There was an error in this gadget

Wednesday, June 27, 2012

One important Information :: Regarding the seminar - Apsara Yakshini Sadhna which is going to held on 12 August 2012 in Jabalpur - एक महत्वपूर्ण सूचना ::12 अगस्त 2012 को जबलपुर मे आयोजित होने वाले यक्षिणी अप्सरा साधना सबंधित एक दिवसीय सेमीनार




Dear Friends,


You all are well aware about the facts that whosoever belongs to Sadhna Field or the new entered Sadhak and Sadhikas soon get fascinate towards the Apsara Varg Sadhnas. And the reason is so clear,

Actually they seems to be very easy
·        Total Count of mantra jap is very less,
·        In this sadhnas no frills are required.
·        No such fearful experiences happen.
·        Sadhak/Sadhika gets fulfilment by wealth, health, prosperity and jewels.
·        Sadhak/ Sadhika also get rid from all physical lackings.
·        Sadhak/ Sadhika is free from aging or u can say the effect of age is very less on him/her.
·        Its like in Sadhak/ Sadhika’s life is shower of love happens. 
·        In their lives there is no place for depression, pain and disappointment.
·        You can get introduce to many other secretive para world.
·        In Tantra World ‘Yakshini’ is the main possessor of specific fields.
·        Via her only one cn multiple his/her speed in tantra field.
·         Via her help one can enter in other world.

We all have heard Sadgurudev Immortal words many times in his Audios and Vedios.
Sadgurudev ji cleared especially “Swarna Deha Apsara Cassetes” which is in two parts. If you will listen in carefull you may find Apsara Yakshini sadhnas are boon for life and high to high level of Yogi also understands the importance of doing this sadhna in life. These sadhnas should be interpreted as any sexual pleasure amplification or fruition. Sadgurudev ji has always put an example of Maharishis, Bramha rishis and gods while expressing the importance of this sadhna. And along with also told that us if you really want to understand the life, to remove the drab and to understand the sadhnas then you have to keep a healthy mind-set for otherwise no option is there. And no other sadhna can challenge this sadhna utility. And everything can be achieve in life by this sadhna.

Even he also clear specifically that Mahavidhya Sadhnas cannot stand before this sadhna. Because they can give you everything but the very important point in life is ‘happiness’ and this can be possible only and only via Apsara Yakshini sadhna. Not even by Jagadaamba Sadhna. Sadgurudev ji cleared the same in “Ravan Krut Divyangana Swarnaprabha Yakshini Sadhna”.

And these sadhna are not only just for sake of utility but also can become their best friends and credibles.
although married sadhak are little bit scared of it whether it may not create obstacle in their married lives. Beacause these are accomplished more easily in form of lover rather that any other, but in motherly and sisterly form also can be siddh. And sadgurudev ji had also cleared that they cannot harm you by any means rather would benefit you only. As this sadhna is that one which can convert the drab into monotony. 

Love and affection cannot be measured in terms of desire; no one is unaware of the truths of marital lives. Everyone understands the lacking of love and affection in their own lives but also know that this thing that which cannot be demanded.

Now this was about the importance of these sadhnas. And why it has to be done. Even if it is written many a times that this is very easy to do, get siddh in very few time but it has always been found written from those interested ones that at least someone should come forward to reveal such secret procedures to perform this sadhna. As the simplicity of these sadhna is welknown but everyone keep mum and other just wanders here n there. How many times have done this sadhna but the success is still invisible.. On other side there are those sadhak also who have seen glimpse of it but couldn’t be able to complete it successfully.

And whatever advices are given to sadhak, he do it blindly but still success is far away because Sadgurudev always keeps telling that whatever mentioned in magazine is just an introduction but those who seriously want to accomplish this sadhna need to know the desired Mudras, Sthapan Kriyas, Chaitanyikaran, Avahan mantras and many other secret processes should be learn otherwise in lacking of thse how success can be achieve. But how can we find out such facts…and nor any help is offered in this regard. We had launched a complete special issue via Tantra Kaumudi And in which many secret were disclosed with complete and clear information. And which was so much liked by all of you. Even before some time some more special sutras were published on blog regarding this. 

Therefore after thinking we have decided why not along with thinking on many other sadhnas…
We must organised a special seminar in the same chain of Apsara and Yakshini sadhna. But this seminar would be organised
·        In which a whole day will be spend on the same for discussion.
·        all the secrets will be disclosed be it of Mudras, Mantratmak or tantratmak. Which special kriyas are used before and after and what type of preparation is required etc..
·                      Along with that one 40/50 pages book “Tantra kaumudi-Yakshini and Apsara siddhi Rahasya” based only on these sadhnas secrets which will be given only to those who will attend this seminar personally.

·                     For Yakshini and Apsara Sadhna the establishment of three Board is must. These Boards are just like Yantras, in which related Yakshin or apsara is established by sadhak him/herself. That will be provided.

·                     How the Keelan Vidhan of Apsara and Yakshini by our own will be explained to you.

·                     The Yantra and Booklet will be prepared only for those who have confirmed their seats on earlier basis.

This is how the whole seminar is going to happen only on Apsara Yakshini Sadhna and how to achieve success in it. And every one cannot participate in.... because this is not Free…

Only one who get permission to participate in this seminar or the one who have can participate in this seminar, not for others,

For participating candidates there are necessary rules and regulations after fulfilling it only can grant permission to achieve it. he/she has to give passport size photograph and any a copy of ID proof has to mail on nikhilalchemy2@yahoo.com and can know the rules and regulations regarding attending the seminar.

Yes, who so ever wants to participate in this seminar.. is not required to fulfil the criteria of being dikshit by our Sadgurudev.

But they has to fulfil these conditions.This is going to held on 12 AUGUST 2012 at Jabalpur (Madhya Pradesh)

==============================================
प्रिय मित्रो ,

आप सभी इस तथ्य से परिचित  हैं की  जो भी आज साधना क्षेत्र मे हैं  या  जो नए साधक साधिका  का आगमन इस क्षेत्र मे  होता  हैं वह बहुत  जल्दी   उसका  रुझान  यक्षिणी और अप्सरा  वर्ग की साधनाओ की  ओर   हो जाता हैं  इसका कारण  बहुत   ही  स्पस्ट हैं  की
·       
यह साधनाए   बहुत सरल  सी   दिखाई देती हैं.
·        कुल मंत्र जप भी इन साधनाओ  मे बहुत कम होता   हैं .
·        इन साधनाओ मे  कोई ज्यादा  तामझाम  भी नही  होता   हैं
·        साधनाकाल मे कोई भयावह  अनुभूति भी नही होती  हैं.
·        साधक/साधिका    को धनधान्य, स्वादिस्ट  भोजन ,सुविधा ,आभूषणों  से यह आपूरित कर देती हैं
·        साधक के शरीरगत  कमिया   यह दूर कर देती हैं .
·        साधक /साधिका  पर  आयु का असर बहुत न्यून हो जाता  हैं .पुनर्यौवन  वान हुआ  जा सकता  हैं .
·        साधक /साधिका के  जीवन मे स्नेह  प्रेम  की मानो वर्षा  कर देती हैं .
·        साधक /साधिका   के  जीवन से  अवसाद , दुःख   या निराशा   को कोसो  दूर कर देती हैं .
·        अनेको पराजगत के  दुर्लभ गोपनीय रहस्यों  से अबगत हुआ  जा सकता  हैं .
·        यक्षिणी  ,तंत्र   जगत  के  विशिष्ट विधाओं की आधिस्ठार्थी  होती हैं अतः  उसके माध्यम से तंत्र क्षेत्र मे अपनी गति कई कई गुणा  बढ़ाई जा सकती हैं.
·        इनकी सहायता  से अनेको लोको  मे प्रवेश पाया जा सकता हैं .  

 हम सब ने  सदगुरुदेव जी के अमृत वचन इन साधनाओ   को लेकर अनेको वीडियो और ऑडियो   केसेटस मे  सुने  हैं .
सदगुरुदेव  जी ने  स्पस्ट  किया खासकर आप स्वर्ण देहा  अप्सरा  केसेट्सजो दो भाग मे हैं उसे ध्यान से सुने    तो आप पाओगे  की उन्होंने  कहा हैं  की अप्सरा  यक्षिणी  साधनाए   तो जीवन का वरदान हैं  और उच्च से उच्च कोटि का  योगी भी इन साधनाओ को करने  का अर्थ  समझता   हैं  .इन साधनाओ  कोई भोग विलास  की वस्तु  या काम भाव प्रवर्धन की वस्तु नही समझा  जाना  चाहिए .सदगुरुदेव जी ने  अनेको महा ऋषि और ब्रह्म ऋषियों और देवताओ के  उदहारण दे कर इन साधनाओ के महत्त्व को समझाया .और बताया की अगर  जीवन  को समझना हैं ,जीवन की नीरसता को दूर करना हैं और अगर साधनाओ को समझना हैं तो  इन साधनाओ  के प्रति एक स्वास्थ्य   मानसिकता रखना  होगाइसके अलावा और कोई रास्ता नही  हैं कोई अन्य साधनाए इन साधनाओ की उपयोगिता को चुनौती नही दे सकती हैं  .औरइस साधना मे  जीवन मे सब कुछ पाया जा सकता हैं .

यहाँ तक की उन्होंने  बहुत स्पस्ट किया की महाविद्या साधना  भी इनके समक्ष नही हो  सकती हैं क्योंकि वह सब कुछ दे सकती हैं पर  जीवन का सर्वाधिक महत्वपूर्ण  बिंदु आनंद  हैं वह केबल और केबल  अप्सरा यक्षिणी  साधना  से ही संभव हैं .यहाँ तक की जगदम्बा साधना  से भी सभव नही हैं .सदगुरुदेव जी ने   “रावण कृत   दिव्यांगना  स्वर्णप्रभा यक्षिणी साधना मे यही सब स्पस्ट किया हुआ हैं

और यह साधनाए   न केबल साधक  बल्कि साधिकाओ के लिए भी उतनी  ही   उपयोगी हैं .उनके लिए  एक पूर्ण विश्वस्त मित्र  सहेली के रूप  मे सिद्ध   होती हैं .
हलाकि विवाहित साधको के मन मे  इन साधनाओ के प्रति एक भय  सा  रखता हैं की कहीं यह  उनके  गृहस्थ जीवन मे व्यवधान   तो नही कर देगी .क्योंकि यह प्रेमिका  के रूप मे कहीं आसानी से  सिद्ध होती हैं पर इन्हें माँ  और  बहिन के रूप मे भी सिद्ध किया जा सकता   हैं पर सदगुरुदेव  जी ने  स्पस्ट किया  हैं की कहीं से भी यह आपके  जीवन मे  व्यवधान  नही बल्कि  एक सम्पूर्णता   ही    देगी .जीवन की नीरसता  को  एक सरसता मे बदल दे  यह वह साधना हैं .

स्नेह  और प्रेम  को वासना   के तुल्य नही देखा जाना  चहिये ,विवाहिक  जीवन की सच्चाईयां  हम मे से  किसी  से भी छुपी   नही हैं .जो स्नेह और प्रेम की कमी हमारे  जीवन मे  हैं वह सभी समझते हैं  पर  सभी यह  जानते हैं की  मांग के  तो स्नेह  या प्रेम नही पाया  जा सकता   हैं .

यह  बात   तो हुयी की क्या हैं इन साधनाओ का  महत्त्व.क्यों इनको किया जाना चहिये .भले ही यह बार बार लिखा जाये की  यह साधनाए सरल हैं  कम समय मे सिद्ध हो जाती  हैं  पर हर ग्रुप मे हर जगह साधक यही  लिखते पाए जाते हैं कि कोई  तो  उन्हें ऐसा मिले   जो इन साधनाओ की गुप्त रहस्य बता  दे  .क्योंकि इन साधनाओ की सरलता   तो जग जाहिर हैं पर सभी  मौन रख लेते  हैं और  अब साधक  इधर से  उधर   भटकते रहते हैं  . कितनी कितनी बार साधनाए  कर चुके हैं पर   साधना मे सफलता मिलती दिखाई देती  नही..तो वहीँ  कुछ हैं जो प्रारंभिक अनुभूति से कितनी कोशिश करने के बाद   भी  आगे नही बढ़ पाए .

और जो भी सलाह दी जाती  हैं वह साधक  करते जाते हैं पर सफलता  तब  भी  कोसो  दूर .

क्योंकि सदगुरुदेव  कहते रहे  की पत्रिका मे  साधना जो  दी जाती  हैं वह तो एक परिचय मात्र  ही  रहता  हैं जिन्हें  सच मे  इस क्षेत्र मे  सफलता पाना  हो उन्हें  आवश्यक मुद्राये,स्थापन क्रियाए ,चैत्न्यीकरण अन्य आह्वान मंत्र और  अन्य  गोपनीय प्रक्रियाओं  का   को सीखना  चाहिये अन्यथा इनके आभाव मे  सफलता  कैसे   हो सकती हैं .पर  इन तथ्यों को कैसे पता लगाए ... . नही इस सदर्भ मे कोई  उसकी सहायता   हो पाती हैं हमने  तंत्र  कौमुदी   एक  पुरा   महाविशेषांक  यक्षिणी  साधना  के ऊपर  निकाला  था  और जिसमे  अनेको गोपनीय   रहस्य पूर्णता  के स्पस्ट किये  गए  .थे यह अंक आप सभी के द्वार  बहुत प्रशंसित   रहा . कुछ समय पूर्व इन साधनाओ के  कुछ ओर  गोपनीय रहस्य   ब्लॉग पर सूत्र  रूप मे  दिए गए  थे .

अतः अब हमने  यह विचार कर निर्णय लिया  की. क्यों  न अलग अलग  साधनाओ के बारे मे  विचार करने के साथ  ही साथ ......
हम  एक विशेष साधना   पर एक सेमीनार का  आयोजन  करे इसी श्रंखला मे   एक दिवससीय अप्सरा औरयक्षिणी  साधना पर  यह सेमीनार  आयोजित  किया जायेगा   
  • ·         उसमे   एक पूरा एक दिवसीय  सत्र आमने  सामने  बैठ कर  इन साधनाओ की विषद चर्चा .
  • ·         इसके  गोपनीय  रहस्य   और गोपनीय मुद्राये   और  मंत्रात्मक और तंत्रात्मक  रहस्य सभी पूर्णता के साथ अनावृत कर दिए  जाए . किस किस क्रियाओं का प्रयोग इस साधना के पहले किया जाता है और तैयारी क्या होनी चाहिए आदि
  • ·        औरसाथ ही साथ एक ४० /५० पेज की पुस्तक  “तंत्र कौमुदी-यक्षिणी व अप्सरा सिद्धि रहस्य”  सिर्फ इन्ही साधनाओ के इन्ही रहस्यों पर केंद्रित   करते  हुये बनायीं जाये   जो की  केबल और केबल  इस सेमीनार मे भाग लेने  वालो  को  ही उपलब्ध  होगी .
  • यक्षिणी व अप्सरा साधना के लिए तीन विभिन्न मंडलों का स्थापन अनिवार्य होता है ,ये मंडल यन्त्र के ही आकार के होते हैं,जिनमे सम्बंधित यक्षिणी या अप्सरा का स्थापन साधक स्वयं ही करता है,उसकी उपलब्धता की जाए ...
  • यक्षिणी व अप्सरा का कीलन विधान स्वयं कैसे यंत्रों के द्वारा किया जाता है,उसका ब्यौरा दिया जाये .
  • यन्त्र व पुस्तक मात्र उतनी ही तैयार करवाई जायेगी,जितने सदस्यों का भाग लेना सुनिश्चित होगा.
इस तरह से यह सेमीनार पूरी  तरह से  सिर्फ अप्सरा यक्षिणी साधनाओ मे  कैसे सफलता  पायी जा सके   इस पर ही केंद्रित रहेगा ,और  इस सेमीनार मे भाग लेना  सभी के लिए भी नही होगा ....क्योंकि यह फ्री नही हैं .
  
सिर्फ जिनको  इस एक दिवसीय सेमिनार मे भाग लेने  की पूर्व अनुमति   मिलेगी  या जिनके पास  होगी  सिर्फ वही व्यक्तित्व इसमें भाग  ले पायेगे , .और किसी अन्य को नही ,

भाग लेने  वाले  व्यक्तियों  के  नियम  की आवश्यक  नियम और शर्ते  होगी जिनको पूरी करने के बाद   ही  वह इस सेमिनार मे  भाग लेने  के लिए  अनुमति पा  सकेगा  वह   अपनी पासपोर्ट साइज़  की फोटो ग्राफ  और  कोई  एक id   की कॉपी  इस  मेल id    पर भेज  कर  नियमों और शर्तों  की जानकारी  nikhilalchemy2@yahoo.com पर संपर्क करने  पर उपलब्ध   हो जायेगी .

हाँ  जो भी  व्यक्तित्व इस सेमीनार मे भाग लेना  चाहे ..उसके लिए वह हमारे  सदगुरुदेव  से  ही  दीक्षित  हो यह  कोई आवश्यक शर्त नही हैं .पर उन्हें  अन्य शर्ते  तो पूरी करनी होगी .

यह एक दिवसीय  सेमीनार १२ अगस्त २०१२   को जबलपुर (मध्यप्रदेश )मे  आयोजित होगा

****NPRU****

No comments: