There was an error in this gadget

Friday, September 14, 2012

TOOTAN.....SOUND OF BREAK HEART




Dear Brothers and sisters,

From quite some time, series of blows and counterblows is going on regarding my work or aims……It seem that full preparation has been done onISSPLIST YAHOO GROUP ; full support is being given. I could have given the reply there also but it would not have solved any purpose there. Therefore, let us face them straight on. It may happen that thought of my brothers and sisters may change regarding me but now I have become helpless. I have thought many times; rather I have always said that my dedication is towards only my Sadgurudev, nobody else has given me anything and nor I have taken anything. Those who feel offended by this, they can abuse me, leave me. But first introspect yourself and ask your heart that why I have done this in present circumstances and what is truth and what is false. I have given links below. Please read it once. This post of mine, you can make it reach to anyone who you want to or definitely paste it in that group where all this conspiracy is getting cooked.

I am not any Siddh person, but they are inclined to make me Maha siddh. All capability of mine is due to my Sadgurudev only; there is nothing special of me in it.

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16780

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16777

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16775

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16767

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16759

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16756

Based on the above mails, I would like to clarify some facts ……The person among them who have blamed me, they are very big scholars whose real photo and id is not known to people, but still they are real disciple, they by becoming spokesperson decide about my truth and fakeness, such right has been given to them by Shri Nand Kishore ji and Shri Kailash ji and they all say that they have been told to do so by Guru dhaam.

Now let me introduce them

Mr. SOMY BIST is that sadhak who while joking has done vulgar act of portraying relation between brother and sister as relationship of marriage in one of Facebook group, he is all accomplished.

The post which NIKHILANAND NIKHIL JI has put in group, I have given its answer also but he did not publish that answer. He is that great person who was asking sadhna from me for so many years and lauding it .I can show his requesting mail to you all whenever you want. This great man says that I have made a very big building in Bhopal .Then why he can’t come here and show me that building which is invisible to my eyes. He says that I have earned money from seminar. Now whether I have earned it or not, this decision can be taken by those brothers and sisters who have attended it and whom they all say foolish.


Beside these, there are few great persons also who are saying that kill Arif, it is Guru Order and now it is proved also that they have got the orders from Trimurti Gurudev and they have been given the right.All those brothers and sisters who know me personally, they all know that I have not done any act due to which I have to feel ashamed in front of Sadgurudev. I have bear all these things just to avoid it but for how long.I am not a coward .Now I have become very much compelled regarding defense of my self-respect.

Those who have got orders to destroy me, whereas I have said 50 times that I have no relation with Trimurti Guru, but still I have not written anything bad about them, but why again and again they all are taking my name .What I have done against them and when?


Therefore now these person or those who have given orders to them will give answer to few of my questions.Because when I will give answer, then everything will tremble and that too very badly. I have got proof for each and every thing.

Does there Guru Bhakti is only limited to opposing me .Where are they when…

When shivir or programs of so-called Gurus happen in their cities?? How many times they have opposed them?

Do they not get any orders to stop those Gurus??

For what, they are opposing me or why they are feeling offended??

When I was earning lakhs of money in seminar according to them, why they were not stopping me, exhibiting their Guru-Bhakti?? And why they were not testing the truth and untruth??

Does problem of these persons will end by not giving Sadgurudev’s name as my Guru?



Will reality change??

When I was being declared as illegitimate child of Sadgurudev , when fingers was raised on my Sadgurudev’s character then where were these great disciples and Guru-bhakts??

At that time were they not feeling angry, why they not do anything, then their Guru-Bhakti or Shishya duty was not pinning them??

And my real photo and address along with name is available on net and with Guru Brothers than why these Maha Siddh and Guru Bhakt do not do Maaran Karma or Tantric Karma on me??


When they and their supporters have attained so many siddhis, then why do they not bite instead of barking??

Why do not they come in front and face me physically or by tantra ??

What will barking yield.  If you actually have something in you then whatever you are saying in mails, do it and show us??

Let me see what your Guru has taught you??

What is the meaning or definition of Spirituality in your point of view, you scholars???


Does in your view ,Spirituality is bound in caste-centric dharma or any particular religion has got only right to it?

Are they not conscious about their progress in sadhna or dothey not have time to ask their Gurus about knowledge of sadhna and their aim of life?Why they want to know only about me??

After all, why the two gurus have given orders to kill me or destroy me, whereas I have not done or said anything against their interests??

If I would have been fraud thatSadgurudev would have uprooted and destroyed me long back. Because only he has given me so much ability and beside him, I am not afraid of anyone, then whosoever he may be.

Now when I have not attended any shivirs from so many years, I do not have anything to do with anyone then why I am their target,whereas beside Sadgurudev nobody else has provided me any knowledge of Parad, Tantra, Sammohan or astrology.

Now those few above-said great person who are after my life, please tell that

After Sadgurudev, who is the supreme authority??

Sadgurudev has said that there is no difference between me and Mata Ji, and then what is the meaning of not following her orders in the view of these foolish??

DefinitelyMata Jibecause she is mother of us all, when publication of magazine stopped, then she said something to all disciples, she gave some orders, what washer order??

Was her order not order of Sadgurudev???

 Or her orders do not have any significance in eyes of these hypocrites???

And who all followed her orders word by word???

Why Mantra Tantra Yantra Vigyan magazine stopped???

What were the conspiracy and whose conspiracy and plan was it behind this condemnable act??

It is when by our good-fortune, Mata ji is among us to provide blessings??

Now name of various-2 institution have started coming on Guru Chadar, Is Chadar only for sake of wearing it??


Why doubtful accusations are made in one place when Diksha is taken from other place, whereas Sadgurudev has circulated equal powers to all three of them???

Why old Guru Brothers have stopped going to shivirs, what was done that they were forced to take such a step???

Do these great scholars who are accusing me know that In Palampur in Himachal Pradesh, Ashram of one Senior Guru Bhai was being made, if I would have given the demanded money? But I did not do it .Now they have become the well-wisher of institution??? He got rid of debt of his well-wishers by me and forcefully entangled me in construction of temple. He demanded 50 lakhs of rupees from me for purchasing house of one well-wisher and when I oppose his demands then he is issuing fatva against me and telling my reality. Who is he??

Why for 2-3 years no work of Diksha and guidance was done in Kohat???

On whose saying, Sadgurudev’s treatment was delayed???

The one who is accusing me of earning lakhs from Guru Brothers, do they know that what was proposal put forward  for me or do these great scholars know Parad Idols worth 6 lakhs of rupees have been given free of cost to Shri Kailash Chandra Ji and no money was taken for it??? To whose pocket this money belong???

From whom, Lakhs of rupees were taken in the name of providing success in work and then they were thrown out like fly from milk??


Whenever I met them, what was my request and what was their proposal??

How can these people give orders to kill me??

When they have not given me any knowledge???

Is my endeavour to fulfil dream of their father (My Sadgurudev) wrong??

And is this so big a reason that they are compelled to take such a step??? They can simply destroy me by their thought only, then why this compulsion??


Is teaching obsolete Vigyans (which are not discussed) to one’s own brothers and sisters practically is wrong???


Is teaching those Vigyans, practically through those procedures is wrong in disguise of which curious person were looted??


Would it have been correct to hide these aspects and let die this divine knowledge for ever??


Did our Sadgurudev teach all this???


All this when they have not given me knowledge in any form anytime???


And when you have not given it, then who are you to stop me?? 


Why I am the target, when so many hypocrite gurus are doing their business in nice manner, why do they not give their name in their magazines????

Sadgurudev’s dream was to construct hospital, amazing and unparalleled, what is progress done whereas Sadgurudev had made the arrangements for land and money for its construction???

Arrangement of Sadhna Shivir was done by Sadgurudev for fulfilling this dream, but what is the motive now??


Why shivir is not done in Bhopal???

Why no effort is made for this???

What is the reality behind it???

I myself  in 2002 did sadhna in Narmada waters in chilling winters of December January for organising Bhopal Shivir and due to it ,permission for Navraatri Shivir was given in Saarni (M.P) Makar Sakranti Shivir , but in March, during Holi Shivir , it was transferred to Vidisha. Reason behind it was promise given to someone not to do shivir in Bhopal. After all how and when, for what reason promise was given?? If you wish, you can see my name in list of organiser of Vidisha shivir in March-April 2002 edition.

Few months before, shivir of Shri Arvind ji could have been organized, it was not done due to health of Mata Ji. But still that shivir could have been done .it was not done due to well thought-out policy????

What was that policy???

Why any of so-called gurus is opposed in magazine by taking his name???

If I was wrong , then why by my assistance , that senior Guru Brother want to get rid of debt of his dear-ones , purchase house of one of his acquaintances and construct one temple ???
If I am wrong, then why all the tantrik prayogs done by them on me are not yielding any results???

This also when they are doing it continuously???

HaveI taken debt from anyone of them??

Have I harmed anyone??

Then how far is it justified to give me threats from here or there??

Come and attack me, why the delay???

If they do not give answers to my questions then there are so many things, whose answer I will give very soon with full evidence and will reveal the complete truth with evidence. I have nothing to lose, I am not afraid of anyone, but now I will not let anyone play with my self-respect.

I will show by constructing Sadgurudev’s dream his hospital very soon without any fraud and cheating and with the same excellence, same divinity which Sadgurudev had been saying.I would not like to do any such act which hurt his heart. My love , my dedication , my life is only for him  and if anyone tries to raise obstacles in it then no pardon is possible from my side at any cost.
     
My Brother and sisters, definitely all these would have hurt you. You all are free to leave me and say bad about me, but I can’t bear it anymore.Now this side or that side….

There is no question of middle path.
 ================================

प्रिय भाइयों और बहनों,
       बहुत समय से आघातों और प्रत्याघातों का दौर जारी है,मेरे कार्यों या उद्देश्यों को लेकर.... ISSPLIST YAHOO GROUP पर जैसे मेरे लिए पूरी तयारी की गयी है; पूर्ण समर्थन दिया जा रहा है. मैं ये जवाब वहाँ पर भी दे सकता था,किन्तु वहाँ कोई खास औचित्य नही होता.अतः अब आमने सामने ही अब दो दो हाथ कर ही लेते हैं, हो सकता है मेरे लिए आप सब भाई बहनों के विचार बदल जाएँ किन्तु मैं अब मजबूर हो गया हूँ. मैंने बहुत बार विचार किया,किन्तु मैंने सदैव सदैव से कहता आया हूँ की मेरी निष्ठां,मात्र मेरे सदगुरुदेव के लिए है, किसी और ने ना मुझे कुछ दिया हैऔर ना मैंने कुछ लिया है. इस बात पर जिसे बुरा लगे,वे सभी मुझे जी भर कर गालियाँ दे देना,मेरा साथ छोड़ देना,किन्तु पहले एक बार टटोल कर अपने ह्रदय से पूछना की मैंने अब,अभी वर्तमान की परिस्थितियों में किस परिस्थिति में ऐसा किया और क्या सत्य है और क्या असत्य.मैंने नीचे लिंक दिए हैं,एक बार जरुर पढियेगा.मेरी इस पोस्ट को जिस जिस तक पहुँचाना है,पंहुचा दीजिए या उस ग्रुप में अवश्य डाल दीजियेगा,जहाँ ये सारी खिचड़ी पक रही है. 

मैं कोई सिद्ध व्यक्ति नही हूँ,किन्तु ये सभी मुझे महा सिद्ध बनाने पर तुले हुये हैं. मेरी जो भी क्षमता है,वो सब मात्र मेरे सदगुरुदेव की वजह से है,मेरी इसमें कोई विशिष्टता नहीं है.

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16780

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16777

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16775

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16767

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16759

http://groups.yahoo.com/group/issplist/message/16756

 उपरोक्त मेलस् के आधार पर अब मैं कुछ बातों को साफ़ कर ही देना चाहता हूँ....इसमें से जिन भी व्यक्तिओं ने आक्षेप किया है,वे सभी बहुत ही विद्वान है,जिनकी वास्तविक फोटो और आई.डी. तक लोगों को पता नही है,किन्तु वे हैं सच्चे शिष्य,वे प्रवक्ता बनकर मेरी सच्चाई और झूठ का फैसला करते हैं,ऐसा उन्हें श्री नन्द किशोर जी और श्री कैलाश जी ने अधिकार प्रदान किया है. और वे सब ऐसा कहतें हैं की उन्हें ऐसा करने को उनके गुरुधाम से कहा गया है.

 अब मैं जरा उनका परिचय दे दूं.

 श्रीमान SOMY BIST  जी वही साधक हैं जो हास परिहास में एक बहन को भाई से वैवाहिक सम्बन्ध मे जोड़ने का अश्लील कारनामा फेसबुक के एक ग्रुप में करते हैं,उन्हें सर्व्सिद्धिता प्राप्त है.

 श्रीमान NIKHILANAND NIKHIL JI ने जो पोस्ट ग्रुप में डाली थी,उन्हें उसका उत्तर भी मैंने दिया था,किन्तु उन्होंने वो उत्तर नही पब्लिश किया,ये वही महानुभाव हैं,जो मुझसे कई सालों से साधनाएं पूछते रहे हैं और  वाह वाह करते रहे हैं,आप सब जब चाहेंगे मैं उनकी वो विनीत भावी  मेल  आपको दिखा दूँगा. इन महानुभाव का ये कहना है की मैंने भोपाल में बहुत बड़ी बिल्डिंग खड़ी की हुयी है, तो ये मुझे आकर वो बिल्डिंग क्यूँ नही दिखा देते जो मेरी नजरों से अदृश्य है. ये कहते हैं की मैंने सेमीनार से पैसे कमाए,अब मैंने कमाए या नही कमाए,ये फैसला तो जो भाई बहन वहां आये थे,और जिन्हें ये सभी बेवकूफ कहते हैं,वे ही जान सकते हैं.

 इसके अलावा और भी कई कतिपय महानुभाव हैं,जो सबको ये कह रहे हैं की आरिफ को मार डालो,ऐसी गुरू आज्ञा है और अब ये साबित भी हो गया है की इन्हें त्रिमूर्ति गुरुदेवों की आज्ञा है,इन्हें अधिकार दिया गया है, जिन भी भाई बहनों का मुझसे व्यक्तिगत परिचय है,वे जानते हैं की मैंने कभी कोई भी ऐसा कार्य नही किया जिससे मुझे मेरे सदगुरुदेव के समक्ष शर्मिंदा होना पड़े,मैंने हर बात सही है सिर्फ इसलिए की चलो जाने दो.किन्तु कब तक.क्यूंकि मैं कायर नही हूँ अब मैं बहुत मजबूर हो गया हूँ अपने आत्मसम्मान की रक्षा को लेकर.

ये जिन्हें आज्ञा मिली है की मुझे बर्बाद कर दें, जब की मैं ५० बार कह चुका हूँ की मेरा त्रिमूर्ति गुरू से कोई सम्बन्ध नहीं है,किन्तु फिर भी मैंने कभी उनके बारे में कोई अनर्गल बात नही की है,किन्तु बार बार मेरा ही नाम क्यूँ ले रहे हैं ये सभी,मैंने उनके विरोध में ऐसा क्या किया है और कब ??

इसलिए अब मेरे कुछ सवालों के जवाब ये लोग देंगे या इन्हें आज्ञा देने वाले.क्यूंकि जब मैं उत्तर दूँगा तो बहुत कुछ हिल जायेगा और वो भी बुरी तरह से. क्यूंकि हर बात का मेरे पास प्रमाण है.

क्या इनकी गुरू भक्ति मात्र मेरा विरोध करने मे ही है,ये तब कहाँ जाकर मर जाते हैं....

जब तथा कथित गुरुओं के शिविर या कार्यक्रम इनके शहरों में होते हैं ??? इन्होनें कितनी बार उनका विरोध किया है ???

क्या उन्हें उन गुरुओं को रोकने की आज्ञा नहीं मिलती है ??

किस बात पर मेरा विरोध हो रहा है,या इनके पेट में दर्द हो रहा है ??? 

सेमीनार के समय जब मैं इनके कहे अनुसार लाखों कमा रहा था,तब ये आकर अपनी गुरू भक्ति प्रदर्शित करते हुये मुझे क्यूँ नही रोक रहे थे ?? और क्या सत्य-असत्य है,उसे क्यूँ नही परख रहे थे???

क्या सदगुरुदेव का नाम अपने गुरू के रूप  में ना देने से इन लोगों की समस्या समाप्त हो जायेगी ??

क्या वास्तविकता बदल जायेगी ??

जब मुझे सदगुरुदेव की अवैध संतान घोषित किया जा रहा था, जब मेरे सदगुरुदेव के चरित्र पर ऊँगली उठायी जा रही थी तब ये महान शिष्य और गुरू भक्त कहाँ मर गए थे ??

क्या तब इनका खून नहीं खौल रहा था,तब कहाँ दुम दबाकर बैठ गए थे,तब कोई गुरू भक्ति या शिष्य धर्म नहीं इन्हें नहीं कचोट रहा था ??

अरे मेरी वास्तविक फोटो और पता तक नाम सहित नेट पर या गुरू भाइयों के पास है तो ये महासिद्ध शिष्य और गुरू भक्त लोग मुझ पर मारण कर्म या तांत्रिक कर्म क्यूँ नही कर देते ??

जब इन्हें और इनके समर्थकों को तो कतिपय ढेर सारी सिद्धियाँ प्राप्त हैं,तब भोंकने के बजाय काट क्यूँ नहीं लेते ??

सामने आकर हाथों से कहो तो हाथों से और तंत्र से कहो तो तंत्र से सामना क्यों नहीं करते?? 

भौंकने से क्या होगा,यदि वास्तव में उतना ही दम है जितना अपने अपने mails पर भौंक रहे हो,उसे कर कर दिखाओ ??? 

मैं भी तो देखूं की तुम्हे तुम्हारे गुरू ने क्या सिखाया है ???

तुम विद्वानों की दृष्टि में आध्यात्म का क्या अर्थ या परिभाषा है??

क्या तुम्हारी दृष्टि मे आध्यात्म जातिगत सूचक धर्मों में बंधा है और उस पर किसी धर्म विशेष का मात्र अधिकार है ???

ये अपनी साधनात्मक उन्नति को लेकर इतने सजग नही हैं या इनके पास अपने गुरुओं से साधनात्मक ज्ञान और अपना जीवन उद्देश्य पूछने का समय नही है जो ये मात्र मेरे बारे मे ही जानना चाहते हैं ???

मुझे मारने की,या बर्बाद करने की आज्ञा आखिर इन्हें उन दोनों गुरुओं नें क्यूँ दियाहै,जबकि मैंने कभी उनके हितों के विरुद्ध कुछ नही कहा या किया ???

 यदि मैं धोखेबाज होता तो मेरे सदगुरुदेव मुझे कबके समूल नष्ट कर देते.क्योंकि मात्र उन्होंने ही मुझे इतनी योग्यता दी है और उनके अलावा मुझे किसी से कोई भय नही लगता है,फिर वो चाहे कोई भी क्यूँ ना हो.

  अब जबकि कई वर्षों से मेरा शिविर में जाना आना नहीं है,मेरा किसी से कोई लेना देना नही है तब मैं किस हेतु से उनका लक्ष्य हूँ,जबकि पारद,तंत्र,सम्मोहन या ज्योतिष का कोई ज्ञान सदगुरुदेव के अतिरिक्त मुझे अन्य किसी ने नही दिया है

अब जबकि उपरोक्त कई महानुभाव मेरी जान के दुश्मन हैं तो वे कृपया ये बताएं की

सदगुरुदेव के बाद किसका स्थान सबसे बड़ा है?????

सदगुरुदेव ने कहा था की मुझमें और माता जी मे कोई भेद नहीं है,फिर उनकी आज्ञा का पालन ना करने का क्या अर्थ है इन मूर्खों की नजर में ???

यक़ीनन माता जी का क्यूंकि वे हम सबकी माता हैं,जब उन्होंने पत्रिका का प्रकाशन बंद हुआ था,तब अपने सभी शिष्यों से कुछ कहा था,कोई आज्ञा दी थी, क्या थी उनकी आज्ञा ??

क्या उनकी आज्ञा सदगुरुदेव की आज्ञा नहीं थी ???

या इन पाखंडियों के लिए उस आज्ञा का कोई महत्त्व नहीं है ??? 

और उनकी आज्ञा का अक्षरशः कितना और कितनों नें पालन किया ????

मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञान पत्रिका बंद क्यूँ हुयी ???

क्या षड़यंत्र था और किसका षड़यंत्र और योजना थी इस निंदनीय कार्य के पीछे??

तब जबकि माता जी अभी हमारे सौभाग्य से हम सभी के मध्य अपना आशीर्वाद देने के लिए हैं ??? 

अब जबकि गुरू चादर पर भी भिन्न भिन्न संस्था का नाम आने लगा,क्या चादर मात्र ओढने का  एक मात्र साधन है??


क्यूँ एक जगह से हुयी दीक्षा की सफलता पर दूसरी जगह संदिग्धता से भरे आरोप लगाये जाते हैं,जबकि सदगुरुदेव ने शक्ति का प्रवाह तीनों पर बराबर किया था ????

क्यूँ पुराने गुरू भाइयों नें शिविर में आना जाना बंद कर दिया था,ऐसा क्या किया गया की उन सभी को ये कदम उठाना पड़ा ???

क्या ये महा विद्वान आरोप लगाने वाले जानते हैं की पालमपुर हिमाचल प्रदेश में एक वरिष्ठ गुरू भाई का आश्रम निर्मित हो रहा था,यदि मैंने उनकी मांगी राशि उन्हें दे दी होती,जबकि मैंने ऐसा नही किया तो आज वे संस्था के सबसे बड़े हितैषी बने बैठे हैं ??? उन्होनें अपने कुछ शुभ चिंतकों का कर्ज मुझसे दूर करवाया और जबरदस्ती एक मंदिर के निर्माण के चक्कर मे उलझाया,एक शुभचिंतक के घर के लिए घर खरीदने हेतु पचासों लाख रुपयों की मांग की और जब मैंने इन मांगों का विरोध किया तो अब ये मेरे लिए फतवा जारी कर रहें.मेरी वास्तविकता सबको बता रहे हैं. कौन हैं वो ??


क्यूँ कोहाट मे २-३ साल तक दीक्षा या मार्गदर्शन का कार्य नही किया गया???

सदगुरुदेव के इलाज में किसके कहने पर विलम्ब किया जाता रहा ???

जो मुझे गुरू भाइयों से लाखो कमाने वाला बता रहा है,क्या वो जानते हैं की मेरे लिए क्या प्रस्ताव रहा है,या क्या इन महाविद्वानों को पता है की ६,००,०००/- रुपयों के पारद विग्रह पूर्णतया निःशुल्क श्री कैलाश चंद्र जी को दिए गए और कोई भी राशि उनसे बदले में नही ली गयी ???? वो धनराशी किसके जेब की थी ???

कार्य मे सफलता दिलाने के नाम पर किस किससे लाखों रूपये लिए गए,और बाद में उन्हें दूध मे से मक्खी की तरह निकाल दिया गया ??

मैं जब भी इनसे मिलता था तो मेरी क्या विनती होती थी और इनका क्या प्रस्ताव रहता था??

मुझे जान से मारने की ये लोग कैसे आज्ञा दे सकते हैं ???

जबकि इनमे से किसी ने कभी मुझे कोई ज्ञान दिया ही नहीं ???

क्या इनके पिता का(मेरे सदगुरुदेव का) स्वप्न पूरा करने का मेरा प्रयास गलत है ?? 

और ये इतना बड़ा कारण है की इन्हें  ये कदम उठाने के लिए बाध्य होना पड़ा ??? वे तो मात्र अपने चिंतन मात्र से मुझे नष्ट कर सकते हैं,फिर इतनी बाध्यता क्यूँ ???

क्या लुप्त विज्ञानों को (जिस पर कोई चर्चा ही नहीं होती है) अपने ही भाई बहनों को प्रयोगिक रूप से समझाना गलत है ??? 

क्या गलत था उन्हें प्रक्रियाओं को प्रयोगिक रूप से बताते हुये उन विज्ञानों को समझाना,जिसकी आड़ मे अक्सर जिज्ञासुओं को लूटा जाता रहा है??

क्या इन पहलुओं को छुपा कर इन दिव्य ज्ञान को सदा सदा के लिए मृत प्राय करना ही उचित होता??

क्या यही सिखाया था,हमें हमारे सदगुरुदेव ने ??? 

वो भी तब जब मुझे इन्होने ये ज्ञान कभी भी किसी भी रूप मे दिया ही नहीं है ?? 

और जो आपने दिया ही नहीं,आप कौन होते हो मुझे रोकने वाले ??

मैं ही निशाना क्यूँ हूँ,जबकि इतने ढोंगी गुरू अपना व्यापार बहुत उत्तम रूप से कर रहे हैं,ये उनका नाम अपनी अपनी पत्रिकाओं में क्यूँ नहीं दे सकते हैं ???

सदगुरुदेव का स्वप्न हॉस्पिटल का निर्माण था,अद्भुत और अद्विय्तीय,क्या प्रगति हुयी है,उस कार्य में,वो भी तब जबकि सदगुरुदेव उसके निर्माण के लिए भूमि तथा धन का प्रबंध करके गए थे ??? 

साधना शिविर का आयोजन सदगुरुदेव इसी स्वप्न की पूर्ती के लिए करते रहे,पर अब क्या प्रयोजन है ??

भोपाल में शिविर क्यूँ नही होता है ???

क्यूँ इसके लिए प्रयास नहीं किया जाता है ???

क्या है इसके पीछे की सच्चाई ??? 

स्वयं मैंने भी २००२ में  भोपाल शिविर के आयोजन के लिए दिसंबर जनवरी की कडकडाती ठण्ड में नर्मदा जी के जल में साधना की थी,और उस कारण नवरात्रि के शिविर के लिए सारणी (म.प्र.) मकर संक्रांति शिविर में  अनुमति दी भी  गयी थी ,किन्तु मार्च में होली शिविर के दौरान उसे विदिशा ट्रांसफर कर दिया गया,और इसका कारण भोपाल में स्वयं शिविर ना करने का किसी को दिया हुआ (जो की उस व्यक्ति को अगस्त २००० मे दिया गया था) वचन था,आखिर किसे और कब,किस कारण से वचन दिया गया था ??? आप चाहे तो मार्च अप्रेल २००२ के अंक में विदिशा शिविर आयोजक के लिस्ट में मेरा नाम देख सकते हैं.

अभी जबकि कुछ महीनों पहले श्री अरविन्द जी का शिविर हो सकता था,तब भी वो माता जी के स्वास्थय की वजह से नही हो पाया. लेकिन वो शिविर तब भी हो सकता था,लेकिन एक सोची समझी नीति के तहत नहीं होने दिया ??? 

क्या थी वो नीति ????

क्यूँ किसी तथाकथित गुरू का विरोध उसका नाम लेकर अब पत्रिकाओं में नही होता है???

मैं यदि गलत था,तो मेरे सहयोग से वो वरिष्ठ गुरू भाई अपने कुछ चहेतों का कर्ज उतरवाना,अपने एक परिचित को मकान खरीदवाना और एक मंदिर का निर्माण क्यूँ करवाना चाहते थे ????

यदि मैं गलत हूँ,तो इन सबके द्वारा मेरे खिलाफ किये गए तांत्रिक प्रयोग कारगार क्यूँ नहीं हो रहे हैं?? 

वो भी तब जब ये लगातार प्रयास कर रहे हैं??

क्या मैंने इनमें से किसी से भी कर्ज लिया है??

किसी का कोई अहित किया है ??

तब मुझे यहाँ वहाँ से,इससे उससे धमकी दिलवाना,कहाँ से न्यायोचित है??

आइये और मुझ पर आक्रमण कीजिये, विलम्ब क्यूँ ???

यदि मेरे इन प्रश्नों का उत्तर ये नही दे पाए तो और भी बहुत सी बातें हैं,जिनका उत्तर मैं सप्रमाण अतिशीघ्र दूँगा.और पूरी सच्चाई को सप्रमाण सबके सामने रखूँगा और हाँ मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं है,जिसका मुझे भय हो, किन्तु अब मैं अपने आत्मसम्मान से किसी को खेलने नही दूँगा. 

     
 मैं सदगुरुदेव का स्वप्न उनका हॉस्पिटल,अतिशीघ्र बिना किसी छल और धोखे के बनवाकर दिखाऊंगा,और उसी श्रेष्ठता से,उसी दिव्यता से,जिसके बारे में सदगुरुदेव कहते रहे हैं. मैं बस कोई ऐसा कार्य नही करना चाहूँगा,जिससे उनके ह्रदय को दुःख हो,मेरा प्रेम,मेरी श्रृद्धा,मेरा जीवन मात्र उन्ही के लिए है,और अन्य कोई इसमें विघ्न डालेगा तो उसे कोई माफ़ी मेरी तरफ से कभी नही,किसी कीमत पर नही संभव है.

मेरे भाई-बहनों निश्चय ही मेरी इन बातों से आपके ह्रदय को ठेस पहुंची होगी,आप मेरा साथ छोड़ने और मुझे बुरा कहने के लिए स्वतंत्र हैं,किन्तु अब मैं और नही सह सकता,अब या तो इस पार या फिर उस पार..

मध्यता का अब कोई प्रश्न ही नहीं है.

****ARIF****



13 comments:

nitin kapoor nikhil said...

we are with you if you the right......but please dont ever think of playing with our sentiments for you and your work.thanks for this huge konwlege of mantras.jai gurudev,sankat kis mhan vyakti ke jeevan mein nhi aya?

nitin kapoor nikhil said...

we are with you if you the right......but please dont ever think of playing with our sentiments for you and your work.thanks for this huge konwlege of mantras.jai gurudev,sankat kis mhan vyakti ke jeevan mein nhi aya?

ss nikhil said...

प्रिय आरिफ भाई ,
जय गुरुदेव ,
आज सुबह आप की पोस्ट पढ़कर मन कुछ देर तक विषण जरुर हो गया पर हताश नहीं हुआ |
क्या इसीलिए गुरुदेव ने शिष्योंका निर्माण किया ? आप ने पोस्ट में सभी बातें सूचक रूप से कही है |
सदगुरुदेव के आखरी समय में क्या हुआ इससे हम अनजाण जरुर है पर बेखबर नहीं है |
संस्था का निर्माण गुरुदेव ने अध्यात्म और व्यवहार इनका मेल बिठाने के लिए किया था | न की झगडा करने के लिए ..
वह कौन दुष्ट है जिसकी वजह से सदगुरुदेव जी को यातना झेलनि पड़ी , मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञान पतिका किसके कारन बंद पड़ी ? ये हम जानना जरुर चाहेंगे
क्यूंकि ये हमारे गुरुघर का मामला है | आप के विचार सदा ही सराहनीय है | आप ने पोस्ट में लिखा है की
क्या तुम्हारी दृष्टि मे आध्यात्म जातिगत सूचक धर्मों में बंधा है और उस पर किसी धर्म विशेष का मात्र अधिकार है ???
की नहीं आरिफ भाई ये लोग गलत है | आप अपने मनसे ये बात कदापि निकाल दे | शिष्य का धर्मं " कर्त्तव्य" होता है ये आप भूल गए क्या ? न की हिन्दू ,मुस्लिम , , सिख , इसाई ,ज्यू ....गुरु के सपनो को साकार करना है ,विचारो को हमें स्थापित करना है जो आयेंगे उनके साथ नहीं आयेंगे उनके बिना
हमारे यंहा महाराष्ट्र में मराठी में बोलते है | " विट्ठाला भोवती बडव्यांची गर्दी " बोले तो पंढरपुर में जो महाविष्णु पांडूरंगजी है उनके पास जाने के लिए भक्तों को उनके
उनके पुजारी वहां के जो " बडवे " नमक है उनसे संघर्ष करना पड़ता है | { ये स्थिति अपवादात्मक है क्यांकि दुष्ट लोग कम ज्यादा संक्या में तो होते ही है " }
हमारी अध्यात्म परंपरा में स्वयं श्रीराम-सीतामैया, अनेक साधू संतो संत ज्ञाननाथजी जैसे महान योगियों को छल करने से नहीं छोड़ा गया तो हम तो साधक ही है |
परन्तु हमारे परिवार में " साधक " के रूप में घुसे हुए " बाधक " समय के प्रभाव से अवश्य सामने आही जाएँगे |
आप इने आवश्यक उत्तर जरुर दे क्यूँ की हम गाँधी युग के नहीं वरण युग प्रभाव से परे सिद्धाश्रम के साधक है | है न ?
तो आप जो भी करे सोच समझ कर करेंगे ये मुझे विश्वास है पर आप इन लोगों की तरफ ध्यान न ही दे तो अच्छा है |
मै अन्ना हजारे जी के गाँव में रहता हूँ बचपनसे मैंने उन्हें देखा है , आपने उनका आन्दोलन टी व्ही पर देखा जरुर होगा पर आज वो इस मक़ाम पर है
परन्तु जरा पूर्व स्थिति भी अवलोकित कीजिये | हमारे यहाँ उन्हें बहुत ज्यादा परेशान किया गया | पर उनका एक वाक्य वो हमेशा कहते है
" जिस पेड़ पर फल है उसपर ही लोग पत्थर मरते है ,लोग बबूल के पेड़ पे क्यू पत्थर मारेंगे भला ? अपने यहाँ रसीले आम है तो जलने वाले पथराव जरुर करेंगे ..
परन्तु चिंता न करे ...सभी गुरु भाई एक जुट होकर कार्य में मग्न रहे तो अच्छा है क्यू की कीचड़ उछालने वालों का दिया तब तक जले जबतक उसमे तेल है ...बराबर ना ... तो हम अपना समय गुरुसेवा मे लगते है अगर कोई एक को भी परेशा करता है तो सब मिलके उस को सबक सिखायेगे ताकि वो किसी और साधक की तरफ आंख ऊपर करके भी ना देख सके ....|
बाकि बाते आवश्य मिलके ही करेंगे
जय गुरुदेव
एस एस निखिल

ss nikhil said...

प्रिय आरिफ भाई ,
जय गुरुदेव ,
आज सुबह आप की पोस्ट पढ़कर मन कुछ देर तक विषण जरुर हो गया पर हताश नहीं हुआ |
क्या इसीलिए गुरुदेव ने शिष्योंका निर्माण किया ? आप ने पोस्ट में सभी बातें सूचक रूप से कही है |
सदगुरुदेव के आखरी समय में क्या हुआ इससे हम अनजाण जरुर है पर बेखबर नहीं है |
संस्था का निर्माण गुरुदेव ने अध्यात्म और व्यवहार इनका मेल बिठाने के लिए किया था | न की झगडा करने के लिए ..
वह कौन दुष्ट है जिसकी वजह से सदगुरुदेव जी को यातना झेलनि पड़ी , मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञान पतिका किसके कारन बंद पड़ी ? ये हम जानना जरुर चाहेंगे
क्यूंकि ये हमारे गुरुघर का मामला है | आप के विचार सदा ही सराहनीय है | आप ने पोस्ट में लिखा है की
क्या तुम्हारी दृष्टि मे आध्यात्म जातिगत सूचक धर्मों में बंधा है और उस पर किसी धर्म विशेष का मात्र अधिकार है ???
की नहीं आरिफ भाई ये लोग गलत है | आप अपने मनसे ये बात कदापि निकाल दे | शिष्य का धर्मं " कर्त्तव्य" होता है ये आप भूल गए क्या ? न की हिन्दू ,मुस्लिम , , सिख , इसाई ,ज्यू ....गुरु के सपनो को साकार करना है ,विचारो को हमें स्थापित करना है जो आयेंगे उनके साथ नहीं आयेंगे उनके बिना
हमारे यंहा महाराष्ट्र में मराठी में बोलते है | " विट्ठाला भोवती बडव्यांची गर्दी " बोले तो पंढरपुर में जो महाविष्णु पांडूरंगजी है उनके पास जाने के लिए भक्तों को उनके
उनके पुजारी वहां के जो " बडवे " नमक है उनसे संघर्ष करना पड़ता है | { ये स्थिति अपवादात्मक है क्यांकि दुष्ट लोग कम ज्यादा संक्या में तो होते ही है " }
हमारी अध्यात्म परंपरा में स्वयं श्रीराम-सीतामैया, अनेक साधू संतो संत ज्ञाननाथजी जैसे महान योगियों को छल करने से नहीं छोड़ा गया तो हम तो साधक ही है |
परन्तु हमारे परिवार में " साधक " के रूप में घुसे हुए " बाधक " समय के प्रभाव से अवश्य सामने आही जाएँगे |
आप इने आवश्यक उत्तर जरुर दे क्यूँ की हम गाँधी युग के नहीं वरण युग प्रभाव से परे सिद्धाश्रम के साधक है | है न ?
तो आप जो भी करे सोच समझ कर करेंगे ये मुझे विश्वास है पर आप इन लोगों की तरफ ध्यान न ही दे तो अच्छा है |
मै अन्ना हजारे जी के गाँव में रहता हूँ बचपनसे मैंने उन्हें देखा है , आपने उनका आन्दोलन टी व्ही पर देखा जरुर होगा पर आज वो इस मक़ाम पर है
परन्तु जरा पूर्व स्थिति भी अवलोकित कीजिये | हमारे यहाँ उन्हें बहुत ज्यादा परेशान किया गया | पर उनका एक वाक्य वो हमेशा कहते है
" जिस पेड़ पर फल है उसपर ही लोग पत्थर मरते है ,लोग बबूल के पेड़ पे क्यू पत्थर मारेंगे भला ? अपने यहाँ रसीले आम है तो जलने वाले पथराव जरुर करेंगे ..
परन्तु चिंता न करे ...सभी गुरु भाई एक जुट होकर कार्य में मग्न रहे तो अच्छा है क्यू की कीचड़ उछालने वालों का दिया तब तक जले जबतक उसमे तेल है ...बराबर ना ... तो हम अपना समय गुरुसेवा मे लगते है अगर कोई एक को भी परेशा करता है तो सब मिलके उस को सबक सिखायेगे ताकि वो किसी और साधक की तरफ आंख ऊपर करके भी ना देख सके ....|
बाकि बाते आवश्य मिलके ही करेंगे
जय गुरुदेव
एस एस निखिल



Kumar said...

charaivati...charaivati....
Jadi tor daak shune koi n ashe tabe Ekla chalo re

Nitin Patil said...

Dear Arif Bhai,I understand that you had been hurt too much, I am with you.I don't know what had happened but i wish that the knowledge you were giving to many like (free of cost)me was great work indeed and should not stop other wise again so called Siddha's will get opportunityto fool the new entrants like me. Hoping to meet you personally once in a life to thank you for giving me such divine knowledge.

Nitin Patil said...

Dear Arif Bhai,I understand that you had been hurt too much, I am with you.I don't know what had happened but i wish that the knowledge you were giving to many like (free of cost)me was great work indeed and should not stop other wise again so called Siddha's will get opportunityto fool the new entrants like me. Hoping to meet you personally once in a life to thank you for giving me such divine knowledge.

pritesh said...

Arif bhai..There main intension is to disturb you by threatning messages to you..And you are disturbed, they are winning. I have seen this many times in past 5-7 years. Whenever somebody wants to share good things some people in the group discourage it.. I have always supported people who are sharing their knowledge for good. If you are sure about your safety from their tantra prayogs then why are you worrying?. Your reply to them in your blog will just ignite the ego more.. Just ignore their messages.. And being a senior sadhak you have to be aware that these fights will discourage new sadhaks from doing sadhanas.. If people are becoming like this after sadhana then who will like to do sadhana? I hope you understood what i want to say.. You are doing good job by helping people who are really interested.. Your work along with raghanath bhai,and anu bhai are appreciable.. Just keep it going..

PREMKRUSHNA MANOJGIR GIRI said...

Ihame intezar hai bhaiyya apaki ane wali sachchai ujagar karne wali posts ka

amit saxena said...

dear all,
there is a saying in hindi which goes like this - 'jab hathi chalta hain to kutte to bhokte hee hain'.
i think its time now to change this saying.
now, this so called gurubhai or shrewd and false disciples of gurudev should be realized that how difficult it could get dogs to save their lives when elephant gets out of control.
Arif bhaiya,
at the same time i would like to assure you that no matter how harsh the peoples or circumstances could get for you. we were with you, we are with you and we will be with you forever.

Taiyakes said...

Arif Bhai,

Judging you or other guru bhai is not my job. Its belong to Sadguru.
I will always choose a side with Sadguru and I can see he is IN you.

I believe we all can see things you have done clearly. Bhai you have actually done what Sadguru want all his sisya to do. Expand and teach others the knowledge of Tantra. Not forgetting to grow yourself while doing that.


Arif bhai you are doing it well compare others who sadguru have trusted.

My humble request to you is please do not stop now. Do more service and teach Tantra. The more they pressure you the more you Teach.

We all behind you. Cheers




sanjay sharma said...

arif bhai...mere paas shabd nhi hai....kabhi kabhi to rona aata hai ki kya ab vo samaye nhi hai jo Sad Guru dev ji ke purane shishya kahte the ki Guru ji parmanik rup se sadhna karvte the....aur jab se Guru dham me treemurti naam alag alag hae...tab se vo pyar ya dil me ek hi aavaaj uthti hai ki jo log Guru dham me baithe hai unhe bilkul bhi sharm ya dar nhi hai ki vo aapas me Itna galat vayahar kar rhe hai aur logo ko bhadka rhe hai...had to tab hue thi jab mai aur mera ek meetr delhi Guru dham me apni sandhaya kar rhe the aur hamre Sadgure dev aur unka yantra phank diya aur hume apmanit kya ki yahan koi ulte sidhe paryog nhi karne hai..jabki hum kavel apni guru pooja karne gye the . jab se apse judne ka saubhgya mila to mujhe ek aasha ki kiran nazar aayi hai....aur mujhe purn vishwas hai ki aap ham sabhi guru bhaiya ko Guru path per aage jane ka margdarshan denge....ye baat mai purn dil se kah raha hoon ki agar Sad Guru ji ke sapne ko koi todne aur aapke ke khilap koi shadyantr karne ki koshish karta hai to use iska anjaam isi janam me Guru sharap ko jhelna padega...Meri aapse yahi binti hai ki koi bhi badha aaye hum aapke sath hai aur Sadguru ji ke sawpan ko pura karenge....apni baat ko yahi bishram deta hooon,....Sabhi Guru bahi khush rhe aur sadhana path per sucessfull ho meri yahi Sad Guru ji se prathana hai...JAI SAD GURU DEV AND JAI NIKHIL.....SANJAY KUMAR SHARMA,SHIMLA, HIMACHAL PARDESH.09779909902

ashish gupta said...

Bhaiya pranaam mai bas itna kahna chahta hu ki mai aapke sath hu kyoki mera dil kahta hai.mai jyada to nahi kah sakta hu kyoki mai abhi naya hu.aur agyani bhi.