There was an error in this gadget

Saturday, September 15, 2012

SATYA KA PAHLA KADAM........




Why after all, Mantra Tantra Yantra Vigyan stopped??

Mantra Tantra Yantra Vigyan magazine was that dream of Sadgurudev through which he wanted to make sadhak and shishyas reach completeness in the light of till-now obsolete knowledge. He termed it as Geeta of Kalyuga. He used to say quite often that whenever you find yourself amidst the darkness of sadness, fear of loss compels you to hide then just you should for once open any of this magazine and read it.Trust me it is enlightened by light of my soul which will enable you to come out of that circumstances and show you the victory path and it always went on happening like that. He had infused this magazine with his own power of praan. That’s why it was so authentic and intense. Due to being introduced to this truth only, old Guru Brothers did not give this magazine to new disciple easily. Then what happened all of sudden that this magazine was stopped??

In reality, Sadgurudev during his life-time has always said that whatever I am today , it is due to your Guru Mata Ji and she will take care of you all as I have done it.Shastras have always said that…..along with Guru, his wife’s place is supreme. Her order is as supreme as Guru’s order but what we have done? When Siddhashram sadhak Parivar was getting split due to mutual differences and fight for supremacy then Mata ji said that I have always taken care of you all, you are part of my soul and you have to do what I say. Up till the time I do not say anything, you will not take any step. But how many of us have followed word by word the order published in first edition of Narayan Mantra Sadhna Vigyan. Just think it once by your heart.


Sadgurudev had made one plan for construction of hospital and for spreading knowledge under which provision was made for three years, five years, ten years and life-time and Golden card members. They all have to submit fixed amount of money at once or in 2-3 instalments for this work and whenever they want their principle money back then as per magazine rules, by giving application their principle amount would be returned to them after 10 years from date of application. Well….

For publication of any magazine, sadhna subject and articles related to those subjects are required and this work is not possible in one day only. This requires a well-planned scheme and under that scheme Mr Sanjay Sahoo i.e. Sanjay Nikhil started interchanging of magazine articles and sadhna articles in main Guru Dhaam with ulterior motive and formatted the system before leaving main Guru Dhaam because he has to attain supremacy by becoming all-important person at other place. He is same wild guy who ran after me for many years. In his whole life, he has not chanted even one round of rosary .But this guy suffering from diabetes and other Gupt diseases, having bad character used to say Guru Sisters with sexual vision. Today he is distributing mantras. He has demanded the gutika and medicines regarding Aakarshan and his diseases from me and other brothers. He tells money amount for solution of problem and Diksha as per his own discretion. He has played a significant role in second magazine and construction of ashram by cheating Revered Mata ji‘s affection, love and motherhood. Inner Soul of him and mean people like him not even tremble a bit while cheating Mata Ji. Well, publication of Mantra Tantra Yantra Vigyan Magazine was stopped and other magazines were started. But after separation, they could have continued with the publication of basic and most famous magazine but they did not why??

In reality ,After Mahaprayaan of Sadgurudev seniors sadhaks and disciples and old members started feeling themselves to be neglected because they were treated very badly and not only me, thousands of disciples and sadhak are witness to this fact. They do not go to shivirs now therefore they started demanding their money back and this amount is so much big that it is beyond imagination. Revered Mata ji  who is mother of us all always wanted that this amount should be refunded at appropriate time and at the demand of anyone but others were very much opposed to it since due to this step, lot of money could have gone from their hands and how can it be suitable for them. Taking is easy but giving is very difficult….Therefore, they find it correct to plan wise deepen the rift between themselves and take the assistance of separation.

   
Now for showing themselves as correct and for continuously earning money, publication of magazine was must but if it had been given the name of that famous magazine which was never found in junk shops due to invaluable knowledge and consciousness in Sadgurudev’s time….then they would have suffered financial losses and they would have been blamed for not retuning money. But by keeping the name of new magazine as Mantra Tantra Yantra Vigyan, demand for refund of money could have started again which was not possible if the name is changed owing to one special rule. There has always been a rule on the magazine rules page right from start that any amount of money which you have given for magazine or any other scheme, if the magazine is stopped for unavoidable reasons then all the editions which you have received, your membership and amount given ends there. Life-time membership is valid only up till publication tenure and no objection or criticism in this regard will be entertained.

Therefore, when basic magazine has stooped then consider the amount related to membership of that magazine to be finished. By doing it like this , they did not face any financial loss or respect and name was also not spoiled because how can foolish people like us will understand this game.

Decision of truth –untruth, I leave it to you. Person attacking me did their work when I was quiet , I was thought to be coward, but now no more.

I do not have such type of fame, money, ability which I am afraid of losing or to be spoiled. Therefore I can’t be afraid in any form…Now I will never let truth disappear nor let anyone disappear it.

   Next time I will be back with answer to one more burning question…

...........................................................................................................................................
आखिर मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं बंद  क्यों हुयी ??

मंत्र तन्त्र यंत्र विज्ञानं पत्रिका सदगुरुदेव  जी का वह स्वप्न थी जिसके माध्यम से वह साधको और शिष्यों को लुप्त ज्ञान प्रकाश की रौशनी मे पूर्णता तक पहुचना चाहते थे, इसे  उन्होंने कलयुग की गीता की संज्ञा दी थी वे अक्सर कहते थे की जब  कभी  तुम  उदासी के अँधेरे मे  घिर जाओ पराजय का डर तुम्हे छुपने को विवश करने लगे तब तुम बस एक बार  किसी भी पत्रिका को उठाकर खोल कर पढ़ लेना यकीन मानो  ये  मेरी आत्मा के  प्रकाश  से प्रकशित हैं जो तुम्हे उस परिस्थिति से बाहर आने का उस पर विजय पाने का  मार्ग  दिखाएगी .मार्ग प्रसस्त करेगी और सदैव ऐसे  ही होता चला गया इस पत्रिका को उन्होंने अपने  तपास्यंश तथा प्राण ऊर्जा से  सींचा था तभी  इसमे वह तीव्रता और सत्यता थी  इसी कारण पुराने गुरू भाई इस सत्य से परिचित होने की वजह से  सहज ही इस पत्रिका को  किसी नए शिष्य को नही देते थे  फिर अचानक क्या हुआ  की ये पत्रिका बंद कर दी गयी??

 वास्तव मे सदगुरुदेव ने अपने जीवन काल मे सदैव यही कहा  की मैं आज जो भी हूँ  तुम सब की  गुरू माता जी की वजह से हूँ  और ये हर पल तुम्हारा  वैसे ही ध्यान रखेंगी  जैसे मैं  रखता आया हूँ शास्त्र  हमेशा  यही कहते हैं की ..  की गुरू के साथ उसकी पत्नी का  स्थान सर्वोच्च होता हैं उनकी आज्ञा  वैसी  ही शिरोधार्य हैं जैसे  गुरू की आज्ञा किन्तु हमने किया  क्या? जब एक आपसी  मतभेद  वर्चस्व की लड़ाई की वजह  से  सिद्धाश्रम  साधक परिवार  खण्ड खण्ड  हो रहा था तब माताजी ने  ये कहा  की मैंने  सदा सर्वदा तुम सब का पालन किया हैं तुम  सब मेरे प्राणंश  हो और तुम्हे वही करना  हैं  जो मैं कहूँगी जब तक मैं नही कहूँगी तुम कोई कदम नही उठाओगे किन्तु हम मे से उनकी वह आज्ञा जो नारायण मंत्र साधना विज्ञान  के पहले अंक मे प्रकाशित  हुयी थी उसका अक्षररक्ष पालन किया हैं अपने  ह्रदय पर हाथ रख कर सोचियेगा जरुर.

   सदगुरुदेव  ने  हॉस्पिटल के निर्माण मे और ज्ञान के प्रचार प्रसार हेतु  एक योजना बनायीं थी  जिसके अंतर्गत त्रि वार्षिक,पञ्च वार्षिक, दस वार्षिक और आजीवन और गोल्डन  कार्ड सदस्यों का प्रावधान किया गया था,इन सभी को  एक निश्चित राशि, एक मुश्त या दो तीन   भागों मे इस कार्य हेतु जमा करनी थी,और जब भी  ये अपने मूल धन की वापिसी चाहते तो आवेदन देने पर पत्रिका नियामानुसार आवेदन तिथि से  ठीक दस  वर्ष पश्चात   वह मूल राशि उन्हें वापिस  हो जाती ,खैर ...

      किसी अन्य पत्रिका के प्रकाशन  के लिए साधना विषय  की और  सबंधित  विषय सामग्री की आवश्यकता  होती हैं और ये काम मात्र एक दिन मे  संभव नही हैं इस हेतु एक सुनियोजित योजना की आवश्यकता होती हैं उसी योजना के  अंतर्गत श्रीमान  संजय  साहू  उर्फ  संजय निखिल जी मुख्य गुरूधाम से  पत्रिका सामग्री का तथा साधना  सामग्री का  हेरा फेरी का काम प्रारंभ कर दिया और मुख गुरुधाम से निकलने के पहले सिस्टम को फार्मेट कर दिया,क्योंकि उनको भी  अन्य स्थान पर  सर्वेसर्वा बन कर वर्चस्व  पाना था ये वहीँ पिशुन मुखी हैं जो कई वर्षों तक मेरे पीछे घूमता रहा इसने अपने  पुरे जीवन मे  एक माला भी जप नही किया हैं किन्तु प्रमेह और अन्य गुप्त रोगों से पीड़ित चरित्र  से गिरा हुआ यह व्यक्ति जो गुरू बहिनों को ही कामातुर निगाहों से देखता रहता था /हैं आज मंत्र बाटता फिर रहा हैं.मुझसे तथा अन्य कई भाइयों से इसने आकर्षण तथा अपनी बिमारी से संबधित और गुटिका और औषिधियाँ  चाहीं  हैं. समस्या  समाधान  और दीक्षा हेतु ये अपनी मन मर्जी से राशि बताता  हैं परम वन्दनीया  माताजी के स्नेह  वात्सल्य  और ममता को  छल कर इसने दूसरी पत्रिका तथा आश्रम के निर्माणमे  महत्वपूर्ण  भूमिका  निभायी  हैं इसकी  तथा  इस जैसे अन्य   कई नीच व्यक्तियों  की   अंतरात्मा  माताजी से  छल करते  हुये  ज़रा  सी भी नही कांपी, खैर  पत्रिका मंत्र तंत्र यंत्र विज्ञानं पत्रिका  का प्रकाशन   बंद कर  अन्य पत्रिकाओं को प्रारंभ किया गया जबकी अलग होने के पश्चात  ये सभी   उस मूल तथा  सर्वाधिक लोकप्रिय पत्रिका का  प्रकाशन सतत  रख सकते थे  किन्तु नही रखा  क्यों??
   
    वास्तव मे सदगुरुदेव के  महाप्रयाण के बाद   वरिष्ठ  साधक और शिष्य   तथा  पुराने  सदस्य अपने  आपको उपेक्षित  महसूस  करने  लगे क्योंकि उनके साथ   सतत  दुर्व्यवहार किया जाता  रहा और मैं ही नही वे हज़ारों शिष्य तथा साधक और  सदस्य इस बात का प्रमाण हैं जो अब   शिविरों मे  नही जाते हैं अतः इन सभी ने अपनी  अपनी राशि  वापिस मांगनी  प्रारंभ कर दी और ये राशि इतनी  इतनी जायदा हैं जिसकी कल्पना भी संभव नही हैं ,पूजनीया माताजी जो की हम सब की माँ  हैं सदैव यही चाहती थी की धन राशि सही समय पर तथा  किसी की मांग पर वापिस कर दी जाए किन्तु अन्यों को इससे घोर ऐतराज़ था  क्योंकि इस  कदम की वजह से बाहर सारा धन  हाथ से निकल जाता और ये भला कैसे गंवारा   हो सकता था लेना आसान  हैं किन्तु देना  अत्याधिक दुस्कर ... अतः  योजना पूर्वक धीरे धीरे मतभेद  को गहरा कर   प्रथकता  का आश्रय लेना   ही इन सबको  उचित लगा.

    अब अपने आपको लगातार सही बनाये  रखने और सतत धनार्जन के लिए  पत्रिका का प्रकाशन अनिवार्य था किन्तु यदि उस लोकप्रिय पत्रिका का नाम पुनः रखा जाता जो की   कभी भी  सदगुरुदेव  जी के  रहते अपने अमूल्य ज्ञान  और चैतन्यता की वजह से  रद्दी  की दूकान मे नही  मिली... तो आर्थिक  नुकसान होता और पैसे और धन राशि  वापस न  करने का   दाग भी लग जाता किन्तु  नयी पत्रिकाओ  का  नाम मंत्र  तन्त्र यंत्र विज्ञान रखने  पर  पुनः  धन की  मांग  प्रारम्भ हो  जाती   जो की नाम बदले जाने पर  एक नियम विशेष की वजह से   संभव नही था .पत्रिका के  नियम वाले  पेज पर  प्रारम्भ से  एक नियम रहा हैं  की  जो भी   धन राशि  आपने  पत्रिका या किसी भी योजना के लिए दी  हैं   यदि पत्रिका  इन्ही  भी अपरिहार्य कारणों  से   बंद  हो जाए   तो जितने अंक आपको प्राप्त  हो चुके हैं   उसी मे  अपनी सदस्यता को   तथा उस राशि को  पूर्ण समझे ,मात्र प्रकाशन अवधि तक ही  आजीवन सदस्यता  मान्य  रही हैं और इसमें किसी भी  प्रकार की आपत्ति या आलोचना  स्वीकार्य नही हैं.

  अतः जब  मूल पत्रिका ही बंद  हो  गयी तो  उस पत्रिका की सदस्यता  से सबंधित धन राशि भी  समाप्तप्राय समझो इसमें धन हानि और सम्मान हानि भी नही हुयी और नाम भी  खराब नही हुआ.क्यूंकि इस खेल को हम मूर्ख कहाँ समझेंगे.

    सत्य  असत्य  का निर्णय  आपके अपने विवेक पर मैं  छोड़ता हूँ ,मुझ पर प्रहार करने  वाले  अपना  कार्य करते रहे  जब  तक मैं चुप था  मुझे  कायर समझा गया  पर अब और नही  
   
    मेरे  पास  ऐसी कोई कीर्ति कोई धन कोई योग्यता नही हैं जिसे दूषित होने  या खोने का मुझे कोई दर  हो अतः मैं भयभीत नही  हो सकता  किसी भी प्रकार से ..अब सत्य को नजरों से ना मैं ओझल होने दूँगा और ना ही किसी को ओझल करने दूँगा.

  अगली बार एक और सुलगते  हुये  प्रश्न का उत्तर लेकर फिर सामने आउंगा.....

****ARIF****

2 comments:

Sagar Shrimali said...

arif bhai .. aap ki post ke sath jo foto hai usi se pata chalta hai aap ke upar kya bit raha hai .. fir bhi chehre par koi sheekan nahi... wah...mar jawa mei gudh khake.. sach kehte hai weh log jo shishy kya hota hai or ushki parakasta kise kehte hai agar yeh janna ho toh aarif khan nikhil se mil lo... jaan jaoge...
jai tara.. jai jai taara....

bhavna said...

ye sach jo aapne kaha tha uper ki jeevan me jb b mushkilo se gir jao tb koi b patrika uta kr padh lene se sach me sare dukh dur ho jate hai......takreeban 5 saal pahle mere jeevan kuch aisa hi samay aaya tha jb jene ki iccha khatm ho gyi thi to shree narayan dutt shrimali ji ki ek patrika sayogwash mere hath lag gyi thi ya ye bhi kah sakte hai ki unhi ki iccha rahi hogi use muj tak pahuchane ki...mene usse pahle kabi unka naam tak nahi suna tha...or us patrika ko padh lene pr mujme bhot badlaw aaya tha.....or ek baar fir se jb mere jeevan me bhot mushkil samay aaya to me aapk is group se jud gayi....jabki muje ye bhi nai pata tha ki is blog k nirmata wahi hai jinhone pahle b muje jeevan k prati +itiv banaya tha....me apne dil se sadgurudev g or aap sbko dhanyawad krna cahti hu.....ki aap sb ne muje aapnaya......
dhanyawad