There was an error in this gadget

Tuesday, June 7, 2011

Kumari poojan sadhana - why it is so importance necessary ?


कुछ ऐसी  साधनाए  हैं किनका महत्त्व /प्रभावशालिता /उपयोगिता अपने आप में अद्वितीय हैं पर कितने लोग इन तथ्योंको जानते हैं .
  •  क्या कोई  एक ऐसी साधना हैं जो दिन प्रति दिन  की समस्याओ से निजात दिला सके?
  •    क्या कोई एक ऐसी साधना हैं जो हमारा  बुरे  भाग्य  को  शुभता में बदल सके ?
  •  क्या कोई  एक ऐसी साधना हैं जो पितृ  दोष, वास्तु दोष , ओर नव गृह दोष  को भी बदल सके ?
  •  क्या कोई एक ऐसी साधना हैं जो हमारी आध्यात्मिक  उन्नति के मार्ग में आने वाली रूकावटो को भी बदल सके ?
  • क्या कोई एक ऐसी साधना हैं जो हमें भौतिक ओर आध्यात्मिक  दोनों उन्नति प्रदान कर सके ?
  • क्या कोई एक ऐसी साधना हैं जो  समस्त तांत्रिक  साधनाओ   का आधार  हो ओर हमें सफलता प्रदान करवा  सके ?
 और में यह कहता हूँ की एक ऐसी साधना  हैं जो इन सारे प्रश्नों के उत्तर हाँ में  दे सकती हैं  हमारे  जीवन की सर्वांगीण  उन्नति में  सहयोगी  हैं तो वहसाधना  हैं " कुमारी पूजन साधना " परन्तु  इस का हमारी   साधना  की सफलता से क्या  सम्बन्ध हो सकता हैं .

 और यह साधना  /पूजन  तो नवरात्रि काल में होता हैं  तब इसका यहाँ पर देने का क्या उदेश्य हैं . यह  हमारी अज्ञानता  हैं की हम  सभी साधनाओ  के मूल आधार  साधन के बारे में न तो जानते हैं नहीं  उसकी और ध्यान देना चाहते हैं . पूजन  तो चलो ठीक हैं इसे सरल माना जा सकता हैं पर जब इसकी  गहनता , गंभीरता , उच्चता   से  इसके बारे में  जाने तब समझ पाएंगे  की क्या हैं यह साधना  पूजन पद्धति. और सब ये जानने  के बाद यह  हिकः पाएंगे की यह तो मेरा दुर्भाग्य था की में इस साधना  के  विषय में नहीं जान  पाया .

जगदम्बा  साधना  cd  में सदगुरुदेव जी कहते हैं की  माँ जगदम्बा  साधना   के लिए किसी भी  विशेष  समय की आवश्यकता नहीं हैं . जिसे जब भी समय मिले  वह इस  साधना  को कर सकते हैं .  कुमारी  पूजन  साधना  भी  माँ जगदम्बा  साधना का ही एक रूप हैं . स्वामी विशुद्धानंद  ओर माँ आनंद मयी  जैसे उच्च कोटि  के महा योगी यो ने भी भूरी भूरी  प्रसंशा   की हैं .  
 पर ऐसा  क्यों  जबकि  पुरुष  ओर  महिला   एक बराबर साधना क्षेत्र  में माने जाते हैं तब यह विशेषता  एक ही पक्ष  मतलब  कुमारी की और  हो क्यों .  हाँ यह बात सही  हैं की  पुरुष  ओर महिला दोनों  ही  बराबर हैं . पर यह भी  तो सत्य हैं  की  इस विश्व में  कोई भी दो चीज एक जैसी नहीं होती  हैं . हर  की कोई न कोई विशिष्ट  विशेषता  होती ही  हैं . जिस तरह से पुरुष को शिव स्वरुप  माना जाता हैं वही  महिला स्वरुप  को शक्ति का प्रतीक माना जाता हैं . पर बिना शक्ति के  शिव  भी शव के सामान  हैं .
 क्या आप जानते हैं की सिद्धाश्रम    /  ज्ञानगंज  में  कुमारी  पूजन साधना  को सर्वोपरि  साधना माना  जाता हैं  हमारे  प्राचीन तन्त्रचार्यो  ने  नारी  को शक्ति का स्वरूप माना गया हैं  साथ ही साथ  उन्होंने  कुमारी  स्वरुप को शक्ति  का सर्वाधिक प्रभावशाली   प्रतीक  माना  हैं . यहाँ तक की उन्होंने आयु के आधार पर  किन किन  शक्ति  विशेष का  प्रभाव ज्यादा   प्रदर्शित होता हैं .
  • १ वर्ष --- संध्या
  • २ वर्ष -- सरस्वती
  • ३--- त्रिधामुर्ती
  • ४-- कलिका
  • ५-- सुभगा
  • ६-- उमा
  • ७-- मालिनी
  •  ८ कुब्जिका
  • ९--- कलासन्दर्भ
  • १० अपराजिता
  • ११ रुद्रानी
  • १२ भैरवी
  • १३ महालक्ष्मी

आप  इन  कन्याओ  को अत्यंत  ही विनम्र  भाव से आमंत्रित करे  ओर इनकी संख्या   एक तीन पांच  इसी क्रममें हो सकती हैं . इन्हें माँ   पराम्बा का स्वरुप मान कर इके चरण  को जल से धोएं . फिर अपने ही वस्त्रो से पौछे . फिर  तिलक लगाने के उपरान्त इन्हें विभिन्न प्रकार  के भोज्य पदार्थ  अर्पित करे . फिर इनके चरणस्पर्श करे साथ ही  साथ  योग्य कोई वस्त्र भेंट करे  और यथा योग दक्षिणा  में इतना अर्पण करे की ये कन्या आपके यहाँ से प्रसन्नभाव से जाये .( कुछ  लोग  दक्षिणा  कम देते हैं पर वे यदि  इस  ओर ध्यान दे की इस पूजन की और उन कन्याओ की प्रसन्नता  का क्या मूल्य  होगा .. तब वह ये सब नहीं कर पाएंगे ) 
 किसी भी हालत  में नमक अर्पित  न करे
भोजन  के उपरान्त  पान अर्पित करे.
 जब  कुमारी  प्रसन्न  होकर जायेगी  तो मानो  माँ पराम्बा  ही प्रसन्न हुयी  हैं .
 कुमारी पूजन की इसलिए महत्ता  हैंकि  सृष्ठी  के प्रारंभ  में माँ नित्य   लीला विहारणी  का यही स्वरुप रहता हैं  जो की कुमारी स्वरुप हैं .
 अनेक व्यक्ति  किसी  शक्ति पीठ  विशेतः महापीठ  पीठ  माँ कामख्या  पीठ में इस तरह का पूजन करवाते हैं उन्हें  की अवश्य  लाभ मिलता हैं ओर कितना ? उसे लिख पाने में असमर्थ  हु. क्या माँ के इस रूप के प्रभाव   की कोई सीमा हैं .
 जब भी आपका मन  हो, २१ st    को , कृष्ण पक्ष  की अष्टमी को ,या किसी भी साधना  पूरी करने के  के उपरान्त आप इस को कर सकते हैं  . जिनके पास किसी भी बड़ी साधना  को करने का समय नहीं हो वह इस   को  करके  अपने जीवन में सर्वांगीण  लाभ  प्राप्त कर सकते हैं .   जिनके ऊपर माँ  की कृपा   हो  उसे भला कौनसी चिंता ....
आज के लिए बस इतना ही ..
**************************************
 There  are  many sadhana which  seems easy   but their effectiveness/importance /applicability  are much much higher, only very few   people knew,
·        Can any  single sadhana solve our day to day problem?,
·        Can any  single sadhana change our fate from bad to good? ,
·        can any  single sadhana which removes from us pitra dosh,  vastu  dosh , and off course  nav grah dosh  too ?
·        can any  single sadhana  removes all the obstacles  that may come  on the way of spiritual progress ?
·        can  any single sadhana  help us to grow materially   and spiritually? , 
·        do you  know any  single sadhana / poojan which provide the  basic foundation of  the success of  all the tantraik sadhana?
 And in the last, if I says , one sadhana which provide  answer to all the question  and  gives us so much benefit of course all theses question  have one answer …..
And the sadhana  is “kumari poojan sadhana”  but why  that is here, is there any relation to  this sadhana to the success  of  our sadhana.
 But this is the poojan/sadhana generally held  in  time of navratri, than why it is being mentioned here.  This shows our ignorance that   the  basic sadhana  of all the sadhana , we all forget  and not pays  much attention towards this  , yes  the poojan seems easy  but when you look into the seriousness and  height of  thinking and importance  in our life , one  can say  that  its my unfortunate /bad luck that still I do not understand  that .
it is  the fact  Sadgurudev ji in jagdamba sadhana  cd says that  for jagdamba  sadhana there is no  pre fix time in year , one can do that sadhana as  and when  he find the time suitable  to him  so this  kumari poojan  is also a  form of jagdamba  poojan .  many great sadhak  of our  country  like  paramhansa swami vishuddhaanand ji , ma Anandamoyee and many more emphases too much on that .
 But why  , when man and woman are equal , than why  such a  emphysis on one side only  . yes true that man and woman are equal , but  this is also true that in this   world no two things are  alike, every one  has  own unique quality.  As  the same way  man are consider as a form of shiv and woman  as a shakti , and without shakti even shiv became as a corpse or shav.
Do you  know which  one of the sadhana is ritual is consider highest in  siddhashram and in Gyanganj ,yes  this “kumari poojan sadhana “ is the highest  poojan  sadhana, actually kumari poojan is nothing  but the poojan of basic form of ma kamakhya .  this is the poojan sadhana of ma paramba. Ma aadhi shakti . than how  it can be considered  it as take it easy  form..
  Nearly  All the sadhana  are for/are based on  shakti . our ancient  tantrachary   not only  consider female part is as shakti  but they also   indicate that  unmarried girl has some more  reflection of  shakti . and they divided the group as per the age group and named them like
 Girl age up to age of 16 years have different names 
 1 year --- sandhya
2—saraswati
3---tridhmurti
4—kalika
5—subhaga
6—uma
7—malini
8--- kubjika
9—kalasandarbha
10—aparajita
11- rudrani
12--- bhairvai
13—mahalakshmi
 while offering one can call with politeness and  their number be like one, three five seven  like that  , if not possible than one girl is sufficient. One should consider the girl called for kumara poojan as a form of mother divine, first  wash their feet with feeling that  he is washing  lotus feet of  mother divine. Then through his own cloth  , removes the water particle still  on the feet.  Than apply tilak  and offer various food already prepared for them and after this    offer if possible  a cloths as per your capacity and touch her feet  and also offer some money a as  dakshina, that should be enough  so that she will be happy ( many people does not understand that what is the value of that  happiness, they generally  avoided the  enough money to offer and this only weakness,  snatched   her blessing,
 One   always remember that “salt” should not be offer to kumari at any cost.
 Than one should offer tambul or paan to the end of  bhojan/food offering to them. To  the kumari .
 When kumari  is happy  this means mother divine  became happy ,  great sadhak  also advice us that  consider that kumari  not a percent less than the ma paramba.
 But why the kumari form ? … is because in the beginning , ma nity lila viharaini  ma parmba  forms  is of a kumari.
 Many people do that in the shakti peeth  and specially  in ma kamakhya maha  yoni peeth  this sadhana poojan gives you  unlimited/countless  blessing  and what more left for me  to mentioned  that , is not sufficient that all the world is governing  by the same kumari ma or ma jagdamba or  ma paramba.
 And one can do this process even after completion of any sadhana  or on every 21 st  of month or  ashtmi of moon dark  period. Even if  you are not able to do  any big sadhana do this ,when you have time and money , surely  all your problem gone and  will  lead a happy comfortable life. Surely he will receive the   aashirvaad of maa. When his divine blessing falls upon you.  Than any condition makes you unhappy or sad……..
 Thats  enough today’s

Tantra kaumudi :(monthly free e magazine) :Available only to the follower  of the blog and member of  Nikhil Alchemy   yahoo group
Our web site   : http://www. nikhil-alchmey2.com
Kindly visit our web site containing   not only articles about tantra and  Alchemy but on parad gutika and  coming work shop info , previous workshop details  and most important about Poojya sadgurudevji    
Our Blog  for new posts  : http://nikhil-alchemy2.blogspot.com
****NPRU****

No comments: