There was an error in this gadget

Sunday, September 23, 2012

Sarva Vish Harak Garun Sadhna


   साधना जगत में कई साधनाए निर्जन में होती हैं, कई बार मनो वांछित साधना के लिए किसी वनस्पति की आवश्यकता होती है .ऐसे में वन में जाने पर सर्प आदि का भय होता है , परन्तु यदि साधक निम्न गरुण मन्त्र को ३००० बार पारद शिवलिंग के सामने बैठकर उनकी पूजा करने के बाद कर ले तो ये मन्त्र सिद्ध हो जाता है और जब भी वन में जाये तो प्रवेश करने के पहले इस मन्त्र को १०८ बार पढकर जमीन पर लकड़ी से आघात कर दे तो कोसो तक सर्प का भय नहीं होता है. इस मंत्र का प्रयोग भी हमने दोनों वर्कशॉप में किया था .

मन्त्र- पक्षिराज राजपक्षि ठ: ठ: ठीम् ठीम् यरलव पक्षि ठ: ठ:
==============================================

In world of sadhnas many sadhnas are performed at lonely places, When desired wishful sadhnas are accomplished then we need the help from herbs.In such situation we have to visit woods for getting such herbs and their there is afraid of reptiles like snake etc. But if the seeker do the following mantra Gharoon for 3000 times and sit in front of Parad shivlingam and do worship after that the mantra is siddh. When you enter the forest before Let chant the mantra 108 times and then blow up the wood on the ground strongly and in that way no curse of snake fear does exists. We also use this mantra in our workshop.

Mantra : Om pakshiraj rajpakshi om thah: thah: thim thim yaralav om pakshi thah: thah:

****NPRU****

No comments: