There was an error in this gadget

Thursday, June 9, 2011

SWARNA RAHASYAM- RAS SIDDHA DARPAN(KAAL TANTRA KA ADBHUT RAHASYA)


रस कर्म में सिद्धि पाने के मार्ग में जिन औषधियों का आश्रय लिया जाता है उन्हें सिद्धौष्धियों,दिव्यौषधि तथा महौष्धियों में विभक्त किया गया  है . पुनर्नवा, सहदेवी, ताम्रप्रभा , महाबला,काकजन्घा , धर्तुर,रवि,सर्पोंखा, मतस्यक्षी,खंड्जिरी, इन्द्रायण, सिंहिका आदि प्रभुतिकी वनस्पतियां हैं जो रस शास्त्र के साधक को उसका अभीष्ट प्रदान कर देती हैं, शर्त मात्र यही है की साधक को उसके गुण धर्मों का भली भांति ज्ञान हो.

  धातु परिवर्तन करते समय इस बात का ध्यान रखना अत्यधिक अनिवार्य है की हम जिस वनस्पति का प्रयोग रस कर्म के लिए कर रहे हैं , वो ग्राहक है या दात्री. यहाँ इन दोनों शब्दों के उचित अर्थ को समझना आवश्यक है. ग्राहक वनस्पतियां वो कहलाती हैं जो किसी भी धातु के धात्विक अंश को मात्र ग्रहण करती हैंदात्री वो कहलाती हैं जो भूमि में प्राप्त धात्विक अंश को किसी अन्य धातु या पारद में प्रदान कर देती है . परन्तु कुछ वनस्पतियां ऐसी भी होती हैं जो की किसी काल विशेष में ग्राहक का गुण रखती है और किसी कालविशेष  में दात्री के गुणों से युक्त हो जाती हैं. मान लो की तीव्र प्रभावों से युक्त एक वनस्पति है सर्पोंखा जिसका प्रयोग रजत निर्माण के लिए किया जाता है तो यदि हम उसे प्राप्त करके उसके स्वरस में रजत चूर्ण का मर्दन करते हैं या रजत के काम धेनु का मर्दन करते हैं और - घंटों के बाद उस रजत में से रस को प्रथक करके ठीक उसी स्वरस में पारद का मर्दन या संस्कार करते हैं और शराव सम्पुट करके जब हम उस सम्पुट को वांछित अग्नि देते हैं तो उस सम्पुट में उपस्थित पारद का उस वनस्पति से संपर्क हो जाते के कारण वो पारद क्षेत्र धर्म का निर्वाह कर रजत बीज का चरण कर लेता है और स्वयं का जलीयांश त्याग कर स्वयं रजत में परिवर्तित हो जाता है , ठीक यही क्रिया वो धतूरे के साथ स्वर्ण में परिवर्तित होने के लिए करता है. अंतर यहाँ सिर्फ इतना ही होता है की धतूरे के स्वरस का मर्दन स्वर्ण कामधेनु के साथ किया जाता है तभी ये प्रक्रिया होती है.


   परन्तु एक महत्वपूर्ण तथ्य भी मैं आपको बता देता हूँ की वनस्पतियों के ये गुण ऋतु अनुसार कम या ज्यादा होते जाते हैं. मुझे स्वामी प्रज्ञानंद जी जब ये प्रक्रिया समझा रहे थे तो उन्होंने अलग अलग ऋतु में ठीक उसी पौधे के रस से ये क्रिया करके दिखाई परन्तु प्रत्येक बार पारद में क्षेत्र रूप में जो बीज चारण हुआ था उसके परिणाम स्वरुप पारद उससे १०० गुना ही रूपांतरित हो पाया. तब मैंने उनसे निराशाजनक स्वर में पूछा की तब तो शत प्रतिशत परिणाम पाने के लिए अनुकूल ऋतु का इंतजार करना होगा?


तब उन्होंने उत्तर दिया की नहीं २४ घंटों में भी अलग अलग समय ग्रीष्म,शरद,शिशिर, बसंत आदि ऋतुएं प्रकट होती हैं और प्रत्येक मौसम में सभी ऋतुएँ आती हैं. मतलब ग्रीष्म ऋतु के २४ घंटो में ग्रीष्म तो आएगी ही परन्तु बसंत और शरद आदि ऋतुयें भी आएँगी ही. तब उस वनस्पति का प्रयोग उनके गुणों के अनुसार अल्प या अधिक परिणाम पाने के लिए किया जा सकता है. एक रस शास्त्री को ये जानना भी आवश्यक होता है की  वनस्पतियों अपने पूर्ण प्रभाव को कब देती हैं. तभी उचित मन्त्रों के द्वारा उनका आवाहन करके उनके अंग विशेष को प्राप्त कर उनसे स्वरस निकालना चाहिए. वनस्पतियों का अपना अपना वर्ण वर्ग होता है , रक्त वर्ग, श्वेत वर्ग,पीत वर्ग , नील वर्ग आदि आदि. ये वनस्पतिया पारद से क्रिया कर उसे रग प्रदान करती हैं अर्थात रंजन कर अपना वर्ण प्रदान कर देती हैं . और यही राग गुण पारद तब धातुओं या शरीर को प्रदान करता है जब उसका क्रामण उन पर किया गया हो.

  यदि विशिष्ट क्रम और अनुपात से इन औषधियों का योग कराया जाये तो ये विलक्षण प्रभाव दिखाने में समर्थ होती हैं . मुझे भली भांति याद है की जब मैंने पहली बार स्वर्ण तन्त्रं पढ़ी थी तो उस ग्रन्थ को पढ़ कर मैं सदगुरुदेव के पास गया और मैंने उनसे प्रश्न किया की सदगुरुदेव क्या कोई ऐसी पद्धति है जिससे उन रस सिद्धों का आवाहन किया जा सके जो की इस ग्रन्थ में वर्णित हैं, क्यूंकि जैसी पारद गुटिका आपने बताई है, वो बनाना कम से कम मेरे लिए अभी तो संभव नहीं है , तब क्या कोई उपाय नहीं है ,जिससे मैं उन्हें आवाहित कर सकू??

सदगुरुदेव ने कहा की है क्यूँ नहीं , पर बात रस सिद्धों और साधिकाओं की है तो इसके लिए माध्यम रूप में पारद को लेना ही पड़ेगा और ये पारद गुना गंधक जारण से युक्त हो(ये संस्कार साधक स्वयं ही करे तभी ये क्रिया हो पाती है)फिर इस पारद का संयोग कुछ वनस्पतियों से करके उसके द्वारा एक विशिष्ट पद्धति से दर्पण बनाया जाये  तो इस प्रकार के दर्पण के द्वारा रस सिद्धों का आवाहन किया जा सकता है और उनसे अपनी जिज्ञासाओं का समाधान भी प्राप्त किया जा सकता है .


इस दर्पण का निर्माण किस प्रकार किया जा सकता है ? और इसकी ये योग कैसे कराया जाता है?
तब गुरुदेव ने रस सिद्ध दर्पण निर्माण की तीन विधियाँ बताई  जिनका मैंने प्रयोग करके देखा ,उनमे से एक प्रक्रिया को मैं आप सभी गुरुभाइयों के समक्ष रख रहा हूँ.
वे  संस्कार से युक्त पारद से शिवलिंग तो बनाया जा सकता हैं पर इसके साथ अग्निक्रिया नहीं की जा सकती हैं .अर्थात अग्नि के माध्यम से इसका बंधन नहीं कर सकते हैं .वाम मार्ग में ऐसा कर सकते हैं पर गंधक जारण नहीं कर सकते हैं. शिवलिंग निर्माण के लिए अष्ट संस्कार वाले पारद की आवश्यकता  होती हैं, पर इस प्रयोग के लिए तो गुना गंधक जारित पारद की अनिवार्यता हैं ही . स्वयं के द्वारा कम से कम १०० ग्राम से २०० ग्राम तो पारद गंधक जर्न संस्कार से  संन्सकारित  करे, किसी अन्य  से प्राप्त किया पारद इस प्रक्रिया में उपयोगी नहीं हैं .क्योंकि किसी अन्य  के हाथ लगा पारद उस व्यक्ति विशेष के शरिरुइका और मानसिक स्पंदन को ग्रहण कर लेता है जिससे क्रिया में व्यवधान उत्पन्न होता है.


इसके अतिरिक्त  निम्न  पदार्थों की भी अनिवार्यता होगी , इस दिव्य तेजस्वी दर्पण के निर्माण में..
1.  पीपल की अन्तः छाल का रस
2.  अकरकरा का रस
3.  वज्र(सेहुंड /त्रिधारा ) का रस
4.  काला संखिया
5.  सरपुंखा का रस या दूध 
6.  बड (वरगद ) का दूध
7.  काली तुलसी का रस
8.  काले धतुरा का रस
9.  स्वर्ण क्षीरी  का दूध
10.          शंख  की भस्म
11.          धान्य  अभ्रक
12.          इन्द्रायण का रस
13.          रक्त पुनर्नवा का रस /अर्क
14.          अपामार्ग का अर्क
15.          अगस्त्य वृक्ष का अर्क
16.          माँ भगवती कामख्या महा पीठ का स्वयं निस्रत पवित्र जल

इन सभी पदार्थ की सम्मिलित  कुल मात्रा  उतनी ही होना चाहिए जितनी की पारद का वजन लिया गया हैं .
इन सभी को किसी भी क्रम से खरल में डाल कर खरल प्रारंभ करे , और एक विशेष मंत्र का लगातार  उच्चारण  करते रहे .जब सभी पदार्थ और  पारद मिल कर एक रस हो जाये . वह मंत्र है ब्लूम् . इसके बाद उस मिश्रण को सामने रख कर स्नान कर के पश्चिम मुख होकर निम्न मंत्र का १०००० बार जप करे , याद रखिये किसी भी प्रक्रिया के क्रम को स्वयं के मन से परिवर्तित ना करे अन्यथा क्रिया की सफलता संदिग्ध ही रहेगी.


मन्त्र-     चले चुलेचंडे कुमारिकयोरगं प्रविश्य यथा भूतं यथा भव्यं यथा भवति सत्यं दर्शय दर्शय भगवति मा विलम्बय विलम्बय ममाशां पूरय पूरय स्वाहा    
 तब एक आयताकार या गोलाकार कांच का टुकड़ा लेएक इसके अनुरूप  आकर का  फ्रेम  भी ले जिसमें की यह अच्छी तरह से फिक्स हो जाये .एक लाल रंग का मख मलमल का कपडा भी ले ले .

प्रक्रिया प्रारभ करने से पहले  स्नान कर के पूर्ण शुद्ध हो कर पूर्ण सदगुरुदेव पूजन करे  सिद्ध कुंजिका स्त्रोत के ११ पाठ ,महा म्रत्यु न्जय  मंत्र का ११ माला जप करे इसके बाद अघोर मंत्र का जप करे .समस्त रस  सिद्धो के पूजन के बाद  खरल में पारद  मिश्रित लेप को उस फ्रेम  और दर्पण के मध्य खाली स्थान मैं  भरना होगा . इस दर्पण के ऊपर मख मलमल  का कपडा डाल दे .इसे आपके अतिरिक्त कोई  ओर देखे नहीं . फिर एक स्टूल ले इस पर एक घी का दीपक लगा दे , और हमें दर्पण को ऐसे लगाना हैं कि कि दीपक कि लौ   ओर इस दर्पण के मध्य  का मध्य बिंदु एक सीध  में ही हो . मतलब जब आप अपने आसन पर भूमि पर बैठे  तो ये दीपक आपकी  कि लौ और दर्पण का मध्य बिंदु एक ही सीध में ही होगेअब इसको प्राण चेतना से अपूरित करने के लिए  सिद्ध कुंजिका स्त्रोत के ५१ पाठ  गुरु मंत्र की ११ माला करे.आसन के लिए श्वेत कम्बल , स्वेत रंग का वस्त्र  धरण करे , फिर रात्रि के १२ बजे के बाद से लेकर प्रातः के बजे के मध्य में ही प्रयोग करेंपर इसके लिए  पहले माला गुरु मन्त्र का  जप करे. फिर दीपक कि लौ (जो दर्पण में बिम्बित हो रही है )में  अत्यंत ही विनीत भाव से  आवाहन करे   तो दर्पण में संबंधित  रस   सिद्ध  आपके सम्मुख   होंगे और  आप उनसे पहले से ही  लिखे  प्रश्न  नम्रता पूर्वक पूछे . सब्बंधित रस आचार्य  या आचार्या  आपके प्रश्नों के उत्तर देगे जो कि आपको   सुनाई देगें
इसके बाद आप उन्हें नम्रता पूर्वक  विदा करें , शांति पाठ करे  पुनः एक माला  गुरु मन्त्र जप  करे . और उस दर्पण पर लाल रंग का मख मलमल का कपडा डाल दे.ये तो वनस्पतियों की सिद्धता का प्रमाण है जब आप इसे करके देखेंगे तो सत्यता और असत्यता का खुद ही पता चल जायेगा. इसी प्रकार इन वनस्पतियों में प्राकृत धात्विक अंश तरल या द्रुति रूप में उपस्थित होता है और हमें काल का विशेष अध्यन कर ये जाना जा सकता है की किन क्षणों में स्वर्ण चैतन्य होता है और किन क्षणों में रजत बीज की प्राप्ति की जा सकती है . इसका ज्ञान भी अत्यंत आवश्यक है.     (क्रमशः).............


 [  गंधक, शहद,पारद को एकत्र कर के ४८ घंटे खरल करें यहाँ एक बात ध्यान रखना जरुरी है की पारद और गंधक संस्कार तथा बीज युक्त होना आवश्यक हैं अन्यथा क्रिया बिगड सकती है फिर उस मिश्रण को आतिशी बोतल में भर कर ३५ दिनों के लिए जमीं में गड्डा खोदकर दबा दे और ऊपर की भूमि पर दिनभर सूर्य का प्रकाश लगता रहे , ऐसी जगह पर ही ये क्रिया करें . अवधि पूर्ण होने पर इसे निकाल ले और इसकी एक माशे  के बराबर की मात्रा १ तोला रजत को स्वर्ण कर देती है. ]
****************************
To achieve siddhita in ras karam ( parad tantra science) , the type of   Aaoshidhi (herbs) used  known as siddhoshidhi  ,divyoshidhi and mahaoshiddhi . punanrnava ,sahdevi, tarmprabha , mahabala, kakjangha , dhatura , ravi, sarpunkha ,matsyakshi,khadinjari, indrayan,shinhika are the  important herbs that provide/gives  his abhisht /goal/ aim. only criteria is need that sadhak will be well informed about their  inherit qualities.
Its very important that while  attempting  metal transmutation  that  keep in mind  that the herbs used in that are belongs to  the donar or accepter varga /section. Here we need to understand the proper  meaning  of that  words. Accepter herbs are those who accept only a very small part of any metal’s metallic  element. And donor are those who  provide  metal’s metallic portion to other metal or in mercury. And some of the herbs has the quality of  accepter  and donor both on the  time based  means on some part of the day /month /year they behaves as the donor and other time like accepter. for example one such a herbs is sarpunkha and we are using it for  silver  making purpose. if we do khral with her juice with silver or kharal with silver kamdheny with that and  after 4/5 hours we set aside silver for one side and the remaining juice is again kharal with mercury and use for mardan Sanskar, and after tighten it, as per sharab samput and  heat up as  appropriate  than   the mercury present in that samput get into contact with  herbs ansh and behave like kshetra and accept  silver seed present in that juice .and in the out come ,he  left  its water ansh and became solid silver. And the same process is done with dhatura plants juice for making gold here only the difference is that  juice of dhatura is, khral with (mardan) with swarna kamdhenu  only than process happened.

And one more important fact I will describe here that  theses quality of herbs increases and decreases as per the   season. when swami pragyanand ji  describing this  process he did the same process in different, different  season with  the same plant’s juice and the seed accepted by the mercury  various differently and in result only 100 times mercury get transmutation , than sadly I asked him than I have to wait  till the appointee season comes.
 He answered no. in every 24 hours theses all the season comes one by one that means in time of summer season definitely summer will be prominent but winter and rainy season also come one by one. Than we can use the herbs for to get desired result as per  according to their season and our need. Its very important facts that one ras shashtri must/ should know that when any herbs is have their full effect only than with the use of proper mantra  herbs juice should be taken out. These herbs has their own section like rakt varga (red color based secation), swaet  varg (white color), yellow and blue section like that. Theses herbs  works with the mercury give their respective color means ranjan kriya happened, and the same color or rang mercury or parad provide to other mental or body  if kraman  kriya is done on that .
If through a specific way and specific ratio theses herbs are mix together than  un imaginable effect can be seen. I still remember that while I first read the SWARNATANTRA  and after reading that I went to Sadgurudev ji and told him that   if there are any paddhati through that I can also aawahan to ras siddh mentioned in that books , but incurrent it s very difficult me to make such a gutika as mentioned in the books. Are their not any process by which I can  aawahan to them.
Sadgurudev ji replied why not, but the question is about  aawahan of ras siddh and  sadhika than we have to use parad as a medium and that parad should be of six times Gandhak/salpher  jarit  (all the necessary  sanskar  needed for that already be done bythe sadhak who want to have this mirror) and through application of various herbs to this parad and finally a solution is prepared and  through a specific way a mirror  Is prepared  and on this mirror  any ras siddha can be aawahan  and  person get  the answer of any queries to them.
How this mirror scan be prepared  and what is the process by which herbs are  used in that  ?.
Sadgurudev ji describe to me three way , that I practically did all , one of that  I am here  describing you my guru brother.

Parad with having stage  of asht Sanskar  , can be used for shivling  \making but on that parad agni kriya/using fire is not allowed  means through fire we can not  make bandhan /solidifying that .vaam marg we can do that but using gandhak is not permissible . for shivling making  asht sankar parad is needed, but for this  prayog we require at least six times Gandhak jarit parad , prepare at least 100 to 200 gram of such a sankarit and jarit parad by  self only  (no other person help can be taken), since if other person touch this type parad the mercury accept his mental and physical vibration. That creates obstruction. In fulfilling our procedure / kriya.
In addition to that following things are required for that  making brilliance ,most divine mirror.
1.      Inner core  juice of pepal tree
2.      Juice of akarkara
3.      Juice of vajra (sehund)
4.      Kala sankhiiya
5.      Juice of surpunkha
6.      Juice of bargad tree
7.      Juice of kali tulsi
8.      Juice ofblkack dhatura
9.      Milk of swarna kshiri
10. Ash of shanksha
11. Dhyany Abhrak
12. Juice of indrayan.
13. Ark of rakt purnnava
14. Ark of apamarg
15. Ark of agstay tree
16. And the holy water comingout of ma kamakhya maha yoni peeth.
 All the  above mentioned juice total quantity should be just equal to as the  weight of mercury is to be taken.mix all the substance in any series and in a khral  and while doing khral  chant mentally the mantra om bloom om  after that  take bath and than facing west  chant 10,000 times following mantra ,be careful do not modify the process mentioned here  to suit you , other wise the success will be doubtful .
Mantra
Om chale chulechande kumarikyorang yatha bhutam bhavyam yatha bhavti satyam darshay darshay bhagvati ma vilambay vilambay mamansha puray puray swaha.
 Than take any glass mirror either rectangular or circulare size and appropriate frame also take so thatit properly get fixed inthat. Take red colored makh mal mal cloth.
Before starting the process wash properly and  have full complete Sadgurudev poojan and do 11 paath of Siddh kunjika strota, Maha Mritunjaya mantra 11 round rosary (mala ), and then chant Aghor mantra .than after all the ras siddha poojan use that mixture of parad and herbs  fill in the middle  hollow portion of mirror and frame , and apply makhmalmal cloth on the mirror so that no other person see that . than take any wooden stand of such an height  and put a ghee Deepak on that ,  and fix the mirror on the wall such that  middle portion of the mirror and  flame of  Deepak be in a staright  line, means when you sit on the floor on your aasan than your eye , flame and middle portion of that  mirror be in a line. Then for pranschetana a do chant  51 paath of siddh kunjika strota , and 11 round rosary of guru mantra . for aasan (sitting mat) it should be of while color kambal and white colored   clothe should be used by you. And do this process in between 12 Am in night to 5 am in the Am morning only but for to use that 5 round of rosary of guru mantra is must. Tan see the reflection of the Deepak flame in the mirror concentrate on that  and with full politeness  have aawahan of any ras siddha. Ask him any of the question already written with you  in this field related, the related ras acharya and achray will definitely give the answer which will be clearly audible to you.
After that  very politely ask them to leave. Again do the shanti paath and  1 round of rosary of guru mantra. And red colored makhmalmal cloth again put on that mirror. Theses are the authentication of herbs  siddhita, when you yourself try that you can understand fully yourself. Like the same way various herbs has metallic ansh in liquid or in druti form. And   can calculate the specific proper time  when  swarna ( gold) becomes chaitnya, and in which moment silver… that gyan is also must.
In continue….
[Gandhak (sulpher). Shahad  (honey) ,parad (sankarised mercury) mix together and khral for 48 hours, here note that  parad and Gandhak should be of sakarait and beej yukt. Other wise  the process could not be successful. Fill that mixture in any aatishi shishi (glass flask) and kept  in  earthen hole already created for 35 days , and  that earthen hole  should be situated in such a way that  day light of sun should be onthat. after that duration complete take out that flask , this paste one masha can convert 1 tola of silver in  gold.]

****NPRU****

No comments: