There was an error in this gadget

Friday, September 14, 2012

BRAHMACHARYA




Char Iti Brahmacharya ||
Moving towards Bramha or doing conduct like Bramha is Brahmacharya.
Brahmacharya has been considered to be very important part of sadhna world. It is mentioned in all places right from Vedokt Varnashram to Yoga and tantra path. In other words, all paths and aspects are connected to Brahmacharya. Aim of Brahmacharya is not merely progress in sadhna aspects rather it was also connected to materialistic aspects of life. Its mention in ancient scriptures like Atharva Veda, Yogupnashid and Manu Smriti is witness to the fact that it is a Vedic conduct
First of all, it is important to understand the fact that what do following Brahmacharya actually means? There are four aspects of human life Dharma (Religion), Artha (finance), Kama and Moksha (salvation).Here Kama aspect means attainment of complete happiness and pleasure in life by directing Kama energy in suitable manner. There is broad meaning of Kama element attraction element in life, beauty element and living completely all moral activities related to sweetness.
In Vedic Varnashram, following Brahmacharyameant that instead of focusing on Kama energy, attainment of various types of knowledge; when one had attained completeness in this function, person was directed to follow householder dharma. Therefore, here Dharma means Dhaaryati Sah Dharma. In other words, the one which is followed is called Dharma. Moving towards special procedure and aim while following special rules is Dharma through which spiritual progress is possible.
Now here a point to be discussed is that why Kama has been supressed so much?
First of all let us understand that Kama is not any karma sequence or procedure, it is Shakti available to humans. About it, it has been said in Puraan that Purush Shakti (males) is Kaamdev and Stri Shakti (female) is Rati. And these shaktis are naturally attracted towards each other because Purush Kama Shakti is positive and Stri Kama Shakti is negative. Person can utilise Kama Shakti in three ways
Self-satisfaction through physical pleasure
Procreation and lineage-development
Attainment of state of Samadhi (Deep Meditation)
First procedure of Kama, attainment of Kama pleasure, person does for physical and spiritual gratification. Composition of body is such that this act can provide self-satisfaction to humans.
Second procedure of procreation and development of lineage also falls under category of pleasure and prosperity. This aspect has also been considered important element so that person can fulfil his wishes through child and by having capable child, increase the pride of family.
Our ancient sages and saints discovered a lot so as to completely enjoy these two types of acts and for cure of related diseases and they put forward their experience among common people. Ancient scriptures like Kama Sootra, Rati Rahasya, and Anangrang were written so as to live completely Kama, third aspect of life but it is quite unfortunate that in today’s era they have been given the name of Tantra whereas they are nothing but only false misconception in name of Tantra.
The root of these two procedures is, base of them is sperm. Naturally, this sperm eventually comes out of body; composition of nature is like this only, because by accumulating sperm human can move to third stage.
But riddance from Kama element is definitely very cumbersome. It can be suppressed but cannot be destroyed. Kama procedure first of all happens in mind which is eventually transformed in physical form. If it is controlled in physical form then also it is very difficult to control it mentally. In the similar manner if person is able to control it mentally but by entry of even one thought in mind, it is natural for Kama desire to arise in physical form. Some people have conception that if one completely enjoys Kama then one gets rid of it.May be this fact can apply to other aspects but it is not possible in the case of Kama. In Manu Smriti it has been said regarding it that 

Na Jaatu KamahKamanamupbhogenShaamyati
HavishKrishnvatmairevBhooyEvaabhivardhete


It is not possible to get riddance from Kama by fully enjoying Kama. The way, fire ignites much more upon putting ghee in it, same applies to Kama.
Then its remedy is that this energy should be transformed.
Third aspect related to Kama is Samadhi. State of Samadhi means that person loses himself completely in one’s own self and there is no other act than thinking about Brahma.
Upon rise of mental thoughts, physical act takes place and physical sex act lead to decay of sperm. To stop decay of sperm, there is description of Brahmacharya in Yog.

Brahmacharyapratishthaayam Veerylaabhah

Shri Patanjali has written in his Sootra that Pratishtha of Brahmacharya lead to sperm-benefit.
Even after knowing ability of sperm, person is oblivious of its ability. It is the life-giving fluid which can give birth to novel creation so healthy body in life and attainment of long life is definitely possible. There is significance of Brahmacharya in both Yog and Tantra and there is mention of same state in both of them.
Sperm should be accumulated and purified and then its solid form should be changed to liquid form and subsequently it should be transformed in gaseous form. After transformation to gaseous state, sperm spreads completely in whole body and every atom of body is filled with sperm. Every part of human body attains the ability of creation and he definitely becomes master of various types of siddhis.
In Ashtaang Yog, under Niyam there have been told 8 types of following Brahmacharya. They have not merely said indulging in sexual act to be the non-following of Brahmacharya rather they have also advised sadhak to remain away from all such aspects by which person can fall. Thought-process, sweet talks, scenes and staying with female in lonely place are included within it.
Side by side, doing yogic procedures in correct way under direction of capable sadhak also lead to transformation of accumulated sperm. This is called yogic Brahmacharya. Now what is Brahmacharya in Tantra, let’s discuss it.
The procedure which is done in Yoga through the medium of body, the same procedure is done in Tantra through combination of Mantra and procedure. Following Brahmacharya in Tantric sadhna and anushthan is essential. Thinking behind it is as follows.
At the time of Ang pooja (worshipping parts of body), activation, establishment and poojan of Devta present in body is done.Therfore, Devta are activated at such time and they remain conscious in his body for fulfilling wish of sadhak up till end of Anushthan. If sadhak ignores his aim, gets attracted towards pleasure and indulges in such acts, they became angry and sadhak’s wish is not fulfilled.
Kama energy of sadhak is connected to Kundalini. In middle of it, the sequence which is moving upward, it starts moving downward and Kundalini which is moving upward, it returns and gets situated in Muladhaar.
Sperm is life-giving fluid; it was getting purified through mantra and procedures and through heat created by energy of mantras, its impurities are vanished and its transformation takes place. This activity stops when person indulges in sexual act during anushthan or prayog time and purified sperm comes out.
Rare Maarg like Vaam Maarg or Kaul Maarg completes all these activities through Kama energy but they defend their sperm definitely. For taking sperm out of the body, there is no need for them to indulge in sex and they have complete control over this procedure that they can take out sperm without being sexual and pull it back.
In anushthan or prayog when sadhak is said to follow Brahmacharya then it means that defending sperm by not indulging in sexual act. There is no harm if sadhak does it after anushthan or prayog. Tamsik food and Tamsik conduct is also therefore prohibited in sadhna because this type of food increase Kama intensity .Therefore more the sadhak eats Satvik food, better it is for him.
 ===========================================

चर इति ब्रह्मचर्यं ||
ब्रह्म की तरफ चलना या ब्रह्म युक्त आचरण करना यही ब्रह्मचर्य है.
ब्रह्मचर्य साधना जगत का एक बहुत ही आवश्यक अंग माना गया है. वेदोक्त वर्णाश्रम से ले कर योग तथा तांत्रिक मार्ग में इसका प्रायः सभी जगह पे उल्लेख मिलता है. अर्थात सभी मार्ग और पक्ष का सबंध ब्रह्मचर्य से है. ब्रह्मचर्य का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ साधनात्मक पक्ष में उन्नति नहीं है वरन इसे जीवन के भौतिक क्षेत्र से भी जोड़ा गया था. अथर्ववेद, योगउपनिषद तथा मनुस्मृति जेसे पुरातन ग्रंथो में इसका उल्लेख होना यह प्रमाण है की यह वेदोक्त आचार है.
सर्व प्रथम यह बात को समजना आवश्यक है की ब्रह्मचर्य का पालन करना क्या है?
मनुष्य जीवन के चार पक्ष है धर्म, अर्थ, काम तथा मोक्ष. इसमें कामपक्ष का अर्थ है काम उर्जा का योग्य रूप से सञ्चालन कर के जीवन में पूर्ण सुख तथा भोग की प्राप्ति करना. काम तत्व का व्यापक अर्थ है जीवन में आकर्षण तत्व, सौंदर्यतत्व तथा माधुर्य से सबंधित सभी नैतिक क्रिया को पूर्णता पूर्वक जीना.
वैदिक वर्णाश्रम में ब्रह्मचर्य धर्म का पालन का अर्थ होता था काम उर्जा के ऊपर चिंतन ना करते हुवे विविध ज्ञान को प्राप्त करना; जब यह धर्म में पूर्णता प्राप्त हो जाती थी, उसके बाद व्यक्ति को गृहस्थधर्म का पालन करने का आदेश होता था. अतः यहाँ पर भी धर्म का अर्थ वही है धारयति सः धर्म. अर्थात जिसे धारण किया जाए वह धर्म है. विशेष नियमों का पालन करते हुवे विशेष क्रिया और उद्देश्य की तरफ गतिशील होना ही धर्म है जिससे आत्मोन्नति संभव हो.
अब यहाँ पर चर्चा यह है की आखिर काम को इतना दबाया क्यों गया या जाता है?
सर्व प्रथम यह समजा जाए की काम कोई कार्मिक क्रम या प्रक्रिया नहीं है, काम मनुष्य को प्राप्त हुई शक्ति है. जिसके बारे में पुराण का कथन यह है की पुरुषशक्ति कामदेव तथा स्त्रीशक्ति रति है. तथा यह शक्ति एक दूसरे से प्राकृतिक रूप से आकर्षण बद्ध है क्यों की पुरुष काम शक्ति घनात्मक तथा स्त्रीकाम शक्ति ऋणात्मक है. काम शक्ति का उपयोग मनुष्य तिन रूप में कर सकता है.
शारीरिक आनंद के द्वारा आत्मसंतुष्टि
संतानोत्पति तथा वंश विकास
समाधिअवस्था की प्राप्ति
काम की प्रथम प्रक्रिया, कमोदिक आनंद की प्राप्ति मनुष्य अपने शारीरिक तथा आत्मिक संतुष्टि के लिए करता है, शरीर की संरचना कुछ इस प्रकार से है की वह इस क्रीडा के द्वारा मनुष्य को आत्मसंतुष्टि की प्राप्ति करवा शक्ति है.
द्वितीय क्रिया संतानोत्पति तथा वंशविकास भी सुख भोग तथा ऐश्वर्य की श्रेणी ही है, संतान सुख के माध्यम से व्यक्ति अपनी आकांशाओ की पूर्ति कर सके तथा योग्य संतान की प्राप्ति कर अपने तथा कुल के गौरव का विकास कर सके इस लिए यह पक्ष भी अत्यधिक आवश्यक अंग मन गया है.
इस प्रकार की दोनों क्रिया में पूर्णता से आनंद की प्राप्ति के लिए तथा इससे सबंधित रोगों की निवृति के लिए हमारे पुरातन ऋषिमुनियों ने अत्यधिक खोज की थी तथा अपने अनुभवों को जनमानस के मध्य रखा था, कामसूत्र, रतिरहस्य, अनंगरंग जेसे कई पुरातन ग्रन्थ जीवन के तृतीय पक्ष काम को पूर्ण रूप से जीने के लिए इसी कड़ी में रचे गए थे लेकिन अफसोस की बात है की आज के युग में इसको तंत्र का नाम दे दिया गया है जब की यह तंत्र के नाम पर मात्र मिथ्या भ्रान्ति के अलावा और कुछ नहीं है.
इन दोनों प्रक्रिया में जो मूल है, जो आधार है, वह जीव द्रव्य है. प्राकृतिक रूप से यह जीव द्रव्य शरीर से बाहर आही जाता है यह प्रकृति की संरचना ही है, क्यों की वीर्य का संग्रह करने पर मनुष्य तीसरे क्रम और बढ़ सकता है.
लेकिन काम तत्व से मुक्ति निश्चित रूप से अत्यधिक कठिन है, इसको दबाया जा सकता है लेकिन इसे नाश नहीं किया जा सकता. कामिक क्रिया सर्व प्रथम मस्तिष्क में होती है जो की आगे शरीरिक रूप में परावर्तित होती है. अगर शारीरिक रूप से उसे नियंत्रण भी कर लिया जाए तो भी मानसिक रूप से उसे नियंत्रित करना अत्यधिक कठिन है, इसी प्रकार मानसिक रूप से करना सहज हो जाये लेकिन एक बार भी विचार मन में प्रवेश करने पर शारीरिक रूप से काम तुष्टि की मनसा आना स्वाभाविक है. कई व्यक्तियो की धारण यह होती है की काम को पूर्ण रूप से भोग लिया जाए तो उससे मुक्ति मिल जाती है, लेकिन यह तथ्य सायद दूसरे पक्षों पर लागु हो काम के विषय में यह संभव नहीं है. इस पर मनुस्मृति में कहा गया है
न जातु कामः कामानामुपभोगेन शाम्यति
हविष कृष्णवर्त्मैव  भूय एवाभिवर्धते
काम का उपभोग कर लेने से काम से मुक्ति संभव नहीं है, जिस प्रकार अग्नि में घी डालने पर उसकी ज्वालाएं और बढ़ जाती है काम भी ठीक वैसे ही है.
 तब फिर इसका यह उपाय है की इस उर्जा का रूपांतरण किया जाए.
तृतीय पक्ष जो की काम से सबंधित है वह है समाधि. समाधी अवस्था का अर्थ है मनुष्य अपने आप में पूर्ण रूप से लिन हो जाये तथा उसे ब्रह्म चिंतन के अलावा और कोई और क्रिया न हो.

मानसिक विचार उठने पर शारीरिक क्रम होता है और शारीरिक काम क्रीडा होने पर वीर्य का क्षय होता है. वीर्य का क्षय रोकने के लिए योग में ब्रह्मचर्य का विवरण है.
 ब्रहमचर्यप्रतिष्ठायां वीर्यलाभः
 श्रीपतंजलि ने अपने सूत्र में लिखा है की ब्रह्मचर्य की प्रतिष्ठा से वीर्यलाभ होता है.
वीर्य की क्षमता के बारे में मनुष्य जान कर भी अनजान है, यह वह जीव द्रव्य है जो की नूतन रचना को जन्म दे सकता है तो जीवन में निरोगी काया तथा दीर्घ आयुष्य की प्राप्ति तो निश्चय ही संभव है. योग तथा तंत्र दोनों में सामान रूप से ब्रह्मचर्य का महत्त्व है तथा दोनों में एक स्थिति के बारे में उल्लेख है
वीर्य का संग्रह कर उसे शोधित किया जाए तथा घन में से तरल प्रवाहि स्वरुप और उसके बाद उसका रूपांतरण वायु में करना चाहिए. वायु रूप में रूपांतरण होने पर यह जीव द्रव्य शरीर में पूर्ण रूप से फ़ैल जाता है तथा शरीर का प्रत्येक कण जीव द्रव्य से युक्त हो जाता है, मनुष्य के शरीर में सभी अंग में सर्जन करने की क्षमता आ जाती है तथा वह निश्चय ही कई प्रकार की सिद्धियों का स्वामी बन जाता है.
अष्टांग योग में नियम के अंतर्गत ब्रह्मचर्य का पालन के आठ भेद बताये है, उन्होंने मात्र काम क्रीडा में संलग्न होने से ब्रह्मचर्य व्रत का खंड होना नहीं कहा है बल्कि इसके साथ साथ ऐसे सभी तथ्य से भी साधक को दूर रहने की सलाह दी है जिसके माध्यम से व्यक्ति पलित हो सके जिसमे चिंतन, मधुरवार्तालाप, द्रश्य, एकांत में स्त्री के साथ वास इत्यादि सामिल है.
इसके साथ ही साथ दूसरी योगिक क्रियाओं को योग्य रूप से योग्य साधक के निदर्शन में करने पर संगृहीत वीर्य का रूपांतरण होने लगता है. यह योगिक ब्रह्मचर्य कहेलाता है.
अब तंत्र में ब्रह्मचर्य क्या है इस पर चर्चा करते है.
योग में जो क्रिया शरीर को माध्यम बना कर की जाती है, वह क्रिया तंत्र में मन्त्र तथा प्रक्रिया के संयोग से की जाती है. ब्रह्मचर्य का पालन तांत्रिक साधना तथा अनुष्ठान में अनिवार्य कहा गया है उसके पीछे के कुछ चिंतन इस प्रकार है.
अंग पूजा के समय शरीर में स्थित देवता का जागरण, स्थापन, पूजन होता है इस लिए देवता इस समय में जागृत होते है तथा साधक के अभीष्ट के लिए उसके शरीर में जब तक अनुष्ठान चलता है चेतना वान रहते है. अगर साधक अपने लक्ष्य को नज़र अंदाज़ कर भोग वृति से आकर्षित हो कर भोग करता है तो देवता कुपित होते है तथा साधक का अभीष्ट सम्प्पन नहीं हो पता
साधक की काम उर्जा कुण्डलिनी के साथ संयोगित रहती है. इस दरमियान शारीरिक भोग करने पर वह क्रम उर्ध्वमान होता है वह वापस निचे की और आने लगता है तथा कुण्डलिनी जो ऊपर की और बढ़ने लगती है वह वापस मूलाधार में स्थित हो जाती है
वीर्य जीव द्रव्य है, मंत्र तथा प्रक्रियाओ से उसका शोधन होता रहता है तथा मांत्रिक उर्जा से निर्मित ऊष्मा से उसकी अशुद्धि दूर हो कर उसका रूपांतरण होने लगता है. व्यक्ति के अनुष्ठान में या प्रयोग काल में काम क्रीडा में संलिप्त होने पर वह प्रक्रिया अटक जाती है, तथा शोधित वीर्य बाहर आ जाता है.
वामपंथ या कौलमार्ग जेसे दुर्लभ पंथ काम उर्जा के माध्यम से ही इन सभी क्रियाओं को पूर्ण कर लेते है लेकिन अपने वीर्य की रक्षा निश्चित रूप से करते है, वीर्य को शरीर से बाहर निकालने के लिए उनको किसी भी प्रकार से कामलिप्त होने की आवश्यकता नहीं होती तथा इस प्रक्रिया पर उनका पूर्ण नियंत्रण होता है की वह वीर्य को बिना कामोदित हुवे शरीर से बाहर निकाले तथा वापस अंदर खिंच ले.
अनुष्ठान में या प्रयोग में साधक को ब्रह्मचर्य का पालन करने के लिए कहा जाए तो उसका अर्थ है काम क्रीडा में लिप्त ना हो कर अपने वीर्य की रक्षा करना. अनुष्ठान के बाद या प्रयोग के बाद साधक इस प्रकार की क्रिया करे तो दोष नहीं लगता है. तामसिक आहार और तामसिक आचरण भी इसी लिए साधना में वर्ज्य होता है क्यों की इस प्रकार का भोजन काम उद्वेग को और बढ़ा देता है. इस लिए जितना सात्विक आहार ग्रहण किया जाए उतना साधक के लिए उत्तम रहता है.

****NPRU****

No comments: