There was an error in this gadget

Tuesday, September 25, 2012

सदगुरुदेव के स्वप्न अनुरूप.....हॉस्पिटल ...की ओर पहला कदम.....












Dear Brothers, Sisters and Friends,

Sadgurudev ji has said that you just take auspicious resolution and move forward. I am standing behind you, you will definitely get success. And we all understand the depth of this quote too. We started blog and other activities few years back…….slowly and gradually, we all got your love and trust due to our dedication towards work and blessings of Sadgurudev. And our journey is moving towards new heights.

But why this all of sudden?

What has happened today that we have to make you remind this again one more time. And today I with full of joy and happiness ……want to inform you all that the hospital ……regarding fulfilling dream of Sadgurudev Ji……..the hospital having all facilities and all genres of treatment……….the dream which he put forward in front of all Shishyas……we have taken the first step in this direction today.

We passed amidst criticisms, blows-counterblows and blame-games. May be , sometimes you would have felt that time is getting lost but side by side we put our energy on all creative works we had thought and moved towards it.

And the dream is getting realised. How??



We have purchased approximately 15 acres of land for hospital today, which is first step in the direction of this great and divine work. Therefore, 25th September 2012 is very important day for all of us.

And this land is directly connected to most Holy River of world Narmada. We all consider River Ganga to be holiest river but the sacredness which we get by taking bath in Ganga; we can get that simply by seeing Narmada. This fact is witness to this thing.

But why on Narmada Only?

It is because people have not yet been able to understand spiritual and tantric importance of this river. And those who understand it, they also know that why it was Diksha place for Shankracharya Ji and why he took so many rounds of this holy river…there would be something special…….Also, Sadgurudev has spent his spiritual life on banks of this holy tantric river with splendour, then only purchasing this stretch of land connected to this holy river has been possible due to blessings of Sadgurudev ji.

But after all, in which city it is located??


Then you all know as heart is present in centre of body, in the same way, it is situated in centre of India and is full of intense Tantric Peeths and secrets………this land is situated in Jabalpur city of Madhya Pradesh , stretch of land adjacent to river Narmada.


We all were working as per directions of senior Guru Brothers and sisters from quite some time. Hint was given that first preference should be given to stretch of land adjacent to Narmada. And we all were working towards it.It took lot of hard-work but with Sadgurudev’s grace we found it and today we purchased it also.


You yourself can feel that finding approximately 15 acres of this land where we can plant and rear those divine herbs in their favourable environment by which impossible and incurable diseases can be cured is not an easy task. How do we reached this place…..how obstacles of path vanished by grace of Sadgurudev Ji and many known and unknown people become our associate…it is altogether a different issue.

You all very well-know this fact that the dream which Sadgurudev Ji had seen for all of us, out of it, construction of hospital was not the only work or aim rather by his own efforts he made one complete garden in Uttarakhand for the preservation of divine herbs but……after Siddhashram Gaman , nobody cared for it. Results are known to you all that today nobody knows about the whereabouts of that place.

Because if divine herbs will not be preserved, then how will treatment be possible. How it will be possible to revitalize Ras Shastra, Kayakalp, Vanaspati Tantra and Ayurveda.


So the hospital which is going to be constructed, will it be only based on Ayurveda??


It is not like this rather…….all the genres which are possible, may it be modern treatment and its ultra-modern machines, hidden procedures of Tantric treatment or Mantra Treatment or Yagya treatment, Surya Treatment, Sammohan or from natural to Homeopathy to Allopathic which are possible……..have to be given important place…….The place about which Sadgurudev has told that where even dying person’s life is saved. It will be one such amazing place. And the most important of all treatment will be provided full of cost…….where person will not be seen from parochial view of money, religion, caste etc. rather he will be seen from humanity point of view .One such place where every high-order treatment facilities are available…..that too free of cost.

But for how long….how….who will make it possible???

Friends, journey of 1000 steps also start from only one small step. And one disciple too can realise the dreams of Guru by following the Shishya-dharma, he does not need cooperation from crowd and blind-faith rather from Sadgurudev element he attains so much capability that he can successfully complete this work being a disciple only. Keep in mind that Sadgurudev’s dreams has got many dimensions .Not this that, someone makes any type of hospital by taking help of other institution and appreciate himself and declare oneself to be successful or capable.

Friends, now it is test time for us…..


     
It is right that focal point will be divine hospital which will be splendid but it will be known not by splendor rather by success in the work.
  But for the preservation of divine herbs one special place, alongside this hospital where all these 64 divine herbs can be planted which are mentioned in some articles and “Muladhaar se Sahastrar” book written by Sadgurudev. It will be in this place only.
     Along with it, re-publication of old obsolete divine sadhna, Tantra, Parad and Ayurveda scriptures in today’s language and testing this knowledge practically
At the same time , one place for the sadhna  of sadhaks where they can do sadhna without any hesitation and they can get all types of direction .May it be Mantra Sadhna, surya Vigyan or Kshan Vigyan, Sammohan ,Kaal Vigyan, Ayurveda, Ras Vigyan or Ras Karma Treatment….and so on…..


But how it will be possible?? Everyone has got this question in their mind but we are determined because we do not have any doubt rather we have complete trust. And every moment we are getting cooperation, directions and knowledge from ascetic disciples of Sadgurudev Ji. Not even for one moment, they do not take their eyes off from this work and all the persons who are doing this work.

 
Sadgurudev ji’s disciples revered Shri Raaghav Das Baba Ji, Revered Bengali Maa, Panchami Maa, Soundarya Maa, Bhairavi Maa, Dhoorjata Maa or Poojya Arvind Bhai Ji, Poojya Hasad Baksh ji and others have clarified that there will be no individualist talks rather all the works will be based only and only upon the Sadgurudev’s dreams, his standards and hints given by him. It will be in accordance with dignity and supremacy of Sadgurudev Ji and so no relaxation can be given for it.


Definitely for gaining confidence of you all…..that what is dream of us all. It should be dream of every disciple; after all it is everyone’s Sadgurudev.
All the things done by us or said by us for this, please consider this as foundation stone of this intense work like…
      May it be the coming of high-order sadhna articles and facts continuously on blog
      Maintaining peaceful environment and decorum on Yahoo Group and Nikhil Alchemy group of Facebook and  prime importance to be given to only Sadgurudev and sadhna related talks and keeping distance from narrow-minded talks of any religion, country, caste, race etc.
      Free publication of bi-lingual E-Magazine Tantra Kaumadi.
      Successful organization of three workshops related to sanskars of Parad Vigyan
      Successful organization of one-day seminars
    Giving sadhna related yantras free of cost every month. 
      For every sadhna-related curiosity, entire NPRU team has always been with you.
      Kavach and other related solutions.

You yourself tell which one such step out of this is where people would not have doubted that how all this would be possible by NPRU (NIKHIL PARASCIENCE RESEARCH UNIT)….but we have done it. Though everyone had doubt in the beginning that how we can do all this as disciple…but we have not deviated even a little for our ideals…


And today, all menial politics, and the charges which are framed or made to be framed against us are witness to the fact that now our work is influencing many persons??? Now we have been given 60 days duration that we all will be finished by dangerous Tantra attack. But you all can see how prayog done by them all are proving favorable to us. And definitely these 60 days will bring favor and success to us.

Let’s leave it.This will go on.


Now let us talk about this expanded stretch of land. We have discussed the spiritual and tantric importance of Jabalpur number of times…and due to this spiritual importance, we have chosen this city for our work as per the orders of our seniors….this stretch of land connected to holy banks of Narmada will be un-paralleled in itself…definitely…This first concrete step taken to fulfil dreams has many infinite future possibilities embedded in itself. Take this think for granted that the work which NPRU has decided to do, it has to be materialised because we all considers ourselves to be medium only. Nothing more than that and the affection and cooperation, which we have got from you all at every step, every moment is incredible…And…


From quite some time you all were curious to know about the new things….but friends, we silently faced all problems…we kept this thing in mind that any disciple of Sadgurudev who is having his consciousness, cannot lose. It is possible that unfavourable circumstance may become obstacle in his path but he will make them as ladders and move forward.

We are putting forward some scenes of this, also the photos of Google Earth so that whenever you come here, you can recognise this land whose photo or video we are showing today. Not that we cheat you by showing some other place or give some logic that due to some reasons we have selected some other place…..You all will become witness to this fact that how this stretch of land which has got infinite possibilities hidden in its womb will become base. This is only the beginning. Time will tell to which extent this work will go. 


Now when will you be at this place..???

Friends,
Now the time has come that we should increase the speed of our work multiple times. Till now, preliminarily we were seeing the work as a whole but now after purchasing this land, we are dividing this work into many stages. And we will do all these stages as fast as we can. And this is not for you all rather time-limit for every stage will be fixed by us for ourselves .And there will be no relaxation in following these time-limits.

All ascetic and senior disciples of Sadgurudev ji has directed us to do work. They knew the ground-realities, truth and about the traitors but they always said that first step is always full of problems. But now this first step for Hospital has been taken. Now this dream is going to be realised. Now focus more and concentrated on aim. Direct all your energy on aim only….

Therefore now our aim and objective is crystal clear

Now one more thing that after all what is or going to be the  utility of this hospital??? Why this thing has been given…so much???
 
Friends, I would like to tell you that it is not being made to cure cold and cough rather it is being made for treatment of all types of incurable diseases. May it be any person suffering from any stage of cancer….any incurable mental disease…all types of incurable disease whose treatment cannot even be thought of ….treatment of all such ….that too free of cost…this is the aim.Because till now, people have seen some of the dimensions of Sammohan Vigyan, some prayogs but they have not seen amazing dimensions of Surya Vigyan, Chandra Vigyan, Nakshatra Vigyan, Kaal Vigyan, Parad Tantra treatment. This knowledge will make this impossible work possible.

There is information for you all that we all  are going to meet on that place on Sadgurudev’s  Sanyas Divas and do the Bhoomi poojan ….and how this will happen without you all because this is not voice of any person, NPRu rather it is the voice from hearts of all disciples that Sadgurudev put forward one small task, one small dream in front of us…..will we not be able to do it??? We all have watered this from our blood for so many years then how can be be unsuccessful??....We all will be successful at any cost…

Today’s day is so much happier for us, words cannot simply describe it…….the dreams which we had in mind, founding-stone to this is laid today…Now who would have doubt that any disciple of Sadgurudev ji cannot do some things……Nikhil blood is running in all of us.


So friends this is the time…….......

Hoping affection, blessings well-wishes from all of you.

....................................................................................................................................
सभी स्नेही भाई बहिनों और मित्रो,

सदगुरुदेव जी ने कहा हैं कि तुम  बस  शुभ संकल्प लो और आगे बढ़ो  मैं स्वयं तुम्हारे पीछे खड़ा  हूँ सफलता मिलके ही रहेगी. और हम सभी  इस बात कि गंभीरता समझते भी हैं,हमारे द्वारा कुछ वर्ष पहले  ही ब्लॉग और अन्य गतिविधियां प्रारंभ हुयी ..और धीरे धीरे आप सभी का स्नेह और विश्वास हमें अपने कार्यों मे निष्ठा और सदगुरुदेव के आशीर्वाद स्वरुप मिलता  गया .और हमारी यात्रा  और नित नए  ऊँचाई  की ओर बढती जा रही हैं .

पर यह  बात अचानक क्यों ?

ऐसा क्या आज हुआ हैं की आज यह एक बार पुनः आप सभी  को यह स्मरण कराना पड़ रहा हैं .और मैं आज आपके सामने बहुत ही प्रसन्नता के साथ ...पुरे ह्रदय  से  यह आप सभी को सूचना देना चाहता हूँ की जिस चिकित्सालय की  बात ..मतलब सदगुरुदेव जी के  स्वप्न को साकार  करने की  बात के रूप के....  उस स्वप्न का एक भाग  जो उन्होंने  एक सर्व सुविधा  और सर्व चिकित्सा विधि युक्त  चिकित्सालय के बारे मे.. अपना स्वप्न हम सभी  शिष्य और शिष्याओ के सामने  रखा ...उसकी दिशा मे  हमने  पहला कदम... आज  रख ही दिया.

आलोचनाओं और घात प्रतिघात,आरोप और प्रत्यारोप के मध्य से निकलते हुये हम, भले  ही कई बार आप सभी के सामने ऐसा लगा कि समय  नष्ट हो रहा हैं पर साथ ही साथ हमने  अपनी ऊर्जा जिस रचनात्मक कार्यों के लिए सोच रखी थी  उस पर गतिशील भी  रहे.

और यह  स्वप्न साकार होने  जा रहा हैं .कैसे ??

हमने  लगभग  15 एकड़ का यह  भूमिखंड  जो कि इस महान और दिव्य कार्य की  दिशा मे  पहला कदम हैं उसे आज हास्पिटल हेतु खरीद लिया हैं .इसलिए आज  25 सितम्बर 2012 का दिन हम सब के लिए अपने  आप मे  एक बहुत  ही बड़ा  और अति महत्वपूर्ण   दिवस हैं .
और यह जमीन हमने विश्व की सर्वाधिक पवित्र नदी  नर्मदा  से सीधे जुड़े  हुये  भूखंड  को लेकर की हैं. हम सभी गंगा नदी को ही सर्वाधिक पवित्र  नदी मानते हैं पर  जो पुण्य  गंगा स्नान से मिलता हैं, वह केबल नर्मदा  नदी के दर्शन मात्र से मिल जाता  हैं, यह तथ्य ही इस बात का प्रतीक हैं .

पर नर्मदा  ही क्यों ??

वह इसलिए कि इस नदी का / इनका साधनात्मक और तांत्रिक महत्त्व आज तक लोग नही समझ पाए हैं.और जो जानते हैं वह इस बात को भी जानते ही होंगे कि क्यों भगवत्पाद  शंकराचार्य जी का दीक्षा स्थल और स्वयं उन्होंने  कितनी बात परिक्रमा की  इस पवित्र नदी की..कुछ बात तो होगी ही..साथ ही सदगुरुदेव ने इस पावन तंत्रोक्त नदी के तट पर अपना साधनात्मक जीवन भव्यता के साथ जिया तभी तो इस पवित्र नदी से जुड़ा यह भूखंड खरीदना सदगुरुदेव जी की असीम कृपा से  यह संभव हो पाया हैं ..

पर आखिर किस शहर मे हैं.??

तो आप सभी जानते  हैं कि शरीर के मध्य मे जिस तरह ह्रदय का स्थान  होता हैं  ठीक उसी तरह भारत वर्ष के मध्य स्थान और तीव्र तंत्रोक्त पीठों और रहस्यों से युक्त मतलब..... मध्य प्रदेश की संस्कारधानी  जबलपुर शहर मे स्थित हैं यह भूमि,जो कि ठीक नर्मदा नदी से  जुड़ा  हुआ,यह पूरा  भूखंड हैं.

हम सभी विगत कुछ समय से,जिस तरह के दिशा निर्देश हम सभी को अपने वरिष्ठ भाई बहिनों द्वारा दिए गए थे.एक प्रकार से  संकेत सा दिया गया की नर्मदा से जुड़ा हुआ  भूखंड को ही प्रथम वरियता देना हैं .और हम सभी इस कार्य मे लगे हुये  थे और श्रम तो बहुत लगा पर  सदगुरुदेव जी कि कृपा  से यह मिल भी गया  और आज हमने  इसे खरीद  भी कर लिया .

आप स्वयम अनुभव कर सकते हैं कि लगभग 15 एकड का यह भूखंड  खोज पाना जहाँ पर हम उन दिव्य औषधियों का उनके पूर्ण वातावरण में रोपण और पालन कर सकें जिनके द्वारा असंभव और असाध्य रोगों का सरलता से निराकरण किया जा सके कोई सरल कार्य नही हैं .किस तरह  इस स्थान तक पहुचे..किस तरह सदगुरुदेव जी की कृपा स्वरुप मार्ग की वाधाएं दूर होती गयी और अनेक ज्ञात अज्ञात लोग सहयोगी होते गए  यह एक अलग तथ्य होगा .

आप सभी इस बात को भलीभांती जानते हैं कि सदगुरुदेव जी ने जिस स्वप्न को हम सबके लिए देखा उसमे बस  एक चिकित्सालय  बनबाना ही केबल एक कार्य या उदेश्य नही था ,वरन उसके पहले  उन्होंने स्वयं के प्रयासों से  दिव्य जड़ी बूटियों के  संरक्षण के लिए  उत्तराखंड  मे पूरा एक उद्यान लगवाया   पर ..उनके  सिद्धाश्रम गमन  के बाद किसी ने उस स्थानों की  कोई फिर्क  नही की. परिणाम आप सभी जानते हैं ही कि वे स्थान हैं  कहाँ ? या थे कहाँ? यह भी आज किसी को नहीं मालूम .

क्योंकि यदि दिव्य जड़ी बूटियाँ ही सुरक्षित नही  होगी  तो कैसे इलाज संभव होगा. रस शास्त्र,कायाकल्प,वनस्पति तंत्र और आयुर्वेद का पुनरोद्धार कैसे  संभव होगा .

तो क्या यह जो चिकित्सालय बनेगा  वह सिर्फ आयुर्वेद आधारित होगा ??

ऐसा नही  हैं बल्कि ..जितनी भी ..विधाए संभव हैं,  फिर वह चाहे आधुनिक चिकित्सा  और उसके अत्याधुनिक यन्त्र हो,तांत्रिक चिकित्सा का गुह्यतम विधान हो या मंत्र चिकित्सा या यज्ञ चिकित्सा,सूर्य चिकित्सा,सम्मोहन या प्राकृतिक  से लेकर जितने भी ..होमियोपैथिक,एलोपैथिक से लेकर  जो भी संभव हो..उसका  एक अति महत्वपूर्ण केंद्र बनाना हैं ..जिस स्थान के  बारे मे  सदगुरुदेव जी ने कहा हैं कि जहाँ  मरता हुआ व्यक्ति भी  आकर जीवन रक्षा अपनी कर पाए  ऐसा  अद्भुत स्थान ..होगा .यह.और सबसे महत्वपूर्ण बात कि वह भी निशुल्क ..जहाँ व्यक्ति को धन,धर्म,जाति आधारित    संक्रीणताओ से नही बल्कि  सिर्फ मानवतावादी दृष्टीकोण से देखा  जाएगा एक ऐसा  स्थान....सभी उच्चस्तरीय चिकित्सा  सुविधा  पर......वे भी सभी  निशुल्क

पर कब तक ...कैसे ..कौन करेगा ..यह संभव ???

मित्रो, हजार कदम की  यात्रा भी  पहले सिर्फ एक छोटे से  कदम से  ही शुरू  होती हैं .
और एक शिष्य भी अपने शिष्यधर्म का पालन करते हुए गुरु के स्वप्न को साकार कर सकता है,उसके लिए भीड़ का सहयोग और जबरदस्ती की अंधश्रद्धा नहीं चाहिए होती है,अपितु सदगुरु तत्व से उसे इतनी सामर्थ्यता प्राप्त हो जाती है की वो शिष्य रहकर भी कार्य को सफलतापूर्वक अंजाम तक पंहुचा सकता है ध्यान रहे सदगुरुदेव जी के  स्वप्न मे अनेको आयाम रहे हैं. सिर्फ यह नही की किसी भी तरह का किसी भी अन्य संस्था के सहयोग  से कोई भी चिकित्सालय बनवा अपनी पीठ थपथपा ले  और  अपने  आप को  बहुत ही सफल या योग्य घोषित कर दें.

मित्रो, अब हैं हमारी अग्नि परीक्षा ...

·      यह  सही हैं मुख्य केंद्र यह दिव्यतम चिकित्सालय  ही  होगा जो भव्य तो होगा पर सिर्फ भव्यता नही बल्कि अपने कार्यों से अपनी सफलता  से  ही जाना जाएगा.
·      पर दिव्य जड़ी बूटियों का संररक्षण हेतु एक विशेष स्थान,यह इस चिकित्सालय के साथ  ही ,जहाँ पर उन सभी  ६४  दिव्य  जड़ी बूटी को लगाया और प्रवर्धित किया जा सके,जिनका उल्लेख कुछ लेखो और सदगुरुदेव द्वारा रचित “मूलाधार  से सहस्त्रार” पुस्तक मे  आया  हुआ  हैं.वह यहाँ इसी स्थान पर होगा.
·      इसके  साथ पुराने लुप्तप्राय दिव्यतम साधना,तंत्र,पारद और आयुर्वेद  ग्रंथो का  पुनः प्रकाशन   वह भी आज की भाषा मे.और उस ज्ञान को प्रायोगिक रूप से देखा परखा जाए .
·      वही साधको की साधना हेतु एक स्थान भी जहाँ पर वे बिना किसी संकोच के  अपनी साधना कर सकें .और  सभी प्रकार का निर्देशन उन्हें पूर्णता के साथ  प्राप्त  हो सकें .चाहे वह  मंत्र साधना की बात  हो या सूर्य विज्ञानं या  क्षण विज्ञान, सम्मोहन, काल विज्ञानं,आयुर्वेद,रस विज्ञानं,रस कर्म चिकित्सा और   ....अन्य अन्य ..

पर कैसे संभव हो पायेगा  यह सब??  यह प्रश्न तो  सभी के मानस मे  हैं .पर  हम निश्चिंत हैं क्योंकि हमें  कोई संदेह नही बल्कि पूर्ण विश्वास हैं, और पल पल हमें  सदगुरुदेव जी के  सन्यासी शिष्य शिष्याओ का सहयोग  निर्देशन और उनका  ज्ञान भी जो लगातार  मिल रहा   हैं.एक क्षण के लिए भी, इस कार्य और कार्य हेतु लगे व्यक्तियों पर उन सभी परम पवित्रो... की दृष्टी हिलती नही

सदगुरुदेव जी के  आत्मवत स्वरुप  पूज्य श्री राघवदास बाबाजी हो,पूजनीय  बंगाली माँ,पंचमी माँ,सौंदर्या माँ,भैरवी माँ,धूर्जटा माँ जी हो या पूज्य अरविन्द भाई जी, पूज्य पारितोष भाई जी,पूज्य हसद बक्श जी, और  अन्य अन्य सभी पवित्रो... ने यह स्पष्ट कर रखा हैं कि कोई व्यक्तिवादी बात नही बल्कि जो कार्य  होगा वह केबल और केबल सदगुरुदेव जी के स्वप्न और उनके आदर्शों और  दिए गए  संकेत  पर  ही आधारित होगा. और सदगुरुदेव जी की गरिमा के,उनकी उच्चता के अनुरूप  होगा.और इस हेतु किसी भी प्रकार कि कोई भी  ढील या छूट नही  दी जा सकती हैं .

निश्चय ही आप सभी का विश्वास अर्जित करने  हेतु..... कि हम सभी का स्वप्न  क्या हैं.जो कि हर शिष्य और शिष्या का होना ही चाहिए, आखिर  सदगुरुदेव सभी के अपने हैं.
इस हेतु हमने  हर बात   जो आज  तक कार्य या बातें की /कही उसे इस महत कार्य का नीव का पत्थर  ही माने जैसे .. 
·      फिर  वह चाहे  ब्लॉग पर लगतार उच्चस्तरीय  साधनात्मक  लेख और तथ्यों का  आना .
·      याहू ग्रुप और फेस बुक के निखिल अल्केमी ग्रुप पर भी एक योग्य शालीन वातावरण का लगातार बनाये रखना और सदगुरुदेव और साधना सबंधित बातें  ही प्रमुखता से होना कोई भी भड़काऊ और किसी भी प्रकार के  धर्म, देश,जातिगत,  रंग भेद  और  किसी भी अन्य संक्रीणता से अपने को दूर रखना .
·      तंत्र कौमुदी  फ्री  द्वि भाषी ई पत्रिका का लगातार  प्रकाशन ..
·      वही पारद विज्ञानं के संस्कारों से सबंधित तीन कार्यशालाओ का  सफल आयोजन..
·      वहीँ एक दिवसीय  सेमीनारो का  भी सफल  आयोजन ...
·      साधना के लिए  सबंधित यंत्रो का हर माह  फ्री  से  दिया  जाना.
·      आपकी हर साधना जिज्ञासा के लिए NPRU TEAM का लगातार आपके साथ   होना ..
·      कवच और अन्य समस्या समाधान आदि भी

आप स्वयं ही बताये,इनमे से कौन सा कदम ऐसा रहा, जिसके  बारे मे सभी लोगों को शक  न रहा होगा कि यह कैसे अकेले  NPRU(निखिल पराविज्ञान शोध इकाई) के  द्वारा  संभव हो सकता हैं ..पर  हमने यह कर दिखाया .हलाकि  सभी को प्रारंभ मे संदेह ही था कि  कैसे एक शिष्य बने  हुये  हम यह कार्य कर  रहे हैं ..पर हम अपने  आदर्शो  से  रंच मात्र भी हटे नही .
और आज जो भी,जितनी  निम्न स्तर तक की राजनीति,जो छल या  आरोप लगाए /लगवाए जा रहे हैं,वह इस बात का स्वत प्रमाण हैं कि हमारा कार्य अब कितनो को प्रभावित कर रहा  हैं.????आज जो हमें 60 दिन की अवधि  दी गयी हैं की  भीषण तंत्र प्रहार कर के हम सभी समाप्त कर दिया जायेगा,पर उन सभी के  द्वारा किया जा रहे  प्रयोग हम सभी के लिए कितने  अनुकूल सिद्ध  हो रहे हैं,आप स्वयं देख सकते  हैं.और निश्चय ही ये ६० दिन और अनुकूलता ले कर.सफलता लेकर आएगा.  

चलिए जाने  दें यह   तो बात   होती रहेगी .

अभी हम इस बृहद भूखंड  की बात करें .जबलपुर मे छुपे साधनात्मक तांत्रिक महत्वता  की बात तो हमने कई कई बार की हैं ...और इन्ही साधनात्मक  उच्चता के कारण इस  शहर को अपने  वरिस्ठो की आज्ञानुसार हमने इस कार्य हेतु चयन किया ..नर्मदा के अति पावन तट से जुड़ा, यह भूखंड अपने आप मे अप्रितम होगा ..निश्चय  ही ...जिस  स्वप्न को साकार करने के लिए,  आज यह प्रथम ठोस कदम पड़ रहा हैं, वह भविष्य की अनंत संभावनाए अपने आप मे  समेटे हुये  हैं .इस बात का  आप सभी निश्चय मानिए, NPRU   ने जिस काम को पूरा करने का निश्चय किया,उसे पूरा होना ही हैं क्योंकि हम सभी ने अपने आपको सिर्फ निमित्त मान कर चले हैं इससे ज्यादा कुछ भी नही.और आप सभी  का जो स्नेहमय सहयोग आज तक हर कदम, हर पल मिला   वह  तो ...अविस्वसनीय  हैं .और 

आप सभी काफी समय से यह जाने को उत्सुक रहे कि अब नया क्या ..पर मित्रो, हम चुपचाप सारी समस्याए झेलते हुये ..इस बात को मन मे बनाए रहे कि सदगुरुदेव जी का  कोई भी शिष्य, जो उनकी चेतना से युक्त हैं,कभी भी हार नही सकता.कुछ पल की  प्रतिकुलताये अवश्य कुछ मार्ग मे  रोड़ा  बन् जाए   पर वह उन्हें भी सीढियां बनाकर आगे बढ़  ही जाएगा .

आपके सामने इस भूखंड के कुछ दृश्य ..रख रहे हैं साथ ही साथ गूगल अर्थ से  फोटो भी  ताकि आप जब यहाँ आओ  तो जान  सको कि यह वही भूखंड हैं जिसकी फोटो या विडियो हम आज दिखा रहे हैं ऐसा नहीं की बाद मे आपको  कोई दूसरा स्थान दिखाकर गुमराह कर दे  दें,या कोई भी उल्टा सीधा तर्क दे दे की इस कारण अब उसकी जगह यह  दूसरा स्थान चुना गया हैं ...........ताकि आप इस भूखंड को जो आने  वाले समय की असीम संभावनाओं को अपने गर्भ मे छुपाये हुये हैं, किस तरह से एक आधार बनेगा ..आप सभी इस बात का स्वयं एक प्रत्यक्ष  गवाह बनोगे,और ये तो शुरुआत मात्र है,समय स्वयं ही बताएगा की कार्य की गति कहाँ तक जायेगी.

अब आप स्वयं कब इस स्थान पर ..???

मित्रो .
अब समय  हैं की अब कार्यों को गतिशीलता  और तीव्रता कई कई गुणा कर दी ही जाये.अभी तक हम कार्यों को प्राथमिक रूप मे एक सम्पूर्ण  रूप से देख रहे थे, पर इस भूखंड के खरीदने के बाद अब हम  इस कार्य को अनेको  चरण मे बिभाजित कर रहे हैं और इस  एक ..एक चरण को  जितनी तीव्रता  के साथ संभव हो सकता हैं उसको सम्पन्न करते जायेगे ,और यह आप लोगों के लिए नही,बल्कि हम लोगों के द्वारा, स्वयं के लिए  ही एक चरण की समय सीमा निश्चित कर के होगी.और उस समय सीमा के पालन मे कोई भी कोताही नही .

सदगुरुदेव जी के सभी आत्मवत वरिस्ठो ने लगातार हमें  और और कार्य करने को निर्देशित किया.उन्हें जमीनी हालात का और सच्चाई का और इन भीतर घात करने वालो का सभी का पता रहा पर उन्होंने हमेशा कहा कि पहला कदम तो हमेशा से ही कई कई कठिनाई  युक्त  होता हैं.पर अब तो  पहला कदम इस चिकित्सालय के लिए हो गया .अब यह स्वप्न एक साकार रूप मे आने को  तैयार हैं. अतः अब और ..केंद्रित रूप  से ..लक्ष्य पर कार्य रत रहो.अपनी सारी ऊर्जा अब सिर्फ ....लक्ष्य पर  .

इसलिए अब हमारा उदेश्य .लक्ष्य बिलकुल साफ और स्पस्ट हैं .

एक बात और उठती हैं कि आखिर  इस  चिकित्सालय कि उपयोगिता हैं ही क्या ..और क्या होनी जा रही हैं.??क्यों इस बात को ..इतना ..???

मित्रो मैं आपको यह बताना चाहूँगा कि यह कोई  सर्दी खांसी  ठीक करने का  नही बल्कि जितने भी असाध्य रोग हैं ,जिस भी तरह के हैं उन सभी के इलाज के लिए यह बनने  जा रहा हैं, फिर वह चाहे कैंसर के किसी भी स्टेज का व्यक्ति हो ... से लेकर असाध्य  मानसिक रोग ....समस्त प्रकार की लाइलाज बिमारी .जिनके इलाज के बारे मे सोचा भी नही जा सकता ...उन सभी का सफलता पूर्वक इलाज .....वह भी पूर्णतया निशुल्क ..यही लक्ष्य  हैं .क्योंकि अभी लोगों ने  सिर्फ सम्मोहन विज्ञानं के कुछ आयाम देखें हैं कुछ  उपयोग देखें हैं   पर सूर्य विज्ञानं,चंद्र विज्ञानं,नक्षत्र विज्ञान,काल विज्ञान,पारद तंत्र चिकित्सा के अद्भुत आयाम कहाँ जाने हैं . यह ज्ञान ही  सारा असंभव कार्य को संभव  कर दिखायेगा .....

आप सभी के लिए अभी यही  सूचना हैं कि हम सभी..सदगुरुदेव जी के  संन्यास  दिवस  पर इसी स्थान पर मिलने जा रहे हैं,जहाँ पर हम भूमि पूजन करेंगे ...और आप सभी कि उपस्थिति के बिना कैसे होगा क्योंकि यह कोई एक का नही...सिर्फ NPRU का ही  नही  बल्कि  सभी शिष्य शिष्याओ के ह्रदय की आवाज हैं कि सदगुरुदेव जी ने  एक छोटा सा कार्य एक छोटा सा स्वप्न हमारे सामने रखा.... क्या  हम वह भी नही कर पायेंगे.??? हमें उन्होंने अपने  स्व रक्त से सालो साल सींचा हैं तो हम असफल कैसे हो सकते हैं ??..हम हर हाल मे सफल होंगे ही .....

आज का दिन हम हम सभी के लिए  कितना सुखद हैं, हम शब्दों मे नही कह सकते ..जिस स्वप्न को पूरा करने हम निकले,  उसकी आधार शिला आज तैयार  हो गयी ..अब किसे शक  होगा कि सदगुरुदेव जी का  एक शिष्य या शिष्या क्या नही कर सकता ..हर मे निखिल रक्त  ही प्रवाहित हैं ..

और मित्रो और   अब यही घड़ी यही बेला ......
आप सभी के  स्नेह आशीर्वाद ,शुभ कामनाओ की ...आशा आकांक्षा मे हम सभी    

     ****NPRU****    

5 comments:

Radhe said...

"सदगुरुदेव के स्वप्न अनुरूप.....हॉस्पिटल ...की ओर पहला कदम..... " पढ़ कर बहुत अच्हा लगा ......सही कहा आपने ".लक्ष्य पर कार्य रत रहो.अपनी सारी ऊर्जा अब सिर्फ ....लक्ष्य पर ."
हॉस्पिटल बनने से भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति फिर से जाग्रत होगी ..और सबसे अची बात है की सभी का पूर्णतया निशुल्क इलाज ....!! जय सदगुरुदेव !!

Radhe said...

"सदगुरुदेव के स्वप्न अनुरूप.....हॉस्पिटल ...की ओर पहला कदम..... " पढ़ कर बहुत अच्हा लगा ......सही कहा आपने ".लक्ष्य पर कार्य रत रहो.अपनी सारी ऊर्जा अब सिर्फ ....लक्ष्य पर ."
हॉस्पिटल बनने से भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति फिर से जाग्रत होगी ..और सबसे अची बात है की सभी का पूर्णतया निशुल्क इलाज ....!! जय सदगुरुदेव !!

Taiyakes said...

very good start brothers. the place were all sickness can be curable.

tell me how I can be helpful to fulfill sadguru wishes.

Deepak Vishwakarma said...

नमस्कार , यह लेख पढ़ कर मेरा रोम रोम पुलकित हो रहा है और इस पवित्र और भव्य उद्देश्य की पूर्ति में हमारा तुच्छ योगदान हमारा सौभाग्य होगा।

Deepak Vishwakarma said...

नमस्कार , यह लेख पढ़ कर मेरा रोम रोम पुलकित हो रहा है और इस पवित्र और भव्य उद्देश्य की पूर्ति में हमारा तुच्छ योगदान हमारा सौभाग्य होगा।