There was an error in this gadget

Tuesday, June 26, 2012

ESTABLISHMENT OF TANTRA –OUR ENDEAVOR (तंत्र स्थापना - हमारा प्रयास)




“Om Aatma ParShivDwayo Guruh Shivah |
Gurunaam SarvVishwMidam Vishv Mantren Dharyaam ||”

Omniscience of soul can be known by only two elements Guru and Shiv. And these two elements are actually one, not two. Guru is present in entire universe as well as in Para World. That’s why capability to imbibe all mantras in world can be attained merely by the blessings of Sadguru.
Knowledge about attaining various dimensions of life is only possible by the blessings of Sadguru. And if capable Guru has taken you in his arms with affection then what is there which cannot be acquired. If we consider the activity of construction then only by combining planning, related articles or medium and fixed arrangement, we can successfully accomplish the activity of construction. In other words …..
Planning - Mantra
Related Articles, medium –Yantra
Fixed or definite arrangement –Tantra
If we pretty well imbibe this formula then failure will be very distant from us. How one can get success in middle of all these blows, broken dreams, betrayal of trust, unknown fear happening continuously in dynamics of life???
By taking assistance of sadhna path, not only we can save our dream from breakage but also we can get rid of throbbing pain of mind which has made deep inroads in to our soul. Sadhna is not a field to become inactive rather the one who has unlimited Praan energy, strong resolution power and mentality of not running away from hard-work, he definitely attains success. Because sitting for 10 minutes with concentration, without moving your body and with stable mind is not easily possible.
We all want to achieve our aim. We want to include our name in class of successful persons, but is it that much simple……. No.As we move forward to achieve target, then one or the other obstacle comes to stop our way.
Sometimes health of child
Sometimes Financial problem
Sometimes domestic disputes
Sometimes fear of untimely death
Sometimes weak self-strength
Sometimes absence of stability
Sometimes unknown fear
Sometimes betrayal of trust
Sometimes Tantra obstacle
Sometimes face-off with unknown disease
Sometimes mental anxiety
Sometimes cobweb of hidden or manifest enemies
Sometimes unwanted interference of government or officer
Sometimes any of the person in home remaining afflicted with disease.
There are hundreds of “sometimes” which not only deviates us from our life-path but also stops our progress….and from where we started……we stay behind from that point also….then in later part of life what is left behind is only this that “ I can’t do anything in spite of having desire and if circumstances would have been in my favor, I would not have been here today.”
Probably no other subject had misconceptions about it in society, as there are    about tantra. Whereas I have written above also that Living life or doing activity according to fixed arrangement is Tantra. Our old history has been very prosperous and that prosperity was with our ancestors merely due to this knowledge. We do not know this that we have come to Iron Age from Golden Age. The development which we are boosting of is without substance. And the reason behind it is merely this that we do not have knowledge about those padhati which guides one to success.
Whenever any normal person or sadhak gets entangled in danger then he runs straight to so-called tantriks or astrologers and then starts the sequence of augmentation of his problems…….spending money on arbitrary remedies one after the other breaks the backbone of person and when he comes back, he is destroyed completely. And in the end he give this full episode the name of tantra and declare it as merely imagination. Half-knowledge is more dangerous than any enemy which does not yield anything except destruction. Therefore whatever we do, we should at least possess complete knowledge about it…
I used to think very often that if when I got success then why my other brothers and sisters did not get it? Again when I analyzed then I understood that my passion was merely orders of Guru and no doubts arose in my mind regarding the sadhnas given by them. May be not in one attempt or two attempt, I got success in many attempts and when I got it, then I understood those keys by which success can be achieved in first attempt only. My endeavor is to give authenticity only to sadhnas and this vigyaan.This is the aim of me and “NPRU” i.e. “Nikhil Para Science Research Unit” that nobody gets betrayed in the name of it and bears the resulting financial, mental or physical problems.
 You only do sadhnas and make the dreams of family fruitful by your hard-work and positive energy. Do the sadhnas but not merely by diving deep into world of imagination rather side by side satisfy your family by providing them all the facilities of materialistic life. You can at least take out 5 hours out of 24 hours for yourself. Isn’t it….
Do not mislead yourself to these tantriks rather have full trust on knowledge given by Sadgurudev….he has told us to follow the path of truth. If we are deprived of truth then it is due to our faults or lack of knowledge only.
You can do sadhnas  and for it we have made efforts that your life can go on in orderly way  and you do not get entangled in sometimes which are written above and just do sadhnas and do not waste your time ,money or piece of mind for these “sometimes”. For this, our NPRU team has started the construction activity of various kavachs along with other sadhna-centric plans. This is completely free of cost. Because most of my brothers and sisters are such that who by giving hidden support for paving the way for other brothers and sisters are continuously assisting us. With their support, our few plans have taken shape. And I consider it my responsibility to inform you that you can do the “Aura Mandal” test of this Kavach .After seeing it, you will automatically know what is the effect of authentic energizing ,activation and mantras on the Kavach and sadhna articles.
Also with this, distribution of some medicines, by the knowledge of Sadgurudev like – Siddh Dravya (helpful in removing during sadhna duration and beneficial in aasan siddhi), Shivatr Kushth Harlep,MadhurmehVinashini,asthma-curing medicine, Vaat-pitt-cough related disorders removal medicine  ,medicine helpful in removing white leucorrhoea ,punstav  Prapti yog etc. will be for brothers and sisters which will be beneficial for some diseases of daily life and sadhna-centric progress. These are being made by our Guru Brothers and sisters who have formally taken certification of doctor in Ayurveda and are registered. These medicine became obsolete during the course of time but we are now trying to again take them in front of you and these all are also available free of cost for our brothers and sisters. Work is going on these kavachs and they will be sent to desired persons after Shrawan month.
This plan is only for the members of Group, blog and Tantra Koumudi.
Shree Devi Kavach – Helpful in financial progress and attainment of prosperity
Soubhagya Taarini Kavach –For destroying ill fortune and success in work
Saaraswat Kavach – Helpful in remembrance power and for acquiring knowledge
Vighneswar Kavach – For safety from all type of obstacles.
Rudra Mrityunjay Kavach –Helpful in untimely accident and pret obstacles and disease-removal
Valga shatruanjayi Kavach –Safety from enemies and helpful in getting out of false court-cases and obstacles from government.
Kleem Kaari Siddh Kavach –For success in job and business
Raahu Rog Naashak Kavach –For showing path to cure the incurable disease.
Panch Tatv Kavach –For simplifying difficult tasks and for destroying Vaat-Pitt –cough like diseases.
Rinmochak Bhumisut Kavach – For getting relief from debt
Tantra Baadha Nivaran Kavach- For safety from tantra obstacles and abhichaar karmas
Kaali Sammohan Kavach-For providing complete self-confidence and combined with Mohan capability
Maatr Shakti combined Nav Grah Kavach –Helpful in getting favor from nine planets combined with power of mother of planets
Aghor Vivah Baadha Nivarak  Kavach – Helpful in removing obstacles coming in the way of marriage.
In future, many more kavachs will be made, whose information will be given from time to time. For any of these Kavach or yantra, construction is neither simple nor making it is not as simple as reading its name. Construction of every Kavach and its activation process is different from others. Some will be accomplished by Sabar padhati, some by Kapaalik…Some will be made by Muslim tantra then some by intense tantrik Vidhaan. Some will be energized by Vedas mantra and some by complete Shakta Tantra. Also their construction and yagya articles etc. will be different….Their construction will be costly in financial terms on one hand and will involve a lot of hard-work and knowledge on the other hand so that whatever is made is amazing and completely effective. But you all please relax. You do not have to bear any cost. You just use them for yourself and your family and appreciate Tantra.
Establishing Tantra is aim of my life. And also my tears and dedication of my karmas on the lotus feet of Sadgurudev.
Note: The sadhna articles of seven sadhnas would have reached brothers and sisters…Hope that you would have made the rosary…Therefore you all would be mailed sadhna-related Vidhaan by the evening of 28.

========================================
ओम आत्मा परशिवद्वयो गुरु: शिवः |
गुरुणां सर्वविश्वमिदं  विश्व मंत्रेण धार्यम् ||

आत्मा की सर्वज्ञता को मात्र दो ही तत्वों से जाना जा सकता है गुरु और शिव | और ये दोनों दो तत्व ना होकर वस्तुतः एक ही हैं | और गुरु की व्यापकता सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में हैं और व्यापकता है परा जगत में तभी तो विश्व के सम्पूर्ण मन्त्रों को धारण करने की क्षमता मात्र सद्गुरु की कृपा से ही प्राप्त की जा सकती है |

जीवन के विविध आयामों की प्राप्ति का ज्ञान मात्र सद्गुरु की कृपा दृष्टि से ही संभव है | और यदि समर्थ गुरु ने तुम्हे हुमस कर अपने गले से लगाया हो तो,फिर भला क्या है जो प्राप्त नहीं किया जा सकता है | यदि हम निर्माण की प्रक्रिया को समझे तो मात्र योजना,सम्बंधित उपकरण व माध्यम और निर्धारित व्यवस्था का आपस में योग कर हम निर्माण की क्रिया को सफलता पूर्वक संपन्न कर सकते हैं | अर्थात......

योजना – मंत्र

सम्बंधित उपकरण,माध्यम – यन्त्र

निर्धारित व निश्चित व्यवस्था – तंत्र

यदि हम इस सूत्र को भली भांति आत्मसात कर लें तो असफलता कोसो कोसो दूर ही रहती है हमसे | जीवन की आपाधापी में लगातार हो रहे आघात,टूटते स्वप्न,विश्वासघात, अनजाने डर के मध्य भला कैसे सफलता पायी जा सकती है ???

साधना मार्ग का आश्रय लेकर अपने स्वप्न को टूटने से ना सिर्फ बचाया जा सकता है अपितु मन की कसक .....जो कही बहुत गहरे पैठ बना चुकी है हमारी आत्मा में,उसे भी दूर किया जा सकता है | साधना अकर्मण्य हो जाने का क्षेत्र नहीं है,बल्कि जिसमें असीम प्राण ऊर्जा हो,दृढ संकल्प शक्ति हो और परिश्रम से ना भागने की मानसिकता हो,वो सफलता पा ही लेता है | क्यूंकि १० मिनट एकाग्र होकर बिना हिले डुले,स्थिर मन से बैठना सहज संभव नहीं है |

 हम सभी अपने लक्ष्य को पाना चाहते हैं | अपना नाम सफल व्यक्ति की श्रेणी में रखना चाहते हैं, किन्तु क्या ये इतना सहज है ...... नहीं ना | जैसे ही हम अपने लक्ष्य की और गतिशील होते हैं तो कोई ना कोई अड़चन हमारा मार्ग रोकने को आतुर ही खड़ी रहती है |

कभी संतान का स्वास्थ्य

कभी आर्थिक परेशानी

कभी घरेलु विवाद

कभी अकाल दुर्घटना का भय

कभी कमजोर आत्मबल

कभी स्थिरता का अभाव

कभी अनजाना भय

कभी विश्वास घात

कभी तंत्र बाधा

कभी अनजाने रोगों से सामना

कभी मानसिक तनाव

कभी गुप्त या प्रकट शत्रुओं का मकडजाल

कभी शासन का या अधिकारी का अनचाहा हस्तक्षेप

कभी घर पर किसी ना किसी सदस्य का रोगग्रस्त रहना

   ऐसे  सैकडो “कभी” हैं जो हमें जीवन पथ पर ना सिर्फ विचलित कर देते हैं,अपितु हमारी प्रगति को ही रोक देते हैं....और हम जहाँ से चले थे..उससे भी कई गुना पिछड़ जाते हैं..तब जीवन के उत्तरार्ध में मात्र यही बाकी रह जाता है की “मैं चाह कर भी कुछ ना कर पाया और,यदि परिस्थितियाँ मेरे अनुकूल होती तो मैं आज यहाँ नहीं होता |”

तंत्र को लेकर जितनी भ्रांतियां समाज में प्रचलित हैं,शायद उतनी किसी और विषय को लेकर कदापि नहीं हैं | जबकि मैंने ऊपर लिखा भी है की निश्चित व्यवस्था के अनुसार जीवन यापन करना या क्रिया करना ही तंत्र है | हमारा पुरातन इतिहास बहुत ही समृद्ध रहा है और वो समृद्धि मात्र इसी ज्ञान की वजह से हमारे पूर्वजों के पास थी | हमें तो ये भी नहीं पता है की हम स्वर्णयुग से लोह्युग की ओर आयें है | जिस विकास पर आज हम इतरा रहे हैं वो मात्र थोथा है | और इसका कारण मात्र यही है की हमें उन पद्धतियों का ज्ञान नहीं है जिनके द्वारा सफलता का मार्ग प्रशस्त होता है |
  
जब भी एक आम व्यक्ति या साधक कष्टों में फंसता है तो सीधा दौडकर तथाकथित तांत्रिकों,या ज्योतिषों के पास जाता है और फिर शुरू होता है उसके कष्टों के बढ़ने का सिलसिला....एक के बाद एक मनमाने उपायों पर धन लुटाते लुटाते उसकी मानो कमर ही टूट जाती है,और जब तक उसकी वापसी होती है वो पूरी तरह बर्बाद हो जाता है | और अंत में वो इस पूरे कांड का ठीकरा तंत्र के नाम पर फोड कर उसे कपोल-कल्पित घोषित कर देता है | आधा ज्ञान एक शत्रु से भी खतरनाक शत्रु है जो तबाही के अलावा कुछ भी नहीं देता है | अतः जो भी करो उसका पूर्ण ज्ञान तो कम से कम हमें हो......
   
मैं बहुधा सोचा करता था की यदि मुझे सफलता मिली तो मेरे अन्य भाई-बहनों को क्यूँ नहीं मिली ?? फिर जब देखा तो समझ में आया की मेरा जूनून मात्र गुरु आज्ञा ही थी और उनके द्वारा प्रदत्त साधनाओं के लिए कभी भी मेरे मन में किन्तु-परंतु नहीं आया| नतीजा एक बार में नहीं दो बार में नहीं किन्तु कई बार के बाद सफलता मिली और जब एक बार मिल गयी तो वो कुंजी भी समझ में आई की कैसे एक बार में ही सफलता पायी जा सकती है | मेरा प्रयास मात्र साधनाओं और इस विज्ञान को प्रमाणिकता दिलाना है | कोई इस नाम से ठगा ना जाए,और ना ही आर्थिक,मानसिक या शारीरिक कष्टों को इस निमित्त बर्दाश्त करे,बस यही मेरा और NPRU” अर्थात “निखिल पराविज्ञान शोध इकाई” का लक्ष्य है |
  
आप मात्र साधनाएं करिये और अपने परिवार के सपनों को अपने परिश्रम और सकारात्मक ऊर्जा से सार्थकता दीजिए | साधनाएं कीजिये किन्तु मात्र कल्पना जगत में डूबकर नहीं,अपितु उसके साथ साथ भौतिक जीवन के सुख संसाधनों से भी अपने परिवार को तृप्त रखिये | २४ में से ५ घंटे तो हम खुद के लिए निकाल ही सकते हैं ना .....
  
 किसी तांत्रिक के पास मत भटकिए अपितु सद्गुरु प्रदत्त ज्ञान पर श्रृद्धा रखिये...उन्होंने हमें सत्य मार्ग का अनुसरण करना सिखाया है | यदि हम सफलता से वंचित हैं तो मात्र हमारी त्रुटियों और ज्ञानाभाव के कारण |

आप साधनाएं कर सके और,इस हेतु हम ने अब ये प्रयास किया है की आपका जीवन सुचारू रूप से चल सके और आप ऊपर जो ढेर सारे कभी लिखे हुए हैं...उन कभी में ना उलझ कर  मात्र साधनाएं कर सकें,तथा उनके निवारण हेतु किसी ढोंगी के चक्कर में फंसकर अपना समय,सुकून और धन बर्बाद ना करे | इस हेतु मेरे भाई बहनों के लिए हमारी NPRU टीम  ने अन्य साधनात्मक योजनाओं के साथ साथ विभिन्न कवच का निर्माण कार्य प्रारंभ किया है | ये पूरी तरह निशुल्क है | क्यूंकि मेरे बहुत से भाई बहन ऐसे हैं जो गुप्त सहयोग कर अन्य भाई बहनों के लिए मार्ग प्रशस्त करने में हमारा सहयोग लगातार कर रहे हैं | उनके सहयोग से हमारी कई योजनाओं ने साकारता प्राप्त की है | और मैं आपको ये बता देना अपना कर्त्तव्य समझता हूँ की आप इन कवच का औरा मंडल परिक्षण करवा सकते हैं | और इसे देखकर आपको स्वतः ज्ञात हो ही जायेगा की कवचों या सामग्रियों पर प्रामाणिक प्राण प्रतिष्ठा,चैतन्यता और मंत्र का प्रभाव कैसे दिखाई पडता है

साथ ही सदगुरुदेव के द्वारा प्रदत्त ज्ञान से कुछ औषधियों का भी वितरण जैसे – सिद्धद्रव्य (साधनाकाल की शिथिलता निवारक  और आसन सिद्धि में सहायक),श्वित्र कुष्ठ हरलेप, मधुर्मेहविनासिनी, दमा रोग निवारक,वात-पित्त-क्फदोष नाशक,श्वेत प्रदर नाशक, पुंसत्व प्राप्ति योग आदि  भाई बहनों के लिए होगा,जो दैनिक जीवन के कुछ रोग और साधनात्मक उन्नति के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगी | इनका निर्माण हमारे वे गुरु भाई बहन कर रहे हैं जो बकायदा आयुर्वेद में चिकित्सक का प्रमाण पत्र प्राप्त किये हुए हैं,तथा रजिस्टर्ड हैं | काल गर्त में ये औषधियाँ विलुप्त ही हो गयी थी,किन्तु अब परिश्रम करके हम उन्हें आपके सामने लाने का प्रयास कर रहे हैं और ये भी पूरी तरह हमारे भाई बहनों के लिए निशुल्क है | इन कवचों पर अभी कार्य चल रहा है और श्रावण के बाद इन्हें वांछित व्यक्तियों के पास भेज दिया जायेगा |

ये योजना मात्र ग्रुप,ब्लॉग और तंत्र कौमुदी के सदस्यों के लिए है |

श्रीदेवी कवच- आर्थिक उन्नति और ऐश्वर्य प्राप्ति में सहायक

सौभाग्यतारिणी कवच- दुर्भाग्य नाशक और कार्य में सफलता हेतु

सारस्वत कवच – स्मरण शक्ति और विद्यार्जन में सहायक

विघ्नेश्वर कवच- सभी प्रकार की विघ्न बाधाओं से सुरक्षा हेतु

रुद्रमृत्युन्जय कवच – अकाल दुर्घटना और प्रेत बाधा और रोग नाश में सहायक  

वल्गाशत्रुन्जयी कवच – शत्रुओं से रक्षाकारी और झूठे मुकदमों तथा राज्य बाधा की उलझन से निकलने में सहायक

क्लींकारी सिद्ध कवच – नौकरी और व्यवसाय में सफलता प्रदायक

राहू रोग नाशक कवच –असाध्य रोगों को साध्य करने हेतु मार्ग दिखाने में सहायक

पंचतत्व कवच – असाध्य  कार्यों को सरल करने में और त्रिदोषों वात-पित्त-कफ जैसे रोगों का नाश करने में सहायक

ऋणमोचक भूमिसुत कवच – कर्जों से राहत प्राप्ति हेतु

तंत्र बाधा निवारण कवच – तांत्रिक बाधाओं और अभिचार कर्मों से पूर्ण रक्षाकारक

काली सम्मोहन कवच- मोहन क्षमता से युक्त और पूर्ण आत्मविश्वास प्रदायक

मातृ शक्ति युक्त नवग्रह कवच – ग्रह माताओं की शक्ति युक्त नवग्रह की अनुकूलता पाने में सहायक
अघोर विवाह बाधा निवारक कवच – विवाह में आ रही बाधाओं का निवारण करने में सहायक  

  भविष्य में और भी कई कवचों का निर्माण किया जायेगा,जिसकी सूचना समय समय पर दी ही जायेगी | इनमे से किसी भी कवच या यन्त्र का निर्माण सहज नहीं है और ना ही इनका निर्माण कार्य इनके नाम को पढ़ने जितना सरल ही है | हर कवच की निर्माण व चैतान्यीकरण क्रिया दुसरे से भिन्न भिन्न हैं | कोई साबर पद्धति से सिद्ध होगा तो कोई कापालिक... किसी का निर्माण मुस्लिम तंत्र के द्वारा होगा तो किसी का तीव्र तांत्रिक विधान के द्वारा | कोई वेदोक्त मन्त्रों से अभिषिक्त होगा तो कोई पूर्ण शाक्त तंत्र से | साथ ही इनकी निर्माण सामग्री तथा यज्ञ सामग्री आदि भी भिन्न भिन्न होगी... इनका निर्माण जहाँ आर्थिक रूप से महंगा होगा वही कठोर परिश्रम और ज्ञान का भी प्रयोग इनमे होगा,ताकि जो भी निर्मित हो अद्विय्तीय, तथा पूर्ण प्रभाव कारी हो | किन्तु आप सभी निश्चिन्त रहे आपको कोई व्यय नहीं उठाना है,आप मात्र इन्हें अपने तथा परिवार के लिए प्रयोग कर,अपना कर देखिये और तंत्र को सराहिये |

 तंत्र की स्थापना ही मेरा जीवन उद्देश्य है | और सदगुरुदेव के श्री चरणों में मेरी अश्रु और कर्मांजलि भी|  

नोट- सात साधनाओं की जो सामग्री भाई-बहनों के पास पहुँच गयी है....उम्मीद है की आप लोगों ने माला का निर्माण कर लिया होगा...अतः सभी को इउनकी साधनाओं से सम्बंधित विधान २८ की शाम तक मेल कर दिया जायेगा |

****ARIF****


****NPRU****

5 comments:

Dinesh Paliwal said...

Jai Sadgurudev,
arifji bhaisaheb, namashkar,
aapke in prayaso, or solid karyo
ke liye sadhuvaad.Sadgurudev ke lakho saphal shishya hai, vai aapne
hariday ko isi terah vishal kare to Bharatvarsh me sukh, samridhi, shakti ki punah isthapana ho sakti hai. aapke karya kam se kam mujhe to bahut prena daite hai.
Jaise sadgurudev mere liya eak prakash punnj hai, vaise hi aap or aap jaise kai varisth gurubharatha
hai.
Jai Sadgurudev, Jaisadshishyadev

Unknown said...

priy dinesh bhai ji , aapke in utsaahvardhak bhavnao ke liye aapko hrdy se aabhar ..
smile
anu

Unknown said...

priy dinesh bhai ji ,aapke utsaahvardhak bhavgnao ke liye aapko hardy se dhnyvaad..
smile
anu

Neeraj Kumar said...

jaigurudev bhai sahab mera naam Neeraj hai aur aap trimurti gurubhaiyon ko aapke karyo ke liye dil se dhanyvad karta hun .....
Bhai sahab jab aap log ye Kavach bana rahein hai to kripya karke mere liye TANTRA BADHA NIVRAN RAKSHA KAVACH bana de kyunki mujhe iskee bahut aavshyaka hai...

Mera Address : J-23 (back side) Shri Niwas Puri, New Delhi-110065
09990027444

Pranjal Khemani said...

bhai, you have walked quite a distance . no one can stop you from your misssion