There was an error in this gadget

Tuesday, September 18, 2012

SATYA KI OR DOOSRA KADAM....



It was today’s morning; there was a call from Shri Sanjay Sahoo i.e. Sanjay Nikhil from Jodhpur Senapati magazine office and there was some message too in which he addressed me in very mean caste-centric way. And it was written that I “Sanjay Nikhil” is talking, you talk to me, I will tell you’. I called him twice; he had put the phone on speaker and the conversation was audible to his friends and dear ones. And when I talked to him in the same manner (the manner in which he sent me message) then that guy instead of saying something disconnected the phone.

But suddenly, why I was called. The only reason behind it was to scare me so that I don’t say anything. One more great person is there who had made fake id on Facebook by the name of Trimurti Gurudev and he has blocked us so that we can’t read his post and he is  teaching me counting from 60,59,58,57……..that now these days are remaining ,I have done Tantrik Maaran Prayog from here , which is progressing at speed of bull-cart ,oh sorry it is coming at tortoise speed and after these much number of days, it will destroy you……. I post my photo, name, address freely, I am not afraid of anyone…you try it, but please show your pretty face just once.

We all love our Maa very much….undoubtedly. But do you know the one on whose shoulders our responsibility was given, how much they all do???
Probably you would be unaware of it.
When magazine got split, with that two elder sons also virtually ended their relation with Maa. The reason behind it, I have already you in the previous post. Relation with that Maa who is the mother of all disciples, Sadguru of all disciples also and probably you all would not be aware of the fact that Maa’s desire was in the base in giving the Trimurti the Guru status. But had Sadgurudev done all the procedure??
Had he left nothing?
No, it was not like this. Sadgurudev always used to say that I do the procedure of Shaktipaat based on the ability and Sadhna power. And this has been the experience of all shishyas. In other words, the intensity of Shakti, quantum of Shakti to be provided was decided by Sadgurudev only.
Then…..
When Divyapaat procedure was done, with effect of that procedure Gurus were created for enhancing knowledge of all and their progress. But it was not complete procedure. Today we may say that he had given the orders to all that now they are your Gurus and from now on they will show you the way…..But all this, he has said in 1993.
Assume that I say to you that I love you very much and this thing, I am telling you from 1966 then it will be true only….Isn’t it
But today I say to you that I hate you very much….then …..What is truth? The one I said earlier or the one which I am saying now…
Definitely the one which I am saying now…..
And Sadgurudev has never done anything secretly…..nor he has not taught us. Capable Sadguru keeps an eye on his disciples like lion, and we all know this that there was no need to tell him anything anytime rather whenever you go to him, he himself used to tell that what level you have reached ,state of your sadhna. Now you do this…..path will open for you….and this is not only my experience …..You can know opinion of any old shishya by talking to them on this subject.
There is one principle of sadhna that when Guru sows the seed of sadhna Mantra in Shishya then Shishya has to continuously feed the manure of sadhna and water of dedication, then only siddhis are originated and stability of siddhis and shaktis is ensured. Otherwise, as there is leakage of water earthen pot on its own, in the same way Shaktipaat and siddhis also keep on vanishing.
And Guru continuously seeing the state of Shishya keep on telling those facts in accordance with time by which there is successive increase in his powers and siddhis become stable. In the similar manner, purity of personality plays a very important role in this state.
Any sentence of Sadgurudev can’t be false???
It is not possible. Isn’t it?
Like what he said in 1993 that they are your Guru…in the same manner, he has told one thing multiple times from 1997 to 1998 that “ This particular Diksha, this particular knowledge ,I can only give you, Only me, none of ……………………..can’t give you” And I have not written any name in the blank space… I will give you so many instances. There are so many instances…You just listen one of them 1998 Manjul Mahotsav…..in which Sadgurudev while telling about Mahakaal Yukt Baglamukhi Diksha has repeated the above sentence once again by citing the name. In 1993 also, Sadgurudev said it and in 1998 also Sadgurudev said. After all, what was deficiency in sadhna and capability of these people in those 5 years that Sadgurudev had to say this publically. But probably you all would be amazed to know that these days, above-said Diksha is given freely in many shivirs. When you are not eligible or when you are not equivalent to Sadgurudev then how can you give this Diksha. And there is not only one such Diksha, there are so many of these Diksha and sadhnas. Was the things told by Sadgurudev in front of all was wrong? (Whereas that complete discourse is in that cassette.)
It was not that Sadgurudev did incomplete Kriya in 1993 rather he had not seen any progress in next 5 years. Otherwise, he would not have felt any need to say such sentence. You all please listen to the cassettes from 1997 Shaardeey Navraatri to Paan grahan Shivir 1998, then tell.
Is Ashtlakshmi Diksha superior to Samraatabhisek Diksha??
No, because Sadgurudev has given more superior Sahastrroopa Mahalakshmi sadhna and Diksha. And he wanted to complete the series of great and divine Diksha like Rajyog, Rajya Abhishek, Samraatabhisek, Chakravarti, and Shatabhishek and wanted to give meaningful flow to siddhashram attainment of Shishyas. But what happened? Not only sequence after Samraatabhisek was broken but also that knowledge was finished. Today 15 years have passed by, but Diksha in which the further sequence would have attained completeness, that Diksha has not happened till now and that Diksha and sadhna was “Brahmand Paarshvikaran Diksha” for Siddhashram Nischit Sthapan and Sshreer Prapti.
And do not ask about their attachment with Maa, after splitting of magazine there were 2 operations which Maa had to undergo in 8-10 months but they have not gone to meet Mata Ji, they live in neighbourhood but they do not have time to ask about well-being. We do not have anything to do with it, the one who had responsibility he should handle it.In both the magazines, name of Maa comes comes with so much respect. That Maa who has given order that from now on you all Shishya would have to follow the orders given by me, and truly we are following it enthusiastically, we consider only her to be everything….isn’t it.
Reality is that after Sadgurudev, Maa is our Guru because Sadgurudev always used to say that I am also powerless without your Mata Ji.
I would like to ask all that when Sadgurudev raised question mark on eligibility and question mark, when Maa stopped supporting them then are they still Capable?? They are so much connected to Maa that they have made Maa wholesome in both magazines. Of 1 magazine she was already….see see… and read it definitely. After all they are not above Maa….or they are….
Just ask yourself that in reality whom do you see and go there and who is important for you, Sadgurudev, Mata Ji or anyone else???
I give Parad idols and their price is very high, I say this and give them by telling manufacture-cost….But I have not taken money from anyone by saying that I will accomplish your work by tantra….But I can give you the name of 50 persons who have given lakhs of rupees to them for their work. But when their money was finished, then none of them is ready to meet these persons. If you know present, past and future then you would know the truth of incident and your sentence would be Bramha sentence, the thing which you will say, it will happen by power of your sadhna, but sadly it does not happen like this…Money, Money, Money and Money……Just this is left…
Sadgurudev earlier used to recite mantras for hours and make us do sadhnas , used to do sthapan .Now the condition is that  prayog gets over within 5 minutes…..Siddhashram Sadhak Parivar……has become Siddhashram Diksha Parivar. And more than this, mantra is given by person sitting on the counter about whom nobody knows whose state in he is. 
Earlier, when Sadgurudev used to conduct shivirs or meet then any Guru’s disciple someone is…..Sadgurudev used to give direction to him and person returned completely anxious-free from shivir…..no hatred with anyone. It has nothing to do with caste and religion…But now the situation is that if your name is prefixed by “Nikhil” then you have become forced labourer. You can’t expand your personality. At the time of Sadgurudev, not one but 4-4 articles of mine was published in Mantra Tantra Yantra Vigyan.But now writing independently has become a crime.
What should I do???
What is my fault??
That I call my Sadgurudev as my Guru. Should I do not do this????
From whom I have learnt everything; I should become thankless to him. I should become ungrateful….is it…..What I have learnt from my country, my civilization, my sanatan tradition…..I should forget it and be averse from Guru.
This I can’t do, never…
Can one person change the name of his parents by the fear of people…..no….never…..
In the similar manner, the one who has provided me knowledge….I cannot take his name out of my life…..I am proud of it…..And yes, when you have not given me anything……You have nothing to do with me then who are you and your supporters stopping my path…and will I sit silent.
I challenge that come and let us face each other ……let us see whose disciple has got power……in any field, by any way….but the condition is that fight should be face-to-face……no cheating….no fraud….no deceit.
It should not be the same as it was done with old members.
Because one more fact which one will find difficult to digest that why today senior Shishya hesitate to go to Guru Dhaam. “Guru Sewak Shrivastava” is one such example…….which remained under direction of Sadgurudev for so much time….There is no need of proof for this fact.

But where have they vanished today because each senior Guru Brother was made to leave under well thought-out policy or by blaming him or his condition was made such that he was forced to leave on his own after feeling insulted or he was beaten up and shown the door. After all where are all seniors whose name appeared in magazine, where are they, what is the reason…..all vanished? What happened…..nobody wants to talk on it….because nobody was willing to work with them rather nobody wants to see them and this work was done brilliantly by new flatterers.
Now army of physically forceful guys have been kept who upon one instruction…….today we get the news that fatvas are issued from Guru Dhaam now…that do this with Arif or that…but the one who have become self-made Gurus, none of these so-called Shishya goes against them or say against them…..because now they have also become ready to reply them in their language…..the way in which Guru Sewak Shrivastava was beaten in Guru Dhaam, everybody knows it.Many people are silent even after knowing entire incident. Who had done it, on whose instruction it was done, everybody knows the truth. Because now physical strong shishyas are present there who can directly…
Those who worked under the direction of Sadgurudev for so many years, they were not blamed with any charges during Sadgurudev time but all of sudden……such ……serious charges….senior Shishyas are beaten up. Seeing all this, who will open his mouth because staying there, his state can also become like this any day. Every senior started maintaining distance.
Because when Sadgurudev was there, then such situation was never created that some shishya is made to be beaten by other shishyas…that too in Guru Dhaam….
But I am not like this. All of those who are against me keep this fact in mind that I am not any Guru Sewak Shrivastava that someone will do like this and I will keep quiet. I will sit as coward cursing someone or the other. Sadgurudev has taught me, given that much capability also that I can destroy them……I am not good in saying….rather in doing it.This is not my ego. Now I am ready…… too much of politeness had happened. We had borne too much. I am not coward that by making fake id, I blame someone….these flatterers by buttering has bring this state.
One more example is of “Dr. Santosh Dhale” .Everyone is well acquainted with his name. His articles used to come in magazine and no one can raise question on his dedication towards Sadgurudev….But where is he now?......What is the reason that they all have become hidden now?........What were the circumstances created for him that he had to leave….everyone know the reason but are silent. Those who came to know the reason, they find it right to save their own dignity. Thinking this, every senior vanished…..
They all were safe under the protection of Sadgurudev but now all are felling insecurity from his own Guru Brothers that on anyone’s instruction anyone can……nobody knows when someone’s time come. And now nobody will listen to side of that alone person, how much he says. Because now there are plenty of physically strong guys and flatterers…..by buttering, they have created such an environment.
That I Arif has become so much danger to all of them. One Shishya…has become danger for these all. If I had become self-made Guru then all would have heaved a sigh of relief….but remaining me as Shishya…..They are feeling so much danger that not for self-made Guru, but for Arif  notices are issued from Guru Dhaam now….
I am disciple of my Sadgurudev and will remain always throughout my life……
Today Sanjay Sahoo was saying to me that any number of mails you do…….it will not affect anyone……but it is mistake because…..when I was quiet….I was quiet….but not now…..Sadgurudev had given discourse of Yudham Dehi for me then also….which is till today also for me……I am not afraid of anyone except Sadgurudev…..not of anyone….because I do not have anything to lose…..but how much one can lose….this is fact worth-considering.
Now some truths are yet to be revealed…

Why shivir is not organized in Bhopal???

What was the last wish of Sadgurudev??

What was the behaviour of some people towards Sadgurudev, especially when he was suffering from ill-health???

What is the aim of Shivir-organization???

And many more such questions whose answer will compel you to think…and I have said earlier that I do not shoot in darkjust wait….

===================================================== आज सुबह की बात है,जोधपुर सेनापति भवन वाले पत्रिका कार्यालय से श्रीमान संजय साहू उर्फ संजय निखिल जी का फोन आया और कुछ सन्देश भी,जिसमें उन्होंने जातिसूचक घटिया तरीके से मुझे उद्बोधन किया था. और लिखा था की मैं “संजय निखिल” बोल रहा हूँ,मुझ से बात कर तुझे बताता हूँ”.मैंने उन्हें दो बार कॉल किया,जनाब दोनों बार मेरी बातों को स्पीकर पर अपने बंधुओं को सुनवा रहे थे,और जब मैंने उन्ही की शैली  में(जिस शैली में उन्होंने मुझे सन्देश भेजा था) बात की तो जनाब कुछ कहने की बजाय फोन कट कर बैठे.
  अचानक मुझे कॉल क्यूँ किया गया,इसका मात्र यही कारण था की मैं डर जाऊं,कुछ ना कहूँ,एक और महानुभाव हैं,जिन्होंने अपनी फेक आई.डी. फेसबुक पर trimurti gurudev के नाम से बनायीं है और हमें ब्लोक कर रखा है की हम उनकी पोस्ट ना पढ़ बैठे,और वो वही से मुझे ६०,५९,५८,५७ गिना रहे हैं...की अब तेरे इतने दिन बाकी हैं,मैंने यहाँ से तांत्रिक मारण प्रयोग कर दिया है,जो यहाँ से बैलगाड़ी क्षमा कीजिये कछुआ गाड़ी से निकल चूका है और बस इतने दिनों बाद आपकी क्षमा कीजिये तेरी बेंड बजा देगा.....ठीक है भाई मैं तो अपनी फोटो,नाम,पता धडल्ले से बांटता रहता हूँ,कोई डर नहीं मुझको....कर ले तू भी एक कोशिश कर ले.पर एक बार तेरा सोहना सा मुखडा जरुर दिखा दे.
    हम सब अपनी माँ से बहुत प्यार करते हैं ना....निसंदेह करते ही है. पर क्या आपको पता है,जिनके कन्धों पर सदगुरुदेव हम सबकी जिम्मेदारी छोड़ गए.वे सब कितना करते हैं?????
शायद आपको नहीं पता होगा.
जब पत्रिका का विभाजन हुआ तो,उसके साथ ही माँ से दो बड़े बेटो ने लगभग सम्बन्ध ही खत्म कर लिया. वजह क्या थी ये मैं विगत पोस्ट में आप सभी को बता चूका हूँ. उस माँ से जो सभी शिष्यों की माँ हैं,सभी शिष्यों की सदगुरु भी,और शायद आप लोगो को ज्ञात नहीं होगा की माँ की ही कामना मूल में रही है त्रिमूर्ति को गुरु पद दिलवाने में. किन्तु क्या सदगुरुदेव ने सभी क्रिया कर दी थी ??
कुछ भी शेष नहीं रखा था?
नहीं,ऐसा नहीं था,सदगुरुदेव हमेशा कहते थे की मैं पात्रता और साधना बल के आधार पर शक्तिपात की क्रिया करता हूँ.और ये लगभग सभी शिष्यों का अनुभव रहा है.अर्थात किसी कितनी तीव्रता से शक्ति प्रदान करना है,कितनी मात्र में प्रदान करना है,ये सदगुरुदेव द्वारा ही निर्धारण होता था.
तो........
तो जब दिव्यपात की क्रिया हुयी,उस क्रिया के प्रभाव से पुनः सभी के ज्ञानवर्धन और उन्नति के लिए गुरुओं का निर्माण हुआ.लेकिन ये पूर्ण क्रिया नहीं थी. आज भले ही हम कहें की उन्होंने सभी को आज्ञा दी थी की अब ये तुम्हारे गुरु हैं,अब से ये तुम्हारा मार्ग प्रशस्त करेंगे..किन्तु ये सब उन्होंने १९९३ में कहा था.
मान लीजिए मैं आपसे कहता हूँ की मैं आपसे बहुत स्नेह करता हूँ और ये बात मैं सन १९६६ से कहता चला आ रहा हूँ तो ये सत्य ही होगा...... है ना.
किन्तु मैं आज आपसे कहूँ की मैं आपसे बहुत नफरत करता हूँ.....तो......सत्य क्या है.वो जो मैंने पहले कहा था,या वो जो मैं अब कह रहा हूँ......
यकीनन जो मैं अब कह रहा हूँ....
और सदगुरुदेव ने कभी कोई बात,कोई काम छुपकर नहीं किया..ना ही हमें ऐसा सिखाया.
एक समर्थ सदगुरु अपने शिष्यों पर शेर सी नजर रखता है,और ये हम सब जानते हैं की उन्हें कभी कुछ बताने की आवशयकता नहीं पड़ती थी,बल्कि जैसे ही आप उनके सामने जाते थे,वे स्वयं ही आपको बता देते थे की तू यहाँ,इस स्तर तक पहुच गया है,और तेरी साधना में ये स्थिति बन रही है,तू अब ये कर.जिससे तेरा मार्ग प्रशस्त हो जायेगा. और ये मात्र मेरा अनुभव नहीं रहा है....आप किसी भी पुराने शिष्य से इस विषय पर बात कर उनकी राय जान लें.
साधना का एक सिद्धांत है की जब गुरु शिष्य में साधना मन्त्र का बीजारोपण करता है तो शिष्य को निरंतर उसमें साधना रुपी खाद और समर्पण रुपी जल डालते रहना पड़ता है,तभी सिद्धियों का प्रादुर्भाव होता है,और सिद्धियों,शक्तियों का स्थायित्व भी.अन्यथा जैसे मिटटी के घड़े में से पानी स्वयं ही रिसता रहता है,वैसे ही धीरे धीरे वो शक्तिपात और सिद्धियाँ भी समाप्त होते जाती हैं.
और गुरु सतत शिष्य की गति को देखकर समयानुसार उसे वो तथ्य बताते रहता है जिससे उसकी शक्तियों में उत्तरोत्तर गति होती रहे और सिद्धियों को स्थायित्व मिलता जाये. ठीक ऐसे ही व्यक्तित्व की शुद्धता भी बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखती है,इस स्थिति में.
सदगुरुदेव का कहा गया कोई वाक्य मिथ्या नहीं हो सकता ???
नहीं हो सकता ना......
ठीक वैसे ही जैसे उन्होंने १९९३ में कहा था की ये तुम्हारे गुरु हैं...वैसे ही उन्होंने १९९७ से लेकर १९९८ तक कई बार एक बात और सबके सामने बोली थी.और वो ये की “तुम्हे ये दीक्षा ये ज्ञान मात्र मैं दे सकता हूँ,मात्र मैं, ------------------------ में से कोई नहीं दे सकता है”. और मैंने खाली जगह पर नाम नहीं लिखा है..मैं बहुत सारे उदाहरण दूँगा जबकि ऐसे कई उदाहरण हैं..उनमे से मात्र आप एक सुनिए  १९९८ मंजुल महोत्सव...जिसमे सदगुरुदेव ने महाकाल युक्त बगलामुखी दीक्षा के बारे में बोलते हुए उपरोक्त वाक्य को एक बार फिर से नाम लेते हुए दोहराया था. १९९३ में भी सदगुरुदेव ने ही कहा था और १९९८ में भी सदगुरुदेव ने ही कहा था.आखिर ५ वर्षों में क्या कमी रह गयी थी इन लोगों की साधना और योग्यता में की सदगुरुदेव को सार्वजनिक रूप से ऐसा कहना पड़ा.किन्तु शायद आप सभी को जानकर आश्चर्य होगा की आज भी उपरोक्त दीक्षा धडल्ले से प्रदान की गयी है कई शिविर में.भला जब आप पात्र ही नहीं हैं या आप सदगुरुदेव के समरूप नही हैं,तो आप ये दीक्षा दे कैसे सकते हैं.और ऐसी एक नहीं कई दीक्षाएं,साधनाएं हैं. क्या सदगुरुदेव ने सभी के सामने जो कहा था,वो गलत था.(जबकि वो पूरा प्रवचन उस केसेट्स में है).
ऐसा नहीं था की सदगुरुदेव ने १९९३ में कोई क्रिया अधूरी की थी,बल्कि बाद के ५ साल में उन्होंने कोई प्रगति दृष्टिगोचर ही नहीं हुयी,अन्यथा उन्हें ऐसे वाक्य बोलने की आवशयकता ही नहीं होती.क्यूंकि मात्र दीक्षा से ही पूर्णता नहीं होती है,स्वयं भी परिश्रम करना पड़ता है,किन्तु वाहन परिश्रम था कहाँ,धन की बहुलता जो थी..चहुँ ओर.. बस इसलिए आप सभी १९९७ की शारदीय नवरात्री से लेकर पाणिग्रहण शिविर १९९८ तक की केसेट्स सुनिए,फिर स्वयं ही सत्य बताइयेगा.
क्या अष्टलक्ष्मी दीक्षा सम्राटाभिषेक दीक्षा के ऊपर है ??
नहीं,क्यूंकि सदगुरुदेव इससे भी कही ऊपर की सह्स्त्ररूपा महालक्ष्मी जैसी साधना और दीक्षा दे चुके थे.और वे राजयोग,राज्याभिषेक,सम्राटाभिषेक,चक्रवर्ती,पट्टाभिषेक  जैसे महान और दिव्य दीक्षाओं की कड़ियों को पूरा कर शिष्यों की सिद्धाश्रम प्राप्ति को सशरीर सार्थक गति देना चाहते थे.लेकिन हुआ क्या सम्राटाभिषेक के बाद का क्रम ना सिर्फ टूट गया बल्कि वो ज्ञान ही समाप्त हो गया.आज १५ वर्ष हो गए हैं,लेकिन उसके आगे का क्रम जिस दीक्षा के रूप में पूर्णता पाता,वो दीक्षा ही आज तक अपनी साधनाओं के साथ नहीं हुयी.और वो दीक्षा और साधना थी सिद्धाश्रम निश्चित  स्थापन और सशरीर प्राप्ति हेतु “ब्रह्माण्ड पार्शवीकरण दीक्षा”.
और माँ से लगाव की तो आप बात ही मत पूछिए,पत्रिका विभाजन के बाद माँ के ८-१० माह में दो दो आप्रेशन हो गए पर मजाल है की ये लोग माता जी से मिलने गए,रहते पड़ोस में हैं,पर हाल चाल पूछने की भी फुर्सत नहीं थी.भाई जिसकी जिम्मेदारी है वो निभाए,हमारा लेना देना थोड़े ही है. और देखिये संस्कारों को कितनी सुंदरता से हमारे भीतर उतारते हैं ये सभी.दो पत्रिकाओं में माँ का नाम कितने आदर से आता है. उस माँ का जिन्होंने आज्ञा दी थी की अब से मैं जो आगया दूंगी,तुम सब शिष्य उसका पालन करोगे,और सच में हम सब कितने उत्साह से पालन कर रहें है,सब के सब मात्र उन्ही को अपना सब कुछ मानते हैं..... है ना.
वास्तविकता ये है की सदगुरुदेव के बाद माँ ही हमारी गुरु हैं,क्यूंकि सदगुरुदेव हमेशा से यही कहते रहे की मैं भी तुम्हारी माता जी के बिना शक्ति हीन हूँ.
मैं पूछना चाहूँगा सबसे की जब सदगुरुदेव ने पात्रता और सिद्धत्व पर प्रश्नचिन्ह लगाया,जब माँ ने अपने हाथ इनके पीछे से खीच लिए तो तब भी ये सब अथाह सामर्थ्यशाली हैं?? माँ से ये कितने जुड़े हुए हैं की दो दो पत्रिकाओं की सर्वेसर्वा माँ को ही इन्होने बना रखा है.एक पत्रिका की तो वो पहले से थी....देखिये देखिये..और पढियेगा जरूर.आखिर ये माँ से ऊपर थोड़े ही हैं...या फिर हैं......
जरा खुद से पूछिए की वास्तव में आप किसे देखकर वहाँ जाते हैं और कौन आपके लिए प्रधान है,सदगुरुदेव,माता जी या कोई और ?????
मैं तो सबके सामने पारद विग्रह देता हूँ और उसकी कीमत बहुत ज्यादा है,ये कहकर लागत मूल्य बताकर देता हूँ...पर मैंने कभी किसी से किसी काम को तंत्र से संपन्न कर दूँगा..ये कहकर धन नहीं लिया......किन्तु मैं पचासों ऐसे व्यक्तियों के नाम बता सकता हूँ,जिन्होंने अपने काम के लिए इन लोगों को  लाखों रूपये दिए पर जब उनके पास पैसे खत्म हो गए तो आज उन बेचारों से कोई मिलने को भी तैयार नहीं होता है.यदि आप त्रिकालज्ञ हो तो आपको घटना की सत्यता मालूम होगी और आपका वाक्य ब्रह्मवाक्य होगा,आप जो कहोगे वो आपकी साधनाबल से होकर रहेगा,पर अफ़सोस ऐसा होता नहीं है....पैसा,पैसा,पैसा और पैसा...बस यही बाकी रह गया है....सदगुरुदेव जहाँ पहले घंटों मंत्रोच्चारण कर साधनाओं को करवाते थे,स्थापन करवाते थे,अब हालत ये है की पांच मिनट में प्रयोग खत्म...सिद्धाश्रम साधक परिवार....सिद्धाश्रम दीक्षा परिवार हो गया है. और तो और मंत्र भी काउंटर पर बैठा बंद देता है,जो ना जाने उस समय किस हालत में होता होगा.
सदगुरुदेव जब पहले शिविर करवाते थे या मिलते थे तो,चाहे कोई किसी भी गुरु का शिष्य हो...उसे दिशा निर्देश देकर पूर्ण चिंतामुक्त करके भेजते थे..किसी से कोई वैमनस्य नहीं.कौन किस धर्म,जाति का है,इससे कोई मतलब ही नहीं....किन्तु आज तो ये हालत है की यदि आपके नाम के आगे “निखिल” लगा है तो आप बंधुआ मजदूर हो गए हो. आप अपने व्यक्तित्व को कार्य को विस्तार दे ही नहीं सकते. सदगुरुदेव के समय भी मेरे एक नहीं ४-४ लेख प्रकाशित हुए थे मंत्र-तंत्र-यन्त्र विज्ञानं में. किन्तु अब तो स्वतंत्र लिखना भी गुनाहे अजीम हो गया है.
क्या करना चाहिए मुझे ???
क्या गलती है मेरी ??
यही की मैं अपने सदगुरुदेव को अपना गुरु कहता हूँ.क्या मुझे ये नहीं करना चाहिए ???? जिससे मैंने सबकुछ सीखा है,उसके लिए विकृपण हो जाना चाहिए. अहसानफरामोश हो जाना चाहिए मुझे....है ना.... मैंने जो अपने देश अपनी सभ्यता,अपनी सनातन परम्परा से सीखा है...उसे भुलाकर गुरु विमुख हो जाना चाहिए ना.
जो मैं नहीं हो सकता.कभी नहीं.....
क्या कोई अपनी माँ-अपने बाप का नाम लोगो के भय से बदल देगा..... नहीं.....कभी नहीं...
वैसे ही जिसने मुझे ज्ञान दिया है..मैं उस नाम को अपने जीवन से नहीं निकाल सकता ...मुझे गर्व है इस पर.... और हाँ जब आपने कुछ दिया नहीं....आपका मुझसे लेना देना नहीं तो आप और आपके समर्थक कौन होते हैं मेरा मार्ग रोकने वाले....और क्या मैं चुप चाप बैठूँगा.
मैं चुनौती देता हूँ की आ जाओ..दो दो हाथ कर लेते हैं...देखते हैं किसके शिष्य में कितना दम है....किसी भी क्षेत्र में किसी भी तरीके से....पर शर्त यही है की लड़ाई आमने सामने की हो...कोई कपट नहीं....कोई धूर्तता नहीं.....कोई छल नहीं....
ऐसा ना हो की जैसे पुराने सदस्यों के साथ धोखे से किया गया .
क्यूंकि  एक ओर बात जो किसी के गले आसानी से नीचे नही उतरेगी,कि क्यों वरिष्ठ शिष्य आज गुरू धाम जाने से कतराते हैं.एक उदाहरण हैं गुरू सेवक श्रीवास्तव जी”  का ..जो सदगुरुदेव के निर्देशन मे कितने लंबे समय रहे.इस बात की. कोई प्रमाण की आवश्यकता नही .
पर आज कहाँ गायब हो गए,क्योंकि एक एक वरिष्ठ  गुरू भाइयों को एक सोची समझी रणनीति के तहत या तो आरोप लगाकर निकाला गया या उसकी ये हालत कर दी की वह अपमानित हो कर स्वयम ही जाने को बाध्य हो गया या मार पीट कर उसे दरवाजे से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.आखिर सारे के सारे वरिष्ठ जिनके नाम पत्रिका मे आते रहे, कहाँ गए,क्या कारण हैं.. एक साथ सभी गायब .ऐसा क्या हुआ .. ..इस पर कोई बात नही ..... क्योंकि कोई उन्हें साथ लेकर चलने  को तैयार ही नही था, बल्कि उनको देखना भी नही चाहता था और यह कार्य  नए नए चाटुकारो ने काम बखूबी किया.   
अब बाहूबलियो की फौज रखी गयी हैं, जो एक इशारे पर ....आज जो खबर आती हैं  की अब गुरू धाम से बाकायदा फतवे जारी  किये जाने  लगे  हैं ..की इस आरिफ के साथ यह कर दो या वह ......पर जो अन्य  स्वयमभू गुरू बन् गए  उनके  विरुद्ध  इन तथाकथित  शिष्यों की जान निकलती हैं  की उनके  विरुद्ध बोले ..........क्योंकि अब वे भी इन्ही की भाषा मे  जबाब देने के  तत्पर हो गए हैं .........जिस तरह से  गुरू सेवक श्रीवास्तव को गुरूधाम मे ही बुरी तरह मारा पीटा गया,वह सभी जानते हैं अनेको उस घटना को जानते हुये भी मौन हैं. किन किन ने यह कार्य किया किन के इशारे पर कराया  गया,सत्य सभी जानते हैं .क्योंकि अब बाहूबली शिष्य वहां पर  हैं जो आपके द्वारा कुछ भी  बोले जाने  पर सीधे  ही..... .
 इतने वर्ष सदगुरुदेव के निर्देशन मे काम करने वाले पर जब तक सदगुरुदेव रहे तब तक  तो उन सभी पर कोई  आरोप नही लगे  पर अचानक ..इतना ...गंभीर आरोप ......वरिष्ठ शिष्यों को तरह से मारा पीटा जाए,यह  देख कौन वहां अपना मुंह खोलेगा क्योंकि वहां रहने पर  किसी भी दिन, उनकी यही दशा  हो सकती हैं .सभी वरिष्ठ  ने दुरी करना चालू कर दी .
क्योंकि सदगुरुदेव जी के रहते  तो यह स्थिति कभी बनी नही .की किसी शिष्य को किसी दूसरे शिष्यों से  इस तरह पिटवाया जाय ....वह भी  गुरू धाम  मे  ...
पर मैं  ऐसा नही हूँ.यह मेरे विरुद्ध आखं  उठाने वाले जान ले ,मैं कोई गुरू सेवक श्रीवास्तव नही  हूँ की मेरे साथ कोई ऐसा कर लेगा और मैं आसूं बहाता हुआ मौन रह जाऊँगा.इसकी उसकी दुहाई देता कायरों  की तरह बैठा रहूंगा,सदगुरुदेव ने   मुझे  सिखाया  हैं उन्होंने इतनी  सामर्थ्य भी दी हैं की घूरती इन आखों  को  नोच कर फेक सकूँ ...मैं बात कहने मे नही....बल्कि  करने मे सक्षम  हूँ .यह कोई दम्भोक्ति  नही हैं.अब मैं भी तैयार हूँ ही ...बहुत  शांती   की बात   हो गयी.बहुत सहन हो गया.मैं कोई   कायर नही की झूठी id से  छद्म रूप से आरोप लगाता रहूँ ...इन चाटुकारों  ने कान भर भर कर आज यह अवस्था  ला दी ...
एक ओर उदाहरण हैं डॉ संतोष धलेइस नाम सभी सभी परिचित हैं.जिनके  लेख पत्रिका मे आते  रहे और सदगुरुदेव के प्रति समर्पण  पर कोई प्रश्न उठा ही नही सकता ..पर वे आज कहाँ हैं? .....क्या कारण हैं की .आज ये सभी  गोपनीय हो गए? ..........क्या क्या इनके सामने भी क्या परिस्थितियाँ बनायीं गयी की इन्हें भी जाना  ही पड़ा ...कारण  तो सभी जानते हैं पर सभी मौन हैं.जो कारण भली भांती जान गए उन्होंने  अपना  मान सम्मान  बचाना   ही उचित  होगा.यह सोच कर  चले गए,एक एक वरिष्ठ ...
जहाँ सदगुरुदेव के अभय तले सभी सुरक्षित थे पर  अब सभी को अपने  ही गुरू भाइयों से खतरा   होने  लगा की न जाने  कब कौन किसके  इशारे पर .... ..कब किस का नंबर आ जाए .और .उस अकेले का कोई पक्ष  सुनेगा भी नही  वह चाहे कितना भी कहे.क्योंकि अब भरमार  हो गयी   हैं बाहुबलियों  की..चाटुकारों की ....कान भर भर कर आज ये  माहौल  बना  दिया  गया हैं.
की मैं आरिफ इतना बड़ा खतरा इन सभी के लिए बन गया  हूँ.एक शिष्य.... इन सभी के लिए खतरा बन गया  हैं अगर मैं स्वम्भू  गुरू बन् जाता तो  ये सभी राहत के सांस लेते ...पर मेरे शिष्य बने रहने मे .....इन सबको इतना खतरा की,अन्य स्वयम्भू गुरुओ  के लिए  नही बल्कि आरिफ के लिए  अब गुरू धाम से मेरे नाम के  नोटिस  जारी   होने लगे ....
मैं अपने सदगुरुदेव का  शिष्य हूँ और आजीवन शिष्य रहूंगा ..... और आप लोग देख ही रहे हैं की पत्रिका के हर अंक में किनते तथाकथित गुरुओं पर कार्यवाही की रिपोर्ट रहती है.हम सब हर माह पढते हैं..इन कार्यवाहियों के बारे में...है ना.

आज संजय साहू मुझे कह रहे थे की चाहे जितने मेल कर लो...कही,किसी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा.....पर भूल है ये क्यूंकि....जब तक मैं चुप था...चुप था....पर अब नहीं...सदगुरुदेव ने युद्धं देहि का प्रवचन तब भी मेरे लिए ही दिया था...जो आज भी मेरे लिए ही है....डरता तो मैं मेरे सदगुरुदेव के अलावा किसी से नहीं हूँ.....किसी से नहीं...क्यूंकि मेरे पास खोने के लिए कुछ है नहीं...पर कोई कितना खो सकता है...ये जरूर सोचने वाला पहलु है...
अभी और कई सत्य बाकी हैं....

भोपाल में शिविर क्यूँ नहीं ???

सदगुरुदेव की अंतिम इच्छा क्या थी ??

क्या व्यवहार था सदगुरुदेव के प्रति कुछ लोगों का,तब.जब उनका स्वास्थ्य खराब था ???

शिविर आयोजन का उद्देश्य क्या है ???

और बहुत कुछ ऐसे प्रश्न जिनके उत्तर सोचने पर विवश जरुर करेंगे...और मैं पहले ही कह चूका हूँ मैं अँधेरे में तीर नहीं छोड़ता हूँ.....इन्तजार कीजिये....

****ARIF****



8 comments:

Dinesh Paliwal said...

भाई सा,
आँखें खुली, मोह छुटा, सत्य का ज्ञान हुआ, सत्य प्रकाशन के लिए हृदय से धन्यवाद |

Trimbakam said...

Dear arifji,
we want to know the answers of the questions raised by u in SATYA KI OR DOOSRA KADAM.... which are as follows:-

"1. Why shivir is not organized in Bhopal???

2. What was the last wish of Sadgurudev??

3. What was the behaviour of some people towards Sadgurudev, especially when he was suffering from ill-health???

4. What is the aim of Shivir-organization???

5. I would like to ask all that when Sadgurudev raised question mark on eligibility and question mark, when Maa stopped supporting them then are they still Capable??"

Pls reply.

rinku chandrakar said...

aarif bhai ham bhi aapake saath hain.
jai gurudev.
mai bhi to tadap raha hu siddhi ke liye bhai pichale 15yr se. 1991 me pita ji aur ham sab diksha liye ush time mai sirf 6yr ka tha. 12yr me saadhana chaalu karke aaj 13yr ho gayaa kewal anubhuti ke alaawa kuch bhi nai hua. apsara, vaital. bhoot, yakshini, nawarna etc kya kya nai kia. please mujhe guide kijiye bhoot sadhana jo aapka trusted aur easy hai please mujhase contact karke bataye. apana no. dijiye. abhi ham pichale 3yr se shriwastaw ji ke saanidhya me ujjain me hawan kar rahe hain. please contact me.
rajendra194@ymail.com
mob.- 09098846651

rinku chandrakar said...

aarif bhai ham bhi aapake saath hain.
jai gurudev.
mai bhi to tadap raha hu siddhi ke liye bhai pichale 15yr se. 1991 me pita ji aur ham sab diksha liye ush time mai sirf 6yr ka tha. 12yr me saadhana chaalu karke aaj 13yr ho gayaa kewal anubhuti ke alaawa kuch bhi nai hua. apsara, vaital. bhoot, yakshini, nawarna etc kya kya nai kia. please mujhe guide kijiye bhoot sadhana jo aapka trusted aur easy hai please mujhase contact karke bataye. apana no. dijiye. abhi ham pichale 3yr se shriwastaw ji ke saanidhya me ujjain me hawan kar rahe hain. please contact me.
rajendra194@ymail.com
mob.- 09098846651

rinku chandrakar said...

aarif bhai ham bhi aapake saath hain.
jai gurudev.
mai bhi to tadap raha hu siddhi ke liye bhai pichale 15yr se. 1991 me pita ji aur ham sab diksha liye ush time mai sirf 6yr ka tha. 12yr me saadhana chaalu karke aaj 13yr ho gayaa kewal anubhuti ke alaawa kuch bhi nai hua. apsara, vaital. bhoot, yakshini, nawarna etc kya kya nai kia. please mujhe guide kijiye bhoot sadhana jo aapka trusted aur easy hai please mujhase contact karke bataye. apana no. dijiye. abhi ham pichale 3yr se shriwastaw ji ke saanidhya me ujjain me hawan kar rahe hain. please contact me.
rajendra194@ymail.com
mob.- 09098846651C

Trimbakam said...

Dear ARIFJI,
We want to know the answers of the questions raised by u in SATYA KI OR DOOSRA KADAM.... which are as follows:-

"1. Why shivir is not organized in Bhopal???

2. What was the last wish of Sadgurudev??

3. What was the behaviour of some people towards Sadgurudev, especially when he was suffering from ill-health???

4. What is the aim of Shivir-organization???

5. I would like to ask all that when Sadgurudev raised question mark on eligibility and question mark, when Maa stopped supporting them then are they still Capable??"

WAITING FOR UR REPLY SO PLEASE PLEASE REPLY.

Nikhil said...

trimbakam bhai,main abhi in vishayon par apna lekh nahi de paaunga,abhi main hospital ke project me laga hua hun.usse free hokar hi main is kadi ko aage badhaaunga.aur bhai negative positive kuchh nahi hota hai,bahut kam log hote hain,jinhe sach me sach jaanne ki chaah hoti hai,baaki to andhvishvasiyon ki tarah peechhe peechhe doudte rahte hain.mere prayas karne par kya hoga kya nahi,iski fikr mujhe nahi hai,jab paryaapt samay hoga,tab main apne is kadam ko aage jarur badhaunga..thnx for ur cmmnt

Trimbakam said...

Bhai,
Thank you for replying.

We all know that pehle hospital ka kaam jaroori hai.

In reply to your comment "prayas karne par kya hoga kya nahi,iski fikr mujhe nahi hai", I can only say that prayas karne par vo hee hoga jo manjure gurudev hoga".

:)

We all are one family. We can surely wait for knowing the truth but pls bhai yeh dekhna kee intezar bahut hee jayada lamba na ho jaye ke jawab kee aas he toot jaye.

:)