There was an error in this gadget

Thursday, September 23, 2010

Horoscope and Astro Combination of Success in sadhana


The whole universe is divided into 12 zodiac sign and 27 stars, and our birth horoscope also consider as a form of that KAAL PURUSH also divided between 12 parts. Each of these part known as STHAN or Bhav. and nine planet situated in theses bhav shows us their effect. The lord of the zodic sign situated in that bhav / sthan is known as Bhavesh (lord of that bhav). Planet situation in that bhava’s play such an amazing game, do not ask for that..

And where can ,we know about the games, yes brother, from the place known as Lagna (Asendent). That represents , person or earth in birth horoscope, where person can see the effect of various planets situated in that bhava. How correct birth horoscope is, can only be decided by the garbh kundli or beej kundli, other wise general kundli /horoscope is used for only time pass purpose. reason is very clear that how can we ascertain the correctness of birth time……. The very difficult work is that. When birth time in not correct then how can prediction based on that horoscope be true. prediction made by you is just a guess.

If the birth time is correct then the kundli based on that become true and the prediction offered on the various dept of life also come true.



( in that above fig. various bhav number mentioned in as text, they are not changeable one, yes it is true that the number in that bhav come after the astrological calculation can change since they come out based on birth time calculation. You can check the fifth and ninth bhav, you can also check through own kundli what is written in place of lagna means number , i.e. will be your lagan/ascendant, as 1 stands for Aries, and 2 is stands for Taurus, like wise you can take help from the list below. So you can easily know which is your lagna or ascendant.).

The only aim of this post is to analysis a horoscope in light of only the aspect of sadhana related side. So that in which sadhana one can get success by studying the situation of planets. So you can get some introduction, all the sutra appeared here ,are provided by the Sadgurudev, that will help us to know the right path (please remember that this out come is based on your self analysis, since if we pray to Sadgurudev in person for to decide which way is best for us, he will guide us without ever going to the kundali)

I have told you , in mine prev posts about the fifth and ninth bhav, today we will explore our spiritual life through untouched new sutra.

lets begun with

1.Mesha/Aries lagan- Surya(sun), lord Dattatraye, ganesh.
2.Vrashbh/Taurus lagna- kuldev (deity of your family),Saturn
3.Mithun/Gemini- kuldev, kuber
4.Kark /cancer- shiv ,ganesh
5.Sihma/leo- sun
6.Kanya/virgo- kulden
7.Tula/libra- kuldevi
8.Vrasachik/scorpion- ganesh
9.Dhanu /segittarius - sun ,ganesh
10.Makara/capricorn- kuber,hanuman,kuldev,Saturn
11.Kumbha/Aquarius--- saturn,kuldevihanuman
12.Meen/pisces- dattaatraye,shiv ganesh
In any of the planet in birth horoscope is strong like ..

If that is

Sun then person will get desired object by worshiping Shakti.

Moon then he will have interest toward Tamsic means.

If mars then shiv upasana.

Mercury then tantra sadhana.

Jupiter then sakar brahma upsana.

Venus then mantra sadhana.

Saturn then expert in mantra ,tantra and very famous.

Like that…………………………..

If Saturn has an aspect on ascendant or on moon then person will be a successful sadhak.

if moon is situated in ninth without any aspect then person will be famous sanyasi.

If the lord of the tenth bhav is in seventh bhav , person will get success in tantra sadhana.

If lord of the ninth is strong and be with Jupiter or Venus then success is sure.

If lord of the tenth situated between two positive planet then also success is sure.

If all the planet situated between Jupiter and moon then mantra sadhana will be much better.

Is all the planet situated in Kendra or in triangle then success achieved through various attempts.

If by any means connection between Jupiter, mars and mercury happens then success also sure.

If Venus and mercury is is in ninth then he will have bramha sakkshatakar.

If exalted sun is with lord of the lagan person will be great sadhak.

If lord of the lagna is aspected by Jupiter then he will be mantra marmagya.

If lord of the tenth is in tenth then he will have success in sakar sadhana.

If lord of the tenth is with Saturn then, he will have success in tamsic sadhana.

If rahu is in eighth bhav, then he can have success in miraculous tantra by his attempts.

If fifth bhav has any connection with sun then he can have success in shakti sadhana.

If ninth bhav has any connection with mars then shiva aradhan is best for him.

If Saturn is in own sign , and in ninth bhav , he will become great sanyasi in old age.

Here I would like to share some fact with a story off course true, one disciples of great swami ji maharaj of datiya, once reached to him as asked why he is not getting success, even though he is doing the chinnmasta sadhan from so many years, he advised him to go for ma balgamukhi sadhana, he did that, he was shocked to see the result in only one day of that sadhana, why he not got success in the chinnmasta sadhana, poojya swamiji replied I have transfer the account only, still the disciples puzzled, again asked for his doubt. He replied smilingly that mother is one, though he is doing ma chhinmasta sadhana because in his home that sadhana is already practicing from so many years. But from the so many previous lives he was having sanskar of ma balgamukhi sadhana. He transfer the ma chhinmasta mantra jap to ma balgamukhi mantra, and that works. Now dear friends , you can understand the why Sadgurudev presence is needed most in sadhana field.

Not only this but one of the author of this blog, had been instructed by sadgurudevji for ma chhinmasta sadhana, but he forgot the letters and word of sadgurudevji, and doing ma tara sadhana, but one day he found that letter, to correct his mistake he again asked Sadgurudev ji regarding this, his replied was he was doing ma tara sadhana go ahead ,no probs ,no need to change that. But he , himself not satisfied, why Sadgurudev ji , not allowed him to go for prev told ma chhinnmasta sadhana. But after some years he was able to know that all the ten mahavidya are actually fully consider in three mahavidya only and ma chinnmasta is consider is in ma tara . so even though, he did mistake but no probs.

so analysis your own horoscope and see what it ,suggest / told to you .


*************************************************************************
जन्मकुंडली और साधना में सफलता के योग
संपूर्ण ब्रह्माण्ड १२ राशियों और २७ नक्षत्रों में विभाजित है , और हमारी जन्म कुंडली को भी उसी काल पुरुष का ही रूप मान कर १२ भागो में विभक्त किया गया है और इन्ही भागो में जिन्हें स्थान या भाव भी कहा जाता है, में ये नौ ग्रह स्थित हो कर अपना प्रभाव दिखाते हैं. प्रत्येक भाव में जो भी राशि होती है उस राशि का स्वामी भावेश कहलाता है . इन भावों में ग्रहों की स्थिति ही तो जीवन के ऐसे ऐसे खेल दिखाती है की बस पूछो मत ....................
और इन खेलों का पता हमें चलता कहाँ से हैं ..... हाँ भाई उसी लग्न स्थान से जो की जातक या पृथ्वी का प्रतीक है जन्म कुंडली में , और जहाँ से खड़ा होकर जातक देख सकता है भिन्न भिन्न स्थानों पर अवस्थित ग्रहों का प्रभाव . याद रखिये जन्मकुंडली की सत्यता और शुद्धता का निर्धारण गर्भ कुंडली या बीज कुंडली के द्वारा होता हैं अन्यथा सामान्य कुंडलियाँ तो मात्र दिल को बहलाने के ही काम आती हैं जिनके द्वारा ज्योतिष के अधिकांश सिद्धांत अनुमान मात्र ही रह जाते हैं ..... कारण साफ़ है क्योंकि जन्म समय की सत्यता कैसे की जाये , कैसे सही जन्म समय का निर्धारण किया जाये ....... ये अत्यंत ही दुष्कर कार्य है. अब जब जन्म समय ही शुद्ध नहीं होगा तो उस समय पर आधारित जन्मकुंडली से भला सही फल कथन कैसे किया जा सकता है . तब तो आपके द्वारा किया गया फलित मात्र अनुमान ही तो रह जायेगा ना.
यदि सही जन्म कुंडली हो तो फल कथन भी सत्य होगा और सत्य होगा जीवन के प्रत्येक पक्षों का दिग्दर्शन भी .
( चित्र में जनम कुंडली में जो भाव क्रमाक दिए गए हैं ,ये बदलते नहीं हैं ये स्थाई हैं , हाँ ये जरूर हैं की ,ज्योतिष की गणित के हिसाब से इन भाव में आने वाले अंक बदल जाते हैं. (जनम के समय के अनुसार ).अब आप पचम और नवम भाव देख सकते हैं,आप अपनी कुडली में lagna भाव स्थान पर क्या अंक लिखा हैं उन्हें देख ले, आप अपनी लग्न जान गए हैं.प्रिय मित्र यदि १ लिखा हैं तो मेष हैं, २ लिखा हैं तो वृषभ ,कृपया लिस्ट के अनुसार देख ले.)

इस लेख का आशय मात्र जातक की कुंडली के साधना पक्षों का अध्यन करना ही है , जिससे ये जाना जा सकता है की किस ग्रह स्थिति से कैसी साधना और किस पद्धति में सफलता मिलती है , इसकी जानकारी मात्र हो जाये. ये सूत्र सद्गुरुदेव द्वारा प्रदान किये गए हैं . जो की साधक को अपनी कुंडली देख कर सही पद्धति का निर्धारण करना सिखाते हैं( याद रखिये ये निर्धारण स्वयं के द्वारा का है क्यूंकि यदि हम गुरु के चरणों में उपस्थित होकर प्रार्थना करते हैं तो वो बिना किसी कुंडली के भी आपको उस पद्धति से परिचित करा देते हैं).
पिछले किसी लेख में मैंने आपको पंचम और नवम भाव से इष्ट का निर्धारण बताया था , आज हम कई अनछुए और नवीन सूत्रों के द्वारा अपने आध्यात्मिक जीवन का अध्यन करेंगे. तो शुरुआत करते हैं जन्म लग्न द्वारा इष्ट के निर्धारण से ......
1. मेष लग्न – सूर्य,दत्तात्रेय , गणेश
2. वृषभ- कुलदेव ,शनि
3. मिथुन-कुलदेव , कुबेर
4. कर्क- शिव, गणेश
5. सिंह- सूर्य
6. कन्या- कुलदेव
7. तुला- कुलदेवी
8. वृश्चिक- गणेश
9. धनु- सूर्य ,गणेश
10. मकर - कुबेर,हनुमंत,कुलदेव,शनि
11. कुम्भ- शनि, कुलदेवी,हनुमान
12. मीन- दत्तात्रेय,शिव,गणेश
यदि जन्मकुंडली में बलि ग्रह हो........
सूर्य तो व्यक्ति शक्ति उपासना कर अभीष्ट पाता है,
चंद्र हो तो तामसी साधनों में रूचि रखता है,
मंगल हो शिव उपासना
बुध हो तो तंत्र साधना में
गुरु हो तो साकार ब्रह्मोपासना में
शुक्र हो तो मंत्र साधना में
शनि हो तो मन्त्र तंत्र में निष्णात व विख्यात
इसी प्रकार..............
प्रथम भाव या चंद्रमा पर शनि की दृष्टि हो तो जातक सफल साधक होता है.
चंद्रमा नवम भाव में किसी भी ग्रह की दृष्टि से रहित हो तो व्यक्ति श्रेष्ट सन्यासी होता है.
दशम भाव का स्वामी सातवे घर में हो तो तांत्रिक साधना में सफलता मिलती है
नवमेश यदि बलवान होकर गुरु या शुक्र के साथ हो तो सफलता मिलती ही है.
दशमेश दो शुभ ग्रहों के मध्य हो तब भी सफलता प्राप्त होती है .
यदि सभी ग्रह चंद्रमा और ब्रहस्पति के मध्य हो तो तंत्र के बजाय मंत्र साधना ज्यादा अनुकूल रहती है .
केन्द्र या त्रिकोण में सभी ग्रह हो तो प्रयत्न करने पर सफलता मिलती ही है.
गुरु, मंगल और बुध का सम्बन्ध बनता हो तो सफलता मिलती है .
शुक्र व बुध नवम भाव में हो तो ब्रह्म साक्षात्कार होता है.
सूर्य उच्च का होकर लग्न के स्वामी के साथ हो तो व्यक्ति श्रेष्ट साधक होता है .
लग्न के स्वामी पर गुरु की दृष्टि हो तो मन्त्र मर्मज्ञ होता है.
दशम भाव का स्वामी दशम में ही हो तो साकार साधनों में सफलता मिलती है.
दशमेश शनि के साथ हो तो तामसी साधनों में सफलता मिलती है.
राहु अष्टम का हो तो व्यक्ति अद्भुत व गोपनीय तंत्र में प्रयत्नपूर्वक सफलता पा सकता है.
पंचम भाव से सूर्य का सम्बन्ध बन रहा हो तो शक्ति साधना में सफलता मिलती है.
नवम भाव में मंगल का सम्बन्ध तो शिवाराधक होकर सफलता पाता है.
नवम में शनि स्वराशि स्थित हो तो वृद्धावस्था में व्यक्ति प्रसिद्द सन्यासी बनता है.

पर में यहाँ एक बात आपके सामने रखना चाहूँगा ,एक कहानी के माध्यम से, सत्य घटना हैं,दतिया के आदरणीय पूज्य स्वामीजी महाराज का एक शिष्य उनके पास आया और कहा की वह कई साल से छिन्नमस्ता साधना कर रहा हैं पर सफलता उसे नहीं मिल रही हैं, उसे जबाब मिला माँ बगलामुखी की साधना करो, साधक को एक ही रात में जो अनुभव हुए उससे वह तो हिल गया ,अगले दिन स्वामी जी से कारण पूछने पर की क्यों सालो साल छिन्नमस्ता माँ की साधना से फल नहीं मिला, यहाँ एक दिन में ही माँ बल्गामुखी से मिल गया, स्वामी जी ने कहा, बेटा तेरा अकाउंट tranfer कर दिया हैं और कुछ नहीं, साधक के फिर से पूछने पर उन्होंने कहा की माँ तो एक ही हैं, वास्तव में बेटा तू अपने कुल (घर ) में चल रही छिन्नमस्ता साधना को करता आया हैं, परन्तु पिछेले कई जन्मो के उसके संस्कार माँ बगलामुखी के थे. इसी कारन उन्होंने उसके द्वारा किये गए जप को बल्गामुखी माँ के जप में बदल दिया. अब आप लोग समझे ,की सदगुरुदेव की क्या आवश्यकता होती हैं और क्यों .

यहाँ तक की इस ब्लॉग के एक लेखक को पूज्य सदगुरुदेव जी ने माँ छिन्नमस्ता की साधन बताए थी, परन्तु उनसे वोह पत्र में लिखी बात भूल गए ,और वह माँ तारा की साधना करते रहे, कई वर्ष के बाद उन्हें वह पत्र मिला, अपनी गलती समझ कर उन्होंने सदगुरुदेव से बात की, परन्तु जबाब आया की माँ तारा की साधन ही करते रहो,बदलने की जरूरत नहीं हैं. वोह ये बात समझ नहीं पाए की पहले तो सदगुरुदेव ने कुछ और बोला था, अब क्योँ नहीं बदल सकते हैं, कई वर्षों के बाद उन्हें ये ज्ञात हुए की दस महाविद्या वास्तव में मूल रूप से तीन महाविद्या हैं और माँ छिन्नमस्ता ,का माँ तारा में ही समहिती करण माना जाता हैं.



तो अवलोकन कीजिये अपनी कुंडली का और देखिये क्या कहती है आपकी कुंडली
.

****ARIF & ANURAG****

3 comments:

Nits said...

As per "Mantra Rahaysa" book of Gurudev, If Brihaspati (Jupiter) and Budha (Mercury)are situated in Ninth house, then person is able to get Braham Sakshatkaar.

Nikhil said...

bhai bahut si sthitiyan hain jinke bare me aapko aage bhi bataya jayega.

suvarnashilpi said...

Its very amazing and very useful information..jitne bhi naye aur prathmik jyotish vishay ke vidyarthi hai unke liye yeh bahut upyogi sabit hogi...