There was an error in this gadget

Tuesday, February 5, 2013

APSARA YAKSHINI SADHNAAON ME MAHATVPOORN VANASPATI -SHRINGATIKA VA YOUVANBHRINGAA


 
Friends,
Attaining success in sadhna is both very easy and very difficult at the same time. If sadhak has a completely pure heart, firm dedication towards Sadgurudev and trust on sadhna along with his own self then it is easy otherwise it is very difficult. For completion in any sadhna, various sadhna articles are required and in case of their non-availability, two things are required for attaining success. There are:-
·       Very Strong willpower capable of fighting deadliest of battles.
·       Presence of Sadgurudev in heart.
But looking at level of normal sadhak, these things are very difficult for him. Even if he tries very hard, he could not go a long way and stops after getting some experiences. Thus, articles are needed for success in sadhna.
But we have participated in Apsara and Yakshini seminar and we got necessary articles too then why these new articles are needed?
Answer to this question has been given by Sadgurudev at one place that “There can be many ways of accomplishing a same sadhna. I select one sadhna and tell some of my ascetic disciple to do it in one way and some of them to do it in other ways. After completion of sadhna, they come and tell me their experiences. So the procedure which has taken lesser time, I give it to you. Thus you are very lucky. I could not assign this task to you because when ascetic takes sadhna, he does not have anything other to do except sadhna, so he does it with dedication. Thus I put forward all the novel facts which have been obtained from research. In this field too, novel Research keeps on happening and this is the reason why magazine name has word ‘VIGYAN’ in it”
In the same manner, relating to Apsara and Yakshini sadhnas Sadgurudev Ji in decade of 1980s has told in January edition of one particular year regarding sadhna given by Viswamitra in which there was mention of
·      Dhoti, washed from juice of Youvanbhringaa
·      Shringatika Aasan
Both of these are divine herbs used in Tantra. But finding them is not that much easy. But here one question may arise in your mind that why we need all these?
Answer to above question is that Tantra sadhna is not any procedure to be carried out arbitrarily rather it is procedure to be carried out in a systematic manner. Use of all the novel facts and newly-discovered things can provide success in sadhnas. And just think the time when Sadgurudev put forward both these divine thing (Just think, it is not a new thing)
But we could not understand him and now nobody even talks about them. If these articles were not required then why would he have written it.
Divine and supreme person like him spread treasures and precious pearls of sadhna all over but we failed to attain them.
Just recently, Arif Bhai Ji revealed the secret in “ITAR YONI RAHASYA AND KARN PISHAACHINI VARG SADHNA SOOTRA SEMINAR” that in “Tantra Sadhna Shivir” Sadgurudev elaborated in detail about 108 such procedures through which success is definitely obtained in any sadhna. It is not that all these things are fictitious things, born out of our mind rather there are so many persons who have seen these procedures happen in this shivir. However, nobody is willing to come forward to put forward these facts.
This is very unfortunate scenario. All those who know these sadhna secrets are silent. When any new sadhak asks about it, answer what he gets is that just go and do sadhna. But nobody is willing to guide sadhak about minute points and difficulties sadhak may face during sadhna. All these procedures, though small are important. If these procedures would not have been necessary then why Sadgurudev would have mentioned them?
But it is also true that how can new sadhaks and those sadhaks who missed the opportunity at that time get knowledge of these procedure……Those few who have knowledge , their eligibility condition are very strict. May be they had a bad experience in the past. Some are too miser to reveal…..
But one basic thing has been forgotten that Sadgurudev bore the blows and counter-blows from all the sides, not only from his critics but also from Paadpadm-like disciples…..But he always had sympathy and affection for his thousands of future spiritual sons. He had a complete trust that there will be atleast one disciple who will again put forward these vital facts in front of his brothers and sisters in midst of all criticisms and blame-games….Someone will be there who will understand depth of my efforts and my great endeavour for materialization of Siddhashram here and also work towards it.
Friends, after a lot of thought process, our own senior ascetic brothers and sisters gave us the necessary direction to give their introduction and make them available so that sadhnas does not remain a thing to be written rather they can be imbibed in true sense. Otherwise how active and living scriptures of disciples will be formed?
Those who have read about these divine articles in divine writings of Sadgurudev they will know clearly that Maha Rishi Viswamitra himself told regarding the apsara sadhna that it is supremely divine and for these sadhnas, these articles should be considered necessary. Apsara and Yakshini sadhna should be considered supreme sadhnas of life because Sadgurudev has himself said it and mentioned the same in many of his cassettes. You can yourself read Raavan Krit Divyaagana Swarn Prabha Yakshini sadhna and listen to Swarn Deh Apsara sadhna cassette.
And any alert sadhak should attain these divine articles because those who wish to progress ahead in sadhna life, they have to ultimately resort to apsara and yakshini sadhna sometime in their life and presence of these divine items at that time ensures your success. Today we may get sadhaks who say that they have got some preliminary success but where are those who have got complete success in these sadhnas?
But sadhna articles cannot be evaluated in terms of money, though it is a fact that many of us see from this particular angle too. But those who aspire to progress ahead in sadhna path, they should use every procedure and technique they can. But at the same time, it is also true that when sadhak tastes sweet experience of success then all money and hard-work spent appears to be fruitful. Qualities of Excellence and distinction automatically comes inside sadhak and what can be more pleasurable than getting success in sadhnas and that too in Saundarya sadhna because Saundarya element in itself is Shiva, it is essence of life.
·      You can yourself imagine that how these herbs would have been collected?
·      How juice of them would have been extracted and purified?
·      And how much time it would have taken to wash dhoti with juice and prepare it?
In second Parad workshop, we all extracted milk from plant of Aak (Caiotropis Gigantia). All of us know that we, group of 30-35 persons did extraction procedure for 5-6 hours continuously. That too, it was done while walking on Dry River in winter season…..after all this, we were only able to extract only one bottle i.e. approximately 1 litre of juice.
Therefore, first of all see the hard-work put in this procedure and understand that what it is not only rare but necessary for sadhna too. Friends, this herb is not found in every season with ease and it is also not possible for it to be always available. Therefore, it is necessary to understand the significance of time and it is very important for all those who wish to surge ahead in Saundarya sadhnas since more the number of divine article one possess, more are chance of attaining success.
Then sadhak has to just follow procedure with dedication and with the grace of Sadgurudev, he comes under category of successful sadhak.
Today these things are available and only few dhoti and aasan are available after lot of hard-work by our team.
Now it is time for you to think.
You all are alert and intelligent sadhak and can understand the indication given by time….
 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मित्रो,
साधना मे सफलता प्राप्त करना बहुत ही सरल और बहुत ही कठिन दोनो हैं.यदि पूर्णरूप से निर्मलत्व ह्रदय और सदगुरुदेव के प्रति अडिग,अविचल पूर्ण श्रद्धा और साधना के  साथ  साथ अपने  ऊपर विश्वास भी  हो तो सरल हैं  अन्यथा कठिन इसलिए की किसी भी साधना को पूर्णता से करने के लिए अनेको  उपकरणों की आवश्यकता  होती ही हैं,और बिना उपकरणों के किसी भी साधना मे  सफलता प्राप्त करने  करने के लिए दो तथ्यों की अनिवार्यता होती हैं
·      अत्याधि़क प्रबल और पहाड़ों को चूर चूर कर सकने मे समर्थ इतना तेजस्वी आत्मबल और
·      सदगुरुदेव को ह्रदय मे  धारण करने की आवश्यकता  होती हैं.
पर एक सामान्य साधक जिस स्तर पर होता हैं उसके लिए यह बहुत ही कठिन होता हैं.वह बहुत अधिक कोशिश भी करें तो कुछ अनुभूति पाकर फिर रुक सा जाता हैं. इसलिए साधना मे सफलता के लिए  विभिन्न  उपकरणों की आवश्यकता होती ही हैं.
पर हमने तो अप्सरा यक्षिणी सेमीनार मे भाग लिया हैं, हमें  तो आवश्यक उपकरण  भी मिले हैं तब यह अब नया क्या और क्यों?
सदगुरुदेव जी ने इसी प्रश्न का उत्तर एक स्थान पर  दिया हैं की “किसी भी एक साधना को करने के अनेको तरीके  हो सकते हैं.और मैं किसी भी एक  साधना को चुनकर अपने सन्यासी शिष्यों मे  से कुछ को, एक ही साधना अलग अलग तरीके से, बिभिन्न प्रकार की प्रक्रिया से वही साधना करवाता हूँ और साधना पूरी करने के बाद जब वह वापिस आ कर मुझे बताते हैं तब उनमे से जिस प्रक्रिया मे कम समय लगता हैं उसे मैं आपको देता हूँ,आप इसलिए एक अर्थो मे सौभाग्यशाली हैं और मैं यह कार्य आपसे नही करवा सकता हूँ क्योंकी एक सन्यासी जब साधना लेता हैं तो उसे  कोई अन्य कार्य तो होता नही इसलिए वह मनोयोग से करता ही हैं.इसलिए इन  नवीन अनुसंधानों से जो भी नए नए तथ्य सामने आते हैं,वह आपके सामने रखता हूँ,इस क्षेत्र मे भी नित नवीन अनुसन्धान  होते ही रहते हैं और इस कारण हमें  अपनी पत्रिका के नाम मे  विज्ञानं शब्द लिखा हैं.”  
इसी तरह मित्रो,अप्सरा यक्षिणी साधनाओ के सबंध मे सदगुरुदेव जी ने  सन ८० के दशक मे  एक वर्ष के  जनवरी विशेषांक मे  विस्वामित्र प्रणित  साधना के बारे मे हम सबको बताया था और उसमे उन्होंने  जिन दो उपकरणों की बात की  रही
·       यौवन भ्रंगा के रस  से धुली हुयी  धोती
·       श्रन्गाटिका वनस्पति से भरा हुआ आसन
यह दोनों  तन्त्रोक्त दिव्य वनस्पति हैं, इन्हें  खोज पाना  इतना आसान कहाँ?पर यहाँ एक प्रश्न उठता हैं की हमें  इन सबकी  की क्या आवश्यकता?
तो उसके उत्तर मे यही कहा जा सकता हैं की  तंत्र साधना मनमाने तरीके से नही बल्कि एक व्यवस्थित तरीके  से  किये जाने का नाम हैं और  जितनी भी नयी नयी खोज  या नवीन तथ्य सामने आते हैं उनका सुविचारित  रूप से प्रयोग किये जाने पर ही सफलता  हस्तगत  होती हैं.और यह दोनों दिव्यतम वस्तुएं तो सदगुरुदेव जी ने हमारे सामने किस काल मे रखी थी (जरा  सोचें तो यह  कोई नयी  बात तो नही ).
पर हम ही इनको  समझ नही पाए  और अब तो कोई भी इनके बारे मे बात ही नही करता हैं .पर यदि यह आवश्यक न रही होती तो क्या भला वह लिखते.
उन जैसे  परम  पुरुष के द्वारा  मानो साधना  सूत्रों के  अमूल्य मोती  चारो  ओर बिखेर दिए  गए   पर हम  ही उन्हें पाने  से चूक गए .
अभी आपने  हाल मे ही सम्पन्न हुये “इतर योनीरहस्य  और कर्ण पिशाचिनी वर्ग साधना सूत्र सेमीनार” मे जब आरिफ भाई जी ने यह रहस्योद्घाटन किया की “तंत्र साधना शिविर” मे  सदगुरुदेव  जी ने  १०८  ऐसी क्रियाओं का विस्तार से  विवरण दिया  रहा जिन्हें  किसी भी साधना मे  करने पर सफलता मिलती ही हैं और यह सब बातें कोई मनगढंत तो हैं नही की  अपने  मन से  हम कुछ भी कहे जा रहे हैं, बल्कि अभी भी अनेको ऐसे  लोग हैं जिन्होंने  उस  काल मे सदगुरुदेव के  पावन सानिध्य मे हुये इस शिविर  मे  इन क्रियाओं को देखा  हैं.पर आज कोई भी उन बातों को सामने  नही रखना चाहता.
और यह बहुत  ही दुर्भाग्य पूर्वक स्थिति हैं.आज सभी जानकार मौन  हैं.कोई नया साधक जब पूंछे  तो यही उसे  सुनने  मिलता हैं की जाओ साधना करो पर कोई भी साधना की बारीकियां  और जटिलता  पर चर्चा ही नही करना चाहता अगर यह क्रियाए आवश्यक नही होती  तो  क्योंकी एक  छोटी  छोटी सी क्रिया  का  अर्थ  तो हैं अन्यथा सदगुरुदेव क्यों इन बातों को सामने रखते?
पर यह भी सत्य हैं की उस  समय जो चूक  गए  थे वह साधक  और आज के  नव साधक इन क्रियाओं का परिचय अब कहाँ से पाए ..जिन कुछ  को ज्ञान हैं उनकी पात्रता की शर्तें बहुत कठोर  हो गयी शायद कुछ उनका  अपना  व्यक्तिगत कड़वा अनुभव रहा हैं या कुछ मे कृपणता ..
पर मूल मे  एक बात भुला दी गयी की सदगुरुदेव ने तो घात प्रतिघात के प्रहार चारो ओर से  सहे, न केबल आलोचक  बल्कि पादपद्मो रूपी शिष्यों के भी......  पर उनके ह्रदय  मे  आने वाले  अपने हजारों लाखों आत्मान्शो के  प्रति करूणा  रही उन्हें पूरा विश्वास रहा की कोई तो  मेरा शिष्य ऐसा  होगा जो इन तथ्यों को अपने  भाई बहिनों के  लिए  फिर से  घात प्रतिघात सहन करते  हुये  भी सामने रखेगा  ..कोई तो होगा  जो मेरे इस  कार्य की गहनता,उच्चता  और सिद्धाश्रम  को यहाँ  पर ही साकार कर देने के मेरे महत प्रयासों का कुछ अंश ही सही  पर समझेगा  उस  ओर कोशिश करेगा .
मित्रो,बहुत सोच विचार कर हमारे अपने वरिष्ठ सन्यासी भाई बहिनों ने इनका परिचय  और इनको सुलभ करवाने  के लिए आवश्यक  निर्देश हमें  दिए.ताकि साधनाए  सिर्फ  और सिर्फ  लिखे रहने के लिए  ही नही बल्कि उन्हें सत्य अर्थो मे  आत्मसात करने  की बात  भी हो सकें .अन्यथा  जीवित जाग्रत   ग्रन्थ  रूपी शिष्यों  का निर्माण कैसे  होगा?.
आप मे से  जिन्होंने भी  इन दिव्यतम वस्तुओ  के बारे मे  जब सदगुरुदेव की अमृतमयी लेखनी मे पढ़  होगा तो उसमे  यह स्पस्ट  था की स्वयम महा  ऋषि  विश्वामित्र जी ने अप्सरा साधना  के  बारे मे बताते  हुये  यह कहा  की यह तो दिव्यतम हैं और इन साधनाओ के लिए  यह एक अनिवार्यता समझी जाना चाहिये. अप्सरा साधना और यक्षिणी साधना को जीवन की एक सर्वोच्चतम साधना समझी जाना चाहिये .क्योंकी स्वयं सदगुरुदेव  जी ने   यह कहा हैं  और अनेको केसेट्स  मे इस बात  का उन्होंने  उल्लेख  किया हैं .आप स्वयं रावणकृत दिव्यांगना  स्वर्ण प्रभा  यक्षिणी साधना पढ़ सकते  और   स्वर्ण देहा  अप्सरा साधना की केसेट्स  सुन कर समझ सकते हैं.
और इन दिव्यतम वस्तुओ को एक सजग साधक को प्राप्त कर ही लेना चाहिए क्योंकी अप्सरा  साधना  और यक्षिणी साधना मे  तो हर उस साधक  या साधिका को जाना  ही पड़ता हैं जिन्हें  अपने साधना जीवन  मे आगे जाना हैं ,और उस काल मे आपके पास  यह दिव्यतम वस्तुओ के  होने  पर आप  की सफलता और भी सुनिश्चित  सी हो जाती हैं.आज भी यह कहने  वाले  साधक  तो कई कई हैं की हमें  कुछ  प्रारम्भिक सफलता  मिली  पर   पूर्ण रूप से  सफलता इन साधनाओ मे  जिन्हें मिली  हो वह हैं कहाँ ?
पर साधनात्मक  उपकरणों  को धन राशि मे  नही तोला जा सकता हैं, यह सही हैं की अनेको की दृष्टी इस  ओर भी रहती हैं पर जिन्हें साधना  जीवन मे  आगे  जाना  हो  उन्हें हर प्रक्रिया,प्रविधि का उपयोग करना ही चाहिये.पर यह भी सत्य हैं की जब सफलता का एक मीठा सा अहसास जब होता हैं तब उस हेतु सारा व्यय  और श्रम सब कुछ सार्थक  सा  हो जाता  हैं,जीवन मे  एक उच्चता और श्रेष्ठता स्वयम ही आ जाते हैं,और एक साधक के लिए इससे बड़ी  खुशी क्या हो सकती हैं की उसे साधनाओ मे  सफलता  ही नही  बल्कि सौंदर्य  साधनाओ मे   सफलता मिली हैं क्योंकी सौन्दर्य  तत्व ही शिव हैं, यही जीवन मे  सब कुछ हैं.
·      आप स्वयम सोच सकते हैं की किस तरह  इन वनस्पतियों  को इकठ्ठा किया  गया  होगा?
·      किस तरह से  इनका रस  निकाल कर  शोधित  किया  गया  होगा?
·      और  एक पूरी धोती को इससे धोकर तैयार करने  मे  कितना  समय लगता  होगा?
पारद कार्यशाला भाग २ मे  हम सभी ने आक के पौधे का दूध निकाला था और यह  हम सभी जानते हैं की हम सभी  लोग जिसमे ३० /३५ लोगों ने, पाच छ:  घंटे लगातार रस  निकालने की प्रक्रिया की रही वह भी लगभग  ६ /७ किलोमीटर की यात्रा  उस सुखी नदी पर पैदल चलते हुये उस शीत ऋतू मे पैदल चलते हुये  की ..तब जाकर मात्र कुल मात्र एक बोतल मतलब लभभग एक लीटर दूध निकाल  पाए थे. 
अतःसबसे पहले  इस प्रक्रिया मे लगा श्रम भी देखें  और समझे  की क्यों न केबल यह दुर्लभतम हैं  बल्कि साधना के लिए एक अनिवार्य भी हैं.मित्रो हर काल मे  तो यह वनस्पति आसानी से मिलती  नही हैं  और हमेशा उपलब्ध भी  रहे यह संभव  भी नही.अतः समय की महत्वता समझे  और यह तो उन सभी के लिए  बेहद महत्वपूर्ण  हैं जो  इन सौंदर्य साधनाओ मे  आगे  जाना चाहते  हैं .क्योंकी  जितने  दिव्यतम उपकरण आपके पास  होंगे उतनी  ही सफलता आपके पास आती जायेगी.
 तब बस दी  गयी साधना प्रक्रिया का मानो योग पूर्वक पालन  ही एक शिष्य के लिए शेष रह जाता हैं और  सदगुरुदेव की कृपा दृष्टी से  वह साधना मे  सफल  हो कर सफल साधक की श्रेणी मे  आ ही जाता  हैं .
इस काल खंड मे आज यह वस्तुएं उपलब्ध करा पाना  संभव हुआ हैं और हमारी टीम के  द्वारा बहुत श्रम करने पर कुछ  ही आसन  और धोती  उपलब्ध हो पाए हैं.
 शेष अब आपको सोचना हैं.
आप इतने सजग,बुद्धिमान साधक  हैं ही  और काल खंड के इशारे  को भी  समझ सकते हैं ........  
****NPRU****           

No comments: