There was an error in this gadget

Friday, June 1, 2012

TANTRA GYAN SHRINKHLA -2 (LING RAHASYA AUR MANAH SHAKTI JAAGRAN VIDHAAN-1 ) तंत्र ज्ञान श्रृंखला – २ (लिंग रहस्य और मन: शक्ति जागरण विधान-१ )




In Last Article, we discussed about what are those seven levels of mind whose bhedan can be done and after that we can unify conscious and subconscious state of mind and attain the state of super-conscious mind (Maha Chetan).For this we definitely needs Shivling, we can plan regarding Shivling considering our faculty of reasoning and capacity, but this is essential. As I told you earlier, there are three types of Shivling-
1. Sthul Ling (Visible Ling)
2. Sookshma Ling (Subtle Ling)
3. Para Ling
This order of attainment of universal powers, when completed by Yogi, then in its root, complete combination of these three lings takes place. Remember that Mind is the master of infinite powers, but they are in dormant state and if we unify those two states of mind then definitely, attained Maha Chetan mind entrust the authority of its infinite powers to us. The padhati which I am telling you, it will automatically keep on introducing you to the experiences. Just you have to do it with full dedication and besides this, do the process as it has been told here.
Above, I have given you information about three lings which are known as
Isht Ling
Praan Ling
Bhaav Ling (Para Brahamandeey Ling)
by the sadhak. These three lings are related to three important states of mind, upon unifying these three lings, three states of mind also get unified and all the seven levels also become one. Till now, we have only heard of two states of mind-
Conscious Mind (Outer Mind)
Sub-Conscious Mind (Inner Mind)
But there is one state also in middle of them which is known by sadhak by the name of Chetan-Avchetan Man (Conscious-Subconscious mind).In this state, activation of power takes place but there is shortage of consciousness due to which sadhak cannot attain full mastery and sometimes, deviating from the path, due to the ego of power, he degrades. Therefore, after attaining Maha Chetna state, understanding the infinite secrets will require the use of outer symbols. It has been said also “Chandrama Manso Jaatah” meaning moon is the indicator of mind. The speed of mind is infinite but it is full of instability (playful) and parad is also very instable and full of infinite powers. Therefore, when making use of full process, parad is combined in accordance with Kramik Vidhaan (sequential procedure) then instability of mind vanishes. But it does not mean that those who cannot attain parad Shivling can’t do this process.it is not like this. Their speed and progress may remain slow but activation and bhedan of chetna and Manah Shakti (mind-power) will definitely take place.
The three lings which I have mentioned above, their qualities are also similar with those three states-

Isht Ling – Sakal ling


Praan Ling –Sakal Nishkal Ling


Bhaav Ling (Para Brahamandeey Ling) –Nishkal or Para Ling

Now let’s see their situation at those seven level, these three important levels will be First, Fourth and Seventh. If you see it carefully then situation of Aadi (start).Madhya (middle and ant (end) is formed whose complete union lead to completion of journey towards completeness. I have told you earlier also that these seven levels contain different abilities meaning as we cross one level and reach the other level, automatically we get acquainted with the knowledge hidden in first level or first layer. But acquiring knowledge and mastering it are altogether different things. Therefore, for mastering it, complete Kramik Vidhaan needs to be done.
1. Chetan –Isht Ling
2. Smriti
3. Avchetna
4. Sarjana – Praan Ling
5. Jeewanaat
6. GarbhSuvistrita (Antasyog)
7. Brahmand Chetna – Bhaav Ling

Meaning that as we complete the journey from first to the fourth level, union between the Isht Ling and Praan ling happens and as we reach the seventh level, these three lings become one. And then the three lines of great triangle present in our Muladhaar which represents Mind, Praan and soul get activated and thereby activates the triangle also. And the center of triangle i.e. bindu which symbolizes Shiva provides everything i.e. “Bhogasch Mokshasch Karsth Ev Ch”|
The journey of Aatm Ling (Bhaav Ling) is possible only when we have attained Maha Chetan mind. Then only we can see Great Triangle (Maha Trikon) and Aatm Ling.But before this, we have to make use of the symbol of outer consciousness Isht ling.
On any Monday, wake up in Brahma Muhurat and after taking bath, sit in siddhaasan facing towards North. One should wear yellow, red or white dhoti or saree. Aasan should be of blanket and on it aasan should be woolen or silky. Remember that color of aasan should be same as that of your dress. After spreading the cloth of color mentioned above, on Baajot in front of you, establish Isht Ling in copper container. Now do the panchopchar poojan of your Guru and Ganpati using Dainik Vidhi. Then pronounce “Om” 11 times. Now sitting erectly and stably, pronounce “Hum” beej 5 minutes and you have to pronounce it with intensity. Mental chanting or chanting it in lower voice should not be done rather medium voice should be used. Besides this ,contract your anus gate with intensity but keep in mind that this contraction should be in sync with the sound of “Hum” otherwise our preliminary process will become errorenous.Vibration in naval starts takes place through this activity and also the union of Praan Vayu and Apaan Vayu.
After this, uses Yoni Mudra i.e. close both your ears with thumbs of your hands, both your eyes with both forefingers, both your nostrils with middle fingers and both your upper and lower lips through the union of both ring fingers and little fingers. Before this, using Kaaki Mudra, pull breath inside using mouth and then only close your mouth. Now concentrate on your Trikoot (third eyes) where vermillion mark (on fore head) is applied by ladies. After some time, you are able to see light .Now remove your fingers and again do the “Hum” beej process for 5 minutes. Then again do the Yoni Mudra process meaning that you have to repeat this whole process 2 times.
Now establish Shivling in your left hand because Isht ling is established or can be established on physical body and while touching it with middle and ring finger of right hand, do the Upaanshu jap (chanting mantra in such a way that it is audible only to us) the mantra given below for 30 minutes.


“ओम ह्रीं श्रीं मेधा प्रज्ञा प्रभा विद्या धी धृति स्मृति बुद्धि सहिताय विद्येश्वरी श्रीं ह्रीं ओम”


“Om Hreem Shreem Medha Pragya Prabha Vidya Dhee Dhriti Smriti Buddhi Sahitaay Vidhyeshwari Shreem Hreem Om”
 As you go more deep into your chanting, you will automatically start experiencing divinity and heat. Mind will become extremely peaceful .This process has to be done for 7 days. In seven day you will start experiencing yourself something which in your view, you have not experienced earlier. Now you are able to experience the hidden truth easily and….
To Be Continued
“Nikhil Pranam”


======================================== 


पिछले  लेख में हमने यही चर्चा की थी की मन के वो सात स्तर कौन से हैं,जिनका भेदन कर हम मन की चेतन और अचेतन अवस्था का आपस में योग कराकर महाचेतन मन की प्राप्ति कर सकते हैं| इसके लिए शिवलिंग की अनिवार्यता होती ही है,हम अपने अपने विवेक और सामर्थ्यानुसार शिवलिंग की योजना बना सकते हैं,किन्तु है ये अनिवार्य,क्यूंकि जैसा की मैंने बताया ही था की शिवलिंग के तीन प्रकार होते हैं
१. स्थूल लिंग
२. सूक्ष्म लिंग
३. परा लिंग
    ब्रह्मांडीय शक्तियों की प्राप्ति का ये क्रम जब एक योगी पूर्ण करता है तो उसके मूल में इन्ही त्रिविध लिंगों का पूर्ण संयोग होता है | याद रखिये मन अनंत शक्तियों का स्वामी है,किन्तु वे सुप्तावस्था में हैं और यदि हम मन की उन दोनों अवस्थाओं का आपस में योग करवा दें तो निश्चय ही प्राप्त महाचेतन मन अपनी अनंत शक्तियों का स्वामित्व आपको सौंप देता है | जो पद्धति मैं आपको बता रही हूँ,ये अनुभूतियों से स्वतः ही आपका साक्षात्कार कराते जायेगी,बस पूर्ण निष्ठां के साथ आप इसे संपन्न करे और साथ ही जैसा क्रम बताया गया है उसे वैसे का वैसा ही संपन्न करें |
   ऊपर मैंने आपको तीन लिंगों की जानकारी दी है जिन्हें साधक
इष्टलिंग
प्राणलिंग
भावलिंग (परा ब्रह्मांडीय लिंग)
  के नाम से जानते हैं, ये तीनों लिंग मन की तीन महत्वपूर्ण अवस्थाओं से सम्बंधित हैं,जिनका आपस में योग होते ही मन की तीनों अवस्थाओं का आपस में योग हो जाता है और सातों स्तर आपस में एकाकार हो जाते हैं | वैसे हम ने अभी तक सिर्फ मन की दो ही अवस्थाएं सुनी हैं
चेतन मन (बाह्य मन)
अवचेतन मन  (अंतर मन )
   किन्तु इनके मध्य की एक और अवस्था भी है जिसे साधक चेतनअवचेतन मन के नाम से जानते हैं | इस अवस्था मेर शक्तियों का जागरण तो हो जाता है किन्तु उनमे चैतन्यता का अभाव रहता है,जिसके फलस्वरूप साधक पूर्ण स्वामित्व नहीं प्राप्त कर पाता है और कभी कभी मार्ग से भ्रष्ट होकर शक्ति के मद में पतित भी हो जाता है | अतः महाचेतनावस्था की प्राप्ति कर अनंत रहस्यों को समझने के लिए बाह्य प्रतीक की आवश्यकता पड़ेगी ही | कहा भी गया है की “चंद्रमा मनसो जात:अर्थात चंद्रमा मन का प्रतीक है | और मन की गति अथाह किन्तु चंचलता से भरी हुयी है और पारद भी पूर्ण चंचलता और अथाह शक्तियों से युक्त है,अतः जब क्रमिक विधान अनुसार पारद का पूर्ण विधि के साथ न्बंधन कर दिया जाये तो मन की चंचलता भी समाप्त हो जाती है | किन्तु इसका ये अर्थ भी नहीं है की जो पारद लिंग की प्राप्ति नहीं कर सकते हैं वो ये विधान संपन्न ही नहीं कर सकते,ऐसा नहीं है,हाँ उनकी गति और प्रगति थोड़ी मंद रहेगी किन्तु चेतना और मन: शक्ति का जागरण और भेदन अवश्य होगा |
   ऊपर मैंने जिन तीन लिंगों का वर्णन किया है, उनके गुण भी मन की उन्ही तीन मुख्यावस्था से साम्य रखती है
इष्टलिंग सकल लिंग
प्राणलिंग सकल निष्कल लिंग
भावलिंग (परा ब्रह्मांडीय लिंग) निष्कल अथवा परा लिंग
  अब जरा हम इनकी स्थिति मन के उन ७ स्तर पर भी देख लेते हैं, ये तीन महत्वपूर्ण स्तर होंगे पहला,चौथा और सातवाँ | यदि आप ध्यान से देखेंगे तो आदि,मध्य और अंत की ही स्थिति तो बन रही है ना जिनके पूर्ण योग से पूर्णत्व तक की यात्रा पूरी होती है |मैंने पहले भी यही कहा है की ये सातों स्तर विभिन्न क्षमताओं से युक्त हैं अर्थात जैसे ही हम एक स्तर को लांघ कर दुसरे तक जाते हैं स्वतः ही हमें पहले स्तर या पहली परत में बंद रहस्य का ज्ञान हो जाता है | किन्तु ज्ञान होना और स्वामित्व पाना ये दो अलग अलग बातें हैं, अतः स्वामित्व के लिए तो पूर्ण क्रमिक विधान को संपन्न करना ही होगा |
१.   चेतन इष्टलिंग
२.   स्मृति
३.   अवचेतना
४.   सर्जना प्राणलिंग
५.   जीवनात
६.   गर्भसुविस्तृता (अन्तश्योग)
७.   ब्रह्माण्ड चेतना भावलिंग
   अर्थात जैसे ही हम पहले से चौथे क्रम तक की यात्रा पूरी करते हैं वैसे ही इष्टलिंग और प्राणलिंग का योग हो जाता है, और जैसे ही हम सातवें स्तर तक पहुचते हैं वैसे ही ये तीनों लिंग एकरूप हो जाते हैं | और तब हमारे मूलाधार में स्थित महा त्रिकोण की तीनों रेखाएं जो मन,प्राण और आत्मा की प्रतीक हैं,पूर्ण चैतन्य होकर उस त्रिभुज को भी चैतन्य कर देती है और त्रिभुज का केंद्र अर्थात बिंदु जो की एकीकृत शिव का प्रतीक है आपको सर्वस्व प्रदान कर देता है, अर्थात भोगश्च मोक्षश्च करस्थ एव च” |
   आत्मलिंग(भावलिंग) तक की यात्रा तभी संभव हो पाती है जब हमने महाचेतन मन की प्राप्ति कर ली हो,तभी हमें उस महा त्रिकोण और उस आत्मलिंग के दर्शन हो पाते हैं | लेकिन उसके पूर्व हमें बाह्य चेतना के प्रतीक इष्टलिंग का प्रयोग करना ही पड़ेगा |
   किसी भी सोमवार को ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नान आदि से निवृत होकर पीली,लाल या सफ़ेद धोती या साडी पहनकर उत्तर दिशा की और मुख कर सिद्धासन में बैठ जाना है | आसन कम्बल का हो और उस पर कोई भी रेशमी या ऊनी आसन हो,याद रखिये स्वयं के वस्त्रों के रंग का ही आसन प्रयोग किया जाना है | सामने बाजोट पर उपरोक्त अनुसार ही वस्त्र बिछाकर एक ताम्र पात्र में इष्टलिंग की स्थापना कर दे | अब दैनिक विधि से स्वगुरु व गणपति का पंचोपचार पूजन करे,तत्पश्चात “ओम” का ११ बार उच्चारण करे | अब स्थिर और सीधे बैठकर हुं” बीज का ५ मिनट तक उच्चारण करे तथा साथ ही,यहाँ उच्चारण तीव्रता के साथ करना है मन ही मन या हलके स्वर में नहीं बोलना है अपितु मध्यम  स्वर का प्रयोग करना है,साथ ही गुदा द्वार को तीव्रता से सिकोड़ते रहे,किन्तु याद रखिये ये संकुचन हुंकी ध्वनि के साथ ही होना चाहिये,अन्यथा प्रारंभिक क्रिया ही गलत हो जायेगी | इस क्रिया से नाभि में स्पंदन प्रारंभ हो जाता है और प्राण वायु का अपान वायु से योग भी |
   तत्पश्चात योनिमुद्रा का प्रयोग करे अर्थात हाथ के दोनों अंगूठे से दोनों कान,दोनों तर्जनी से दोनों आँखें,दोनों मध्यमा अंगुली से नाक के दूनो छिद्र और दोनों अनामिका और दोनों कनिष्ठका के योग से ऊपर और नीचे के होंठो को बंद कर दे | इसके पहले काकी मुद्रा का प्रयोग कर मुख के द्वारा श्वांस खीच ले,तब जाकर मुख बंद करें | अब अपना ध्यान अपने त्रिकूट अर्थात जहाँ बिंदी लगायी जाती है वहाँ पर केंद्रित करें | थोड़े ही समय बाद हल्का सा प्रकाश दिखना प्रारंभ हो जाता है | अब ऊँगली हटाकर फिर से हुंबीज वाली क्रिया ५ मिनट करे,फिर से योनिमुद्रा वाला क्रम करे,मतलब २ बार ये क्रम दोहराना है |
     इसके बाद बाएं हाथ में शिवलिंग स्थापित करे क्यूंकि इष्टलिंग को स्थूल देह पर धारण किया जाता है या किया जा सकता है,और दाहिने हाथ की मध्यमा और अनामिका ऊँगली का स्पर्श करा कर
“ओम ह्रीं श्रीं मेधा प्रज्ञा प्रभा विद्या धी धृति स्मृति बुद्धि सहिताय विद्येश्वरी श्रीं ह्रीं ओम”
  मंत्र का ३० मिनट तक उपांशु जप करे,जैसे जैसे आपके जप में तल्लीनता आएगी वैसे वैसे आपको स्वतः ही उसकी दिव्यता और उष्णता का अनुभव होता जाएगा,मन अथाह शांति में डूबता जायेगा,ये क्रम ७ दिनों तक करना है | सात दिनों में ही आप स्वयं ही ये अनुभव करलेंगे की कच्छ ऐसा अप अनुभव करे लगे हैं अपने दृष्टिकोण में जो पहले अनुभव नहीं किया है अब आपकी दृष्टि छुपे हए सत्य को आसानी से अनुभव कर रही हैं और...........
                                                                    क्रमशः
“निखिल प्रणाम”

****RAJNI NIKHIL****

****NPRU**** 

1 comment:

MUKESH SAXENA said...

amezing,bahut uchch koti ki sadhna aapne di hai,aapko iske liye koti koti aapko dhanyawaad.hum iske baare mein ye jaanna chahte hain ke ye kitne parts mein complete hogi?