There was an error in this gadget

Sunday, September 19, 2010

Tantra Darshan-4 (Vaam Marg & Ras Siddhi)




( Hidden secreat of Divya Kakini sadhana as explained to me )
When I had witnessed the miracle of this amazing kakini sadhana process at shree peeth of ma kamakhya maha peetam, I was totally amazed. when kalidatt sharama ji completed all the necessary process required for the final completion of the sadhana. I asked him, why Sadgurudev ji did not disclose the secreats of this sadhana, and till date that had not been mention any of his writings/book. and also he did not explain in length about the vaam mag.
Its not that Sadgurudev had not spoke about it, but its true that he did not want to create a new propaganda/criticality . true, is that there is a lacking of sadhak who can understand well this path. but to have half backed knowledge of this path ,sadhak often get disillusioned then he neither understand the postulates of shakat philosophy ,nor he understand the confidentiality of hidden secreat points of this path . That’s the only reason behind it , why he kept this process/path secreat.
But he already provide introduction of this, in his book named”TANTRA SADHANA”. And there ,he also explain in length about panchamakar ( the five main work/act/duties of this vaam marg.) and he also cleared many of the baseless theory/thought about this path. Sharmaji told that that is a separate subject and this time is not favorable one, but its true that sadhak smaj (society)still does not understand his contribution. Do I want to know any thing more… he questioned me.
Yes, why not , there is storm of many question are rising inside me ,I answered.
Which type of strom..
I had herd that in this veer path of tantra(kindly check earlier post regarding this) every material had to be purified first. Like meat, wine, mudra (gesture) , why this is necessary?
Yes ,you had herd correctly.
Lord Shiva tells to parvati that ..
“मन्त्रेण शोधितं द्रव्यम भक्षणादमृतं भवेत,यदेव कालकूटन्तु समुद्रमथने प्रिये!
तदा चानेन मनुना तत्क्षणात खादितं मया..”
Sadhak of this veer marg , himself removes through purification all the poison’s of this makara’s . but the mantra required for this ,are not for general masses of sadhak, matra for wine purification is different and for meat purification is different. And each material is used only , when it get purified by the specific mantra and process.



The holy cloth of Ma kamakhya is gets highly importance between tantrika’s why is it so.?. Listen, in AMBUBACHI YOG ( special five day ceremony held once in every year at ma khamkhya maha peetem), the holy red coloured water of menses period of mother’s divine peetam . at that time the cloth covered on that , is charged with infinite energy. Mother divine is situated here, in as poorana kumari form ( unmarried state). And that cloth after having infinite power able to fulfilled sadhaks every true wish.

If any single thread of that cloth attached to the sumeru of rosary then jap performed from that rosary ,gets miraculous success . and even a single thread is put inside tabiz ,that too removes all the dosha of tantric karam (evil process of tantra ) and physical illness too. But first over that, the jap of Makamakhya beej mantra is of must. For to get it charged and energized it.

Not only this but all the unmarried girls, And married woman too represent that Aadi shakti. And their pushpa cloth / raj cloth( menses period cloth) are also with having the tantraik quality and if associated with specified correct mantra then every wish can be fulfilled. This, sharamji told me.

Whether all the pushpa cloth can work or this also have some classes / differences. I put mine query. It’s not like that, but always remember that, this is very secretive things and without guru agya and direction should not be done. And other things is that , its not easy for common masses ,in literate/cultured society, this not get accepted and consider correct too. For that consideration ,that ,is inferior/low category of karma. Since in this mensus period ,they(women) often treated as untouchable. Whereas, there must be very secretive reason why they(woman) are not to be asked for any work, in that time.

In Ancient time the tantra was the way of life, but in present time so many mis conception spread all along, that if, any one tries to remove the stigma, whole society will destroy him. Leave that………
we were taking to other subject, I am just providing some wisdom what you had asked me, which I had got it from guru pramapra (order). You had asked me the pushpa cloth can be used for any work , no… his answer was that too has a proper way. Each group with diierent classification , having their own power. like, that unmarried girls too have classified(named based on her age) according to their age. The effect of praying and poojan of that cloth , is also different one. so like, that girls different age so unmarried ,married, widow’s pushpa cloth known with different ,different name among the sadhak’s of Vaam marg.
Like……
• Before Marriage when girl attains the age of puberty, the first period ‘s (menses cycle period )blood known as Swyambhupushpa.
• Female/girl of any cast, who is married ,her period’s blood known as kundapushpa.
• If husband not alive then period’s blood is known as Golpushpa.
• The period ‘s blood after marriage is known as Swapushpa which is best for sarva jan sammohan.(ability to hypnotize all)
• The first Mc period’s blood after having, first physical intercourse with her husband that is known as Vajrapushpa.
• And after that marriage, regular m c period ‘s blood known as Sarvakaalodbhavpushpa.
( discussion of theses pushapa’s and the cloths associated with them, are not consider good among common people, this can helps / leads to increase of characterless and pakhand (false doing) . so the discussion of that , is not good here in open public forum.)
Just for the sake of information , I am describing a vaam marg’s ras process . in the vaam marg ‘s parad sanskar process, apart from costly stones ,metal and Raj are also part of the process. Many such a description are available in Rasopnishad and other Ras granths.
At first begin with jap of shadakshar mantra (mantra comprises of total 6 letter only.) for a total 1000 number daily for a period of 12 days. And havan process (process of yagya) required of 10 th part of total jap. then take khral made of stone and starts ,shodhan process with qualitative parad with juice of Aamla (Phyllanthus emblica) ,then place parad on the cloths of swayambhupushpa , in bright light of sun and again start jap of Navakshar mantra (mantra comprises of total 9 letter only) for a total of 60000 times. After completing that, tied parad with that cloths very tightly, and place/put in VAJRA MUSHA (special crucible ). And applying the Vajra mudra paste on that while chanting the mantra of . The first time , process of applying paste should be done on asthmi (eighth night of moon), then second times process of applying of this paste should be done on ninth night of moon.
Then place the said patra (pot in which the parad is kept inside) in between the fire of kandan (cake made from cow dung) side by side do jap mantra for a period of 6 hours. Then take out the parad very carefully from that pot and kharal with Ghratkumari’s juice (juice of aleovera). Then again kharal it with equal quantity of juice of Dhattura. Then again provide heat it, but before that it should be kept inside in Sharab samput ( two same pot, made out of clay ,place such that ,one over other ,so that complete seal condition is possible, which having no gap for the material inside to come out. ) then the material, inside the pot get converted into an Ash(powder).
But keep remember that if, proper mantra jap and poojan (special prayer) not done as directed correctly then this Ash like power cannot useful for vedhan kriya. Whenever vedhen kriya is required, first heated this ash power for one praher ( roughly 4 hours). And do jap of Prasad mantra for 1100 times along with proper poojan of parad shivling. first liquefy copper and add 1 ratti (A ratti is a traditional Indian unit of mass measurement, and has now been standardized as 0.12125 gram)of that powder, definitely vedhan process done successfully and pure gold obtained from that. later practically, he ( kalidatt sharmaji ) demonstrated the same procedure in from of me.
If 1 ratti of that powder is eaten daily by sadhak, then he can get rid of all the illness and live longer with having all richness like king kuber . (god of wealth.).he become accomplished singer and being a mahayogi with having the ability to go via air/ fly in all the direction . he became the part of Siddha mandali ( a group of highly advanced yogis). If I get , agya from sadgurudevji, then surely I will provide introduction to many of the vaam mag’s kriyan , since..
“Tvadiyam vastu nikhilam tubhymev samarpayet”
(all this divine knowledge is yours and I offered it in your holy lotus feet of Sadgurudev)
Here, firstly , I would like to clear some point, that this kakini sadhana’s details, is already posted in this group but with not in length , and various vaam marg related doubt and pre introduction of vaam marg are already discussed , kindly go through the specified posts in this regard. Secondly, once again ,I mentioned here that my aim is only to, again throw some light on this great path divine, forbidden for ages. so a healthy discussion and outlook can again started, and our sadgurudevji ‘s many contribution comes in the light, in front of sadhaks and nothing else. Though I will post many more article on this path divine, if you have any query then all are wecome here, I will answer them in best of mine capacity, in coming post as and when I find time… til then jai gurudev….


---------------------------------------------------------------------------------------------
माँ कामाख्या के उस अद्भुत श्री पीठ में जब मैंने काकिनी साधना का चमत्कार देखा तो हतप्रभ ही तो रह गया था . समस्त क्रियाओं का विसर्जन करने के बाद जब कालिदत्त शर्मा जी बैठे तो मैंने उनसे पूछा की “किस कारण सदगुरुदेव ने इन क्रियाओं का विवेचन इतना गुप्त रखा है , जो की अभी तक उनकी किसी भी कृति में उद्घाटित नहीं हुआ???? और न ही वाम मार्ग के ऊपर उन्होंने कभी भी विस्तार से कही लिखा.”
ऐसा नहीं है की सदगुरुदेव ने कभी इस विषय पर कहा ही नहीं , हाँ ये सत्य है की वे किसी भी नूतन विवाद को जन्म कदापि नहीं देना चाहेंगे. वास्तविकता यही है की वाम मार्ग को समझने वाले साधको का आभाव ही है, अधकचरा ज्ञान पा कर इस क्षेत्र में चलने से साधक मतिभ्रम का शिकार ही हो जाता है. तब वो न ही शाक्त अवधारणा को समझ पाता है और न ही उसकी गोपनीय संकेतों के रहस्य को ही. यही कारण है की सदगुरुदेव ने इस विधा को गुप्त ही रख दिया . पर उन्होंने ‘तंत्र साधना’ नामक ग्रन्थ में इसका परिचय अवश्य ही दिया है, साथ ही पंचमकारों को भी भली प्रकार से समझाया है. इस विषय को लेकर जो भ्रांतियां समाज में फैली हुयी है ,उन का भी खंडन किया है. शर्मा जी ने कहा.
खैर वो तो एक प्रथक विषय है, और ये समय अनुकूल भी नहीं है पर ये सत्य है की साधक समाज सदगुरुदेव के योगदान को भी नहीं समझ पा रहा है. तुम कुछ और जानना चाहते हो?????
जी बिलकुल, मेरे अंदर तो प्रश्नों का तूफान उठ रहा है- मैंने कहा.
कैसा तूफान!!!!!!
मैंने सुना है की तंत्र के वीर मार्ग में सभी सामग्रियों का शोधन किया जाता है . यथा मदिरा(सुरा), मांस , मुद्रा इत्यादि का ,ये क्यूँ आवश्यक है ????????
हाँ तुमने सही सुना है , स्वयं भगवान शिव ने पार्वती जी कहा है की-

“मन्त्रेण शोधितं द्रव्यम भक्षणादमृतं भवेत,यदेव कालकूटन्तु समुद्रमथने प्रिये!
तदा चानेन मनुना तत्क्षणात खादितं मया..”

एक वीरमार्गीय साधक शोधन कर समस्त विषाक्तता को समाप्त कर मकारो को शुद्ध कर लेता है, पर इनमे जिन मन्त्रों का प्रयोग होता है वे सामान्य गम्य नहीं हैं.सुरा शोधन के अलग मंत्र हैं मांस शोधन के अलग , और प्रत्येक सामग्री मन्त्रों के द्वारा शोधन करने के पश्चात ही प्रयोग होती है.
माँ कामाख्या के वस्त्र की महत्ता तांत्रिकों के मध्य बहुत है , भला ऐसा क्यूँ??????
देखो अम्बुबाची योग में तीन दिनों के लिए जो रक्त जल स्त्राव माँ के पीठ से होता है, उस समय जो वस्त्र उन पर आच्छादित किया जाता है वो वस्त्र अत्याधिक् शक्ति युक्त हो जाता है. माँ पूर्ण कुमारी स्वरुप में यहाँ स्थापित हैं. और ये वस्त्र अतुलनीय शक्ति से युक्त होकर साधक के मनोकामना को पूर्ण करने में समर्थ होता है. यदि सुमेरु में इसका एक धागा भी बाँध दिया जाये तो उस माला से किये गए तांत्रिक मन्त्रों के जप अद्भुत सफलता देते ही हैं. यदि एक धागा भी ताबीज में भर कर पहना दिया जाये जो तत्न्त्रिक कर्मों ओर तंत्र दोष का शारीरिक रोगों का परिहार होता ही है .पर इनके साथ कामाख्या बीजमन्त्र का प्रयोग अनिवार्य होता है अभिमंत्रित करने में शक्ति युक्त करने में.


यही नहीं सम्पूर्ण कुमारियाँ और स्त्रियाँ भी तो उन्ही आदि शक्ति का प्रतिनिधित्व करती हैं और उनके पुष्प वस्त्र (रज वस्त्र) भी अनेक तांत्रिक गुणों से युक्त होते हैं और यदि उचित मन्त्रों का उनके साथ संयोजन किया जाये तो अभीष्ट सिद्धि होती ही है. -शर्मा जी ने कहा.
क्या सभी प्रकार के पुष्प वस्त्र सभी कार्य कर सकते हैं या इनमे भी प्रकार होते हैं- मैंने अपनी जिज्ञासा सामने रखी.
ऐसा नहीं है पहली बात तो ये हमेशा ध्यान रखो की ये अत्यधिक गुप्त विधा है और बगैर गुरु मार्ग दर्शन के इनका प्रयोग नहीं करना चाहिए. दूसरा सामान्य वर्ग के व्यक्तियों के लिए ये सहज भी नहीं है और संभ्रांत जगत में इस क्रिया को उचित नहीं कहा जा सकता है .उन लोगो की दृष्टी में ये हे कर्म है क्यूंकि स्त्रियों में रज स्त्राव काल के दौरान सामान्य परिवारजन उन स्त्रियों को ही अछूत समझने लगते है जबकि उस दौरान उन स्त्रियों या कन्याओं से कार्य ना करवाने के कारण अत्यंत गुप्त रखे गए हैं.पुरातन काल में तंत्र जीवन जीने की परंपरा थी हमारे सामान्य जीवन में भी.पर आज उसको लेकर इतनी भ्रांतियां फैली है की यदि उनका निवारण करने की भी कोई कोशिश करेगा तो ये समाज उस पर ही चढ पड़ेगा.
छोडो हम किसी और विषय पर बात कर रहे थे और मैं तुम्हारी जिज्ञासा का शमन कर रहा हूँ. जो की मुझे गुरु परंपरा से प्राप्त हुयी है.तुमने पूछा है की क्या प्रत्येक पुष्प वस्त्र सभी प्रकार के कार्य कर सकता है तो इसका उत्तर है नहीं इनमे भी वर्ग होता,इनका भी क्रम होता है अपनी शक्तियां होती हैं. जिस प्रकार कुमारी होती है उन कन्याओं में आयु अनुरूप अलग अलग शक्तियों का वास होता है.तथा उनका पूजन फल भी भिन्न भिन्न होता है.वैसे ही अलग अलग आयु वर्ग की बालाओं में स्थान अनुरूप अर्थात कुमारी ,विवाहिता, विधवा कन्याओं का पुष्प वस्त्र या पुष्प अलग अलग नाम से वाम मार्गियों के मध्य जाना जाता है और उनकी शक्तियां भी भिन्न भिन्न होती हैं.यथा :-
विवाह पूर्व कन्या जब पहली बार ऋतुमती होती है तो उस रक्त को स्वयम्भुपुष्प कहा जाता है .
किसी भी जाति की कन्या जो की विवाहिता हो उसका मासिक धर्म कुंडपुष्प कहलाता है .
यदि पति जीवित नहीं हो तो मासिक धर्म गोलपुष्प कहलाता है.
विवाहोपरांत कन्या का प्रथम मासिकधर्म स्वपुष्प कहलाता है जो की सर्वजन सम्मोहन के लिए सर्वश्रेष्ट होता है.
स्वपति से प्रथम सम्भोग के पश्चात का जो प्रथम मासिक होता है वो वज्रपुष्प कहलाता है.
और आगे के जीवन में विवाह के बाद कन्या का नियमित रूप से होने वाले मासिक को सर्वकालोद्भव-पुष्प कहते हैं.( इन पुष्प और उनके वस्त्रों की शक्तियां सामान्य जन के मध्य चर्चा योग्य नहीं हैं.क्यूंकि इससे व्यभिचार और पाखंड फ़ैल सकता है इसलिए उस विषय पर वार्ता यहाँ उचित भी नहीं है.)

यहाँ पर मात्र जानकारी देने के लिए ही ऐसी ही एक वाम मार्गीय रस क्रिया का वर्णन किया जा रहा है. वाम मार्ग में पारद का संस्कार करते समय रत्नों और धातुओं के साथ वीर्य और रज के साथ भी उसकी क्रिया कराई जाती है. जिनका विवरण रसोपनिसद और कई रसग्रथों में हैं.

सबसे पहले षडक्षर मंत्र को १२ दिन तक १००० की संख्या में गुरु आज्ञा से जप करना चाहिए तथा जप का दशांश हवन करना चाहिए. तत्पश्चात पत्थर के खरल में श्रेष्ट पारद को रख कर आंवले के रस से शोधन करें और बाद में उस पारद को स्वयम्भू पुष्प वाले वस्त्र पर रख कर खुले आसमान के नीचे सूर्य प्रकाश के मध्य नवाक्षर मंत्र का ६०००० जप करें. फिर उस वस्त्र में पारद को अच्छी तरह बाँध कर वज्रमुषा में रख दें. और वज्र मुद्रा का भली भांति मन्त्र जप करते हुए लेप करें. लेप करने की पहली क्रिया अष्टमी की रात को करें और दूसरी बार लेप नवमी की रात्रि को करें. और पात्र को कंडॉ की आग में रख दें और मंत्र का जप ६ घंटे तक करते रहें. पश्चात पारद को सावधानीपूर्वक निकाल कर घृतकुमारी के रस के साथ खरल करें,फिर सामान मात्र में धतूरे के रस के साथ खरल karenकरेंकरे और पुनः मंत्र जप करते हुए काली तुलसी के रस और घृतकुमारी रस को भी मिला लेना चाहिए. और पुनः सराव सम्पुट कर दो प्रहर की आंच दें जिससे ये भस्म रूप में परिवर्तित हो जाता है. याद रखिये यदि सही तरीके से पूजन और मंत्र जप नहीं होता है तो ये भस्म वेध कर ही नहीं सकती. जब वेधन करना हो तो, इस भस्म को आंच में रख एक प्रहर तक रख गर्म कर लेना चाहिए. और प्रासाद बीज मंत्र का जप ११०० बार करना चाहिए. और शिवलिंग का पूजन करना चाहिए. शुद्ध ताम्र को पिघला कर १ रत्ती पारद भस्म मिलाना चाहिए जिससे निश्चित रूप से वेधन होकर विशुद्ध स्वर्ण का निर्माण होता ही है. ( ये क्रिया बाद में उन्होंने मुझे करके भी प्रत्यक्षतः दिखाई भी)
यदि १ रत्ती की मात्रा में नित्य सेवन किया जाये तो सभी रोगों से छुटकारा मिल जाता है.दीर्घजीवी होकर साधक कुबेरवत हो जाता है. सिद्ध गायक होकर महायोगी और सभी दिशाओं में गमन करने की शक्ति से युक्त होता ही है. तथा सिद्ध मण्डली का सदस्य बन जाता है.
आगे भी जैसी गुरु आज्ञा रही तो अन्य कई वाम मार्गीय क्रियाओं से परिचित करवाने का मैं प्रयास करूँगा.क्यूंकि :-
‘त्वदीयं वस्तु निखिलं तुभ्यमेव समर्पयेत’

****ARIF****

1 comment:

suvarnashilpi said...

Ambubachi Parv sabhi tantra sadhko ke liye mahatvapurna parv hai..har koi chahta hai ki us samay Maa Kamakhya ki nagri me upasthit rehkar us raj vastra ko prapt kar sake lekin is lekh me jo varnan prastut kiya hai wo apratim hai.. jis tarah adishakti ke vibbhhinna rup aur unke raj vastra ka vivran vyakt kiya hai waha aj samanya taur par prapt karna bahut kathin hai...Isliye mai itna hi kehna chahungi ki pathakgan is anmol gyan ko ekatrit kar lekhak ki mehnat sarthak ho...Jai Gurudev