There was an error in this gadget

Saturday, February 9, 2013

PARAM DURLABH PAARAD SADGURUDEV VIGRAH


 
Friends,
“Sadgurudev”, listening to this word, hearts of millions of disciple are filled with amazing feeling of affection. Tears automatically come in their eyes upon remembering that divine affection. And why it would not be, his love and affection for us cannot be compared at all, this can be known only by the person who has felt that love and experienced it. He spent all his life for all of us amidst all the difficulties but never complained even for a moment. He always spread smile on the lips of his disciples and blessed all his disciples. Burning in the fire of all criticisms and blame-games, he drank all the poison of his disciples but he never had bitterness for anyone in his life rather his life stand out as an amazing example of knowledge, politeness and divinest affection which cannot be compared with any other. Even faced with so many betrayers and various Paadpadm-like disciples, his knowledge-providing and fearlessness-providing life always remained unperturbed. His life is an ideal for all of us for all the times to come and is beyond comparison.
And it is worship of lotus divine feet of Sadgurudev from which field of sadhna is originated and at the zenith of sadhna, when sadhak is transformed into disciple and reaches the supreme state, sadhak finds that entire universe is bowing down on lotus feet of Sadgurudev, he is the final stage of all the sadhnas and state beyond it can be only called Neti Neti. Therefore there is always a need of guide when one wants to move forward on the path of sadhna. Without it, it is not possible to even take a single stride on this path. Therefore, every new person who wishes to move forward on this path, it is important for him to have guide and if possible Guru and even beyond it, the Sadgurudev so that he can surrender himself to his divine lotus feet…..
But is it so much easy?
Today there is crowd of not only Gurus but Sadgurus in society and it is but natural for any new aspirant to be inspired by their captivating propagation. But with passage of time, it is felt that both time and money were wasted and nothing concrete was accomplished. But this is the fact of today. Among all these, there are present competent persons too but only fortunate person can reach them…otherwise fate of other is only to get betrayed….
But the great person whose hard-work has revived sadhna world to amazing heights again is only one who is known by us with the name of Paramhans Swami Shri Nikhileshwaranand Ji (Dr. Narayan Dutt Shrimali Ji in householder form). He has also been called sun-like personality whose rays of knowledge have illuminated this field. And it is virtually impossible to write or say about personality of Sadgurudev Ji. In today’s era there is increase in number of sadhaks who are accepting personality like Sadgurudev as Sadgurudev and their desire to get his visible company is getting intense. And why it should not be, for any disciple, there is nothing in this universe which can match divine lotus feet of Sadgurudev. Just imagine the level of joy when Sadgurudev is sitting in front of you and you are offering bath to his divine feet, following complete procedures.
There are so many persons among us who does all these procedures with dedication every day. But there are many who are always on lookout for Guru Vashikaran sadhna but in reality, Sadgurudev can be only bound by the cord of selfless love. Otherwise, binding him by sadhna is virtually impossible.
But how this affection can be raised?
There can be only two states of pouring out affection. Firstly to dive deep inside it or secondly to completely imbibe it inside us. Out of these two, first one is very easy because it is much easier to dive in anybody’s love.
But all these are literal things. All would have listened to it but how to translate them into practicality?
Now here one thing that comes into our mind is Bhakti path which was never acceptable to Sadgurudev Ji. He always said that tell to universe that we do not need bhakti, we need sadhna. Then how can he find superfluous Bhakti interesting. And this era is also not of bhakti (it may be for many but it is our thinking). Then what articles should be used so that we achieve concentration in sadhna and attain purity too because Sadgurudev can be found only by pure love or by surrendering ourselves into his lotus feet.
Now question is that how this purity can be attained?
There can be many suggestions but when we implement them, it is found that the one which is useful for a particular person……is not suitable for others. Then what should be done?
This is certain that may be it can take so many births, but I have to reach those lotus feet and offer my whole life by saying that oh lord! Howsoever I may be, but I am all yours. I know that my life is full of shortcomings and errors committed by me, but now I have taken shelter under you.
There is joy in waiting. Isn’t it…
No….
Yes….
Those who want to wait will wait. But those who have understood the hints given by Sadgurudev, they would have felt that he always has indicated through various sadhnas that if sadhna is done by making parad as base, then results can be obtained very quickly in lesser duration because parad is the only metal which has got infinite ability for attraction. And to add to it, those who do sadhna in front of Parad idol, slowly and gradually Parad starting making them pure…..sadhak starts becoming holy and pure. And when it happens, Sadhak finds that Sadgurudev was never alien from us, he was always inside our heart just that our inner eyes have opened now. Sadhak’s complete life is filled with bliss, And why not, we do not have to make any journey for finding Sadgurudev because any one stride taken will takes us away from him, since there is useless to find him outside when he lives inside us.
But the Sadgurudev who lives inside our heart, mind and soul needs one base and Parad idol is capable of providing that base. And one such idol which is free of all type of faults i.e. it is made up of parad on which at least 8 sanskars have been done. And not only this, divine procedures needs to be done on it so that our Praan gets connected to its base, Sadgurudev.
And friends, Sadgurudev is always waiting for us. Just we are making him wait; we keep on desiring for something or the other. And Sadgurudev silently fulfills our desire of money, fame, respects etc. in hope that someday their doors of heart will open for him. He is always standing to take us in his arms.
Is there any end to desires?.....No, never……so he has opened the way for construction of this idol for all of us who are living under the burden of our desire and have make this divine journey possible for all of us.
And all this has been possible through the medium of our divine senior ascetic Guru Brothers and sisters and their love and sympathy towards all of us………because they can understand problem of all of us very easily. But it is also right that when they see us not doing sadhna with complete dedication; their heart is filled with lot of sympathy for us that why they do not do sadhna with purity and reach those divine lotus feet quickly. And under their divine blessings and directions, it has been decided to make this idol available to all of us.
Only name of Sadgurudev is capable of giving supreme auspiciousness and when it is combined with Parad Dev and given the form of divine idol, and then it is analogous to establishing Sadgurudev in worship room who is pouring out affection for us. When Sadgurudev will be in front of us, then success is certain…..it will be only possible through his grace.  
Let us leave calculation of siddhis for some other days but now let us focus only on Sadgurudev……Sadhna will happen automatically , by his affection….what is needed is pure love, there will be no delay from Sadgurudev. He is always with us.
And friends, do not consider this Parad Sadgurudev Nikhil idol as any other ordinary idol because when sadgurudev’s charan Paaduka are so much important, then this idol made up of Parad of 8 sanskars is special in itself.
One of the ways is to establish these idols in sadhna room, it will definitely show effect. But if sadhna procedure is done in front of it, it will be best.
So do we still need to do sadhnas in front of this idol too…?
Why not, there are lots of sadhnas related to Sadgurudev which will come forth and those can be done in front of this idol …
But which are those sadhnas…
Sadgurudev is superior to trinity of gods and his state even superior to “Par Brahma”. Sadhna related to this form and amazing sadhna which is full of tantric impact is going to be coming soon. And nothing can be written about its effect because there significance cannot be limited by anyone.
One can also perform Abhishek on such idol. And when Sadgurudev is Shiva himself, then what is that state of life which cannot be fulfilled by his blessings.
When your sadhna room will have the idol containing Parad and Praan energy of Sadgurudev, then how long can accomplishment and success in sadhna remain far away from us…
Let us keep accomplishment in sadhna aside…..When base of our Praan is in front of us then who will do calculation of siddhis and mantra jap because it has been said too that how can we count him who gives infinitely…
Friends, now it is for you to understand. Whatever I have to say, I have said it. It is for you all to make decisions….
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मित्रो ,
“सदगुरुदेव यह शब्द  सुनते ही  लाखो लाखो शिष्य शिष्याओ के ह्रदय अद्भुत स्नेह भाव से भर जाते हैं उनकी आखों मे ही स्नेह के कुछ कण रोके जाने पर भी बाहर आ ही जाते हैं,स्वत ही उस  दिव्य स्नेह की याद आते  ही आखें स्वयम ही अश्रुपूरित हो जाती हैं, ह्रदय स्वयम ही  सदगुरुदेव  जी के  श्री  चरणों में  बिछ जाता हैं और ऐसा क्यों न होगा उनका हम सब के लिए जो स्नेह, प्रेम हैं उसकी कोई तुलना की ही नहीं जा सकती हैं वह तो जिसने महसूस किया हैं, अनुभव किया हैं, वही जान सकता हैं.और हम सभी के लिए उन्होंने जो दिन रात एक कर के कार्य किया,अपने सारे जीवन को जिन्होंने, जलते अंगारे में नंगे पैर चलते हुए भीकभी उफ़ नहीं की,बस सदैव अपने आत्मान्शो को सदैव मुस्कुराहट और आशीर्वाद ही बाटते रहे रहे,आलोचनाओ और घात प्रतिघात के मध्य पल प्रतिपल जलते हुए, उन्होंने अपने  शिष्य शिष्याओं के लिए सारा जहर हस्ते  हुए पीते रहे पर उनके जीवन में  किसी के लिए भी कोई कडवाहट नहीं रही बल्कि वह ज्ञान और विन्रमता के साथ दिव्यतम स्नेह की  एक ऐसी अद्भुत मिसाल रहे की जिस जीवन का कोई दूसरा उदाहरण हो ही ही नहीं सकता हैं.संभव ही नहीं हैं ,विस्वासघातियों और अनेको पाद पद्म रूपी शिष्यों रूपी  धधकते अंगारे में मध्य भी गुलाब के फुल के जैसा सदैव ज्ञान प्रदायिनी  और अभय प्रदायिनी उनका  स्वरुप सदैव अविचिलित  रहा,उनका  जीवन हम सभी के लिए सर्व काल के लिए आदर्श हैं. उनके जीवन उसकी तो कोई तुलना ही  नहीं हैं.    
और साधना क्षेत्र का प्रारंभ ही सदगुरुदेव जी के श्री चरण कमलों की वंदना से होता हैं और साधनाओ की पराकाष्ठा मे जब एक साधक ..शिष्य बनते हुये उस परम चरम अवस्था पहुचता हैं तब वह पाता हैं की सम्पूर्ण ब्रम्हांड ही जिनके  श्री चरणों मे नमन कर रहा हैं वही तो सारी साधनाओ की अंतिम अवस्था  हैं और जहाँ से आगे की स्थिति भी नेति नेति कही जा सकती हैं.अतः जिस किसी को भी साधना फिर वह चाहे किसी भी क्षेत्र हो,किसी भी  विज्ञानं का क्षेत्र हो एक मार्गदर्शक  की आवश्यकता  तो होती ही हैं.बिना उसके तो एक भीकदम आगे बढ़ पाना संभव नही हैं.अतः हर किसी नव व्यक्ति जो इस क्षेत्र मे आगे जाना चाहता हैं उसके लिए एक परमावश्यक बात हैं की वह एक मार्ग दर्शक और संभव हो तो एक गुरू और उसके भी आगे  एक सदगुरुदेव के श्री चरण प्राप्त कर सकें जिनके  दिव्य चरण कमलों मे अपने आप को समर्पण  करने की प्रक्रिया मे  वह सलग्न हो सकें ..
पर आज क्या यह इतनी सरल हैं?
आज बाज़ार मे गुरुओ की कौन कहें अब तो सदगुरुओ की भी मानो भीड़ सी  लगी हुयी हैं और अत्यधिक लुभावने प्रचार के मध्य किसी भी नव व्यक्ति का उस प्रचार से प्रभावित हो जाना एक स्वाभाविक सा हैं पर समय बीतने  पर पता चलता हैं की समय और धन दोनों ही नष्ट हुये और उसके  पास कुछ जयकारे के  अलावा कुछ भी नही आया.पर यह तो इस  युग की रीति हैं इन्ही के  बीच कुछ योग्यतम व्यक्तित्व भी हैं पर जिनके भाग्य हो  सिर्फ वहीँ ही उन तक पंहुच..अन्यथा शेष के भाग्य में  तो छला जाना ही ..
पर जिन महा पुरुषों के अथक प्रयासों के कारण आज साधना जगत  पुनः अपनी उचाई तक  अग्रसर होने की राह  मे बढ़  चला हैं और वह आज के काल मे एक ही व्यक्ति हैं जिन्हें हम सभी अपने प्राणाधार के  रूप मे परमहंस  स्वामी श्री निखिलेश्वारानंद जी (गृहस्थ रूप मे  डा श्री नारायण दत्त श्रीमाली जी )के नाम से जाने जाते हैं.को एक सूर्यवत  व्यक्तित्व कहा जाता हैं जिनकी तप उर्जा किरणों से यह क्षेत्र गतिशील हैं.और सदगुरुदेव जी के  व्यक्तित्व के बारे मे लिखना या कहना मानो सूर्य को दीपक दिखाने का प्रयास करना हैं. आज इस समय मे सदगुरुदेव जैसा  व्यक्तित्व को अपना सदगुरुदेव स्वीकार करने वाले साधको की संख्या मे अत्यधिक प्रगति  हो रही हैं वहीँ उनका प्रत्यक्ष सानिध्य प्राप्त करने की लालसा भी बढती जा रही हैं,और क्यों न हो एक शिष्य के लिए भला सदगुरुदेव के श्री चरण कमलों से बढ़कर भला कौन सी त्रिलोक मे  वस्तु हो सकती हैं.कल्पना  करें की सदगुरुदेव आपके सामने  बैठे  हो और आप उनके श्री श्री चरणों को  या उन्हें ही स्नान करवा  रहे  हो पूर्ण विधि विधान से तो कितना न मन उल्लसित  हो जाता  हैं .
आज भी हमारे  मध्य कुछ ऐसे  व्यक्तित्व हैं जिनकी हर दिन की पूजा रचना मे वह पूरे मनोयोग से यह सारी क्रियाए करते हैं /करती हैं.पर अनेक इस प्रयास में रहते हैं कोई गुरु वशीकरण साधना मिल जाए पर वास्तव में सदगुरुदेव  सिर्फ और सिर्फ स्नेह की डोर से वह भी निस्वार्थ हो तो उससे ही स्वयम बंध सकते हैं अन्यथा साधना से उन्हें बाँध पाना सर्वथा असंभव सा हैं.
पर यह स्नेह बढे कैसे ?
 क्योंकि जीवन में  दो ही अवस्था किसी को स्नेह करने की हो सकती हैं की या तो उसमे हम डूब जाए या अपने में उन्हें आत्मसात कर ले,इनमे  प्रथम कहीं ज्यादा आसान सा हैं क्योंकि किसी के स्नेह में  डूब जाना  कहीं जायदा सरल हैं .
पर यह तो शाब्दिक बाते हो गयी सभी ने सुनी पढ़ी होंगी पर इसको परिणित कैसे करें .?
यहाँ अब जो बात आती हैं की सिर्फ भक्ति मार्ग की तो वह तो सदगुरुदेव  जी को कभी स्वीकार थी नहीं उन्होंने तो सदैव कहा  की कह दो ब्रम्हांड  से  की हमें  भक्ति नहीं साधना चाहिए तब उन्हें कैसे कोरी भक्ति रुचिकर लगेगी और यह  युग भक्ति का हैं भी नहीं (हाँ अनेक के  लिए  हो सकता हैं पर यहाँ हमारा एक सामने सा विचार हैं ) तब किस तरह के उपकरणों का प्रयोग किया जाये की साधना में एकाग्रता भी हो जाए और निश्छलता भी आ जाए क्योंकि सदगुरुदेव  जी को निश्छल स्नेह से ही तो पाया या उनके  श्री चरणों में अपने आप को समर्पित किया  जा सकता हैं?
अब यह प्रश्न हैं की ये निश्छलता लायी कहाँ से जाए ?
सलाहे तो अनेक हैं पर जब उनको  प्रयोग में  लाया  जाए तो पता चलता हैं की जो उनके लिए  उपयोगी थी या रही ....वह  हमारे लिए नहीं  हुयी तो अब क्या किया जाए ?
यह तो निश्चित हैं की चाहे कितने भी जन्म लग जाए उन श्री चरणों  तक पहुंचना ही हैं और अपने  सारे  जीवन  को यह कहते हुए उन दिव्य श्री चरण कमलो में समर्पित कर ही देना हैं की हे प्रभु जैसा भी हूँ ,पर हूँ तो आखिर आपका  ही भले ही  यह जीवन  प्रभु  कमियों  से, गलतियों से भरा पडा हैं प्रभु पर अब आपकी  ही शरण में  हूँ.
पर माना की इंतज़ार में  भी एक मजा  हैं ..हैं न ..
नहीं  न ..
की  हैं न ..
जिन्हें  इंतज़ार करना  हैं वह तो करेंगे ही पर जिन्होंने सदगुरुदेव जी के इशारे समझे हैं उन्होंने यह भी अनुभव   किया होगा  की उन्होंने सदैव से अनेको साधनाओ के माध्यम से कई कई बार इंगित किया की  यदि पारद  को आधार बना कर यदि साधना की जाए तो निश्चित रूप  से परिणाम की प्राप्ति बहुत  ही तीव्रता से और कम से कम समय हो सकती हैं क्योंकि पारद  ही एक मात्र ऐसी दिव्यतम जीवित धातु हैं जिसमे  आकर्षण की असीम शक्ति हैं.
और यह भी  की जो भी पारद देव के  उपासक हैं यहाँ मेरा मतलब यह हैं की यदि पारद विग्रह के सामने  कोई भी साधना की जाए तो पारद उस साधक को भी धीरे धीरे अपने जैसे  ही शुद्धतम ही नहीं,  बल्कि विशुद्धतम बना देने की क्रिया प्रारंभ कर देते  हैं   तो ..निर्मलता और निश्छलता स्वयं ही साधक में आने लगती हैं   और जब यह   होता हैं तो साधक पाता हैं की सदगुरुदेव उससे कभी दूर ही  नहीं थे वे  तो सदैव से उसके पास ,,,या यह कहूँ की उसके  ह्रदय में  ही थे बस आखें खुली  और ..साधक का  सारा  जीवन मानो अमृतता से भर गया   और .क्यों न हो  सदगुरुदेव  को पाने के लिए  कही की भी  कोई यात्रा नहीं करनी हैं क्योंकि  यदि  एक कदम भी आगे  बढाया कहीं और तो  वह उनसे  दूर  ही होगा,क्योंकि जो रोम रोम में हैं उन्हें खोजने का बाहर सारा प्रयास  व्यर्थ सा हैं .
पर यह रोम रोम में वह हैं हमारे मन प्राण ह्रदय में  सदगुरुदेव हैं उसके लिए  एक आधार चाहिए  और वह आधार दे पाने  में  एक पारद विग्रह ही सक्षम हैं  और एक ऐसा  विग्रह  जो स्वयं भी समस्त दोषों से रहित हो  मतलब अष्ट संस्कार से  कम से कम युक्त पारद से निर्माणित हो ही ,और इतना  ही नहीं बल्कि उन सभी दिव्य क्रियाये  से युक्त  हो जिनके माध्यम से हमारे प्राणों का,  हमारे  प्राणाधार  में  जितनी  जल्दी एकाकार हो जाए .
और मित्रो, सदगुरुदेव तो हमेशा से तैयार खड़े  हैं बस  हमारी और से  देर हैं  हमें  कभी यह  तो कभी  वह ..चाहते रहते हैं  और सदगुरुदेव हमारी  हर इच्छा धन यश मान प्रतिष्ठा की पूरी  चुपचाप करते  जाते हैं ,बस इस आशा में  में कभी तो उनके इस प्राणाश के ह्रदय के  बंद दरवाजे उनके लिए खुलेंगे. कभी तो वह उनकी और भी देखेगा.वह तो बाहे  फैलाए सदैव से खड़े  हैं. 
पर इच्छाओ का कभी अंत हैं ?..कभी नहीं ..तो  इन इच्छाओं के  बोझ तले दवे  हम सभी के  लिए उन्होंने  इस  विग्रह की निर्माण के रास्ते  खोल कर मानो एक दिव्यतम  पथ पर अब  सभी के लिए  रास्ते  और भी  सुगम कर दिये हैं .
और यह सब संभव हुआ  हमारे दिव्यतम वरिष्ठ सन्यासी भाई बहिनों के माध्यम से जो सदगुरुदेव जी के  आत्मवत ही हैं और उन सभी की असीम करूणा हैं हम सब के प्रति...... क्योंकि वह हम सभी  की परेशानी कहीं ज्यादा  आसानी से समझ सकते हैं पर यह भी सही हैं की हम सभी को जब वह किसी भी कारण वश मनोयोग से  साधना करते नहीं देखते हैं तो उन सभी का  ह्रदय हम सभी के प्रति और भी करूणाद्र हो जाता हैं कि ये  क्यों  नहीं निश्छलता  और निस्वार्थ भाव से साधना पथ पर अग्रसर हो कर जल्दी से उन परम पावन श्री चरणों में  पहुँच  जाते और और उन सभी के  आशीर्वाद से,उनके  निर्देशों पर इस विग्रह के लिए आप सभी  को उपलब्ध करवाने का निश्चय हुआ हैं .
 सिर्फ सदगुरुदेव का नाम ही अपने आप में परम पावनता देने  में समर्थ हैं और  फिर  जब उनके  साथ पारद देव का संयुक्तीकरण हो कर उनका  ही एक दिव्यतम  विग्रह सामने आये तब ,मानो हमारे साधना कक्ष में सदगुरुदेव मंद  मंद  मुसकुराते हुए अपने  ही आत्मान्शो को हर पल अपने असीम स्नेह से  संचित कर रहे  होंगे तो भला  फिर  सफलता कहीं दूर हैं,और जब सदगुरुदेव  ही सामने होंगे तो किसे फिकर हैं सफलता  की ...वह तो उनके एक कृपा कटाक्ष से  संभव है और  यूँ हो जाएगी .
सिद्धियों का गुणा भाग किसी  और दिन के लिए  पर अभी तो सदगुरुदेव   और सदगुरुदेव   और सदगुरुदेव   और कुछ नहीं ..साधना  तो उनके  स्नेह में भींग कर  यूँ ही हो जायेंगी ..बस  एक निश्छल  स्नेह और निस्वार्थ भाव की  ही तो जरुरत हैं ,फिर सदगुरुदेव जी को आने में  बिलम्ब  कैसा  वह तो सदैव से ही साथ हैं.
और मित्रो  इस पारद सदगुरुदेव निखिल विग्रह को एक  सामान्य  सा  विग्रह समझने की गलती न करना क्योंकि जहाँ सदगुरुदेव जी की चरण पादुका का ही इतना महत्व हैं वही  एक पूर्ण रूप से अष्ट संस्कारित पारद विग्रह से  बने इस विग्रह की अपनी  ही विशेषता हैं.
एक तो यह तरीका हैं की इन विग्रहो को अपने साधना कक्ष में  स्थापित कर दिया जाये  तो भी असर मिलेगा ही पर इनके सामने यदि साधना प्रक्रिया भी संपन्न की जाए तो सोने में  सुहागा वाली बात  होगी .
तो क्या  इस  विग्रह के  सामने भी ..?
क्यों नहीं एक से एक बढ़कर सदगुरुदेव जी से सबंधित साधनाए सामने आने वाली हैं वह यदि इस विग्रह के  सामने की जाए  तो ...
पर कौन  कौन सी ..
अभी   तो इतना  ही इशारा कर रहा हूँ की सदगुरुदेव  जी को ब्रम्हा,विष्णु,महेश के  साथ ब्रम्ह ही नहीं बल्कि “पार ब्रम्ह”  जो की ब्रम्ह से भी ऊपर की स्थिति हैं.उस  स्वरुप से सबंधित साधना  और दूसरी  वह अद्वितीय  साधना   जो की तंत्रोक्त प्रभाव युक्त हैं वह सामने आने  वाली हैं .और भला इनके प्रभाव की बात ही कैसे लिखी जा सकती हैं क्योंकि उनके स्वरुप फिर वह  चाहे  कोई भी हो उसकी महत्वता  को सीमाबद्ध कोई भी नहीं कर सकता हैं .
आज के  समय में जब ऐसा  विग्रह प्राप्त हो रहा हो  जिस पर आप  आप अभिषेक  भी संपन्न कर सकते हैं.और सदगुरुदेव  तो स्वयं शिव ही हैं  तब भला  कौन सी  अवस्था  जीवन  की ऐसी  होगी   जो उनके  आशीर्वाद से  पूर्ण  न होगी .
पारद  और सदगुरुदेव जी की प्राण और तप उर्जा के साथ उनके  वरदायक प्रभाव से युक्त यह विग्रह से  जब आपका साधना  कक्ष आपूरित  होगा  तो साधन  में  सिद्धि और सफलता कहाँ  दूर  होगी  और ..
चलिए साधना सिद्धि को  भी अभी एक तरफ रख दें ..जब हमारे प्राणाधार जब  सामने  हो   तो भला  हिसाब किताब  सिद्धियों का कौन रखेगा और कौन गिनेगा मंत्र जप का  हिसाब  क्योंकि कहाँ भी  तो गया हैं  न की  “ क्या  रखें  उसके नाम का  हिसाब,  जो  जो देता  हैं हर पल बेहिसाब ..
मित्रो  अब आपको समझना  हैं .मैंने  तो अपनी बात  जो कहना  थी  वह  कह दी .अब आपका निर्णय हैं..
****NPRU****

No comments: