ही रहते हैं पर जब पारद, स्वयम भगवती के  इस  स्वरुप को आत्सात कर साधको सब कुछ देने  तैयार हो जाए  तब कहाँ और कैसे नुन्यता  संभव ..इसलिए सदगुरुदेव जी ने पारद काली  विग्रह  से  तो हम सभी को परिचय कराया  पर  पारद तारा के बारे मे  मौन ही रखा क्योंकि यहाँ फिर क्या शेष ..पर जब इससे भी एक बात आगे की ..भगवती  के सहस्त्रस्वरूपा  की बात  हो तो ..यह तो साधक  के परम भाग्य का  ही प्रतीक हैं .
और निश्चित रूप से गली गली मे ऐसा  विग्रह मिल ही नही सकता हैं ,न ही यह रास्ते की कोई चीज हैं.न ही यह पहले से बना कर कर रखी जाने वाली कोई चीज हैं .जब  तक गुरू मंडल का आदेश न हो  इतने  उच्च कोटि का विग्रह का निर्माण कार्य किया  ही नही जाता  क्योंकि साधक को ध्यान  मे रख करही इस विग्रह का निर्माण किया  जाता हैं और ऐसा विग्रह  जिसके सामने  कुछ भी न किया जाए ..न ही कोई श्रद्धा या अश्रद्धा की बात  हो और जो  बस स्थापित हो,  उतने मात्र से  सब कुछ संभव करने की दिशा मे  साधको को अग्रसर कर दें  वह कोई सामान्य सी  घटना नही,  यह  तो परम भाग्य का प्रतीक हैं . और आज हैं ही कितने  साधक जिसके पास पास  यह सहस्त्र  स्वरूपा  पारद  तारा विग्रह हो ...
और अब बात आती हैं श्रद्धा  और अश्रद्धा से भी  आगे ...  की चाहे  साधक पवित्र  हो या  अपवित्र  हो, किसी भी स्थान पर,किसी भी काल मे  इनकी पूजा  कर सकता हैं, साधना  कर सकता हैं क्योंकि काल पर नियंत्रण रखने वाले  भगवान आदित्य के शक्ति,माँ तारा  जो स्वयम  हैं  और कौन सा  देव या देवी इतना  छूट साधक को दे सकती हैं .यह बात जरुर हैं की भले  ही आज साधक की मनस्थिति ऐसी न हो पर जब यह विग्रह सामने  रहे  तो स्वत ही यह अवस्था  आ जाती  हैं इस अवस्था को पाना मानो अबधुत अवस्था को पाना  हैं ..जहाँ सब कुछ  दिव्य हैं ही .
क्योंकि भगवती के  इस स्वरुप की साधना की पात्रता   तो सिर्फ दिव्य भाव का साधक   को ही संभव हैं जो सब मे  एक उसी परम तत्व सदगुरुदेव  को न केबल देखें बल्कि पल प्रतिपल अनुभव करे, और यह कोई मजाक की चीज  तो नही हैं पर यह अवस्था कैसे संभव हैं ..वह भी नए नए   साधको के लिए,जबकि उच्चस्थ साधको तक  के  सामने  तो अनेको फिसलन हैं,कहीं अपनी विद्या का घमंड हैं,   तो कहीं अपनी साधना  सिद्धि का  घमंड,  तो कहीं स्वयम अपने को बाँध कर, ढांक  कर रखी गयी मर्यादा का  घमंड,तब यहाँ  फिर  भगवती की करूणा ही तो हैं की वे स्वयम, यह सारे घमंडो  को, अज्ञानो  को स्वयम अपनी करूणा से ..स्नेह से  दूर करती जाती  हैं .तब जब  सब कुछ् यह संभव  हैं केबल एक ऐसे विग्रह होने  मात्र से ,वह भी इस तरह से धीरे धीरे,जिससे साधक के  भौतिक जीवन पर किसी  भी प्रकार का व्याघात  न हो,उसका जीवन इस तरह से उच्च्ता  पर जाए की,मानो हौले  से माँ  ने उसे अपनी  गोदी मे सर्वकाल के लिए  ले लिया  हो,जहां  न शुद्धता अशुद्धता की बात  हो ,न श्रद्धा  अश्रद्धा की बात  हो,न जहाँ आचार विचार की बात हो.  जहाँ माँ ही निर्मल्त्व   देती जा  रही हो वहां  ...सिर्फ  और सिर्फ  एक माँ का मानो अपने नन्हे  से शिशु को सब कुछ वह भी जल्दी से जल्दी देने की भावना ही तो हैं  पर वह ख्याल भी रखती हैं की इसे  कोई कष्ट भी  न हो ..
और ऐसा तो सभी का भाग्य तो नही हो सकता हैं..
यह अवस्था  जिससे के लिए देवता भी मानव स्वरुप मे आने  को व्याकुल  होते हैं, वह तो भगवती तारा  की साधना से ही तो संभव हैं ..क्योंकि भले  ही कोई भी अन्य स्वरुप की साधना  साधक कर ले  .पर पूर्ण निश्छलता, ज्ञान युक्तता और समस्त दोषों और बंधनों  से तारने के लिए भगवती  तारा के किसी न किसी स्वरुप का आश्रय  तो लेना ही पड़ेगा .
साधक की साधना सामन्यतः बंधन मे होती हैं अनेको दोषो से, कहीं वह शारीरिक हैं,  फिर वह चाहे चाहे  स्वप्न दोष  हो, से लेकर   किसी भी प्रकार की शारीरिक या  मानसिक न्यूनता   ही क्यों न हो ..पर इस स्वरुप मे  माँ उसे ..इनसे मुक्त ही नही करवाती हैं बल्कि उस भाव भूमि पर  ला ही  देती हैंजो उच्च योगियों के लिए  भी एक स्वप्न हैं .जहाँ वस माँ और माँ और और उनका शिशुवत साधक हैं.
और आज अगर सदगुरुदेव जी की कृपा से ऐसा संभव हुआ हैं की इस तरह का विग्रह उपलब्ध हुआ हैं तो उसे  तो स्थापित करना ही चहिये .क्योंकि आज जिन्होंने  आज्ञा दी हैं वह कल भी वैसी रहे, यह कहा नही जा सकता हैंक्योंकि तंत्र मे न तो कोई भूत काल हैं न ही कोई भविष्यकाल  ..अगर कुछ हैं  तो वह सिर्फ और सिर्फ वर्तमान काल  और जो वर्तमान को  को सुधार लेता हैं वह भूतकालके अभिशापों से  और भविष्य काल के संभावित  पतनो से भी बच कर उच्चता प्राप्त कर लेता हैं. ऐसा कोई  सामान्य विग्रह कर ही नही सकता  हैं .और सिर्फ पारद विग्रह हो इससे  भी नही  बल्कि अष्ट संकारित पारे  से  सम्पूर्ण क्रियाओं से बने इस सहस्त्र स्वरूपा भगवती तारा  की बात  की अलग हैं  और ..यह भी केबल कुछ उन्ही के भाग्य से संभव हुआ हैं,  जिनके यहाँ इस तरह का विग्रह पहुचना  सदगुरुदेव कृपा के स्वरुप संभव  हो रहा हैं.क्योंकि यह कोई सामान्य  घटना नही हैं .अगर इस बात का, ऊपर लिखे एक एक भाव का यदि कोई  मूल्यांकन हो तो .अन्यथा ...
अब सिर्फ जिनके कर्मो का उदय हुआ हैं..जिनके सौभाग्य  का उदय काल  हैं..
जो समय की सूक्ष्म लीला   को समझने का प्रयत्न करते हैं.
जो भगवती के लीला विलास को देख रहे हैं वही इस पारद विग्रह जो को सहस्त्रान्विता तारा का स्वरुप  हैं उसे पा पाएंगे .क्योंकि जो आज संभव हैं शायद  वह कल न रहे ..क्योंकि ज्ञान विज्ञानं मे सिर्फ इस और “इसी पल” की ही  तो  बात  हैं अगले पल मे भगवती की क्या इच्छा हैं वह भगवती या सदगुरुदेव ही जाने ..
पर आज तो यह क्षण हैं ,,अब भी किस बात की देरी .....
या अभी भी ..सोच विचार ..
वैसे सोच विचारके लिए  तो सारी उम्र पड़ी हैं ,समय और हाथ मे आया अवसर खोने के बाद ...
**** NPRU****

No comments: