There was an error in this gadget

Monday, November 26, 2012

PAARAD SAHASTRANVITA DEH TARA RAHASYAM - 3



Yadi Bhaagyavaashannath ! tara Vidya Pralabhyte |
Iccha Siddhirbhavetasay Kim Mokshashtsiddhye ||
Yadi Bhaagyavaashadwaatas ! Koti janm Tapobalaat |
  Labhet Taarkaam Vidya Saa Bhavet Kalp Paadap ||

Bhairavi says to Bhairav ….that my lord, if anyone attains Tara Vidya/ Tara Idol by his good luck; he automatically attains Iccha Siddhi (accomplishment to fulfil desires). Then Asht siddhi and salvation are just a child’s play for him. He becomes all-powerful in accordance with “YAM YAM CHINTAYTE KAAMAM TAM TAM PRAPTNOTI NISCHITAM” . My child, if someone gets Tara Vidya/ Tara Idol as a result of millions of years of meditation, even then that person become successful like Kalpvriksha (a tree in Hindu Mythology capable of fulfilling all desires).

Parad is best metal in itself and is beyond appreciation. As sperm is best material of human body, parad’s importance can be guessed from the fact that it is sperm of Aadya Guru of Tantra (Lord Shiva). Today more than attaining Parad on which eight sanskars have been done, it is difficult to attain such a person who thinks about the welfare of entire world and that too a person who has an interest in Parad Vigyan and among them it will be rare to find a person who is capable of doing 1-2 sanskars in manner prescribed by shastras and among them it will be very rare to find person who can do 8 sanskars and make such a very rare idol. When we talk about idol made from Asht Sanskarit parad (parad on which 8 sanskars have been done) then speech itself become silent and looks at idol and fortune of that sadhak that what this sadhak has done by virtue of which he is getting this type of idol. Such idols are not only lucky for sadhak but it also brings good luck to all his coming generations. Getting such Tara idol in today’s Kalyuga era is best.

Those who have read the books of best tantra sadhak of Varanasi Shri Arun Kumar Sharma Ji, they will agree with the fact that his Tantra sadhna journey started from Maha Peeth of Bhagwati Tara. Bhagwati Tara had been the Kul Devi of his family from many generations. Clearly, Bhagwati blessings can be seen and experienced in his creations and in his supremacy of knowledge. His writing style and the portion of Tantra knowledge which has come out of his writing is unparalleled. He himself has talked about the blessings of Bhagwati Tara so many times.
And this is not a matter of any coincidence, rather it is certainty.

Mahavidyaasu Sarvaasu Kalao Siddhiranumata |
Sarv Vidyamayi Devi Kaali Siddhiranumata ||
Kaalika Taarka Vidya Sarvamnaayair Namaskritaam |
Tayorajan Maatren Siddhah Saakshaat Sadashiv ||

In Kalyuga, all Mahavidyas provide supreme accomplishments notwithstanding the fact that Kali and Tara have been told to be best accomplishment by referring them as Sarv Vidyamayi Devi in above verse. These two vidyas by the name of kaalika and taarika are appreciated and praised in all scriptures and by their poojan only, SadaShiv is pleased.

Parad is nothing but lord Shiva manifested and amazing combination of Parad and Tara, which is even rare for Gods, is present in this Parad Tara Idol. Many sadhaks who worship Mahavidya have Shivling in their home and among them those sadhaks are very lucky who possess Parad Shivling. But it is very hidden fact which many sadhaks are unaware of is that first of all worship of Mahadevi is done. Thereafter Lord Shiva is worshipped otherwise both Mahadevi and Lord Shiva do not accept the worship.

It has been said
Mahavidyaam Poojiyatva Shivpoojaam Samacharet |
Anyatha Karnadevi !Na Poojafalmaapnuyaat || (Lingaarchan Chandrika)

Mahavidya Kali and Tara have been called one and the same at many places. But this fact is only to make normal sadhak understand. But those who are the connoisseurs of Tantra, they pretty well know that despite their basic form Aadya Shakti being same , still there are many differences between these two forms.

It is not a coincidence that Bhagwati Kali has black complexion and Tara has blue complexion. Whereas black colour indicates entire negative energy of universe, blue colour is indicator of omnipresent Aakash (sky) element. Black colour signifies dreadfulness and on the other hand blue colour looks pleasing to eye.

On one hand, there is Bhagwati Kaalika which provides salvation to sadhak, frees him from cravings. On the other hand Bhagwati Tara sadhak fills sadhak’s life with highest degree of love and affection. Life of her sadhak will be full of amazing affection. It can be in any form, of brother-sister, father-daughter or other form but it will be without wiles.

Yamraaj (lord of death in Hindu mythology), son of Sun shiver from fear from name of Bhagwati kali whereas Bhagwati Tara is Shakti of sun. By her light, entire world lives and is operational. While Bhagwati Kali controls entire night, Bhagwati Tara is responsible for the management of day.

Bhagwati Kali has got a sable (one small sword) which indicates that she destroys ignorance and head in her hand signifies that I have robbed essence of entire body, therefore leave all the useless things. Bhagwati Tara, on other hand, has got scissor along with sabre, description of scissor has been given in the previous article. She destroys false ego of sadhak not his self-pride because without self-pride, human life will become just like animal or earthworm.

Kali is Aadya which is indicator of Shunya (vacuum) and which cannot be defined. And here the subtle difference is that if we consider Aadya to be Shunya then if we count from destruction cycle (Sanhaar Kram) or construction cycle (srishti Kram), Bhagwati Tara is called Navmi. Thus from Navmi tithi (date), special yog of Bhagwati Tara starts. Number 9 signifies completeness; it signifies attainment of each and everything, it signifies to be complete in every aspect and signifies enthusiasm, valour and joy.

It has also been said
Panch Shunye Stithta Taata , Sarvaante Kaalika Stitha ||

I.e. Up till fifth Shunya /fifth Mahabhoots / five elements there is Bhagwati Tara. She is also Satvgunaanivata. And the authority which is beyond her is Kali.Whereas Kali is salvation –provider, Tara is Satvgunaanivata and provider of Tatv Vidya (knowledge of elements).

  Three types of bhaavs have been told in Tantra sadhna – Pashu Bhaav, veer Bhaav and Divy Bhaav. They carry a very vast meaning but here the basic point worth understanding is that Pashu Bhaav in which every normal sadhak lives and even sometimes accomplished person may belong to this category. It means those who are bound by Asht Paash(eight bondages).

The one who is bound by rules, assumptions, high-lows, caste differences and conducts, whose life is covered by bondages like shame and hatred, he may do upasana of any Dev Shakti or show it or by any reason attain siddhi also, but his life is animal-like only. Pashu Bhaav is an indicator to this same fact.

Rising above this state is only possible through Sadgurudev blessings. Otherwise there are many who consider themselves to be higher, who says something else and whose inner life is completely bound by Asht paash. Even those who have caused a lot of harm to this divine path in the name of Tantra and are still doing it so……such sadhaks actually have belonged to Pashu Bhaav.

And the highest bhaav is “Divya Bhaav” which is only possible through blessings of Sadgurudev. When Sadgurudev decides and makes up mind that this particular sadhak has to be provided divinity (keep in mind here we are not talking about giving siddhi rather we are talking about imbibing siddhis which is high-level thing), it paves the way for sadhak toward Divya Bhaav. Sadhak himself experiences that entire world is nothing but supreme Sadgurudev element only. And this is very difficult but when Sadgurudev himself decides then what remains difficult for sadhak. One form of witness to this fact is Bhagwati Tara. She is one part of supreme affection of Sadgurudev. And getting Parad Idol of her is indicator of the place which Sadgurudev wants that sadhak to attain or he has made up his mind, now only little bit of effort is require by sadhak.

If seen in real sense and in a neutral and unbiased manner, sadhna of Bhagwati Tara can be done only by either Divya Bhaav person or by person chosen by Bhagwati Tara herself.

Snaanaadi Maanasah Shauchau Maanasah pravaro Jap |
Poojanam Maanasam Divyam Maanasam Tarpaanaadikam ||

For this sadhna or for Divya bhaav sadhak, every time is auspicious. There is nothing called inauspicious time for him .There is no difference of day, night, evening, mahanisha.There is no expectation of purity and impurity. There is no difference between the one who has taken bath and the one who has not taken it. There is no difference between the one who has eaten food and the one who has not eaten it.

Sadhak of this Bhaav does not have to dive more into Bhavsaagar. 

And how is it all possible, that too with ease……..it can be done gradually only through establishing such Parad Idol of Bhagwati Tara which automatically brings sadhak to such higher level by her affection. This cannot be done by any other god or goddess. Sadhak should stop for a moment and think that what can be higher than this state of Divya Bhaav where there is only a kingdom of bliss.

Human life is today running after materialistic wealth .It has become characteristic of this era. Not only normal sadhak but also high-level sadhak cannot run away from this fact. Saying that I do not have any desire of money does not solve the purpose. Everything becomes useless without materialistic wealth and Bhagwati is provider of immense wealth (Here wealth means materialistic wealth only). There are so many sadhaks who have done very little sadhna of this Mahavidya and they have got sudden materialistic benefits in form of instantaneous money benefits or in form of promotion or in form of some business deal. When normal mantra jap and strot of Mahavidya Tara carries such importance than one can think what would be the state after establishing her Parad Idol which is in form of Sahatraanivata Deh Tara if sadhak continuously moves forward on sadhna path.

Sadgurudev has himself said that before this sadhna, when hundreds of disciples lived with him. He was worried about arrangements of their food. And this is natural since Guru is like mother. And how can one mother be miser in giving food to her children? If she does so, then she is not a mother…..
And when he went to do Tara sadhna , then his Guru said that you have to serve me for 6 months and when I am satisfied with your service than I will provide you this sadhna. When Sadgurudev said that how can I trust that you will be satisfied? If you become angry on some trivial matter than what would happen to 6 months of my hard-work? Then his Gurudev said that if you do not trust me, then you can leave. I have not called you. Disciple who doubts gets destroyed (Sanshayatmaa Vinashyati)

Sadgurudev said that he stayed, offered services and did Tara sadhna. Thereafter he and his disciples never had to face any type of scarcity. All of them got excellent food and did sadhna. It has always been clear feeling of Sadgurudev and he has said it multiple times too that the Guru who begs for money from you in so many ways……what he can give it to you. The one who is beggar himself, what he can provide to you.

And when sadhak does the sadhna in front of idol of Parad Sahatraanivata Tara, then his state and amount of wealth he will attain is beyond our imagination. But one more thing is certain that everyone will not be lucky enough to have such type of idol/Only few lucky ones will be able to attain it. Nature has got its own course that when it can free someone from fruits of his Karmas.

Now it is good fortune to attain such type of very rare Parad Sahatraanivata Tara Idol and prepare yourself for such high level and to understand this rare and easy opportunity……..



=======================================
यदि भाग्यावाशान्न्नाथ ! तारा विद्या प्रलभ्यते |
इच्छा सिद्धिर्भावेतस्य किं  मोक्षष्टसिद्धये ||
यदि भाग्यावशाद्वातस ! कोटि जन्म तपोबलात |
                 लभेत तारकां  विद्या  सा भवेत कल्प पादप ||

 भैरवी भैरव से कहती हैं ..की हे नाथ  यदि सौभाग्य से तारा   विद्या /तारा विग्रह  यदि कहीं से प्राप्त  हो जाए तो उसे  इच्छा सिद्धि स्वत प्राप्त हो जाती हैं ,तब फिर अष्ट सिद्धि और मोक्ष की क्या कथा हैं ?वह तो “यं यं चिन्त्तते  कामं  तं तं  प्राप्नोति   निश्चितं के अनुसार सर्व शक्ति सम्पन्न हो जाता  हैं, हे वत्स यदि देवात  करोड़ों  जन्म के तपोबल से तारा विद्या /तारा विग्रह  प्राप्त हो जाए  तो वह  पुरुष कल्पवृक्ष के सामान  सफल हो जाता हैं.

  पारद तो अपने आप मे सर्वश्रेष्ठ धातु हैं और  इसकी जितनी प्रशंशा की जाए  उतना  ही कम हैं. व्यक्ति के शरीर मे उसका सत्व  अंश सर्वश्रेष्ठ  पदार्थ होता हैं  ,तो इसी बात से कल्पना  की जा सकती हैं की  तंत्र के आद्य  गुरू का यह सत्व अंश हैं तो वह क्या स्थान रखता  होगा. और  आज के समय मे  अष्ट संस्कारित  पारद प्राप्त होना  तो क्या,  ऐसा  व्यक्ति मिलना  ही एक  तो दुर्लभ हैं उस पर जो  सर्व विश्व की  हित की चिंता करता  हो और उसमे  से भी ऐसे का जो पारद विज्ञानं मे रूचि रखे  और उसमे  सभी कोई विरला होगा  होगा जो शास्त्रीय रूप से  भी एक दो  संस्कार कर पाने मे  सफल  हो ,पर कोई अत्यंत बिरला ही इस प्रकार के  अष्ट संकार सम्पन्न्कर इस प्रकार का  अति दुर्लभ विग्रह  बना सकने मे सक्षम होगा  .जब अष्ट संकारित पारे  से निर्मित विग्रह की बात उठे  तो ..फिर वाणी मौन हो कर उस विग्रह की और वह स्वयम उस  साधक के भाग्य को देखती हैं की इसने ऐसा क्या किया हैं की इसके  यहाँ इस प्रकार का विग्रह जा रहा हैं ऐसे  विग्रह सिर्फ एक साधक के लिए नही बल्कि उसके पीढ़ी दर  पीढ़ी सभी वंशजो   का सौभाग्य  बन् जाते हैं . और इस कलि काल मे  यदि ऐसा तारा विग्रह प्राप्त हो वह ही सर्वोत्तम हैं .

  वाराणसी के  सर्वश्रेष्ठ  तंत्र साधक  श्री अरुण  कुमार शर्मा जी की  कृतियों का जिन्होंने ने भी अध्ययन किया होगा  वह  भी इस बात से सहमत होगा  की भगवती तारा के महा पीठ  से ही  उनकी तंत्र साधना  यात्रा  प्रारंभ  हुयी  उनके परिवार मे कई कई पीढयों से भगवती तारा  ही कुलाराध्या   रही हैं ,और उनकी रचनाओं मे उनके ज्ञान की उद्वात्ता मे भगवती का स्पष्ट अनुग्रह देख  जा सकता हैं और अनुभव किया भी जा सकता  हैं. और उनकी लेखनी  और उनका अद्भुत तंत्र ज्ञान का जो कुछ अंश स्वरुप, जो उनकी लेखनी  से निकला हैं वह ही अपने  आप मे  अप्रितम हैं .और उन्होंने स्वयम कई कई बार  भगवती तारा के अनुग्रह  की बात कही हैं.
और यह कोई संयोग की बात नही हैं, बल्कि एक निश्चितता हैं .

महाविद्यासु सर्वासु  कलौ  सिद्धिरनुमत्ता |
सर्व विद्यामयी  देवी काली सिद्धिर्नुमत्ता ||
कालिका तारका विद्या  सर्वाम्नायैर नमस्कृतां |
तयोरजन मात्रेण  सिद्ध : साक्षात्  सदाशिव||

कलियुग मे  सभी महाविद्याओ  से  उत्तम सिद्धि  मिलती हैं, तथापि कलि काल मे  सर्व विद्यामयी   देवी कह के  काली, तारा को ही  सर्वोत्तम सिद्धि बताई गयी हैं .कालिका  और तारिका नाम की ये  दो विद्याये सर्व शास्त्रों से प्रशंशित और अनुमोदित हैं,और उनके  पूजन साधना  मात्र से  सदाशिव प्रसन्न  हो जाते  हैं,

जहाँ पारद हैं वहां साक्षात्  शिव  तो हैं ही और पारद  और तारा का यह अद्भुत सामंजस्य   तो देवताओं के लिए भी  दुर्लभ हैं जो इस पारदीय तारा के विग्रह मे हैं.अनेक साधक,  जो महाविद्या के  आराधक हैं  और उनके  घर मे शिवलिंग हैं,और वे साधक  तो सौभाग्य शाली हैं जिनके  यहाँ पारद शिवलिंग हैं ,पर यह अत्यंत  हो गोपनीय तथ्य हैं की जिसका अनेको  साधको को भान  तक नही हैं की  पहले महादेवी की पूजा की जाती  हैं तत्पश्चात  शिव पूजा  अन्यथा  महादेवी और भगवान शिव उस पूजा को स्वीकार नही करते  हैं .

कहा गया हैं
महाविद्यां  पूजियत्वा  शिवपूजां  समाचरेत |
अन्यथा करणादेवी ! न् पूजाफलमाप्नुयात|| (लिंगार्चन  चन्द्रिका )

महाविद्या   काली  और तारा  को कई कई जगह एक ही कहा गया हैं   पर वह तो एक सामान्य साधक को समझाने की बात हैं पर जो  तंत्र मर्मग्य हैं वह भली भांती जानते हैं की मूल रूपा  आद्या शक्ति  के  एक ही होने के  उपरान्त भी बहुत भेद हैं  इस  दो स्वरूपों मे .

यह कोई संयोग  नही हैं की भगवती काली  कृष्ण स्वरुप मे  और तारा  नील स्वरूपा हैं , जहाँ काला  रंग ब्रम्म्हांड की समस्त ऋणात्मक  उर्जा का  प्रतीक हैं तो नीला  रंग  सम्पूर्ण आकाश  तत्व   जो सर्व व्यापी हैं, उसका प्रतीक हैं .जहाँ काला  रंग  भयावहता   दृष्टिगत करता हैं वही नीला रंग  नील वर्ण मनोरम हैं .

एक ओर भगवती कालिका  हैं जो साधक को मोक्ष प्रदायिनी हैं,वासना से मुक्त  करती हैं,वहीँ भगवती तारा  जीवन के  सर्वोच्चता प्रेममयता, स्नेह्मयता  से अपने साधक को आप्लावित करती हैं ,उनके साधक का जीवन अद्भुत स्नेह से भरा पूरा होगा, भगवती अपने साधक एक जीवन मे  निश्चल स्नेह और प्रेम का संचार करती ही हैं  अब यह  किसी भी स्वरुप मे हो .भाई बहिन , पिता पुत्री  या अन्य कोई भी स्वरुप  मे हो .पर  होगा  सर्व निश्छलता से .

सूर्य पुत्र यमराज  भगवती काली के नाम से  ही भी भय से कांपते  हैं ,वही भगवती तारा  तो सूर्य की शक्ति हैं  उनके प्रकाश से  सारा विश्व जीवित  और गतिशील होता हैं.जहाँ  भगवती काली  सम्पूर्ण रात्रि का सञ्चालन करती हैं   वही भगवती तारा सारे दिन का सञ्चालन अपने  हाथ मे लेती हैं .
भगवती काली कृपाण लिए  हुये हैं ,जो इस बातका प्रतीक हैंकि वे अज्ञान को नष्ट करती हैं  और जहाँ उसके  हस्त मे मुंड  हैं वह इस बात का  प्रतीक हैं की सारे शरीर का  सार,  मैंने मुंड  लिया हैं  अतः व्यर्थ की सब बाते  छोडो .वहीँ भगवती तारा कृपाण के साथ कैंची भी धारण किये हुये हैं, कैंची का विवेचन  तो पिछले भाग मे   हो ही चुका हैं  औत वे झूठे अंहकार को नष्ट करती हैं  न् की साधक के  आत्माभिमान   को .क्योंकि बिना  स्वभिमान  के मानव जीवन पशुवत  या केंचुए  वत हो जायेगा.

काली आद्य हैं जो की शून्य का प्रतीक हैं, जिनको परिभाषित ही नही  किया जा सकता  हैं और  यहाँ एक सूक्ष्म भेद यह हैं की यदि आद्य  को शून्य माने  तो  फिर चाहे  संहार क्रम से गिने या  सृष्टि  क्रम से  दोनों से गिनने पर भगवतो  तारा नवमी कहलाती हैं और इसी कारण नवमी तिथि से  भगवती तारा का विशेष  योग  होता हैं .क्योंकि  ९ का अंक पूर्णता का प्रतीक हैं  जीवन मे  सव कुछ पाने और उपभोग का प्रतीक हैं  सर्व  दृष्टी से  युक्त होने का  और  जीवन मे  उत्साह, ओज, उमंगता  सभी का प्रतीक हैं .

कहाँ भी गया हैं की
पञ्च शून्ये स्थिता तारा ,सर्वान्ते  कलिका स्थिता ||

अर्थात पांचवे  शून्य तक मतलब पांचो  महाभूत  तक/ पञ्च तत्व  तक  भगवती तारा  हैं वे भी सत्वगुणान्विता  हैं,और उनसे भी  जो परे सत्ता हैं  वह काली  हैं.  काली  जहाँ केवल्य दायिनी हैं,वहीँ तारा  सत्वगुणान्विता और तत्व  विद्या प्रदायिनी हैं.      

   तीन प्रकार के भाव तंत्र साधना मे  मे बताये गए हैं,पशु भाव , वीर भाव और दिव्य  भाव. इसका  अर्थ  तो बहुत व्यापक हैं  पर जो मूल  बात समझने लायक हैं, वह हैं की पशु भाव जिसमे  हर सामान्य  साधक  रहता हैं और कई कई बार तो सिद्धि पाए व्यक्ति  भी इसी भाव  वाले  हो सकते हैं,  जो की  अष्ट पाशो से बंधे  हो .

         जो नियमो मे,मान्यताओं मे, उच्च नीच मे, जाति  भेद मे,आचार विचार मे बंधा  हो, जिसमे लज्जा  और घृणा जैसे  पाश से जो जीवन आच्छादित हो, वह भले  ही चाहे किस भी देव शक्ति की उपासना   करें या  प्रदर्शन  करें या  उसमे  किसी कारणवस  सिद्धि भी पा ले  पर वह जीवन वास्तव मे  पशुवत हैं ,और पशु भाव इसी  बात का द्योतक हैं.

  जो इस अवस्था  से ऊपर उठ जाता हैं  और यह तो सिर्फ और सिर्फ सदगुरुदेव कृपा से  संभव है, अन्यथा  अपने आप को उच्च बताने  वाले कई कई हैं ,जो कहते कुछ हैं और  जिनका आंतरिक जीवन  पूरी तरह से  अष्ट पाशों  से  बंधा  होता हैं .यहाँ तक की जिन अनेको ने  तंत्र के नाम पर इस परम मार्ग को अत्याधिक  क्षति पहुंचाई  हैं या आज भी यह कार्य कर रहे हैं ...  ऐसे अनेको ..साधक वास्तव मे पशु भाव  के ही रहे हैं .

   और जो सर्वोच्च भाव हैं “दिव्य भाव “ जो की केबल और केबल सदगुरुदेव कृपा से ही संभव हैं  , जब सदगुरुदेव यह निश्चित कर ले ते हैं  यह मानस बना लेते हैं की इस  साधक को दिव्यता दे ही देनी हैं ,यहाँ ध्यान  रहे  सिद्धि देनी की बात नही  बल्कि सिद्धियों को आत्मसात कर  उससे भी उच्च स्थान की बात हैं ,वहाँ सदगुरुदेव की कृपा कटाक्ष साधक के लिए  दिव्य भाव का मार्ग प्रसस्त कर देता  हैं ,  वह स्वयम अनुभव करता हैं की यह सारा जगत  सिर्फ और सिर्फ सदगुरुदेव रूपी परम तत्व ही तो हैं और  उनसे अलग कुछ भी नही .और यह तो बहुत  ही कठिन हैं पर जब सदगुरुदेव ही ठान ले,  तब भला क्या  कठिन  होगा और इसी तथ्य का एक प्रमाण  का एक स्वरुप भगवती तारा हैं ,वे ही सदगुरुदेव की परम करूणा का एक अंश हैं .और उनका  पारद का विग्रह प्राप्त होना  इस बात का  परिचायक हैं की साधक को किस स्थान पर अब सदगुरुदेव देखना चाहते हैं या  उन्होने  अब अपना  मानस बना लिया  अब बस  थोडा सा  और श्रम भर  साधक को करना शेष  रह जाता हैं .

  क्योंकि भगवती  तारा की साधना  अगर सही अर्थो  मे  देख जाए .निष्पक्ष  भाव से  तो  केवल  और केबल दिव्य भाव का  व्यक्ति  ही कर सकता हैं  या जिसे भगवती   स्वयम चुनकर अपनी साधना के लिए मार्ग प्रसस्त कर दें.

स्नानादि  मानस : शौचौ मानस : प्रवरो जप |
पूजनम मानसं  दिव्यम मानसं  तर्पाणादिकम ||

इस  साधना के लिए  साधक या दिव्य  भाव के  साधक के लिए  सभी काल शुभ हैं, अशुभ काल नाम का कुछ नही हैं, दिवा ,  रात्रि, संध्या या महानिशा की आराधना  मे कोई अंतर नही हैं,इसमें शुद्धि अशुद्धि की कोई अपेक्षा नही हैं.स्नान  किये  हुये या बिना स्नान किये हुये का कोई अंतर नही हैं.भोजन  किये हुये  या न किये  हुये का कोई कोई अंतर नही.

 इस भाव के  साधक को और भव सागर मे  डूबना नही पडता  हैं.

  और यह सब संभव कहाँ ,वह भी  आसानी से ... धीरे धीरे  हो सकता हैं  तो वह एक मात्र ऐसे  भगवती तारा के  पारदीय विग्रह स्थापन  से  जो स्वत ही अपनी करुणामयता  से   अपने साधक को ऐसे  उच्चस्तर पर ला  देती हैं .यह और कोई देव  या देवी नही कर सकते हैं .यहं पर एक साधक  रुक कर सोचें की इससे  ,इस दिव्य भाव की अवस्था  से उच्च क्या हो सकता  हैं जहाँ  मात्र  आनंद  और  आनंद  का ही साम्राज्य   हो .

वहीँ मानव जीवन  आज जिस तरह से  भौतिक  धन के पीछे  दौड़ रहा हैं वह तो युग का एक गुण हैं पर उससे भी तो एक सामान्य क्या उच्च साधक  भी अपना  मुंह नही मोड सकता हैं  यह कहने से तो  काम नही चलता की  मुझे  धन की कोई लालसा नही हैं .बिना  भौतिक धन के  सब शून्य  सा हो जाता हैं ,और भगवती  तो प्रबल  धन यहां पर भौतिक धन  से ही मेरा  मतलब है, प्रदायिनी हैं .अनेको ऐसे  साधक हैं जिन्होंने  इस महाविद्या की थोड़ी सी या अल्प  भी साधना  की हैं  और उन्हें अचानक भौतिक लाभ  कहीं  किसी आकस्मिक  धन लाभ के  रूप मे,  तो किसी को  प्रमोशन के रूप मे,  तो किसी  को   किसी व्यापारिक सौदे  के रूप मे  हुआ ही हैं .जब सामन्य रूप से मंत्र जप या स्त्रोत की इस महाविद्या भगवती तारा  की इतनी महत्वता हैं तब अगर उनके  पारदीय स्वरूप  जो की सहत्रान्विता  देह तारा  के  रूप मे हैं उसके स्थापन के बाद की क्या स्थिति होगी अगर साधक साधना  पथ पर सतत  गतिशील  रहे  तो .

  स्वयम सदगुरुदेव जी ने  कहा हैं की इस साधना  से पूर्व उनके साथ जब  सैकड़ों शिष्य रहते  थे  तब उनको रोज  के भोजन  आदि का प्रबध कैसे  हो वह भी चिंतित  रहे  और यह स्वाभविक  ही है  गुरू  ही तो माँ होता  है.  और एक  माँ अपने   बच्चे को आहार आदि  देने मे कैसे कोई कृपणता   कर सकती हैं ?अगर करती हैं तो फिर वह माँ कहाँ....
और उन्होंने  जब यह   तारा साधना   करने  गए  तब उन्हें  जो गुरू  मिले उन्होंने कहाँ कि पहले  ६ महीने मेरी  सेवा करनी  होगी और जब मैं सेवा से संतुष्ठ  हो जाऊंगा  तब ही यह साधना प्रदान करूँगा .सदगुरुदेव जी के  निवेदन पर की आपके  संतुष्ठ होने का क्या भरोषा कहीं आप किसी भी छोटी सी बात पर नाराज़ हो गए  तो ..मेरे  तो ६  महीने की मेहनत ?
तो  उन गुरू देव ने कहा की अगर बिस्वास  नही हैं तो  वापस चले जा .मैंने  नही बुलाया हैं  तुझे .जो शिष्य संशय  करता हैं वह नष्ट  हो जाता हैं .संशयात्मा  विनश्यति

    सदगुरुदेव कहते  हैं कि उन्होंने  रुक कर सेवा की, वह  तारा साधना की  और उसके बाद से उन्हें  कभी भी  किसी भी प्रकार का  आभाव नही रहा  न उनको  न उनके साथ गतिशील  रहें  वाले  शिष्यों को, सभी उत्तम से उत्तम भोजन करते  और  साधन मय रहते .क्योंकि सदगुरुदेव का  बहुत स्पस्ट भाव रहा हैं  और उन्होने कहाँ भी कई कई  जगह हैं की जो गुरू  तुमसे ही धन की याचना  करता हैं वह भी तरह तरह से  ..वह तुम्हे  दे भी क्या सकता हैं  . जो खुद एक  याचक हो वह तुम्हे  प्रदान भी क्या करेगा .

  और जब पारदीय सहत्रान्विता  तारा के विग्रह से सामने यदि कोई साधक साधना करेगा  तब उसकी अवस्था  क्या होगी ,उसका कितने धनधान्य से परिपूर्ण होगा वह तो कल्पना के परे हैं.पर यह भी निश्चित  हैंकि इस तरह का विग्रह,  हर किसीके भाग्य मे  नही  केबल, कुछ  ही भाग्यशाली होंगे  जोई यह पा पाएंगे.प्रकृति की   अपनी ही एक लीला हैं वह कब  किसी को,इतने  आसानी से कर्म फलो से मुक्त होने  दे सकती हैं .

  अब यह तो सौभाग्य हैं इस प्रकार के अति दुर्लभ पारद सह्त्रन्विता तारा विग्रह का पाना  और अपने नाम को और अपने आप को ऐसे उच्च स्तर  के लिए तैयार  करने का  इतना दुर्लभ सरल  और सहज अवसर को समझ पाने का ...       

****NPRU****
  

No comments: