There was an error in this gadget

Friday, September 24, 2010

Sadgurudev Prasang Part -4 At the Divine Lotus feet of our param poojniya Mataji Bhagvati Devi Shrimali


Dear friends, Aap log kaise ho ,so once again I am asking some of your valuable time, plz plz itna sa to kar do.

But before that I would like to thanks, to whom? what more I can say, I have got a forwarded e mail of pyush bhai by Arif Bhai, he told me that ,read that fans mail.i jumped on that mail(first mail come), after reading that mail, neither I can laugh nor cry.. want to know..ok

piyush wrote that, why Anurag Bhaiya always you complain that no one ask for you(me), in fact three of their friend talk about 1 hours with you Anu). I shocked, to read that(brother ,I was there off course but killing makhhis, so mine dearest one, the fellow whom you all , talked, was mine younger gurubhai Anuj Sharma (A great devoted disciple of poojya sadgurudevji ).our names first three letter is ,offcourse same. one sister wrote that” I am really thankful to Sadgurudev that with His divine blessings He made us lucky enough to meet such great personalities like you, Arif bhaiya, Anuj bhaiya..” .means mahan main? Great question.

So neither I can laugh nor…cry , only said….. koi baat nahi, kabhi to din aayega . So fan ki kya kahoon, yahan to pankha, cooler, AC tak nahi mila . I thought prev. I will offer a prize to that, fellow who will write first to me. But I dropped that idea, secondly I thought after receiving one lakhs mail after that I will write in hindi , but also failed, since Arifji told me, Anu Bhaiya ,he made promise to Aditya , ishita and others our dearest guru brother and sister for that… so kya karoon…., I am just kidding ,I offer mine best wishing for all of you.

Oops

Its time to start.. to chaleen…

Priya mitron, 4/5 years back I was in jodhpur, to meet param poojniya mataji, after meeting with guru trimurti ji, I asked for meeting/have a darshan of her. i was told that may be mataji would come out for daily pooja time , that time I can try mine luck. I waited there.

(before moving further, I would like to share with you, even great Swami Vivekananda ji once told to his fellow guru brother that Baap se bhi jyada maine ma mi mamta payeen hain.(he had received more love ,and blessing compare to his gurudev swami Ramkrishan paramhansa,) I also ,accept in front of you that I also know, very little greatness of mataji, I thought that time, she is a wife of sadgurudevji, that’s all, I could not understand mine total foolishness, it was the blessing of mataji and sadgurudevji, I go through the literature of Ma sharda (wife of Shri Ramakrishan paramhansa). Then I understand ,what I foolish act I did, not offering proper respect, from heart to mataji, years after that incident ,I was again in front- of her. Poojniya mataji, and Sadgurudev ,never ever asking any special respect, whom they ask for that, to their AATMA PART(all of us), no no selfless love and obedience in enough.)

Now the moment arrived, mataji, came out of him home, I moved to touch her divine lotus feet, to see that I was coming, mataji smiling on me, when I touch her lotus feet. She smiled once again. Asked me..BETA KAHAN SE aaya Hain (me son where are you from). I replied with pranam mudra…I came from……….i was sitting in front of her ,and she was standing,(engilsh translation of the talk is here ,but actual conversation takes place in hindi, to check that word,, kindli go to the hindi section of this article)

I told ma….i know that you are the Actual Ma of us. Please assure me, like always you will protect me, in every part, every second of mine life,

mataji—why, for that sadgurudevji is here.

i- that’s true but I need assurance from your side.

Mataji-pray to sadgurudevji

i-that’s true but ,I know that you are the main power behind him, why not you giving me assurance.

Mataji-what next,

i-ma will you please give me diksha.

Mataji-sadgurudev already did that.

(I puzzled, what to say more)

i-eventhough mataji, you not giving me that ,but you have to always care for me, your blessing be always with me, please say this time, yes.

Mataji smiling one that, at that time she was having small bunch of flower in her hand.

I thought, I could get all the boons, as,disciples used to get from MA SHARDA.

(actually, why she was not answering ,reason is, she and Sadgurudev are one .she is the shakti of Sadgurudev ,so she is already with all of us, so why need to say again and again, how foolish I was.)

I returned after touching her lotus feet,

And within in a minutes I took my bags and was standing front road, I hope of getting any riksha to reach station.

Suddenly, I turned back, I found mataji, is standing in front of her room, and showed me her finger to come near to her .i dropped that bag on the road and rush there,

She asked me….just now you are returning

I ..yes mataji

She again smiled

i..mataji, if you will not angry upon me, and if you give me the permission, may I ask one personal question, and you have to answer that,

Mataji.. yes, ask

i-do you still meet Sadgurudev ji, in person ,in his physical form.

Mataji—my son for that cause I am here,

i-(puzzled,) na na mataji..i am asking for…(repeat the same question).

Mataji—Sadgurudev told me ,that’s why still , I am here, and all the three gurudev working day night.

i- ..(again puzzled, have a little courage )na na mataji..may be my question is..

mataji-(very strong voice)- you will not change the question, yes ,yes, my son, so many times I still meet sadgurudevji ,in physical form too. sadgurudevji ‘eye on each work of all of you.

Tears flown from mine eyes.

(even I am writing this lines mine eye are full).

What more assurance I can get from any body , mataji self, answering mine question, the supreme authority.

She again bless me ,I , i alone standing with mataji. i touched her feet. She smiled and told me now I had got the answer, I replied yes ma. she told me now I could go, and she turned back ….

Now mere priy, what more I can share with you, she meet me even though she was very ill at that time, I knew that Sadgurudev ji and mataji is with me and you all too, still not understand her presence in physical form ,then no one can turn your fate..she is still in jodhpur, you can go and be benefitted by her blessing, if still..mine writing not evoke your feeling then if have some time please do read shri ma sharda devi written by swami Gambhhirananda ji ,definitely your love will be thousand times, to our beloved mataji. Once again, if I write anything here not correct by mistake, I am asking forgiveness to all of you.)

To sure, you all will go there, I knew that, you all too have great love and respect for mataji, may be thousand years more mataji will be us, and bless us in her physical form,we all understand the value of them. I am praying to sadgurudev and mataji and off course poojya guru trimurti ji’s for all of us.

(in the last I am as your gurubrother, requesting sharing with you that daily hundreds of hits and monthly crossing thousands hits ,happening on our blog (its your too) ,its really very, very motivating for all of us too, but we cannot know from that either the same person or some new one also visiting there, if have some spare time, then may i request to you , be sign on that blog page, its free of cost. And your presence as a follower will be highly encouraging for us, and also inform other gurubhai too .I am waiting for that)

…smile..

**************************************************************

प्रिय मित्रों, आप लोग कैसे हो,एक बार फिर मैं आपसे आपके बहुमूल्य समय चाहूँगा ,कृपया कृपया इतना सा तो कर दो , पर उससे पहले मैं धन्यवाद देना चाहूँगा, पर किसे,? ....और मैं क्या कह सकता हूँ, मेरे पास एक मेल भेजी गए हैं आरिफ जी के द्वारा ,पियूष जी की.....आरिफ भाई हस्ते हुए बोले की लो फैन्स की मेल पढो.मैं तत्काल ही बैठ गया, उसे पढ़ने के लिए, पहला मेल आया हैं, कबसे इंतजार कर रहा था.

पढने के बाद न तो हस सकता था न रो सकता था. क्यों.. बताता हूँ ..पियूष जी ने लिखा था की “अनुराग भैया क्यों आप शिकायत कर रहे हो,जबकि उनमे से तीन दोस्तों ने मुझे बात की थी १ घंटे तक”. मैं तो हिल गया था.ये पढ़ के (भाई ,वहां पर मैं जरूर था ,पर मख्खी मार रहा था , प्रिय दोस्तों, जिनसे आप बात कर रहे थे , वह मेरे प्रिय गुरु भाई अनुज शरमा जी थे (सदगुरुदेव के एक प्रिय शिष्य).मेरे ,उनके नाम में बस पहले तीन अक्षर ही सामान हैं .एक प्रिय बहिन मुझे लिखती हैं, "सदगुरुदेव जी की कृपा से महान व्यतित्व जैसे आरिफ भैया,अनुज भैया मिले हैं..)
तो कोई बात नहीं कभी तो वह दिन भी आएगा, अब फेन की क्या कहूं, पंखा, कुलर क्या एक A C AAAaCc भी नहीं मिला.पहले मैं सोचा की उसे मैं उपहार दूं ,जो मुझे पहली मेल करेगा, पर इस टाइप की, मेल पाने के बाद आईडिया हटा दिया हैं, दूसरा, मैंने सोचा की ,पहली एक लाख मेल जब मुझे मिल जाएगी तब से हिंदी मैं लिखूंगा परन्तु,आरिफ जी बोले,, उन्होंने इशिता और आदित्य से वादा किया हैं आप को लिखना हैं,, तो मेरी दूसरी बात भी गए. .......

अरे मैं तो बस मजाक कर रहा हूँ. आप सभी के लिए शुभ कामनाएं ,

ओह

तो शुरू करता हूँ.....

प्रिय मित्रों, मैं ४/५ साल पहले जोधपुर गया था.परम पूजनीय माताजी से मिलने के लिए, पूज्य गुरु त्रिमूर्ति जी से मिलने के बाद , मैंने पुछा की क्या मैं माताजी के दर्शन कर सकता हूँ,मुझ से कहा गया की माताजी पूजा के समय आएँगी तब मिल लेना.यदि मेरा भाग्य होगा तो . मैं इंतज़ार करने लगा.

(आगे बात करने से पहले मैं कुछ आप से कहना चाहूँगा ,की स्वामी विवेकानंद जी ने एक बार उनके गुरु भाईयों से कहा था की, बाप से भी ज्यादा माँ ममता उन्होंने पाई हैं .मैं भी आपके सामने स्वीकार करता हूँ की मैं भी पूज्यनीय माताजी की महानता के बारे मैं नहीं जानता हूँ,

बस सोचता था ,की वे पूज्य पाद सदगुरुदेव जी की धर्मं पत्नी हैं बस. मैं अपनी नासमझी के कारण नहीं समझ पाया , ये पूज्य सदगुरुदेव जी और माताजी की कृपा थी की मैं बाद मैं माँ शारदा (श्री रामकृष्ण परमहंस जी की जीवन साथी और धर्म पत्नी ) से जुड़ा साहित्य पढ़ कर समझ पाया , की क्या मुर्खता मैं कर चूका हूँ,माताजी का जैसा सम्मान मुखे करना चाहिए था वैसा नहीं किया ,सालो के बाद मैं फिर से उनके सामने आने का अवसर था .

भला पूज्यनीय माताजी और सदगुरुदेव जी कोई बिशेष सम्मान , प्राप्त करना चाहते हैं, किस्से, वह भी अपने आत्मा के टुकड़ों से (हम लोगों से ) , नहीं नहीं, उनके लिए तो हमारा स्वार्थ रहित प्रेम और आज्ञापालन ही बहुत हैं ..
वह क्षण आ गया , माताजी अपने घर से बाहर आ रही थी ,मैं उनके दिव्या चरण कमलो के स्पर्ष करने के लिए आगे बढा,मुझे आते देख कर ,वे रुक गयी, जब मैंने उनके चरण कमल का स्पर्श किया तो उन्होंने मुस्कुराते हुए पूछा बेटा कहाँ से आया हैं , मैंने हाथ जोड़े हुए उन्हें उत्तर दिया माँ मैं ...... से आया हूँ.मैं उनके चरण कमलों मैं बैठा था.
मैंने कहा--माँ मैं जानता हूँ की आप की बास्तव मैं माँ हो हम सबकी ,कृपया मुझे बचन दो की आप प्रतीयक क्षण और हर अवस्था मैं मेरी रक्षा करेंगी .

माताजी--की क्यों,किसलिये सदगुरुदेव यहाँ पर हैं.

मैं- वह सत्य हैं पर मैं आपसे भी अस्वासन चाहता हूँ.

माताजी- सदगुरुदेव से प्रार्थना करो.

मैं-हाँ माँ पर मैं ये जानता हूँ की आप ही उनकी शक्ति हैं तो क्यों नहीं आप ही अस्वासन देदेती हैं.

माताजी-आगे बोलो

मैं- माँ क्या आप मुझे दीक्षा देंगी.

माताजी- सदगुरुदेव जी ने पहले से ही दी हैं.

(मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या कहूं )

मैं- यदपि माँ,आप मुझे दीक्षा नहीं दी रही हैं पर आप की हमेशा ही मेरी रक्षा करेंगी व कृपा रहेगी आपकी मेरे उपर , ये तो आप को करना ही पड़ेगा.

माताजी हसने लगी, उस समय उनके हाथो में पूजा के फूल थे.

में सोच कर आया था की में उनसे वह वरदान प्राप्त कर लूँगा , जिस की माँ शारदा के शिष्य उनसे प्राप्त करते थे

(की क्यों वह उत्तर नहीं दी रही थी, इस का कारण था, माताजी और सदगुरुदेव एक ही हैं,उनमे कोई भेद नहीं हैं .वे ही सदगुरुदेव की शक्ति हैं ,और वह हमेशा से ही हमारे साथ हैं, तो बार बार उसी चीज को क्यों दुहराना , में भी कितना नासमझ था )

में उनके चरण स्पर्श कर बापिस आया.

कुछ मिनिट के भीतेर में ,में अपना बैग लेकर ,बाहर रोड पर खड़ा था, किसी रिक्शा को देख रहा था.

तभी में पीछे मुड़ा, पाया की माताजी अपने कमरे के सामने खडी हैं ,और अपने उंगली के इशारे से मुझे आपने पास बुला रही हैं .में अपना बैग रोड पर ही छोड़ कर उनने पास भागा,

उन्होंने पूछा की.. अभी ही बापिस जा रहा हैं .

में.. हाँ माँ

उनके चहरे पर फिरसे मुस्कराहट आई ,

मैंने -माताजी, अगर आप नाराज़ न हूँ, और आप आज्ञा दे तो क्या में आपसे कुछ व्यतिगत प्रशन पूछ सकता हूँ .

माताजी .. हाँ पूछों

मैंने- क्या आप अभी भी सदगुरुदेव जी से मिलती हैं उनके भौतिक स्वरुप में .

माताजी-- मेरे बेटे में इसलिए तो यहाँ हूँ.

में -नहीं नहीं माँ में पुछा रहा हूँ ...(उसी प्रशन को दुहरा दिया)

माताजी – सदगुरुदेव जी ने कहा था , इसलिए में यहाँ अभी भी हूँ और तीनो गुरुदेव दिन रात परिश्रम कर रहे हैं.

में--(थोडा सा परेशां हो गया ,कुछ हिम्मत करके बोला ) नहीं नहीं माताजी शायद मेरा प्रशन ये था..(फिर से वह ही दुहरा दिया ).

माताजी (गुरु गंभीर वाणी में)-- तो तुम प्रशन नहीं बदलोगे ,हाँ हाँ ,मेरे बेटे , कई ,बार में सद गुरु देव जी से अभी भी मिलती हूँ, भौतिक स्वरुप में ही उनके. सदगुरुदेव जी की निगाहें तुम लोगों के हर और प्रय्तेक कार्यों पर हैं .

मेरी आखों में आसूं आ गए ये सुनकर.

(यहाँ पर ये में लिख रहा हूँ और मेरी आखें भरी हुए हैं).

और किससे में अस्वासन पा सकता हूँ, माताजी खुद कह रही हैं, सर्वोऊच्च व्यक्ति .

उन्होंने मुझे फिर से आशार्वाद दिया ,में माताजी के साथ खड़ा था , उनके चरण स्पर्श किया .वे मुस्कुराए , और कहा की अब तो मुझे मेरे प्रशन का उत्तर मिल गया .,

मैंने कहा हाँ माँ.

उन्होंने कहा की में अब जा सकता हूँ, और वे बापिस मुड़ गयी

और अब मेरे प्रिय, और में क्या आप से कह सकता हूँ,वे मुझसे मिली जबकि उस समय उनका स्वाथ्य ठीक नहीं था ,में जानता हूँ की आप सभी के साथ माताजी और सदगुरुदेव जी सदैव साथ हैं, पर यदि अभी भी आप उनकी मह्तात्ता नहीं समझे तो आपका भाग्य कैसे बदलेगा , .. माताजी आज भी जोधपुर में हैं , आप जा कर के उनके चरण स्पर्श कर सकते हैं, आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं .यदि मेरी लेखनी ये पर्व नहीं कर पाए हैं तो यदि समय हो तो " माँ शारदा " लेखक स्वामी गम्भिरानंद लिखित किताब पढ़े . निश्चय ही आपका माताजी और हमरे संपूर्ण गुरु परिवार के प्रति आपका स्नेह हज़ार गुना बढ़ जायेगा .

में जानता हूँ की आप सभी समय निकल कर जायेंगे ही , आप सभी का स्नेह पहले से ही हैं,हमारे साथ माताजी हज़ारों साल रहे इसी भौतिक स्वरुप में , में सदगुरुदेव जी , माताजी और पूज्य गुरु त्रिमूर्ति जी (परम पूज्य तीनो गुरुदेव जी) से आप सभी के लिए प्रार्थना करता हूँ.

(मेरे प्रिय गुरु भाइयों , यदि में यहाँ पर कुछ गलती से गलत लिख गया हूँ तो में आप सभी से क्षमा चाहूँगा )

(अंत में, में आपके गुरु भाई के रूप में, आप सभी से कहना चाहूँगा , की प्रति दिन सैकरों की संख्या, बा महीने में हजारों की संख्या में लोग अपने इस ब्लॉग पढ़ रहे हैं , यह बहुत ही अच्छा हैं हमारी हिम्मत बढाती हैं ,पर हम इससे ये जान नहीं पाते ही कोई नए गुरु भाई या व्यक्ति भी इसे पढ़ रहा हैं, यदि आपके पास कुछ समय हो तो आप भी इस ब्लॉग पर sign in करे , ये बिलकुल फ्री हैं ,और इसकेबारे में अन्य लोगों को भी बताएं जो की इसमें रूचि रखते हों .. में इंतजार कर रहा हूँ..)

smile

****ANURAG SINGH****

2 comments:

Ishita said...

aJai GURUDEV bhaiya..
I know that you and anuj bhaiya are different person..
And I wrote that comment for you anurag bhaiya..
N c'mon.. You are a great personality..because you are attached to ur Greatest Sadgurudev..
And arif bhaiya also says that hum sher jaat ke hain..
Plzz give me ur e-mail id..
I want to become the first person to send you mail and get the gift..
Kya gift milega mujhe..?? Ha ha..

Neeraj said...

Anurag ji sayad aap ne mere bhi kuch comment pahle pade nahi the jab aapne article likhna suru kiya tha maine aapki bhi prashansha ki thi waise ye sab chamtkar hamare arif bhai aur raghu bhai ka hi hai...... Aur aap jab itna kam kar rahein hai to aapki prashansha nahi ho ye to ho hi nahi sakta mere liye to aap bhi AADARNIYE hain jaigurudev..


Neeraj Kumar