There was an error in this gadget

Wednesday, June 20, 2012

AMBUVACHI YOG AUR POORN TANTRA SIDDHI – GUPT NAVRATRI VIDHAAN




Kaalo Ashwo Vahti  Saptrashmih Sahastraksho Ajaro Bhuriretah |
Tamarohanti Kavyo Viyashichatstasay Chakraa Bhuvanaani Vishwa ||
It means that Kaal (Time) have seven ropes, it drives thousands of axis and is immortal and have ever-young body. It is running continuously on his path like mahabali ashv (Horse).And entire world, all evolved material and creatures are roaming being entangled in its circle and they are not able to cross it…..Only stable, learned ones and sadhak who is free from infatuation of mind can ride this horse of time and can go beyond it or accomplish it.
Sadhak’s life is something similar to it where he continuously put his efforts to get himself introduced to secrets of Kaal. But without right hard-work, continuous practice and authentic guidance, this will remain merely as imagination. But with it other things are to be kept in mind that sadhak should have the knowledge of correct moments of time. Therefore, it is necessary to know about how to use these moments, how to give completion to these processes.
The seven sadhnas which we selected for June month, yantra related to it have reached all brothers and sisters. But we deliberately delayed the providing of the Vidhaan. Because merely giving procedures and Vidhaan cannot give completeness in this subject and nor the festival of sadhna can’t be celebrated fully. Because all these preparation were incomplete. Remember that for this purpose there was shortage of one important sequence not only for these seven sadhnas but also thousands of sadhna process in future would have remained incomplete. Remember that sadhna of sadhak can’t be complete without authentic sadhna article. For example if you understand that if I want to talk only then any of mobile phones will do…is it right?.....if you have to listen songs, then you have to select the phone having facility of F.M .But when we talk about internet surfing……mobile banking….chatting….video calling….ticket booking…then….we need one phone which have all these facilities and multimedia facility.
Now you will get authentic yantra every time, but for getting complete power, how you will get “Sarv Vidya Saadhy Kaamna Poorti Vijay Maala”???
Do you know that this time, time from 20 June to 28 June is amazing……this time is best for accomplishing various sadhnas. Presence of Guru Pushya constellation……that too on 21 date, days of Gupt Navraatri ……2-2 Sarvarth siddhi yog, first on 21 and second on 28…..and amazing Ambu Baachi yog……can any Muhurat better than this can be obtained……But if we accomplish the above rosary fully then for getting the success in all births and for the coming generations, this rosary being present as legacy will keep on providing accomplishment. This is not a normal rosary but describing its importance is very cumbersome task. But still I will describe following qualities…..
Providing full cooperation in fulfillment of wish
Beneficial in combining with Sammohan power
To increase self confidence
Saving from untimely deaths and bad incidents
Providing the pleasure of children
For getting desired business or job
For getting desired life partner
For getting respect and dignity
For establishing full control over Kaam Element
For providing luxury
For increase in remembrance power
Capable of augmenting concentration power and meditation capability
For remedying tantra obstacle
For attaining security chakra.
For definite success in Tantra sadhnas
For complete success in various sadhnas
By this rosary, various sadhnas can be done and it is not necessary to immerse it rather after each sadhna there will be successive addition in its power. And wearing it provides good fortune.
Do you think that something can be more important than its construction that too doing this all important activity by your own hands? Now the time has come that we not only have the knowledge about energizing of sadhna articles and process to instill consciousness in them but also we can do it ourselves. Side by side, we have to accomplish the Poorn Tantra Safalya Mantra also. We can utilize this precious time for progress of our life. And once we accomplish these two processes fully, then future sadhna life becomes completely safe from negativity of fear and failure.
Vidhaan-
1.      First of all clean the worship place with clean water and do the arrangements in such a way that we can face North.
2.      Dress and aasan will be of red colour.
3.      Spread clothes of red colour also on wooden plank (Baajot)
4.      Time will be second phase of night i.e. from 10:00 P.M to 3:00 P.M.
5.      Take bath and sit on the aasan after wearing clothes.
6.      Worship items will primarily consist of kumkum mixed I kg rice , oil Deepak( whichever you use for worship), Bhoj Patra or piece of white paper, Rakt Pushp,6 lemon ,4 coconut, leaf of Paan (everyday new) and if you do not get it then supaari used for worship purpose,new knife,Kumkum,9 cardamom,27 clove,small-2 9 red colored handkerchiefs, water container made up of copper, sweet made up of milk or mishri (sugar-candy), any fruit.
7.      The rosary you need to accomplish( Rudraksh, sfatik, Hakik (white, yellow or red),Munga ,Kamal gatta rosary will be better)
8.      For chanting Guru Mantra, it is correct to use Guru Rosary.
9.      In other word, separate rosaries have to be used for accomplishment and for chanting guru mantra.
Pronounce “Om” 5 times in complete manner after establishing picture of Guru, Guru Yantra, Ganpati yantra or picture on Baajot. Do the poojan of Sadgurudev and Lord Ganpati in complete panchopchar way. Then chant at least 4 rosaries of Guru Mantra and 1 rosary of Tantrokt Ganpati Mantra.
OM GANADHYAKSHO KRISHN PINGLAKSHAAY NAMAH ||

After that, pray to Sadgurudev and lord Ganpati for success in sadhna.

Now make one maithun chakra by kumkum on floor in front of Baajot. Establish one small plate of cooper on Baajot in front of Guru Picture and also make yantra inside it.
Now wash the rosary with clean water in different container and after wiping it, place it in that plate in which maithun chakra has been made and which is established on Baajot.

Now pronounce dhayan mantra 5 times
Ati Sulalit Veshaam Haasay Vaktraam Trinetraam,
Jit Jald Sukaantim Patt Vastaam Prakashaam |
Abhay Var Karadhyaam Ratn Bhushaabhi Bhavyaam,
Sur Taru Taal Peethe Ratn Sinhasansthaam ||

Now the new knife which you have kept put an ornamental mark on it by kumkum. Pronounce below mantra 21 times and press it under aasan which is beneath your left feet.

FREM FREM KROM KROM PASHUN GRIHAAN PHAT SWAHA

And after that do the 3 rosaries of Maha mantra of Aadya Shakti Maa Kamakhya “Treem Treem Treem”.

After that, write the Poorn Tantra Safalya mantra by kumkum on Bhoj patra. Establish it over the bindu in center of triangle written on floor.

OM HREENG AING KLEENG KREEM HUM HUM KREEM KREEM PHAT

And now place one lemon in one of the angles of triangle. Again while chanting mantra, place second lemon inside second triangle. In this way place 6 lemons in six triangles.

OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE STHAPYAAMI NAMAH ||

After that do the poojan of Bhoj Patra by kumkum-mixed rice while chanting below mantra.

OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE AKSHATAAN STHAPYAAMI NAMAH ||

Now do the poojan of Bhoj Patra by kumkum while chanting below mantra
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE KUMKUM STHAPYAAMI NAMAH ||

Now offer flowers
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE PUSHPAM STHAPYAAMI NAMAH ||

Now do the poojan through dhoop-deep.
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE DHOOPAM DEEPAM STHAPYAAMI NAMAH ||

Now do the poojan by navidya and fruit
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE PHALAM-NAIVEDYAM STHAPYAAMI NAMAH ||

Now offer one coconut.
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE NAARIKEL STHAPYAAMI NAMAH ||

Now the rosary which need to be accomplished, take it out from that container and rotate it in your hand while pronouncing below mantra 11 times i.e. the way we use thumb and fingers in chanting, do it like that.

 Maale Maale Mahamaale Sarv Tatv Swrropini|
Chatuvargstavyi nyast stsmame Sidhida Bhav ||
Now with that rosary, chant one round of below mantra
OM HREEM SHREEM AKSHMAALAAYAI NAMAH ||

Now chant one round of below mantra from same rosary-
OM SARVMAALAA MANIMAALAA SIDDHI PRADAATRAYI SHAKTI RUPINYAI NAMAH ||
Now again establish that rosary in that container. And do its poojan by Rakt pushp, coconut, leaf of paan (everyday new) and if not possible then supaari used for worship, 1 cardamom, 3 clove and navidya. When you are offering sadhna article, then pronounce below mantra and chant “Samarpayaami Namah” in end of mantra after taking the name of article which you are offering.
Example-
OM HREEM SHREEM AKSHMAALAAYAI NAMAH RAKTPUSHPAM SAMARPAAYIMI ,NAARIKEL SAMARPAAYIMI…..etc etc
After that, accomplish chetna Kriya on that rosary by kumkum-mixed rice while chanting below mantra. This mantra has to be chanted for at least 20 minutes or 108 times and Akshat has to be offered while chanting.
OM AING HREENG SHREENG AM AAM IM EEM RIM RRIM LRM LRIM EM AIM OM OUM AM AH KAM KHAM GAM GHAM INGAM CHAM CHHAM JAM JHAM INYAM TAM THAM DAM DHAM NNAM TAM THAM DAM DHAM NAM PAM PHAM BAM BHAM MAM YAM RAM LAM VAM SHAM SHHAMSAM HAM KSHAM ||
Now pray that rosary by below mantra and offer flowers on it.
Om Tvam Maale Sarv Devanaam Sarv Siddhi Prada Mta |
Tem Satyen Mem Siddhim Dehi Maatarnamoostute ||
Now chant 5 rounds of “Poorn Tantra Safalya Mantra”. And in the end, offer mantra Jap in feet of Sadgurudev. This sequence will go on up till 28 June…Remember lemon should be placed on first day only. Coconut should be established on first and last day. After the sequence is completed, put the rosary in that container and cover it with red cloth. On second day, it has to be covered with other cloth.in the same way on all 9 days; it has to be covered with new cloth…and the old one have to be kept separately. On 29th June, all articles(except rosary and Bhoj patra),along with the cloth spread on Baajot  should be tied and after praying to Sadgurudev for success, keep it in any place where nobody comes and wash the floor….Yes keep in mind that Maithun chakra will be made only on first day on floor and container. There is no need to make it daily. Immerse the Bhoj patra in clean water.
I will only say that such fortune is attained by few ones that there is right opportunity and secret process are obtained. You all get full benefits from this fortunate festival, I pray to lotus feet of my Praanadhar.
=====================================================


“कालो अश्वो वहति सप्तरश्मि: सहस्राक्षो अजरो भुरिरेता: |

तमारोहन्ति कवयो वियश्चितस्तस्य चक्रा भुवनानि विश्वा ||”
    
अर्थात काल सात रस्सियों वाला और हजारों धुरियों को चलाने वाला तथा निर्जरादेह से युक्त और अमर है | वह महाबली अश्व के समान निरंतर अपने पथ पर दौड़ रहा है | और समस्त संसार,उत्पन्न पदार्थ तथा जीव आदि उसके इसी चक्र में फंसकर घूम रहे तथा उसे पार नहीं कर पा रहे हैं...मात्र स्थिरप्रज्ञ,ज्ञानी और मन की आसक्ति से मुक्त साधक ही इस काल रुपी अश्व की सवारी कर इससे परे जा सकते हैं या साध सकते हैं |
  कुछ ऐसा ही तो है एक साधक का जीवन,जहाँ वो लगातार प्रयास करता रहता है,काल के रहस्यों से परिचित होने का | किन्तु उचित परिश्रम,सतत अभ्यास और प्रामाणिक मार्गदर्शन के ऐसा होना मात्र कपोल कल्पना ही कहलाती है | किन्तु इसके साथ साथ ये भी ध्यान रखना आवश्यक है की साधक को काल के उपयुक्त क्षणों का ज्ञान भी हो, अतः किन क्षणों का कैसा प्रयोग करना है,उनमे किन क्रियाओं को पूर्णता दी जा सकती है,ये जानकारी भी होना आवश्यक है |
   हमने जिन सात साधनाओं का चयन जून माह के लिए किया था | उनसे सम्बंधित यन्त्र तो सभी भाई बहनों के पास पंहुच ही गए हैं,किन्तु हमने जान बूझ कर साधना विधान देने में विलम्ब किया था | क्यूंकि मात्र प्रक्रिया और विधान पंहुचा देने से ही इस विषय को ना तो पूर्णता मिल सकती थी और ना ही सफलता का पूरी तरह से उत्सव मनाया जा सकता था | क्यूंकि ये तैयारी ही अपूर्ण थी | याद रखिये इस हेतु एक बहुत महत्वपूर्ण क्रम का अभाव था और मात्र इन सात साधनाओं के लिए ही नहीं अपितु भविष्य में किये जाने वाले हजारों साधनात्मक विधान अपूर्ण ही रहते | याद रखिये साधक की साधना प्रामाणिक साधना सामग्री के बगैर पूर्ण नहीं हो सकती है | उदाहरण के लिए आप ये समझिए की यदि मुझे मात्र बात करनी है तो कोई भी मोबाईल फोन चलेगा नहीं बल्कि दौड़ेगा..... ठीक है ना... अब गाने भी सुनना हो तो फिर ऐसा फोन चुनना पड़ेगा, जिसमे एफ.एम. की सुविधा हो किन्तु जब बात उसमे इन्टरनेट सर्फिंग की हो...मोबाइल बैंकिंग की हो...चेट की हो....वीडियो कालिंग की हो...टिकट बुकिंग की हो...तब.....तब..हमें एक ऐसा फोन चाहिए ना,जिसमे ये सारी सुविधाए और मल्टीमीडिया की सुविधा भी हो....|
   अब आपके पास प्रामाणिक यन्त्र तो हर बार पंहुच जायेगा,किन्तु आप पूर्ण शक्ति प्राप्ति के लिए “सर्व विद्या साध्य कामना पूर्ती विजय माला” कहाँ से लाओगे ????
   क्या आप जानते हैं की इस बार २० जून से २८ जून तक का काल अद्भुत है...विविध साधनाओं को सिद्ध करने के लिए पूर्ण सफलता प्रदायक है | गुरु पुष्य नक्षत्र की उपस्थिति...वो भी २१ तारीख को,गुप्त नवरात्रि के दिवस ....२-२ सर्वार्थ सिद्धि योग,पहला २१ को और दूसरा २७ जून को...और अद्विय्तीय अम्बुबाची योग...क्या इससे अद्भुत मुहूर्त साधना के लिए प्राप्त हो सकता था| हम मात्र एक साधना ही इस गुप्त नवरात्री में कर पाएंगे...किन्तु यदि हम उपरोक्त माला को पूर्ण  सिद्ध कर ले तो जन्म  जन्मांतर की साधनाओं  में सफलता हेतु और आने वाली पीढ़ी के लिए भी ये माला एक धरोहर के रूप में उपस्थित रहकर सिद्धि प्रदान करती रहेगी | ये कोई सामान्य माला नहीं है,अपितु इसके महातम्य का वर्णन करना दुष्कर है,फिर भी निम्न विशेषताओं का मैं उल्लेख करना चाहूँगा –
मनोकामना पूर्ती के लिए पूर्ण सहयोगी |
सम्मोहन शक्ति से युक्त करने में लाभकारी |
आत्मविश्वास वृद्धिकारक |
अकालमृत्यु और दुर्घात से बचाने वाली |
संतान सुख देने में समर्थ |
मनोवांछित व्यवसाय या नौकरी की प्राप्ति हेतु |
मनोवांछित जीवन साथी प्राप्ति हेतु |
सम्मान और प्रतिष्ठा की प्राप्ति हेतु  |
काम तत्व पर पूर्ण नियंत्रणकारी |
ऐश्वर्य प्रदात्री |
स्मरण शक्ति में वृद्धि कारक |
एकाग्रता शक्ति और ध्यान क्षमता की अभी वृद्धि करने में सक्षम |
तंत्र बाधा निवारण हेतु |
सुरक्षा चक्र प्राप्ति हेतु |
तंत्र साधनाओं में निश्चित सफलता दायक |
विविध साधनाओं में पूर्ण सफलता प्रद |
इस एक ही माला से विविध साधनाएं की जा सकती है,और उसका विसर्जन अनिवार्य नहीं है,अपितु प्रत्येक साधना के बाद इसकी शक्ति में उत्तरोत्तर वृद्धि होती जायेगी | और इसे धारण करना ही पूर्ण सौभाग्यदायक है |
  क्या आपको लगता है की इसके निर्माण से महत्वपूर्ण कुछ भी हो सकता है वो भी स्वयं के हाथों ही इतनी महत्वपूर्ण क्रिया संपन्न करने से | कालानुसार अब समय आ गया है की सामग्रियों की प्रतिष्ठा और उनमे चेतना का प्रवाह करने की क्रिया का ना सिर्फ हमें ज्ञान हो अपितु,उसे हम स्वयं ही संपादित भी कर सके | साथ ही पूर्ण तंत्र साफल्य मंत्र को भी इसी काल में हमें अंगीकार कर सिद्ध करना है | हम इस बहुमूल्य समय को अपने जीवनोत्थान हेतु उपयोग कर सकते हैं |  और एक बार जब हम इन दोनों क्रियाओं को पूर्ण रूपेण सिद्ध कर लेते हैं,तो आगे का साधना जीवन भय और असफलता की नकारात्मकता से सदैव सुरक्षित रहता है |
विधान
१.    सर्वप्रथम पूजन स्थल को भली भांति स्वच्छ जल से साफ़ कर ले,और उत्तर दिशा की और मुख कर सके,ऐसे स्थान का चयन कर ले |
२.    वस्त्र व आसन लाल रंग के होंगे |
३.    सामने बाजोट पर भी लाल रंग का वस्त्र बिछा दें |
४.    समय रात्रि का दूसरा प्रहर अर्थात १० बजे से ३ बजे के मध्य का होगा |
५.    स्नान कर वस्त्र धारण कर अपने आसन पर बैठ जाएँ |
६.    पूजन सामग्री में मुख्यतः कुंकुम मिश्रित १ किलो अक्षत (साबुत चावल),तेल का दीपक (जो भी आप पूजन के लिए प्रयुक्त करते हों),भोज पत्र या सफ़ेद कागज़ का टुकड़ा,रक्त पुष्प,६ निम्बू,४ नारियल,पान का पत्ता(रोज नया) और नहीं मिले तो पूजा की सुपारी,नया चाकू,कुंकुम,९ इलायची,२७ लोंग,छोटे छोटे ९ लाल वस्त्र के रुमाल जैसे टुकड़े, ताम्बे का जल पात्र,दूध की मिठाई या मिश्री,कोई भी फल |
७.    जिस माला को आप सिद्ध करना चाहते हैं(रुद्राक्ष,स्फटिक,हकीक सफ़ेद,पीला या लाल,मूंगा,कमलगट्टे की माला का प्रयोग करना बेहतर है) |
८.    गुरु मंत्र जप करने के लिए अपनी गुरु माला का प्रयोग किया जाना उचित है |
९.    अर्थात सिद्ध करने के लिए अलग और गुरु मंत्र जप के लिए अलग माला का प्रयोग करना है | ये बात बार बार बताना उचित नहीं होगा |
बाजोट पर गुरु चित्र,गुरु यन्त्र,गणपति,यन्त्र या चित्र की स्थापना कर,”ॐ” का  पूर्ण रूप से  ५ बार उच्चारण करें तथा सदगुरुदेव और भगवान गणपति का पूर्ण पंचोपचार विधि से पूजन करें | तथा गुरु मंत्र की कम से कम ४ माला संपन्न करें और १ माला तांत्रोक्त  गणपति मंत्र की संपन्न करे |
“ॐ गणाध्यक्षो कृष्ण पिंग्लाक्षाय नमः ||”
OM GANADHYAKSHO KRISHN PINGLAKSHAAY NAMAH ||
तत्पश्चात सदगुरुदेव और भगवान गणपति से साधना विधान में सफलता के लिए प्रार्थना करे |
अब कुंकुम से बाजोट के सामने भूमि पर एक मैथुन चक्र का निर्माण करे | और ताम्बे की एक छोटी सी थाली बाजोट पर भी गुरु चित्र के सामने स्थापित करें और उसमे भी मैथुन चक्र का अंकन कर लें |
अब माला को किसी अलग पात्र में शुद्ध जल से स्नान करवाकर और पोंछ कर उस थाली में स्थापित कर दें जिस में मैथुन चक्र अंकित है और जो बाजोट पर स्थापित है |
अब  ध्यानमंत्र का ५ बार उच्चारण करे –
अति सुललित वेशां हास्य वक्त्राम् त्रिनेत्राम,
जित जल्द सुकान्तिम् पट्ट वस्त्रां प्रकाशं |
अभय वर कराढयां रत्न भूषाभि भव्यां,
सुर तरु ताल पीठे रत्न सिंहासनस्थाम् ||

  अब जो नया चाकू आपने रखा हुआ है उस पर कुंकुम का तिलक लगाकर निम्न मंत्र का २१ बार उच्चारण कर उसे अपने बांये पैर के आसन के नीचे दबा लें-
फ्रें फ्रें क्रों क्रों पशुन् गृहाण हुं फट् स्वाहा ||
FREM FREM KROM KROM PASHUN GRIHAAN PHAT SWAHA
और इसके बाद गुरु माला से ही आद्य शक्ति माँ कामाख्या के “त्रीं त्रीं त्रीं” महा मंत्र की ३ माला संपन्न करे |
तदुपरांत भोजपत्र पर पूर्ण तंत्र साफल्य मंत्र कुंकुम से  लिख कर भूमि पर लिखे त्रिकोण के मध्य जो बिंदु बना है उस पर स्थापित कर दे |
ॐ ह्रीं ऐं क्लीं क्रीं हुं हुं क्रीं क्रीं फट् ||
OM HREENG AING KLEENG KREEM HUM HUM KREEM KREEM PHAT
और अब एक नीम्बू को त्रिकोण के एक कोण में निम्न मंत्र बोलते हुए स्थापित कर दें | फिर मंत्र बोलते हुए दूसरा नीम्बू दूसरे त्रिभुज में स्थापित कर दें | इस प्रकार ६ निम्बुओं को ६ त्रिकोण में स्थापित कर दें |
 ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते स्थापयामि नमः ||
OM AIM HREEM HASOUH TRIPURE AMRITARNAVVAASINI SHIVE SHIVANANYARUPINYAI TE STHAPYAAMI NAMAH ||
इसके बाद उस भोजपत्र का पूजन निम्न मंत्र बोलते हुए कुंकुम मिश्रित अक्षत द्वारा करे |
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते अक्षतान समर्पयामी नमः ||
अब कुंकुम द्वारा उस भोजपत्र का पूजन निम्न मंत्र बोलते हुए करे –
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते कुंकुम समर्पयामी नमः ||
अब पुष्प अर्पण करे –
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते पुष्पं समर्पयामी नमः ||
अब धुप-दीप द्वारा पूजन करे –
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते धूपं दीपं दर्शयामि नमः ||
अब नैवेद्य या फल द्वारा पूजन करे –
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते फलं-नैवेद्यम समर्पयामी नमः ||
अब १ नारियल को अर्पित करे –
ॐ ऐं ह्रीं ह्सौ: त्रिपुरे अमृतार्णववासिनी शिवे शिवानन्यरुपिन्यै ते नारिकेल समर्पयामी नमः ||
अब  जिस माला को सिद्ध करना था उसे पात्र में से उठाकर और हाथ में लेकर निम्न मंत्र का ११ बार उच्चारण करते हुए घुमाते जाये अर्थात जैसे माला करते हुए हम उँगलियों और अंगूठे का प्रयोग करते हैं,वैसे ही करें |
माले माले  महामाले सर्व तत्त्व स्वरूपिणी |
चतुर्वर्गस्त्वयि  न्यस्त स्तस्मंमे  सिद्धिदा भव ||
अब उसी माला से १ माला मंत्रजप  निम्न मंत्र का करे –
 ह्रीं  श्रीं अक्षमालायै  नमः ||
OM HREEM SHREEM AKSHMAALAAYAI NAMAH ||
तत्पश्चात निम्न मंत्र का जप १ माला उसी माला से करे -
ॐ सर्व  माला  मणि माला  सिद्धि प्रदात्रयि शक्ति रुपिण्यै नमः ||
OM SARVMAALAA MANIMAALAA SIDDHI PRADAATRAYI SHAKTI RUPINYAI NAMAH ||
अब उस माला को वापस उसी पात्र में स्थापित कर दें.,और उसका पूजन अब माला का पूजन रक्त पुष्प,नारियल,पान का पत्ता(रोज नया) और नहीं मिले तो पूजा की सुपारी, १ इलायची,३ लौंग और नैवेद्य से करे | जब आप सामग्री अर्पित कर रहे हों तब निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुए करे और मंत्र के अंत में जिस सामग्री को आप अर्पित कर रहे हों,उस सामग्री का नाम लेकर  समर्पयामी नमः कहे |
उदाहरण –
ह्रीं  श्रीं अक्षमालायै  नमः रक्तपुष्पं समर्पयामी ,नारिकेल समर्पयामी .....आदि आदि
इसके बाद उसी माला पर कुंकुम मिश्रित अक्षत निम्न मंत्र बोलते हुए चेतना क्रिया संपन्न करे,ये मंत्र कम से कम २० मिनट या १०८ बार बोलते हुए अक्षत के दाने अर्पित करते जाना है |
ॐ ऐं ह्रीं श्रीं अं आं इं ईं ऋम् ऋम् लृं लृं एं ऐं ओं औं अं अ: कं खं गं घं ङ चं छं जं झं ञ* टं ठं डं ढं णं तं थं दं धं नं पं फं बं भं मं यं रं लं वं शं षं सं हं क्षं ||
OM AING HREENG SHREENG AM AAM IM EEM RIM RRIM LRM LRIM EM AIM OM OUM AM AH KAM KHAM GAM GHAM INGAM CHAM CHHAM JAM JHAM INYAM TAM THAM DAM DHAM NNAM TAM THAM DAM DHAM NAM PAM PHAM BAM BHAM MAM YAM RAM LAM VAM SHAM SHHAMSAM HAM KSHAM ||  
इसके बाद माला को निम्न मंत्र से प्रणाम करें और उन पर पुष्प अर्पित करे  –
ॐ  त्वं माले सर्वदेवानां  सर्व सिद्धिप्र्दा मता |
तें सत्येन में सिद्धिं  देहि  मातर्नमोsस्तूते ||
इसके बाद इसी माला से पूर्ण तंत्र साफल्य मंत्र की ५ माला जप करे | और अंत में सद्गुरु चरणों में मंत्र जप अर्पित कर दें | यही क्रम अंतिम दिवस तक अर्थात २८ जून तक रहेगा...याद रखिये नीम्बू मात्र पहले दिन स्थापित करने हैं,नारियल पहले और अंतिम दिवस स्थापित करना है | क्रम समाप्त होने पर माला को उसी पात्र में रख दे और लाल वस्त्र के टुकड़े से ढांक दें,दूसरे दिन दुसरे वस्र्त्र से,इसी प्रकार ९ दिनों तक नित्य नए वस्त्र से ढांकना है...और पुराने वाले को अलग रख देना है |२९ जून को सभी सामग्री(माला और भोजपत्र को छोड़कर ) बाजोट पर पर बिछे वस्त्र में बांधकर सदगुरुदेव से पूर्ण सफलता की प्रार्थना करते हुए किसी वीरान स्थान में रख दे और फर्श को धो या पोछ लें...हाँ याद रखिये मैथुन चक्र मात्र पहले दिन ही भूमि और पात्र में बनेगा,उसे नित्य बनाने की जरुरत नहीं है | भोजपत्र को स्वच्छ जल में विसर्जित कर दे |
  मैं मात्र यही कहूँगा की ऐसा सौभाग्य किसी किसी का ही होता है की सही अवसर हो और गुह्यतम क्रियाओं की प्राप्ति हो,आप सभी को इस सौभाग्यशाली पर्व का पूर्ण लाभ प्राप्त हो,यही प्रार्थना और कामना है मेरी अपने प्राणाधार के श्री चरणों में |
****ARIF****
****NPRU****





  


3 comments:

BABLOO SHARMA said...

bade bhaiya jay sadgurudev,bhai aapne kaha hai ki hame POORNA TANTRA SAAFALYA MANTRA ko bhi isi kaal mai poorna angikaar kar siddh karana hai,to bhai usako siddh karane ke liye hame kya karana hoga.jay sadgurudev.----aapka chhota bhai Babloo

satyadev said...

मैंने बहुत वर्ष पहले गुरु देव श्रीमाली से अनायास धन प्राप्ति के साधना की थी. जिसमे मणिभद्र का नाम अत्ता है. वो साधना फिर से करना चाहता हूँ लेकिन जोधपुर वाले परिवार इस तरफ कोई धयन नहीं देते. इस साधना में मणिभद्र यन्त्र और माला का भी प्रयोग किया गया था. मेरी साधना सफल हुई थी लेकिन मैं उसे स्थिर नहीं रख सका. क्या कोई बता सकता है.

bhavna said...

jay sadgurudev ji...
kuch samay k baad navratri aa rahi hai....to us samay hone wali kuch durgum kriyao ko kripa krk bataye....kuch aasan ya aisi koi kriya jo din me ho paye.....kripa kr maddad kare.......