There was an error in this gadget

Tuesday, October 12, 2010

Tantra Vijay – 10 Dhumavati Samputit Teevra Mahamrityunjay Sadhna (a true story of remove bad tantra power and health problems)



It was just 7-8 months passed on as I was new to Bhopal city.I chosen this city for a significant reason i.e. frequently organisation of Sadgurudev’s shivir.Whenever I used to feel upset I generally came a place called Dussehra Maidan were I used to relive all those moment which I listened in shivir from Sadgurdev which charges me like anything.Here only I met one my guru brother called Raju bhai.He was owning a grossery shop and had good interference in politics too.My household things used to came from his shop only.By nature he was very patient and gentle.Even his wife was also a nice lady.He always used to talk to me about Sadgurudev.

Here in this new city I was also continuously striving for livelihood.Along with that I was still doing sadhna on regular basis.Suddenly on one fine day he came to me and said can u please come with me at Dahod.I said – brother, all of sudden how can I come with you! And you very well know that I am having interview tommoro.Then he replied - brother unless it would have not so urgent
I would have not asked you.Still I kept asking him that atleast tell whats the matter is?

He said-since couple of days my Father-in-law is not keeping well.Actually surprise thing is that in his whole life he not even suffered with fever for single time.

I asked- oh, then what happened?

Then what, actually he was voluntarily retired some times back.Suddenly on one day he finds a small acne on his thigh area.When he scratched it,he not only get fever but also get huge scars marks on his whole body.Before his existing scar get healed up, he gets new scars.The situation became critical day by day as the person who weigh 90 kg sometime back came down to 37 kilos only.He was not able to stand on his own foot.Even for natural calls he was operated and get direct way form front side.Since then he is bed ridden.After some time his scars doesn’t get healed nor dried and new one takes place.Referred best to best doctor.spend lakhs of money but not of use.Now form each doctor he asked for death as I cant bear pain no more.Actually his wounds had to be clean up from inside by putting hands.So many type of worship done but of no use.Due to unbearable pain on one day he put on hands on doctor’s neck and then he was discharged instantly.I just want you to see him once.

But, why me only?

Brother since long time I have been noticing you in shivir and some of other guru brothers told me that you have done some great sadhnas also.

Yes I have done but never use it social life…

But still I want you to visit him.

Ok.tell me…when?

At tonight only as he is very critical…

At night we started from Bhopal and reached Ujjain.And from there, we took train for Dahod and reached around 11 o’clock in morning.Truly speaking, I was trying to gather courage to see him.I saw the whole body was filled with wounds and scars.It was deadly smelling.I asked Raju bhai-can I see his horoscope? Then he asked brother-in-law to bring that horo.After going through his hand and horoscope, I was simply shocked.The present condition was the moon was in influence of rahu and which was clearly showing the external effect ( I have explained in detail about this in my previous articles.therefore you can check blog and yahoo group for more information.In that case instead of moon if sun would have been in influence of rahu then not only by worshipping or by help from any other treatment it can get rid of it.As different planets have altogether different treatment.)Then I asked raju bhai-do you have done Mahamrityunjay sadhna for him?

He expressed as he doesn’t know anything about it.Then I said-one special tantra badha nivaran poojan need to be done which can be accomplished at smashan only which I can do.but for Mahamrityunjay sadhna I cant spend that much time.So it would be better to arrange any brahmin for accomplishing that sadhna rest I ll look after.He said we would be obliged if you will come and explain us.

We met many pundits but whoever saw his condition used to refuse for doing it.Even demand the dakshina in lakhs of rupees.Even many of them predicted that now it will be of no use of sadhna as only get failure.

I was pretty well aware about the reason why all are denying for attempting that sadhna as once it is started cannot stop in between state whether the person gets off for which it was suppose to be done.then also have to complete it properly.

He was very worried and depressingly said I think now nothing can’t happen.The person who always helped others in his whole life, not bothered anyone.one single person is not ready to stand behind him to help him in such critical condition.Or you can say that nothing can happen by sadhna.Therefore no one is coming forward to perform it…

It is not at all like that my brother… Who are we to assess the truth of sadhna? Reality is that we never performed sadhnas with whole heart.Exactly when we feel underconfindence for our work the same believe is applied for sadhnas.And if it is like that then I will do both the prayogs.U please take the sankalp rice from him along with his latest photograph.


By evening train we returned back to Bhopal.For that preliminary prayog of tantra badha I went to my hometown Chindwada.On the same smashaan I make up my mind to perform that sadhna.Before night I completely arranged the things which I need to use in sadhnaa and reach their at sharp 11 o’clock exactly on the same sadhna place were I was performing my sadhnas since 12 years and got unlimited success.After placing things near by me I drawn a safety circle around me.With Aghor paddhati I did the Guru pujan and creat an special yantra by CHITA BHASM and called the Dikpals and Dhumra Lochan and worshipped them by specific aghor mantras .After that the I enchanted the sadgurudevs blessed mantras and taken some mustard seeds,black sesame,black pepper and from some special fluids I started giving oblation on the funeral pyre.At 2 o’clock the flames of pyre get bigger n bigger.And it was making the sound of ‘hunkar’.The way the sound increases the flames were also coming upward.

The mantra jap was at its last level.Suddenly with that horrible scream a strange shaped animal was coming down towards the pyre.Its seems like someone is dragging him down.The sounds of dogs became more n more louder and scary.Bats were eager and flying here n there.With very painful expression that strange horrible face shaped get down in that funeral pyre.Strange and loud noises were coming out from it.Groaning sound was coming out.It seemed like someone has been forcefully burning out.Suddenly every noise was stopped.I understood that Maa Dhumavati’s Dhumralochan shakti had shown her power and completed her work.And that inauspicious tantra badha had turned in ashes.(by which my friend’s Father-in-law were victim)I offere last mantra by chanting swaha.after completing all offering the funeral pyre get almost done.all flames got stopped.I again done the food offerings,completed the poojan and set free from bath n all post things of sadhna and get back to home.Next morning I came back to Bhopal and the same night I started the Mahamrityunjay sadhna and the prescribed mantra chanting with full concentration.The glittering of lamp was flaming more n more day by day.I was also enjoying it.I was having complete faith in sadgurudev given sadhna vidhi that it would be successful.Reason being I have seen so many impossible converted into possible.In 21 days anushthan I was feeling favourable vibes from seventh day only.Then Raju bhai came and told me that new wounds are not arising and old ones are healing properly.Around in 18-20 days the wounds were almost disappeared and health was also recovered terrifically.After completing sadhna I took a long peaceful breath and that affected person got in better condition day by day.Even in span of one or two months the natural calls were also adjusted in previous states.That person became fully recovered.

This not mere imagination or fake.As that same friend of mine stayed in Bhopal only.Yes a long time passed I haven’t met him.As I became too busy and I have changes my resident also.But you can assure this and listen from him the whole story of getting the success in Akalmrityu by tantra sadhna.

Sadhna is ultimate truth and it will stay as it is because we earned this procedure and divya mantra by Sadgurudev’s rubbed PRAN.If we failed to take fruits from these sadhna the failure is inside us not in the sadhna.Come forward and fulfill your desires.Step forward and share your experiances with us.This bolg or group is not only mine but also of each disciple of Sadgurudev.Along with the desire of visualing thier dream in visible form.This bolg is meant for those peaple only.we should not keep our truthful experience with us only but also share with other guru brothers who really wanted to learn and have strong urge in sadhnas. Even for those also who are ready with open hands and wants to successful in sadhna field. So i am waiting for you all.............

******************************************************************

भोपाल में आये हुए ज्यादा समय नहीं हुआ था , ७ या ८ महीने ही हुए होंगे. इस शहर को चुनने का सबसे बड़ा कारण था यहाँ पर सदगुरुदेव का लगातार शिविरों का आयोजन करना. जब भी मन उदास होता तब तब मैं न्यू मार्केट के दशहरा मैदान में आ कर घंटो बैठता और सोचता रहता सदगुरुदेव के साथ यहाँ जिए हुए दिन और उनके वाक्यों को . यही पर एक गुरुभाई से मेरी मित्रता हुयी राजू नाम था उनका , किरणे की दुकान थी और था राजनीति में दखल भी . घर के लिए सामान उन्ही की दुकान से आता था , अत्यंत ही सहिष्णु और मृदुभाषी थे और उनकी धर्मपत्नी भी उन्ही के विचार धारा से युक्त थी. अक्सर वे सदगुरुदेव की बाते करते रहते मुझसे.
इधर जीविकोपार्जन के लिए लगातार मैं भी इस नए शहर में संघर्ष कर रहा था. पर साधनाए तो तब भी निरंतरता के साथ कर ही रहा था.अचानक एक दिन वे आये और मुझे कहने लगे की आप मेरे साथ दाहोद चलो , मैंने कहा भाई अचानक मैं कैसे जा सकता हूँ आपको पता ही है की कल मेरा जॉब के लिए साक्षात्कार है . उन्होंने कहा भाई यदि आवश्यक नहीं ता तो भला मैं आपसे ऐसा नहीं कहता . मैंने कहा पर फिर भी क्या बात है कुछ बताओगे भी .....
मेरे ससुर का स्वास्थ्य बहुत दिनो से खराब है,ताज्जुब की बात ये है की अपने पुरे जीवन में कभी उन्हें बुखार भी नहीं आया ...... उन्होंने बताया .
फिर क्या हुआ – मैंने पूछा.
होना क्या था , रेलवे में उच्च पद पर थे , थोड़े ही महीनो पहले वे सेवानिवृत हूए थे एक दिन अचानक छोटी सी फुंसी हो गयी जांघ पर . उन्होंने उसे खुजा क्या दिया , तब से ही न सिर्फ ज्वर ने उन्हें पकड़ लिया बल्कि उनके शारीर पर बड़े बड़े घाव भी हो गए . एक घाव भरता नहीं और दूसरा हो जाता . हालत ये हो गए हैं की जिस व्यक्ति का वजन कभी ९० किलो था वो आज मात्र ३७ किलो का रह गया है . और अपने पैर भी वे खड़े नहीं हो पाते हैं. शौच के लिए भी उनका मार्ग बदल कर शल्य क्रिया द्वारा पेट में नली लगाकर सामने से कर दिया गया है. वे तभी से बिस्तर पर ही हैं. उनके घाव सूखते ही नहीं और नए नए होते जाते हैं.बड़े से बड़े डॉक्टरों को दिखाया गया. इलाज के लिए लाखों रूपये लगा दिए गए पर कोई फायदा नहीं हुआ. अब तो वे अपने लिए डाक्टरों से मौत ही मांगते हैं , कहते हैं की इतनी वेदना बर्दाश्त नहीं होती. उनके घावों को हाथ डालकर भीतर से साफ़ करना पड़ता है. कई प्रकार की पूजा कराई गयी. पर कोई फायदा नहीं. दर्द के मारे एक दिन उन्होंने डाक्टर का गला ही पकड़ लिया था तभी से उन्हें घर वापस ला लिया गया . मैं चाहता हूँ की आप एक बार देख लो.
पर मैं ही क्यूँ??????
भाई मैं आपको शिविर में कई बर्षों से आते जाते देख रहा हूँ.साथ ही साथ किसी गुरु भाई ने बताया की आपने कुछ साधनाएं भी की हुयी है.
हाँ की है लेकिन कभी मैंने उनका प्रयोग नहीं किया ......
पर फिर भी मैं चाहता हूँ की आप चल कर देख लो.
चलिए कब चलना है ????
आज रात को ही क्यूंकि उनकी तबियत बहुत ज्यादा ही गंभीर हो गयी है.
रात को हम दोनों भोपाल से उज्जैन पहुचे, और वहाँ से दाहोद के लिए दूसरी ट्रेन में बैठ गए. करीब ११ बजे दिन में हम उनके घर पहुचे ... सच में उनकी हालत देखने का साहस मुझमे हो ही नहीं पा रहा था. सारा शारीर घावों से बार हुआ था जिनमे से दुर्गन्ध आ रही थी. मैंने राजू भाई से कहा की क्या मैं इनका हाथ या कुंडली देख सकता हूँ . उन्होंने अपने साले को कह कर कुंडली बुलवा ली . कुंडली और हाथ देख कर मैं चौक ही पड़ा. कुण्डी की तात्कालिक दशा और वर्ष कुंडली के अध्यन करने पर पर मैंने उनका चंद्र,जो की राहू के प्रभाव में था जो की स्पष्ट रूप से बाहरी बाधा का असर दिखा रहा था(मैंने अपने किसी लेख में इस बारे में विस्तार से बताया भी है , अतः आप ब्लॉग पर या ग्रुप में अधिक जानकारी के लिए उस लेख को पढ़ सकते हैं.यदि चंद्र के बजाय सूर्या रहू से पीड़ित होता तो पूजन के बजाय अन्य किसी चिकित्सा विधि का सहयोग लेकर रोग से मुक्ति पाई जा सकती है, भिन्न भिन्न ग्रहों का प्रभाव और रोगोप्चारो की विधियाँ भी भिन्न भिन्न है). मैंने राजू भाई और उनके साले से पूछा की क्या इनके लिए महामृत्युंजय साधना करवाई गयी है..
उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की . तब मैंने कहा की इनके लिए एक विशेष तंत्र बाधा निवारण पूजन है जो की शमशान में ही की जाती है उसे तो मैं संपन्न कर दूँगा पर महामृत्युंजय साधना के लिए जो समय लगेगा वो मैं नहीं दे पाउँगा . अतः बेहतर है की वे इस के लिए किसी ब्राह्मण की व्यवस्था कर लें. उन्होंने कहा की क्या करना है यदि आप ही साथ चल कर समझा दे तो अच्छा होगा.
हम लोग कई घंटो तक कई पंडितो से मिले पर जब भी वे उनके ससुर को देखते तो मना कर देते और दक्षिणा की न्योछावर राशि भी लाखों में मांगते . बहुतो ने तो ये भी सलाह दे डाली की अब साधना करवाने से कोई लाभ नहीं होगा.
मुझे पता था की वे मना क्यूँ कर रहे थे क्यूंकि महामृत्युंजय साधना के दौरान यदि यजमान जिसके निमित्त साधना की जा रही है उसकी मृत्यु हो जाये तो तब भी साधना की मंत्र संख्या तो पूरी करना ही पड़ता है. उसे खंडित नहीं किया जा सकता नहीं साधना रोकी जा सकती है,
वे परेशां हो गए , और कहने लगे की अब शायद कुछ नहीं हो पायेगा. जिस आदमी ने अपने जीवन में सदैव सबकी मदद की हो किसी को कोई तकलीफ नहीं पहुचाई हो. आज उसके लिए कोई नहीं खड़ा है. या ये कहो की साधनों से ऐसा कुछ नहीं हो पायेगा , इसी डर से कोई आगे नहीं आ रहा........
ऐसा नहीं है भाई .... साधना की सत्यता को मूल्यांकित करने वाले हम कौन होते हैं.वास्तविकता तो ये है की पूरी तरह लग कर हम ही साधना ही नहीं करते और जैसे खुद के काम के समय हमारा विश्वाश हिल जाता है उसकी सफलता को लेकर, उतना ही विश्वाश हमें साधनाओं के लिए होता है, यदि यही बात है तो दोनों प्रयोग मैं ही करूँगा. आप संकल्प के चावल उनके हाथ से ले लीजिए और साथ में उनकी लेटेस्ट फोटो.
शाम की गाड़ी से हम वापिस भोपाल आ गए, प्राथमिक प्रयोग जो की तंत्र बाधा निवारण के लिए था उसके लिए मैं अपनी साधना स्थली छिन्दवाडा आ गया. और उसी शमशान में अपनी साधना संपन्न करने का मानस बनाने लगा. रात्रि के पहले ही समस्त सामग्री की व्यवस्था करके रात्रि ११ बजे उसी साधना स्थली पर पहुच गया जहा १२वर्षों तक मैंने कई साधनाओं को संपन्न कर सफलता पाई. खैर सामग्रियों को सामने रख सुरक्षा चक्र का निर्माण कर ,अघोर पद्धति से सदगुरुदेव का पूजन और आवाहन कर एक विशेष यन्त्र का निर्माण चिता भस्म से ही करके दिक्पालों और धूम्र लोचन का विशेष अघोर मन्त्रोन से पूर्ण पूजन संपन्न कर चिता में सदगुरुदेव प्रदत्त विशेष मंत्रों से सरसों, काले तिल, काली मिर्च एवं कुछ विशेष द्रव्यों से आहुतियाँ देने लगा. रात्रि २ बजे चिता की अग्नि अत्यधिक तीव्रता से प्रज्वलित हो गयी , और रह रह कर हुंकार की ध्वनि उसमे से आने लगी . ध्वनि की तीव्रता के साथ साथ अग्नि भी बिलकुल उर्ध्वमुखी हो गयी .
मंत्र जप अपने अंतिम चरण में था ,अचानक तीव्र चीख के साथ ही एक विचित्र आकृति का प्राणी आकाश से उस चिता की और उतरने लगा ऐसा लग रहा था की कोई जबरदस्ती उसे चिता की और धकेल रहा था , सियारों और कुत्तों की ध्वनि में कही ज्यादा कर्कशता और भयावहता भर गयी थी. चमगादड़े व्याकुल होकर इधर उधर उड़ने लगी थी. अत्यधिक वेदना से भरा हुआ चेहरा लिए वो आकृति उस चिता में उतर गयी , हलचल तीव्र हो गयी और ऐसा लग रहा था की चिता में उठा पटक हो रही थी, कराहने की आवाज़ , जैसे कोई किसी को जबरदस्ती जला रहा था , अचानक सब कुछ शांत हो गया , मैं समझ गया की मान धूमावती की धूम्रलोचन शक्ति ने अपना कार्य संपन्न कर उस अशुभ तंत्र शक्ति को भस्मीभूत कर दिया है(जिसके प्रभाव में हमारे मित्र के श्वसुर जी पीड़ित थे), मैंने स्वः मंत्र से अंतिम आहुति दी ,पूर्णाहुति की क्रिया होते ही चिता अग्नि शांत होकर लगभग बुझ ही गयी . मैं पुनः नैवेद्य दान, पूजन आदि क्रिया कर स्नानादि से निवृत्त होकर घर आ गया तथा दुसरे दिन ही भोपाल के लिए निकल गया वह पहुच कर उसी रात से मैंने संकल्प लेकर लघु महामृत्युंजय मंत्र का निर्धारित संख्या में एकाग्रचित्त होकर मंत्र जप करने लगा. दीपक की लौ की चमक प्रतिदिन बढती चली जा रही थी और जप करने में अधिक आनंद भी आने लगा था , पूर्ण श्रद्धा और विश्वाश था सदगुरुदेव प्रदत्त साधना विधि पर , बचपन से ही उनके साहचर्य में न जाने कितने असंभव कार्य को संभव होते जो देखा था. २१ दिन के अनुष्ठान में ७वे दिन से ही अनुकूलता मिलने लगी थी . मुझे राजू भाई ने आकर बताया की, अब नए घाव नहीं बन रहे हैं और घावों में परत भी आने लगी है. १८ दिन २० दिनों में घाव लगभग ठीक ही हो गए और स्वास्थ्य में सुधार भी आने लगा. साधना पूरा कर मैंने चैन की सांस ली , वह दिन ब दिन स्वास्थ्य ठीक होता गया और मात्र २ महीने में ही उनका शौच द्वार पुनः नियत स्थान पर बना दिया गया , वे महानुभाव पूरी तरह ठीक हो गए थे.
ये घटना कोई कोरी कल्पना मात्र नहीं है, बल्कि आज भी मेरे वो मित्र भोपाल में ही रहते हैं. हाँ कई वर्ष हो गए उनसे मिले हुए क्यूंकि मेरी व्यस्तता बहुत बढ़ गयी और मैंने घर भी बदल लिया था, पर आज भी उनसे मिलकर इस घटना और तंत्र के द्वारा अकालमृत्यु को पराजित करने की ये अद्भुत सत्यकथा की जानकारी ले सकते हैं.
साधना सत्य है और रहेगी ही क्यूंकि सदगुरुदेव के प्राणों से घर्षित होकर ये दिव्या मंत्र और विधियाँ हमें प्राप्त होती हैं. यदि इनका लाभ हम नहीं ले सके तो ये हमारी न्यूनता है न की उन साधनाओं की . आगे बढिए और अपना अभीष्ट प्राप्त करिये. आगे बढ़कर अपने अनुभवों को हमारे साथ बाटिये न. ये ब्लॉग, ये ग्रुप मेरी बपौती नहीं है , बल्कि सदगुरुदेव का हर वो शिष्य जिसके प्राण उनमे बसते हो और साथ ही साथ जिसमे अपने स्वप्न को साकार करने का उन्हें मूर्त रूप देने का साहस हो के लिए ही ये ब्लॉग बना है , हमें हमारी सच्ची अनुभूतियों को अपने टक नहीं रखना है बल्कि उन गुरुभाइयों और साधकों तक भी फैलाना है जो की बढ़ना चाहते हैं जानना चाहते हैं साधनाओ के बारे में और ललक कर हुमस कर अपनाना चाहते हैं. मैं इंतजार कर रहा हूँ आप सभी का.....
......................



FOR MORE UPDATES
OF

(Alchemical files and Mantras RELATED TO POST)

PLZ JOIN
YAHOOGROUPS



To visit NIKHIL ALCHEMY GROUP plz click here

****ARIF****

1 comment:

Rahul Agarwal said...

Saadhu Saadhu Arif ji,

Dhanya hai aap jo sadgurudev ke gyan ko saarthak kar ke dikha diya aapne