There was an error in this gadget

Wednesday, June 22, 2011

SABAR SOMAVATI SADHNA –FOR YOUR PERFECT JOB


जब बात पूर्णता की हो रही हो तो उसका अर्थ जीवन के दोनों पक्षों से होता है. अध्यात्मिक क्षेत्र में जहा हम विविध साधनाओ का अभ्यास करते हुए गुरु चरणों में लिन हो जाए उस तरह जीवन में यह भी जरूरू है की भौतिक पक्ष भी मजबूत हो. हमें मान सन्मान यश कीर्ति ऐश्वर्य की प्राप्ति हो सके. भौतिक जीवन में सफलता के बिना आध्यात्मिक पक्ष में सम्पूर्णता को प्राप्त करने के लिए प्रयत्नशील होने पर अत्यधिक संघर्षो का सामना करना पड़ता है, वरन उत्तम तो ये है की हम गृहस्थ और आध्यात्म दोनों को साथ में लेके अपनी मंजिल की तरफ आगे बढे. साधनाओ के अंतर्गत सभी प्रकार की गृहस्थ समस्याओ के निराकरण के लिए उपाय है, इसका सीधा अर्थ यही बनता है की साधना मार्ग सिर्फ आध्यात्मिक उन्नति के लिए नहीं है लेकिन भौतिक पक्ष में भी पूर्ण सफलता प्राप्त करने के लिए साधनाओ का सहारा लिया जा सकता है. आज के इस युग में जहाँ एक तरफ द्रव्य का ही बोलबाला है, जीवन के लिए एक उत्तम आय का स्त्रोत होना अत्यधिक जरुरी हो चूका है. लेकिन कई बार यु होता है की व्यक्ति विशेष को अपनी काबिलियत होने पर भी अपने कार्य क्षेत्र में योग्य पद या काम नहीं मिल पता है. या फिर काम मिलने पर भी कई प्रकार की बाधाए अडचने आने लगती है. कई बार योग्य जगह काम मिलने पर भी वेतन की समस्या होती है. कई लोगो की, खास कर के वह विद्यार्थी जो की अपनी पहली नौकरी की तलाश में हो उन्हें भी यह चिंता बराबर बनी रहती है की उन्हें यथायोग्य काम मिले जो की भविष्य में उनकी प्रगति के लिए एक आधार स्तंभ बने.
साबर साधनाओ में एसी कई साधनाए प्राप्त होती है जो की इस प्रकार के उद्देश्य में पूर्णता प्राप्त करने के लिए साधको का मार्ग प्रसस्त करती है. आगे की पंक्ति में भी एक एसी ही अद्भुत साधना दी जा रही है. इस साधना को करने पर साधक को योग्य काम मिलने में जोभी अडचने हो दूर हो जाती है, योग्य मनोकुलित व् प्रगति वर्धक स्थान पर नौकरी मिलती है. अगर किसीको अपनी नौकरी में किसी प्रकार की समस्या भी हो तो भी यह साधना से वह दूर होती है. संस्क्षेप्त में कहा जाए तो यह साधना काम व् नौकरी की हर समस्याओ को दूर करने क लिए ही बनी है.

इस साधना को साधक सोमवार मंगलवार शुक्रवार या शनिवार से शुरू कर सकते है
समय रात्रि के १० बजे बाद का रहे, दिशा उत्तर रहे.
रात्रि में स्नान करने के बाद सफ़ेद वस्त्र को धारण करे. इसके बाद अपने पूजा स्थान में बैठ कर के गुरु पूजन सम्प्पन करे और सफलता प्राप्ति के लिए प्रार्थना करे.
उसके बाद निम्न मंत्र का १०८ बार उच्चारण करे
ओम सोमावती भगवती बरगत देहि उत्तीर्ण सर्व बाधा स्तम्भय रोशीणी इच्छा पूर्ति कुरु कुरु कुरु सर्व वश्यं कुरु कुरु कुरु हूं तोशिणी नमः
यह जाप सफ़ेद हकीक माला से हो और उस माला को मंत्र जाप के बाद धारण कर ले.
यह क्रम पुरे ११ दिन तक रहे. इस साधना में रात्रि में भोजन करने से पहले थोडा खाध्य पदार्थ गाय को खिलाना चाहिए. ऐसा करने के बाद ही भोजन करे. अगर यह संभव न हो तो रात्रि में भोजन न करे.
इस साधना पूरी होने पर माला को विसर्जित नहीं करना चाहिए तथा गले में धारण करे रखना चाहिए.
यह साधना का करिश्मा है की यह साधना करने पर कुछ ही दिनों में यथायोग्य परिणाम प्राप्त होने लगते है.
When we are speaking of Completeness, it means about both aspects. Whereas we get dissolve in the holy feet of sadgurudev by understanding and practicing various sadhana of spirituality; it is also an important thing to have a strong material platform. We may receive reputation, respect, fame, glory. When it is tried to have completeness without being properly settled in material world, it may result in facing various hardship and struggles. Instead of that, it is better to move ahead toward our goals, with both material and spiritual sides. There are solutions for each and every material problems under sadhana, this directly means that sadhanas are not mere meant for spiritual gaining but sadhana support can also be took to have a complete success in material needs even.In today’s one sided world, there is a single concept of money speaking, it has become very important for everyone to have a proper income source. But many time it happens that a person with all capabilities even, does not become able to have a proper job and work. Or if they get it, so many troubles and difficulties keeps on knocking. Some time while having a proper work too, there is a problem of pay. Many people especially those who are searching for their first job do always worry on their first job which may work as proper pillar of their future career.In sabar sadhanas, we may have many sadhanas which lay sadhak to complete his desires by clearing the way. In below lines one of such sadhana is given. By doing this sadhana, all the troubles to have a proper work for sadhak becomes out of the way, the job is gained at proper liking and future worth working place. If anyone is facing any problem in running job too may perform this sadhana to remove that trouble. In short, this sadhana is meant for to remove each and every kind of job and work related problems.

Sadhak may start this sadhana on either day of Monday, Tuesday, Friday or Saturday.
Time should be after 10 in night, direction should be north.
After bath wear white cloths. Sit at your worship place and perform guru poojan. Pray for success.
After that chant following mantra for 108 time (1 rosary)
om somaavati bhagavati baragat dehi uttirn sarv baadha stambhay roshini ichchha poorti kuru kuru kuru sarv vashyam kuru kuru kuru hum toshini namah
The chanting should be done with white hakeek rosary, after chanting wear the rosary.
This process should continue for 11 days. In this sadhana one should offer some food to cow before having a dinner. One should have dinner after doing this process only. If it is not possible, do not have dinner.
After sadhana one should NOT drop rosary but rosary should be worn around neck.
This is miracle of sadhana that after completion of sadhana, in few days one may have desired results.
****NPRU****

9 comments:

balbir said...

dear nikhil, u guys are doing wonderful job.you have broad knowledge base. could you suggest some mudras for STILLING THOUGHTS ,I MEAN CONTROLLING THOUGHTS WHICH IS VERY IMPORTANT ASPECT OF SADHANA.....I HOPE U WILL RESPOND TO MY QUERY.....

Rishiraj awasthi said...

Sir thanks giving this sadhana. Kya mala pratidin dharan karni hai.

Rishiraj awasthi said...

Sir thanks for this sadhana. Kya mala pratidin dharan karni hai.

Dinesh Paliwal said...

Arifji aap ko bahut bahut dhanyawad for this sadhana

Anu said...

Dear balbir ji, thanks for the kind word, for controlling thought , we have publish one sadhana in sabar tantra vishashank part 1 appearing in blog check the post with name " manomay jagat se ... .
smile
Anu

Radhe said...

thank bahut hi achi sadhna hia ....and also thanks Shalini didi...

Anu said...

bhai raadhe ji , bhai yaah lekh shalini ji ka nahi hain ..yahi kahan chaunga aapse kripya kment kare par thoda sa dekh bhi bhi to le ..

priy mukesh bhai , ji ab to saare workshop jab bhi aayojit kiye jaynge puri trah se nishulk hain , yah jarur hain ki kebal kuchh yog hi isme bhag le payenge .jinke liye hame anumati milegi aap ..nikhilalchemy2@yahoo.com par is baare me ek mail bhej den , aur wait karen aage kay nirnay hoga .

radhe bhai aap ne sury tatv ke upar jo baat kahin ham aabhari hain uske ...

priy mukesh bhai , aapke vichar jo aapne sabar sadhanao ke sabandh me kahe ,yah hamara utsaah badhate hain ...

smile

Alok Gupta said...

kya safed hakeek ki jagah sphatik ki mala use kar sakte hain

Raghunath Nikhil said...

ji alok bhai sphatik mala ka upayog kiya ja skta he