There was an error in this gadget

Tuesday, November 27, 2012

PAARAD SHRIYANTRA -EK DRISHTI


NaaymaatmaBalHeenenLabhyah |

I.e. strength is required the most. It also means that Shakti (power) has supreme necessity. Without strength and Shakti, self-enlightenment does not happen. But what will be the source of Shakti? It is point worth pondering over and it can be possible only by relying on Tantra, relying on sadhna, by sacrificing your everything in divine lotus feet of Sadgurudev (Here everything does not mean wealth rather it is all about accepting shortcomings like fraud, ego and guile in front of him and rise of feeling of completely devoting oneself into lotus feet of Sadgurudev). Without it, in this Kalyuga, where person’s age, strength, courage, aura, patience and celibacy etc. is feeble how can it be possible to attain the ambition of life? Keeping this aim in mind, our sages stressed a lot on this fact that without Tantra sadhna, progress of human life is not possible.
There are millions and billions of sadhna and this holy Ganga of sadhna knowledge is flowing continuously from millions of years. May be it has slowed down a bit for some time but its flow has always been continuous.

You all are quite aware of the super-human work of Sadgurudev to re-establish all dimensions of Tantra and sadhna in today’s era. The description of new Idols and yantra and their sadhna which Sadgurudev put forward through the medium of Parad is indescribable. When Parad, which has been called Shambhu beej, reflect its full consciousness and all its auspicious qualities in sadhak, then what can be said about the fate of sadhak because it is not an ordinary activity. Even getting a Sanskarit Parad is rare then what can be said about the making of such idol….that too after passing through all hidden shastra and tantric procedures. This is invaluable idol, which if sadhak uses it in sadhna in appropriate manner then what can be impossible for him.

Parad Shri Yantra is also something like it. Thought it has now just become symbol of attainment of wealth but its reality is exactly opposite to above. This Yantra is good-fortune of life, it is acheivement of life, and it is like elevating yourself in this short life and writing your name on high peaks of Himalaya
But it does not seem that there is anything special about it??

This is because we have neither tried to understand its speciality nor given a thought why it has been called King of Yantra and best yantra. If all Tantras appreciate it then definitely it will be something special.

In one of the editions of Mantra Tantra Yantra Magazine, Sadgurudev has written that when he was continuously attaining high-order sadhna and was at those heights of sadhna which is even beyond the imagination of high-level yogis. At that time he got a message from his Sadgurudev that “Nikhil , the heights of sadhna which you have touched is unparalleled but it is also nothing until you imbibe completely the vast form of Bhagwati Tripur Sundari . When you will be able to do so you will find that all sadhnas done uptil now have become just a play”
Please try to understand importance of this divine message about the supremacy of vast Shodashi Tripur Sundari sadhna, which is in fact ruler of Shri yantra. In Shri yantra, complete establishment of her takes place. And getting such energised Parad Shri Yantra is achievement of life. It is affection of yogis of Siddhashram if it is possible in the fate of sadhak and that too parad Shri Yantra.

There are many types of Shri Yantra, Sadgurudev has told that

Shri Yantra
Kachchap Shri Yantra
Sumeru Prishtheey Shri Yantra
Vaaraaheey Shri Yantra
Maatangeey Shri Yantra
Navnidhi Shri Yantra
Dhara Prishtheey Shri Yantra
Bhu Garbheey Shri Yantra
Parad Shri Yantra

are various types of Shri Yantra and there are many more too. Every Shri Yantra is Shri yantra and all sadhnas can be done on it but every particular Shri yantra has got a specific importance. Some are made for business purpose, some for establishment at home; some are established on ground so that high and luxurious house can be made on it.

Today we have best Shri yantra – Parad Shri yantra. And we are also fortunate that Kachchap Shri yantra is also available .Here the point worth understanding is that if someone has to do sadhna which has come on blog, then it can be done on any of Parad Shri Yantra. There are no conditions but that parad Yantra should fulfil all the desired rules. Otherwise if it is Parad Shri Yantra of lead disguised by covering it with mercury layer and someone gives it to you…then what can be said…..

This is fraud.

If one has to attain complete results of sadhna, then there are no alternatives to desired sadhna article. Sadhak will need the same article as directed in sadhna. In today’s time we do sadhna by putting so much of effort and money and success is becoming rare these days. In such a scenario, doing it with false or wrong sadhna articles is like flirting with failure. This fact has to be necessarily kept in mind. If this sadhna could have been done by crystal Shri Yantra then writer would have written in article…….but it is not so.This prayog requires Parad Shri Yantra. Those who want complete success, they will use appropriate sadhna article otherwise…Many sadhnas can be done on Shri yantra and it is not required to take new Shri Yantra every time for other sadhna .One Shri Yantra can bring good luck to you and your future generations because when sadhna is done in front of it, its auspiciousness goes on increasing by itself.
We have given all sadhnas possible on Shri yantra in first edition of Tantra Kaumadi. And many rare and most difficult sadhnas become possible only through poojan (as per rules) of some special Samagri.
All the yantra available today are contained within this yantra. The type of shaktis and sub-shaktis which reside in it includes everything. And it is not just a talk nor a subject of laughter. Take one example……this yantra is also used in parad Vigyan.

You will think which purpose it serves there ….

For your info….High-level yogis of Parad Vigyan took a resolution to free entire world from poverty and progressed in this field. And when it is about getting rid of poverty and establishing prosperity then very vast form of Shri, Bhagwati Shodashi Tripur Sundari will be present.
You can guess it from this fact that Sadgurudev taught gold-construction procedure through the medium of Shri Yantra practically.

This is amazing that is this possible and answer to it is yes. But this procedure is not for all. It should not be that everyone starts writing that would you tell it. This is to be decided by Sadgurudev. It is up to you to prove eligibility and develop your ability otherwise it is not possible even in your dreams that you keep on throwing challenge and someone will get impressed and teach you.
Presence of this type of Shri Yantra in your worship-room is incredible incident since it may be sadhna of any god or goddess, it may be done through Dakshin maarg or Vaam Maarg , it is Satvik procedure or Tamsik procedure or Raajsik procedure , in all of them Shri Yantra is used. It gives boost to your sadhna. It is combined form of all shaktis of entire world, which we have limited only to wealth. Its 2813 special angles and Shaktis are beyond our thinking capacity.

Today scientists are working hard day and night so that they can understand all triangles of Shri yantra and power hidden in them. But more they discover, more they feel amazed. Just recently the rare prayog related to Parad Shri Yantra which wasgiven by Rozy Nikhil Ji is indescribable in itself. By doing it you can get rid of all shortcomings of your life and increase your qualities multiple times. This is not an end rather when by sadgurudev’s grace, high-level Vidhaans will be attained from his ascetic disciples, they can be also done on it.And for each prayog one need not take new Shri yantra.

 It is true that every Shri Yantra has got a very special quality. And whenever we get permission, we will make you available Shri Yantra whose names are given above. But there is still time left, and those who cannot take right decision on time and waits for future, they cannot be sadhaks .Steps taken today will form the foundation stone of our future.Parad Shri Yantra has to be kept with lot of caution because many times it can be broken accidently and broken Shri Yantra does not serve any purpose. That’s why whenever you get it, keep it with all precaution. Reason is that it cannot be assembled so easily since the hidden procedure which had been done at the time of its construction is broken and it cannot be joined.

Today there are so many sadhak among us by seeing whose knowledge everyone is amazed and in root of it lies Shri Yantra (by blessing of Sadgurudev) only which virtually is indicator of everything. If we give one shape to all states of life then all those states which gives supremacy to life ,will be Shri yantra only.

Those fortunate ones who have got chance to go to sadhna room of Sadgurudev ji pretty well know that there was present huge and supreme Shri Yantra at his personal sadhna place. Will still we not understand importance of Shri Yantra?

Muhurat of that marvellous sadhna given on blog, which can be done on Parad Shri Yantra, is coming very soon. Decision has to be taken now to establish this rare yantra in sadhna room, do its sadhna and experience that excellence yourself.


===============================================
नायमात्मा बल हीनेन लभ्य :|

अर्थात  बल की  ही सर्वाधिक आवश्यकता  हैं इसका  सीधा सा अर्थ ये भी  हुआ  की शक्ति  की परम आवश्यकता हैं,बल और शक्ति के  बिना आत्मलाभ  नही  होता  हैं.पर यह शक्ति आये  कहाँ से? .यह विचार का प्रश्न हैं और यह संभव हो सकता हैं,सिर्फ और सिर्फ   तंत्र का आश्रय लेने   से , साधना का आश्रय लेने  से, सदगुरुदेव के श्री चरणों मे अपना सब कुछ न्योछावर  कर देने मे (यहाँ  सब कुछ  से मतलब धन संपत्ति नही हैं  बल्कि जीवन मे  जो भी छल, कपट, अहंकार  और  न्युनताये हैं वह उनके सामने  सच सच मे स्वीकार कर लेने  और सदगुरुदेव जी के श्री चरणों मे पूर्णतः उनमे  विलीन होने की भावना का उदय होना )  बिना इसके इस कलिकाल मे  जब व्यक्ति  की जीवन आयु और बल ,साहस,तेज,संयम और ब्रह्मचर्य आदि सभी कुछ क्षीण हैं तब जीवन का लक्ष्य पा पाना कैसे संभव  हैं?.इसी उदेश्य को ध्यान मे  रखते हुये हमारे मनीषियों  ने  इस बात  पर बहुत जोर  दिया की बिना तंत्र  साधना  के मानव जीवन की उन्नति संभव  नही हैं .
साधनाए भी लाखो करोडो हैं  और यह साधना ज्ञान की  गंगा  निरंतर गतिशील हैं और हज़ारो लाखों वर्षों से यह सतत गतिमान  हैं भले  ही कुछकाल के लिए गति मंद  सी लगी हो पर प्रवाह सतत  उतना ही रहा .

आज के इस युग मे तंत्र को और साधनाओ के सभी आयामों को पुनर्स्थापित  करने का  जो  अतिमानवीय कार्य सदगुरुदेव जी ने किया, उससे  तो आज परिचित हैं ही .सदगुरुदेव जी ने पारद के माध्यम से जो नए नए विग्रह और  यन्त्र और उनकी साधनाओ का विवरण हम सबके सामने  रखा वह तो अनिर्वचनीय हैं.  पारद,  जो की शंभु बीज कहा जाता हैं, जब वह अपनी पूर्ण चैतन्यता  और  सभी शुभ गुणों को साधक  मे परावर्तित करने लगे,तब  साधक का भाग्य तो कहा ही नही  जा सकता हैं क्योंकि यह कोई सामान्य सी प्रक्रिया नही हैं , संस्कारित पारद  मिलना  ही दुर्लभ और उस पर ऐसे विग्रह का निर्माण  तो ..वह भी सभी गोपनीय शास्त्रीय और  तंत्राकीय प्रक्रिया  से  गुजरने के बाद  ..वह तो अमूल्य सा  विग्रह हैं .जिसका  अगर साधक  सही तरीके साधना  मे प्रयुक्त करता हैं तो उसके लिए  फिर क्या  असंभव हैं .

पारदीय श्री यन्त्र  भी कुछ ऐसा हैं .हालाकि यह सिर्फ आज हमारे बीच धन प्राप्ति का  मानो एक प्रतीक  बस बन्  कर रह  गया हैं , जबकि वस्तु स्तिथि  इसके  पूरे विपरीत हैं .यह श्री यन्त्र  तो जीवन का सौभाग्य हैं , जीवन की उच्चता हैं, एक अल्प जीवन  मे अपने आप को  उछाल कर हिमालय के उच्च शिखरों मे अपना नाम अंकित कर लेना जैसा हैं .
पर यह लगता  तो नही हैं .की इसमें ऐसा क्या इतना विशेष हैं .??

वह इसलिए की हमने कभी  इस श्री यन्त्र की न तो विशेषता समझी, न ही इसे जानने समझने की क्रिया,  कि क्यों इसे  यंत्र राज  और  सर्वश्रेष्ठ यन्त्र  कहा  गया  हैं  और अगर सारे  तंत्र इसकी प्रशंशा करते हैं तो जरुर कुछ तो होगा  ही .

मंत्र तन्त्र यंत्र विज्ञानं पत्रिका  के  एक अंक मे सदगुरुदेव  जी लिखते हैं की  जब वह लगातार उच्च साधनाओ को हस्तगत करते जा रहे  थे  और  वे  जिस साधनात्मक उच्चता पर थे की वहां  की कल्पना भी सामान्य क्या,  उच्चतम योगी संस्यासी भी नही कर सकते  थे.  उस समय उन्हें अपने सदगुरुदेव जी का सन्देश   मतलब  हमारे परम गुरुदेव जी का सन्देश मिला  की “निखिल आपने साधना की जिन उचाईयों को स्पर्श  किया हैं वह अन्यतम हैं पर यह भी कुछ  नही हैं, जब तक आप  भगवती त्रिपुर सुंदरी के बृहद स्वरुप को पूर्णता के साथ आत्म सात नही कर लेते हैं , और जब ऐसा हो जायेगा  तब  आप पाओगे की आज  तक की गयी सारी साधनाए  तो  खेल जैसे हो जायेगी “
आप इन अमृत सन्देश की महत्त्व  समझने  की कोशिश करें .की कहाँ पर बृहद षोडशी त्रिपुर सुंदरी साधना, जो की वास्तव मे  श्री यन्त्र की आधिस्ठार्थी हैं, उनकी साधना  हैं और  श्री यन्त्र मे  तो उनका  सम्पूर्ण  रूप से अंकन होता हैं ,और एक ऐसा प्राण प्रतिष्ठित पारद श्री यन्त्र प्राप्त होना  तो जीवन की उच्चता  हैं,सिद्धाश्रम के योगियों का स्नेह  हैं जो  यह संभव  हो एक साधक के भाग्य मे .   वह  भी पारद श्री यन्त्र ..

श्री यन्त्र के अनेको प्रभेद हैं, सदगुरुदेव जी ने समझाया हैं की

श्री यन्त्र
कछ्छ्प   श्री यन्त्र
सुमेरु पृष्ठीय श्री यन्त्र
वाराहीय श्री यन्त्र
मातन्गीय श्री यन्त्र
नवनिधि श्री यन्त्र
धारापृष्ठीय श्री यन्त्र
भू गर्भीय  श्री यन्त्र
पारद श्री यन्त्र 

इस तरह के अनेको  भेद  और भी हैं  इस तरह से  हर श्री यन्त्र  होता तो श्री यन्त्र  ही हैं और उस पर सारी की सारी  साधनाए भी की जा सकती हैं  पर अन्य श्री यंत्रों का महत्व भी   कोई कम नही .कुछ व्यापारके लिए तो, कुछ घर मे स्थापित करने के लिए   तो, कुछ जमीन मे  स्थापित कर उस पर   उच्च और समृद्ध शाली भवनों का निर्माण करने के लिए  होते हैं.

आज हमारे सामने सर्वोत्तम श्री यन्त्र-  पारद श्री यन्त्र  हैं .और इसमें  से भी  हमें  सौभाग्य  हैं की कछ्छ्प  श्री यन्त्र  भी उपलब्ध हैं .यहाँ यह समझने वाली बात हैंकि  जो ब्लॉग मे आई साधना के  निमित्त  यदि वह सम्पन्न करना हो तो वह किसी भी  पारद श्री यन्त्र  पर संभव हो सकती हैं .उसके लिए कोई शर्त नही हैं पर वह पारद श्री यन्त्र पूरे चाहे गए नियमों पर खरा उतरे  अन्यथा  शीशे का पारद श्री यन्त्र  हो उस पर भले ही पारे की परत चढा कर उसे  ही पारद श्री यन्त्र बता कर कोई दे , दें .....तो उस पर ...क्या कहना   कुछ शेष हैं .

यह तो छल  हैं .

अगर सच मे साधना करके  उसका पूरा फल  लेना हो तो  फिर चाहे  गए  साधनात्मक उपकरणों मे कोई अल्टरनेट नही  होता हैं ,साधक को जो साधना मे निर्दिष्ट किया हो,  उसे वह ही चाहिये होगा.आज के समय मे  एक तो इतना  श्रम , धन लगाकर  साधना  की जाए  और आज सफलता वैसे भी एक तो  दुर्लभ होती जा रही हैं,  फिर नकली या गलत साधनामत्क उपकरणों से करके,  हम हमारे साथ ही  तो खेल कर रहे हैं .इस बात को ध्यान मे रखना  ही चहिये .अगर स्फटिक के श्री यन्त्र से यह साधना   हो सकती  तो  लेखक ने पहले ही  अपने  लेख मे जरूर लिख दिया होता..पर ऐसा नही हैं इस प्रयोग के लिए  तो पारद श्री यन्त्र  ही चाहिए , जिसे सफलता  पूरे रूप  से  चाहिये  वह साधनात्मक उपकरण  तो सही प्रयोग करेगा  अन्यथा ...श्री यन्त्र पर अनेको साधनाए की जा सकती हैं  और हर साधना  के लिए  कोई  हर बार नया  श्री यन्त्र लेना  आवश्यक नही  हैं.एक श्री यन्त्र पूरे जीवन भर आपके  और आपके बाद आने  वाली कई कई पीढिया का सौभाग्य बन् सकता हैं .क्योंकि उसके सामने यदि साधना  उपासना  की जाये तो  वह और भी अपनी शुभता मे  प्रबर्धन करता ही रहता  हैं .
तंत्र कौमुदी के पहले अंक मे  हमने  श्री यन्त्र से कौन कौन सी साधनाए संभव हैं और कितनी दुर्लभ और कठिनतम साधनाए  तो मात्र कुछ  विशिष्ट सामग्री  के  विधिवत पूजन अर्चन से  ही संभव हो जाती हैं .
जितने  भी यन्त्र आज उपलब्ध हैं  उन सभी का अंकन इस यन्त्र मे  रहता  हैं , इसमें जिस प्रकार  की शक्तियां  और  सहयोगी शक्तियों का निवास होता हैं उसमे  सब कुछ आ जाता  हैं .और यह बात  सिर्फ कहने की नही हैं,  न कोई मजाक की चीज हैं . एक उदाहरण ले .. इस यंत्र का प्रयोग पारद विज्ञानं मे भी होता हैं .

आप  सोचेंगे की वहां क्या कार्य .

तो यह भी जान ले .की पारद  विज्ञन के उच्चस्थ योगियों ने  सारे  संसार  को दरिद्रता  से मुक्त करने का  संकल्प ले कर  ही इस  विज्ञानं मे  आगे  चले  और जब बात  सारी  दरिद्रता को दूर कर  ऐश्वर्यमयता की हो  तो वहाँ पर   श्री अर्थ .. श्री के अति बृहद स्वरूप भगवती षोडशी  त्रिपुर सुंदरी का तो होगा ही .
आप इसी बात से  इस तथ्य का आकलन कर सकते हैं कि सदगुरुदेव  जी ने पारद  श्री यन्त्र  के माध्यम से  स्वर्ण  निर्माण तक करके समझाया  और प्रायोगिक रूपों मे  बताया  रहा .

यह तो अद्भुत हैं की क्या ऐसा  भी  संभव हो सकता  हैं  और इसका  उत्तर हैं  हाँ . पर यह विधि सभी के लिए नही की  हर कोई लिखने  लगे की क्या  आप बताएँगे .यह तो सदगुरुदेव  जी के निर्णय का क्षेत्र हैं आप अपनी  पात्रता  सिद्ध करें  और  वह योग्यता  विकसित  करें अन्यथा  सिर्फ चेलेंज हर तरफ  फेकते रहे  और कोई उनसे प्रभावित   हो कर आपको   कोई सीखा जायेगा  यह तो दिन मे क्या स्वप्न तक मे  संभव  नही हैं .
आपके  घर मे  पूजा  स्थान मे इस प्रकार का  श्री यन्त्र होना तो एक अप्रितम घटना हैं क्योंकि की सभी  देव या देवी  की साधना  हो  फिर  वह चाहे  दक्षिण मार्ग   से हो या वाम मार्ग से या  सात्विक  प्रक्रिया हो या तामसिक या राजसिक  प्रक्रिया हो सभी मे इस श्री यंत्र का प्रयोग होता हैं, इससे     आपकी साधना  को बल  ही मिलता हैं ,यह सारे संसार  की  समष्ट शक्तियों का  एक पूंजी भूत स्वरुप हैं,जिसे केबल आज हमने धन तक ही सीमित मान लिया हैं इसके २८१३  विशिष्ट कोणों और शक्तियों  का   तो कोई अनुमान   ही नही .

आज वैज्ञानिक दिन रात लगे हैं कि श्रीयंत्र के समस्त  त्रिकोण और उनमे  छुपि शक्तियों का पूर्ण परिचय वे पा पाए  पर  जितना खोजा जाता हैं उतना  ही वे और भी चमत्कृत हो जाते  हैं .अभी हाल मे जो यह पारद श्री यन्त्र आधारित प दुर्लभ प्रयोग रोजी निखिल जी के माध्यम से आपके सामने आया  हैं,  वह तो अपने  आप मे  अनिर्वचनीय हैं,  इसको करके  आप  अपने जीवन की न्यूनता  को  दूर कर सकते हैं और  श्रेष्ठता को    कई गुना बढ़ा सकते हैं, पर यह कोई  अंत तो नही हैं बल्कि एक  से एक  विधान और उच्च कोटीस्थ विधान जब श्री यन्त्र पर   सदगुरुदेव कृपा से,  जब भी उनके आत्मवत सन्याशी शिष्यों  और शिष्याओ  से प्राप्त होने  तो  वह भी इन पर सम्पन्न किये  जा सकते हैं .और हर प्रयोग केलिए  कोई नया श्री यन्त्र नही लेना पड़ेगा .

यह बात जरुर हैं कि हर श्री यन्त्र  का अपना ही  एक अति विशिष्ट  गुण होता  हैं,और जिन भी श्री यंत्रों के नाम मैंने  ऊपर दिए हैं,जैसी  ही आज्ञा   और अनुमति मिलेगी आपके लिए  सुलभ करवाए  जायेंगे पर अभी तो समय हैं ,और जो समय पर सही निर्णय नहि ले पाए  और भविष्य काल के  लिए बैठा  रहे , वह तो साधक नही  हो सकता  हैं. आज के  इन कदमो से ही  तो भविष्य  की एक आधार शिला  बनेगी .पारद श्री यन्त्र  को बहुत ही संभाल कर रखना होता हैं क्योंकि दुर्घटना वस्  यह अनेक बार टूट जाता   हैं और खंडित  श्री  यंत्र का कोई उपयोग नही .आपको  पुनः  एक नया  श्री यन्त्र  चाहिये ही होगा .इस कारण जब भी इसको पाए बहुत ही सावधानी से रखे.कारण  यह हैंकि इसे  कोई आसानी से  जोड़ा नही जा सकता हैं  .क्योंकि निर्माण करते समय  जो भी  गोपनीय  प्रक्रिया  हो रही थी वह भी तो टूट गयी हैं उसको जोड़ा नही जासकता हैं .

आज हमारे बीच मे अनेको साधक ऐसे हैं जिनके   ज्ञान  विज्ञानं  को देख कर सभी आश्चर्य  चकित हैं और इन सभी के मूल मे  सदगुरुदेव जी के आशीर्वाद स्वरुप श्री यन्त्र  ही हैं .जो वास्तव  मे सब कुछ का प्रतीक हैं .अगर जीवन की सारी स्थितियों को   एक रूप मे  ढला जाए  तो वह सारी स्थतियों  जो जीवन को उच्चता  देती हैं वह श्री यन्त्र   ही  होगा .

हममे  से बहुत कम लोग जानते हैं कि सदगुरुदेव जी के साधना कक्ष  जिन सौभाग्यशालियों को जाने  का मौका मिला वे इस बात से  भलीभांती परिचित हैं की कितना  विशाल और श्रेष्ठ श्री यंत्र सदगुरुदेव जी की व्यक्तिगत साधना स्थल पर उपस्थित रहा हैं .क्या अब भी हम श्री यंत्र का महत्व नही समझेंगे.

ब्लॉग पर दी गयी  उस श्रेष्ठतम साधना का जो पारद श्री यन्त्र  पर ही सम्पन्न  की जा सकती हैं  अब महूर्त पास आते जा रहा  हैं .निर्णय अब लेना हैं  की इसे देव दुर्लभ  यन्त्र की स्थापन  क्यों न अपने अपने साधना  कक्ष मे कर साधना  सम्पन्न कर   स्वयम भी उस  उच्चता को अनुभव करें ..

****NPRU****


3 comments:

HEMANT NIKHIL said...

es yanter ko kasi prapt kiya jayi

shashikant shukla said...

Parad shri yantra kai se prapt hosakta hai aur rashi kya hao kripaya batayen. Rasraj10@gmail.com

shashikant shukla said...

Parad shriyantra prpati ke upay aur rashi batane kripa kare